उपदेश

विषय ९ : रोमियों (रोमियों की पत्री किताब पर टिप्पणी)

[अध्याय 1-1] रोमियों अध्याय १ का परिचय

“रोमियों को प्रेरित पौलुस की पत्री” को बाइबल के खजाने के रूप में संदर्भित किया जा सकता है। यह मुख्य तौर पर इस बारे में बात करता है की कैसे कोई व्यक्ति पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करने के द्वारा परमेश्वर की धार्मिकता को प्राप्त कर पाए। रोमियों की तुलना याकूब के पत्री से करते हुए, वह व्यक्ति जिसने पहले को ‘खजाने के वचन’ और बाद को ‘भूसे के वचन’ के रूप में परिभाषित किया। हालाँकि, याकूब की पत्री भी परमेश्वर का वचन है जैसे रोमियों की पत्री है। अन्तर केवल इतना है की रोमियों की पत्री बहुमूल्य है क्योंकि यह बाइबल के बारे में विस्तृत विवरण देता है, जबकि याकूब की पत्री इसलिए बहुमूल्य है क्योंकि यह धर्मी जन को परमेश्वर की इच्छा से जीवित रहने के बारे में बताता है।
 

पौलुस कौन है?

आइए हम पहले रोमियों १:१-७ पढ़े। “पौलुस की ओर से जो यीशु मसीह का दास है, और प्रेरित होने के लिये बुलाया गया, और परमेश्‍वर के उस सुसमाचार के लिये अलग किया गया है जिसकी उसने पहले ही से अपने भविष्यद्वक्‍ताओं के द्वारा पवित्रशास्त्र में, अपने पुत्र हमारे प्रभु यीशु मसीह के विषय में प्रतिज्ञा की थी; वह शरीर के भाव से तो दाऊद के वंश से उत्पन्न हुआ और पवित्रता की आत्मा के भाव से मरे हुओं में से जी उठने के कारण सामर्थ्य के साथ परमेश्‍वर का पुत्र ठहरा है। उसके द्वारा हमें अनुग्रह और प्रेरिताई मिली कि उसके नाम के कारण सब जातियों के लोग विश्‍वास करके उसकी मानें, जिनमें से तुम भी यीशु मसीह के होने के लिये बुलाए गए हो। उन सब के नाम जो रोम में परमेश्‍वर के प्यारे हैं और पवित्र होने के लिये बुलाए गए हैं : हमारे पिता परमेश्‍वर और प्रभु यीशु मसीह की ओर से तुम्हें अनुग्रह और शान्ति मिलती रहे।”
हो सकता है की यह भाग “रोम में जो मसीही है उनके लिए पौलुस के अभिवादन” के रूप में गिना जाता हो। पौलुस उन्हें यीशु मसीह के दास के रूप में अभिवादन करता है, जो परमेश्वर की धार्मिकता बनता है।
वचन १ ‘पौलुस कौन है?’ इस प्रश्न के बारे में बताता है। वह एक यहूदी था जो दमश्क के मार्ग में पुनरुत्थित प्रभु से मिला, और जो अन्य जातियों के बिच सुसमाचार प्रचार करने के लिए प्रभु के लिए चुना हुआ पात्र था (प्रेरित ९:१५)।
 

पौलुस ने बलिदान की पध्धति और पुराने नियम की भविष्यवाणी के आधारित सुसमाचार का प्रसार किया

वचन २ में, पौलुस पुराने नियम के वचन के आधार पर सुसमाचार का प्रसार करता है। उसने “परमेश्वर के सुसमाचार” को “उसने पवित्र शास्त्र में अपने भविष्यवक्ता के द्वारा वादा किया था” इस रूप में दर्शाता है। इस वचन के द्वारा, हम देख सकते है की पौलुस ने पुराने नियम की बलिदान की प्रथा के आधारित पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार किया था। उसके अलावा, वचन २ दर्शाता है की पौलुस सुसमाचार के कार्य हेतु चुना गया था। 
“पवित्र शास्त्र में अपने भविष्यवक्ता के द्वारा” यह वाक्य यीशु मसीह को भेजने के परमेश्वर के वायदे को संकेत करता है, जो पुराने नियम की बलिदान की प्रथा या भविष्यवाणी में प्रगट हुआ है। पुराने नियम के सारे भविष्यवक्ता, जिसमे मूसा, यशायाह, यहेजकेल, यार्मिया और दानिएल शामिल है, जिन्होंने यह गवाही दी की यीशु मसीह इस जगत में आएगा और जगत के पापों को उठाने के बाद क्रूस पर मरेगा।
वह कौन सा सुसमाचार है जो प्रेरित पौलुस ने सुनाया? उसने पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार किया जो परमेश्वर के पुत्र यीशु मसीह के बारे में बात करता है। 
कुछ लोग कहते है की पुराने नियम के वचन पहले ही समाप्त हो चुके है, और दुसरे लोग भी यही बात कहते है, और मत्ती ११:१३ को प्रमाण के रूप में संदर्भित करते है। कुछ जानेमाने सुसमाचार प्रचारक पुराने नियम के पूरे भाग को निकाल देते है।
हालाँकि, परमेश्वर ने पुराने नियम के द्वारा हमारे साथ वाचा बाँधी है और नए नियम में यीशु मसीह के द्वारा इस वाचा को परिपूर्ण किया है। इसलिए, विश्वास की दुनिया में, नए नियम का पुराने नियम के बगैर कोई अस्तित्व नहीं है, और उसी प्रकार, पुराने नियम के वचन नए नियम के वचन के बगैर परिपूर्ण नहीं हो सकते।
प्रेरित पौलुस को परमेश्वर के सुसमाचार के लिए चुना गया था। तो ठीक है, प्रश्न यह है कि, "उसने किस प्रकार के सुसमाचार का प्रचार किया?" उन्होंने इस तथ्य का प्रचार किया कि यीशु मसीह इस दुनिया में आए और पुराने नियम के आधार पर पानी और आत्मा के सुसमाचार के माध्यम से हमें हमारे सारे पापों से बचाया। इसलिए, जब भी हम पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार कर रहे हैं, तो हमें ऐसा पुराने नियम की भविष्यवाणियों और बलिदान प्रणाली के आधार पर करना चाहिए। तभी लोग यह विश्वास करेंगे कि पानी और आत्मा का सुसमाचार सत्य है, और यह कि नया नियम पुराने नियम की प्रतिज्ञा के वचनों की पूर्ति है।
नए नियम की शुरुआत से, हम देख सकते हैं कि यीशु ने यूहन्ना से लिए हुए बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू पर जोर दिया गया था। जबकि पुराने नियम के मूल में, बलिदान प्रणाली थी, जो एक पापी के लिए छुटकारे का तरीका था। उसे पापबलि के सिर पर अपना हाथ रखकर और पाप के लिए क्षमा किए जाने के लिए उसे मारकर अपने पाप की माफ़ी प्राप्त करनी थी।
फिर, यदि पुराने नियम में पाप की माफ़ी के लिए बलिपशु पर हाथ रखना पड़ता था और लहू बहाना होता था, तो नए नियम में क्या था? वहाँ यीशु ने लिया हुआ बप्तिस्मा और क्रूस पर का उसका लहू था। इसके अलावा, पुराने नियम में वर्णित महायाजक (लैव्यव्यवस्था 16:21) नए नियम में यूहन्ना बपतिस्मा देने वाले के समकक्ष था।
वचन ३ और ४ इस प्रश्न के बारे में बात करते हैं, "यीशु किस तरह का व्यक्ति था?" वचन उनके सामान्य चरित्र की व्याख्या करते हैं। यीशु मसीह शारीरिक रूप से दाउद के परिवार से पैदा हुए थे और पवित्रता की आत्मा के द्वारा, उन्हें मृतकों में से अपने पुनरुत्थान की सामर्थ के द्वारा परमेश्वर के पुत्र के रूप में पहचाना गया था। इसलिए, वह उन लोगों को पानी और लहू देकर उद्धारकर्ता बन गया, जो उस पर विश्वास करते थे। यीशु मसीह उद्धार का परमेश्वर, राजाओं का राजा और विश्वास करने वालों के लिए स्वर्ग का अनन्त महायाजक बना।
कुछ मसीही धर्मशास्त्रों में, यीशु की दैवियता को नकारा गया है। ये धर्मशास्त्र कहते हैं, "वह सिर्फ एक उत्कृष्ट युवा था।" इसके अलावा, न्यू थियोलॉजी के अनुसार, "सभी धर्मों में मुक्ति है।" इसलिए, लिबरल पाठशाला में, लोग इस बात पर जोर देते हैं कि उन्हें भूत भगाने, बौद्ध धर्म, कैथोलिक धर्म और इस दुनिया के अन्य सभी धर्मों को स्वीकार करना होगा। यह तथाकथित उदारवादी धर्मशास्त्र या नया धर्मशास्त्र कहता है कि हर चीज का सम्मान किया जाना चाहिए, और इसलिए, सभी मनुष्यों को एकजुट होकर 'एक' बनना होगा।
हालाँकि, बाइबिल में स्पष्ट रूप से कहा गया था कि आदि में परमेश्वर ने आकाश और पृथ्वी को बनाया था। फिर, यह परमेश्वर कौन है? यह यीशु मसीह है। 'मसीह' नाम का अर्थ है तेल से अभिषेक किया जाना। पुराने नियम में, एक राजा या भविष्यवक्ता को उनके सिर पर महायाजक से अभिषिक्त किया जाता था। इसलिए, यीशु को राजाओं का राजा कहा जाता है। एक व्यक्ति जो यीशु को परमेश्वर के रूप में अस्वीकार करता है वह परमेश्वर में विश्वास करने वाला नहीं है। 
आजकल, दुनिया भर के लोगों के विश्वास धार्मिक बहुलवाद पर आधारित विश्ववाद की ओर मुड़ रहे हैं। वे बौद्ध धर्म और कन्फ्यूशीवाद जैसे नास्तिक धर्मों के सभी प्रकार के तत्वों को मिलाते हुए प्रशंसा करते हैं और आराधना करते हैं। निश्चित समय पर, मण्डली बौद्ध तरीके से आराधना करती है, और कभी-कभी वे इसे मसीही तरीके से करते हैं। खैर, भोजन का स्वादिष्ट संलयन हो सकता है। हालांकि, जब विश्वास की बात आती है, तब शुद्ध सबसे बेहतर होता है।
इसलिए, वचन ३ और ४ 'यीशु कौन है?' प्रश्न का उत्तर यह है कि वह वो है जिसे मृतकों में से पुनरुत्थान की सामर्थ के द्वारा परमेश्वर के पुत्र के रूप में स्वीकार किया गया है। मसीह हमारे लिए प्रभु और उद्धारकर्ता बना।
वचन ५ और ६ इस बारे में बात करते हैं कि कैसे पौलुस परमेश्वर के माध्यम से एक प्रेरित बना। वह अन्यजातियों को सुसमाचार प्रचार करने का गवाह बना ताकि वे यीशु मसीह में विश्वास करके उद्धार प्राप्त कर सकें।
 

पौलुस के पास किस प्रकार का अधिकार था?

जैसा कि वचन ७ में लिखा गया है, प्रेरित पौलुस को यीशु में विश्वासियों को परमेश्वर के नाम से आशीष देने का अधिकार था। एक प्रेरित के अधिकार का अर्थ है यीशु मसीह के नाम से सभी लोगों को आशीष देने में सक्षम होने की आत्मिक सामर्थ।
इसलिए, पौलुस कहता है, “हमारे पिता परमेश्वर और प्रभु यीशु मसीह की ओर से तुम्हें अनुग्रह और शान्ति मिलती रहे।” 
यहाँ, मैं इस आशीष के बारे में थोड़ा और सोचना चाहता हूँ। ऐसा लगता था कि प्रेरित पौलुस के पास लोगों के लिए आशीष देने का अधिकार था, और जब भी हम रविवार को आराधना की सेवा समाप्त करते हैं, तो हम आशीष के साथ समाप्त करते हैं। "परमेश्वर संतों को इस तरह का आशीष देना चाहते हैं।" आशीष के मूल वचन इस प्रकार हैं।
आइए गिनती ६:२२ से आरम्भ करे। “फिर यहोवा ने मूसा से कहा, “हारून और उसके पुत्रों से कह कि तुम इस्राएलियों को इन वचनों से आशीर्वाद दिया करना : “यहोवा तुझे आशीष दे और तेरी रक्षा करे; “यहोवा तुझ पर अपने मुख का प्रकाश चमकाए, और तुझ पर अनुग्रह करे; “यहोवा अपना मुख तेरी ओर करे, और तुझे शांति दे”।
महायाजक हारून और उसके पुत्रों से कहा गया, कि तुम इस्राएलियों को इसी रीति से आशीष देना। यदि वे इस प्रकार इस्राएलियों को आशीष देंगे, तो परमेश्वर वास्तव में उन्हें आशीष देगा जैसा पवित्रशास्त्र में कहा गया है। जब हम पौलुस की सभी पत्रियों पर एक नज़र डालते हैं, तो हम देख सकते हैं कि उन्होंने अक्सर कहा, "हमारे प्रभु की कृपा आप पर बनी रहे।" यह संकेत करता है कि यह वह स्वयं नहीं था जो आशीष देगा, बल्कि यह परमेश्वर ही था जो इसे करेगा। इसलिए, प्रेरित पौलुस ने जब भी अपने पत्र को समाप्त किए तब संतों को हमेशा आशीष दिया।
पौलुस के पास परमेश्वर के लोगों को आशीषें देने का अधिकार था। यह अधिकार सभी मसीही सेवको को नहीं दिया गया था। इसके बजाय, यह केवल परमेश्वर के सेवकों को दिया गया था। जब परमेश्वर के सेवक यह कहते हुए आशीष देते हैं कि वे वास्तव में आशीष देना चाहते हैं, तो परमेश्वर उन्हें वास्तव में वचन के अनुसार आशीष देते हैं।
परमेश्वर न केवल अपने सेवकों को, बल्कि नया जन्म पाए हुए सारे संतों को भी स्वर्गीय अधिकार देता है। परमेश्वर कहते हैं, “यदि तुम किसी के पाप क्षमा कर दो, तो वे क्षमा किए गए; यदि तुम किसी के पापों को बनाए रखते हो, तो वे बने रहेंगे" (यूहन्ना 20:23)। वह सभी धर्मियों को उस तरह का अधिकार देता है। इसलिए, ध्यान रखना चाहिए कि नया जन्म पाए हुए  संतों या उनके सेवकों का सामना न करें, क्योंकि यह परमेश्वर का सामना करने के समान है। क्योंकि परमेश्वर ने अपने प्रेरितों, साथ ही अपने सेवकों और धर्मी लोगों को आशीष और शाप देने का अधिकार दिया है।
 

प्रेरित पौलुस जो संतों को आत्मिक वरदान देना चाहता था

आइए रोमियों १:८-१२ पढ़े। “पहले मैं तुम सब के लिये यीशु मसीह के द्वारा अपने परमेश्‍वर का धन्यवाद करता हूँ, क्योंकि तुम्हारे विश्‍वास की चर्चा सारे जगत में हो रही है। परमेश्‍वर जिसकी सेवा मैं अपनी आत्मा से उसके पुत्र के सुसमाचार के विषय में करता हूँ, वही मेरा गवाह है कि मैं तुम्हें किस प्रकार लगातार स्मरण करता रहता हूँ, और नित्य अपनी प्रार्थनाओं में विनती करता हूँ कि किसी रीति से अब तुम्हारे पास आने की मेरी यात्रा परमेश्‍वर की इच्छा से सफल हो। क्योंकि मैं तुम से मिलने की लालसा करता हूँ कि मैं तुम्हें कोई आत्मिक वरदान दूँ जिससे तुम स्थिर हो जाओ; अर्थात् यह कि जब मैं तुम्हारे बीच में होऊँ, तो हम उस विश्‍वास के द्वारा जो मुझ में और तुम में है, एक दूसरे से प्रोत्साहन पाएँ”।
सबसे पहले, प्रेरित पौलुस ने किस लिए परमेश्वर को धन्यवाद दिया? उन्होंने रोम में मसीहीयों के लिए परमेश्वर को धन्यवाद दिया क्योंकि वे यीशु में विश्वास करते थे और उनके माध्यम से अन्य लोगों को सुसमाचार का प्रचार किया गया था।
वचन ९ और १० में, कोई यह प्रश्न पूछ सकता है, "प्रेरित पौलुस अपनी मिशन यात्रा के दौरान रोम क्यों जाना चाहता था?" इसका कारण यह था कि यदि उस समय रोम में पानी और आत्मा का सुसमाचार प्रचार किया जाता, तो यह पूरी दुनिया में फैल जाता। जिस तरह आज पूरी दुनिया अमेरिका की ओर देखती है, प्राचीन काल में रोम दुनिया का केंद्र था, जैसा कि कहावत थी, "सभी सड़कें रोम की ओर जाती हैं।"
हम अमेरिका में सुसमाचार प्रचार करने का बहुत काम कर रहे हैं। अगर हम पानी और पवित्र आत्मा के इस सुसमाचार को अमेरिका में फैलाते हैं, तो कई मिशनरी उठकर दुनिया में जाएंगे और दूसरों को इस खूबसूरत सुसमाचार का प्रचार करेंगे। इसलिए, पौलुस रोम जाना चाहता था।
 

आत्मिक वरदान जिसके बारे में पौलुस बात करता है

वचन ११, लिखा गया है, “क्योंकि मैं तुम से मिलने की लालसा करता हूँ कि मैं तुम्हें कोई आत्मिक वरदान दूँ जिससे तुम स्थिर हो जाओ”।
प्रेरित पौलुस का कुछ आत्मिक वरदान देने का क्या अर्थ है ताकि लोगों को स्थापित किया जा सके? वह जिस आत्मिक वरदान की बात करता है, वह पानी और आत्मा का सुसमाचार है, जिसका हम प्रचार कर रहे हैं। वचन १२ में लिखा है, "अर्थात् यह की जब मैं तुम्हारे बिच में होऊं, तो हम उस विश्वास के द्वारा जो मुझ में और तुम में है, एक दूसरे से प्रोत्साहन पाएँ।" यह कहना कि लोगों को स्थापित करने की अनुमति देने के लिए और लोगों को पौलुस और अपने दोनों के आपसी विश्वासों के साथ प्रोत्साहित करने के लिए कुछ आत्मिक वरदान दिए जाएंगे, क्योंकि पानी और आत्मा के सुसमाचार को वितरित करके, पौलुस लोगों को शांति देना चाहता था, शान्ति प्राप्त करें, आशीर्वाद प्राप्त करें, और उसी तरह के विश्वास के भीतर संगति प्राप्त करें।
प्रेरित पौलुस कह रहा है कि वह उनके साथ परस्पर विश्वासों द्वारा प्रोत्साहित होना चाहता है, यह दर्शाता है कि वह रोमन कलीसिया को एक बार फिर से पानी और पवित्र आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करने के लिए तरस रहा था। अब, हमारे सभी कलीसिया के सदस्य पानी और आत्मा के सुसमाचार को समझते हैं और उसमें विश्वास करते हैं, लेकिन कुछ नाममात्र के मसीही हो सकते हैं जो समय बीतने के साथ सच्चे सुसमाचार में विश्वास नहीं करते हैं। इस तरह, रोम की कलीसिया को सुसमाचार को ताज़ा करने की आवश्यकता हो सकती है। 
इसलिए, प्रेरित पौलुस ने कहा कि हो सकता है कि वह उसमें परस्पर विश्वासों द्वारा प्रोत्साहित किया गया हो। वास्तव में, हम परमेश्वर की उपस्थिति में आराम प्राप्त करते हैं और पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास के कारण हमारे दिलों को शांति मिलती है। हम पानी और आत्मा के सुसमाचार के बिना शांति से विश्राम नहीं कर पाएंगे।
इसके अलावा, यह लिखा है, "मैं तुम्हें कोई आत्मिक वरदान दूँ जिससे तुम स्थिर हो जाओ।" यह आत्मिक वरदान पानी और आत्मा का सुसमाचार है। कोई व्यक्ति तभी परमेश्वर की संतान बन सकता है और आशीषें प्राप्त कर सकता है जब वह पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करता हो।
हालाँकि, लोगों के लिए इसका क्या फायदा होगा यदि वे धूम्रपान और शराब पीना छोड़ कर किसी भी प्रकार का गलत काम न करे लेकिन वे पानी और आत्मा के सुसमाचार को न जानते हुए यीशु पर विश्वास करे? उनके कार्यों का परमेश्वर की धार्मिकता से कोई लेना-देना नहीं है। परमेश्वर की धार्मिकता मनुष्यों से कहीं अधिक महान है। कलीसिया में लोगों को आकर्षित करना आसान है, लेकिन इन नए विश्वासियों को पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करना अधिक महत्वपूर्ण है ताकि वे स्वर्ग की आशीषों को पाकर अपने सारे पापों से माफ़ी प्राप्त करे और परमेश्वर की संतान बने।
प्रेरित पौलुस चाहता था कि रोम के संत उसके अपने विश्वास के द्वारा प्रोत्साहित हों। इसलिए उसने कहा, "अर्थात यह कि हम उस विश्वास के द्वारा जो मुझ में और तुम में है, एक दुसरे से प्रोत्साहन पाएँ।" इसलिए, प्रेरित पौलुस को कलीसिया की सारी मण्डली को सच्चे सुसमाचार का प्रचार करना था ताकि उन्हें विश्वास हो, ताकि वे पानी और आत्मा के सुसमाचार में अपने स्वयं के विश्वास से स्थापित हो सकें। उसे रोम में कलीसिया के विश्वासियों को पानी और पवित्र आत्मा का सुसमाचार देना था और उन्हें यह सिखाना था कि यह वास्तव में क्या था।
यही बात प्रेरित पौलुस को आज के संसार के अन्य प्रचारकों से अलग बनाती है। रोमन कलीसिया के लिए पत्र में, प्रेरित पौलुस ने कहा कि वह लोगों को कुछ आत्मिक वरदान देकर उन्हें स्थापित करना चाहता था, और लोगों के और अपने दोनों के आपसी विश्वासों द्वारा उन्हें प्रोत्साहित करना चाहता था। आज की कलीसियाओं के सभी प्रचारकों को प्रेरित पौलुस से यही सीखना चाहिए। प्रेरित पौलुस पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करता था जिससे कोई सच्चे भाइयों को झूठे लोगों से अलग पहचान सकता है। 
इन दिनों, कलीसिया नए प्रतिभागियों के एक समूह को ६ महीने की अवधि के लिए सैद्धांतिक शिक्षा प्राप्त करने देते हैं, और एक वर्ष के भीतर, वे अन्त में बपतिस्मा लेते हैं। इतना ही। वे इस बात की परवाह किए बिना बपतिस्मा लेते हैं कि वे पानी और आत्मा के सुसमाचार को जानते है या नहीं जिसे यीशु ने परिपूर्ण किया है। दूसरे शब्दों में, भले ही लोग कलीसिया के सदस्य बन गए हों, लेकिन वे परमेश्वर की संतान नहीं बन पाए हैं जिन्होंने उसकी धार्मिकता प्राप्त की है। आज की कलीसिया के सेवक अपने नए विश्वासियों से केवल दस आज्ञाओं और प्रेरितों के सिध्धांत को याद करने के लिए कहते हैं। यदि नए विश्वासी कंठस्थ करने की परीक्षा पास कर लेते हैं, तो उनसे पूछा जाता है, “क्या आप शराब पीना छोड़ देंगे? धूम्रपान छोड़ेंगे? क्या आप हर महीने अपना दशमांश देंगे? क्या आप अच्छा जीवन व्यतीत करेंगे?"
यूरोप, एशिया और पूरी दुनिया की कलीसिया परमेश्वर की धार्मिकता से दूर होने का कारण यह है कि वे मानवीय धार्मिकता का पीछा करते हैं। आजकल, कोरिया या तथाकथित 'एशिया के यरूशलेम' में भी, मसीहीयों की आबादी घट रही है। अब, वह समय आ गया है जब कोई भी कलीसिया में आना नहीं चाहता जब तक कि कलीसिया के अंदर कोई विशेष आयोजन न हो, जैसे कि स्तुति उत्सव या पॉप संगीत कार्यक्रम। यदि लोग आते भी हैं, तो युवाओं को दिए जाने वाले सामान्य उपदेशों में इस तरह के विषय होते हैं, 'धूम्रपान न करें, धार्मिक जीवन जिएं, पवित्र रविवार का पालन करे और बहुत सारे स्वयंसेवी कार्य करें,' इनका परमेश्वर की धार्मिकता से कोई लेना-देना नहीं है। .
क्योंकि मनुष्य पाप करने के लिए उतावला है और पाप छोड़ने के लिए बहुत नाजुक है, उसे प्रभु पर भरोसा करना होगा। इसलिए, जब लोग परमेश्वर की कलीसिया में आते हैं, तो हमें उन्हें पानी और आत्मा का सुसमाचार सुनाना चाहिए ताकि वे परमेश्वर की धार्मिकता प्राप्त कर सकें। उनके लिए, हमें वास्तव में परमेश्वर की धार्मिकता को पारित करना चाहिए जो कहती है कि भले ही हम अपर्याप्त है लेकिन आपको और मुझे पापरहित बनाया गया है। 
इसे ध्यान में रखना सुनिश्चित करें। कोई व्यक्ति परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करके पापरहित होने के बाद ही परमेश्वर की इच्छा के अनुसार जी सकता है। एक बार पाप की अपनी समस्याओं का समाधान हो जाने पर कोई भी व्यक्ति सुसमाचार का प्रचार कर सकता है। दूसरों को सुसमाचार फैलाने का हमारा कार्य पाप की अपनी समस्याओं के समाधान से पहले नहीं होना चाहिए। जब तक उसकी स्वयं की पाप की समस्याओं का समाधान नहीं हो जाता, तब तक वह दूसरों को सच्चे सुसमाचार का प्रचार नहीं कर सकता।
ऐसा कहा जाता है कि प्रेरित पौलुस ने वास्तव में दूसरों को कुछ आत्मिक वरदान प्रदान किया था। जिस वरदान के बारे में पौलुस ने बात की, वह वर्तमान मसीही धर्म में पेंतिकोस्टल आंदोलन में बात किए गए अन्य भाषा या चंगाई का वरदान नहीं है। अधिकांश मसीही कुछ अजीब घटनाओं को देखते हैं जैसे कि दर्शन देखना, भविष्यवाणी करना, अन्य भाषा में बात करना, या बीमारियों को ठीक करना वरदान के रूप में। 
हालांकि, ये चीजें स्वर्ग से आत्मिक वरदान नहीं हैं। प्रार्थना करते समय दर्शन देखना निश्चित रूप से आत्मिक वरदान नहीं है। एक व्यक्ति का तेज चीखना या कुछ अजीब आवाजे सुनकर गुफा में पागल हो जाना और तिन रातों तक नींद नहीं आना यह परमेश्वर का उपहार नहीं है। जो यह दावा करता है कि वह अन्य भाषाएं बोलने में सक्षम है और मुड़ी हुई जीभ से अजीब शब्द 'ला-ला-ला-ला' चिल्लाने के बाद अनजाने में फर्श पर गिर जाता है, वह पवित्र आत्मा प्राप्त करने का लक्षण नहीं है। इसके बजाय, यह एक मानसिक संस्थान में मानसिक रूप से अस्थिर रोगियों के समान है जो जंगली हो रहा है। हालांकि, तथाकथित 'करिश्माई पुनरुत्थानवादी' हैं जो इस बात पर जोर देते हैं कि वे मसीहियों को सिखा सकते हैं कि अन्य भाषाएं कैसे बोलें या पवित्र आत्मा कैसे प्राप्त करें। वे बहुत गलत कर रहे हैं और उनका विश्वास निश्चित रूप से सही नहीं है।
जब हम विश्वासयोग्यता से परमेश्वर के आत्मिक कार्य को करते हैं और प्रभु का अनुसरण करते हैं, तो पवित्र आत्मा का जीवित जल हमारे दिलों से बहता है। जब हम शारीरिक कर्मों को कम करते हैं और इसके बजाय आत्मिक कर्मों का पालन करते हैं, तो पवित्र आत्मा का पानी हमारे दिलों से बहेगा।
मसीहीयों को पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करके पाप की माफ़ी का आत्मिक उपहार प्राप्त करना चाहिए। कोई कहता है कि आज के कलीसिया की कुर्सियों के माध्यम से बहुत से मसीही आज नरक की ओर जा रहे हैं। यह सूचित करता है कि आज की कलीसियाएँ परमेश्वर की धार्मिकता का प्रचार करने के बजाय मानवीय धार्मिकता को प्रोत्साहित करती हैं।
भाइयों, भले ही किसी व्यक्ति ने कलीसिया में जाने के बाद बहुत सारी मानवीय धार्मिकताएँ जमा कर ली हों, इसका मतलब यह नहीं है कि वह इस तरह के कार्यों से आत्मिक वरदान प्राप्त कर सकता है। हमें पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास के द्वारा परमेश्वर की धार्मिकता को अपने हृदय में उतार लेना चाहिए ताकि हम आत्मिक वरदान प्राप्त कर सकें।
आइए हम वचन १३ से १७ को पढ़े। “हे भाइयो, मैं नहीं चाहता कि तुम इससे अनजान रहो कि मैं ने बार–बार तुम्हारे पास आना चाहा, कि जैसा मुझे दूसरी अन्यजातियों में फल मिला, वैसा ही तुम में भी मिले, परन्तु अब तक रोका गया। मैं यूनानियों और अन्यभाषियों का, और बुद्धिमानों और निर्बुद्धियों का कर्जदार हूँ। अत: मैं तुम्हें भी जो रोम में रहते हो, सुसमाचार सुनाने को भरसक तैयार हूँ। क्योंकि मैं सुसमाचार से नहीं लजाता, इसलिये कि वह हर एक विश्‍वास करनेवाले के लिये, पहले तो यहूदी फिर यूनानी के लिये, उद्धार के निमित्त परमेश्‍वर की सामर्थ्य है। क्योंकि उसमें परमेश्‍वर की धार्मिकता विश्‍वास से और विश्‍वास के लिये प्रगट होती है; जैसा लिखा है, “विश्‍वास से धर्मी जन जीवित रहेगा।” 
प्रेरित पौलुस रोम जाना चाहता था। हालाँकि, वह ऐसा नहीं कर सका क्योंकि उसे रोका गया था। इसलिए, उसे अपने मिशनरी कार्य का द्वार खोलने के लिए प्रार्थना करनी पड़ी। इसी तरह, हमें साहित्यिक सेवा के माध्यम से दुनिया भर में सुसमाचार का प्रचार करते हुए उसी तरह की प्रार्थना करनी चाहिए। जब हम प्रार्थना करते हैं केवल तभी परमेश्वर का हृदय कार्य करता है और जब परमेश्वर द्वार खोलता है और हमारे लिए मार्ग खोलता है केवल तभी हम दुनिया भर में पानी और आत्मा का सुसमाचार को बाँटने में सक्षम होंगे।
 

पौलुस जिस पर सब लोगों का कर्ज था

प्रेरित पौलुस ने किससे कहा था कि उस पर कर्ज था और १४ और १५ वचनों में उसका किस तरह का कर्ज था? उसने कहा कि वह यूनानियों और बर्बरों दोनों का कर्जदार बन गया है, और यह कि वह उन पर पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करने का ऋणी है। उन्होंने कहा कि वह बुद्धिमान और मूर्ख दोनों के कर्जदार थे। इसलिए, वह रोम में इन लोगों को जितना हो सके उतना सुसमाचार का प्रचार करना चाहता था। 
इसलिए, प्रेरित पौलुस का कलीसिया को लिखने का उद्देश्य सच्चा सुसमाचार देना था। उसने पाया कि रोम में कलीसिया के अंदर लोगों के दिलों में भी, पानी और आत्मा का सुसमाचार विश्वास से स्थिर नहीं था, और इस प्रकार उसने सुसमाचार को आत्मिक उपहार के रूप में संदर्भित किया। इसलिए, उसने पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार उन लोगों को भी किया जो पहले से ही कलीसिया के अंदर थे, साथ ही साथ दुनिया के सभी लोगों को भी इसका प्रचार किया। उसने कहा कि वह बुद्धिमान, मूर्ख, यूनानियों और सभी बर्बर लोगों का कर्जदार था।
पौलुस पर किस तरह का कर्ज था? वह दुनिया के सभी लोगों को पानी और पवित्र आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करने का कर्जदार था। उसने दुनिया के लोगों पर अपना सारा कर्ज चुकाने पर जोर दिया। इसी तरह, अब वे लोग भी जिनके पास पानी और आत्मा का सुसमाचार है, वे लोग भी सुसमाचार के प्रचार के लिए ऋणी हैं। उन्हें जो कर्ज चुकाना है वह सुसमाचार फैलाने का काम है। यही कारण है कि हमें इस समय पानी और आत्मा के सुसमाचार को पूरी दुनिया में फैलाना है।
लोग गलती से सोचते हैं कि केवल क्रूस का लहू ही उद्धार है। हालाँकि, बाइबल जिस स्वर्गीय सुसमाचार की गवाही देती है, वह पानी और आत्मा का सुसमाचार है, जिसकी गवाही पौलुस ने भी दी थी। इसलिए, रोमियों अध्याय ६ में, पौलुस ने कहा कि उसने मसीह यीशु में और उसकी मृत्यु में भी बपतिस्मा लिया था। चूँकि रोम की कलीसिया में नाममात्र के मसीही थे जो केवल क्रूस के लहू में विश्वास करते थे, इसलिए पौलुस उन्हें यीशु द्वारा प्राप्त बपतिस्मे के छिपे हुए रहस्य से अवगत कराना चाहता था। ठीक इसी तरह, हमें उन लोगों को पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करना चाहिए जो काफी लम्बे समय से कलीसिया के अन्दर है लेकिन फिर भी इसे सुनने में सक्षम नहीं हैं।
जब मसीहीयों से पूछा जाता है कि वे पाप करते है या नहीं, तो वे इस प्रश्न को स्वयं बेकार समझते हैं और अपने व्यक्तित्व की अवहेलना करते हैं। हालाँकि, यह प्रश्न वास्तव में बहुत महत्वपूर्ण और अत्यधिक मूल्य का है। यदि मनुष्य अपने पापों के कारण नरक में जाने के लिए नियत हैं, तो उनसे इस तरह के प्रश्न पूछने और उन्हें समाधान प्रदान करने वाला कौन है? केवल वही व्यक्ति जो पानी और आत्मा के सुसमाचार द्वारा नया जन्म लेने के बाद अपने हृदय में पापरहित है वे इस प्रकार का प्रश्न पूछ सकता है और लोगों को सही उत्तर भी दे सकता है। केवल नया जन्म लेने वाले संत ही सच्चे सुसमाचार, यानी पानी और पवित्र आत्मा का सुसमाचार, जो पापियों ने पहले कभी नहीं सुना है उसे सुनाकर पापियों को नया जन्म लेनेवाले बना सकते हैं। 
भाइयों, यदि कोई यीशु पर विश्वास करता है, लेकिन पानी और पवित्र आत्मा से नया जन्म नहीं लिया है, तो वह न तो वह परमेश्वर के राज्य में प्रवेश कर सकता है और न ही उसे देख सकता है। इसलिए, जब आप ऐसे लोगों से मिलते हैं, जो आपको पानी और आत्मा का सुसमाचार सुनाते हुए पापियों को पाप की माफ़ी प्राप्त करने की अनुमति देते हैं, तो उनके आभारी रहें। तब आपको एक महान आशीष प्राप्त होगी।
 

वह सुसमाचार जिसके लिए पौलुस लजाता नहीं था

वचन १६ में, प्रेरित पौलुस किस तरह के सुसमाचार के बारे में लजाता नहीं था? यह पानी और आत्मा का सुसमाचार था क्योंकि यह सुसमाचार हर विश्वास करने वाले के लिए उद्धार के लिए परमेश्वर की सामर्थ है। पानी और आत्मा के सुसमाचार से उन्हें शर्म नहीं आने का कारण यह था कि यह सुसमाचार लोगों को पूरी तरह से पापरहित बनाता है और पाप की बाधा को नष्ट करता है जो सभी मनुष्यजाति को परमेश्वर से अलग करता है।
क्या यदि लोग केवल क्रूस के लहू के सुसमाचार पर विश्वास करते है तो पाप को धोना संभव होगा? इस तरह के विश्वास से अब तक किए गए पापों को धोना संभव है लेकिन हमारे भविष्य के पाप को साफ करना असंभव है। इसलिए इस प्रकार का विश्वास करने वाले लोग प्रतिदिन पश्चाताप की प्रार्थना करके अपने पापों को धोने का प्रयास करते हैं। वे स्वीकार करते हैं कि उनके हृदय केवल पापों से भरे हुए हैं और वे अपरिहार्य पापी हैं। ये मसीही पापी जो पाप करते है, वे दूसरों से ईमानदारी से सुसमाचार के बारे में बात नहीं कर सकते, क्योंकि उनके पास जो 'सुसमाचार' है, वह अब उनके लिए 'सुसमाचार' नहीं है। 
ग्रीक में सुसमाचार 'युगेलिओन' है, दूसरे शब्दों में, वह सुसमाचार जो इस दुनिया के सभी पापों को दूर करने की क्षमता रखता है। एकमात्र सच्चा सुसमाचार डायनामाइट जैसा है। यह सच्चा सुसमाचार है जो इस संसार के सभी पापों को दूर करता है। इसलिए, पौलुस जैसा व्यक्ति, जो पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करता था जिसमे पाप को मिटाने की क्षमता थी, इससे शर्मिंदा नहीं हुआ। आजकल, मसीही भी सुसमाचार का प्रचार करने में शर्म महसूस करते हैं। हालांकि, जिनके पास परमेश्वर की धार्मिकता है, वे ऐसे लोग हैं जो सुसमाचार का प्रचार करते समय गरिमा और महिमा के साथ अधिक विशिष्ट होते हैं। 
प्रेरित पौलुस को सुसमाचार का प्रचार करते समय जरा भी शर्म नहीं आई। ऐसा इसलिए था क्योंकि वह जिस सुसमाचार का प्रचार कर रहा था वह पानी और आत्मा का सुसमाचार था। ऐसा इसलिए था क्योंकि यह सुंदर सुसमाचार विश्वास करने वाले प्रत्येक व्यक्ति के लिए उद्धार के लिए परमेश्वर की सामर्थ्य था।
यह सुसमाचार सामर्थी सुसमाचार है जो इस पर विश्वास करनेवाले किसी को भी अपने पापों से माफ़ी पाने की अनुमति देता है, भले ही किसी भी व्यक्ति ने इसे क्यों न सुनाया हो। यदि सुननेवाले पूरे हृदय से सुसमाचार सुने तो जगत के सारे पाप पूरी तरह से धुल जाते हैं। हालाँकि, केवल क्रूस के लहू का सुसमाचार लोगों को अधूरा उद्धार बताता है, अर्थात, यह लोगों को बताता है कि यह केवल उनके मूल पाप को समाप्त करता है और इस प्रकार उनके अतिरिक्त अपराधों को दैनिक पश्चाताप की प्रार्थना करके धो दिया जाना चाहिए। यह सुननेवालों के लिए पाप का अंश छोड़ जाता है। 
क्या यीशु ने केवल थोड़े पाप को ही दूर किया क्योंकि उसकी सामर्थ पर्याप्त नहीं थी? चूँकि यीशु मनुष्यों को इतनी अच्छी तरह से जानते थे, उन्होंने किसी भी प्रकार का पाप नहीं छोड़ा। वह पानी, लहू और पवित्र आत्मा के साथ सब पापों को अपने साथ ले गया। मेरा मानना है कि यह सुंदर सुसमाचार उन सभी को पाप से सम्पूर्ण छूटकारा देता है जो यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उनके बहाए हुए लहू के सुसमाचार को सुनते और विश्वास करते हैं। 
इसलिए, सुसमाचार के अन्दर यहूदी और ग्रीक दोनों के लिए एक समान सामर्थ्य है। जब लोगों को प्रचार किया जाता है तब यीशु पर विश्वास करनेवालों के लिए पापों से उद्धार प्राप्त करने के लिए पानी और आत्मा का सुसमाचार एकसमान अनुमति देता है। दूसरी ओर, जब कोई पानी और आत्मा के सुसमाचार को छोड़ किसी ओर बात का प्रचार करता है, तब वह परमेश्वर के क्रोध को प्राप्त करेंगे। इसलिए पौलुस कहता है, “परन्तु यदि हम, या स्वर्ग से कोई दूत भी उस सुसमाचार को छोड़ जो हम ने तुम को सुनाया है, कोई और सुसमाचार तुम्हें सुनाए, तो शापित हो” (गलातियों १:८)। प्रेरित पौलुस स्पष्ट रूप से कहता है की बाकी सारे सुसमाचारों में से पानी और आत्मा का सुसमाचार ही केवल एकमात्र सच्चा सुसमाचार है।
भले ही कोई गैर-यहूदी हो या यहूदी, या कोई इस्लाम, कन्फ्यूशीवाद, बौद्ध धर्म, ताओवाद, सूर्य देवता या कुछ और में विश्वास करता हो, हर एक व्यक्ति को सुसमाचार सुनने का मौका मिलता है। इसके अलावा, पानी और पवित्र आत्मा का यह सुसमाचार उन्हें उनके सभी पापों से छूटकारा पाने का अवसर प्रदान करता है। इसलिए, हमें यह बताना चाहिए कि यीशु मसीह परमेश्वर है, कि उसने ब्रह्मांड की रचना की, कि वह हमें बचाने के लिए मनुष्य देह की समानता में इस जगत में आया, कि उसने यूहन्ना द्वारा बपतिस्मा लेने के द्वारा हमारे सभी पापों को अपने ऊपर ले लिया, और यह कि उसने क्रूस पर मरने के द्वारा हमारे पापों का न्याय प्राप्त किया।
इसलिए, प्रेरित पौलुस पानी और आत्मा के सुसमाचार से लज्जित नहीं हुआ। भले ही केवल क्रूस का सुसमाचार एक लज्जित सुसमाचार होना चाहिए, लेकिन पानी और आत्मा का सुसमाचार बिल्कुल भी लज्जित नहीं हो सकता है; लेकिन एक सच्चा और सामर्थी सुसमाचार जो गर्व और गरिमा के साथ बहता है। जो कोई भी इस सुसमाचार में विश्वास करता है, वह इस विश्वास के द्वारा पवित्र आत्मा की परिपूर्णता प्राप्त करता है कि वह परमेश्वर की संतान बन गया है। मैं फिर तुमसे कहता हूं कि पानी और पवित्र आत्मा का सुन्दर सुसमाचार कभी भी शर्मनाक सुसमाचार नहीं हो सकता। हालाँकि, जो सुसमाचार केवल क्रूस के लहू में विश्वास करता है वह शर्मनाक है। 
मसीहीयों, क्या आपको जब भी केवल क्रूस के लहू के सुसमाचार का प्रचार करना हो तब शर्म आती है? जब आपने केवल उस लहू के सुसमाचार को प्रचार किया और विश्वास किया जिसमें यीशु का बपतिस्मा शामिल नहीं है, तब आपको शर्मिंदगी महसूस हुई। क्योंकि आपको उस तरह के बेकार सुसमाचार का प्रचार करने में शर्म आती थी, इसलिए सड़कों पर निकलकर "यीशु पर विश्वास करो। यीशु पर विश्वास करो!" ऐसा चिल्लाने से पहले आपको हमेशा अपनी भावनाओं को भरने के लिए प्रभु के सामने गिडगिडाना पड़ता था या अन्य भाषा में प्रार्थना करनी पड़ती थी। 
यह एक ऐसी चीज है जिसे कोई व्यक्ति केवल भावनाओं में बहाकर कर सकता है लेकिन ऐसा एक शांत दिमाग से कभी नहीं कर पाएगा। यही कारण है कि जो लोग केवलक्रूस के लहू में विश्वास करते हैं, वे चिल्लाते हैं और जब भी वे प्रचार के लिए सड़कों पर निकलते हैं तो गड़बड़ी करते हैं। मेगाफोन को अपने मुंह के पास रखते हुए, वे केवल "यीशु, स्वर्ग, अविश्वास, नरक के लिए" शब्द चिल्लाते हैं। हालांकि, पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करनेवाला विश्वासी बहुत ही सज्जन तरीके से सुसमाचार का प्रचार करता है; अपनी बाइबल खोलकर, वह चाय पीता है और दूसरे से बातचीत करता है।
 

परमेश्वर की धार्मिकता के सुसमाचार के बारे में क्या कहा गया है?

वचन १७ में, मसीह के सुसमाचार में प्रकट होने के लिए क्या कहा गया है? ऐसा कहा जाता है कि "परमेश्वर की धार्मिकता" परमेश्वर के सुसमाचार में प्रकट होती है। सच्चे सुसमाचार में परमेश्वर की धार्मिकता पूरी तरह से प्रकट होती है। इसलिए, यह कहा जाता है कि परमेश्वर की धार्मिकता इसमें विश्वास से विश्वास तक प्रकट होती है और धर्मी केवल विश्वास से ही जीवित रहेगा। जो सुसमाचार केवल क्रूस के लहू के बारे में बात करता है उसमें परमेश्वर की धार्मिकता नहीं है।
भाइयों, यदि कहा जाए कि व्यक्ति के अपने मूल पाप पहले ही माफ़ कर दिए गए है लेकिन फिर भी उसे अपने दैनिक पापों के लिए प्रतिदिन पश्चाताप की प्रार्थना करनी पड़ेगी, और यह कि व्यक्ति धीरे-धीरे एक पूर्ण धर्मी व्यक्ति बनने के लिए धीरे-धीरे पवित्र हो सकता है, तो क्या इस प्रकार के विश्वास में परमेश्वर की धार्मिकता सामिल है? यह ऐसा कुछ नहीं है जिसमें परमेश्वर की धार्मिकता प्रकट होती है। कुछ ऐसा जो परमेश्वर की धार्मिकता को प्रकट करता है वह सिद्ध बातों के बारे में बात करता है। पानी और पवित्र आत्मा का सुसमाचार शुरुआत से अंत तक सिद्ध सुसमाचार के बारे में बात करता है।
आप लोग प्रतिदिन पश्चाताप की प्रार्थना करते हैं क्योंकि आप हर रोज पाप कर रहे हैं जैसे कि आपको अंजीर के पेड़ की पत्तियों से हर दिन, या शायद हर हफ्ते या महीने में अपने शर्मनाक बातों को ढंकने के लिए नए आवरण बनाना पड़ता है। प्रतिदिन प्रायश्चित की प्रार्थना करने से बार-बार पापी बनने वाला व्यक्ति अंजीर के पेड़ के पत्तों से अपने स्वयं के शर्मनाक शरीर को ढंकने के समान है। यह उन लोगों के धार्मिक जीवन की स्थिति है जो केवल क्रूस के लहू के सुसमाचार में विश्वास करते हैं। वे मूर्ख लोग हैं जो उस चमड़े के आवरण को नहीं पहनना चाहते जो परमेश्वर ने उन्हें स्वतंत्र रूप से दिया है, बल्कि इसके बजाय अंजीर के पेड़ के पत्तों के आवरण को पहनने का आनंद लेते हैं।
क्रूस पर यीशु का लहू यीशु के बपतिस्मे का परिणाम था, और यह क्रूस पर बहाया लहू नहीं था जिसके द्वारा यीशु हमारे पापों को अपने ऊपर लेने में सक्षम थे। जिस समय उसने बपतिस्मा लिया, उस समय उसने हमारे पापों को अपने ऊपर ले लिया, फिर वह जगत के सारे पापों को उठाते हुए क्रूस पर आया, और जगत के पापों का प्रायश्चित करने के लिए मर गया। इसलिए, क्रूस उसके द्वारा प्राप्त किए गए बपतिस्मे का परिणाम था। चूँकि यीशु ने अपने बपतिस्मे के माध्यम से हमारे पापों को अपने ऊपर ले लिया था, इसलिए क्रूस पर बहाया हुआ लहू हमारे सारे पापों का प्रायश्चित करने का उनका अंतिम कार्य था। यीशु ने क्रूस पर पाप के सभी श्रापों को प्राप्त किया क्योंकि उसने बपतिस्मा लिया था।
फिर हम परमेश्वर की धार्मिकता कैसे प्राप्त कर सकते हैं? हम पानी और आत्मा के सुसमाचार को जानकर और उसमें विश्वास करके इसे प्राप्त कर सकते हैं। आप मुझसे पूछोगे, "तो क्या तुम पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वासी हो?" तब मैं इस प्रश्न का तुरंत और स्पष्ट रूप से 'हाँ' में उत्तर दे सकता हूँ। परमेश्वर की धार्मिकता प्राप्त करने का रहस्य पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करना है। 
इसका कारण यह है कि पानी और आत्मा का सुसमाचार सत्य है और क्योंकि यह परमेश्वर के प्रेम और उसकी धार्मिकता को प्रकट करता है। यह इसलिए भी है क्योंकि पानी और आत्मा के सुसमाचार में पाप की माफ़ी शामिल है जिसे परमेश्वर ने मनुष्यजाति को स्वतंत्र रूप से दिया है, उसकी संतान बनने का मार्ग, अनन्त जीवन की आशीष जिसके द्वारा व्यक्ति पवित्र आत्मा प्राप्त कर सकता है, और पृथ्वी पर शारीरिक और आत्मिक आशीष।
प्रेरित पौलुस ने कहा कि परमेश्वर की धार्मिकता पानी और आत्मा के सुसमाचार में सम्पूर्ण रीति से प्रगट हुई है जिसका वह प्रचार कर रहा था। इसलिए, परमेश्वर की धार्मिकता को जाने बिना मानव धार्मिकता को रखना परमेश्वर के सामने पाप करने के समान है। इसके अलावा, एक सुसमाचार जो केवल क्रूस के लहू में विश्वास करता है, लेकिन उसमें परमेश्वर की धार्मिकता नहीं है वह झूठा है।
परमेश्वर की धार्मिकता पानी और आत्मा के सच्चे सुसमाचार को दर्शाता है जो उसने दिया है। एक जोड़े के रूप में पुराना और नया नियम हमें हमारे पापों से बचाता है। पुराना नियम नए नियम की तैयारी करता है और नया नियम पुराने नियम में निहित प्रतिज्ञा के वचनों को पूरा करता है। परमेश्वर ने हमें सच्चा सुसमाचार देकर संसार के पापों से बचाया, जिसमें उसकी धार्मिकता पूरी तरह से प्रकट हुई है। इस प्रकार उसने मनुष्यजाति को सभी पापों से बचाया।
अभी, सारे संसार को पानी और आत्मा के सुसमाचार की ओर लौटना चाहिए। लोगों को पाप से बचाने वाला एकमात्र सुसमाचार पानी और आत्मा का मूल सुसमाचार है। भाइयों, सारे संसार को पानी और लहू के सुसमाचार की ओर लौटना चाहिए। उन्हें पानी और आत्मा के इस सुसमाचार की ओर लौटना है, जिसमें परमेश्वर की धार्मिकता निहित है। 
इसका कारण यह है कि पानी और आत्मा का सुसमाचार ही एकमात्र सत्य है जो हमें पाप से बचा सकता है। केवल परमेश्वर की धार्मिकता वाला सुसमाचार ही हमें बचा सकता है, हमें पापरहित बना सकता है और हमें परमेश्वर की सन्तान में बदल सकता है। इसके अलावा, हमारे दिलों में पवित्र आत्मा परमेश्वर के लोगों की रक्षा करता है और यह पवित्र आत्मा हमारे लिए प्रार्थना करता है, हमें आशीष देता है, हमेशा हमारे साथ रहता है और हमें एक उपहार के रूप में अनन्त जीवन देता है।
यह देखना बहुत ही कष्टदायक है कि ऐसे बहुत से लोग हैं जो इस सुसमाचार पर ध्यान ही नहीं देते हैं। मैं आशा करता हूँ कि हर कोई यीशु के बपतिस्मे की स्पष्ट समझ के द्वारा पानी और पवित्र आत्मा के इस सुसमाचार में विश्वास करेगा। यूहन्ना से यीशु ने जो बपतिस्मा प्राप्त किया वह कुछ ऐसा नहीं है जिसे यीशु ने स्वीकार किया क्योंकि वह विनम्र था। उसके बपतिस्मा लेने का कारण इस जगत के सभी पापों को सहन करना था। यूहन्ना, जो स्त्रियों से जन्म लेनेवालों में सबसे महान पुरुष था, उसने यीशु को बपतिस्मा देते समय उसके सिर पर हाथ रखे। यह पुराने नियम में दोषरहित पापबलि के सिर पर महायाजक के हाथों को रखने के समान है (लैव्यव्यवस्था १६:२१)। क्रूस पर यीशु की मृत्यु पापों को अपने शरीर पर लेने का परिणाम थी, और यह पापबलि के रक्त बहाने और हाथों को रखने के बाद मरने के समान है। 
क्योंकि पानी और पवित्र आत्मा के इस सुसमाचार का उल्लेख पुराने और नए नियम दोनों में किया गया है, इसलिए जो कोई भी मूल सुसमाचार के किसी भी हिस्से को छोड़कर दूसरे सुसमाचार में विश्वास करता है, वह गलत विश्वास करता है। यीशु ने इस जगत में सबसे पहला और महत्वपूर्ण कार्य किया वह था यूहन्ना से बपतिस्मा लेना। आपके लिए यह विश्वास करना बहुत गलत है कि उसका बपतिस्मा केवल एक प्रतीक है और यह सोचना कि यीशु ने अपनी विनम्रता से बपतिस्मा लिया है।
किस प्रकार का व्यक्ति विधर्मी है? तीतुस ३:१०-११ में, लिखा है, “किसी पाखंडी को एक दो बार समझा–बुझाकर उससे अलग रह, यह जानकर कि ऐसा मनुष्य भटक गया है, और अपने आप को दोषी ठहराकर पाप करता रहता है”। पाखंडी व्यक्ति खुद को दोषी ठहराता है। खुद को दोषी ठहराने वाला व्यक्ति मतलब ऐसा व्यक्ति जो स्वीकार करता है और अंगीकार करता है की उसने पाप किया है। इसलिए, जो मसीही कहता है “मैं पापी हूँ” वह पाखंडी है, अर्थात् विधर्मी। लिखा है, “किसी पाखंडी को एक दो बार समझा–बुझाकर उससे अलग रह”। 
क्योंकि इस तरह का मसीही विकृत और सड़ा हुआ है, पापहीन संत को ऐसे विधर्मी के पास नहीं जाना चाहिए। वह वो है जो आत्म-निंदा करता है क्योंकि उसका अपना विश्वास और धार्मिक जीवन सड़ गया है। एक व्यक्ति जो परमेश्वर के सामने माफ़ न करनेवाला पाप करता है वह वो है जो पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करके पापरहित नहीं होना चाहता, बल्कि वो यह कहते हुए परमेश्वर के उद्धार को ठुकरा कर पाप करता रहता है की वो अभी भी एक पापी है। जो यह सोचकर आत्म-निंदा करता है कि भले ही वह यीशु में विश्वास करता है फिर भी उसके पास पाप है और इसलिए वह खुद को पापी कहता है, वह नरक में जाने वाला विधर्मी है।
कुछ मसीही अपनी कारों के पीछे एक स्टिकर लगाते हैं, जिस पर लिखा होता है, 'यह मेरी गलती है।' यह मानवीय आंखों से देखने पर एक नम्र कहावत लगती है, लेकिन वास्तव में, इसका मतलब है कि चूंकि यह सब अपनी खुद ही गलती है, ऐसे नरक में जाना, विभाजनकारी व्यक्ति बनना, और शापित होना सब अपनी ही गलती है। 'यह मेरी गलती है' एक विरोधाभासी कहावत है कि व्यक्ति धार्मिक जीवन जीने वाला है। हालाँकि, यह कहना कि ऐसे नारे का समर्थक, जो सोचता है कि वह धार्मिक जीवन जी सकता है वह सीधे तौर पर परमेश्वर के उन वचनों को चुनौती दे रहा है जो मनुष्य को अधर्म के बीज के रूप में परिभाषित करते हैं। जो लोग इस प्रकार के मानवीय विचारों का अनुसरण करते हैं, वे अन्त में सारे प्रकार के शापों को प्राप्त करेंगे। 

क्या आप में से ऐसे लोग हैं जो आत्म-निंदा कर रहे हैं? तब आपको एक बार फिर से रोमियों अध्याय ३ पर मेरे उपदेश को ध्यान से सुनना चाहिए, जिसमें कहा गया है कि पाप की माफ़ी का अर्थ धर्मी ठहराने का सिद्धांत नहीं है। रोमियों इस बारे में बहुत विस्तार से बात करते हैं। प्रेरित पौलुस पहले से जानता था कि लोग आनेवाले दिनों में क्या कहेंगे और इसलिए उसने पहले ही कहा कि पापरहित होना वास्तव में बिना पाप के बनना है और केवल पापी को धर्मी कहना नहीं है। उन्होंने यह भी स्पष्ट रूप से गवाही दी कि केवल पानी और आत्मा का सुसमाचार ही सत्य है। इसलिए, यह स्वाभाविक है कि जो लोग केवल क्रूस के लहू में विश्वास करते हैं वे रोमियों को पढ़ते हुए अज्ञानी और गूंगे हो जाएंगे।
रोमियों के लिए प्रेरित पौलुस का पत्र एक महान शास्त्र है क्योंकि यह पानी और आत्मा के सुसमाचार की गवाही देता है। यीशु में विश्वास करने के बाद व्यक्ति को धर्मी बनना चाहिए फिर भले ही वो विश्वास करने से पहले पापी था। व्यक्ति को वास्तव में एक ऐसा धर्मी व्यक्ति बनना चाहिए जिसके हृदय में कोई पाप न हो। इस प्रकार व्यक्ति को सही प्रकार का विश्वास प्राप्त होता है। 
मुझे आशा है कि भले ही इस समय लोगों का विश्वास परिपूर्ण न हों लेकिन उनका विश्वास अन्त में पूर्णता तक पहुंच जाएगा, जब वे नया जन्म पाई हुई कलीसिया के द्वारा पानी और आत्मा के सुसमाचार को सुनेंगे। कृपया, इन उपदेशों के माध्यम से पानी और आत्मा के सुसमाचार के बारे में अधिक जानें और सत्य के वचनों की पुष्टि करें।
मुझे विश्वास है कि परमेश्वर हमें स्वर्गीय आशीषों के धन से संपन्न करेगा।