उपदेश

विषय ८ : पवित्र आत्मा

[8-20] (यूहन्ना २०:२१-२३) जिन्होंने पवित्र आत्मा का अनुभव किया है वे दुसरे लोगों को पवित्र आत्मा पाने

(यूहन्ना २०:२१-२३)
“यीशु ने फिर उनसे कहा, “तुम्हें शान्ति मिले; जैसे पिता ने मुझे भेजा है, वैसे ही मैं भी तुम्हें भेजता हूँ।” यह कहकर उसने उन पर फूँका और उनसे कहा, “पवित्र आत्मा लो। जिनके पाप तुम क्षमा करो, वे उनके लिये क्षमा किए गए हैं; जिनके तुम रखो, वे रखे गए हैं।”

प्रभु ने धर्मियों को कौना सा अधिकार
दिया है? 
उसने उन्हें पानी और आत्मा के सुसमाचार के द्वारा किसीके भी 
पापों को माफ़ करने का अधिकार दिया है।
 
यूहन्ना अध्याय २० में यीशु के पुनरुत्थान को दर्ज किया गया है। हमारे प्रभु मृत्यु में से जीवित हुए और अपने चेलों को कहा, “पवित्र आत्मा को पाओ”। यीशु के चेलों ने पवित्र आत्मा का अंतर्निवास उपहार के रूप में उससे प्राप्त किया। यीशु उनको पवित्र आत्मा का अंतर्निवास और अनन्त जीवन देता है जो विश्वास करते है की उसके बपतिस्मा और लहू ने उनके सारे पापों को साफ़ किया है। बाइबल बताती है की यीशु का बपतिस्मा उद्धार का प्रतिक है, जिसका मतलब है की उसके बपतिस्मा ने सारी मनुष्यजाति को उनके पापों से बचाया (१ पतरस ३:२१)।
 
 
यीशु ने बपतिस्मा क्यों लिया?
 
क्यों यीशु को यूहन्ना के द्वारा बपतिस्मा दिया गया। इस प्रश्न का उत्तर यीशु ने मत्ती ३:१५ में जो कहा उससे स्पस्ट रूप से देख सकते है, “हमें इसी रीति से सब धार्मिकता को पूरा करना उचित है”। यहाँ, “इसी रीति से” का मतलब है की यीशु ने जब बपतिस्मा लिया तब जगत के सारे पापों को ले लिया था। उसका बपतिस्मा पुराने नियम के समय में हाथ रखने के तरीके से ही हुआ था। उसके बपतिस्मा का उद्देश्य जगत के पापों को यीशु पर डालना था।
“सब धार्मिकता” का क्या मतलब है? “उचित” शब्द का मतलब क्या है? “सब धार्मिकता” का मतलब है की यीशु के लिए यह उचित था की वह अपने बपतिस्मा के द्वारा जगत के सारे पाप उठाले। और “उचित” का मतलब है की यह सब परमेश्वर की दृष्टि में सबसे उचित और न्याय संगत है।
यीशु ने अपने बपतिस्मा के द्वारा जगत के सरे पापों को उठाया और उस पर विश्वास करने वालों के लिए उसे शुध्ध किया। यीशु ने उनके पापों के न्याय के लिए बपतिस्मा लिया और क्रूस पर चढ़ा। यह पापों की माफ़ी का सुसमाचार है। परमेश्वर की धार्मिकता पापों की माफ़ी है जो पापियों के सारे पापों को दूर करता है।
यदि लोग जैसे मत्ती ३:१३-१७ में लिखा है वैसे ही यीशु के बपतिस्मा के रहस्य को समझे, तो वे पापों की माफ़ी और पवित्र आत्मा पाने के लिए सक्षम बनेंगे। यीशु ने अपनी सार्वजनिक सेवकाई में जो किया – उसका बपतिस्मा, क्रूस पर चढ़ना और पुनरुत्थान – वह परमेश्वर के द्वारा पूर्वनिर्धारित हमें उद्धार की ओर धर्मी मार्ग मुहैया करवाने के लिए था। इस रीति से, यीशु सारे पापियों का उद्धारकर्ता बना। उसके बपतिस्मा और लहू का सुसमाचार उद्धार के लिए था, जिसने हमारे सारे पापों को धोया है।
लोग केवल तभी पवित्र आत्मा पा सकते है जब वे यीशु के बपतिस्मा और लहू के सुसमाचार पर विश्वास करे। क्योंकि यीशु के बपतिस्मा ने जगत के सारे पापों को उठा लिया है, इसलिए हमारे पापों को उस पर डाल दिया गया है। मनुष्यजाति के लिए क्रूस पर उसकी मृत्यु मेरी खुद की मृत्यु थी, और उसका पुनरुत्थान मेरा पुनरुत्थान था। उसी रूप से, यीशु का बपतिस्मा और क्रूस पर का उसका लहू पाप के माफ़ी का सुसमाचार है और पवित्र आत्मा को प्राप्त करने के लिए था।
मैं आशा करता हूँ की आपने यीशु के बपतिस्मा का कारण सिखा है और उस पर विश्वास भी किया है। तब आपके पाप दूर होंगे और आप पवित्र आत्मा को प्राप्त करेंगे। क्यों यीशु ने बपतिस्मा लिया? जगत के सारे पापों को उठाने के लिए। “हमें इसी रीति से सब धार्मिकता को पूरा करना उचित है” (मत्ती ३:१५)। आमीन, हाल्लेलूया!
आज, कुछ लोग विश्वास करते है की अन्य भाषा में बोलना पवित्र आत्मा पाने का सबूत है। हालाँकि, इसका सच्चा सबूत खुबसूरत सुसमाचार पर अमूल्य विश्वास है जो उनके हृदय पर लिखा हुआ है जिन्होंने पवित्र आत्मा पाया है।
 

प्रभु ने सारे धर्मी लोगों को पाप माफ़ करने का अधिकार दिया है
 
प्रभु ने अपने चेलों को पाप माफ़ करने का अधिकार दिया और कहा, “जिनके पाप तुम क्षमा करो, वे उनके लिये क्षमा किए गए हैं; जिनके तुम रखो, वे रखे गए हैं” (यूहन्ना २०:२३)। इसका मतलब है की जब चेलों ने पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार किया, तब सुनने और विश्वास करनेवाले सभी के पाप माफ़ हो गए। हालाँकि, इसका मतलब यह नहीं है की वे किसी के भी पाप माफ़ कर सकते है, पानी और आत्मा के सुसमाचार पर उनका विश्वास है या नहीं ये मायने रखता है। 
यीशु के चेलों को पानी और आत्मा के सुसमाचार के माध्यम से किसी के भी पापों को क्षमा करने का अधिकार है। इसलिए, यदि वे सिखाते हैं कि क्या लिखा गया है, तो हमें उस पर विश्वास करना चाहिए। आपको विश्वास होना चाहिए कि आपके सभी पापों को मिटाने के लिए यीशु मसीह ने आपको पानी और आत्मा का सुसमाचार दिया। इसके बाद ही आप पाप से छूटकारा पा सकते हैं और पवित्र आत्मा का अंतर्निवास प्राप्त कर सकते हैं। यीशु ने हमें सभी लोगों को उनके पापों से बचाने के लिए पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करने की सामर्थ्य दी है।
 

संसार के हाकिम का सामर्थ 
 
भूतकाल में, जहां मैं रहा करता था, हमें बस को पकड़ने के लिए एक अनपेक्षित सड़क पर जाना पड़ता था। लोगों को एक स्थान पर बस से उतरना पड़ता था और एक पहाड़ी पर चढ़ना पड़ता था। एक बार, कोरिया के राष्ट्रपति उस सड़क पर एक थर्मल पावर प्लांट के उद्घाटन समारोह में आए। खबर सुनते ही लोगों ने सड़क पर झाडू लगाकर और उसके किनारे पेड़ लगाकर राष्ट्रपति का स्वागत किया। दिन आने पर, मोटरसाइकिलों ने मार्ग का मार्गदर्शन किया और उनके पीछे राष्ट्रपति की कार आई। हाथों में राष्ट्रीय ध्वज लेकर उनका स्वागत करने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। यह कहा गया कि राष्ट्रपति ने टिप्पणी की, "यह सड़क बहुत ऊबड़ है, इसे पक्का करने की आवश्यकता है।" कुछ दिनों बाद, सड़क को डामर के साथ पक्का कर दिया गया।
यहाँ क्या हुआ? राष्ट्रपति की एक टिप्पणी सड़क की स्थिति में इस भारी बदलाव का कारण बन गया। एक राष्ट्रपति के आदेश में इतनी बड़ी शक्ति होती है। हालाँकि, हम अच्छी तरह जानते हैं कि मसीह द्वारा हमें दिया गया पानी और आत्मा का सुसमाचार कहीं अधिक शक्तिशाली है। हमें विश्वास करना चाहिए कि यह सुसमाचार हमें जीवन भर हमारे सभी पापों से मुक्त करने की सामर्थ्य रखता है।
 

पापों की माफ़ी का सच्चा अधिकार
 
“जिनके पाप तुम क्षमा करो, वे उनके लिये क्षमा किए गए हैं; जिनके तुम रखो, वे रखे गए हैं”। यीशु के चेलों ने सुसमाचार का प्रचार किया कि उनके सभी पाप क्षमा कर दिए गए हैं। उन्होंने लोगों से कहा, “यीशु ने अपने बपतिस्मा और लहू से दुनिया के सारे पापों को मिटा दिया। चिंता करने की कोई बात नहीं है। हालाँकि आप भविष्य में पाप करने के लिए तैयार हैं, लेकिन यूहन्ना द्वारा बपतिस्मा लेने के बाद यीशु ने आपके सभी दैनिक पापों को पहले ही दूर कर दिया और आपके लिए क्रूस पर लहू बहाया। यीशु ने आपको बचाया! आपको इस पर विश्वास करना चाहिए!”
यीशु के चेलों के माध्यम से पानी और आत्मा के सुसमाचार को सुनने और विश्वास करने से पापियों को छुटकारा दिया गया था। यीशु ने अपने चेलों को पानी और आत्मा के सुसमाचार के माध्यम से पाप को क्षमा करने का अधिकार दिया। क्योंकि यीशु के चेलों ने दुनिया के सभी लोगों को पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार किया था, विश्वासियों को पाप की माफ़ी प्राप्त हो सकती है। यीशु ने पाप को क्षमा करने के अधिकार के साथ उन्हें यह उपहार दिया।
बहुत से लोग मेरे द्वारा पहले प्रकाशित की गई पुस्तकों को पढ़ चुके हैं, और उन्हें पढ़ने के बाद वे अपने पापों से बच गए है। कुछ लोगों ने यह महसूस किया कि यीशु के क्रूस पर मृत्यु का कारण दुनिया के सभी पापों को दूर करने के लिए उनके बपतिस्मा का परिणाम था, “परन्तु वह हमारे ही अपराधों के कारण घायल किया गया, वह हमारे अधर्म के कामों के कारण कुचला गया; हमारी ही शान्ति के लिये उस पर ताड़ना पड़ी, कि उसके कोड़े खाने से हम लोग चंगे हो जाएँ” (यशायाह ५३:५)।
उसके पुनरुत्थान के बाद, यीशु ने अपने चेलों से कहा, “यह कहकर उसने उन पर फूँका और उनसे कहा, “पवित्र आत्मा लो। जिनके पाप तुम क्षमा करो, वे उनके लिये क्षमा किए गए हैं; जिनके तुम रखो, वे रखे गए हैं” (यूहन्ना २०:२२-२३)। यीशु ने उन्हें लोगों के पाप माफ़ करने का अधिकार दिया।
इस सत्य को मानने से पहले हम भ्रम, शून्यता और पाप से बंधे थे। हालाँकि, अब हमें यीशु के बपतिस्मा और लहू पर विश्वास है, और हम पाप से मुक्त हैं, हम दूसरों को इस सुसमाचार का प्रचार करने वाले हैं। इसके अलावा, हमारे प्रभु ने अपने चेलों को शांति दी। हमारे प्रभु ने हमें भी शांति दी और पवित्र आत्मा की आशीष भी दिया। परमेश्वर से शांति और पवित्र आत्मा प्राप्त करने के लिए, हमें यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर विश्वास करके पापों की माफ़ी प्राप्त करनी चाहिए।
जो हमें पाप से मुक्त करता है वह पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास है। यह आत्मिक विश्वास है जो हमें स्वर्गीय आशीष देता है। लेकिन मनुष्य के अपने विचारों के आधार पर मनमाना विश्वास उसे विनाश की ओर ले जाता है। हमें पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करके छूटकारा प्राप्त करना चाहिए और इस प्रकार पवित्र आत्मा प्राप्त करना चाहिए। इस तरह के विश्वास के लिए, हमें अपने सांसारिक विचारों को त्यागना चाहिए और अपने विश्वास को पानी और आत्मा के सुसमाचार में बदलना चाहिए।
पवित्र आत्मा को प्राप्त करने के लिए आवश्यक विश्वास पाने के लिए, व्यक्ति को उस सुसमाचार को स्वीकार करना चाहिए की यीशु ने हमारे लिए बपतिस्मा लिया और क्रूस पर चढ़ा था। प्रभु ने हमें शांति और पवित्र आत्मा के अंतर्निवास दिया है क्योंकि हम पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं। उन्होंने अपने चेलों को पवित्र आत्मा के अंतर्निवास और अधिकार दिया कि जो कोई भी पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करता है उसके पापों को माफ कर सके।
हमने इस सुसमाचार पर विश्वास करके पवित्र आत्मा को भी प्राप्त किया। पानी और आत्मा के सुसमाचार ने कई अन्य लोगों को भी ऐसा करने में मदद की है। जब हम अपने पड़ोसियों और दुनिया को सुसमाचार सुनाते हैं, तो जो लोग इसे दिल से लेते हैं उन्हें पवित्र आत्मा दिया जाता है। यदि हम जो सुसमाचार प्रचार करते हैं, वह लोगों को पवित्र आत्मा को प्राप्त करने में सक्षम नहीं कर सकते है, तो यह सच्चा सुसमाचार नहीं है। दूसरी ओर, यदि हम जो सुसमाचार प्रचार करते हैं, वह उन्हें पवित्र आत्मा प्राप्त करने के लिए प्रेरित कर सकता है, तो वह सुसमाचार वास्तविक है।
इस तरह के सुसमाचार के लिए हमें कितना धन्य और आभारी होना चाहिए। सुसमाचार जो आपके और मेरे द्वारा प्रचारित किया गया है, वह परिपूर्ण और उन्नत है। लेकिन दुर्भाग्यवश, ऐसे व्यक्ति को खोजना कठिन है जो आज इस सुसमाचार को वास्तव में जानता और मानता है। इसलिए, हमें पूरी दुनिया में सुसमाचार का प्रचार करना चाहिए। हमें पवित्र आत्मा प्राप्त करने में लोगों की मदद करनी चाहिए।
 

वे लोग जो शैतान के द्वारा पानी और आत्मा के सुसमाचार का नकार करने के लिए भरमाए गए है
 
हम उन लोगों की भी मदद कर रहे हैं जो पहले से यीशु पर विश्वास करते हैं। उनमें से कई अभी भी पवित्र आत्मा प्राप्त नहीं कर पाए हैं, भले ही वे यीशु में विश्वास करते हैं। इसलिए हम सुसमाचार का प्रचार करके उनकी मदद करते हैं और इस तरह उन्हें पवित्र आत्मा प्राप्त करने में मदद करते हैं।
यदि किसी व्यक्ति ने यीशु पर विश्वास करने के बावजूद पवित्र आत्मा को प्राप्त नहीं किया है, तो उसके विश्वास में कुछ समस्याएं हो सकती हैं। यीशु में अपने विश्वास के माध्यम से पवित्र आत्मा को प्राप्त करने वाले लोगों को ही सच्चा विश्वास रखने वाले लोगों के रूप में माना जा सकता है। इसलिए, हम सभी को विश्वास रखना चाहिए जो हमें पवित्र आत्मा प्राप्त करने के लिए प्रेरित करता है। हमें पानी और आत्मा के सुसमाचार को जानना चाहिए, क्योंकि इस सुसमाचार का सत्य केवल वही है जो हमें पवित्र आत्मा को प्राप्त करने में सक्षम बनाता है।
हम पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करते हैं ताकि दूसरों को पवित्र आत्मा प्राप्त हो सके। हालाँकि, जो लोग सुसमाचार प्रचार करते हैं, वे कई कठिनाइयों का सामना करने के लिए बाध्य होते हैं। कुछ मसीही सोचते हैं कि वे समय की विस्तारित अवधि में प्रयास करके पवित्र आत्मा प्राप्त कर सकते हैं। उनके पास कई भ्रमित अनुभव हैं जो पवित्र आत्मा को प्राप्त करने के लिए अप्रासंगिक हैं। इस प्रकार बहुत समय और बलिदान की आवश्यकता होती है ताकि उन्हें पानी और आत्मा के सुसमाचार के साथ प्रबुद्ध किया जा सके।
यदि किसी को लगता है की इस सुसमाचार में विश्वास करने से पवित्र आत्मा प्राप्त कर सकते है तो पानी और आत्मा के सुसमाचार में कौन विश्वास नहीं करेगा? सच्चे सुसमाचार के आने से पहले शैतान ने एक अलग सुसमाचार के साथ लोगों को धोखा दिया। ऐसे लोग आश्चर्य करते हैं कि विश्वास करने के लिए और क्या है जब वे पहले से ही यीशु के सुसमाचार में विश्वास करने के लिए खुद को मानते हैं। इसलिए, वे पानी और आत्मा के सुसमाचार को नकारने और इनकार करते हैं।
इस दिन और युग में बहुत से लोग पानी और आत्मा के सच्चे सुसमाचार को पूरी तरह से स्वीकार नहीं करते हैं, क्योंकि शैतान ने उन्हें पहले ही अंधा कर दिया है। परिणामस्वरूप, वे सोचते हैं कि यीशु पर विश्वास करना एक सरल कार्य है। हालाँकि, सुसमाचार की सच्चाई को पूरी तरह से समझना आसान नहीं है। पानी और आत्मा का सच्चा सुसमाचार एक झूठे सुसमाचार द्वारा ढँक दिया गया है। 
लोग सोचते हैं कि यदि वे कलीसिया में जाए और कबूल करे की वे यीशु पर विश्वास करते है तो वे स्वर्ग में जाएंगे। बहुतों का मानना है कि पवित्र आत्मा के अंतर्निवास को उनके स्वयं के प्रयासों, जैसे कि प्रार्थना और उपवास के माध्यम से प्रदान किया जाता है। हालाँकि, ऐसी मान्यताएँ पवित्र आत्मा को प्राप्त करने की सच्चाई से बहुत दूर हैं। वे सोचते हैं कि अन्य भाषा में बोलना और चमत्कार पवित्र आत्मा को प्राप्त करने के संकेत हैं। 
इस प्रकार, वे स्पष्ट रूप से समझते हैं कि पवित्र आत्मा को प्राप्त करने के लिए, पानी और आत्मा के सच्चे सुसमाचार पर विश्वास करना आवश्यक है। हालाँकि, बाइबल कहती है कि व्यक्ति परमेश्वर के वचन पर विश्वास करके ही पवित्र आत्मा को प्राप्त कर सकता है। परमेश्वर ने अपने वचनों में पवित्र आत्मा को प्राप्त करने के रहस्य को छुपाया।
 
 
वे जो पवित्र आत्मा का अंतर्निवास पाना चाहते है
 
मैं एक बार अपने कुछ कार्यकर्ताओं के साथ ताइवान गया था। वहां के लोगों ने हमसे पवित्र आत्मा पर किताबें मांगी। जापान और रूस में भी यही हुआ। इतने सारे लोग चाहते हैं कि पवित्र आत्मा के अंतर्निवास पर किताबें हों, आज के लोग इतनी उत्सुकता से पवित्र आत्मा का अंतर्निवास प्राप्त करना चाहते हैं। बहुत से लोग यीशु पर विश्वास करते हैं और कई बार अनिश्चित होते हैं कि क्या उन्होंने वास्तव में पवित्र आत्मा प्राप्त किया है, क्योंकि उनके पास पवित्र आत्मा का अंतर्निवास नहीं है। 
ऐसे बहुत से लोग हैं जो यीशु पर विश्वास करते हैं और दावा करते हैं कि उन्हें पवित्र आत्मा प्राप्त हुआ है। हालाँकि, जो लोग पवित्र आत्मा को स्थायी रूप से और अनंत काल के लिए प्राप्त कर चुके हैं वे दुर्लभ हैं। बहुत से लोग यीशु में विश्वास के बावजूद ऐसा करने में असमर्थ हैं, और यही कारण है कि वे अब ऐसा करने के लिए तरस रहे हैं।
दुनिया के मसीहियों में, ऐसे कई लोग हैं जो सोचते हैं कि उन्होंने पवित्र आत्मा का अनुभव किया है। कुछ लोग कहते हैं कि उन्होंने अपने सपनों में यीशु का सामना किया है, और कुछ का दावा है कि उनके भीतर पवित्र आत्मा है क्योंकि उन्होंने दुष्ट आत्माओं को निकालने का अनुभव किया है। ऐसे, कई लोग होते हैं, जिनका विश्वास व्यक्तिगत अनुभव पर आधारित होता है। हालांकि, केवल पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास के द्वारा ही पवित्र आत्मा का अंतर्निवास प्राप्त होता है।
मैंने एक बार सोचा की यह अजीब बात है की पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास के द्वारा पवित्र आत्मा के अंतर्निवास को पाने के लिए कोई किताब नहीं है। बहुत से लोग पवित्र आत्मा के साथ अपने अनुभवों के बारे में बात करते हैं, लेकिन पवित्र आत्मा के अंतर्निवास पर किताबें क्यों नहीं हैं? पूरी दुनिया में दूर-दूर तक देखने पर भी ऐसी किताबें मिलना मुश्किल है।
जो लोग गलत तरीके से जोर देते हैं कि उन्होंने पवित्र आत्मा को प्राप्त किया है, उनका दावा है कि वे यीशु से व्यक्तिगत रूप से मिले हैं और स्वर्ग और नरक के राज्यों का दौरा किया है। वे जोर देकर कहते हैं कि यीशु ने कहा, “तुम समय से पहले आ गए। आपके पास अपनी दुनिया को पूरा करने के लिए बहुत कुछ बचा है, इसलिए आप जहां हैं, वहां वापस जाएं। "ऐसा अनुभव असंभव नहीं है। हालाँकि, क्या उन्हेंने जिसका सामना किया वह वास्तविक यीशु हो सकता है? क्या उनके दिलों में पाप होने के बावजूद यीशु ने उनसे मुलाकात की होगी? क्या यीशु पापी के भीतर रहता है?
यह सच है कि अधिकांश मसीही ने आज भी पवित्र आत्मा के अंतर्निवास को नहीं पाया हैं, भले ही उन्होंने यीशु पर विश्वास को बनाए रखा हैं। इसलिए हम, जिनके पास पवित्र आत्मा है, उन्हें सुसमाचार का प्रचार करना चाहिए जो दूसरों को यह उपहार प्राप्त करने के लिए प्रेरित करेगा। सभी को पवित्र आत्मा प्राप्त करने की आवश्यकता है, और ऐसा करने के लिए, पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास आवश्यक है। केवल सुसमाचार में विश्वास करने से ही कोई पवित्र आत्मा को प्राप्त कर सकता है। सच्चाई के सुसमाचार के माध्यम से जो हम सभी जानते हैं, हम परमेश्वर से पवित्र आत्मा का उपहार प्राप्त कर सकते हैं।
हम सभी को पानी और आत्मा का सुसमाचार देने के लिए परमेश्वर का धन्यवाद और स्तुति करनी चाहिए। मैंने पवित्र आत्मा के आनंद का अनुभव किया है जबकि वह मुझ पर इस पुस्तक को लिखने के लिए प्रबल है। जब यह पुस्तक प्रकाशित होती है, तो बहुत से लोग पवित्र आत्मा के अंतर्निवास को पानी और आत्मा के सुसमाचार में अपने विश्वास के माध्यम से प्राप्त करेंगे।“उन से कहा; क्या तुम ने विश्वास करते समय पवित्र आत्मा पाया? उन्होंने उस से कहा, हम ने तो पवित्र आत्मा की चर्चा भी नहीं सुनी” (प्रेरितों १९:२) पौलुस ने इफिसुस में बननेवाले चेलों से कहा।
हम सभी को पवित्र आत्मा प्राप्त करना चाहिए। विश्व इतिहास में इस अशांत समय में पवित्र आत्मा प्राप्त करने के लिए दुनिया भर में मसीही विशेष रूप से रुचि रखते हैं। मैं पवित्र आत्मा को प्राप्त करने के लिए बाइबिल के तरीके का प्रचार कर रहा हूं, जैसे पवित्र आत्मा मुझे करने के लिए मार्गदर्शन करता है। एक संतोषजनक जीवन जीने के लिए, आपको पवित्र आत्मा के अंतर्निवास की सच्चाई पर विश्वास करना चाहिए। इसके लिए आपके दिल में गहराई से पवित्र आत्मा प्राप्त करने का आपका आखिरी मौका है। 
मैं उस सुसमाचार को फैलाने के लिए मजबूर महसूस करता हूं जो सभी को पवित्र आत्मा प्राप्त करने में मदद करता है क्योंकि यीशु मसीह ने मुझे पानी और आत्मा का सुसमाचार दिया और मुझे पवित्र आत्मा के उपहार के साथ अवगत कराया। 
 

विदेशियों को भी पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास होना चाहिए
 
बाइबल यह बताती है कि यीशु के चेलों ने दूसरों को पवित्र आत्मा की प्रेरणा कैसे दी। यहाँ तक कि अन्यजातियों को भी पवित्र आत्मा को प्राप्त करने के लिए चेलों के समान विश्वास रखना पड़ता था। इसके अलावा, विशेष रूप से अन्यजातियों को परमेश्वर की दुनिया में प्रवेश करने के लिए पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास रखने की आवश्यकता थी, जो कि चेलों के पास था। इसलिए हम, जो अन्यजातियों हैं, उन्हें भी पवित्र आत्मा पर विश्वास करने के लिए सच्चे सुसमाचार पर विश्वास करना चाहिए। परमेश्‍वर ने पतरस को कुरनेलियुस के पास भेजा, जो एक अन्यजाति था, ताकि वह पानी और आत्मा के सुसमाचार से प्रबुद्ध हो जाए, जो पवित्र आत्मा को प्राप्त करने के लिए आवश्यक है।
यहूदी विश्वासी यह सुनकर चकित थे कि पवित्र आत्मा का उपहार अन्यजातियों पर भी डाला गया था। जब पतरस पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करके यरूशलेम की कलीसिया में लौटा, तो खतना करने वालों ने उसकी आलोचना की।“कि तू ने खतनारिहत लोगों के यहां जाकर उन से साथ खाया” (प्रेरितों के काम ११:३)। लेकिन पतरसने शुरू से ही उन्हें सब कुछ समझाया। 
प्रेरितों ११:५-१७ में उसकी व्याख्या को दर्शाया गया है, “मैं याफा नगर में प्रार्थना कर रहा था, और बेसुध होकर एक दर्शन देखा कि एक पात्र, बड़ी चादर के समान चारों कोनों से लटकाया हुआ, आकाश से उतरकर मेरे पास आया। जब मैं ने उस पर ध्यान किया, तो उसमें पृथ्वी के चौपाए और वनपशु और रेंगनेवाले जन्तु और आकाश के पक्षी देखे; और यह शब्द भी सुना, ‘हे पतरस उठ, मार और खा।’ मैं ने कहा, ‘नहीं प्रभु, नहीं; क्योंकि कोई अपवित्र या अशुद्ध वस्तु मेरे मुँह में कभी नहीं गई।’ इसके उत्तर में आकाश से दूसरी बार शब्द हुआ, ‘जो कुछ परमेश्‍वर ने शुद्ध ठहराया है, उसे अशुद्ध मत कह।’ तीन बार ऐसा ही हुआ; तब सब कुछ फिर आकाश पर खींच लिया गया। और देखो, तुरन्त तीन मनुष्य जो कैसरिया से मेरे पास भेजे गए थे, उस घर पर जिसमें हम थे, आ खड़े हुए। तब आत्मा ने मुझ से उनके साथ नि:संकोच हो लेने को कहा, और ये छ: भाई भी मेरे साथ हो लिए; और हम उस मनुष्य के घर गए। उसने हमें बताया, कि उसने एक स्वर्गदूत को अपने घर में खड़ा देखा, जिसने उससे कहा, ‘याफा में मनुष्य भेजकर शमौन को जो पतरस कहलाता है, बुलवा ले। वह तुम से ऐसी बातें कहेगा, जिनके द्वारा तू और तेरा सारा घराना उद्धार पाएगा।’ जब मैं बातें करने लगा, तो पवित्र आत्मा उन पर उसी रीति से उतरा जिस रीति से आरम्भ में हम पर उतरा था। तब मुझे प्रभु का वह वचन स्मरण आया; जो उसने कहा था, ‘यूहन्ना ने तो पानी से बपतिस्मा दिया, परन्तु तुम पवित्र आत्मा से बपतिस्मा पाओगे।’ अत: जब परमेश्‍वर ने उन्हें भी वही दान दिया, जो हमें प्रभु यीशु मसीह पर विश्‍वास करने से मिला था; तो मैं कौन था जो परमेश्‍वर को रोक सकता?”  
पतरस ने कहा कि वह न केवल पुरुषों को खतना करने और उनके साथ भोजन करने के लिए गया था, उसने उन्हें सुसमाचार भी दिया पवित्र आत्मा के मार्गदर्शन के लिए धन्यवाद। जब उन्होंने ये बातें सुनीं तो वे चुप हो गए, और उन्होंने परमेश्वर की महिमा की, जिन्होंने उन सभी कार्नेलियस, उनके रिश्तेदारों और उनके करीबी दोस्तों को पश्चाताप और जीवन प्रदान किया।
 
 
पवित्र आत्मा पाने के लिए प्रेरितों का सुसमाचार 
 
प्रेरितों का कार्य क्या था?
पवित्र आत्मा पाने के लिए पानी और आत्मा के 
सुसमाचार का प्रचार करना।
 
क्या प्रेरितों ने वास्तव में पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार किया था? हमें पहले पुष्टि करनी चाहिए कि प्रेरित पतरस पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करता था या नहीं। बाइबिल में, पतरस ने कहा, “और उसी पानी का दृष्टान्त भी, अर्थात बपतिस्मा, यीशु मसीह के जी उठने के द्वारा, अब तुम्हें बचाता है” (१ पतरस ३:२१)। प्रेरित पतरस सचमुच मानता था कि यीशु ने सभी पापियों को उनके पापों से बचाया जब उनका बपतिस्मा हुआ और वे क्रूस पर मरे। उनका यह भी मानना था कि जब यीशु का बपतिस्मा हुआ (मत्ती ३:१५), तो सभी पाप उस पर डाले गए, कि वह क्रूस पर चढ़ा दिया गया और बाद में हम सबको बचाने के लिए पुनरुत्थित हुआ। 
इन दिनों ऐसे लोग हैं जो पतरस के समान विश्वास रखते हैं। जो लोग पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करते हैं वे वही हैं जो पतरस के समान ही सुसमाचार का प्रचार करते हैं। यह सत्य श्रोताओं को पवित्र आत्मा की प्रेरणा प्राप्त करने की अनुमति देता है। 
जिस तरह पतरस ने पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार किया, ठीक उसी तरह से कई लोगों ने पवित्र आत्मा को प्राप्त किया, हम भी देखते हैं कि लोग सुसमाचार पर विश्वास करते हैं और जब हम उसी सत्य का प्रचार करते हैं तो पवित्र आत्मा को प्राप्त करते हैं। कोई भी व्यक्ति केवल यीशु को परमेश्वर मानने से स्वर्ग में नहीं जाएगा, लेकिन पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करके जाएगा। 
पतरस ने एक बार अन्यजातियों को जमीन पर रेंगने वाले कीड़े से थोड़ा अधिक माना था। व्यवस्था के अनुसार, वे यीशु के बपतिस्मा लेने से पहले अशुद्ध जानवरों की तरह थे, क्रूस पर मर गए थे और पुनरुत्थित हो गए थे। हालाँकि, यहाँ तक कि अन्यजातियों को भी पवित्र आत्मा के पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करके धन्य माना जा सकता है। तो एक आवाज ने पतरस से कहा, “फिर दूसरी बार उसे शब्द सुनाईं दिया, कि जो कुछ परमेश्वर ने शुद्ध ठहराया है, उसे तू अशुद्ध मत कह” (प्रेरितों १०:१५)।
हम, अन्यजातियों के रूप में, कभी भी पवित्र आत्मा को प्राप्त करने में सक्षम नहीं थे, लेकिन हम पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करके पवित्र आत्मा का अंतर्निवास पा सकते हैं। जब हम अपने विचारों से भरे लोगों को धैर्य से प्रचार करते हैं, तो अक्सर हम उन्हें सुसमाचार पर विश्वास करते हुए देखते हैं और अंत में पवित्र आत्मा प्राप्त करते हैं। हम उन्हें यह स्वीकार करते हुए भी देख सकते हैं कि यीशु के बपतिस्मा और लहू में विश्वास करने के बाद उनके दिल में कोई पाप नहीं है। तभी पवित्र आत्मा उनके अन्दर बसता है।
इस सुसमाचार को प्रचार करने का हमारा उद्देश्य केवल दूसरों को इसे समझना नहीं है, बल्कि पवित्र आत्मा को प्राप्त करने के लिए उनका नेतृत्व करना है। यह तथ्य पर विश्वास करना महत्वपूर्ण है की हम जो सुसमाचार का प्रचार कर रहे है उनसे उनके पाप माफ़ कर दिए जाएंगे। और यह तथ्य है की वे एक ही समय में पवित्र आत्मा के अंतर्निवास को प्राप्त करते हैं। हम न केवल दुनिया के लोगों को सुसमाचार का प्रचार करते हैं, बल्कि इसे एक कदम आगे ले जाते हैं और उसी समय पवित्र आत्मा प्राप्त करने के लिए नेतृत्व करते हैं।
हमें इस संदर्भ में उन लोगों के लिए पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करना चाहिए, जिन्हें इसकी आवश्यकता है। यदि हम केवल सुसमाचार प्रचार करने के बाद ही समाप्त हो जाते, तो हमारी महेनत का पूरा मतलब खो जाता। हमें ज्ञात होना चाहिए कि यह सुसमाचार लोगों को पवित्र आत्मा के लिए प्रेरित करता है। जब हम इसे ध्यान में रखते हुए सुसमाचार का प्रचार करते हैं, तो पवित्र आत्मा की ज्वाला पूरी दुनिया में जंगल की आग की तरह फैल जाएगी।
जब एक सुसमाचार प्रचारक का मानना है कि यह सुसमाचार दुनिया के लोगों को पवित्र आत्मा प्राप्त करने के लिए मार्गदर्शन कर सकता है, तो वह यह महसूस करने के लिए उत्सुक है कि उसकी सेवकाई केवल लोगों को यीशु मसीह पर विश्वास करने के लिए राजी करने के बारे में नहीं है, लेकिन उन्हें पवित्र आत्मा पाने के लिए प्रेरित करने में मदद करने के बारे में है। इसलिए, इस समय पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करना हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है। 
व्यक्ति को केवल अपने कानों से सुनना चाहिए और सुसमाचार में अपने दिल के साथ विश्वास करना चाहिए कि हम पवित्र आत्मा को प्राप्त करने के लिए प्रचार करते हैं। स्पष्ट रूप से, हम जो सुसमाचार प्रचार कर रहे हैं, उसका लोगों के जीवन पर बहुत प्रभाव है। सुसमाचार की सामर्थ्य परमेश्वर द्वारा दिया गया अधिकार और आशीष है।
पतरस यहूदियों का एक प्रचारक था, जबकि पौलुस अन्यजातियों का था। जब पतरस एक घर की छत पर प्रार्थना कर रहा था, उसने देखा कि स्वर्ग खुला है और एक वस्तु जैसे कि चार कोनों पर बंधी एक बड़ी चादर उसके ऊपर उतरी है। इसमें सभी प्रकार के अशुद्ध जानवर थे जिन्हें बाइबल ने कहा था कि उन्हें खाने से मना किया गया है।
पतरस ने कभी भी अपवित्र या अशुद्ध कुछ भी नहीं खाया था। हालाँकि, परमेश्वर ने उसे मारने और खाने का आदेश दिया। पतरस ने इनकार कहा, और कहा, “नहीं प्रभु, कदापि नहीं; क्योंकि मैंने कभी कोई अपवित्र या अशुध्द वास्तु नहीं खाई है!" और एक आवाज ने उससे बात की "जो कुछ परमेश्वर ने शुध्ध ठहराया है उसे तू अशुध्द मत कह।" इससे क्या पता चलता है? परमेश्वर कह रहा है कि यीशु ने जब बपतिस्मा लिया था और क्रूस पर मरा था तब जगत के सारे पापों को, यहाँ तक कि अन्यजातियों के पापों को भी धो दिया था।
परमेश्वर द्वारा अशुद्ध पशुओं को मारने और खाने के लिए परमेश्वर के आदेश का आत्मिक अर्थ यह था कि पतरस यह भी सिखाए कि अन्यजाति भी इस विश्वास के साथ परमेश्वर की संतान बन सकते हैं कि यीशु को इस संसार में भेजा गया, हमारे सभी पापों को दूर करने के लिए बपतिस्मा दिया गया और उसका न्याय करने के लिए क्रूस पर चढ़ाया गया।
विश्वास की आत्मिक आँखों से देखने के बजाए, पतरस अभी भी व्यवस्था के नियमों का पालन कर रहा था। लेकिन पतरस ने पश्चाताप किया और माना कि परमेश्वर ने अन्यजातियों के पापों को पहले ही धो दिया था। पतरस को खुबसूरत सुसमाचार के धन का अधिक गहराई से एहसास हुआ। जब उसने परमेश्वर के वचनों का प्रचार किया तो उसने अपने श्रोताओं पर पवित्र आत्मा का प्रभाव देखा।
हम कैसे समझ सकते हैं कि आज के प्रचारक पवित्र आत्मा को प्राप्त कर चुके हैं या नहीं? यह इस बात पर निर्भर करता है कि वे पानी और आत्मा के सुसमाचार को स्वीकार करते हैं या नहीं। जब एक सुसमाचार प्रचारक परमेश्वर के वचनों का प्रचार करता है तब कोई व्यक्ति जो खुबसूरत सुसमाचार में विश्वास करता है, वह पवित्र आत्मा का अंतर्निवास प्राप्त करता है। सुसमाचार प्रचार करनेवाले के दिल में बसने वाली पवित्र आत्मा भी उसी में बसती है। प्रचारक और श्रोता बचपन के दोस्तों की तरह एक-दूसरे के साथ संगति करेंगे। वे देखेंगे कि परमेश्वर का प्रेम एक दूसरे में बसता है। सुसमाचार प्रचारक देखेगा की पानी और आत्मा के सुसमाचार को स्वीकार करके सुननेवाले परमेश्वर की संतान बन गए है।
जब हम सुसमाचार का प्रचार करते हैं, तब यदि वे पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करते है तो हम पवित्र आत्मा को विश्वासियों पर उतरते हुए देख सकते हैं। यह उद्धार से अलग अनुभव नहीं है। यही प्राथमिक कारण है कि हमें पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करना चाहिए। जो सुसमाचार हम प्रचार करते हैं, वह पवित्र आत्मा को प्राप्त करने के लिए दूसरों को प्रेरित करता है।
जिन लोगों के पास पवित्र आत्मा का अंतर्निवास है वे परमेश्वर की संतान हैं। पानी और आत्मा का सुसमाचार एक संप्रदाय का सैद्धांतिक सिद्धांत नहीं है, और इसलिए जब हम दूसरों को यह उपदेश देते हैं, तो वे विश्वास करते हैं, पवित्र आत्मा प्राप्त करते हैं और परमेश्वर की संतान बन जाते हैं। यह कितनी बड़ी आशीष है! क्या अद्भुत सुसमाचार है! और उसका काम कितना शानदार है! जो लोग पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करते हैं वे परमेश्वर के राज्य का निर्माण करने में मदद करते हैं। हम केवल सुसमाचार का प्रचार करते हैं, लेकिन वे पवित्र आत्मा को प्राप्त करते हैं।
कुछ लोग सोचते हैं कि यीशु में विश्वास करना एक बात है और पवित्र आत्मा प्राप्त करना अलग बात है। इसलिए, मसीही अभी भी पवित्र आत्मा के लिए प्रार्थना करते हैं। हालाँकि, बाइबल कहती है कि पवित्र आत्मा उन पर आता है जो सेवकों से प्रचार किए गए सुसमाचार को सुनते है और विश्वास करते है। दुनिया भर के लोग पवित्र आत्मा के लिए तरस रहे हैं। जिस सुसमाचार का हम प्रचार करते हैं, वह उन्हें उनकी इच्छा को पूरा करने के लिए प्रेरित करता है। इसलिए हमारी ज़िम्मेदारी है कि हम पूरी दुनिया में सुसमाचार फैलाएँ। हम पिता और उनके उत्तराधिकारियों के बच्चे हैं, जो उनके महान आदेश के वफादार हैं।
हमें विश्वास के साथ सुसमाचार का प्रचार करना चाहिए, यह ध्यान में रखते हुए कि हमारा मिशन लोगों को पवित्र आत्मा को प्राप्त करने की अनुमति देना है। पानी और आत्मा का सुसमाचार कुछ ऐसा है जिसे दूसरे लोगों को प्रचार करने से पहले सुसमाचार प्रचारक को वास्तव में विश्वास करना चाहिए। तब उनके श्रोताओं को सुसमाचार में उनके विश्वास के माध्यम से पवित्र आत्मा प्राप्त होगा। इस तरह, हम उन सभी लोगों के अन्दर अनन्त जीवन डाल सकते है जो सुसमाचार में विश्वास करते हैं। हमारा लक्ष्य उन्हें अंधेरे की सामर्थ्य से मुक्ति दिलाना और परमेश्वर के राज्य में पहुंचाना है। सुसमाचार प्रचारकों ने पापियों को अन्धकार की सामर्थ्य के तले मरने के नियोजक से परमेश्वर के पुत्र के राज्य में पहुचाया। पापियों को परमेश्वर की संतान में बदलना एक बहुत महत्वपूर्ण काम है।
बहुत से लोग पवित्र आत्मा को प्राप्त करने की कुंजी नहीं जानते हैं और अपने स्वयं के प्रयास से उसे प्राप्त करने का प्रयास करते हैं। हालांकि, यह व्यर्थ साबित होगा। केवल सुसमाचार में विश्वास की आवश्यकता है, क्योंकि विश्वास सभी पापों से मुक्त करता है।
आपको पवित्र आत्मा कैसे मिली? प्रार्थना के माध्यम से? या शायद हाथों को रखने के माध्यम से? नहीं, वह तरीका नहीं है। हम पवित्र आत्मा तभी प्राप्त करते हैं जब हम पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं। हमें प्रार्थना करनी चाहिए और सुसमाचार का प्रचार करना चाहिए ताकि दुनिया के सभी लोग पवित्र आत्मा को प्राप्त कर सकें।
"प्रेरित" शब्द का अर्थ है "वह जो परमेश्वर के द्वारा भेजा गया है।" प्रेरित क्या करते हैं? वे पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करते हैं ताकि लोग पवित्र आत्मा को प्राप्त कर सकें। क्या आप भी हमारे साथ यह कार्य को नहीं करना चाहेंगे? हम सभी के पास पवित्र आत्मा का अंतर्निवास होना चाहिए और सभी लोगों को इसका प्रचार करना चाहिए। हाल्लेलूयाह! परमेश्‍वर के उस परम सत्य की प्रशंसा करें जो प्रभु ने हमें पवित्र आत्मा को प्राप्त करने के लिए दिया था!