उपदेश

विषय ९ : रोमियों (रोमियों की पत्री किताब पर टिप्पणी)

[अध्याय 1-3] ( रोमियों १:१७ ) विश्वास से धर्मी जन जीवित रहेगा

( रोमियों १:१७ )
“क्योंकि उसमे परमेश्वर की धार्मिकता विश्वास से और विश्वास के लिए प्रगट होती है; जैसा लिखा है, ‘विश्वास से धर्मी जन जीवित रहेगा।’”
 

हमें विश्वास से जीवन जीना चाहिए

धर्मी कैसे जीते हैं? विश्वास से। धर्मी विश्वास से जीते हैं। वास्तव में, 'विश्वास' शब्द बहुत आम है, लेकिन यह बाइबल का मूल है। धर्मी केवल विश्वास से ही जीते हैं। धर्मी कैसे जीते हैं? वे परमेश्वर पर अपने विश्वास से जीते हैं। मुझे आशा है कि हम इस भाग से प्रबुद्ध हो जाएंगे क्योंकि हमारे पास देह है और पवित्र आत्मा हमारे अन्दर निवास करता हैं। हम बाइबल में छिपे वास्तविक अर्थों को नहीं जानते हुए, अपने स्वयं के विचारों से शास्त्रों की कई व्याख्या करते हैं, हालाँकि हम बाइबल को शाब्दिक रूप से समझ सकते हैं। हमारे पास एक साथ देह और आत्मा है। इसलिए, बाइबल कहती है कि हम, धर्मी, विश्वास से जीवित रहेंगे क्योंकि हमारे पास पापों की माफ़ी है।
 

लेकिन समस्या यह है की देह कुछ भी अच्छा नहीं कर सकती 

लेकिन समस्या यह है कि हमारे पास देह भी है। इसलिए, कई मामलों में, हम देह के मुताबिक़ न्याय करते हैं। कभी-कभी, हम देह के निश्चित विचारों के साथ किसी चीज़ का न्याय करते हैं और उसकी पहचान करते हैं, और इस प्रकार जब विश्वास की बात आती है तो हम उसके वचन पर पूरी तरह से विश्वास नहीं करते हैं। हालाँकि, बाइबल केवल यह कहती है कि धर्मी केवल विश्वास से ही जीवित रहेगा। फिर इसका क्या मतलब है? आप शायद सोचोगे, ‘ऐसा धर्मी कहाँ हैं जो विश्वास से नहीं जीते? आप इस वचन पर जोर क्यों देते हैं? क्या यह शास्त्रों में से केवल एक वचन नहीं है?'
आज मैं आपको इस वचन के बारे में बताना चाहता हूं। हमें विश्वास से जीना चाहिए। हमें अपनी अज्ञानता का एहसास तब तक नहीं होता जब तक हम कुछ समझाने की कोशिश नहीं करते, हालांकि हमें लगता है कि हम अपने विचारों में इसके बारे में अच्छी तरह जानते हैं। एक पापी किस विरोधी से लड़ता है? जो व्यक्ति नया जन्म प्राप्त नहीं करता है वह अपने विचारों और अपनी देह से लड़ता है। नया जन्म लेने वाला व्यक्ति किसके साथ लड़ता है? व्यक्ति के भीतर की देह और आत्मा आपस में लड़ते हैं। आपको आश्चर्य हो सकता है कि हम जो पहले से जानते हैं उसे मैं क्यों दोहरा रहा हूं, लेकिन मैं इसे बार-बार समझाना चाहूंगा क्योंकि यह बताने लायक है।
यहां तक कि एक नए जन्म प्राप्त किए हुए संत में भी, उसकी देह और आत्मा लगातार एक दूसरे से लड़ते हैं क्योंकि उसके पास भी देह है। देह में एक सहज अंग है जो विश्वास से जीने के बजाय, सभी समस्याओं को संभालने की कोशिश करते हुए, भव्यता से जीना पसंद करता है। एक धर्मी व्यक्ति की देह में एक सहज हिस्सा भी होता है जो बिना किसी गलती के पूर्णता तक पहुंचने की कोशिश कर रहा है, जो उस विश्वास के अनुसार जीने से दूर है जिसे परमेश्वर उन्हें जीने के लिए कहता है। 
इसलिए, धर्मी की देह भी आत्मिक कार्यों में भी पूर्णता तक पहुंचना चाहता है, हर आत्मिक समस्या से पूरी तरह से निपटने की कोशिश कर रहा है और एक ही समय में शारीरिक पूर्णता तक पहुंचने की उम्मीद कर रहा है। लेकिन क्या कोई देह के द्वारा विश्वास का जीवन जी सकता है? जैसे पौलुस ने कहा की, “क्योंकि जिस अच्छे काम की मैं इच्छा करता हूँ, वह तो नहीं करता, परन्तु जिस बुराई की इच्छा नहीं करता, वाही किया करता हूँ" (रोमियों 7:19), देह कभी भी अच्छा नहीं कराती। हमारे पास देह में एक वृत्ति है जो भले ही बुराई करती हो लेकिन परमेश्वर के सामने शानदार ढंग से जीने की इच्छा रखती है।
 

हम देह के साथ विश्वास का जीवन नहीं जी सकते

कठोरता से बोलूं तो, देह के साथ एक धर्मनिष्ठ जीवन जीने की कोशिश करना सही विश्वास होने से बहुत दूर है। बाइबिल के दृष्टिकोण से हमारे पास परमेश्वर के प्रति विरोधाभासी विचार और प्रवृत्ति है। देह में सिद्ध होना और देह के साथ किसी भी समस्या के बिना विश्वास का जीवन जीना असंभव है। मनुष्य देह धूल के समान है। बाइबल कहती है, "उसे स्मरण रहता है कि मनुष्य मिट्टी ही हैं" (भजन संहिता १०३:१४)। यह एक भाप की तरह है जो थोड़ी देर के लिए प्रकट होती है और फिर अद्रश्य हो जाती है क्योंकि यह अपूर्ण है।
क्या नया जन्म पाए व्यक्ति और नया जन्म न पाए हुए व्यक्ति दोनों की देह में पाप न करने की क्षमता होती है? क्या नया जन्म पाया हुआ व्यक्ति पाप करने से बच सकता है? यदि देह पाप किए बिना जीवित रह सकता है तो हमें विश्वास से जीने की आवश्यकता नहीं है। तब क्या हम देह की सामर्थ पर जीवित रह पाएंगे? हम निश्चित रूप से जानते हैं कि यह संभव नहीं है। समस्या यह है कि क्या हम जानते हैं और पहचानते हैं कि चाहे हमने नया जन्म प्राप्त किया हो या नहीं, देह इतनी कमजोर है कि यह पाप करना जारी रखती है। 
हम अपनी देह के बारे में कितना जानते हैं? हम अपने बारे में कितना जानते हैं? आप सोच सकते हैं कि आप स्वयं को 100% जानते हैं, लेकिन आपकी आत्म-पहचान आपके वास्तविक चरित्र से बहुत दूर है क्योंकि आप वास्तव में यह नहीं मानते कि आप पापी हैं। आपको क्या लगता है कि आप अपने बारे में कितने प्रतिशत जानते हैं? 50% भी बहुत ज्यादा होगा। लोग आमतौर पर खुद को ज्यादा से ज्यादा 10 या 20% तक ही समझते हैं। वास्तव में, वे स्वयं के बारे में 10 या 20% जानते हैं, हालांकि उन्हें लगता है कि वे स्वयं को 100% जानते हैं। जब वे सोचते हैं कि उन्होंने बहुत बुरे काम किए हैं, तो वे लज्जित हो जाते हैं और प्रभु का अनुसरण करना छोड़ देते हैं। फिर, वे सवाल करते हैं कि क्या वे अन्त तक अपने विश्वास का पालन कर पाएंगे या नहीं, और इस निष्कर्ष पर पहुंचते हैं कि यह असंभव है। 
कामुक मन की नाली से बड़ी तादाद में गंदा पानी और कचरा निकलता है। उनके लिए विश्वास से धर्मी जीवन जीना असंभव प्रतीत होता है। "ओह! मुझे लगता है कि अब प्रभु का अनुसरण करना संभव नहीं है। मैंने सोचा था कि मेरे पाप एक ही बार में हमेशा के लिए मिट जाएंगे उसके बाद मेरी देह बेहतर हो जाएगी, लेकिन भले ही मुझे नया जन्म प्राप्त किए हुए एक लंबा समय हो गया हो लेकिन अभी भी मेरी देह कमजोर है और मैं पूर्णता से कम हो गया हूं। देह बेकार और बदसूरत है।” हम अपने बारे में बिल्कुल भी नहीं जानते हैं और विशेष रूप से हम अपनी देह के दोषों को भी स्वीकार नहीं करना चाहते हैं। तो इसका परिणाम यह होता है कि जब हम देखते हैं कि देह से बहुत से शारीरिक विचार निकलते हैं तो हम विश्वासयोग्य जीवन नहीं जी सकते हैं। हम कभी भी देह के द्वारा विश्वास का जीवन नहीं जी सकते। मनुष्य की देह क्या है? क्या यदि मनुष्य देह अपने स्वयं के परीक्षणों से अच्छी तरह से प्रशिक्षित है तो क्या वह धीरे-धीरे पवित्र हो जाएगी और परमेश्वर के सामने एक सम्पूर्ण जीवन जिएगी? यह बिल्कुल असंभव है, और देह अंतिम समय तक पाप करती रहती है।
 

तो फिर धर्मी कैसे जीवित रहेगा?

“फिर जब तुम इन सब आज्ञाओं में से जिन्हें यहोवा ने मूसा को दिया है किसी का उल्‍लंघन भूल से करो, अर्थात् जिस दिन से यहोवा आज्ञा देने लगा, और आगे की तुम्हारी पीढ़ी पीढ़ी में उस दिन से उसने जितनी आज्ञाएँ मूसा के द्वारा दी हैं, उसमें यदि भूल से किया हुआ पाप मण्डली के बिना जाने हुआ हो, तो सारी मण्डली यहोवा को सुखदायक सुगन्ध देने वाला होमबलि करके एक बछड़ा, और उसके संग नियम के अनुसार उसका अन्नबलि और अर्घ चढ़ाए, और पापबलि करके एक बकरा चढ़ाए। तब याजक इस्राएलियों की सारी मण्डली के लिये प्रायश्‍चित्त करे, और उनकी क्षमा की जाएगी; क्योंकि उनका पाप भूल से हुआ, और उन्होंने अपनी भूल के लिये अपना चढ़ावा, अर्थात् यहोवा के लिये हव्य और अपना पापबलि उसके सामने चढ़ाया। इसलिये इस्राएलियों को सारी मण्डली का, और उसके बीच रहनेवाले परदेशी का भी, वह पाप क्षमा किया जाएगा, क्योंकि वह सब लोगों के अनजाने में हुआ। “फिर यदि कोई प्राणी भूल से पाप करे, तो वह एक वर्ष की एक बकरी पापबलि करके चढ़ाए। और याजक भूल से पाप करनेवाले प्राणी के लिये यहोवा के सामने प्रायश्‍चित्त करे; अत: इस प्रायश्‍चित्त के कारण उसका वह पाप क्षमा किया जाएगा। जो कोई भूल से कुछ करे, चाहे वह इस्राएलियों में देशी हो, चाहे तुम्हारे बीच परदेशी होकर रहता हो, सब के लिए तुम्हारी एक ही व्यवस्था हो” (गिनती १५:२२-२९)।
“फिर जब तुम इन सब आज्ञाओं में से जिन्हें यहोवा ने मूसा को दिया है किसी का उल्‍लंघन भूल से करो।” बाइबल में "भूल से पाप" जैसे कई भाव हैं। देह भूल से पाप करती है और जो नहीं करना चाहिए वह करती है। मैंने आपसे पूछा था कि क्या देह का सिद्ध होना संभव है, लेकिन पाप से छूटने के बाद भी यह सिद्ध नहीं हो सकता। हमारे छुटकारे के ठीक बाद शुरू में हमारी देह हमें सम्पूर्ण धर्मी लगती है। लेकिन वास्तव में, यह हमें स्वयं को प्रकट करने में सहायता नहीं करता है बल्कि हमें छुपाता है। देह कचरा फैलाती है और हर समय पाप कराती है। देह हमेशा ऐसे पाप करता है जिनसे परमेश्वर घृणा करता है। क्या देह अनगिनत बार पाप नहीं करता? क्या हमारी देह हमेशा उस तरह जीवित रहती है, जैसा परमेश्वर चाहता है? देह हमेशा वही करता है जो परमेश्वर नहीं चाहता। देह हमेशा अनियंत्रित रूप से पाप करती है।
परमेश्वर की व्यवस्था में दस आज्ञाएँ हैं और इसमे ६१३ प्रकार के विस्तृत लेख हैं। "तू मुझे छोड़ दूसरों को इश्वर करके न मानना। तू अपने लिए कोई मूर्ति खोदकर न बनाना। तू अपने परमेश्वर यहोवा का नाम व्यर्थ न लेना। तू विश्रामदिन को पवित्र मानने के लिए स्मरण रखना। तू अपने पिता और अपनी माता का आदर करना। तू खून न करना। तू व्यभिचार न करना। तू चोरी न करना। तू अपने पड़ोसी के विरुद्ध झूठी गवाही न देना। तू अपने पड़ोसी के घर का लालच न करना।” पहली चार आज्ञाएँ वे आज्ञाएँ हैं जिन्हें परमेश्वर के साथ संबंध बनाए रखने के लिए पालन करना चाहिए। बाकी आज्ञाएँ, पाँचवीं आज्ञा से दसवीं आज्ञा तक, वे आज्ञाएँ हैं जिन्हें मनुष्यों के बीच पालन करना चाहिए। लेकिन क्या देह व्यवस्था का पालन करने के लिए खुश है?
पैदल चलने वालों के सुरक्षित सड़क पार करने के लिए सड़क पर सफेद लाइनें होती हैं। लेकिन देह कभी भी यातायात नियमों का पालन नहीं करना चाहती। लोग इस डर से लाइन के भीतर सड़क पार करते हैं क्योंकि कि दूसरे लोग उन्हें देख रहे होते है। वास्तव में, वे कानून का पालन नहीं करना चाहते हैं। जब कोई आसपास नहीं होता है तो वे ट्रैफिक सिग्नल को नकारते हुए सड़क पार करते हैं।
देह अपने आप से पाप करता है। यदि वे अच्छी तरह से शिक्षित हैं, तो उन्हें यातायात संकेतों पर ध्यान देना चाहिए फिर चाहे दूसरे लोग उन्हें देख रहे हो या नहीं। हालाँकि, उन्हें केवल देह के द्वारा ही स्वीकार किया जाएगा। हम यातायात संकेतों के अनुसार सड़क पार करने से नफरत करते हैं और जितना संभव हो सके उनका पालन न करने का प्रयास करते हैं। 
फिर, परमेश्वर का हमें व्यवस्था देने का क्या उद्देश्य है? व्यवस्था हमें पाप का ज्ञान देती है (रोमियों ३:२०)। व्यवस्था से, हमें पता चलता है कि हम वे पापी हैं जो हमेशा दस आज्ञाओं की अवहेलना करते हैं। हम हमेशा पाप करते हैं। व्यवस्था हमेशा हमें अच्छा करने और बुराई न करने की अपेक्षा करता है। फिर भी, हमारी देह हमेशा पाप करती है क्योंकि यह व्यवस्था का पालन करने के लिए बहुत कमजोर है। बाइबल कहती है कि धर्मी विश्वास से जीवित रहेगा। लेकिन, धर्मी, जिनके पास यह देह है, वे विश्वास से कैसे जीते हैं? वे भी अपनी देह में व्यवस्था के अनुसार नहीं जी सकते, तो फिर वे कैसे जीते हैं? धर्मी परमेश्वर पर अपने विश्वास के द्वारा जीते है।
आत्मा परमेश्वर की इच्छा का पालन करना चाहती है, लेकिन देह हमेशा दस आज्ञाओं के सभी लेखों की अवज्ञा करते हुए पाप करता है। देह बारी-बारी से पाप करता है, कुछ पाप आज करता है और कुछ पाप कल करता है। ऐसे कुछ पाप हैं जिन्हें देह अन्य पापों से अधिक करना पसंद करता है। मनुष्य देह जीवन भर पाप करती है। यह सही है या नहीं? 
आइए हम पांचवीं आज्ञा की ओर अपना ध्यान केन्द्रित करें। “अपने पिता और अपनी माता का आदर कर।” यह पूरी तरह से उचित है, और लोग हर समय इसका पालन नहीं कर सकते फिर भी इसका पालन करने की कोशिश करते है। तो चलिए फिर इस पर चर्चा करना छोड़ देते हैं। अगला है "तू खून न करना।" हम सब अपने मन में दूसरों का खून करते हैं, जबकि कुछ ही लोग वास्तव में देह के अनुसार खून करते हैं। हालाँकि, इसे भी छोड़ दें क्योंकि हत्या करना घोर पाप है। अगले हैं "तू व्यभिचार न करना" और "तू चोरी न करना।" ये पाप हमारे दैनिक जीवन में आसानी से हो जाते हैं। कुछ लोगों में चोरी करने और व्यभिचार करने की जन्मजात प्रतिभा होती है। उन्होंने पाप करने की आदत बना ली है। क्या वे भी लालच नहीं करते? (बाइबल कहती है कि लालच करना भी पाप है।) वे दूसरों की संपत्ति को उनके प्रारंभिक स्थानों (चोरी) से दूर ले जाने में भी अच्छे हैं। देह जब चाहे तब इस प्रकार के बुरे कार्य करता है। 
आइए मान लें कि हम दस प्रकार के पापों में से केवल एक या दो प्रकार के पाप करते हैं। क्या यह हमें परमेश्वर के सामने धर्मी बनाता है? नहीं, ऐसा नहीं है। हम परमेश्वर के सामने देह के अनुसार न्यायी और धर्मी नहीं हैं, क्योंकि थोड़ा सा भी पाप पाप है। देह बार-बार पाप करता है, यह कुछ पाप आज और कुछ पाप कल करता है, जब तक की हम मर नहीं जाते तब तक। जब तक हम मर नहीं जाते तब तक देह परमेश्वर के सामने पाप करता है। तो, क्या आप कभी परमेश्वर के सामने एक दिन के लिए भी शुद्ध और पवित्र है? आइए देह को आत्मा से अलग करते हुए देखें। क्या आपने देह में सम्पूर्ण होकर कभी भी परमेश्वर के सामने पाप नहीं किया? व्यक्ति सोते हुए भी पाप करता है। उसे स्वप्न में भी अश्लील चित्र देखने, कल्पना के माध्यम से सुन्दर स्त्री के बारे में सोचने में आनन्द आता है। हम सब पाप करते हैं। 
देह वही करता है जो परमेश्वर हमें करने के लिए मना करता है और वह नहीं करता जो परमेश्वर हमें करने के लिए कहता है। हमारे पापों के मिट जाने के बाद भी देह हमेशा वैसी ही रहती है। हम सम्पूर्ण कैसे बन सकते हैं? यदि हमारी देह सम्पूर्ण नहीं बन सकती तो फिर पवित्र बनने का मार्ग कौन सा है? हालाँकि, क्या यह यीशु मसीह के द्वारा सम्भव नहीं है? 
हम वे हैं जिन्होंने ये पाप किए हैं। क्या हमने यीशु के सामने पाप किया है? हाँ, हमने पाप किया है। अब हम पाप करते हैं या नहीं? हाँ, हम करते हैं।─ क्या हम पाप करना जारी रखते हैं? हाँ, हम ज़ारी रखते हैं।─ जब तक हमारे पास देह है तब तक हम अपने मरने के दिन तक पाप करेंगे। हम पापी प्राणी हैं जो अपनी अंतिम सांस तक पाप करने के सिवा कुछ नहीं कर सकते। फिर हम अपने सभी पापों से कैसे स्वतंत्र हो सकते हैं? सबसे पहले, यदि आपने अभी तक नया जन्म प्राप्त नहीं किया है, तो आपको अपने पापों को दूर करने के लिए प्रभु के सामने यह स्वीकार करना चाहिए कि आप पापी हैं। छुटकारे के बाद, हमें यह स्वीकार करने की आवश्यकता नहीं है कि हम पापी हैं, परन्तु हमें यह स्वीकार करना चाहिए कि हमने पाप किया है। जब हमने पाप किया हो, तो हमें व्यवस्था के माध्यम से स्वयं पर चिंतन करने के बाद अपने पापों को स्वीकार करना चाहिए, भले ही फिर हम कभी-कभी अच्छा होने के बहाने देह से अच्छे काम करते हों। हमें पाप को पाप मान लेना चाहिए।
 

हम विश्वास के द्वारा पवित्र किए गए है

फिर हम पाप करने के बाद पाप की समस्या से कैसे निपटते हैं? क्या हम इस विश्वास के द्वारा पवित्र हैं कि यीशु ने यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले से बपतिस्मा लेने के द्वारा हमारे सभी पापों को उठा लिया और हमें छूटकारा देने के लिए क्रूस पर न्यायसहा? हाँ।─ हम यह विश्वास करने के द्वारा पवित्र किये जाते हैं कि देह के द्वारा किए गए सभी पाप यीशु के द्वारा बपतिस्मा लेने पर उसके ऊपर पारित किए गए थे। तो फिर इस भाग का क्या मतलब है, "धर्मी विश्वास से जीवित रहेगा"?
विश्वास होना आत्मा में विश्वास करना है, देह में नहीं। केवल परमेश्वर, उसके वचन, उसकी व्यवस्था और उसके छुटकारे में विश्वास करने से ही हम पवित्र हो सकते हैं, और हम उस पर विश्वास करने के द्वारा धर्मी बनने के बाद सम्पूर्ण हो सकते हैं। क्या यह सच है या नहीं? यह सच है। भले ही हम पापों की माफ़ी पाकर धर्मी बन जाए लेकिन फिर भी देह अभी भी कमजोर है और पूर्णता से दूर है। बाइबल कहती है, "क्योंकि धार्मिकता पर मन से विश्वास किया जाता है, और उद्धार के लिये मुंह से अंगीकार किया जाता है" (रोमियों १०:१०)। लेकिन शरीर हमेशा कमजोर और अपरिपूर्ण होता है, ठीक वैसे ही जैसे प्रेरित पौलुस का था। इसलिए, हम न तो धर्मी बन सकते हैं और न ही देह के साथ धीरे-धीरे धार्मिकता तक पहुँच सकते हैं। देह धर्मी जीवन नहीं जी सकता।
जिस तरह से न्यायी जी सकता है वह है परमेश्वर पर विश्वास करना, अर्थात् पापों की माफ़ी और आशीष को स्वीकार करना, जो परमेश्वर ने हमें दिया है। हम परमेश्वर के द्वारा प्राप्त धार्मिकता पर निर्भर रहते हुए पवित्र हो सकते हैं और धर्मी बने रह सकते हैं, और उस पर हमारे विश्वास के द्वारा अनन्त जीवन प्राप्त कर सकते है। हमारा जीवन परमेश्वर पर हमारे विश्वास पर निर्भर है। इसलिए बाइबल कहती है कि धर्मी विश्वास से जीवित रहेगा। हम विश्वास से पवित्र होते हैं और विश्वास करने और उसके द्वारा जीने के द्वारा परमेश्वर की धार्मिकता को बनाए रखते हैं। भले ही देह धर्मी नहीं है, फिर भी धीरे-धीरे पवित्र होने का प्रयास करना मूर्खता है क्योंकि यह असंभव है। हम केवल तभी जीवित रह सकते हैं जब हम परमेश्वर को अपना परमेश्वर, अपना प्रभु और अपना चरवाहा मानने के द्वारा उसकी सहायता प्राप्त करते हैं।
इसलिए प्रेरित पौलुस पुराने नियम के हबक्कूक की पुस्तक से उद्धृत करते हुए कहता है, ''धर्मी जन विश्वास से जीवित रहेंगे।'' वह यह भी कहता है, "क्योंकि उसमें (सुसमाचार) परमेश्वर की धार्मिकता प्रगट होती है।" परमेश्वर की धार्मिकता क्या है? क्या यह मनुष्यों की धार्मिकता के समान है? क्या थोड़ा-थोड़ा करके पापों को कम करना हमें पवित्र करता है? क्या हम यीशु पर विश्वास करने के बाद या हमारे पास विश्वास होने के बाद पाप न करने से सम्पूर्ण है? 
केवल सुसमाचार में, परमेश्वर की धार्मिकता प्रकट होती है और यह केवल हमें पापों की माफ़ी के द्वारा पूरी तरह से पवित्र करती है क्योंकि हम कभी भी देह के साथ धर्मी नहीं हो सकते। "क्योंकि उसमे परमेश्वर की धार्मिकता विश्वास से और विश्वास के लिए प्रगट होती है।" इसका अर्थ है कि हम केवल विश्वास से ही धर्मी बनते हैं। धर्मी बनने के बाद धर्मी परमेश्वर पर विश्वास करने के द्वारा न्यायी बनता है। धर्मी न्यायी बनाता हैं, परमेश्वर की धार्मिकता को बनाए रखते हैं और विश्वास के द्वारा परमेश्वर की सारी आशीषों को प्राप्त करते हैं। 
 

हमें विश्वास से जीवन जीना चाहिए

विश्वास से जीना ऐसा ही है। एक इंसान की इच्छा चाहे कितनी भी मजबूत क्यों न हो लेकिन वह रेत के महल से भी ज्यादा आसानी से टूट जाती है। वह कहेगा, “प्रभु, मैं यह और वह सब करूँगा।" हालाँकि, देह ऐसा नहीं कर सकता। हम पापों की माफ़ी प्राप्त करने के बाद, प्रभु में विश्वास और पाप और व्यवस्था से छुटकारे के वचन के द्वारा जीते हैं। अगर हम लंबे समय तक विश्वास का जीवन जीते हैं तो क्या देह अच्छे स्वभाव की, लम्बी और स्मार्ट हो जाती है? कभी नहीँ। इसलिए विश्वास से जीने के लिए परमेश्वर में पूरी तरह से विश्वास करना है। हम सुसमाचार में पूर्ण विश्वास रखने के द्वारा धर्मी बनते हैं और परमेश्वर में अपने विश्वासों के माध्यम से सभी आशीषों को प्राप्त करके जीवन जीते हैं।
धर्मी जन विश्वास से जीएंगे। यानी हम परमेश्वर पर अपने विश्वास के द्वारा जीते हैं। क्या आप इस पर विश्वास करते हैं? हाँ।─ क्या आप अपनी देह से बहुत अधिक अपेक्षाएं रखते हैं? क्या आपको लगता है, 'मैं केवल 20% की उम्मीद करता हूं, मेरी देह अभी भी इस बात में अच्छा है लेकिन मेरी देह अन्य बातों में सही नहीं है'? हालाँकि, बाइबल कहती है कि धर्मी विश्वास से जीवित रहेगा। परमेश्वर कहते हैं कि मनुष्य देह के द्वारा नहीं जी सकता; 0.1% भी नहीं। क्या आपके पास पाप न करने और शरीर की थोड़ी सी भी आशा रखने के द्वारा प्रभु के फिर आने तक विश्वास रखने का मन है? 
हमने चाहे कितने भी पाप किए हो उसके बावजूद भी हम यीशु में विश्वास के द्वारा धर्मी हैं। हम चाहे कितने भी अच्छे क्यों न हो लेकिन यदि हम यीशु पर विश्वास नहीं करते तो हम अभी भी देह में पापी हैं। जब हम यीशु पर 100% विश्वास करते हैं तो हम पवित्र हो जाते हैं, लेकिन हम उस पर 100% विश्वास नहीं करते तब हम पापी बन जाते हैं। चाहे हम कितने ही कम पाप क्यों न कर लें लेकिन क्या परमेश्वर प्रसन्न होता है? यदि हम देह के द्वारा धर्मी हैं तो क्या यह परमेश्वर को प्रसन्न करता है?
 

परमेश्वर की धार्मिकता ने हमें धर्मी बनाया है
 
आइए रोमियों ३:१-८ देखते है, “अत: यहूदी की क्या बड़ाई या खतने का क्या लाभ? हर प्रकार से बहुत कुछ। पहले तो यह कि परमेश्‍वर के वचन उनको सौंपे गए। यदि कुछ विश्‍वासघाती निकले भी तो क्या हुआ? क्या उनके विश्‍वासघाती होने से परमेश्‍वर की सच्‍चाई व्यर्थ ठहरेगी? कदापि नहीं! वरन् परमेश्‍वर सच्‍चा और हर एक मनुष्य झूठा ठहरे, जैसा लिखा है, “जिससे तू अपनी बातों में धर्मी ठहरे और न्याय करते समय तू जय पाए।” इसलिये यदि हमारा अधर्म परमेश्‍वर की धार्मिकता ठहरा देता है, तो हम क्या कहें? क्या यह कि परमेश्‍वर जो क्रोध करता है अन्यायी है? (यह तो मैं मनुष्य की रीति पर कहता हूँ)। कदापि नहीं! नहीं तो परमेश्‍वर कैसे जगत का न्याय करेगा? यदि मेरे झूठ के कारण परमेश्‍वर की सच्‍चाई उसकी महिमा के लिये, अधिक करके प्रगट हुई तो फिर क्यों पापी के समान मैं दण्ड के योग्य ठहराया जाता हूँ? “हम क्यों बुराई न करें कि भलाई निकले?” जैसा हम पर यही दोष लगाया भी जाता है, और कुछ कहते हैं कि इनका यही कहना है। परन्तु ऐसों का दोषी ठहराना ठीक है” (रोमियों ३:१-८)।
प्रेरित पौलुस ने कहा, “इसलिये यदि हमारा अधर्म परमेश्‍वर की धार्मिकता ठहरा देता है, तो हम क्या कहें? क्या यह कि परमेश्‍वर जो क्रोध करता है अन्यायी है?” क्या परमेश्वर अन्यायी और गलत है यदि वह अपनी कृपा से एक ऐसे इंसान को बचाता है जिसकी देह मरते दम तक पाप करती है? जिन्होंने पौलुस का उपहास उड़ाया था उसके बदले में प्रेरित पौलुस ने जो कहा उसका मतलब है, "जितनी अधिक हमारी दुर्बलता प्रकट होगी, उतनी ही अधिक परमेश्वर की धार्मिकता होगी जो हमें हमारे सभी पापों से बचाती है।" प्रेरित पौलुस उन लोगों से बात करता है जो सोचते हैं कि एक इंसान जो अपने पूरे जीवन में पाप करता है वह कैसे पवित्र हो सकता है। उनका कहना है कि मनुष्य की कमजोरी परमेश्वर की धार्मिकता को प्रकट करना है। मनुष्य, जिसकी देह अपनी मृत्यु तक पाप करती है, वह अपनी कमजोरी के द्वारा परमेश्वर की धार्मिकता की महानता का प्रदर्शन करती है। 
यदि कोई व्यक्ति अपनी धार्मिकता के साथ अपने प्रयासों से धर्मी बन सकता है तो फिर परमेश्वर की धार्मिकता का कोई अर्थ नहीं है; यदि कोई व्यक्ति परमेश्वर की मदद से 97% और अपने स्वयं के प्रयासों से 3% बचाया जा सकता है। पौलुस कहता है कि जो लोग अपनी मृत्यु तक पाप करते है उनको केवल परमेश्वर यीशु के द्वारा बचाता है। इसलिए, हमारी अधार्मिकता परमेश्वर की धार्मिकता की महानता को प्रकट करती है। देह मरते दम तक प्रतिदिन पाप करती है; यह एक दिन के लिए भी सम्पूर्ण नहीं हो सकता। यीशु ने इन अपूर्ण पापियों को उनके पापों से पूरी तरह से बचाया था यह तथ्य परमेश्वर की धार्मिकता को और भी अधिक प्रकट करता है। इसलिए, प्रेरित पौलुस कहता है, “हम क्यों बुराई न करें कि भलाई निकले?” जैसा हम पर यही दोष लगाया भी जाता है, और कुछ कहते हैं कि इनका यही कहना है। परन्तु ऐसों का दोषी ठहराना ठीक है” (रोमियों ३:१-८)।
क्या हम देह के द्वारा धर्मी बन सकते हैं? क्या पापों की माफ़ी प्राप्त करने के बाद हमारी देह सम्पूर्ण बन सकती है? देह नहीं कर सकता। जगत के अन्य सभी लोगों को प्रश्न से बाहर छोड़कर, क्या आप और मै देह के द्वारा धर्मी बन सकते हैं? नहीं।─ लेकिन क्या प्रभु ने हमें पूरी तरह से बचाया है या नहीं? हाँ।─ प्रभु ने हमें हमारे सभी पापों से पूरी तरह से बचाया है। यदि हम अपने हृदय से यीशु पर विश्वास करते हैं तो क्या हम पाप के साथ हैं? नहीं।─ चाहे हम कितने भी अधर्मी क्यों न हो लेकिन हमारे अन्दर कोई पाप नहीं है। 
प्रभु ने कहा, “फिर तुम सुन चुके हो कि पूर्वकाल के लोगों से कहा गया था, ‘झूठी शपथ न खाना, परन्तु प्रभु के लिये अपनी शपथ को पूरी करना।’ परन्तु मैं तुम से यह कहता हूँ कि कभी शपथ न खाना; न तो स्वर्ग की, क्योंकि वह परमेश्‍वर का सिंहासन है; न धरती की, क्योंकि वह उसके पाँवों की चौकी है; न यरूशलेम की, क्योंकि वह महाराजा का नगर है। अपने सिर की भी शपथ न खाना क्योंकि तू एक बाल को भी न उजला, न काला कर सकता है। परन्तु तुम्हारी बात ‘हाँ’ की ‘हाँ,’ या ‘नहीं’ की ‘नहीं’ हो; क्योंकि जो कुछ इस से अधिक होता है वह बुराई से होता है” (मत्ती ५:३३-३७)। शपथ खाना अपने आपमे पाप है क्योंकि आप जो शपथ खाते है उसका पालन आप नहीं कर सकते। इसलिए बाद में कुछ करने के लिए न तो शपथ खाइए और ना ही कसम खाइए। केवल परमेश्वर के वचन पर विश्वास करे, और आप जीवित रहेंगे। यदि आप परमेश्वर की धार्मिकता पर विश्वास करते है तो आप धर्मी बन सकते है और यदि आप परमेश्वर पर विश्वास करेंगे तो वह आपको संभाले रखेगा।
बहुत सारे भ्रम हैं। हमारे पास देह की कसौटी है और उसके अनुसार न्याय करते हैं क्योंकि हमारे पास देह है। इसलिए, हमारे भीतर एक न्यायाधीश है जो परमेश्वर के वचन में विश्वास के साथ जुड़ा नहीं है। हमारे भीतर दो न्यायाधीश हैं। एक हम स्वयं है और दूसरा यीशु है। इसलिए वे दोनों हमारे भीतर राज करने की कोशिश करते हैं। हम देह के नियम बनाने और उसके साथ न्याय करने की प्रवृत्ति रखते हैं क्योंकि हमारे पास देह है। देह हमें कहती है, "यदि आप पाप करना जारी रखते हैं फिर भी आप अच्छे हैं। यदि आपकी देह 100% धर्मी नहीं है फिर भी मैं आपको धर्मी होने की स्वीकृति दूंगा।" देह का न्यायाधीश सदैव आपको अच्छे अंक देता है।
हालाँकि, परमेश्वर की धार्मिकता के न्यायी के लिए हमें 100% पापरहित होने की आवश्यकता है। वह पवित्र है। हम केवल विश्वास से पापों की माफ़ी प्राप्त करके ही धर्मी बन सकते हैं। इसलिए, उसके सुसमाचार में विश्वास करने वाले पहले ही परमेश्वर की धार्मिकता तक पहुँच चुके हैं। हम पहले ही धर्मी बन चुके हैं। जो लोग परमेश्वर में विश्वास करते हैं वे वास्तव में जीते हैं। वे परमेश्वर की मदद से आशीषित हैं। धर्मी जन विश्वास से जिएंगे। इसका मतलब यह है कि अविश्वासी और जो लोग देह से जीते हैं वे जीवित नहीं रह सकते। मैं आपको बड़ी तस्वीर का एक छोटा सा हिस्सा बता रहा हूं। मैं आपको बार-बार बता रहा हूं और विस्तार से इसका अर्थ समझा रहा हूं, जैसे हम हड्डियों को बार-बार उबालते हैं जब तक कि सूप सफेद न हो जाए।
 

हमें विश्वास की जरुरत है

बाइबल को जानना महत्वपूर्ण है, लेकिन हम उस पर कितना विश्वास करते हैं, यह अधिक महत्वपूर्ण है। कुछ लोग शास्त्र में केवल परमेश्वर की रचना पर विश्वास करते हैं। कुछ लोगों का मानना है कि परमेश्वर ने स्वर्ग और पृथ्वी दोनों को बनाया और यीशु ने केवल मूल पाप को धोया। उनका मानना है कि उनके दैनिक पाप प्रतिदिन धुलने चाहिए। वे देह की व्यवस्था के अनुसार अपना न्याय खुद करते है। हम कितना विश्वास करते हैं? धर्मी जन विश्वास से जीएंगे। धर्मी बनना और जीना केवल विश्वास द्वारा ही संभव हो सकता है। हमें शुरू से अंत तक परमेश्वर पर विश्वास की जरूरत है।
तो आप कितना विश्वास करते हैं? क्या आप अपने आप को जैसा चाहे वैसे नापते है, दैहिक विचारों में कैद, और सोचते है, 'मैं बिल्कुल ठीक हूँ, मेरी देह अच्छी है' या 'मैं परमेश्वर पर विश्वास करने के लिए बहुत कमजोर हूं'? क्या आप खुद को इसतरह अंक देते हैं, आज खुद को 80% और अगले दिन 95% देते हैं, लेकिन निश्चित दिनों में केवल 5% देते हैं, यह सोचते है, 'यदि मैं पैदा नहीं होता तो बेहतर होता।' क्या आप ऐसा सोचते हैं? हाँ।─ मैं भी। 
मैं कभी-कभी गंभीरता से ऐसा होता हूं। यहां तक कि जब मैं अपने आप को राहत दे रहा होता हूं, तो मैं सोचता हूं, "यह अच्छा होता यदि मैं प्रभु पर विश्वास न करता और उसे जानता न होता। ऐसा लगता है कि विश्वास के द्वारा एक धार्मिक जीवन व्यतीत करना कठिन होता जा रहा है। यह अब तक भयानक रहा है। मैं भविष्य को देखने और अतीत को याद करने की दुविधा में हूं। मैं अब तक किसी तरह विश्वास का जीवन जीने में सफल रहा हूँ। परन्‍तु प्रभु, अब से मैं आपके साथ अच्‍छी तरह से न चल सकूँगा। जब से मैंने आपको जाना है, तब से मैं पाप के प्रति कितना संवेदनशील हो गया हूँ। जब से मैंने आपको जाना है, मेरे भीतर से कई विचार और मानक निकले हैं। प्रभु मैं आपको सही तरीके से नहीं जानता और मैंने नाममात्र आपका अनुसरण किया है। लेकिन अब, मुझे आपका अनुसरण करने का कोई आत्म-विश्वास नहीं है। क्यों? क्योंकि मैं जानता हूं कि परमेश्वर पवित्र और सम्पूर्ण है। आह! परमेश्वर, मैं अब आपका अनुसरण नहीं कर सकता। मेरे अन्दर क्पोई आत्मविश्वास नहीं है।" 
इसलिए, परमेश्वर हमें विश्वास से जीने के लिए कहता है क्योंकि वह हमें अच्छी तरह जानता है। वह कहता है, “आपको धर्मी बने रहना है और विश्वास से आशीषित रहना है। आपके सारे पाप यीशु मसीह के बप्तिस्मा के द्वारा उस पर पारित किए गए है। जब मैं आपकी देह को व्यवस्था पर प्रतिबिम्बित करता हूँ तब हर बार आप पाप करते है। इसलिए स्वीकार करें कि आप पाप करते रहेंगे। क्या आपके उद्धारकर्ता ने आपके सारे पापों को ले लिया है या नहीं? ─हाँ, उसने ले लिए है।─ क्या आपके सारे पाप आपके उद्धारकर्ता पर पारित हुए थे या नहीं? हाँ।─ तो क्या आपके अन्दर पाप है या नहीं? नहीं।─ क्या प्रभु ने आपको बचाया है या नहीं? हाँ।─ फिर अंधकारमय दिन अच्छे दिनों में बदल जाएंगे जिस प्रकार इस भजन में लिखा है: "आज मेरी आत्मा में आनंद है।"
 

हम फिर से पापी नहीं बन सकते

जब हम भविष्य के बारे में सोचते हैं तो यह निराशाजनक हो सकता है, लेकिन जब हम प्रभु को विश्वास के साथ देखते हैं तो वह आनंददायी होता है। इसलिए, परमेश्वर कहते हैं कि धर्मी जन विश्वास से जीवित रहेगा। क्या आप इस पर विश्वास करते हैं? हाँ।─ हम विश्वास से बचाए जाते हैं और इसके द्वारा जीवन भी जीते हैं। हम किस पर विश्वास करते हैं? हम परमेश्वर पर विश्वास करते हुए जीवन जीते है। केवल धर्मी जन ही विश्वास से जी सकता है। क्या आप इस पर विश्वास करते है? हाँ। क्या आप देह को अच्छी तरह प्रशिक्षित करके परमेश्वर की धार्मिकता को बनाए रख सकते हैं? नहीं.─ जब देह बुराई करता है तो क्या परमेश्वर की धार्मिकता अमान्य हो जाती है? क्या हम फिर से पापी बन जाते हैं? नहीं. 
प्रेरित पौलुस ने गलातियों २:१८ में कहा, “क्योंकि जो कुछ मैं ने गिरा दिया यदि उसी को फिर बनाता हूँ, तो अपने आप को अपराधी ठहरता हूँ।” जो व्यक्ति यह विश्वास करता है की यीशु के बप्तिस्मा के द्वारा उसके सारे पाप यीशु पर पारित हो गए है और उसकी वजह से क्रूस पर उसका न्याय हुआ वह व्यक्ति फिर से कभी पापी नहीं बन सकता। जो व्यक्ति यीशु का नकार नहीं करता है वह एक बार में ही पवित्र और पापरहित हो जाता है क्योंकि उसके सारे पाप उस पर पारित हो गए थे और वह फिर कभी पापी नहीं हो सकता। क्या आप को समझ में आ गया? हाँ 
परमेश्वर, जिसने हमें बचाया, वह हमेशा हमारा प्रभु और हमारा पिता है। परमेश्वर हमेशा हमारी मदद करता हैं और जगत के अंत तक हमारे साथ हैं। यही कारण है कि वह कहता है, "विश्वास से जियो। यदि तुम मुझ पर विश्वास करते हो तो मैं तुम्हारी सहायता करूंगा। स्वर्गदूत उनकी सेवा करेंगे जिन्होंने नया जन्म प्राप्त किया है।” स्वर्गदूत परमेश्वर और हमारे बीच के सेवक हैं। वे प्रभु को हमारे बारे में सब कुछ बताते हैं। परमेश्वर ने हमें अपनी संतान बनाया। हम स्वभाव से पापी थे। हम देह के कामों से कभी धर्मी नहीं बन सकते, लेकिन विश्वास से हम धर्मी बन गए हैं। 
हम प्रभु को धन्यवाद देते हैं। विश्वास से प्रभु हमारा चरवाहा और पिता बना है।