उपदेश

विषय ११ : मिलापवाला तम्बू

[11-27] (निर्गमन २५:१०-२२) प्रायश्चित का ढकना

(निर्गमन २५:१०-२२)
“बबूल की लकड़ी का एक सन्दूक बनाया जाए; उसकी लम्बाई ढाई हाथ, और चौड़ाई और ऊँचाई डेढ़ डेढ़ हाथ की हों। और उसको चोखे सोने से भीतर और बाहर मढ़वाना, और सन्दूक के ऊपर चारों ओर सोने की बाड़ बनवाना। और सोने के चार कड़े ढलवाकर उसके चारों पायों पर, एक ओर दो कड़े और दूसरी ओर भी दो कड़े लगवाना। फिर बबूल की लकड़ी के डण्डे बनवाना, और उन्हें भी सोने से मढ़वाना। और डण्डों को सन्दूक के दोनों ओर के कड़ों में डालना, जिससे उनके बल सन्दूक उठाया जाए। वे डण्डे सन्दूक के कड़ों में लगे रहें; और उससे अलग न किए जाएँ। और जो साक्षीपत्र मैं तुझे दूँगा उसे उसी सन्दूक में रखना। “फिर चोखे सोने का एक प्रायश्‍चित्त का ढकना बनवाना; उसकी लम्बाई ढाई हाथ, और चौड़ाई डेढ़ हाथ की हो। और सोना ढालकर दो करूब बनवाकर प्रायश्‍चित्त के ढकने के दोनों सिरों पर लगवाना। एक करूब एक सिरे पर और दूसरा करूब दूसरे सिरे पर लगवाना; और करूबों को और प्रायश्‍चित्त के ढकने को एक ही टुकड़े से बनाकर उसके दोनों सिरों पर लगवाना। उन करूबों के पंख ऊपर से ऐसे फैले हुए बनें कि प्रायश्‍चित्त का ढकना उनसे ढँपा रहे, और उनके मुख आमने-सामने और प्रायश्‍चित्त के ढकने की ओर रहें। और प्रायश्‍चित्त के ढकने को सन्दूक के ऊपर लगवाना; और जो साक्षीपत्र मैं तुझे दूँगा उसे सन्दूक के भीतर रखना। मैं उसके ऊपर रहकर तुझ से मिला करूँगा; और इस्राएलियों के लिये जितनी आज्ञाएँ मुझ को तुझे देनी होंगी, उन सभों के विषय मैं प्रायश्‍चित्त के ढकने के ऊपर से और उन करूबों के बीच में से, जो साक्षीपत्र के सन्दूक पर होंगे, तुझ से वार्तालाप किया करूँगा।”
 

मिलापवाले तम्बू का अन्दर का भाग मुख्य दो भागों में बटा हुआ था: पवित्र स्थान और परमपवित्र स्थान। उन दोनों को अलग करने के लिए बिच में एक पर्दा लटकाया गया था, और साक्षी के संदूक को इस परदे के पीछे परमपवित्र स्थान में रखा गया था। संदूक के ढकने को प्रायश्चित का ढकना भी कहा जाता है।
 

प्रायश्चित का ढकना २.५ हाथ लंबा था
 
बाइबल के अन्दर, एक हाथ के नाप का मतलब है व्यक्ति के हाथ की ऊँगली से उसके कोहनी तक की लम्बाई। इसलिए, पुराने नियम के एक हाथ की लम्बाई को आज के नाप के मुताबिक़ ५०० मिलीमीटर माना जाता है। तो ढाई हाथ के साथ प्रायश्चित के ढकने की लम्बाई अज के १.0 मीटर जितनी थी; उसकी चौड़ाई और लम्बाई दोनों डेढ़ हाथ थी, जो तक़रीबन ७५० मिलीमीटर थी। इस प्रायश्चित के ढकने के निचे साक्षी का संदूक था, और संदूक को भी बबूल की लकड़ी से बनाया गया था और चोखे सोने से मढा गया था। प्रायश्चित के ढकने के दोनों ओर दो करुब अपनी पंखे फैलाकर खड़े थे, और उनके चहरे प्रायश्चित के ढकने की ओर एक दुसरे के सामने थे। प्रायश्चित का ढकना, जिस प्रकार इसका नाम है, यह वो जगह थी जहाँ परमेश्वर अपना अनुग्रह देता था। 
परमेश्वर ने हमसे कहा था की वह प्रायश्चित के ढकने के ऊपर हमसे मिला करेगा। साक्षी के संदूक के अन्दर, कलियाँ फूटी हुई हारून की छड़ी, मन्ना से भरा हुआ कटोरा, और दस आज्ञा लिखी पत्थर की दो तख्तियाँ थी। प्रायश्चित के ढकने के चारो कोनों पर चार कड़ियाँ लगाईं गई थी ताकि प्रायश्चित के ढकने को उठाया जा सके। संदूक को उठाने के लिए बबूल की लकड़ी से बने और सोने से मढ़े दो डंडो को कड़ियों में से डाला गया था।
साल में एक बार, महायाजक बलिदान के लहू को परमपवित्र स्थान में लेकर आता था और उसे प्रायश्चित के ढकने के ऊपर छिड़कता था। उसने ऐसा किया क्योंकि अपने हाथ रखने के द्वारा, इस्राएल के लोगों के सारे पाप बलिदान के अर्पण पारित हो गए थे। इसी लिए हमारे प्रभु ने कहा है, “मैं उसके ऊपर रहकर तुझ से मिला करूँगा; और इस्राएलियों के लिये जितनी आज्ञाएँ मुझ को तुझे देनी होंगी, उन सभों के विषय मैं प्रायश्‍चित्त के ढकने के ऊपर से और उन करूबों के बीच में से, जो साक्षीपत्र के सन्दूक पर होंगे, तुझ से वार्तालाप किया करूँगा” (निर्गमन २५:२२)। यह परमेश्वर का वायदा था की वह पूरी मनुष्यजाति को पाप की माफ़ी देगा। इसलिए, जब हम पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करने का दावा करते है, तब हमारे लिए यह आवश्यक है की हमारे पास पुराने नियम की बलिदान की पध्धति का विस्तार पूर्वक ज्ञान हो।
परमेश्वर ने आदेश दिया था की जब कभी भी याजक साक्षी के संदूक को हटाए, तब वे संदूक के बाजू में लगाए गए डंडो से उसे उठाए। यह क्या सूचित करता है? यह सूचित करता है की परमेश्वर चाहता है की हम हमारे शरीर और हृदय से उसके उद्धार के सत्य की सेवकाई और प्रचार करे। ये यह भी सूचित करता है की परमेश्वर चाहता है की हम अलग अलग नहीं लेकिन एकता में परमेश्वर की सेवा करे। इसी लिए परमेश्वर ने आदेश दिया था की ना केवल प्रायश्चित का ढकना, लेकिन भेंट की रोटी की मेज और धूप वेदी को भी इस डंडो से उठाया जाए जिन्हें दोनो तरह कड़ीयों में लगाए गए थे। इसका मतलब है की हमें हमारे शरीर और हृदय परमेश्वर के सुसमाचार के प्रसार के लिए समर्पित करना चाहिए। दुसरे शब्दों में, यहाँ परमेश्वर हमें उद्धार के सत्य का प्रसार करने के लिए हमारे शरीर और हृदय को समर्पित करने का आदेश देता है, हम सब लोगों को प्रचार करे की हमारे प्रभु ने पानी और आत्मा के सुसमाचार के द्वारा हमारे सारे पापों को मिटा दिया है और हमें सम्पूर्ण धर्मी बनाया है। इसी लिए परमेश्वर ने इस्राएलियों को आदेश दिया की वे शाक्षी के संदूक को इन डंडो के द्वारा उठाए। 
हमने पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करने के द्वारा हमारे हृदय में पापों की माफ़ी प्राप्त की है। साक्षी के संदूक के अन्दर सोने का कटोरा रखा गया था जिसमे मान्ना भरा हुआ था। आत्मिक तौर पर बात करे तो, इस मान्ना का मतलब है परमेश्वर का वचन। संदूक में कलियाँ फूटी हुई हारून की छड़ी भी राखी गई थी। यह हारून की छड़ी जिसमे कलियाँ फूटी हुई थी वह यीशु के पुनरुत्थान को सूचित कराती है, जो जीवन का प्रभु है। अन्त में, संदूक में परमेश्वर की दस आज्ञाए लिखी हुई दो पत्थर रखे गए थे। यह हमें दिखाता है की हमें अपने पूरे हृदय से परमेश्वर के वचन पर विश्वास करते हुए पूरे हृदय से उसकी सेवा करनी चाहिए। 
 

परमेश्वर ने कहा की वह हमसे प्रायश्चित के ढकने के ऊपर मिला करेगा
 
आत्मिक तौर पर बात करे तो, प्रायश्चित का ढकना पानी और आत्मा के सुसमाचार को दर्शाता है, जहाँ हमारा प्रभु हमसे मिला करता है। प्रायश्चित के ढकने पर करुबों के बीचमें हमें देखते हुए परमेश्वर हमसे पानी और आत्मा के सुसमाचार के बारे में बताते है। आत्मिक तौर पर यह प्रायश्चित का ढकना हमसे पापों की माफ़ी के बारे में बताता है। प्रभु ने यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले से बपतिस्मा लेने और अपना लहू बहाने के द्वारा हमें बचाया है। इसी लिए हम प्रायश्चित के ढकने को वो जगह कहते है जहाँ परमेश्वर हमें अपने उद्धार का अनुग्रह प्रदान करता है। दुसरे शब्दों में, प्रायश्चित का ढकना हमारे प्रायश्चित को सूचित करता है, हमें दिखाता है की हमारे प्रभु ने पानी और आत्मा के सुसमाचार के द्वारा एक ही बार में हमेशा के लिए हमारे पापों को मिटा दिया है। 
तो फिर इस्राएल के लोगों के बारे में क्या? परमेश्वर ने उनके पाप कैसे मिटाए? उसने ऐसा प्रायश्चित के ढकने के ऊपर छिड़के हुए लहू के द्वारा किया, क्योंकि वह लहू उस बलि पशु का बहाया गया था जिसने इस्राएल के लोगों के साल भर के पापों को अपने ऊपर ले लिया था। प्रायश्चित के दिन, महायाजक इस्राएल के लोगों के सारे पाप बलि पशु पर डालने के लिए उसके सिर पर अपने हाथ रखता था, और फिर उसका लहू बहाने के लिए वो उसका गला कटता था। फिर इस इस्राएल के सारे लोगों ने साल भर में किए हुए सारे पापों के प्रायश्चित के लिए उसे प्रायश्चित के ढकने के ऊपर छिड़का जाता था। पुराने नियम के युग में अभ्यस्त बलिदान की प्रथा परमेश्वर की धार्मिकता के बारे में बताती है नए नियम में जिसे पानी और आत्मा के सुसमाचार के द्वारा परिपूर्ण किया गया। स्वर्गीय महायाजक के रूप में, यीशु मसीह ने खुद की देह को सारे मनुष्यों के बलिदान के लिए देने के द्वारा हमें हमारे सारे पापों से बचाया है। 
तम्बू के द्वार का पर्दा भी नीले, बैंजनी, और लाल कपड़े और बटी हुई सनी के कपड़े से बना था, ठीक उसी तरह जैसे तम्बू के आँगन का द्वार बना था। यहाँ इस्तेमाल किए गए नीले कपड़े का आत्मिक मतलब है की यीशु ने यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले से बपतिस्मा लेकर आपके और मेरे सारे पापों को ले लिया। दुसरे शब्दों में, नीला कपड़ा उस वास्तविकता को दर्शाता है की यीशु ने यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले से बपतिस्मा लेकर जगत के सारे पापों को खुद पर ले लिया। क्योंकि यीशु मसीह ने अपने बपतिस्मा के दौरान इस जगत के सारे पापों को ले लिया था इसलिए वह मनुष्य जाति के सारे पापों के लिए दण्डित और दोषित हुआ। यही है तम्बू के द्वार में छिपे हुए रहस्य की सच्चाई। हमारे प्रभु ने अपने बपतिस्मा के द्वारा हमारे सारे पापों को उठाया और उनके सारे दण्ड को क्रूस पर सहा। इसलिए, परमेश्वर पिता चाहता है की प्रत्येक व्यक्ति अपने पूरे हृदय से इस सच्चाई पर विश्वास करे की उसके बेटे यीशु ने यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले से बपतिस्मा लेने के द्वारा जगत के सारे पापों को मिटाया है। परमेश्वर चाहता है की जो संत उनकी निज प्रजा बने है वे सब पानी और आत्मा के सुसमाचार की सेवकाई करे। इसलिए हमें हमारे परमेश्वर की यह इच्छा को समझना चाहिए और उसके अनुसार चलना चाहिए। अब हम धर्मी बने है इसलिए हमें यह समझना चाहिए की परमेश्वर हमसे क्या चाहता है। 
 

मिलापवाले तम्बू के द्वार के लिए इस्तेमाल हुआ बैंजनी कपड़ा सूचित करता है की यीशु राजाओं का राजा है
 
यीशु मसीह खुद परमेश्वर और अनन्त जीवन के प्रभु है (१ यूहन्ना ५:२०)। दुसरे शब्दों में, परमेश्वर हमें जगत के सारे पापों से बचाने के लिए खुद मनुष्य के रूप में पैदा हुआ। परमेश्वर ने यशायाह भविष्यवक्ता के द्वारा हमें यह वायदा किया था, और कहा था, “सुनो, एक कुमारी गर्भवती होगी और पुत्र जनेगी, और उसका नाम इम्मानुएल रखा जाएगा,’ ‘जिसका अर्थ है परमेश्वर हमारे साथ” (मत्ती १:२३, यशायाह ७:`१४)। हम पापियों को हमारे सारे पापों से बचाने के लिए, यीशु मसीह ने स्वर्ग की महिमा का त्याग किया और कुवाँरी मरियम के द्वारा इस पृथ्वी पर आए, ठीक वैसे जैसे प्रभु के इस पृथ्वी पर जन्म लेने के ७०० साल पहले परमेश्वर ने यशायाह भविष्यवक्ता को वायदा किया था। जिस तरह परमेश्वर मनुष्य बना और बपतिस्मा लेने के द्वारा प्रत्येक पापी के पापों को ले लिया, वैसे ही उसने हम सब को जो इस सत्य पर विश्वास करते है उन्हें अपनी धार्मिकता दी है।
 

मिलापवाले तम्बू के द्वार के लिए इस्तेमाल हुआ लाल कपड़ा नए जीवन को दर्शाता है जो यीशु अपने बलिदान के द्वारा हमारे पास लेकर आया
 
यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले से बपतिस्मा लेने के द्वारा सारी मनुष्यजाति के सारे पापों को उठाने के बाद यीशु हमारे लिए क्रूस पर चढ़ा। उसके हाथ और पैर दोनों में किले ठोकी गई, और जो दण्ड प्रभु ने सहा था वो वह दण्ड था जो प्रत्येक पापी यानी की आपको और मुझे सहना था। दुसरे शब्दों में, प्रभु खुद हमारी जगह क्रूस पर चढ़े थे और इस प्रकार हमारी जगह हमारे सारे पापों को सहा था। तम्बू के द्वार के नीले, बैंजनी, और लाल कपड़े के प्रतिबिम्ब की इन तिन सेवकाई के द्वारा हम उद्धार के कार्य को सही रीति से समझ सकते है। हम स्पष्ट रूप से देख सकते है की अपने उद्धार के कार्य के रूप में यीशु ने सारी मनुष्यजाति के पापों को एक ही बार में हमेशा के लिए ले लिया और उसने इन पापों के दण्ड को भी सहा। इसी लिए प्रभु हमें आदेश देते है की हम पूरी दुनिया के सारे लोगों को पानी और आत्मा के खुबसूरत सुसमाचार का प्रचार करे। वो हमें इस सुसमाचार की सेवकाई करने के लिए कह रहा है। 
तम्बू के अन्दर साक्षी के संदूक को प्रायश्चित के ढकने से ढाका गया था। तो फिर परमेश्वर साक्षी के संदूक पर ढके प्रायश्चित के ढकने के ऊपर किससे मिलनेवाला था? वह केवल उन लोगों से मिलता है जो विश्वास करते है की उनके सारे पाप परमेश्वर के मेमने यीशु पर डाले गए है और उसने उनके सारे पापों का दण्ड सहा है। आत्मिक तौर पर बात करे तो, परमेश्वर केवल पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करनेवाले विश्वासी से मिलता है। जब प्रायश्चित का दिन आया, तब महायाजक ने बलि के बकरे के सिर पर हाथ रखने के द्वारा इस्राएल के सारे लोगों के सारे पाप उसके ऊपर डाले और फिर इस्राएल के लोगों की ओर से महायाजक ने पापों का अंगीकार किया। इस प्रकार बलिदान के बकरे के सिर पर हाथ रखने के द्वारा इस्राएल के लोगों के सारे पाप उसके ऊपर डालने के बाद महायाजक फिर उसका लहू बहाता है, उसके लहू को परमपवित्र स्थान में लेकर जाता है, और फिर परमेश्वर के साक्षी के संदूक पर उसे सात बार छिड़कता है। 
इस तरह पुराने नियम के समय में परमेश्वर अपने इस्राएल के लोगों से मिला करता था। आज परमेश्वर पानी और आत्मा के सुसमाचार में लोगों से मिलता है, जो घोषित करता है की यीशु ने यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले से बपतिस्मा लेने के द्वारा हमारे सारे पापों को मिटा दिया है। इसलिए परमेश्वर पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वासियों से कहता है, “आपके अन्दर पाप नहीं है। मैंने आपके सारे पापों को मिटा दिया है। मैंने आप प्रत्येक व्यक्ति को आपके पापों से बचाया है।” अलग तरीके से देखे तो, प्रभु उन लोगों को परमेश्वर का अनुग्रह देते है जो परमेश्वर की धार्मिकता पर विश्वास करते है। परमेश्वर का अनुग्रह उसके उपहार को दर्शाता है। यह उस हकीकत को दर्शाता है की परमेश्वर पिता ने इस जगत के सारे पापों को अपने बेटे के ऊपर डालने के द्वारा अपनी धार्मिकता को परिपूर्ण किया है। इसका मतलब है की जब यीशु जगत के सारे पापों को लेकर क्रूस पर चढ़ा, तब उसने हमारी जगह हमारे सारे पापों का दण्ड सहा। यह प्रायश्चित के ढकने के ऊपर प्रगट होनेवाला परमेश्वर का प्रेम है। 
हमारा प्रभु, परमेश्वर का पुत्र, मनुष्य की देह में इस पृथ्वी पर आया, अपने बपतिस्मा के द्वारा जगत के सारे पापों का स्वीकार किया, हमारी जगह क्रूस पर मरा, तिन दिनों में मृत्यु से जीवित हुआ, और परमेश्वर पिता के सिंहासन की दाहिनी ओर बैठने के लिए स्वर्ग में गया। परमेश्वर की धार्मिकता यह है की उसने हमें जगत के सारे पापों से बचाया है, और जो लोग परमेश्वर की धार्मिकता पर विश्वास करते है उन्हें परमेश्वर का अनुग्रह दिया है। “तुम मेरी प्रजा हो। अब आप पापी नहीं हो। मैंने आप सब को बचाया है। तुम्हारे लिए मेरा प्रेम इतना महान है की मैंने खुद आपको बिना किसी शर्त के बचाया है। मैंने केवल आपको प्रेम ही नहीं किया, लेकिन मैंने आपके सारे पापों को उठाकार और मेरा जीवन देकर उस प्रेम को प्रगट किया है। यह मेरे प्रेम का प्रमाण है और मैंने यह आप सब को दिखाया है।” 
 

परमेश्वर ने अपने वचन के द्वारा हमें क्या दिखाया है?
 
जब आप परमेश्वर के वचन की ओर मुड़ते है, तब हम देख सकते है की यद्यपि परमेश्वर हमारे पापों के बारे में बात करते है, लेकिन उससे ज्यादा वह उस बारे में बात करते है की उसने हमें पानी और आत्मा के सुसमाचार के द्वारा कैसे बचाया है। हमें हमारे उद्धार का वायदा देने के बाद, परमेश्वर ने वास्तव में जिस प्रकार वायदा किया था वैसे ही हमारे पापों को एक ही बार में हमेशा के लिए मिटा दिए, और इस परिपूर्णता का परिणाम ओर कुछ नहीं लेकिन पानी और आत्मा का सुसमाचार हैव् पानी और आत्मा का यह सुसमाचार बाइबल में लिखे हमारे उद्धार का प्रमाण है। बाइबल में दर्ज पानी और आत्मा के सुसमाचार पर हमारे विश्वास के आधार पर हम हमारे सारे पापों से बच सकते है। इसलिए, जब कभी भी हम पवित्र प्रभु की उपस्थिति में आते है, तब हम तम्बू के द्वार में बुने नीले, बैंजनी, और लाल कपड़े और बटी हुई सनी के कपड़े में प्रगट हुए उद्धार पर विश्वास करते हुए पानी और आत्मा के सुसमाचार के द्वारा उससे मिल सकते है। 
पानी और आत्मा का सुसमाचार प्रभु की ओर से हमारे लिए उपहार है, और जब तक हम इस सच्चे सुसमाचार पर विश्वास करते है, तब तक हमारा प्रभु हमसे मिला करेगा। इसका मतलब यह है की प्रभु केवल उन लोगों से मिला करेगा जो लोग यह विश्वास करते है की वह उन्हें जगत के सारे पापों से बचाने के लिए इस पृथ्वी पर आया, उसने यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले से बपतिस्मा लेने के द्वार उनके सारे पापों को उठाया, वह उनकी जगह क्रूस पर दण्डित हुआ, और उन्हें अनन्त जीवन देने के लिए वह मृत्यु से जीवित हुआ। इसलिए परमेश्वर केवल उन लोगों को अपना अनुग्रह देता है जी उसकी धार्मिकता पर विश्वास करते है। परमेश्वर हमसे कहता है, “भले ही तुम एक साधारण प्राणी हो, मैंने आप सबको मेरे बेटे और बेटिया के रूप में गोद लिया है। अब तुम मेरी अपनी संतान हो। तुम अब शैतान की संतान नहीं हो, न ही तुम कोई साधारण प्राणी हो। तुम मेरी निज प्रजा हो। मैंने मेरे बेटे यीशु की धार्मिकता के द्वारा तुम्हारे सारे पापों को मिटा दिया है। इसलिए मैंने तुम्हें मेरे निज परिवार में गोइड लिया है, और मेरे ऊपर तुम्हारे विश्वास की वजह से अब तुम सब मेरी अपनी संतान बने हो।” इस तरह, परमेश्वर ने हम सब पर अपना अनुग्रह उँडेला है। 
 

प्रायश्चित के ढकने के कडयों में लगाए गए डंडे कभी भी निकाले नहीं जा सकते थे
 
यह हमारे लिए याद रखना बहुत ही जरुरी है की प्रायश्चित के ढकने की दोनों ओर उसे उठाने के लिए दो डंडे लगाए गए थे। और उन्हें संदूक से कभी भी निकाला नहीं जा सकता था। यह सूचित करता है की प्रत्येक विश्वासी को अपने पूरे शरीर और हृदय से पानी और आत्मा की सेवा करते समय अपने विश्वास को बनाए रखना चाहिए। हालाँकि, समस्या यह है की आज बहुत सारे मसीही अपने पूरे शरीर और हृदय से पानी और आत्मा की सेवा करने से न केवल नकारते है लेकिन इस सच्चे सुसमाचार पर विश्वास भी नहीं करते। यहाँ तक की अनगिनत मसीही यीशु पर विश्वास करने का दावा करते है और उनमे से बहुत सारे लोग नया जन्म पाने का दावा भी करते है, वे खुद को इतना बुध्धिमान समझते है की वे पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करने के लिए इच्छुक नहीं है। परमेश्वर इन सारे गलत विश्वास करनेवाले मसीहियों को पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करने की चेतावनी देता है। 
निर्गमन २५:१५ कहता है, “वे डंडे संदूक के कड़ो में लगे रहे; और उससे अलग न किए जाए।” यह भाग हमें सिखाता है की हमें पानी और आत्मा के सुसमाचार को जैसा है वैसा ही प्रचार करना चाहिए। दुसरे शब्दों में, हमें पानी और आत्मा के सुसमाचार में प्रगट हुए तम्बू के द्वार के नीले, बैंजनी, और लाल कपड़े को जिसने हमें जगत के सारे पापों से बचाया है उसका प्रचार प्रत्येक पापियों को करना चाहिए। परमेश्वर ने मूसा को ठीक उसी तरह तम्बू बनाने के लिए कहा था जैसे उसे दिखाया गया था, और यह सूचित करता है की हमें यीशु पर ठीक उसी तरह विश्वास करना चाहिए जैसे परमेश्वर के वचन में दिखाया गया है। हालाँकि, इसके बावजूद भी आजकल बहुत सारे मसीही यीशु पर अपने तरीके से विश्वास करने का दावा करते है, और अपने विश्वास से यीशु के बपतिस्मा को निकाल देते है। 
तम्बू का द्वार नीले, बैंजनी, और लाल कपड़े और बटी हुई सनी के कपड़े से बना हुआ था। यह द्वार प्रभु के द्वारा तैयार किए गए उद्धार के द्वार को दर्शाता है, और हम सब को केवल पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करने के द्वारा उसमे प्रवेश करना चाहिए। यहाँ बटी हुई सनी का कपड़ा परमेश्वर के वचन को दर्शाता है। परमेश्वर के वचन को उसके ४० सेवको को दिया गया था। परमेश्वर ने १,५०० से ज्यादा वर्षो तक अपने सेवको को भविष्यवाणी के वचन दिए, और उसने अपने समय में अपनी देह के द्वारा सारी भविष्यवाणी को परिपूर्ण किया। दुसरे शब्दों में, प्रभु ने पानी और आत्मा के सुसमाचार के द्वार एक ही बार में हमेशा के लिए हमारे उद्धार को परिपूर्ण किया। 
हालाँकि, यह दुःख की बात है की इस जगत में बहुत सारे मसीही है जो न तो परमेश्वर के वचन पर विश्वास करते है और न तो उसका सही प्रचार करते है। फिर आपके बारे में क्या? क्या अपने पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करने के द्वारा पाप की माफ़ी पाई है? यदि आपने वास्तव में पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करने के द्वारा पाप की माफ़ी पाई है, तो फिर आपको इस सुसमाचार का प्रचार ठीक उसी तरह करना है जिस तरह इसे परमेश्वर के वचन में लिखा है। 
 

उद्धार का अनुग्रह जो हमारे प्रभु ने हमें दिया है वह हमारे सारे अपराधों से बड़ा है 
 
बाइबल कहती है की जिस प्रकार एक व्यक्ति की गलती से बहुत सारे लोग पापी बने, उसी प्रकार एक व्यक्ति, यीशु मसीह हमारे प्रभु की धार्मिकता से बहुत सारे लोग धर्मी बने है। आदम के पाप कराने के कारण आप पापी बने। दुसरे शब्दों में, आप स्वयं पापी बने क्योंकि आदम के वंशज के रूप में पैदा हुए थे। क्योंकि आदम और हव्वा ने परमेश्वर के विरुध्ध पाप किया था, इसलिए हम सब स्वभाव से पापी बने है। 
हालाँकि, यीशु मसीह ने हमें जो परमेश्वर का अनुग्रह दिया है, वह हमारे सारे अपराधों से उत्तम है। यहाँ तक की हमने इस पृथ्वी पर अनगिनत पाप किए है और मरते दम तक निरंतर करते रहेंगे, फिर भी प्रभु ने परिपूर्ण किए हुए परमेश्वर की धार्मिकता के द्वारा हमारे इन सारे पापों को मिटा दिया है। स्वर्ग में सिंहासन की महिमा का त्याग करके, प्रभु मनुष्य देह में इस पृथ्वी पर आए; उसने यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले से बपतिस्मा लेने के द्वारा जगत के सारे पापों को लेर लिया; उसने हमारी जगह क्रूस पर अपना लहू बहाया; और उद्धार के इस कार्य के द्वारा, प्रभु ने हमारे सारे पापों को मिटा दिया जो हमने अब तक किए है और आगे करने वाले है। उसने उन सारे [आपोन को जड़ से उखाड़ दिया है, यहाँ तक की उन लोगों के पाप भी जो इस दुनिया में अभी पैदा भी नहीं हुए है और वह अनगिनत पाप जो अभी किए भी नहीं गए है। इस पृथ्वी पर आने के द्वारा, हमारे प्रभु ने तम्बू के द्वार के नीले, बैंजनी, और लाल कपड़े में प्रगट हुए अपने उद्धार से हमारे सारे पापों को सम्पूर्ण साफ़ कर दिया है। इसलिए, यह उद्धार जो यीशु मसीह पृथ्वी पर के हमारे सारे पापों को मिटने के द्वार हमारे पास लेकर आया है वह हमारे सारे पाप अपराधों से उत्तम है जो हमने किए है और करने वाले है। इसी लिए हम पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करने के द्वारा धर्मी बने है। हम पानी और आत्मा के सुसमाचार पर हमारे विश्वास के कारण सम्पूर्ण रीति से पापरहित बने है। 
 

परमेश्वर ने हमें वायदा किया था की वह प्रायश्चित के ढकने के ऊपर हमसे मिला करेगा
 
परमपवित्र स्थान में रखे साक्षी के संदूक के ऊपर दो दूत प्रायश्चित के ढकें की ओर अपनी पंख फैलाए खड़े है। हम वहाँ क्या देख सकते है? हम लहू को देख सकते है। यह किसका लहू है? पुराने नियम के युग में, यह प्रायश्चित के बलिदान का लहू था। नए नियम के युग में, यह यीशु मसीह का लहू है। दुसरे शब्दों में, प्रायश्चित के ढकने पर हम जो लहू को देखते है वह परमेश्वर पिता के पुत्र का लहू है। यह बलिदान का लहू है जो यीशु ने अपने बपतिस्मा के द्वारा सारे पापों को उठाने के दाब क्रूस पर बहाया था। और इस बलिदान के कारण, जो कोई भी परमेश्वर पिता के पुत्र के बपतिस्मा और उसके लहू पर विश्वास करता है वह पापों की माफ़ी को प्राप्त कर सकता है। परमेश्वर यह घोषित कर सकता है की जो लोग पानी और आत्मा के सुसमाचार को समझते है और उस पर विश्वास करते है उनमे पाप नहीं है। वह उन्हें अपनी प्रजा भी बना सकता है। यह प्रायश्चित के ढकने में प्रगट हुआ सत्य है।
जब कभी भी हम पानी और आत्मा के सुसमाचार को प्रचार करते है, तब हमें उसे ठीक उसी रीति से प्रचार करना है जैसे उसे बाइबल में लिखा है। हम में से कोई भी परमेश्वर के पानी और आत्मा के सुसमाचार को दूषित रीति से प्रचार और सेवा नहीं कर सकता। सारे लोग केवल तभी बच सकते है यदि वे हमारे द्वारा प्रचार किए गए पानी और आत्मा के सुसमाचार को सुनते ही और उस पर अपने पूरे हृदय से विश्वास करते है। हालाँकि, इसके बावजूद भी कुछ मसीही हमारा उपहास करते है, कहते है की जो कोई भी यीशु पर विश्वास करता है वह पापरहित है फिर चाहे वो किसी भी तरह से विश्वास करे। इसलिए, वे दावा करते है की पानी और आत्मा के सुसमाचार को जानने और विश्वास करने की कोई जरुरत नहीं है। 
लेकिन क्या सच में कोई व्यक्ति किसी भी तरह यीशु के नाम पर विश्वास करने से पापरहित बनता है? क्या वास्तव में आपके पाप केवल यह विश्वास करने के द्वारा दूर हुए है की यीशु को आपकी जगह क्रूस पर चढ़ाया गया और दण्डित किया गया? नहीं, बिलकुल नहीं! फिर भी आजकल बहुत सारे मसीही इसी तरह आँखे बंद करके यीशु पर विश्वास करते है, जैसे की वे यह सुनकर खुश है की वे पापरहित बने है हालाँकि यह गलत है। यह स्पष्ट है की क्यों बहुत सारे मसीही इस झूठे विश्वास में डूब रहे है; आख़िरकार, यदि आप जेल में है और सरकार आपको माफ़ी देती है तो आप भी बहुत खुश होंगे। निसन्देह, समस्या तह है की यह माफ़ी सच्ची नहीं है। 
बाइबल स्पष्ट रूप से कहती है, “तुम सत्य को जानोगे और सत्य तुम्हें स्वतंत्र करेगा” (यूहन्ना ८:३२)। मनुष्य के पाप का प्रायश्चित का तरिका क्या है? वे किस प्रकार अनन्त जीवन प्राप्त कर सकते है? वे केवल तम्बू के द्वार के नीले, बैंजनी, और लाल कपड़े में प्रगट हुए उद्धार के सत्य पर विश्वास करने के द्वारा ही पापों की माफ़ी और अनन्त जीवन प्राप्त कर सकते है, अर्थात्, पानी और आत्मा के सुसमाचार पर। जो लोग इस सच्चे सुसमाचार पर विश्वास करते है केवल वे ही परमेश्वर की संतान बन सकते है। 
पानी और आत्मा का सुसमाचार परमेश्वर का सुसमाचार है, और यह हम सब का कर्तव्य है की हम सब विश्वास से इस सुसमाचार का प्रचार और प्रसार करे। अब हम पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करने के द्वारा आत्मिक इस्राएली बने है। पानी और आत्मा के इस सुसमाचार को कम से कम दो लोगों तक सम्पूर्ण एकता से प्रचार करना चाहिए। जब कभी हम पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करे, तब हमें तम्बू के द्वार के नीले, बैंजनी, और लाल कपड़े में प्रगट हुए उद्धार के सत्य का प्रचार करना चाहिए। प्रभु ने परमेश्वर की धार्मिकता को ठीक उसी तरह परिपूर्ण किया है जिस प्रकार वायदा किया गया था। यह धार्मिकता वह सच्चाई है की यीशु ने इस पृथ्वी पर आने के द्वारा हमारे सारे पापों को मिटाया है और हम उसके विश्वासी को बचाया है, यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले से बपतिस्मा लिया, क्रूस पर मरा, मृत्यु से जीवित हुआ, और स्वर्ग में गया। हमें पानी और आत्मा के इस सुसमाचार को जैसा है वैसा ही प्रचार करना चाहिए, और जो लोग इस सुसमाचार को सुनते है उन्हें अपने उद्धार को प्राप्त करने के लिए इस पर जैसा है वैसा ही विश्वास करना चाहिए। हम सब के लिए पानी और आत्मा के सुसमाचार को प्रचार करना कितना महत्वपूर्ण है इस बात पर मैं ज्यादा बल नहीं दूंगा। जब हम इस सच्चे सुसमाचार को प्रचार करते है तब पवित्र आत्मा कार्य करता है और सुननेवालों को उद्धार देता है। 
पानी और आत्मा का सुसमाचार हमारा उद्धार है। यह हमारा प्रायश्चित है। पानी और आत्मा के सुसमाचार के द्वारा परमेश्वर ने एक ही बार में हमारे सारे पापों को मिटाया है। यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले से लिए हुए बपतिस्मा के द्वारा हमारे प्रत्येक पापों को यीशु पर डाला गया था, और इस प्रकार हम सब के पापों के लिए प्रायश्चित किया गयाव् उसके अतिरिक्त, हमारे प्रभु ने न केवल हमारे पापों को ले लिया, लेकिन वह हमारी जगह मृत्युदंड के लिए क्रूस पर चढ़ा, अपना लहू बहाया और उस श्राप को सहा जो हमें सहना था। इस तरह यीशु ने हम में से प्रत्येक व्यक्ति को हमारे पाप और शाप से बचाया है। यह वो उद्धार है जो परमेश्वर हमारे पास लेकर आया, और यह उसका प्रेम है। इसलिए आपको जिस तरह यह है उसी तरह इस सत्य पर विश्वास करना चाहिए और विश्वास से प्रचार करना चाहिए।
हमारा प्रभु उन सभी लोगों का उद्धारकर्ता है जो उसकी धार्मिकता पर विश्वास करते है। पानी और आत्मा के सुसमाचार पर हमारे विश्वास के कारण हम परमेश्वर की उपस्थिति में आ सकते है। जब हम प्रायश्चित के ढकने के सामने खड़े होते है और परमेश्वर को हमारे प्रभु का लहू अर्पण करते है, तब हमें विश्वास के साथ उसके सामने जाना चाहिए उअर उसे कहना चाहिए, “परमेश्वर, आपके बेटे यीशु मसीह के लहू ने मुझे मेरे सारे पापों से बचाया है।” केवल तभी परमेश्वर कहता है, “हाँ, मैंने वास्तव में युम्हे बचाया है। तुम्हारे लिए मेरा प्रेम इतना महान है की मैंने खुद तुम्हें बचाया है।” प्रभु हमारा उद्धारकर्ता है। उसने अपना उपहार उन सब को दिया है जो लोग परमेश्वर की धार्मिकता पर विश्वास करते है। और उसने हमें और उन सबको परमेश्वर की संतान बनने का अधिकार भी दिया है जो पानी और आत्मा के सुसमाचार को अपने हृदय में स्वीकार करते है। परमेश्वर ने हमें हमारे सरे शाप, सारे अपराध, और हमारे नाश से हमें बचाया है। उसने हमें सम्पूर्ण पापरहित बनाया है। उसने हमें अनन्त काल के लिए ख़ुशी दी है। और यही परमेश्वर का अनुग्रह है जो प्रायश्चित के ढकने में प्रगट हुआ है। 
यह प्रायश्चित का ढकना है जिसके ऊपर से परमेश्वर ने हमें अपने उद्धार का अनुग्रह दिया है। इसलिए हम सब को परमेश्वर की धार्मिकता पर विश्वास करते हुए अनुग्रह के सिंहासन के पास आना चाहिए। आप कितने पापी और दुष्ट है उससे कोई फर्क नहीं पड़ता, आप फिर भी तम्बू के द्वार के नीले, बैंजनी, और लाल कपड़े में प्रगट हुए उद्धार के सत्य पर विश्वास करने के द्वारा पाप की माफ़ी को प्राप्त कर सकते है – अर्थात्, यीशु के बपतिस्मा, उसके लहू, और उसके पुनरुत्थान में। आपको इस प्रकार विश्वास करने के द्वारा परमेश्वर की उपस्थिति में प्रवेश करना चाहिए, ठीक उद्धार की व्यवस्था के मुताबिक़ जो परमेश्वर ने पानी और आत्मा के सुसमाचार के साथ स्थापित की है। आपको परमेश्वर की धार्मिकता पर विश्वास करना चाहिए। आपको विश्वास करना चाहिए की प्रभु सारे पापियों को बचाने के लिए इस पृथ्वी पर आए, उसने यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले से बपतिस्मा लेने के द्वारा मनुष्यजाति के सारे पापों को ले लिया, और उसने आपकी जगह क्रूस पर मरने के द्वारा आपके सारे पापों के दण्ड को सहा। आपको विश्वास करना चाहिए की प्रभु ने यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले से बपतिस्मा लिया इस पर विश्वास करने के द्वारा आपके सारे पापों को एक ही बार में हमेशा के लिए ले लिया, और प्रभु को कहना चाहिए, “ प्रभु, अपने मुझे मेरे पापों से बचाने के लिए जो कुछ भी किया उस पर मैं विश्वास करता हूँ!” जब आप इस विश्वास के साथ परमेश्वर के पास आते है केवल तभी आप अपने उद्धार को प्राप्त कर सकते है। 
यदि आप प्रभु की धार्मिकता पर विश्वास करना चाहते है और पापों की माफ़ी को प्राप्त करना चाहते है, तो फिर आपको तम्बू के द्वार के नीले, बैंजनी, और लाल कपड़े और बटी हुई सनी के कपड़े में प्रगट हुए उद्धार के सत्य पर विश्वास करना चाहिए। इसी लिए पापों की माफ़ी को केवल तभी प्राप्त किया जा सकता है जब आप पानी और आत्मा के सुसमाचार को सही रीति से जानते और विश्वास करते हो। यदि आप प्रभु से मिलना चाहते है और उसकी आशीष प्राप्त करना चाहते है, यदि आप सच में खुश रहना चाहते है, और यदि आप परमेश्वर के पास वापस जाकर उसके साथ रहना चाहते है, तो फिर आपको विश्वास करना चाहिए की आपको जगत के सारे पापों से बचने के लिए, प्रभु ने यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले से बपतिस्मा लेने के द्वारा मनुष्यजाति के प्रत्येक पापों का स्वीकार किया, जगत के उन सारे पापों को अपने कंधे पर उठाने के बाद उसे मृत्युदंड के लिए क्रूस पर चढ़ाया गया, और इस प्रकार आपको आपके सारे पापों से छुडाया। यदि आपको उद्धार के इस सत्य पर विश्वास है और परमेश्वर के उद्धार का स्वीकार करते है, तो फिर आप निश्चित ही छूटकारा पाएंगे। जब कभी भी हम पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करते है तब हमारे लिए यह बात यद् रखना बहुत ही महत्वपूर्ण है। 
परमेश्वर हमसे कहता है की केवल पानी और आत्मा का सुसमाचार ही बाइबल में लिखा हुआ सच्चा सुसमाचार है। मिलापवाले तम्बू के अन्दर रखी भेंट की रोटी की मेज की ओर देखे। भेंट की रोटी की मेज परमेश्वर के वचन को दर्शाती है। इस प्रकार, जब आपके हृदय में परमेश्वर के वचन में लिखे पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास हो केवल तभी आप पापों की माफ़ी को प्राप्त कर सकते है। 
फिर भी, आजके कहलाए जानेवाले “मशहूर प्रचारक” उद्धार के बारे में क्या सिखाते है? वे दावा करते है की यदि कोई यीशु पर अपने उद्धारकर्ता के रूप में विश्वास करता है तो वह उद्धार पा सकता है। और वे कहते है की जो लोग यीशु के क्रूस के लहू पर विश्वास करते है वे बचाए गए है। हालाँकि, यदि अप इस तरह आँखे बंद करके यीशु पर विश्वास करते है, तो फिर आपने जीवनभर किए हुए कोई भी पाप वास्तव में दूर नहीं होते। आजके उयादातर मसीहियों के पाप अभी भी वैसे ही उनके हृदयों में बने हुए है। क्योंकि यह गलत विश्वास करनेवाले यूहन्ना बपतिस्मा से लिए हुए यीशु के बपतिस्मा को निकाल कर विश्वास करते है इसलिए उनके हृदय को सम्पूर्ण पापरहित बनना असंभव है। ऐसा इसलिए क्योंकि उन्होंने कभी भी अपने पापों को यीशु मसीह पर पारित नहीं किया। कोई फर्क नहीं पड़ता की वे कितना यीशु पर विश्वास करते है, वे कभी भी अपने हृदय के पापों को मिटा नहीं सकते। भले ही वे यीशु के क्रूस के लहू पर विश्वास करने का दावा करते है, फिर भी उनकी आत्मिक स्थिति पहले जैसे ही रहती है, क्योंकि वे तम्बू के द्वार के नीले कपड़े में प्रगट हुई उद्धार की सच्चाई को नहीं जानते। दुसरे शब्दों में, क्योंकि यह गलत विश्वास करनेवाले मसीही यूहन्ना बपतिस्मा से यीशु ने जो बपतिस्मा लिया था उसके मतलब को नहीं जानते, इसलिए उनके पाप अभी भी उनके हृदय में बने हुए है, और वे खुद निरंतर पापी के रूप में जीवन जीते है।
परमेश्वर ने पानी, लहू, और आत्मा के द्वारा स्पष्ट रूप से हमारे पापों को मिटाया है (१ यूहन्ना ५:६-८)। अपने सत्य के शुध्ध वचन के द्वारा परमेश्वर के वचन को परिपूर्ण करने के द्वारा, यीशु ने हमें अपरिहार्य और स्पष्ट रूप से बचाया है। अलग तरीके से देखे तो, यीशु ने हमें तम्बू के द्वार के नीले, बैंजनी, और लाल कपड़े में प्रगट हुए अपने पानी, अपने लहू, और अपनी आत्मा से बचाया है। पवित्र आत्मा हमारा परमेश्वर है। पवित्र आत्मा जो गवाही देता है वह यह है की यीशु सच्चा परमेश्वर मनुष्य बना, यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले से बपतिस्मा लिया, और हमारी जगह पापों का दण्ड सहने के लिए क्रूस पर अपना लहू बहाया। उसने हम सब को इस प्रकार बचाया है। फिर भी यीशु ने पानी और आत्मा के सुसमाचार के द्वारा हमें हमारे सारे पापों से बचाया है इस सच्चाई के बावजूद भी अनगिनत मसीही अभी भी पापी बने हुए है, कोई फर्क नहीं पड़ता की वे यीशु पर अपने उद्धारकर्ता के रूप में कितना विश्वास करते है, क्योंकि वे यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले से यीशु ने लिए हुए बपतिस्मा को निकालकर यीशु पर आँख बंद करके विश्वास करते हैं।
इसलिए हम सब के लिए यह बहुत ही महत्वपूर्ण है की हम न केवल पानी और आत्मा के सुसमाचार के मुताबिक़ यीशु मसीह पर विश्वास करे, लेकिन विश्वास से जिस प्रकार लिखा है उस प्रकार प्रत्येक व्यक्ति को प्रचार भी करे, ठीक उसी प्रकार जिस प्रकार प्रेरित पौलुस ने किया। पौलुस १ कुरिन्थियों १५:३-४ में कहता है, “इसी कारण मैं ने सबसे पहले तुम्हें वही बात पहुँचा दी, जो मुझे पहुँची थी कि पवित्रशास्त्र के वचन के अनुसार यीशु मसीह हमारे पापों के लिये मर गया, और गाड़ा गया, और पवित्रशास्त्र के अनुसार तीसरे दिन जी भी उठा।” जब पौलुस उल्लेख करता है की, “पवित्रशास्त्र के वचन के अनुसार यीशु मसीह हमारे पापों के लिए मर गया,” यहाँ “पवित्रशास्त्र” शब्द पुराने नियम को दर्शाता है क्योंकि उस समय नया नियम दिया नहीं गया था। फिर, पौलुस कहता है की ठीक पुराने नियम की बलिदान की रीति के अनुसार यीशु मसीह ने जगत के सारे पापों के प्रायश्चित किया। क्योंकि यीशु ने यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले से बपतिस्मा लिया था इसलिए उसने मरते दम तक क्रूस पर अपना लहू बहाया। 
क्योंकि प्रभु ने अपने बपतिस्मा के द्वारा हमारे सारे पापों को ले लिया था इसलिए उसे मृत्युदंड के लिए क्रूस पर चढ़ाया, और क्रूस पर उसकी मृत्यु हमारे सारे दण्ड सहने के लिए थी। इस प्रकार पृथ्वी पर आने के द्वारा यीशु मसीह हमारा उद्धारकर्ता बना। इसलिए परमेश्वर की पाप की माफ़ी उन लोगों को मिलती है जो पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करते है। यह अनन्त काल उद्धार उन लोगों को पहले से ही मिल गया है जो पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करते है। 
हाल्लेलूयाह!