उपदेश

विषय ८ : पवित्र आत्मा

[8-2] (प्रेरितों के काम ८:१४-२४) क्या कोई व्यक्ति वास्तव में अपने प्रयासों से पवित्र आत्मा को खरीद स

(प्रेरितों के काम ८:१४-२४)
“जब प्रेरितों ने जो यरूशलेम में थे सुना कि सामरियों ने परमेश्वर का वचन मान लिया है तो पतरस और यूहन्ना को उन के पास भेजा। और उन्होंने जाकर उन के लिये प्रार्थना की कि पवित्र आत्मा पाएं। क्योंकि वह अब तक उन में से किसी पर न उतरा था, उन्होंने तो केवल प्रभु यीशु में नाम में बपतिस्मा लिया था। तब उन्हों ने उन पर हाथ रखे और उन्होंने पवित्र आत्मा पाया। जब शमौन ने देखा कि प्रेरितों के हाथ रखने से पवित्र आत्मा दिया जाता है, तो उन के पास रूपये लाकर कहा। कि यह अधिकार मुझे भी दो, कि जिस किसी पर हाथ रखूं, वह पवित्र आत्मा पाए। पतरस ने उस से कहा; तेरे रूपये तेरे साथ नाश हों, क्योंकि तू ने परमेश्वर का दान रूपयों से मोल लेने का विचार किया। इस बात में न तेरा हिस्सा है, न बांटा; क्योंकि तेरा मन परमेश्वर के आगे सीधा नहीं। इसलिये अपनी इस बुराई से मन फिराकर प्रभु से प्रार्थना कर, सम्भव है तेरे मन का विचार क्षमा किया जाए। क्योंकि मैं देखता हूं, कि तू पित्त की सी कड़वाहट और अधर्म के बन्धन में पड़ा है। शमौन ने उत्तर दिया, कि तुम मेरे लिये प्रभु से प्रार्थना करो कि जो बातें तुम ने कहीं, उन में से कोई मुझ पर न आ पड़े।”
 
क्या कोई व्यक्ति हाथों को रखने के द्वारा 
पवित्र आत्मा को प्राप्त कर सकता है?
 नहीं। उसे पानी और आत्मा के सुसमाचार पर
 विश्वास करना होगा। 

मुख्य भाग के आधार पर, मैं इस बात पर एक संदेश देना चाहता हूं कि क्या "स्वयं के प्रयास से पवित्र आत्मा का अंतर्निवास प्राप्त किया जा सकता है।" आरम्भ की कलीसिया के समय में प्रेरितों को परमेश्वर से सामर्थ प्राप्त हुई थी और उन्हें विभिन्न स्थानों पर भेजा गया था। प्रेरितों में कई अलौकिक घटनाएँ हैं, उनमें से एक है प्रेरितों ने विश्वासियों के सिर पर हाथ रखा तब पवित्र आत्मा का उन पर उतरना। बाइबल कहती है, "जब प्रेरितों ने उन लोगों पर हाथ रखा जिन्होंने यीशु में विश्वास करते हुए भी पवित्र आत्मा को नहीं पाया था, तब उन्होंने पवित्र आत्मा को प्राप्त किया।"
फिर वे हाथ रखने के द्वारा पवित्र आत्मा को कैसे प्राप्त करते थे? उस समय परमेश्वर के शब्द अभी भी लिखे जा रहे थे और काम अभी पूरा नहीं हुआ था, इसलिए परमेश्वर ने प्रेरितों को अपना मिशन पूरा करने के लिए विशेष अधिकार दिए। वह प्रेरितों के साथ था और उनके माध्यम से कई चिह्न और चमत्कार हुए। यह एक विशेष समय था, जब परमेश्वरने चिह्न और चमत्कार किए, जो लोगों को यह विश्वास दिलाने के लिए मनुष्य की आंखों से देखा जा सकता था कि यीशु मसीह परमेश्वर और उद्धारकर्ता का पुत्र है। परमेश्वर को प्रेरितों के साथ मिलकर, पवित्र आत्मा के कार्य को सामर्थी रूप से दिखाने की आवश्यकता थी कि यीशु मसीह परमेश्वर है और वह परमेश्वर का पुत्र, उद्धारकर्ता है। यदि आरंभिक कलीसिया के समय में पवित्र आत्मा चिह्न और चमत्कार के माध्यम से काम नहीं करता, तो किसी को भी यह विश्वास नहीं होता कि यीशु उद्धारकर्ता है।
हालाँकि, हमारे लिए आज चिह्न और चमत्कारों के ज़रिए पवित्र आत्मा को प्राप्त करना आवश्यक नहीं है, क्योंकि बाइबल पूरी हो चुकी है। इसके बजाय, पवित्र आत्मा का अंतर्निवास अब विश्वास पे निर्भर है। दूसरे शब्दों में, सच्चाई के सुसमाचार पर विश्वास करना। परमेश्वर उन लोगों को पवित्र आत्मा का अंतरनिवास देता है, जिन्हें परमेश्वर के सम्मुख सच्चाई के सुसमाचार में विश्वास है। पवित्र आत्मा का अंतर्निवास केवल उन लोगों के साथ होता है जो परमेश्वर के वचनों पर विश्वास करते हैं, क्योंकि यह यीशु के इस संसार में आने और उनके बपतिस्मा और लहू द्वारा पूरा हुआ था।
आजकल, कई पादरी विश्वासियों को सिखाते हैं कि चमत्कार की दिखाई देने वाली घटनाएं पवित्र आत्मा के अंतर्निवास के संकेत हैं। और वे उसी तरह पवित्र आत्मा को प्राप्त करने के लिए विश्वासियों का नेतृत्व करते हैं। वे लोगों को झूठे उपदेश देकर उन्हें धोखा देते हैं, जैसे कि अन्य भाषा में बोलना पवित्र आत्मा के आने का संकेत है। ये पादरी अपने आप को महान चिह्न और चमत्कार करनेवाले प्रेरित मानते हैं, और वे धार्मिक कट्टरपंथियों का ध्यान आकर्षित करते हैं जो अपनी भावनाओं के माध्यम से परमेश्वर का अनुभव करना चाहते हैं। 
यह कट्टरता दुनिया भर के मसीहियों में फैल गई है, और उनमें से कई अपनी मान्यताओं का पालन करते हैं और अलौकिक साधनों के माध्यम से दुष्ट आत्माओं को प्राप्त करते हैं। अब भी, जो लोग धार्मिक कट्टरता से प्रभावित थे, वे सोचते हैं कि वे हाथों को रखने के द्वारा पवित्र आत्मा प्राप्त कर सकते हैं।
हालांकि, शमौन के रूप में, वे मुख्य भाग में दिखाई देने वाले जादूगर की तरह हैं। वे आत्म-संतुष्टि और दैहिक लालच के नशे में हैं, लेकिन उनके सभी काम लोगों के बीच भ्रम का कारण बनते हैं। इस तरह की झूठी शिक्षा परमेश्वर के समक्ष पवित्र आत्मा के अविश्वास को प्राप्त करने के सच्चे रास्ते से भटकाती है।
आज भी, कई झूठे भविष्यवक्ता अपनी गलत धार्मिक प्रथाओं के माध्यम से शैतान का काम करते हैं, और पवित्र आत्मा के कार्य करने का ढोंग करते हैं। सच्चे मसीहियों को परमेश्‍वर के वचन, ज्ञान से जुड़े रहना चाहिए, जो पवित्र आत्मा का अंतर्निवास पाने का एकमात्र रास्ता है। तथाकथित पेंतिकुस्त लोग, जो पवित्र आत्मा के भौतिक अनुभवों पर बहुत जोर देते हैं, उन्हें अपनी बेतुकी मान्यताओं को छोड़ देना चाहिए, परमेश्वर के शब्दों पर वापस आना चाहिए और सच्चाई पर विश्वास करना चाहिए, जो उन्हें पवित्र आत्मा के अंतरनिवास का नेतृत्व करेगा।
उस समय शमौन सामरिया में एक प्रसिद्ध जादूगर था। जब उसने यीशु के चेलों को लोगों का पवित्र आत्मा प्राप्त करने का कारण बनते देखा, तब उसने पैसों से पवित्र आत्मा को खरीदने की मांग की। इस तरह के विश्वास वाले लोग अनिवार्य रूप से शैतान के गुलाम बन गए, जिसका उपयोग उसने अपना काम करने के लिए किया। शमौन पवित्र आत्मा को प्राप्त करना चाहता था लेकिन उसकी इच्छा लालच से अधिक कुछ नहीं थी। हम देख सकते हैं कि इस प्रकार का विश्वास सच्चा आत्मा-प्राप्त करने का विश्वास नहीं है।
शमौन ने अपने सामर्थ की लालसा में केवल धन के साथ पवित्र आत्मा को खरीदने की कोशिश की। इस कारण से उसे, परमेश्वर के सेवक, पतरस के द्वारा बुरी तरह से फटकार लगाई गई थी। भले ही यह कहा गया था कि शमौन यीशु पर विश्वास करता था, लेकिन वह एक ऐसा व्यक्ति नहीं था जिसने पापों की माफ़ी के द्वारा पवित्र आत्मा प्राप्त किया था। दूसरे शब्दों में, उसने सोचा था कि वह परमेश्वर को सांसारिक वस्तुएं देकर पवित्र आत्मा का अंतरनिवास करने में सक्षम है। 
यद्यपि उसके बाहरी दिखावे से यह पता चलता है कि वह यीशु में विश्वास करता था, लेकिन उसके सच्चे आंतरिक विचार यीशु के सच्चे शब्दों से असंबंधित थे। इसके बजाय, वह शारीरिक लालच से भर गया। पतरस, जो शमौन के विचारों को जानता था, उसने उसे पवित्र आत्मा को खरीदने की कोशिश करने के लिए फटकार लगाई, जो कि परमेश्वर का उपहार है। उसने शमौन से कहा कि वह अपने पैसे के साथ नाश हो जाएगा।
आजकल, दुष्ट आत्माओं से ग्रसित झूठे भविष्यद्वक्ताओं ने लोगों को यह सोचने के लिए धोखा देने की कोशिश की है कि सभी चिह्न और चमत्कार पवित्र आत्मा के कार्य हैं। हम अक्सर ऐसे लोगों को देख सकते हैं जो इस तरह की सामर्थ की प्रशंसा करते हैं और पवित्र आत्मा प्राप्त करने के लिए प्रार्थना करते हैं। हालांकि, व्यक्ति को यह ध्यान रखना चाहिए कि कोई भी व्यक्ति अपने सांसारिक लालच से बाहर की गई प्रार्थनाओं के माध्यम से पवित्र आत्मा का अंतर्निवास प्राप्त नहीं कर सकता है।
क्या किसी भी संयोग से आपके आस-पास करिश्माई लोग हैं? आपको इस प्रकार के लोगों पर नजर रखनी चाहिए। वे कट्टर विश्वास के साथ दूसरों से संपर्क करते हैं। वे कहते हैं कि वे दुष्ट आत्माओं को बाहर निकाल सकते हैं और यहां तक कि लोगों के ऊपर अपने हाथ रखने के द्वारा पवित्र आत्मा प्राप्त करने का कारण बन सकते हैं। हालाँकि, उनके पास पवित्र आत्मा की नहीं, लेकिन दुष्ट आत्माओं की शक्ति है। जो लोग यह दावा करते हैं कि उन्होंने पवित्र आत्मा हाथ रखने के द्वारा प्राप्त किया है, वे खुद को और दूसरों को केवल दुष्ट आत्माओं को प्राप्त कराते हैं।
पवित्र आत्मा की सच्ची प्रेरणा उन लोगों पर आती है जो पानी और आत्मा के शब्दों में विश्वास करते हैं (१ यूहन्ना ५:३-७)। भले ही बाइबल में पानी और आत्मा के सुसमाचार को स्पष्ट रूप से लिखा गया है, क्योंकि बहुत से लोगों के दिलों में पाप हैं, वे अलौकिक शक्तियों और अनुभवों के द्वारा परमेश्वर तक पहुंचने की कोशिश करते हैं, जैसे कि मूर्छा, अन्य भाषा में बोलना, परोक्षदर्शन और दुष्ट आत्माओं को बहार निकालना। यही कारण है कि झूठे भविष्यद्वक्ता शैतान से प्राप्त अंधविश्वासी मसीही धर्म में विश्वास करने में इतने लोगों को धोखा देने में सक्षम हैं।
पतरस ने यह कहकर शमौन को फटकार लगाई; “पतरस ने उस से कहा; तेरे रूपये तेरे साथ नाश हों, क्योंकि तू ने परमेश्वर का दान रूपयों से मोल लेने का विचार किया।
इस बात में न तेरा हिस्सा है, न बांटा; क्योंकि तेरा मन परमेश्वर के आगे सीधा नहीं।
इसलिये अपनी इस बुराई से मन फिराकर प्रभु से प्रार्थना कर, सम्भव है तेरे मन का विचार क्षमा किया जाए। क्योंकि मैं देखता हूं, कि तू पित्त की सी कड़वाहट और अधर्म के बन्धन में पड़ा है। तुम शैतान की संतान हो”। हमें इस बात पर दु:ख होना चाहिए कि इन दिनों ऐसे कई सेवक हैं। उनमें से ज्यादातर करिश्माई लोग हैं। वे अपने झुंड से पैसे मांगते हैं। हमें इस तरह के विश्वास से अपनी दूरी बनाए रखनी चाहिए और पानी और आत्मा के सच्चे सुसमाचार पर विश्वास करके पवित्र आत्मा का अंतर्निवास प्राप्त करना चाहिए (मत्ती ३:१५, १ पतरस ३:२१, यूहन्ना १:२९, यूहन्ना १९:२१-२३)।
 
 
करिश्माई लोग हाथ रखने के द्वारा कार्य करते है!
 
हमें इस तरह के विश्वास से दूर रहना चाहिए। आजकल कुछ लोगों की बेतुकी धारणा है कि अगर वे उन लोगों से अपने ऊपर हाथ रखवाए जिन्होंने सामर्थ्य पाई है तो वे पवित्र आत्मा को पा सकते है। वे सोचते हैं कि चूंकि पवित्रशास्त्र कहता है कि जब प्रेरितों ने लोगों पर अपने हाथ रखे तब कई लोगों ने पवित्र आत्मा को प्राप्त किया था। कुछ ढोंगियों का यह भी बेतुका विश्वास है कि वे लोगों पर अपने हाथ रखने के द्वारा पवित्र आत्मा का अंतर्निवास कर सकते हैं। हमें इस प्रकार के लोगों के अस्तित्व के बारे में पता होना चाहिए।
हालाँकि, हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि उनका विश्वास आरम्भ की कलीसिया के समय के प्रेरितों से बहुत अलग है। आजकल कुछ मसीहीयों की मान्यताओं के लिए सबसे गंभीर चुनौती यह है कि उन्हें पानी और आत्मा के सच्चे सुसमाचार में विश्वास नहीं है। वे कहते हैं कि वे परमेश्वर में विश्वास करते हैं, लेकिन वे उनके प्रति श्रद्धा नहीं रखते हैं और इसके बजाय खुद को और दूसरों को धोखा देते हैं। हालाँकि, एक पापी को न तो पवित्र आत्मा की प्रेरणा मिल सकती है और न ही दूसरों को ऐसा करने का कारण। अगर कोई कहता है कि आत्मा पापी पर आया, यह आत्मा वास्तव में पवित्र आत्मा नहीं था; लेकिन यह दुष्ट आत्मा थी जो केवल एक सच्ची आत्मा होने का दिखावा कर रही थी।
आरंभिक कलीसिया के समय में प्रेरित लोग ऐसे लोग थे जो यह जानते और मानते थे कि यीशु मसीह उद्धारकर्ता थे, जिसने यूहन्ना से बपतिस्मा लेने के द्वारा और क्रूस पर अपनी मृत्यु के द्वारा सारी मनुष्यजाति के पापों को उठा लिया था। वे पवित्र आत्मा का अंतर्निवास प्राप्त करने में सक्षम थे क्योंकि वे यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उनके लहू की सच्चाई पर विश्वास करते थे। उन्होंने दूसरों को पानी और आत्मा के सुसमाचार का भी प्रचार किया, इस प्रकार उन्हें पवित्र आत्मा को प्राप्त करने में मदद मिली। 
लेकिन आजकल, कई मसीहीयों ने कट्टर मान्यताओं को गलत माना है। क्या किसी पापी के लिए आजकल यह संभव है कि वह किसी अन्य पापी सेवक से हाथ रखवाने के द्वारा पवित्र आत्मा को प्राप्त कर सकता है? यह बिलकुल बकवास है। ऐसे लोग हैं जो कहते हैं कि भले ही उनके दिलों में पाप है, लेकिन उन्हें पवित्र आत्मा का अंतर्निवास मिला है। यहाँ तक कि अगर कोई अपने अनुयायियों की नजरो में एक अच्छा चरवाहा दिखता है, लेकिन उसके दिल में पाप है तो वह किसी को भी पवित्र आत्मा का अन्यार्निवास प्राप्त करने का कारण नहीं बना सकता है।
फिर भी, कई लोगों का इस तरह का गलत विश्वास है। यही कारण है कि इतने सारे झूठे भविष्यवक्ता लोगों को नरक में ले जाने में सक्षम हैं। आपको इस तथ्य को जानना चाहिए कि जो लोग इस तरह का विश्वास सिखाते हैं, वे झूठे भविष्यवक्ता हैं। ये ऐसे लोग हैं जो पहले से ही दुष्ट आत्माओं से ग्रसित है।
यदि किसी व्यक्ति के दिल में पाप है, तो क्या पवित्र आत्मा उसके अंदर बस सकता है? जवाब है, ना। फिर क्या यह एक ऐसे व्यक्ति के लिए संभव है, जिसके दिल में पाप है और वह दूसरो के लिए पवित्र आत्मा के अंतरनिवास का कारण बनाता है? फिर, जवाब है, ना। तो फिर क्या कारण है कि करिश्माई लोग आजकल अपने दिलों में पाप होने के बावजूद मसीही धर्म में चिह्न और चमत्कार करते है? दुष्ट आत्माएँ ऐसा करती हैं। पवित्र आत्मा पापी के भीतर कभी नहीं बस सकता। वह केवल पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करने वालों के साथ रहता है। क्या आप सुनिश्चित हैं कि आपके पास जो आत्मा है वह पवित्र आत्मा है?
यूहन्ना 3: 5 में, यीशु ने कहा कि “जब तक कोई मनुष्य जल और आत्मा से न जन्मे तो वह परमेश्वर के राज्य में प्रवेश नहीं कर सकता।” इस प्रकार, पवित्र आत्मा का अंतर्निवास केवल पानी और आत्मा के सच्चे सुसमाचार में विश्वास करके प्राप्त किया जा सकता है। आजकल बहुत से मसीही जो गलती करते हैं, वह यह है कि पापी सेवकों से हाथ रखवाने के द्वारा पवित्र आत्मा का अंतर्निवास प्राप्त किया जा सकता है। यह एक महत्वपूर्ण गलती है। आजकल, कई मसीही और सेवकों का दृढ़ विश्वास है कि पवित्र आत्मा का अंतर्निवास हाथ रखने के द्वारा आता है।
 
 
पापों की सच्ची क्षमा और हाथ रखने के बिच का संबंध 
 
"हाथ रखना" वह माध्यम है जिसके द्वारा व्यक्ति अपने अन्दर से किसी चीज पर कुछ स्तानातरित कर सकता है। इसे इस तरह से सोचें: यदि हम एक माइक्रोफोन में बोलते हैं, तो ध्वनि केबलों के माध्यम से एम्पलीफायर में जाती है और फिर लाउड स्पीकर से निकलती है ताकि हर कोई इसे सुन सके। इसी तरह, पुराने नियम में, जब किसी पापी ने पापबलि के सिर पर हाथ रखा, तो उसके पाप पापबलि के ऊपर चले गए और उसे क्षमा कर दिया गया। उसी तरह, परमेश्वर की सामर्थ लोगों पर तब आती है जब उनके सेवक उनके ऊपर अपना हाथ रखते हैं। इस तरह, हाथ रखने का मतलब है "पारित करने के लिए, स्थानांतरण करना"।
करिश्माई लोग अपने हाथों को रखने के द्वारा लोगों को पवित्र आत्मा के अंतर्निवास होने का कारण नहीं बनाते हैं, इसके बजाय वे उन्हें दुष्ट आत्माओं को प्राप्त कराते हैं। आपको याद होना चाहिए कि दुष्ट आत्माओं की शक्ति वाला व्यक्ति अपने हाथ रखने के द्वारा दुष्ट आत्माओं को दूसरो तक पहुँचाता है। जब एक दुष्ट आत्मा ग्रसित व्यक्ति दूसरे के सिर पर हाथ रखता है, तो उसमें मौजूद दुष्ट आत्मा उस व्यक्ति के पास जाता है, क्योंकि शैतान पापियों के लिए काम करता है। इस कारण से, जो भी पवित्र आत्मा का अंतर्निवास प्राप्त करना चाहते है उन सभी को पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करना चाहिए। शैतान उन लोगों पर शासन करता है, जो पाप में हैं, भले ही वे यीशु पर विश्वास करते हों, और वे पापों की माफ़ी को प्राप्त करने में विफल रहे हों। 
यदि कोई किसी दुष्ट आत्मा ग्रसित व्यक्ति के हाथों को अपने ऊपर रखवाता है, तो दुष्ट आत्मा भी उसके पास आएगी और वह झूठे चमत्कार भी करेगी। हमें यह जानना होगा कि दुष्ट आत्माओं को हाथ रखने के द्वारा दुसरे लोगों में प्रवेश करना आता है, और यह कि पवित्र आत्मा का अंतर्निवास केवल पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास के द्वारा संभव है।
हाथों को रखना विधि है जो किसी चीज़ को दूसरे पर पारित करने के परमेश्वर द्वारा स्थापित की गई है। लेकिन शैतान कई लोगों को हाथ रखने के द्वारा दुष्ट आत्माओं को प्राप्त करने का कारण बनता है। तथ्य यह है कि आजकल बहुत से लोग हैं जो पैसे के साथ पवित्र आत्मा की सामर्थ खरीदने की कोशिश करते हैं जो और भी बड़ी समस्या है।
 
 
अधिकांश मसीही पवित्र आत्मा के अंतर्निवास की सच्चाई को गलत समझते हैं 
 
यह पूछे जाने पर कि वे पवित्र आत्मा का अंतर्निवास कैसे प्राप्त कर सकते हैं, बहुत से लोग जवाब देते हैं कि यह पश्चाताप या उपवास की प्रार्थना के द्वारा संभव है। यह सच नहीं है। जब आप परमेश्वर से विशेष प्रार्थना करते हैं तो क्या पवित्र आत्मा आपके ऊपर आता है? नहीं। पवित्र आत्मा का अंतर्निवास केवल उन लोगों पर आता है जो पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं।
क्योंकि परमेश्वर सत्य है, उसने पवित्र आत्मा का अंतर्निवास प्राप्त करने के लिए व्यवस्था की स्थापना की। क्या पवित्र आत्मा उस व्यक्ति में बस सकता है जिसके दिल में पाप है? जवाब सबसे निश्चित रूप में, ना है। हाथों को रखने के द्वारा पवित्र आत्मा को प्राप्त नहीं किया जा सकता है। यहां तक कि अगर कोई जागृति की सभा में भाग लेता है और परमेश्वर से प्रार्थना करता है कि वह पवित्र आत्मा की सामर्थ प्राप्त कर सकता है, तो पवित्र आत्मा उसकी समझ से बाहर रहेगा। पापियों को स्पष्ट रूप से पवित्र आत्मा का अंतर्निवास प्राप्त नहीं हो सकता है। पापी लोग पवित्र आत्मा के अंतर्निवास को एक उपहार के रूप में प्राप्त कर सकते हैं, लेकिन केवल तब जब वे पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करके पापों से छूटकारा प्राप्त करते हैं।
जो कोई भी पानी और आत्मा के सुसमाचार को नहीं जानता है, वह पवित्र आत्मा के अंतर्निवास को प्राप्त नहीं कर सकता है। आजकल दुनिया भर में मसीही साहित्य, कलीसिया की सभा, इंटरनेट और यहां तक कि इलेक्ट्रॉनिक पुस्तकों के माध्यम से पानी और आत्मा का सुसमाचार तेजी से फैल रहा है। इसलिए, जो कोई भी सच्चे सुसमाचार की तलाश करता है, वह उस पर विश्वास कर सकता है और पवित्र आत्मा का अंतर्निवास प्राप्त कर सकता है। यदि आपको अभी तक पवित्र आत्मा का अंतर्निवास नहीं मिला है, तो आपको यह महसूस करना चाहिए कि ऐसा करने के लिए आपको पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करना चाहिए।
 
 
झूठे विश्वास का एक प्रमुख उदाहरण!
 
आजकल जब हम झूठी आत्माओं को प्राप्त करने वाले लोगों के लक्षणों की जांच करते हैं तो हम दुष्ट आत्माओं के वास्तविक अस्तित्व को देख सकते हैं। "पवित्र आत्मा के लिए जागृति की सभाएं" होती हैं, जिसमें वे लोग जो पवित्र आत्मा को प्राप्त करना चाहते हैं वे हिस्सा लेते है। इन बैठकों में हम देखते हैं कि लोग हाथों से ताली बजाते हैं और रोते हुए और उपवास करते हुए पश्चाताप की प्रार्थना करते हैं। उपदेशक ने उन्हें यह कहकर कट्टर प्रार्थना करने का निर्देश दिया कि पवित्र आत्मा उन पर तब तक नहीं आएगा जब तक वे ऐसा नहीं करते। लोग तब रोते हैं, "परमेश्वर!" और अपनी कट्टर प्रार्थना शुरू करते हैं।
क्या इन कट्टरपंथियों को इस तरह से पवित्र आत्मा का अंतर्निवास मिल सकता है? नहीं। आप इस तरह की बैठकों में अजीब शोर करते हुए लोगों को चिल्लाते और पीछे देखते होंगे और फिर कांप जाते थे। कुछ इधर-उधर ज़मीन पर गिरते-गिरते बिखर जाते हैं, और हम उन्हें चीखते हुए और अन्य भाषा में बोलते देखते हैं। सभा के दौरान कोई जोर से चिल्लाता है भीड़ भावना से अभिभूत हो जाती है। उनमें से कुछ लोगों को दौरा पड़ता है, इधर उधर हिलाते है और अन्य भाषा में बोलते है। लोग कहते हैं कि ये घटनाएँ इस बात का प्रमाण हैं कि पवित्र आत्मा उन पर आया है। लेकिन सोचिए कि जब कोई दुष्ट आत्मा अपना काम करती है तो क्या होता है? क्या यह पवित्र आत्मा का कार्य है? निश्चित रूप से नहीं।
 
 
शैतान कई मसीहीयों को धोखा देता है
 
आजकल, कई मसीही लोग उस तरह के धार्मिक जीवन जीते हैं जो शैतान चाहता है। शैतान लोगों को यह बताकर धोखा देता है कि उन्हें पवित्र आत्मा को प्राप्त करने के लिए एक सामर्थी सेवक से अपने ऊपर हाथ रखवाना होगा। कई मसीही इसे औपचारिक सिद्धांत मानते हैं। शैतान लोगों के दिमाग में यह विचार भी डालता है कि यदि वे अत्यधिक प्रार्थना करते हैं तो वे पवित्र आत्मा को प्राप्त करेंगे। शैतान इस तरह की आस्था रखने वाले लोगों की संख्या को दोगुना और तिगुना करने की कोशिश कर रहा है।
इसलिए, बहुत से लोग नहीं जानते, और पानी और आत्मा के सुसमाचार के बारे में जानने की कोशिश भी नहीं करते हैं। हमें उन विचारों से बचने के लिए संघर्ष करना चाहिए जो शैतान हमारे दिमाग में डालने की कोशिश करता है और पानी और आत्मा के सुसमाचार को जानना और मानना चाहिए। पवित्र आत्मा का अंतर्निवास केवल उन लोगों पर आता है जो पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं। आपको इस पर विश्वास करना चाहिए।
 
 
पवित्र आत्मा के अंतर्निवास के बारे में मसीहीयों की गलत धारणा
 
सबसे पहले, करिश्माई मसीही धर्म के कई अनुयायियों की मान्यताओं में एक बड़ी गलतफहमी है। वे अपने दिलों में पाप के साथ पवित्र आत्मा को प्राप्त करने की कोशिश करते हैं। वे गलती से मानते हैं कि भले ही उनके दिलों में पाप है, फिर भी वे पवित्र आत्मा के अंतर्निवास को प्राप्त कर सकते है। हालांकि, पानी और आत्मा के सुसमाचार में किसी भी प्रकार के विश्वास के बिना व्यक्ति पवित्र आत्मा की पूर्णता प्राप्त नहीं कर सकता है।
दूसरा, यह कहा जाता है कि लोगों का अहंकार उन्हें पवित्र आत्मा के अंतर्निवास को प्राप्त करने से रोकता है। तो क्या इसका मतलब यह है कि अगर वह अहंकारपूर्ण व्यवहार नहीं करता है तो वह पवित्र आत्मा को प्राप्त कर सकता है? क्या इसदुनिया में कोई ऐसा व्यक्ति है जो अभिमानी नहीं है? एक अभिमानी व्यक्ति जिसे परमेश्वर द्वारा माफ नहीं किया जा सकता है वे वह है जो अपने विचारों को परमेश्वर के वचन में जोड़ता है। बहुत से लोग अपने स्वयं के तरीकों के द्वारा पवित्र आत्मा के अंतर्निवास को प्राप्त करने का प्रयास करते हैं, और पानी के सच्चे सुसमाचार और आत्मा को अनदेखा करते हैं। हालाँकि, पवित्र आत्मा का अंतर्निवास केवल उन लोगों पर होता है जो पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं।
तीसरा, यह कहा जाता है कि पवित्र आत्मा का अंतर्निवास तब होता है जब कोई व्यक्ति परमेश्वर के समक्ष अपने सभी पापों को खुलकर स्वीकार करता है। इसलिए उनसे आग्रह है कि जब वे पवित्र आत्मा को प्राप्त करना चाहते हैं तो अपने पापोंको कबूल करें। लेकिन आपको याद रखना चाहिए कि पवित्र आत्मा का अंतर्निवास तब नहीं होता जब कोई व्यक्ति केवल अपने पापों को स्वीकार करता है। अधिकांश मसीही आजकल पवित्र आत्मा के अंतर्निवास के लिए और उनकी पूर्णता के लिए लम्बे समय से उत्सुक है, लेकिन वे पवित्र आत्मा का अंतर्निवास प्राप्त नहीं कर सकते क्योंकि उनके दिल में अभी भी पाप है। इस प्रकार की बुरी इच्छा रखनेवाले व्यक्ति को दुष्ट आत्मा के द्वारा कब्जा कर लिया जाएगा।
चौथा, कुछ लोग कहते हैं कि पवित्र आत्मा का अंतर्निवास तब मिलता है जब हम परमेश्वर से आग्रह करते है की वह हमें आशीष दे। लेकिन यह भीख माँगने के द्वारा प्राप्त नहीं किया जा सकता है। यह सिर्फ गलत सोच है।
पांचवीं बात, कुछ लोग आत्मिक सामर्थ्य के द्वारा पवित्र आत्मा के अंतर्निवास को पहचान लेते है। अन्य भाषा में बोलना पवित्र आत्मा अंतर्निवास का एक सामान्य प्रमाण माना जाता है। लेकिन पवित्र आत्मा किसी के दिल में इस लिए नहीं रहता क्योंकि वह दुष्ट आत्माओं को यीशु के नाम से बाहर निकालने या अन्य भाषा में बोलने में सक्षम है। पाप शैतान का है। क्या कोई अपने दिल में पाप के साथ सही मायने में यह कह सकता है कि उसके पास कुछ अजीब सामर्थ होने के कारण उसे पवित्र आत्मा का अंतर्निवास मिला है? एक बार फिर, यह दुष्ट आत्मा के द्वारा की गई साजिस है।
पानी और आत्मा का सुसमाचार जो यीशु ने हमें दिया है केवल वही सच्चा सुसमाचार है जो पवित्र आत्मा के अंतर्निवास को पाने के लिए हमारी अगुवाई कर सकता है। यदि आप अभी भी सोचते हैं कि आप अन्य तरीको से पवित्र आत्मा और पापों से छूटकारा प्राप्त कर सकते हैं, तो आप को बुरी तरह भ्रमित किया गया है। मुझे आशा है कि आप अपने गलत विश्वासों से खुद को मुक्त कर लेंगे और आध्यात्मिक विचारों और प्रामाणिक विश्वास की ओर मुड़ेंगे।
यह कहना कोई अतिशयोक्ति नहीं है कि आजकल कई मसीही दुष्ट आत्माओं से ग्रसित है। दुनिया भर में कई मसीही दुष्ट आत्माओं की सामर्थ के तहत आते हैं क्योंकि वे विशेष जागृति की सभाओं के द्वारा या हाथों को रखने के द्वारा पवित्र आत्मा का अंतर्निवास प्राप्त करना चाहते है। वे विशिष्ट लोगों के पास जाते है जैसे कि प्रार्थना घरों के अधीक्षक, वरिष्ठ डिकन, जागृतिवादी या पादरियों के पास जाते हैं जिनके बारे में कहा जाता है कि उन्होंने पवित्र आत्मा की सामर्थ्य प्राप्त की है। वे हाथ रखकर पवित्र आत्मा को प्राप्त करने की आशा में उनके पास जाते हैं। हालाँकि, कोई भी कभी भी इस तरह के विश्वास के माध्यम से पवित्र आत्मा का अंतर्निवास प्राप्त नहीं कर सकता है, चाहे वे यीशु पर कितना भी विश्वास क्यों न करते हों। दूसरे शब्दों में, परमेश्वर के अलावा कोई भी नहीं है जो किसी को पवित्र आत्मा का अंतर्निवास प्राप्त करने का कारण बन सकता है।
शमौन की तरह, आजकल बहुत से लोग पवित्र आत्मा को खरीदने की कोशिश करते हैं। वे सुसमाचार की बजाए सांसारिक शिक्षाओं पर विश्वास करके पवित्र आत्मा को प्राप्त करने का प्रयास करते हैं। दुनिया भर में अधिकांश मसीही इस तरह के विचार में फंस गए हैं। पवित्र आत्मा केवल उन लोगों पर आता है जिनके पास उसे प्राप्त करने के लिए आवश्यक योग्यताएं हैं। पवित्र आत्मा को प्राप्त करने का एकमात्र रास्ता पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करना है और यह सत्य का एकमात्र उत्तर है (प्रेरितों के काम २:३८)।
हाथ रखने के द्वारा पवित्र आत्मा को प्राप्त करना प्रारंभिक कलीसिया के समय केवल कुछ समय के लिए संभव था। इसके बाद पवित्र आत्मा का अंतर्निवास उसी समय लोगों पर आया जब वे पानी और आत्मा के सुसमाचार को जानते और मानते थे। इसलिए, परमेश्वर के वचन में विश्वास के माध्यम से होने वाले पवित्र आत्मा के कार्य के अलावा, बाकी सब कुछ दुष्ट आत्मा का काम है। परमेश्वर कहता हैं कि दुष्ट आत्मा शैतान के सेवक हैं, और शैतान ने इस तरह सरलता से काम किया है कि लोग यीशु पर विश्वास करते हुए भी पाप का त्याग नहीं कर सकते। शैतान यह कहकर लोगों से झूठ बोलता है कि यदि वे यीशु पर विश्वास करते हैं और हाथों को रखवाते है तो वह उनको पवित्र आत्मा का अंतर्निवास देगा। शैतान इस तरह की चालबाजी के माध्यम से दुनिया भर में अपने क्षेत्र का विस्तार करता है।
अब हम उन लोगों के लक्षणों को देखेंगे जो दुष्ट आत्माओं से ग्रसित है। सबसे पहले, जब हम एक भविष्यवक्ता या शमन में दुष्ट आत्मा से ग्रसित होने के लक्षणों की जांच करते हैं, तो हम देखते हैं कि वे कांपते हुए बेहाल, मूर्छित और यहां तक कि बेहोशी का अनुभव करते हैं। तब उनकी जीभ मुड़ जाती है और उनकी इच्छा के विरुद्ध उनके मुंह से अजीब शब्द निकलते हैं। वे अनजान भाषा में बोलते हैं।
जादूगर और मसीही दोनों जो हाथों को रखने के द्वारा दुष्ट आत्मा से ग्रसित है वे संयुक्त रूप से इसका अनुभव करते है। जब एक करिश्माई जागृतिवादी अपने माइक को निकालता है और चिल्लाता है, "आग से, आग से, आग से," तब भीड़ उत्तेजित हो जाती है और आत्म-नियंत्रण खो देती है। जो लोग उससे हाथ रखवाना चाहते हैं, वे सामने की तरफ आते हैं। वे बेकाबू झटकों का अनुभव करते हैं और अन्य भाषा में बोलते हैं। ये दुष्ट आत्मा के कार्य का लक्षण है जो पवित्र आत्मा के कार्य करने का ढोंग कर रहे हैं।
जो लोग दुष्ट आत्माओं से ग्रस्त हैं, जिन्हें आदिम धर्म के जादूगर और ज्योतिषी द्वारा बुलाया जा सकता है, वही लक्षण उन मसीहियों में दिखते है जोई हाथ रखने के द्वारा दुष्ट आत्मा ग्रसित हुए है। हालाँकि, लोग यह सबूत के बावजूद भी इस बात को गलत मानते है। वे मसीही गहरे भ्रम में डूबे हुए हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि जब वे इस प्रकार के लक्षणों का अनुभव करते हैं तो उन्हें पवित्र आत्मा प्राप्त होता है।
 
 
शैतान मसीहीयों के द्वारा भविष्यवक्ता के रूप में काम करता है काम करता है
 
शैतान दुष्ट आत्मा ग्रसुत लोगों को भविष्यवाणी की प्रार्थना करने में सक्षम बनाता है। वे कहते हैं, “आप एक अनमोल अगवा बनेंगे। आपके सामने हजारों भेड़ें चरेंगी। भविष्य में परमेश्वर आपको प्रशिक्षित करेंगे और आप में से एक अनमोल अगवा बनायेंगे”। दूसरों को वे भ्रमपूर्ण शब्द कहते हैं, जैसे कि, “तुम परमेश्वर के अनमोल सेवक बन जाओगे। आप परमेश्वर के एक बहुत ही प्रतिष्ठित सेवक बनेंगे,” ताकि वे लोगों को उसका अनुसरण करने के लिए उत्साहित कर सके और अपने जीवन भर वे दुष्ट आत्मा के सेवक बने रह सके।
भविष्यवक्ता अन्य लोगों के भविष्य के बारे में भविष्यवाणियाँ भी करते हैं। "आपको भविष्य में पानी से सावधान रहना चाहिए।" "आप बहुत पैसा कमाएंगे।" "एक महान व्यक्ति पूर्व से दिखाई देगा और आपकी मदद करेगा।" ये उन चीजों का उदाहरण हैं जो वे कहते हैं। पहला लक्षण जो दुष्ट आत्मा ग्रसित व्यक्तियों में दिखाई देता है, वह यह है कि वे झूठी भविष्यवाणी करते हैं।
फिर वे अन्य भाषा में बोलते हैं जो वे खुद भी नहीं समझ सकते। वे कंपकंपी का अनुभव करते हैं और वे व्यक्तित्व विकार के लक्षण भी दिखाते हैं। यदि आप एक जादूगर या भविष्यवक्ता से मिलते हैं, तो क्या आप कह सकते हैं कि उनके पास अच्छा व्यक्तित्व हैं? वे अक्सर उनसे उम्र में बड़े व्यक्ति के साथ बुरी रीति से बात करते है।
हालाँकि, जिन लोगों के पास पवित्र आत्मा का सच्चा अंतर्निवास है, उन्होंने बाइबल की सच्चाई पर विश्वास करते हुए इसे प्राप्त किया है कि यीशु ने अपने बपतिस्मा और क्रूस पर अपने मृत्यु से जगत के सारे पापों को साफ़ कर दिया है। ये लोग दूसरों को भी पानी और आत्मा के सुसमाचार को जानने और मानने में मदद करते हैं, और उन्हें पापों की क्षमा और पवित्र आत्मा के अंतर्निवास को प्राप्त करने में मदद करते हैं। वे खुद एक धर्मी तरीके से जीने की कोशिश करते हैं, और उनकी शख्सियतें इतनी खुशनुमा और सुरीली होती हैं कि वे दूसरों को परमेश्वर के धन्य विश्वास और परमेश्वर के जीवन के लिए अगुवाई करते हैं। जब उनका मन संसार में वापस आने का इरादा रखता है, तब परमेश्वर उन्हें पवित्र रखने के लिए फटकार लगाते हैं।
 धर्मी व्यक्ति जिसने सारे पापों से छूटकारा पाया है उसका व्यक्तित्व निश्चित रूप से उन लोगों से अलग हैं जिनके व्यक्तित्व को दुष्ट आत्माओं द्वारा नष्ट कर दिया गया है। यदि कोई पापों की क्षमा पाता है और उसके बाद पवित्र आत्मा का अंतर्निवास प्राप्त करता है तो सच्चा व्यक्तित्व फिर से जीवित हो जाता है। इसके अतिरिक्त, धार्मिक लोग प्रतिकूल परिस्थिति में भी दूसरों के बारे में गहराई से चिंतित हैं, जैसे की उन्हें परमेश्वर के वचनों में वास्तव में क्या जरूरत है, उनके उद्धार के लिए प्रार्थना करना, और वास्तव में उनकी मदद करने के लिए आत्म-बलिदान की करना।
दूसरी ओर, हम देख सकते हैं कि दुष्ट आत्मा से ग्रसित लोगों के व्यक्तित्व को बहुत नष्ट कर दिया गया है। शैतान उन्हें नियंत्रित करता है और अपनी इच्छा से उन्हें झुकाता है क्योंकि वे सोचते हैं कि कंपकंपी और अन्य भाषा में बोलना पवित्र आत्मा का उपहार है। हालाँकि, ये अनुभव निश्चित रूप से पवित्र आत्मा के उपहार नहीं हैं।
ऐसे कई सेवक हैं जो अपने सामर्थ पर गर्व करते हैं जैसे कि परमेश्वर के नाम पर भविष्यवाणियां करना, कई चमत्कार करने और अन्य भाषा में बोलने में सक्षम होना। लेकिन अगर उनके दिल में अभी भी पाप है, तो उनका सामर्थ इस तथ्य का निर्णायक सबूत हैं कि वे दुष्ट आत्मा ग्रसित हैं। इसलिए, वे दूसरों को पवित्र आत्मा का अंतर्निवास नहीं दे सकते हैं, लेकिन केवल वह दे सकते है जो दुष्ट आत्मा उन्हें देती है। इसके अलावा, क्योंकि शैतान धोखेबाज है, इसलिए उसने जो चमत्कार किया है वह बहुत कम समय में बहुत आसानी से समाप्त हो जता है।
पवित्र आत्मा के कार्य और दुष्ट आत्मा के कार्य के बीच एक स्पष्ट अंतर है। भले ही ऐसा लगता है कि पवित्र आत्मा का काम शुरुआत में कोई विशेष अनुभव या अद्भुत उपहार प्रदान नहीं करता है, लेकिन समय के साथ, परमेश्वर की सामर्थ धर्मी लोगों के दिल में लगातार उगते सूरज की तरह बढ़ती है।
 
 
दुष्ट आत्मा ग्रसित मसीही
 
ऐसा क्यों है की लोग जब पवित्र आत्मा 
को प्राप्त करने की कोशिश करते है तब
 वे दुष्ट आत्मा ग्रसित हो जाते है?
 क्योंकि वे झूठे भविष्यवक्ताओं के द्वारा हाथ
 रखवाने के द्वारा दुष्ट आत्मा प्राप्त करते है।

हैरानी की बात है कि हम यीशु में विश्वास करनेवाले कई विश्वासियों को देख सकते हैं जिनके शरीर और आत्मा बर्बाद हो गए हैं क्योंकि उन्होंने झूठे भविष्यवक्ताओं से हाथों को रखवाकर दुष्ट आत्माओं को प्राप्त किया है। इन लोगों का परमेश्वर से कोई लेना-देना नहीं है क्योंकि उनका विश्वास बाइबल के वचनों के मुताबिक़ नहीं है। वे अपने सामर्थ का उपयोग करते हुए यह नहीं जानते कि उनकी सेवाएं कई लोगों को शैतान का सेवक बना रही हैं। वे मसीहियत में अपने सामर्थ को प्रदर्शित में इतनी मेहनत क्यों करते हैं? क्योंकि यदि वे उनका प्रयोग नहीं करेंगे तो उनके सामर्थ का तथाकथित अधिकार जल्द ही गायब हो जाएगा।
उन्हें लगातार प्रार्थना और यीशु के नाम से चिह्न और चमत्कार का अभ्यास करना पड़ता है। जो लोग कहते हैं, “मुझे सुसमाचार प्रचार का उपहार मिला है,” तो लगातार सुसमाचार प्रचार करना होगा क्योंकि यदि वे नहीं करेंगे, तो उनका झूठी ख़ुशी जल्द ही गायब हो जाएगी। यदि ये लोग दुष्ट आत्मा से मिले उपहार यानी की अन्य भाषा में बोलना, चंगाई, या भविष्यवाणी के प्रति ईमान दार नहीं रहते, दुसरे शब्दों में कहे तो, यदि वे शैतान के कामों के प्रति ईमानदार नहीं है, तो शायद शैतान उन्हें बिना वजह बीमार कर सकता है। यह केवल उसके जैसा है की जब कोई भविष्यवक्ता या शमन शैतान का सेवक होने के लिए इनकार करने की वजह से बोमार पड़ता है। यही कारण है कि उन्हें शैतान के द्वारा प्राप्त उपहारों का प्रयोग करना पड़ता है, और प्रबल रूप से अपने सामर्थ का उपयोग करने के बाद दुख में छोड़ दिए जाते हैं।
मैं एक बार किसी ऐसे व्यक्ति को जानता था जो यीशु में एक उत्साही विश्वासु था और ऐसा लगता था जैसे की उसके पास परमेश्वर की सामर्थ हैं। उन्होंने लोगों को पवित्र आत्मा का अंतर्निवास करने और आत्मिक सभा में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया जिसमें उसने हाथ रखने के द्वारा दुष्ट आत्माओं को बहार निकाला और अन्य भाषा में बोलने और चंगाई जैसे चिह्न भी किए। वह अपने आश्चर्य कर्मो के द्वारा ईर्ष्या और सम्मान की वस्तु बन गया। हजारों विश्वासियों ने उनका अनुसरण किया। हालाँकि, जल्द ही उसने यीशु को यह कहते हुए इनकार करना शुरू कर दिया कि, “यीशु मसीह एक विफलता है। वह परमेश्वर का पुत्र नहीं है”। उन्होंने यीशु मसीह को शाप दिया और यहाँ तक कि यह दावा किया कि वह स्वयं परमेश्वर है। अंत में उसने यीशु मसीह को अपने दिल में और कई मसीहीयों के दिलों में मार दिया।
इस तरह के लोग पानी और आत्मा के सुसमाचार को अस्वीकार करते हैं क्योंकि शैतान उनका मार्गदर्शक है। उन्हें शुरू से ही गलत धारणा है, क्योंकि उन्हें एक भ्रम है कि उनके पास प्रेरितों के समान सामर्थ हैं, जिससे वे लोगों के ऊपर हाथ रखने के द्वारा उन्हें अन्य भाषा बोलने में सक्षम बनाते है और दुष्ट आत्माओं को निकाल ते है। उनका यह दृढ़ विश्वास है कि पवित्र आत्मा का अंतर्निवास उन पर हुआ है। 
वे लोगों को यह सोचते हुए पवित्र आत्मा प्राप्त करने के तरीकों के बारे में सिखाते हैं की प्रार्थना करने से यह सम्भव हो सकता है। हालाँकि, पवित्र आत्मा को प्राप्त करने का यह तरीका परमेश्वर के वचनों पर आधारित नहीं है। इसके बावजूद, वे कहते हैं कि यदि यीशु में विश्वास करने वाला अन्य भाषा में बोलता है और भविष्यवाणियाँ करता है, तो यह उस पर पवित्र आत्मा के आने का प्रमाण है। क्योंकि बहुत से लोग वास्तव में पवित्र आत्मा के अंतर्निवास को नहीं समझते हैं, उनका मानना है कि वे झूठे भविष्यवक्ताओं की शिक्षाओं को सीखकर और उनका पालन करके भी पवित्र आत्मा को प्राप्त कर सकते हैं। यह शैतान दुष्ट आत्माओं से मसीहीयों को भरने और इन लोगों पर शासन करने में सक्षम बना था। ये सभी तरीके शैतान के जाल हैं।
झूठे भविष्यवक्ताओं की शिक्षाओं के माध्यम से कई लोगों को दुष्ट आत्मा ग्रसित किया गया है। साधारण विश्वासियों एक धार्मिक जीवन जीते हैं, लेकिन दुष्ट आत्मा ग्रसित लोग दुष्ट आत्माओं की शक्ति का उपयोग करते हैं और ऐसा प्रतीत होता है कि वे भावुक धार्मिक जीवन जीते हैं। वे कौन सी क्षमताएं प्रदर्शित करते हैं? उनके पास चंगा करने की, अन्य भाषा में बोलने के लिए और दूसरों को हाथ रखने के द्वारा दुष्ट आत्मा ग्रसित कारने की क्षमता है। हमें पता होना चाहिए कि हाथ रखना दूसरों पर कुछ पारित करने की एक विधि है और इस माध्यम से दुष्ट आत्माओं के राज्य का बहुत विस्तार हुआ है।
 
 
दुष्ट आत्मा मनुष्य के लालच के द्वारा कार्य कराती है!
 
शैतान मुख्य भाग के शमौन जैसे लोगों में काम करता है। ये लोग कहते हैं कि वे पवित्र आत्मा को हाथ रखने के द्वारा प्राप्त कर सकते है, भले ही पानी और आत्मा के सुसमाचार में उनका विश्वास ना हो। आजकल शैतान द्वारा कई लोगों को धोखा दिया जाता है, और पश्चाताप, उपवास, आत्म-बलिदान या हाथों को रखने के द्वारा पवित्र आत्मा को प्राप्त करने की कोशिश की जाती है। हालांकि, वे दुष्ट आत्मा ग्रसित है और शापित जीवन जीते हैं।
हमें इस बात से अच्छी तरह से अवगत होना चाहिए कि आज की मसीहियत ‘हाथ रखने’ के तरीके से प्रत्येक व्यक्ति के आत्मा में काम करने के लिए दुष्ट आत्मा की मदद कराती है। वे लोग जो शमौन के समान लक्षण रखते हैं, वे परमेश्वर के सामने गलत भविष्यद्वक्ता हैं। यहां तक कि यीशु में विश्वासियों, अगर उनके दिल में पाप है, तो वे दुष्ट आत्मा ग्रसित हो सकते है। ये लोग शैतान के कार्य के द्वारा चमत्कार करने में सक्षम हैं। शैतान दुनिया भर में उनके राज्य का निर्माण करने के लिए लोगों को हाथ रखवाने के लिए अपने सेवकों के पास ले जाता है जिससे वे दुष्ट आत्मा ग्रसित हो सके। आजकल, 2पेन्तिकुस्त-करिश्माई आंदोलन वाली कलीसियाओं को आधिकारिक तौर पर दुनिया भर में औपचारिक मसीही संप्रदायों के रूप में मान्यता प्राप्त है।
यह दुनिया धीरे-धीरे खत्म हो रही है। यदि हम अंतिम दिनों में नया जन्म पाना चाहते है, तो हमें यह जानना होगा कि शैतान कैसे काम करता है और उसकी योजनाओं के खिलाफ खड़ा होना होगा है। हमें भी पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करने के द्वारा एक ही बार में हमेशा के लिए माफ़ी प्राप्त करके पवित्र आत्मा का अंतर्निवास प्राप्त करना होगा। हमें इस बात की सही जानकारी के साथ लौटना होगा कि परमेश्वर की आत्मा हमारे पास कैसे आती है।
 
2 पश्चिमी मसीहियत २०वी सदी के मध्य में भौतिक समृध्धि और भारी खपत के कारण तितर बितर हो गई इसी समय, इसके परिणाम स्वरुप, जो मसीही यीशु के करीब जाने का मार्ग खोज रहे थे वे अपने पुराने कलीसिया के सूखेपन की वजह से अतृप्त थे। बाकी लोग विश्वास की कमी, या धीमी आत्मिक वृध्धि, और अपने विश्वास को व्यक्तिगत यीशु के प्रेम के समान न करापाने की वजह से पीड़ित थे।
कहलाया जानेवाला पेंतिकुस्त-करिश्माई आन्दोलन इन परिस्थिति के चलते उदभव हुए। जो लोग इन आन्दोलनों में सामिल थे उन्होंने बहुत ही उत्तेजित अनुभव और अन्य भाषा में बोलना, भविष्यवाणी करना, चिह्न और चमत्कार करना, इसे पहले पेंतिकुस्त सभाओं में पाया। अपने उत्साह में वे कहलाए जानेवाले पवित्र आत्मा के प्रभुत्व पर बहुत ज्यादा विश्वास करते थे, लेकिन उनकी शिक्षा और कार्य बाइबल के आधारित नहीं थे।
विकासशील देशों में, यह आन्दोलन उनकी जरुरत के आधार पर बहुत ही ज्यादा बढ़ गया। उनके अगुवों ने विकासशील देशों के मसीहियों को धार्मिक उत्साह के साथ समृध्धि और स्वास्थ्य के आशीषों से आकर्षित किया। आन्दोलन कि कुछ विचलन जैसे की नियो-पेंतिकुस्तवाद भी नए युग के आन्दोलन की तरह ही शिक्षा को देता था। 
 
जैसा परमेश्वर ने कहा, “मेरे ज्ञान के न होने से मेरी प्रजा नाश हो गई” (होशे ४:६), आजकल कई सत्य को खोजने वाले तब नष्ट हो जाते हैं, जब उनकी अज्ञानता में, करिश्माई लोग उन्हें गुमराह करते हैं। लोग कहते हैं कि भले ही पेंतिकुस्त-करिश्माई कलीसियाओं को जंगल में स्थापित करदो, लेकिन लोग वहां भी इकट्ठा होंगे। ऐसा क्यों है? करिश्माई लोग अपनि झूठी सामर्थ के साथ दूसरों को भ्रमित करके अपने कलीसिया का विस्तार करते हैं, और हाथ रखने के द्वारा उन्हें दुष्ट आत्मा ग्रसित बनाते है। उनकी एक विशेष प्रतिभा यह है कि एक बार जब लोग हाथ रखने के द्वारा दुष्ट आत्मा ग्रसित हो जाते है, तब वें धार्मिक जीवन का नेतृत्व करने के लिए उत्साही हो जाते हैं।
करिश्माई लोगों की एक और ख़ास विशेषता यह है कि वे अपनि कलीसिया को बड़ी मात्रा में धन दान करते हैं और बिना शर्त कट्टर विश्वासी बन जाते हैं। यहां तक कि कई मसीही दुष्ट आत्मा की सामर्थ्य के साथ सुवार्ता का प्रचार करने के लिए उत्सुक है, लेकिन निश्चित रूप से अपने स्वयं के गंतव्य को महसूस नहीं करने वाले नरक में जा रहे हैं। ये लोग, जो शैतान की सामर्थ को अपने उद्धार का प्रमाण मानते हैं, बिना किसी संदेह के स्वर्ग की ओर देख रहे हैं। हालाँकि, उनके दिल में पाप है और वे नष्ट होने के लिए बर्बाद हैं।
यदि उनसे निम्नलिखित प्रश्न पूछा जाए, “क्या परमेश्वर पर विश्वास करने के बावजूद भी आपके मन में पाप है?” वे निश्चित रूप से उत्तर देते हैं कि यह पाप में होना स्वाभाविक है। वे सोचते हैं कि किसी व्यक्ति के लिए उसके दिल में पाप न होना असंभव है, भले ही वह यीशु पर विश्वास करता हो।
लोगों को लगता है कि उनके दिलों में पाप है फिर भी वे स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करने के लायक हैं, क्योंकि वे यीशु में विश्वास करके झूथे सामर्थ के सबूत से खुश है।
यह कैसी बेतुकी आशा है! उनके दृढ़ विश्वास का कारण यह है कि उनके पास किसी प्रकार की अलौकिक क्षमता है। उन्होंने अन्य भाषा में बोलने, दर्शन देखने और बीमारों को चंगा करने का अनुभव किया है, और वे सोचते हैं और दृढ़ता से इन अनुभवों को पवित्र आत्मा का काम मानते हैं। इसलिए, वे खुद को बताते हैं कि उन्होंने निश्चित रूप से इन अनुभवों के द्वारा छूटकारा और पवित्र आत्मा प्राप्त किया है।
क्योंकि इन लोगों को उद्धार के वचनों का अपूर्ण ज्ञान है, इसलिए यदि किसी भी प्रकार की दिखनेवाली क्षमता बहार नहीं आती तो उन्हें अपने उद्धार में विश्वास नहीं होता। इसलिए, ये लोग उद्धार के दृश्यमान आश्वासनों को खोजने की बहुत कोशिश करते हैं और बाद में अपने कार्यो में शैतान के द्वारा उपयोग किए जा रहे हैं। क्योंकि ये लोग पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करने के बजाय पश्चाताप या आत्म-बलिदान की प्रार्थनाओं के द्वारा परमेश्वर के उत्तर खोजने की कोशिश कर रहे हैं, वे अंततः पवित्र आत्मा के बजाए झूठी आत्माओं को प्राप्त करते हैं।
शैतान लोगों के कानों में फुसफुसाकर आरोप लगाता है, "आपने पाप किया है, क्या आपने नहीं किया? और उन्हें आत्म-निंदा में गिरने की ओर ले जाता है। एक व्यक्ति है जिसे मैं जानता हूं जिसने अब पापों की माफ़ी और पवित्र आत्मा प्राप्त कर ली है। यह कुछ ऐसा है जो उसके नए जन्म पाने से पहले हुआ था, जब वह यीशु में एक उत्साही लेकिन लापरवाह विश्वासी था। इस व्यक्ति ने भी अन्य भाषा में बात की और कई चमत्कार किए। भले ही वह रोया और पूरी रात पश्चाताप की प्रार्थना की, और यीशु पे विश्वास होने के बावजूद, उसके दिल में पाप ने उसे सताना जारी रखा। यह तब हुआ जब शैतान की फुसफुसाहट शुरू हुई। “तूने पाप किया है, इसलिए तेरे लिए जीने से अच्छा है की तू मर जाए”। शैतान अक्सर उसके पास आता था और उस पर आरोप लगाता था, उसे प्रताड़ित करता था और उसे उसके पापों की याद दिलाता था। शैतान ने उसे आत्म-निंदा और आत्म-न्याय के लिए प्रेरित किया। हालाँकि, वह जो कुछ भी कर सकता था, वह उसके दिल में पापों को स्वीकार करता था। जब तक उसने खुबसूरत सुसमाचार को नहीं सुना और विश्वास नहीं किया, तब तक वह खुद को शैतान के आरोप से मुक्त नहीं कर सका।
आपको पता होना चाहिए कि जो लोग पानी के सुसमाचार में विश्वास नहीं करते हैं वे शैतान का शिकार बन जाते हैं। क्या आपको लगता है कि जिस किसी को भी पापों की माफी नहीं मिली है, उसके पास शैतान को अस्वीकार करने की शक्ति है? जो कोई भी पानी और आत्मा के सच्चे सुसमाचार पर पकड़ नहीं रखता, उसे शैतान द्वारा पकड़ लिया जाएगा और यातना दी जाएगी। परमेश्वर का पानी और आत्मा का सुसमाचार शैतान को बाहर निकालने के लिए अत्यंत आवश्यक है। इसलिए, हर कोई जो यीशु पर विश्वास करता है, उसे पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करना चाहिए, और इसे दुनिया के सभी लोगों को भी प्रचार करना चाहिए। इसे सुनने वालों को इसका पालन करना चाहिए और इस पर विश्वास करना चाहिए।
 
 
अधर्म का रहस्य पहले से ही दुनिया में कार्यरत है!
 
पूरी दुनिया अब दुष्ट आत्माओं की गतिविधियों से आच्छादित है। यदि हम उस सुसमाचार का प्रचार करना चाहते हैं जो लोगों को पवित्र आत्मा को प्राप्त करने की ओर ले जाता है, तो हमें पवित्र आत्मा के अंतर्निवास के बारे में गहरी गलतफहमियों को दूर करना होगा।
सबसे पहले हमें यह स्पष्ट करना होगा कि यह एक झूठ है की पवित्र आत्मा हाथों को रखने के द्वारा आता है। हमें स्पष्ट रूप से इस बात की गवाही देनी चाहिए कि हाथों को रखने के बाद अन्य भाषा में बोलना, पश्चाताप और उपवास के माध्यम से कुछ आग महसूस करना और यीशु से सीधे संदेश सुनना जैसे अनुभव शैतान का काम है। केवल पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास के माध्यम से लोगों को शैतान के छलावे से बचाया जा सकता है। केवल पानी और आत्मा के सुसमाचार पे विश्वास के द्वारा ही हम अपने पापों से बच सकते है।
हमें शैतान को, "झूठ के पिता," को पानी और आत्मा के सुसमाचार के साथ हराना है। शैतान ने दुनिया भर में सभी लोगों को आत्म-निंदा के बंधन में बांध दिया है, इसलिए हमें इन लोगों को इस सच्चाई का एहसास कराना है की उनके गुमराह अनुभव और भावनाए शैतान की चाल है और उन्हें वापस लाना है।
इन दिनों, सामरी शमौन जैसे लोग, जिन्होंने पैसो से पवित्र आत्मा को खरीदने की कोशिश की, कलीसिया की सेवा कर रहे हैं। वे अंधों की अगुवाई कर रहे हैं। वे लोगों को पूर्ण उद्धार का रास्ता नहीं दिखा सकते क्योंकि वे पानी और आत्मा के सुसमाचार को नहीं जानते हैं, और उनके दिलों में पाप है। इसलिए वे रात-दिन प्रार्थना का आयोजन करके, पश्चाताप की प्रार्थना के लिए और हाथ रखने के द्वारा शैतान को अपने अनुयायियों के दिलों में बसने का कारण बनाते हैं। ये लोग वास्तव दुष्ट आत्मा से ग्रसित हैं, और यदि हम चाहते हैं कि वे परमेश्वर के वचन की ओर लौट आएं, तो हमें उनको पानी और आत्मा का सही ज्ञान प्रदान करके शैतान काम को नष्ट करना होगा। यदि लोग शैतान की योजनाओं के बारे में नहीं जानते हैं, तो उनके पास असहायता में पीड़ित होने के अलावा और कोई विकल्प नहीं होगा।
जैसा कि मैंने कहा कि, अन्य भाषा में बोलना, हाथों को रखने के द्वारा भविष्यवाणी करना ये सब चमत्कार शैतान के कार्य है। दूसरे शब्दों में, शैतान के कार्यो के द्वारा करिश्माई लोगों की शक्तियां प्रकट होती हैं। हमें उन्हें सिखाना चाहिए। “यदि आप के दिल में पाप है तो यह शैतान है जो कार्य करता है। अगर आपको लगता है कि आपके दिल में पाप होने के बावजूद भी पवित्र आत्मा आप में बसता है, तो आपको धोखा दिया गया है।”
प्रेरितों के विश्वास और उन सारे लोगों को जिन्होंने प्रेरितों के काम की पुस्तक के अध्याय ८ के मुख्य भाग में हाथ रखने के द्वारा पवित्र आत्मा का अंतर्निवास प्राप्त किया वे उस श्रेणी में आते है, क्योंकि वे दोनों यीशु मसीह के पानी और आत्मा के सुसमाचार के बारे में जानते थे। लेकिन प्रेरितों का विश्वास आज के अधिकांश मसीहियों से बिलकुल अलग था, जो मानते हैं कि केवल हाथ रखने से उन्हें पवित्र आत्मा प्राप्त होगा।
क्या कोई व्यक्ति इसे व्यक्ति के द्वारा हाथ रखने से पवित्र आत्मा को पा सकते है जिसने पापों का छूटकारा पाया है? नहीं। बाइबल बताती है कि परमेश्वर का आत्मा जल के ऊपर मण्डराता था (उत्पत्ति १:२)। इसका मतलब यह है कि पापों की क्षमा और पवित्र आत्मा को प्राप्त करने के लिए, उसे पानी और आत्मा के सुसमाचार को सुनना और मानना होगा। परमेश्वर नया जन्म पाए हुए मसीही के पास पवित्र आत्मा को एक उपहार के रूप में भेजता है, जो पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करता है।
हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि यदि हम लोगों को हाथ रखने के द्वारा पवित्र आत्मा को पाने के बारे में सिखाते है तो यह पानी और आत्मा के सुसमाचार का विरोध करने जैसा होगा, जिसे परमेश्वर ने हमें हमारे पापों से बचाने के लिए दिया है। यह सोचकर कि कोई व्यक्ति किसी और को पवित्र आत्मा दे सकता है वह परमेश्वर को चुनौती देना है, और इस तरह के विश्वास वाले लोग आसानी से शैतान के जाल में फंस जाते हैं। ऐसा कभी नहीं होने देना चाहिए।
जब हम पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं, और पवित्र आत्मा इस बात की गवाही देता है, तो हमारे सारे पाप क्षमा हो जाते हैं। कोई व्यक्ति जो पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करता है, उसके दिल में पाप नहीं है। ऐसा इसलिए नहीं है क्योंकि उसने पाप नहीं किया है, बल्कि इसलिए कि वह पानी और आत्मा के सुसमाचार के सामर्थ में विश्वास करता है। पानी और आत्मा का सुसमाचार इस बात की गवाही देता है कि उसके दिल में कोई पाप नहीं है, और पवित्र आत्मा भी उसी की गवाही देती है। कोई भी व्यक्ति अपने अन्दर परमेश्वर की आत्मा के बगैर यीशु को अपने उद्धारकर्ता नहीं कह सकता।
दुष्ट आत्मा ग्रसित लोग पानी और आत्मा के सुसमाचार के बारे में नहीं जानते हैं, और कभी भी इसे चर्चा का विषय नहीं बनाते हैं। वे पानी और आत्मा के सुसमाचार को भी नहीं जानते हैं, और इसके अलावा वे सच्चाई को समझने में असमर्थ हैं। वे कहते हैं कि पवित्र आत्मा तभी आता है जब वे हाथ रखने का प्रदर्शन करते हैं। हालांकि, पवित्र आत्मा हाथ रखने के द्वारा नहीं आता। आपको यह महसूस करना चाहिए कि शैतान के कार्यों का प्रभाव अब दुनिया भर की कलीसियाओं के लोगों पर अपने झूठे उपदेशों से बहुत प्रभाव डालते हैं। इस कारण से, पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करके पवित्र आत्मा की सच्ची प्रेरणा प्राप्त करना अनिवार्य है।