उपदेश

विषय ८ : पवित्र आत्मा

[8-6] (मत्ती २५:१-१२) विश्वास करे की पवित्र आत्मा आपके अन्दर बसता है

(मत्ती २५:१-१२)
“तब स्वर्ग का राज्य उन दस कुँवारियों के समान होगा जो अपनी मशालें लेकर दूल्हे से भेंट करने को निकलीं। उन में पांच मूर्ख और पांच समझदार थीं। मूर्खों ने अपनी मशालें तो लीं, परन्तु अपने साथ तेल नहीं लिया। परन्तु समझदारों ने अपनी मशालों के साथ अपनी कुप्पियों में तेल भी भर लिया। जब दुल्हे के आने में देर हुई, तो वे सब ऊंघने लगीं, और सो गई। आधी रात को धूम मची, कि देखो, दूल्हा आ रहा है, उस से भेंट करने के लिये चलो। तब वे सब कुंवारियां उठकर अपनी मशालें ठीक करने लगीं। और मूर्खों ने समझदारों से कहा, अपने तेल में से कुछ हमें भी दो, क्योंकि हमारी मशालें बुझी जाती हैं। परन्तु समझदारों ने उत्तर दिया कि कदाचित हमारे और तुम्हारे लिये पूरा न हो; भला तो यह है, कि तुम बेचने वालों के पास जाकर अपने लिये मोल ले लो। जब वे मोल लेने को जा रही थीं, तो दूल्हा आ पहुंचा, और जो तैयार थीं, वे उसके साथ ब्याह के घर में चलीं गई और द्वार बन्द किया गया। इसके बाद वे दूसरी कुंवारियां भी आकर कहने लगीं, हे स्वामी, हे स्वामी, हमारे लिये द्वार खोल दे। उस ने उत्तर दिया, कि मैं तुम से सच कहता हूं, मैं तुम्हें नहीं जानता।”
 
 
पवित्र आत्मा किसके पास आता है?
वह उनके पास आता है जिनके पाप यीशु के बपतिस्मा 
और लहू पे विश्वास करने के द्वारा माफ़ किए गए है।
 

जिन कुँवारियों ने पवित्र आत्मा का अंतर्निवास पाया है उनके द्वारा किसका प्रतिनिधित्व होता है?
 
ऊपर के भाग में, पाँच समझदार कुँवारिया और पाँच मूर्ख कुँवारिया हैं। पाँच मूर्ख ने पाँच समझदारो को अपना कुछ तेल बाँटने के लिए कहती हैं। लेकिन समझदार ने मूर्खों से कहा, “नहीं, कदाचित हमारे और तुम्हारे लिये पूरा न हो; भला तो यह है, कि तुम बेचने वालों के पास जाकर अपने लिये मोल ले लो”। तो, जबकि मूर्ख तेल खरीदने के लिए निकली थी, तब पाँच समझदार कुंवारी जिनके पास तेल था, ब्याह के घर में चली गई। फिर हम प्रभु के लिए तेल कैसे तैयार कर सकते हैं? केवल एक चीज जो हमें करने की ज़रूरत है वह है हमारे दिलों में पापों की क्षमा के साथ उसकी प्रतीक्षा करना।
हम लोगों के बिच में दो तरह का विश्वास देख सकते हैं। एक है पापों की माफ़ी के सुसमाचार पे विश्वास। यह पवित्र आत्मा पाने की ओर ले जाता है। दूसरा है केवल व्यक्ति के अपने धार्मिक पंथ के प्रति विश्वासयोग्य रहना – इस बात की परवाह किए बिना की परमेश्वर ने उसके पापों को माफ़ किया है या नहीं किया।
जो लोग अपने स्वयं के विश्वास के प्रति वफादार होते हैं, उनके लिए खुबसूरत सुसमाचार बोझिल रहता है। दूल्हे के आने पर तेल खरीदने के लिए बाहर जाने वाली मूर्ख कुँवारियों की तरह, जो लोग पवित्र आत्मा को प्राप्त करने की आशा में आराधना के एक घर से दूसरे घर जाते हैं, वे किसी ओर को नहीं बल्कि खुद को धोखा दे रहे हैं। ऐसे लोग इस तथ्य से अनजान हैं कि उन्हें न्याय के दिन से पहले अपने दिल में खुबसूरत सुसमाचार में विश्वास होना चाहिए। वे अपने उत्साह के साथ परमेश्वर को प्रभावित करके पवित्र आत्मा प्राप्त करना चाहते हैं। हम एक बहरे के कबूलनामे को देखेंगे जिसने पवित्र आत्मा को प्राप्त करने के लिए बहुत प्रयास किए। यह स्वीकारोक्ति आपके लिए सहायक होगी।
 “मैंने पवित्र आत्मा को प्राप्त करने के लिए सब कुछ किया। मैंने सोचा था कि अगर मैं खुद को अपने विश्वास के लिए सम्पूर्ण रूप से समर्पित करता हूं, तो मैं पवित्र आत्मा प्राप्त कर सकता हूं और इसलिए मैं एक प्रार्थना घर से दूसरे में चला गया। इन प्रार्थना घरों में से एक में लोगों ने सेवा के हिस्से के रूप में इलेक्ट्रिक पियानो और ड्रम बजाया। सभा का नेतृत्व करने वाले पादरी ने उन लोगों को बुलाया जो एक-एक करके पवित्र आत्मा को प्राप्त करना चाहते थे और जैसे ही उन्होंने उस व्यक्ति के माथे पर मारा, तो वह अन्य भाषा में बोलने लगा। वह एक माइक्रोफोन के साथ इधर-उधर भागे और "आग को प्राप्त करो, आग को, आग को" ऐसा बोलते हुए लोगों के सिर पर अपना हाथ रखा, जिससे उनमें से कुछ बेशुध्ध और बेहोश हो गए। मुझे इस बात पर संदेह था कि क्या यह अभ्यास पवित्र आत्मा को प्राप्त करने के बारे में था लेकिन मैं पहले से ही इन सभाओं का आदी था। इन सब के बावजूद, मैं पवित्र आत्मा को प्राप्त करने में कभी सफल नहीं हुआ।”
उस अनुभव के बाद, मैं पहाड़ों पर गया और एक चीड़ के पेड़ को पकड़कर पूरी रात रोने और प्रार्थना करने की कोशिश की। मैंने एक गुफा में प्रार्थना करने की भी कोशिश की लेकिन वह भी काम नहीं आया। उसके बाद, मैंने ४० दिनों तक रात भर प्रार्थना करने की कोशिश की लेकिन मैं पवित्र आत्मा को प्राप्त करने में कभी कामयाब नहीं हुआ। फिर एक दिन मुझे पवित्र आत्मा के विषय के एक सेमिनार में आमंत्रित किया गया। सेमिनार सप्ताह में एक बार आयोजित किया जाता था, और सात सप्ताह तक चला।
सेमिनार परमेश्वर के प्यार, क्रूस, यीशु के पुनरुत्थान, हाथों को रखना, आत्मा के फल और आध्यात्मिक विकास पर था। उस समय जब सेमिनार का कार्यक्रम लगभग समाप्त हो गया था, तब सेमिनार में प्रचारक ने मेरे सिर पर हाथ रखा और पवित्र आत्मा के लिए प्रार्थना की, और जैसा उन्होंने मुझसे कहा, मैंने वैसा ही किया। मैं शांत हो गत्या और आसमान की ओर अपने हाथों को उठाया और बार-बार "ला-ला-ला-ला" चिल्लाया। अचानक, जब मैं "ला-ला-ला-ला" रो रहा था, तब मैंने एक अजीब भाषा में निरंतर बोलना शुरू कर दिया। कई लोगों ने मुझे पवित्र आत्मा प्राप्त करने के लिए बधाई दी। लेकिन जब मैं घर पर अकेला था, तो मुझे डर था। इसलिए, मैंने सेमिनार के लिए एक स्वयंसेवक कार्यकर्ता के रूप में काम करना शुरू कर दिया। मुझे लगा कि मुझे यथासंभव काम के लिए स्वयंसेवक बनना चाहिए, इसलिए मैंने अपनी सेवाओं के देने के लिए देश भर में यात्रा की। और जब मैंने कुछ रोगियों पर हाथ रखा, तो उनकी बीमारी ठीक हो गई, हालाँकि वे फिर बीमार भी हो गए। और फिर मैंने अपनी आँखों के सामने दर्शन देखा और पाया कि मैं भविष्यद्वाणी कर सकता हूं। हैरानी की बात है कि मेरी भविष्यवाणियां हमेशा सच हुईं। उस समय से, मुझे सभी प्रकार के स्थानों पर आमंत्रित किया गया और एक सेलिब्रिटी की तरह व्यवहार किया गया। लेकिन मैं फिर भी डरता था। फिर एक दिन, मैंने एक आवाज सुनी, "इस तरह से जगह-जगह भटकना नहीं है, इसके बजाय जाओ और अपने परिवार को उद्धार प्राप्त करने में मदद करो।" हालांकि, मुझे नहीं पता था कि उद्धार क्या था। मुझे केवल यह पता था कि दूसरों ने मुझे क्या बताया है - कि अगर मैंने पवित्र आत्मा के इस उपहार का उपयोग नहीं किया, तो वह इसे मुझसे दूर ले जाएगा। एक ओर, मैं अपनी क्षमताओं का उपयोग करने से डरता था और फिर भी मैं ऐसा करना बंद नहीं कर सकता था।
एक दिन, मैंने सुना कि एक शमन महिला यीशु पर विश्वास करना चाहती है और इसलिए मैं उसे अपने दोस्तों के साथ मिलाने गया। हमने उसे पहले से सूचित नहीं किया था कि हम उससे मिलने जाएंगे। लेकिन शमन महिला पहले से ही अपने गेट के बाहर हमारा इंतजार कर रही थी और कहा, "मुझे पता था कि आप आएँगे।" फिर उसने अचानक हम पर पानी फेंकना शुरू कर दिया और कहा, "पूर्वी शमनवाद और पश्चिमी शमनवाद में कोई अंतर नहीं है!" उसने कहा हमें "यीशु शमन" कहा, हम पर इशारा किया और कहा, "यह आदमी डरा हुआ है, लेकिन वह नहीं है।" महिला जादूगर ने जो कहा वह मेरे लिए एक झटके के समान था। मैं सोचने लगा कि मैं जो कुछ कर रहा था, वह जो शमन करते है उससे अलग नहीं था। मैंने जो कुछ भी किया उससे कभी भी पवित्र आत्मा मेरे पास नहीं आया क्योंकि मेरे दिल में अभी भी पाप था।”
इस स्वीकारोक्ति से, हम सीखते हैं कि पवित्र आत्मा प्राप्त करना हमारी क्षमताओं से परे है। क्योंकि ऐसा विश्वास परमेश्वर के सुसमाचार पर आधारित नहीं है, जो लोग इस तरह का धार्मिक जीवन जीते हैं, उनकी मशालों में तेल नहीं होता।
बाइबल में मशाल कलीसिया को दर्शाता है और तेल पवित्र आत्मा को दर्शाता है। बाइबल कहती है की जो लोग पवित्र आत्मा पाए बिना कलीसिया में जाते है वे मूर्ख है।
मूर्ख लोग दिन-प्रतिदिन अपने धार्मिक जुनून और उत्साह को जलाने के लिए प्रवृत्त होते हैं। अलग तरीके से कहें तो, मूर्ख परमेश्वर के लिए अपने अंधे उत्साह के साथ-साथ अपनी भावनाओं को जला रहे हैं। अगर हमें कहा जाए कि हमारी भावनाओं की मात्रा २० से.मी. है और 1 से.मी. जलने में एक दिन लगता है, तो हमारी सभी भावनाओं को आग में भस्म होने में केवल २० दिन लगेंगे। उनके विश्वास के पीछे की भावनाएँ सुबह-सुबह की प्रार्थना, सारी रात की प्रार्थना, उपवास की प्रार्थना और जागृति की सभा के माध्यम से नई सामर्थ प्राप्त करना हैं, लेकिन उनकी भावनाएँ उनके पूरे जीवन में जलती रहती हैं। वे अपनी भावनाओं को जलाने की इस कभी न खत्म होने वाली प्रक्रिया के आदी हैं।
उनकी भावनाओं को यीशु के नाम से जलाया जाता है। वे कलीसिया में जाते हैं और अपनी भावनाओं को जलाते हैं लेकिन उनके दिल अभी भी भ्रमित हैं और कुछ और खोजते हैं। इसका कारण यह है कि उनका विश्वास शारीरिक अनुभवों से आता है; इसलिए, उन्हें इन भावनाओं को मजबूत करने की निरंतर आवश्यकता होती है ताकि लौ बाहर मर न जाए। हालाँकि, वे इस तरह के विश्वास के साथ पवित्र आत्मा को प्राप्त नहीं कर सकते हैं। उनकी भावनाओं को जलाने से उन्हें पवित्र आत्मा प्राप्त नहीं होगा।
हम सभी को परमेश्वर की पूर्ण उपस्थिति में पवित्र आत्मा प्राप्त करने के लिए उचित विश्वास तैयार करना चाहिए। तब और केवल तभी हम पवित्र आत्मा को पाने के योग्य होंगे। हम कैसे विश्वास हासिल करे जो हमें पवित्र आत्मा प्राप्त करने के योग्य बनाता है? सच्चाई उस खुबसूरत सुसमाचार में निहित है जो यर्दन में यीशु के बपतिस्मा के द्वारा और क्रूस पर उसके लहू के द्वारा पूरा किया गया था।
परमेश्वर ने हमें इस रूप में संदर्भित किया “कुकर्म करनेवालों के वंश” (यशायाह १:४)। हमें खुद को यह स्वीकार करना चाहिए। लोग मूल रूप से १२ प्रकार के पापों के साथ पैदा होते हैं (मरकुस ७:२१-२३)। इंसान मरते दम तक पाप करता रहता है।
यूहन्ना १:६-७ में, लिखा है, “एक मनुष्य परमेश्वर की ओर से आ उपस्थित हुआ जिस का नाम यूहन्ना था। यह गवाही देने आया कि ज्योति की गवाही दे, ताकि सब उसके द्वारा विश्वास लाएं।” यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले ने यीशु को बपतिस्मा दिया और दुनिया के सारे पापों को उसके ऊपर डालते हुए कहा, “देखो! यह परमेश्वर का मेम्ना है जो जगत का पाप उठा ले जाता है” (यूहन्ना १:२९)। हम अपने सारे पापों से बच गए है यूहन्ना के द्वारा यीशु के बपतिस्मा के लिए धन्यवाद। यदि यूहन्ना ने यीशु को बपतिस्मा नहीं दिया होता और यह घोषणा नहीं की होती कि वह परमेश्वर का मेम्ना है जिसने जगत के पापों को उठा लिया था, तो हम यह नहीं जान पाए होते की यीशु ने क्रूस पर हमारे सारे पापों को उठा लिया था। न ही हम पवित्र आत्मा को प्राप्त करने का तरीका जान पाए होते। लेकिन यूहन्ना की गवाही के लिए धन्यवाद, हमें समझ में आया कि यीशु ने हमारे सारे पापों को दूर कर दिया और हम पवित्र आत्मा को प्राप्त करने में सक्षम है।
इस विश्वास के साथ, हम दुल्हन बन गए जो पूरी तरह से यीशु यानी की दूल्हें को प्राप्त करने के लिए तैयार हैं। हम कुंवारी हैं जो यीशु पर विश्वास करते हैं और पवित्र आत्मा प्राप्त करने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं।
क्या आप अपने पूरे दिल से पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं? क्या आप विश्वास करते हैं कि यूहन्ना से बपतिस्मा लेने के द्वारा यीशु मसीह ने आपके सारे पापों को उठा लिया था? बाइबल कहती है, “अत: विश्वास सुनने से और सुनना मसीह के वचन से होता है” (रोमियों १०:१७)। हमें पवित्र आत्मा पारपत करने के लिए यह विश्वास करना चाहिए कि यीशु को यूहन्ना द्वारा बपतिस्मा दिया गया था और क्रूस पर उसकी मृत्यु हुई थी। हमें यह समझना चाहिए कि पवित्र आत्मा को प्राप्त करना केवल यह विश्वास करने से आ सकता है कि यीशु मनुष्य के रूप में पृथ्वी पर आया और यूहन्ना द्वारा बपतिस्मा लिया, इसलिए वह क्रूस पर मरा और पुनरुत्थित हुआ।
यहाँ तक की आज भी, विश्वासियों के दो समूह है, जैसे की उपर दर्शाई गई कहानी में दस कुँवारियों के दो समूह थे। आप कौनसी तरफ है? आपको पानी और आत्मा में विश्वास करने के द्वारा पवित्र आत्मा पाना चाहिए। क्या आप कलीसिया में जाते है फिर भी पवित्र आत्मा आपके पास आए ऐसा इंतजार कर रहे है? आपको पवित्र आत्मा पाने के सच्चे रास्ते को जानना होगा।
हम कैसे विश्वास से पवित्र आत्मा पा सकते है? क्या आप शमनवाद के विश्वास के द्वारा पवित्र आत्मा पा सकते है? क्या आप बेहोशी की हालत में पवित्र आत्मा पा सकते है? क्या आप कट्टर धर्म में विश्वास करने के द्वारा पवित्र आत्मा पा सकते है? क्या आपको अपने पापों की माफ़ी पाने के लिए निरंतर परमेश्वर से प्रार्थना करनी चाहिए? बाइबल बताती है की जब यीशु का बपतिस्मा हुआ और जब वह पानी से बहार निकला तब परमेश्वर का आत्मा कबूतर की नाई उसके ऊपर उतरा। उसने हमारे सारे पापों को उठाने के लिए और हमें यह कहने के लिए बपतिस्मा लिया की हमारे सारे पापों का दाम चुकाने के लिए वह क्रूस पर चढ़ेगा।
जगत के सारे पापों को उठाने के लिए यीशु ने यूहन्ना से बपतिस्मा लिया और क्रूस पर इसलिए चढ़ा था कि हम लोग बच सके और पवित्र आत्मा पा सके। यह सत्य है। यीशु ने यूहन्ना से बपतिस्मा लिया, क्रूस पर हमारे सभी पापों का न्याय हुआ और पुनरुत्थित हुआ। हमें अपने पापों कि माफ़ी पाने के लिए यूहन्ना से यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू पर विश्वास करना चाहिए। हम यीशु के बपतिस्मा (मत्ती ३:१३-१५) से देख सकते हैं कि पवित्र आत्मा हममें से उन लोगों पर कबूतर की नाई शांति से आता है, जो उसके बपतिस्मा पर विश्वास करके शुध्ध हुए है।
पवित्र आत्मा प्राप्त करने के लिए, यूहन्ना द्वारा यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू पर विश्वास करना जरुरी है। जब व्यक्ति पापों की माफ़ी पर विश्वास करता है तब पवित्र आत्मा कबूतर की नाई शान्ति से उसके ऊपर आता है। जिन्होंने पवित्र आत्मा पा लिया है उनको यह जानना होगा की यह केवल विश्वास से पापों की माफ़ी पर विश्वास करने से सम्भव हुआ है। पवित्र आत्मा उन पर आता है जो अपने पूरे दिल से पापों की माफ़ी पर विश्वास करते है।
यीशु मसीह अनन्त जीवन की रोटी और दाखरस से आया (मत्ती २६:२६-२८, यूहन्ना ६:५३-३६)। जब यीशु अपने बपतिस्मा के बाद पानी से बहार निकला, तब यह आकाशवाणी हुई, “यह मेरा प्रिय पुत्र है, जिससे मैं अत्यंत प्रसन्न हूँ” (मत्ती ३:१७)।
परमेश्वर को त्रिएक परमेश्वर के रूप में मानना आसान है। परमेश्वर यीशु का पिता है और यीशु परमेश्वर का बेटा है। पवित्र आत्मा भी परमेश्वर है। त्रिएक परमेश्वर हमारे लिए एक है।
आपको पता होना चाहिए कि आप केवल क्रूस पर विश्वास करके या नेक कामों से खुद को पवित्र करने की कोशिश करके पवित्र आत्मा को कभी नहीं प्राप्त कर सकते। आप पवित्र आत्मा तभी प्राप्त कर सकते हैं जब आप यह विश्वास करे कि हमारे सारे पापों को यीशु पर डालने के लिए यूहन्ना ने यीशु को बपतिस्मा दिया, और हमारे पापों के प्रायश्चित के लिए वह क्रूस पर मरा। सत्य कितना साधारण और स्पष्ट है! पापों की माफ़ी पाना और पवित्र आत्मा पाना इतना कठिन नहीं है।
परमेश्वर ने हमसे सरल शब्दों में बात की। एक सामान्य व्यक्ति का आईक्यू ११० से १२० के आसपास होता है। उसका सुसमाचार आम लोगों को समझने के लिए काफी आसान है। यहां तक कि ४ या ५ साल की उम्र के बच्चों के लिए भी, खुबसूरत सुसमाचार समझना मुश्किल नहीं है। लेकिन अगर परमेश्‍वर ने और अधिक परिष्कृत तरीके से पवित्र आत्मा के अंतर्निवास के बारे में हमसे बात की होती, तो क्या हम कभी उसे समझ सकते? परमेश्वर ने हमारे सभी पापों को माफ कर दिया और पवित्र आत्मा को उन लोगों के लिए एक उपहार के रूप में दिया जो इस पर विश्वास करते है।
परमेश्वर हमें बताता है कि हम पवित्र आत्मा को हाथ रखने के द्वारा या पश्चाताप की प्रार्थना करके नहीं पा सकते। पवित्र आत्मा उपवास या मनन या फिर पहाड़ पर जाकर पूरी रात प्रार्थना करने के द्वारा नहीं मिलता। हमारे अन्दर पवित्र आत्मा को पाने के लिए कैसा विश्वास होना चाहिए? यह सत्य का विश्वास है की यीशु इस जगत में आया, हमारे सारे पापों को उठाने के लिए उसने बपतिस्मा लिया, क्रूस पर मरा, और पुनरुत्थित हुआ।
 
 
क्या हमें वास्तव में इस पर विश्वास करना है?
 
क्यों हमें पापों की क्षमा प्राप्त करने के द्वारा पवित्र आत्मा पाना है? परमेश्वर के राज्य के नागरिक बनने के लिए, हमें उसकी आत्मा की आवश्यकता है। इसलिए, पवित्र आत्मा को प्राप्त करने के लिए, हमें यीशु को हमारे उद्धारकर्ता के रूप में, उनके बपतिस्मे और लहू में विश्वास करने की आवश्यकता है, और अंत में, हमें अपने पापों के लिए क्षमा प्राप्त करनी चाहिए।
क्यों परमेश्वर उन लोगों को पवित्र आत्मा देता है जिनके पाप क्षमा किए गए हैं? इसका कारण उनके लोगों के रूप उन पर मुहर लगाना है। उन लोगों को सील करने के लिए जो परमेश्वर के वचन के आधार पर यीशु पर विश्वास करते हैं, वह उन्हें वादे के रूप में पवित्र आत्मा देता है।
कई सारे लोग गलत प्रकार के विश्वास को रखते हैं। यीशु के बपतिस्मा पर विश्वास करना और पवित्र आत्मा को प्राप्त करना इतना आसान है। यह उन लोगों के लिए आसान है जो पहले से ही पवित्र आत्मा प्राप्त कर चुके हैं, लेकिन यह उन लोगों के लिए असंभव है जिन्हें पापों की माफी नहीं मिली है। वे सच्चाई को नहीं जानते हैं और इसके बजाय पवित्र आत्मा प्राप्त करने के अन्य तरीकों की खोज करते हैं, जैसे कि कट्टर कार्यों के माध्यम से धार्मिक कार्यो में डूबना। वे इतने अज्ञानी हैं कि वे उन बीजों से भ्रमित हो जाते हैं जिन्हें शैतान ने बोया है, और धार्मिक अन्धश्रध्धा के प्रभाव में आते हैं।
पवित्र आत्मा उन लोगों में बसता है जो यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू में विश्वास करते हैं और जो पापों की क्षमा प्राप्त करते हैं। केवल वे ही जो ईश्वर के उद्धार में विश्वास करते हैं, वे स्वीकार कर सकते हैं, “मेने कोई पाप नहीं किया”। यदि कोई व्यक्ति पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास नहीं करता है, तो वे यह नहीं कह सकते कि उन्होंने कोई पाप नहीं किया। इसी तरह, परमेश्‍वर ने पवित्र आत्मा को अपनी संतानों को प्रतिज्ञा के रूप में प्रदान किया है जो यीशु के बपतिस्मा और क्रूस के लहू में विश्वास करते हैं और पाप की क्षमा प्राप्त करते हैं।
किसने गवाही दी है कि यीशु के बपतिस्मा और लहू ने हमारे सारे पापों को उठा लिया? यीशु, उनके शिष्यों और पवित्र आत्मा ने गवाही दी। किसने सारे लोगों को उनके पापों से बचाने की योजना बनाई थी? पवित्र पिता ने बनाई थी । इस योजना को किसने पूरा किया? यीशु मसीह ने पूरा। अंत में यह योजना पूरी हुई उसका वादा किसने किया? पवित्र आत्मा ने किया।
परमेश्वर हमें उनके लोग बनाना चाहता था इसलिए उसने हमें यीशु के बपतिस्मा और लहू के माध्यम से हमारे सारे पापों से हमें बचाने के लिए फ़ैसला किया। इसलिए, दैवीय त्रिएक परमेश्वर हमारे परम उद्धार वादा करता है और हमें पापों की माफ़ी देता है है।
मत्ती ३:१७ में लिखा है, “यह मेरा प्रिय पुत्र है, जिस से मैं अत्यन्त प्रसन्न हूँ”। जिन लोगों के पास परमेश्वर की पवित्र आत्मा है, वे परमेश्वर के लोग हैं। वे उनकी संतान हैं। “यह मेरा प्रिय पुत्र है, जिस से मैं अत्यन्त प्रसन्न हूँ”। यीशु मूल रूप से परमेश्वर हैं। परमेश्वर पिता हमें बताता है, "यदि आप अपने पापों के लिए क्षमा प्राप्त करना चाहते हैं, तो विश्वास करें कि सारी मनुष्यजाति के पापों को मेरे एकलौते बेटे, यीशु ने हमेशा के लिए दूर कर दिया है, पवित्र आत्मा को प्राप्त करें, और मेरी संतान बनें।" जो लोग इसमें विश्वास करेंगे वे अपने पापों की माफ़ी पाएंगे और परमेश्वर के बेटें और बेटिया बनेंगे। वह उन्हें पवित्र आत्मा का उपहार देता है ताकि उन्हें अपनी संतान के रूप में मुहर लगा सके। हम अपने पापों के लिए क्षमा तभी प्राप्त करते हैं जब हम यीशु के बपतिस्मा और लहू के साथ मिलकर विश्वास करते हैं।
जब लोग अपने दिलों को खाली नहीं करते हैं और माफी के सुसमाचार पर विश्वास नहीं करते हैं, तो वे मानते हैं कि मूल पाप पहले से ही चला गया है लेकिन फिर भी उन्हें अपने वास्तविक पापों की माफी पाने के लिए पश्चाताप की प्रार्थना करना चाहिए। अगर वे इस तरह के विचारों के शिकार हो जाते हैं, तो बाइबल समझ से बाहर हो जाती है। इसलिए, वे यीशु के चेलों की तुलना में अलग विश्वास रखते हैं।
कुछ लोग कहते हैं कि पवित्र आत्मा उन पर “प्रार्थना के द्वारा” आता है। लेकिन बाइबल की दृष्टिकोण से यह सच नहीं है। यह प्रशंसनीय लग सकता है, लेकिन बाइबल कहती है कि जब यीशु यूहन्ना द्वारा बपतिस्मा लेने के बाद पानी से निकला, तो पवित्र आत्मा एक कबूतर के नाई उसके ऊपर उतरा। यह साबित करता है कि यदि हम पवित्र आत्मा को प्राप्त करना चाहते हैं, तो हमें केवल यह विश्वास करने की आवश्यकता है कि यीशु इस जगत में आए, जगत के सारे पापों को दूर करने के लिए यूहन्ना द्वारा बपतिस्मा लिया, उन पापों के लिए क्रूस पर उसका न्याय हुआ और हमारे उद्धारकर्ता बनने के लिए पुनरुत्थित हुआ।
जब हम इस सत्य पर विश्वास करते हैं और पवित्र आत्मा प्राप्त करते हैं, तो परमेश्वर हमसे क्या कहता है? वह कहता है, “तुम मेरे बेटे हो। यह मेरा प्रिय पुत्र है, जिससे में अत्यंत प्रसन्न हूँ”। परमेश्वर उन लोगों को भी यही कहता है जो यीशु पर विश्वास करता है और जिनके भविष्य के पाप माफ़ किए गए है। यह सत्य हमें अपनी संतान बनाने के लिए परमेश्वर का वादा है।
लेकिन लोग अभी भी सोचते हैं कि पवित्र आत्मा को प्राप्त करने के लिए अन्य तरीके भी हैं। क्या आपको लगता है कि पवित्र आत्मा आपके रोने और सांसारिक प्रयासों के माध्यम से आप के ऊपर आएगा? परमेश्वर के कार्य केवल उसकी इच्छा से निर्धारित होते हैं और वह केवल उन लोगों को पवित्र आत्मा देता है जो अपने पापों के लिए क्षमा प्राप्त करते हैं। वह कहता है, "मैंने अपने बेटे को बपतिस्मा दिया ताकि वह आपके सभी पापों को दूर कर सके और उनके न्याय के लिए क्रूस पर चढ़ सके। मैंने अपने पुत्र को आपका उद्धारकर्ता नियुक्त किया है। यदि आप मेरे पुत्र द्वारा किए गए पाप की माफ़ी को स्वीकार करते हैं, तो मैं आपको पवित्र दूँगा”।
हमारे पिता जैसा वह चाहते हैं वैसा ही करते हैं। यहां तक कि अगर कोई आदमी पूरी रात अपने घुटनों पर आकर अपने फेफड़े फटने तक उसके लिए रोता है, तो यह जरुरी नहीं की परमेश्वर उसे पवित्र आत्मा दे। वह केवल उसे यह कहते हुए डांटेगा, “तूने अभी तक सच्चे ज्ञान को स्वीकार नहीं किया लेकिन झूठे विश्वास को थामे रखा है। जब तक तू सच्चे विश्वास को नकारता रहेगा तब तक पवित्र आत्मा तुझसे दूर रहेगा”।
इस दुनिया में, मनुष्यों के निर्णय परिस्थितियों के अनुसार बदल सकते हैं, लेकिन पापों की माफ़ी और पवित्र आत्मा को देने के लिए परमेश्वर ने जो व्यवस्था स्थापित की है वह अपरिवर्तनीय है। यदि आप गलत विश्वास के दायरे में हैं, तो फिर से सही रास्ता खोजना मुश्किल है। बाइबल कहती है कि यीशु उन लोगों के लिए एक ठोकर है जो अनाज्ञाकारी हैं (१ पतरस २:८)।
जो लोग यीशु पर विश्वास करते हैं और अभी तक नहीं जानते कि उन्हें बपतिस्मा क्यों दिया गया था वे केवल छुटकारे के आधे सुसमाचार में विश्वास करते हैं और निश्चित रूप से वे नरक में जाएंगे। इसलिए, जब आप पहली बार यीशु पर विश्वास करते हैं, तो आपको यीशु के बपतिस्मे और उसके लहू के बारे में पता होना चाहिए, जिससे पाप की माफ़ी के सुसमाचार की रचना हुई है। और यदि आप पापों की माफ़ी पाते है, तो आप पवित्र आत्मा को भी प्राप्त करेंगे।
आइए हम पृथ्वी पर यीशु के जीवन के बारे में सोचें। यीशु मनुष्य बना और अपने बपतिस्मा के द्वारा जगत के सारे पापों को उठा लिया। हमें नरक की आग से बचाने के लिए वह क्रूस पर चढ़ा और हमारे पापों का न्याय उठाया। जो लोग उस पर विश्वास करते है वे पवित्र आत्मा की भेंट प्राप्त करेंगे।
इसलिए, हम सभी को पवित्र आत्मा को प्राप्त करने के लिए सच्चे मार्ग का अनुसरण करना चाहिए। हमें सत्य के वचनों के अनुसार सोचने की आवश्यकता है। जब हम ऐसा करेंगे, तो यीशु आपको संभाल कर रखेगा और आपको आशीष देगा। जो लोग अपना दिल खाली करते हैं और उनके वचनों पर विश्वास करते हैं, वे पाप की माफ़ी प्राप्त करके सत्य में रहेंगे हैं, और पवित्र आत्मा के नेतृत्व में चलाए जाएंगे। इसके अलावा, वे पवित्र आत्मा की मदद से दूसरों को सही रास्ते पर ले जा सकते हैं।
यीशु के बपतिस्मा और उसके लहू से सम्पन्न छुटकारे पर विश्वास करो। तभी हम विश्वास के साथ उसका अनुसरण कर सकते हैं और पाप की माफ़ी, अनंत जीवन और पवित्र आत्मा के अंतर्निवास का आशीष प्राप्त कर सकते हैं। यीशु क्षमा का प्रभु है, जिसने अपने बपतिस्मा और क्रूस पर अपनी मृत्यु के द्वारा जगत के सारे पापों को उठा लिया। यीशु ने हमारे सारे पापों को साफ़ किया और उन लोगों को पवित्र आत्मा दिया जो सत्य के सुसमाचार में विश्वास करते है। आप सच्चा विश्वास अपनाकर पवित्र आत्मा को प्राप्त कर सकते हैं।