उपदेश

विषय ८ : पवित्र आत्मा

[8-4] (प्रेरितों के काम ३:१९) वे जिनका विश्वास यीशु के चेलों के विश्वास के समान है

(प्रेरितों के काम ३:१९)
“इसलिये, मन फिराओ और लौट आओ कि तुम्हारे पाप मिटाए जाएं, जिस से प्रभु के सम्मुख से विश्रान्ति के दिन आएं।”
 
 
प्रेरितों के पास किस तरह 
का विश्वास था?
वे यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू 
दोनों में विशवास करते थे।

यीशु मसीह के चेलों को देखते हुए, जब उनके पास पवित्र आत्मा का अंतर्निवास नहीं था उसके मुकाबले जब उनके पास पवित्र आत्मा का अंतर्निवास आया तब उनके विश्वास की सीमा बढ़ गई। उनका शरीर अलग नहीं दिखता था, लेकिन पवित्र आत्मा प्राप्त करने के बाद, यीशु मसीह के प्रकाश से उनके जीवन पूरी तरह से बदल गए थे।
जिस शहर में मैं रहता हूं, वहां खूबसूरत पहाड़ और झीलें हैं। इस तरह के सुंदर दृश्यों को देखकर, मैं संतुष्टि से भर जाता हूं और आश्चर्य होता है और मैं ऐसी कृतियों के लिए प्रभु का धन्यवाद करता हूँ। धूप में चमकते स्पष्ट पानी की चमक मेरे दिल को भर देती है और मेरे चारों ओर की दुनिया सोने की तरह लगने लगती है।
लेकिन ऐसी जगहें हैं जहां इस तरह की प्राकृतिक सुंदरता स्वयं प्रकट नहीं होती है। ऐसे स्थान हैं जहां आकाश स्पष्ट है, लेकिन सूर्य के प्रकाश के नीचे का पानी दलदल जैसा दिखता है। ऐसे द्रश्य में कोई चमक नहीं है। इस तरह झील को देखते हुए, मैं परमेश्वर को उनके खुबसूरत सुसमाचार के लिए धन्यवाद देता हूं, जिन्होंने मेरे पापों को शुद्ध किया और मेरे लिए पवित्र आत्मा का अंतर्निवास दिया।
चूंकि दलदली झील की सतह प्रकाश को प्रतिबिंबित करने में सक्षम नहीं है, इसलिए हम परमेश्वर के प्रकाश से भी दूर हो सकते हैं और अनजाने में हमारे पापी स्वभाव के कारण अज्ञात भाग्य की ओर जा सकते हैं। लेकिन अगर पवित्र आत्मा हमारे दिलों में बसता है, तो हमें परमेश्वर की संतान के रूप में प्रकट किया जाएगा और अन्य लोगों को सुसमाचार सिखाने के लिए नेतृत्व किया जाएगा। क्योंकि हमने उसकी रोशनी को स्वीकार कर लिया है, हम रोशनी के रूप में चमकेंगे।
इसी तरह, यीशु के पुनरुत्थान के बाद, उनके चेलों ने पवित्र आत्मा प्राप्त किया और ज्योति की संतान और प्रेरित बन गए। पवित्र आत्मा का प्रकाश सभी के लिए एक महान आशीष है और इसलिए अधिकांश लोग पवित्र आत्मा को प्राप्त करना चाहते हैं।
 
 
प्रेरित पौलुस का विश्वास
 
पौलुस के पास किस तरह का विश्वास था? पौलुस ने अपने विश्वास के कबूलनामे में कहा कि वह उस समय के व्यवस्था के सबसे महान शिक्षकों में से एक गमलील के तहत प्रशिक्षित था। लेकिन उसने कबूल किया कि व्यवस्था के साथ भी, उसे उसके पापों से नहीं बचाया जा सकता था और वह वास्तव में, यीशु, हमारे उद्धारकर्ता का उत्पीड़न करने वाला था। एक दिन वह दमिश्क के रास्ते में यीशु से मिला और उसके सुसमाचार का प्रचारक बन गया। वह परमेश्वर के पुत्र के रूप में यीशु मसीह में विश्वास रखता था, जो इस दुनिया में आए, उसे दुनिया के सारे पापों को साफ करने के लिए यूहन्ना द्वारा बपतिस्मा दिया गया, और उन सभी पापों का न्याय लेने के लिए क्रूस पर लहू बहाया गया। दूसरे शब्दों में, पौलुस को पाप की क्षमा में अपने हृदय में विश्वास था।
यीशु के चेलों का मानना था कि यूहन्ना से यीशु का बपतिस्मा और क्रूस पर उसका लाहो उन्हें सारे पापों से माफ़ी दिलाने के लिए था। पौलुस ने चेलों के साथ एक ही विश्वास साझा किया और इसलिए उनके सभी पापों से बचा लिया गया। 
पौलुस ने गलातियों ३:२७ में कहा, “और तुम में से जितनों ने मसीह में बपतिस्मा लिया है उन्होंने मसीह को पहिन लिया है।” और अपने उद्धार के रूप में यीशु के बपतिस्मा में उनके विश्वास को स्वीकार किया। साथ ही, पतरस ने १ पीटर ३:२१ में कहा “और उसी पानी का दृष्टान्त भी, अर्थात बपतिस्मा, यीशु मसीह के जी उठने के द्वारा, अब तुम्हें बचाता है; उस से शरीर के मैल को दूर करने का अर्थ नहीं है, परन्तु शुद्ध विवेक से परमेश्वर के वश में हो जाने का अर्थ है”। और उन्होंने इन वचनों के माध्यम से यीशु के बपतिस्मा के खुबसूरत सुसमाचार का प्रदर्शन किया। यीशु के चेलों का मानना था कि यूहन्ना द्वारा उसके बपतिस्मा ने दुनिया के सभी पापों को साफ कर दिया। वे अपने पापों के लिए माफ़ कर दिए गए थे, और इस तरह इस सच्चाई पर विश्वास करने के द्वारा वे व्यवस्था के अभिशाप के तहत नहीं थे।
वे यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू दोनों पर विश्वास करते थे। यह स्पष्ट है कि यह विश्वास चेलों की सफल योग्यता के लिए आवश्यक था। प्रेरितों के काम १:२१-२२ में, यह कहता है, “इसलिये जितने दिन तक प्रभु यीशु हमारे साथ आता जाता रहा, अर्थात यूहन्ना के बपतिस्मा से लेकर उसके हमारे पास से उठाए जाने तक, जो लोग बराबर हमारे साथ रहे। उचित है कि उन में से एक व्यक्ति हमारे साथ उसके जी उठने का गवाह हो जाए”। यूहन्ना द्वारा यीशु के बपतिस्मा में विश्वास के साथ यीशु का चेला बनना शुरू हुआ।
सच्चाई यह है कि हमें अपने पापों के लिए क्षमा माफ़ी पाने की जरुरत है यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू के विश्वास से होता है। “और तुम में से जितनों ने मसीह में बपतिस्मा लिया है उन्होंने मसीह को पहिन लिया है” (गलातियों ३:२७)। इस प्रकार, पौलुस ने यूहन्ना द्वारा यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके के लहू पर विश्वास भी किया।
आइए तीतुस ३:५ को देखें। “तो उस ने हमारा उद्धार किया: और यह धर्म के कामों के कारण नहीं, जो हम ने आप किए, पर अपनी दया के अनुसार, नए जन्म के स्नान, और पवित्र आत्मा के हमें नया बनाने के द्वारा हुआ”। इसका मतलब है कि जब यूहन्ना ने यीशु को बपतिस्मा दिया तो दुनिया के सारे पाप साफ हो गए। इसी तरह, यदि आप अपने पापों के लिए क्षमा चाहते हैं, तो आपको खुबसूरत सुसमाचार पर विश्वास करने की आवश्यकता है, जो कहता है कि आपके पापों को यूहन्ना के द्वारा यीशु के बपतिस्मा के माध्यम से उस पर डाले गए थे। यीशु क्रूस पर चढ़ा और मर गया उसका कारण यह था की उसने युहन्ना के द्वारा अपने बपतिस्मा से हमारे सारे पापों को अपने उपर उठा लिया था। इस तथ्य पर विश्वास करना पवित्र आत्मा का अंतर्निवास प्राप्त करने के लिए पर्याप्त है। पौलुस ने स्वीकार किया कि वह यूहन्ना द्वारा यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू में विश्वास करता है।
आइए हम इब्रानियों १०:२१-२२ को देखें। यह कहता हैं, “और इसलिये कि हमारा ऐसा महान याजक है, जो परमेश्वर के घर का अधिकारी है। तो आओ; हम सच्चे मन, और पूरे विश्वास के साथ, और विवेक को दोष दूर करने के लिये हृदय पर छिड़काव लेकर, और देह को शुद्ध जल से धुलवा कर परमेश्वर के समीप जाएं”। यहां, “शुद्ध पानी से धोया गया" यूहन्ना द्वारा यीशु के बपतिस्मा को दर्शाता है, जिसने मनुष्यजाति के सभी पापों को साफ किया।
इसलिए, पुराने और नए नियम दोनों में, हम देख सकते हैं कि खुबसूरत सुसमाचार के मुख्य घटक हैं उसका बपतिस्मा और क्रूस पर उसकी मृत्यु। आप भी, पौलुस के समान विश्वास को साझा करें।
आज, अधिकांश मसीही बिना यह जाने व्यर्थ विश्वास करते हैं कि जब यूहन्ना ने यीशु को बपतिस्मा दिया, तो दुनिया के सारे पाप साफ हो गए। कुछ धर्मशास्त्रियों का तर्क है कि लोगों को स्वयं अपने पापों के क्षमा के लिए पानी में बपतिस्मा लेना चाहिए। यह जोर शायद पानी और आत्मा के सच्चे और खुबसूरत सुसमाचार को जाने बिना बनाया गया है, जैसा कि बाइबल में लिखा गया है। जब हम पानी में केवल एक विधि के रूप में बपतिस्मा लेते हैं, तो हमारे पापों को माफ नहीं किया जा सकता है। यीशु के बपतिस्मा और उसके लहू में विश्वास हमें हमारे सभी पापों से मुक्त करता है। केवल वे जो खुबसूरत सुसमाचार में विश्वास करते हैं, उनके पापों को माफ़ किया जाता है। और उसके लहू पर विश्वास करके, उन्होंने अपना सारा न्याय चुका दिया। जिन लोगों में यह विश्वास है, वे ही पवित्र आत्मा को प्राप्त कर सकते हैं।
“तो आओ; हम सच्चे मन, और पूरे विश्वास के साथ, और विवेक को दोष दूर करने के लिये हृदय पर छिड़काव लेकर, और देह को शुद्ध जल से धुलवा कर परमेश्वर के समीप जाएं” (इब्रानियों १०:२२)। इब्रियों का लेखक हमें विश्वास के पूर्ण आश्वासन में सच्चे दिल से परमेश्वर के निकट आने के लिए कहता है। आपको भी खुबसूरत सुसमाचार में विश्वास के पूर्ण आश्वासन में सच्चे मन से उनके समीप आना चाहिए।
आज, मसीहियों को पूरी उम्मीद है कि वे पवित्र आत्मा का अंतर्निवास प्राप्त करेंगे। लेकिन पवित्र आत्मा केवल उन लोगों में बसता है जिनके पाप क्षमा कर दिए गए हैं। कई लोग यह नहीं जानते हैं और इसलिए यीशु के बपतिस्मा और उनके लहू के खुबसूरत सुसमाचार पर विश्वास किए बिना पवित्र आत्मा प्राप्त करना चाहते हैं। जो लोग यीशु पर विश्वास करते हैं, लेकिन अभी तक उसके बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू में विश्वास नहीं करते वे पवित्र आत्मा प्राप्त नहीं कर सकते है। कारण यह है कि उनके पास शुद्ध हृदय नहीं हैं।
पौलुस ने यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू में विश्वास किया इसलिए पवित्र आत्मा प्राप्त किया। इसके अलावा, उन्होंने इस विश्वास को फैलाया और ढोंगी होने की वजह से सताए गए। लेकिन क्योंकि पवित्र आत्मा उनके दिल में बसता था, इसलिए वे अपने अंत तक पानी और आत्मा का सुसमाचार फैला सके। “जो मुझे सामर्थ देता है उस में मैं सब कुछ कर सकता हूं” (फिलिप्पियों ४:१३)। पवित्र आत्मा के अंतर्निवास के लिए धन्यवाद, उसने परमेश्वर की सेवा की और जब तक मर नहीं गया तब तक पवित्र आत्मा के संरक्षण में रहा। केवल वही जिनके पास पौलुस के समान विश्वास है, पवित्र आत्मा प्राप्त कर सकते हैं।
 आइए हम पौलुस के विश्वास को देखें। कुलुस्सियों २:१२ में, यह कहता है “और उसी के साथ बपतिस्मा में गाड़े गए, और उसी में परमेश्वर की शक्ति पर विश्वास करके, जिस ने उस को मरे हुओं में से जिलाया, उसके साथ जी भी उठे”। वह यीशु पर विश्वास करके अपने सारे पापों के लिए क्षमा कर दिया गया था, जिसे यूहन्ना द्वारा बपतिस्मा दिया गया था।
 
 
प्राचीन काल से मसीही धर्म किस तरह बदल गया है?
 
अब, आइए यीशु मसीह में पवित्र आत्मा को प्राप्त करने के बाद एक बहन के विश्वास को देखें।
"मैं बूढ़ी हो रही थी, लेकिन मैं एक बच्चा पैदा नहीं कर सकति थी, इसलिए प्रार्थना के माध्यम से उसका आशीष पाने के लिए में एक कलीसिया से दूसरी कलीसिया में गई। यहां तक कि जब मैं घर पर अकेली होती, तब मै कम से कम एक या दो घंटे के लिए बच्चे के लिए प्रार्थना कराती और यह धार्मिक रीत मेरे दैनिक जीवन का एक हिस्सा बन गई।
इस तरह के धार्मिक जीवन का नेतृत्व करते हुए, मैं एक बुजुर्ग महिला से मिली। उसने मुझसे कहा कि अगर मैं परमेश्वर से एक बच्चा चाहती हूँ, तो मुझे हाथी रखवाकर प्रार्थना करनी चाहिए। मैंने कहीं सुना है कि यह महिला परमेश्वर की दूत थी और इसलिए मैंने उसे अपने सिर पर हाथ रखने की अनुमति दी। उस पल, मेरे पास एक ऐसा अनुभव था जो मैंने पहले कभी महसूस नहीं किया था। मेरी जीभ कांपने लगी, और मैं एक अलग भाषा में बोल रही थी और मुझे कुछ अजीब आग सी महसूस हो रही थी।
मुझे ऐसा अनुभव हुआ कि मुझे पवित्र आत्मा प्राप्त हुआ था और यह मेरी प्रार्थनाओं का उत्तर था। जिस महिला ने मेरे सिर पर हाथ रखा था, उसे पवित्र आत्मा से एक उपहार मिला था और वह भविष्यद्वाणी और चंगा कर सकती थी। उसने कभी भी परमेश्वर के वचनों में शिक्षा प्राप्त नहीं की थी, लेकिन पवित्र आत्मा की सामर्थ का उपयोग करते हुए, उसने बहुत से पादरियों की और शिक्षितों की हाथ रखने के द्वारा पवित्र आत्मा पाने में मदद की थी।
तभी से, मैंने ऐसी सभाओं में भाग लेना शुरू कर दिया, जिसमें से एक को 3"नवीकरण/जागृति आंदोलन" कहा जाता था। इस सभा में मेरी प्रार्थनाओं में से एक में, मैंने पूरे शरीर में एक कंपकंपी महसूस की और मेरा दिल परमेश्वर और मेरे पड़ोसियों के लिए प्यार से भर गया। दूसरों के साथ भी यही हुआ और लोग बेहोश हो रहे थे और अन्य भाषा में बोल रहे थे। वहाँ दुष्ट आत्मा ग्रसित लोग भी थे, और इस सभा के अगुए ने दुष्ट आत्माओं को बहार निकला। इस नवीनीकरण/जागृति आंदोलन का उद्देश्य लोगों को पवित्र आत्मा का अनुभव करने में मदद करना था जैसे कि कंपकंपी, भविष्यवाणी करना, दुष्ट आत्माओं को बहार निकालना और अन्य भाषा में बोलना। लेकिन इन सभी अनुभवों के बावजूद, मेरे पास अभी भी पाप था, और मेरे दिल में पापों ने मुझे डर और शर्म महसूस कराया। 
इसलिए, जब भी मैंने प्रार्थना की, मैंने ईमानदारी से प्रार्थना की कि मैं पाप की समस्या को हल कर सकूंगी। मैंने कबूल किया कि मैंने पाप किया था, लेकिन लोग फिर भी मुझे एक फरिश्ता मानते थे। मुझे लगा कि मुझे अच्छा विश्वास है, लेकिन मैं गलत थी। यदि मैंने अपनी गलती नहीं मानी होती, तो मुझे पवित्र आत्मा पाने का मौका नहीं मिलता।
उसके बाद, मैं उन लोगों से मिली, जिन्होंने पानी और आत्मा का सुसमाचार फैलाया और परमेश्वर के वचनों पर विश्वास करके अपने सभी पापों के लिए क्षमा प्राप्त की थी। अब मैं वास्तव में खुश हूं। मैं पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास कराती हूँ और मैंने पवित्र आत्मा को प्राप्त किया है। मैं परमेश्वर का धन्यवाद कराती हूँ। मैं चाहती हूँ कि दुनिया भर के सभी मसीही खुबसूरत सुसमाचार में विश्वास करें और पवित्र आत्मा का अंतर्निवास प्राप्त करें। मैं हमारे परमेश्वर का धन्यवाद कराती हूँ”।
यहाँ हमने सीखा कि पवित्र आत्मा को प्राप्त करने के लिए, हमें पानी और आत्मा के सुसमाचार की आवश्यकता है। यदि आप अपने सभी पापों के लिए क्षमा चाहते हैं, तो आपको यूहन्ना द्वारा यीशु के बपतिस्मा में विश्वास होना चाहिए। आइए हम इफिसियों ४:५ को देखें। “एक प्रभु, एक विश्वास, एक बपतिस्मा”। यहाँ यह कहा गया है कि केवल एक परमेश्वर और एक बपतिस्मा है, जिसे हम मानते हैं। हम सभी को पवित्र आत्मा के अंतर्निवास को प्राप्त करने के लिए यूहन्ना के द्वारा यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू पर विश्वास करना चाहिए। यदि हम नहीं करेंगे, तो पवित्र आत्मा हम में कभी भी वास नहीं करेगा।
 
3 सच्चा नवीनीकरण मसीही जीवन का अनिवार्य भाग है, और यह आत्मिक परिपक्वता, और आत्मा के फलों से आता है। लेकिन अभी के कुछ वर्षों में, कुछ आन्दोलनों ने “नवीनीकरण” शब्द को बदल दिया है और ऐसे प्रस्तुत किया है की उसमे पवित्रशास्त्र के मुताबिक़ आत्मिक परिपक्वता की प्रक्रिया नहीं है। उनका “नवीनीकरण” जो अनियंत्रित भावनाओं को उत्पन्न करता है, यह संदिग्ध अभिव्यक्ति, और अधिक बाइबल के आधारित या बाइबल के बहार की शिक्षाओं और कार्यो की वजह से है।
यह कुछ समस्यात्मक शिक्षा और कार्य विवादास्पद आंदोलनों में होता है: वचन से ज्यादा करिश्माई अनुभवों को बढ़ावा देना, झूठी अभिव्यक्ति, झूठी शिक्षा, झूठी भविष्यवाणी, झूठे चिह्न और चमत्कार, इत्यादि। हालाँकि, इस अन्दोलन की सबसे खतरनाक बात यह है की उन्होंने पवित्र आत्मा पाने के विषय में लोगों को गुमराह किया है और खुबसूरत सुसमाचार को बाजु पे रख दिया है। 
 
एक बार कुछ लोग थे जिन्होंने सिखाया और माना कि पवित्रता और शुध्धता आंदोलन उन्हें पवित्र आत्मा प्राप्त करने में मदद करेंगे। हालांकि, क्या आपको लगता है कि अगर हम इस तरह के आंदोलनों में शामिल होते हैं तो पवित्र आत्मा हम में बसता है? पवित्रता और शुध्धता के आंदोलन के कारण क्या आपने पवित्र आत्मा प्राप्त किया है? यदि यह संभव होता, तो आप का विश्वास रखना बुद्धिमानी होगा। लेकिन अगर इस कारण से पवित्र आत्मा आप पर आ जाता, तो यीशु को नीचे आने और हमें अपने पापों से बचाने के लिए नहीं आना पड़ता और न ही यूहन्ना द्वारा बपतिस्मा लेने की जरूरत होती और न ही क्रूस पर चढ़ने की आवश्यकता होती।
पवित्र आत्मा का अंतर्निवास प्राप्त करना यीशु के बपतिस्मा और उसके लहू के सुसमाचार में विश्वास का एक उपहार है, जो आपको आपके पापों के लिए क्षमा प्रदान करता है। पवित्र आत्मा का अंतर्निवास एक उपहार है जो उन लोगों को दिया जाता है जिनके पापों को साफ किया गया है और सच्चे सुसमाचार द्वारा क्षमा किया गया है।
इन दिनों, जो लोग नवीकरण/जागृति आंदोलन में शामिल हैं, उनमें से कुछ ऐसे हैं जो मानते हैं कि पश्चाताप की संपूर्ण प्रार्थना उन्हें पवित्र आत्मा प्राप्त करने में मदद कर सकती है। वे कहते हैं कि भले ही किसी व्यक्ति के दिल में पाप है, अगर वह पश्चाताप के लिए प्रार्थना करता है, तो वह पवित्र आत्मा को प्राप्त करेगा।
पेंतिकुस्त-करिश्माई आंदोलन, जो दुनिया भर में फैल गया है, संयुक्त राज्य अमेरिका में १८०० के दशक में शुरू हुआ था। यह आंदोलन औद्योगिक क्रांति के बाद आया था, जब लोगों की नीति और नैतिकता ध्वस्त हो गई थी। ज्यादा तनाव के कारण कई लोगों के दिलों में ठेस पहुँचने के बाद यह आंदोलन अपने उस दिन तक पहुंच गया। उस समय से, परमेश्वर के वचनों पर आधारित विश्वास में गिरावट आई और एक नए धार्मिक आंदोलन का उदय हुआ। यह पेंतिकुस्त-करिश्माई आंदोलन था जिसका उद्देश्य शारीरिक रूप से पवित्र आत्मा (परमेश्वर) का अनुभव करना था - परमेश्वर के कार्यों को आंखों से देखना और शरीर और मन के साथ परमेश्वर के वचन की सामर्थ का अनुभव करना।
लेकिन इस आंदोलन में एक घातक दोष यह है कि यह विश्वासियों को परमेश्वर के शब्दों से दूर ले जाता है और एक ऐसे धर्म के रूप में मौजूद है जो दैहिक आशीष के लिए प्रयास करता है। परिणाम स्वरुप, इस नए आंदोलन के अनुयायी शमनवाद के पैरोकार बन गए। आज भी, जो लोग पेंतिकुस्त-करिश्माई आंदोलन में खुद को शामिल करते हैं, उनका मानना है कि अगर किसी को यीशु पर विश्वास है, तो वह अमीर होगा, उसकी बीमारियां ठीक हो जाएंगी, वह हर चीज में समृद्ध होगा, वह पवित्र आत्मा प्राप्त करेगा और अन्य भाषा में बात करेगा और दूसरों को चंगा करने की सामर्थ पाएगा। पेंतिकुस्त-करिश्माई आंदोलन दुनिया भर में फैल गया है। यह आंदोलन खुबसूरत सुसमाचार में लोगों की आस्था और पवित्र आत्मा को प्राप्त करने की उनकी क्षमता के लिए एक बाधा बन गया है।
आधुनिक मसीहियत की उत्पत्ति लगभग ५०० साल पहले लूथर और केल्विन की मान्यताओं में हुई थी। लेकिन मसीहियत की सीमाओं के भीतर, पवित्र आत्मा के अंतर्निवास का बाइबिल अध्ययन दृढ़ता से स्थापित नहीं है। समस्या यह है कि आधुनिक मसीहियत की शुरुआत से, अधिकांश मसीहीयों ने यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके मृत्यु के महत्त्व को पहचाने बिना यीशु पर विश्वास किया है। मामलों को बदतर बनाने के लिए, लोगों ने मसीहियत के गलत सिद्धांतों पर जोर देना शुरू कर दिया और केवल शारीरिक अनुभवों पर जोर दिया। सभी मसीहियों को खुबसूरत सुसमाचार में विश्वास करना चाहिए जो कहता है की जगत के सारे पापों को उठाने के लिए यीशु को यूहन्ना के द्वारा बपतिस्मा दिया गया था और उन पापों के न्याय के लिए उसे क्रूस पर चढ़ाया गया था। यह विश्वास आपके पवित्र आत्मा प्राप्त करने का कारण बनेगा।
आज, मसीहियत इतनी वीरान हो चुकी है इसका कारण यह है की लोग यूहन्ना के द्वारा यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू की सच्चाई को नकार रहे है। यीशु हमें सच्चाई पर विश्वास करने के लिए कहता है। यूहन्ना द्वारा यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू में विश्वास करने का मतलब है कि पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करना। यदि आप पवित्र आत्मा को प्राप्त करना चाहते हैं, तो विश्वास करें कि जब यूहन्ना ने यीशु को बपतिस्मा दिया, तो आपके पाप उस पर डाले गए थे और उसका लहू आपके सारे पापों के लिए न्याय और क्षमा था। तब आप पवित्र आत्मा को प्राप्त करेंगे।
कई मसीही केवल यीशु के लहू को ही छोताकारे के सुसमाचार के रूप में मानते हैं। लेकिन क्या आप में से जो केवल उसके लहू में विश्वास करते हैं, उन्हें पाप से मुक्त किया जा सकता है? क्या आप? अगर आपको लगता है कि ऐसा हो सकता है, तो शायद आपको यीशु के बपतिस्मा के मतलब का केवल धुंधला ज्ञान है। उस मामले में आपके दिल में अभी भी पाप है। केवल तभी जब आप यीशु के बपतिस्मा और लहू को एक साथ जोड़ते हैं, तब आप विश्वास अपने पापों से बच सकते हैं और पवित्र आत्मा प्राप्त कर सकते हैं। बाइबल कहती है कि यह एकमात्र सच्चा सुसमाचार है जो हमें दुनिया पर विजय पाने में मदद करता है। “और गवाही देने वाले तीन हैं; आत्मा, और पानी, और लोहू; और तीनों एक ही बात पर सहमत हैं” (१ यूहन्ना ५:८)। इसलिए, हमें यह जानना चाहिए कि, हमारे पापों से हमें बचाने की उनकी इच्छा में, परमेश्वर ने यूहन्ना के द्वारा यीशु को बपतिस्मा दिया और फिर उसे क्रूस पर चढ़ाया।
यीशु पर विश्वास करने के बावजूद अधिकांश मसीहीयों के पास पापों की क्षमा नहीं है उसका कारण यह है की वे खुबसूरत सुसमाचार पर विश्वास नहीं करते जो यूहन्ना द्वारा यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू से पूर्ण होती है। जो लोग इन दो बातों पर विश्वास करते हैं, उनके पापों के लिए क्षमा कर दी जाएगी और पवित्र आत्मा उनके दिलों में बस जाएगा।
जब लोगों को यह पता चलता है कि उनके पाप साफ हो गए हैं, तो उनके दिल शांत हो जाते हैं और पानी की तरह भरपूर होते हैं। जिस समय पवित्र आत्मा किसी के दिल में बसता है, तब उसके दिल में एक नदी की तरह शांति बहती है। हम अपने प्रभु से इस सत्य पर विश्वास करके और आत्मा के साथ चलते हुए मिलते हैं क्योंकि हम पवित्र आत्मा को प्राप्त करने का सुसमाचार फैलाते हैं। हमारे दिलों में इस तरह की शांति पहले कभी नहीं थी। जब से हम पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करना शुरू करते हैं, हमारा जीवन निर्मल हो जाता है और हमारे मन पूरी तरह से आनंदित हो जाते हैं। हम इस खूबसूरत सुसमाचार से दूर नहीं हो सकते। पवित्र आत्मा हमेशा हमारे दिलों में है, हमें उसके वचन को फैलाने के लिए प्रेरित करता है और उन लोगों को पवित्र आत्मा पाने की अनुमति देता है जो इन पर विश्वास करते है।
क्योंकि हम यीशु के बपतिस्मा के खूबसूरत सुसमाचार और क्रूस पर उनके लहू में विश्वास करते थे, इसलिए हमें पवित्र आत्मा की आशीष मिली है। अब आपको पवित्र आत्मा प्राप्त करने के लिए क्रूस पर यीशु और उनके लहू के बपतिस्मा में विश्वास होना चाहिए। यह महत्वपूर्ण है कि दुनिया भर के लोग परमेश्वर के वचन में विश्वास करने की प्रक्रिया शुरू करते हैं कि यीशु को यूहन्ना द्वारा बपतिस्मा दिया गया ताकि वे जगत के सारे पापों को दूर कर सकें और उनके पापों के न्याय के लिए क्रूस पर उसकी मृत्यु हो गई। जब वे ऐसा करते हैं, तो वे अंत में पवित्र आत्मा प्राप्त करेंगे।