उपदेश

विषय ९ : रोमियों (रोमियों की पत्री किताब पर टिप्पणी)

[अध्याय 2-1] रोमियों अध्याय २ का परिचय

इस संसार में, लोगों के केवल दो समूह हैं जो परमेश्वर पर विश्वास करते हैं: यहूदी और मसीही। लोगों के इन दो समूहों में, पहला समूह यीशु पर विश्वास नहीं करता है जबकि दूसरा समूह विश्वास करता है। जो यीशु पर विश्वास नहीं करते उनके विश्वास को परमेश्वर बेकार मानता है। हालाँकि, सबसे गंभीर समस्या का सामना जो मसीही लोग कर रहे है वह यह है की वे किसी तरह से यीशु पर विश्वास तो करते है लेकिन अभी तक उनके पापों की माफ़ी नहीं मिली है। प्रेरित पौलुस इस विषय के बारे में रोमियों अध्याय २ में न केवल यहूदियों और यूनानियों से लेकिन आज के मसीहीयों से भी बात करता है।
 

यहूदी लोग तुरंत ही दूसरों का न्याय करते थे

प्रेरित पौलुस यहूदियों और मसीही दोनों को फटकार लगाता है जिनके पास एक ही तरह के विश्वास हैं। रोमियों २:१ में, पौलुस कहता है, "हे दोष लगानेवाले, तू कोई क्यों न हो,” उन लोगों की निन्दा करता है जो यहूदी या मसीही होने में श्रेष्ठता की भावना से नशे में हैं। यहाँ तक की जिन्होंने परमेश्वर पर विश्वास करने के बावजूद नया जन्म नहीं पाया है वे भी अपने हृदय में यह जानते है की विवेक के नियम में क्या गलत है। इसलिए वे दूसरों को चोरी न करने के लिए कहते हैं। हालाँकि, वे स्वयं व्यभिचार करते हैं और प्रभु के वचनों का पालन नहीं करते हैं, फिर भी स्वयं को परमेश्वर के विश्वासी होने का दावा करते हुए परमेश्वर की आज्ञाओं के साथ दूसरों का मार्गदर्शन करते हैं। ये वे लोग हैं, जो यहूदियों और मसीही में से हैं, जिन्होंने नया जन्म प्राप्त नहीं किया है। 
जो लोग परमेश्वर में विश्वास करते हैं, वे दूसरों से कहते हैं कि वे मूर्तियों की पूजा न करें या हत्या न करें, यह दावा करते हुए कि वे परमेश्वर की व्यवस्था का पालन करते हैं। इसलिए, वे परमेश्वर की व्यवस्था को तोड़कर उसका अनादर करते हैं। 
जो लोग परमेश्वर की धार्मिकता को नहीं जानते, लेकिन यीशु में विश्वास करते हैं, वे भी कहते हैं कि यीशु ही उनका उद्धारकर्ता है। लेकिन उनके विश्वास परमेश्वर की धार्मिकता पर आधारित नहीं हैं, इसलिए वे परमेश्वर की सच्ची धार्मिकता का विरोध करते हैं जिसने पहले ही उनके सभी पापों को मिटा दिया है। वे स्वयं नहीं जानते कि वे परमेश्वर में सच्चे विश्वासियों का विरोध कर रहे हैं। हम देख सकते हैं कि बहुत से लोग स्वयं को मसीही कहते हैं, लेकिन यीशु के प्रेम, या आत्मिक ख़तने को जाने बिना, परमेश्वर की धार्मिकता वाले सुसमाचार को अस्वीकार करते हैं। वे परमेश्वर की इच्छा का पालन करने का दावा करते हैं, लेकिन वास्तव में, उन्होंने यीशु को स्वीकार नहीं किया है और उसे परमेश्वर की निंदा के आरोप में क्रूस पर चढ़ा दिया है कि यीशु ने स्वयं को परमेश्वर के पुत्र के रूप में पहचाना। 
प्रेरित पौलुस ने कहा कि यहूदी वह नहीं जो प्रगट में यहूदी है, पर यहूदी वह है जो मन में है। उनका दावा है कि वे परमेश्वर के लोग हैं और वे परमेश्वर के राष्ट्र का हिस्सा हैं। लेकिन जब यहूदियो ने यीशु को अपने उद्धारकर्ता के रूप में अस्वीकार कर दिया तो फिर वे परमेश्वर पर विश्वास कैसे कर सकते है?
प्रेरित पौलुस कहता है, "खतना वाही है जो हृदय का और आत्मा में है, न कि लेख का" (रोमियों २:२९)। जो लोग आत्मिक खतना में विश्वास करते हैं वे परमेश्वर में सच्चे विश्वासी हैं। वे विश्वास से धर्मी हैं। 
परमेश्वर के विश्वासियों को किससे मान्यता और प्रशंसा प्राप्त करनी चाहिए? उन्हें इसे परमेश्वर से प्राप्त करना चाहिए। पौलुस ने कहा, “ऐसे की प्रशंसा मनुष्यों की ओर से नहीं, परन्तु परमेश्वर की ओर से होती है" (रोमियों २:२९)। यदि हम परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करते हैं, तो हम उसकी प्रशंसा प्राप्त करते हैं और उससे प्रतिफल प्राप्त करते हैं। यदि आप बाहरी रूप से यीशु में विश्वास करते हैं, फिर भी अपने हृदय में पाप को रखते हैं, तो आप वास्तव में परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास नहीं करते हैं; आप केवल उसका उपहास कर रहे हो। इसलिए, आप एक अविश्वासी का न्याय प्राप्त करेंगे।
वे कौन हैं जो परमेश्वर की सच्चाई को नज़रअंदाज़ करते हैं? ये वे लोग हैं जो परमेश्वर के वचन की तुलना में मानवीय वचनों का अधिक गंभीरता से पालन करते हैं। वे मसीही धर्म में खुद को विभिन्न धार्मिक संप्रदायों में संगठित करते हैं और परमेश्वर का विरोध करते हैं। वे परमेश्वर के उद्धार की धार्मिकता का अस्वीकार करते हैं और अपनी एकजुट शक्ति के साथ परमेश्वर के उद्धार की धार्मिकता के खिलाफ खड़े होते हैं। क्या आप अंदाजा लगा सकते हैं कि इन लोगों को किस प्रकार का दण्ड मिलेगा?
 

जो लोग परमेश्वर का विरोध करते है उनके लिए दण्ड

वचन ८ और ९ में लिखा है, “पर जो विवादी है और सत्य को नहीं मानते, वरन अधर्म को मानते है, उन पर क्रोध और कोप पडेगा। और क्लेश और संकट हर एक मनुष्य के प्राण पर जो बुरा करता है आएगा, पहले यहूदी पर फिर यूनानी पर।” 
मनुष्यजाति की प्रत्येक आत्मा जो बुराई करती है उस पर क्लेश और पीड़ा आएगी। यहाँ, अभिव्यक्ति "पीड़ा" नरक में प्राप्त होने वाला दण्ड है। जो लोग बुराई करते हैं, उनके लिए नरक का क्लेश और पीड़ा है। 
जो लोग परमेश्वर को अस्वीकार करते हैं उन्हें किस तरह का शाप मिलता है? जो उसके प्रेम को ठुकराते हैं, परमेश्वर उन पर भयानक न्याय लाता है। आप उन लोगों से देह और मन में शान्ति से रहने के लिए कैसे अपेक्षा करते हैं जिन्होंने परमेश्वर के प्रेम का विरोध किया है, जो आत्मिक खतना से आता है? कुछ लोग अभी और मृत्यु के बाद बर्बाद जीवन जीएंगे, क्योंकि वे परमेश्वर के क्रोध के पात्र हैं। उन्होंने परमेश्वर की धार्मिकता का विरोध किया है और अपने दिलों में सच्ची संतुष्टि नहीं रख सकते हैं। वे उस प्रेम को नहीं जानते जो आत्मिक खतने से आता है; यहां तक कि जब वे यह अंगीकार करते हुए कलीसिया जाते हैं कि वे यीशु में विश्वास करते हैं, तब भी वे अपने पापों को दूर न किए जाने से पीड़ित हैं। 
आप इस रहस्य को सिर्फ इसलिए नहीं जान सकते क्योंकि आप यीशु में विश्वास करते हैं। इसे केवल वे ही जानते हैं जो परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करते हैं। परमेश्वर पर गलत विश्वासियों को सलाह दी जाती है कि आपको पानी और आत्मा के सुसमाचार को समझना चाहिए और उस पर विश्वास करना चाहिए, जो कि परमेश्वर की धार्मिकता है। तब आप अपने आप को पीड़ित अभिशाप से मुक्त करने में सक्षम होंगे। 
यदि कोई मनुष्य यीशु पर विश्वास करने के बावजूद भी कहता है कि उसके हृदय में पाप है, इसका मतलब है कि वह गलत तरीके से विश्वास करता है और उसे सच्चे सुसमाचार में विश्वास करना पडेगा जो परमेश्वर की धार्मिकता को प्रदान करता है। कोई फर्क नहीं पड़ता कि लोग किस संप्रदाय में यीशु पर विश्वास करते हैं, यदि वे किसी तरह उस पर विश्वास करने का दावा करते हैं, फिर भी अपने हृदय में पाप रखते हैं, तो वे परमेश्वर की धार्मिकता की उपेक्षा करने का पाप कर रहे हैं। परमेश्वर पर विश्वास करने का सही परिणाम क्या है? यदि आप सत्य में यीशु को अपने उद्धारकर्ता के रूप में विश्वास करते हैं, तो आप निश्चित रूप से पापरहित होंगे। हालाँकि, यदि यीशु पर विश्वास करने के बाद भी आपके हृदय में पाप है, तो इसका मतलब है कि आपने परमेश्वर की धार्मिकता को पूरी तरह से नहीं समझा है। 
प्रभु जिसने सभी पापियों को उनके पापों से बचाया, वह पहले ही देह में आ चुका है, पापियों को बचाया, और सभी विश्वासियों का उद्धारकर्ता बन गया। फिर, क्या एक व्यक्ति जो वास्तव में पानी और पवित्र आत्मा में विश्वास करता है, पाप कर सकता है? उस व्यक्ति को पाप नहीं करना चाहिए यदि वह जब से यीशु पर विश्वास करता है तब से परमेश्वर की धार्मिकता पर विश्वास करता है। लेकिन ऐसा इसलिए है क्योंकि वह किसी तरह यीशु पर विश्वास करते हुए परमेश्वर की धार्मिकता की उपेक्षा करता है कि उसके दिल में पाप हो जाता है। 
इसलिए आपको अभी से अपनी जिद का त्याग करना होगा। "मैंने यीशु पर गलत विश्वास किया है! फिर मैं किस रीति से यीशु को जानूं और किस प्रकार विश्वास करूं? मुझे समझ में आ गया है कि यीशु पर विश्वास करने के लिए क्रूस महत्वपूर्ण है, लेकिन उसका बपतिस्मा भी बहुत आवश्यक है। अब मुझे समझ में आया कि यीशु को क्रूस पर चढ़ाया गया था और उन्होंने न्याय को प्राप्त किया था क्योंकि उन्होंने बपतिस्मा के द्वारा जगत के सभी पापों को अपने ऊपर ले लिया था।" आपको इन सच्चाइयों को समझना होगा और उन पर विश्वास करना होगा।
जो लोग यहोवा के विरुद्ध हठीले रहते हैं, उन्हें उसके अनुसार परमेश्वर का बदला मिलेगा। परिणाम यह है की आग में डाला जा रहा है। इसलिए मत्ती ७:२२ कहता है, "उस दिन बहुत से लोग मुझ से कहेंगे, 'हे प्रभु, हे प्रभु, क्या हम ने तेरे नाम से भविष्यद्वाणी नहीं की, तेरे नाम से दुष्टात्माओं को नहीं निकाला, और तेरे नाम से बहुत से चमत्कार नहीं किए?'" जब प्रभु फिर से आएंगे, तब जो परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास नहीं करते हैं और जिनके हृदयों में पाप हैं, जबकि बाहरी रूप से यीशु में विश्वास करने का नाटक करते है उनका न्याय परमेश्वर के द्वारा किया जाएगा। वे प्रभु से कहेंगे, “क्या मैं ने तुम पर ठीक से विश्वास नहीं किया? क्या मैं ने तेरे नाम से दुष्टात्माओं को नहीं निकाला और अन्य भाषाएं नहीं बोलीं? हे प्रभु, क्या मैं ने तेरी सेवा नहीं की है?”
हालाँकि, प्रभु कहेगा, “हे अधर्म के काम करनेवालों, मेरे पास से चले जाओ (यह उन लोगों को दर्शाता है जो परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास नहीं करते हैं)! आप कैसे कह सकते हैं कि आप मुझ पर विश्वास करते हैं जबकि आप यह नहीं मानते कि मैंने बपतिस्मा प्राप्त करके और क्रूस पर मरकर आपके सभी पापों को मिटा दिया है? झूठे, तुम अनन्त जलती हुई आग में प्रवेश करोगे। तेरा पाप एक झूठे भविष्यद्वक्ता का है और उसने बहुत से लोगों को नरक में पहुँचाया है।” जो लोग उसकी धार्मिकता पर विश्वास नहीं करते हैं और अपने हठ को नहीं छोड़ते हैं, वे परमेश्वर के भयानक क्रोध को प्राप्त करेंगे। 
इस तरह के विश्वास का सबसे बड़ा उदाहरण यहूदियों का है, और वे अभी भी परमेश्वर के सामने हठी रहते हैं। आज तक, वे यीशु मसीह के द्वारा परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास नहीं करते हैं। यहां तक कि प्रोटेस्टेंटों में भी बहुत से हठीले मसीही हैं जो कहते हैं कि हर बार जब वे पश्चाताप की प्रार्थना करते हैं तो उनके दैनिक पापों को माफ़ किया जा सकता है। इन लोगों को परमेश्वर के क्रोध से बचने के लिए परमेश्वर धार्मिकता पर विश्वास न करने की जिद छोड़ देनी चाहिए।
जब भी वे पश्चाताप करते हैं और प्रतिदिन उसकी माफ़ी के लिए प्रार्थना करते हैं, तो क्या यीशु उन्हें उनके आत्म-अपराधों के लिए माफ़ करते हैं? वह माफ़ नहीं करता है। यूहन्ना बप्तिस्मा देनेवाला, जो पुराने नियम के अंतिम महायाजक और सभी मनुष्यजाति का प्रतिनिधि था, उसने २००० साल पहले यीशु को बपतिस्मा दिया और यीशु ने क्रूस पर खून बहाया। इस प्रकार, उसने परमेश्वर की धार्मिकता को पूरा किया और मनुष्यजाति के सभी पापों को एक ही बार में मिटा दिया।
यीशु ने हमारे पापों को कहाँ ले लिया? जब यीशु ने यरदन नदी में यूहन्ना द्वारा बपतिस्मा लिया तो यीशु ने एक ही बार में मनुष्यजाति के सभी पापों का बोझ अपने ऊपर ले लिया। उन्होंने गोलगोथा जाकर क्रूस पर लहू बहाने और सब पापों के लिए न्याय प्राप्त करके विश्वासियों को पाप से हमेशा के लिए बचाया। लेकिन सभी मसीही-पापी अभी भी जिद्दी हैं और परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास नहीं करते हैं। यदि उनके हृदय पहले ही क्रूस पर लहू के द्वारा सभी पापों से शुद्ध हो चुके हैं, तो उन्हें अपने मरते दम तक पापों के लिए माफ़ी क्यों माँगनी है? वे जिद्दी हो रहे हैं। क्रूस पर यीशु का लहू महत्वपूर्ण है, लेकिन यूहन्ना से प्राप्त यीशु का बपतिस्मा भी इतना महत्वपूर्ण है कि लोगों को परमेश्वर की धार्मिकता प्राप्त करने के लिए विश्वास करना चाहिए और अपने पापों से माफ़ी प्राप्त करनी चाहिए। 
हर कोई जिद्दी है! परन्तु परमेश्वर के साम्हने, उसकी धार्मिकता को ठुकराने की अपनी ज़िद को छोड़ देना चाहिए। जो लोग परमेश्वर में विश्वास करते हैं, उन्हें उसकी आज्ञा का पालन करना चाहिए और उस पर विश्वास करना चाहिए। मैं भी बहुत हठीला हूँ, परन्तु मैं ने परमेश्वर के सामने अपनी ज़िद छोड़ दी और उसके अनुग्रह से धर्मी हो गया।
परमेश्वर की धार्मिकता को हृदय में स्वीकार करके अपनी ज़िद का त्याग करना और पापों की माफ़ी प्राप्त करना ही सच्चा पश्चाताप है। माफ़ी प्राप्त करने के बाद, हमें अपने गलत तरीकों को बदलना होगा और अपनी गलतियों को स्वीकार करना होगा, परमेश्वर के सामने आत्मिक रूप से बेहतर जीवन जीने की कोशिश करनी होगी। उसके बाद नया जन्म प्राप्त किए हुए संत के वास्तविक जीवन में पस्तावा होना चाहिए। 
जो लोग यीशु पर विश्वास करते हैं, फिर भी परमेश्वर की धार्मिकता को नहीं जानते हैं, उन्हें नष्ट कर दिया जाएगा। इन लोगों को अपने जिद्दी तरीकों को छोड़ देना चाहिए, पश्चाताप करना चाहिए, और अपने पापों की माफ़ी के लिए यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर विश्वास करना चाहिए (प्रेरितों के काम ३:१९)। प्रभु ने हमें यह आज्ञा इसलिए दी कि हम उसकी धार्मिकता में विश्वास करके एक ही बार में पापों की माफ़ी प्राप्त करें। हमें परमेश्वर की बात सुननी है और उसके वचनों को सुनना है ताकि हम इस सच्चाई पर विश्वास करके पूरी तरह से धर्मी हो सकें और हमारे सभी पापों के लिए एक ही बार में माफ़ी प्राप्त कर सकें कि यीशु ने अपने बपतिस्मा और क्रूस पर चढ़ने के द्वारा हमारे सभी पापों का प्रायश्चित किया। जब कोई व्यक्ति परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करता है, तो उसे सभी पापों के लिए माफ़ किया जाएगा और वह पवित्र आत्मा को उपहार के रूप में प्राप्त करेगा। यीशु के सभी प्रेरितों और शिष्यों ने परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास किया और एक बार में पापों की माफ़ी प्राप्त की। आपको भी सत्य के आगे ज़िद्दी नहीं होना चाहिए। आपको सही समय पर जिद्दी होना चाहिए। यदि आप आत्मिक खतना को अच्छी तरह से नहीं समझते हैं, तो आपको इसे सीखना और विश्वास करना होगा। जिद्दी रहने से काम नहीं चलेगा। आपको पश्चाताप करना होगा और विश्वास करना होगा।
लोग आत्मिक खतना की सच्चाई को जाने बिना सच्चाई को अस्वीकार करते हैं और उसका मज़ाक उड़ाते हैं। "यह गलत है! जब कोई व्यक्ति प्रतिदिन पाप करता है तो वह धर्मी कैसे बन सकता है? आप जानते हैं, परमेश्वर केवल यीशु में विश्वासियों को धर्मी कहता है, भले ही वे अभी भी पापी हों। यह न्याय का सिद्धांत है। आप इसलिए धर्मी नहीं कहलाते है क्योंकि वास्तव में आपके मन में कोई पाप नहीं है।” हालाँकि, आपको पता होना चाहिए कि यह एक बहुत ही गलत शिक्षण है।
बाइबल में, परमेश्वर ने कहा है कि आत्मिक खतने के सुसमाचार के द्वारा जो हमें पापों की माफ़ी देता है, "मैंने तुम्हारे सभी पापों को मिटा दिया है। अब तुम पापरहित हो। क्योंकि मैं ने तेरे सब पापों को अपने ऊपर ले लिया है, तू धर्मी है।” "क्या तुम मेरी धार्मिकता में विश्वास करते हो? यदि आप आत्मिक खतने के वचनों पर विश्वास करते हैं, तो आप मेरे लोगों में से एक हैं, और आप पापरहित हैं।" परमेश्वर अपने पूर्ण छुटकारे के बारे में बात करता है, लेकिन नाममात्र के मसीही आत्मिक खतने पर विश्वास करनेवाले नए जन्म पाए हुए मसीहीयों की निंदा करते हैं और उनका मजाक उड़ाते हैं। वे कहते हैं, "कोई व्यक्ति धर्मी कैसे हो सकता है जब वह लगातार पाप करता है? आप किसी व्यक्ति को केवल न्याय के सिद्धांत के द्वारा ही 'पापरहित' कह सकते हैं। हम किसी व्यक्ति को वास्तव में पापरहित कैसे मान सकते हैं? व्यक्ति हर दिन पाप करता है।” वे ऐसे ही निन्दा करते है और ज़िद्दी रहते हैं, क्योंकि वे परमेश्वर की धार्मिकता पर विश्वास नहीं करते। 
लेकिन परमेश्वर उन्हें अनन्त जीवन देते हैं जो अच्छा करने में धीरज धरते हैं। जो लोग धीरज पूर्वक भलाई करते हुए महिमा, सम्मान और अमरता की तलाश करते हैं, वे परमेश्वर की संतान बन जाएंगे, लेकिन जो ऐसा नहीं करते हैं उन्हें दंड मिलेगा। हर कोई परमेश्वर की संतान बनना चाहता है और अनंत जीवन जीना चाहता है। यीशु उन्हें अनन्त जीवन देते हैं जो ईमानदारी से हमेशा के लिए जीना चाहते हैं और पाप रहित जीवन चाहते हैं। 
“प्रभु मैं वास्तव में चाहता हूं कि मै आत्मिक खतने के द्वारा पापों की माफ़ी पर विश्वास करू ताकि मै अपने विवेक में बिना शर्म के जीवन जी सकूं। मैं आपकी संतान बनना चाहता हूं। मैं आपकी धार्मिकता पर विश्वास करना चाहता हूं और आपको खुश करना चाहता हूं। मैं पापरहित बनना चाहता हूँ। कृपया मुझे मेरे सभी पापों से बचाएं।" जो लोग परमेश्वर के धर्मी उद्धार की तलाश करते हैं और अपने सभी पापों के लिए माफ़ी चाहते हैं, परमेश्वर उनकी सभी इच्छाओं को सुनता है और उन्हें परमेश्वर की धार्मिकता का सुसमाचार देकर उनके सभी पापों को माफ़ करता है। जो लोग हमेशा के लिए जीना चाहते हैं, परमेश्वर उन्हें अनंत जीवन देते हैं। 
 

आत्मिक ख़तना क्या है?

इसका अर्थ है यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू के द्वारा परिपूर्ण पापों की माफ़ी। मेम्ने का लहू प्रतिनियुक्त न्याय है और यूहन्ना से यीशु के बपतिस्मा का अर्थ है कि जगत के पाप यीशु पर पारित किए गए थे। आज भी, मसीही धर्म पुराने नियम की उपेक्षा नहीं कर सकता क्योंकि तब, वह नए नियम में विश्वास नहीं कर सकता। पवित्रशास्त्र में, हम पा सकते हैं कि फसह के पर्व में आत्मिक खतना और मेमने के लहू का आपस में गहरा संबंध है।
१ यूहन्ना ५:६ में, लिखा है कि यीशु "न केवल जल से, पर जल और लहू के द्वारा आया।" यीशु न केवल पानी या लहू के द्वारा, बल्कि दोनों के द्वारा आया था। आपको अपने सभी पापों से छुटकारा पाने के लिए पानी, लहू और आत्मा के वचनों में निहित आत्मिक खतने पर विश्वास करना होगा।
निर्गमन अध्याय १२ को पढ़ते हुए, मेरे मन में आत्मिक खतने के बारे में कुछ प्रश्न थे। निर्गमन अध्याय १२ का क्या अर्थ है? मैंने पूरे अध्याय और बाइबल के सभी संबंधित अंशों को बार-बार ध्यान से देखा। और मुझे पता चला कि इस्राएली फसह पर्व में भाग लेने में सक्षम थे क्योंकि उन्होंने खतना करवाया था और नए नियम में, यह कहा गया था कि यीशु ने केवल क्रूस पर खून नहीं बहाया, लेकिन खून इसलिए बहाया क्योंकि उसने यूहन्ना द्वारा बपतिस्मा लिया था।
परमेश्वर ने इस्राएलियों को फसह पर्व के लिए दो नियम बताए: पहले खतना करवाना और फिर फसह के मेमने का मांस खाना। यह पुराने नियम का आत्मिक खतना था! नए नियम में, यह कहा गया है कि यूहन्ना के द्वारा बप्तिस्मा से  हमारे पापों को यीशु पर पारित किया गया था और यीशु ने क्रूस पर लहू बहाया था। मुझे पता चला कि इन तथ्यों को स्वीकार करने के परिणामस्वरूप आत्मिक खतना प्राप्त करने की सच्चाई सामने आई। यरदन में यूहन्ना के द्वारा यीशु मसीह का बपतिस्मा हुआ; इस तरह उसने जगत के पापों का बोझ उठाया और हमारे स्थान पर न्याय प्राप्त करने के लिए उसे क्रूस पर मरना पड़ा। 
इस सत्य को अपने हृदय में स्वीकार करके आप सभी पापों और अधर्मों से मुक्ति का अनुभव कर सकते हैं। व्यक्ति को सभी पापों से मुक्ति पाने के लिए, उसे परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करने की आवश्यकता है, जो हमें आत्मिक खतना प्रदान कर सकती है। लोगों को इस सच्चाई को समझने की जरूरत है। आप पाठकों को इस सच्चाई को समझना होगा कि पुराने नियम में आत्मिक खतना और नए नियम में यीशु का बपतिस्मा पापों की माफ़ी के संबंध में एक जोड़ी बनाते हैं। यीशु का न्याय इसलिए नहीं हुआ क्योंकि उसने पाप किया था, लेकिन वह मनुष्यजाति के लिए क्रूस पर मर गया क्योंकि उसने बपतिस्मा लिया था और अपनी देह पर जगत के पापों को उठाया था। यह उन लोगों का विश्वास है जिन्होंने आत्मिक खतना प्राप्त किया है।
जो लोग आत्मिक खतने के द्वारा परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करते हैं उनके पास कोई पाप नहीं है क्योंकि वे वास्तव में यीशु में विश्वास करते हैं। मुझे उन पर दया आती है जो किसी तरह यीशु पर विश्वास करते हैं, फिर भी उन्होंने परमेश्वर से आत्मिक खतना प्राप्त नहीं किया है। उन्हें इस सच्चाई में विश्वास करना होगा कि जब यूहन्ना ने यीशु बपतिस्मा दिया तो यीशु ने जगत के सभी पापों को अपने ऊपर ले लिया। 
दुर्भाग्य से, अधिकांश मसीही केवल क्रूस में विश्वास करते हैं, न कि यीशु के बपतिस्मा पर। इस प्रकार, उन्हें परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करने का विश्वास नहीं है। हमें यह जानना होगा कि हमें उस पर विश्वास करना चाहिए जो परमेश्वर ने हमें शास्त्रों में बताया है। 
हमें धर्मशास्त्रियों के सिद्धांतों और शिक्षाओं से कोई फर्क नहीं पड़ता है, और केवल परमेश्वर के वचनों में विश्वास करना है जो हमें उसकी धार्मिकता की ओर ले जाएगा। ऐसा इसलिए है क्योंकि उसकी धार्मिकता के बिना वचन वास्तव में परमेश्वर के वचन नहीं हैं। आत्मिक खतना के बिना सुसमाचार अधूरा है। यही कारण है कि बाइबल में, परमेश्वर ने पुराने नियम में खतना और नए नियम में यीशु के बपतिस्मा के बारे में बार-बार बात की। दूसरे शब्दों में, यह पुराने नियम में ख़तना और फसह के मेमने लहू के बारे में बात करता है जो कि नए नियम में यीशु के बपतिस्मा और उसके लहू के समानांतर है। आत्मिक खतना प्राप्त करने के लिए हमें इस सत्य पर विश्वास करना होगा। लेकिन, अगर हम इस सच्चाई पर विश्वास नहीं करते हैं, तो हमें परमेश्वर के राज्य से अलग कर दिया जाएगा।
क्या परमेश्वर की धार्मिकता केवल क्रूस पर उसके लहू से परिपूर्ण होती है? ऐसा नहीं है। परमेश्वर की धार्मिकता यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू दोनों के द्वारा परिपूर्ण हुई। इसलिए, हमने अपने हृदय में आत्मिक खतने को न केवल क्रूस पर उसके लहू बहाने के द्वारा प्राप्त किया, लेकिन उस बपतिस्मा के द्वारा भी प्राप्त किया जो उसने यूहन्ना से प्राप्त किया था। आत्मिक खतना हमारे लिए संभव हो सकता है क्योंकि यीशु ने वास्तव में अपने बपतिस्मा और क्रूस पर अपनी मृत्यु के द्वारा हमारे सभी पापों को मिटा दिया था। 
 

ख़तने का अर्थ है काटकर निकाल देना

यशायाह ने भविष्यवाणी की थी कि मसीहा, यीशु मसीह हमारे पापों के लिए घायल और कुचले जाने के द्वारा न्याय प्राप्त करेगा। इसलिए, आगे बढ़ने से पहले ऐसा कुछ है जिसके बारे में हमें पता होना चाहिए। क्यों मसीह को क्रूस पर चढ़ना पड़ा? 
पुराने नियम में, एक पापी को पापों को पारित करने के लिए बलि के मेमने पर हाथ रखना पड़ता था और फिर मेमने को मारना पड़ता था। तब याजक ने अपनी उंगली से पापबलि के लहू में से कुछ लेकर होमबलि की वेदी के सींगों पर लगाया, और उसका शेष लोहू वेदी के नीचे उंडेल दिया (लैव्यव्यवस्था ४:२७-३०)। पुराने नियम के एक पापी को उसके पापों से इस प्रकार माफ़ किया जा सकता था। तब क्या यीशु, जो परमेश्वर के मेमने के रूप में आया था (यूहन्ना १:२९) हमें हमारे पापों से बचाने के लिए, मनुष्यजाति के सभी पापों को लेने के लिए पुराने नियम की तरह उसके सिर पर हाथ रखने की आवश्यकता नहीं थी?
फिर, प्रभु ने जगत के पापों को कब और कैसे ले लिया? क्या यह मत्ती ३:१३-१७ में नहीं दिखाया गया है, जहाँ यूहन्ना ने यरदन में यीशु को बपतिस्मा दिया था? यह पुराने नियम के लैव्यव्यवस्था के समान है जहाँ यह लगातार कहता है कि पापी "अपना हाथ पापबलि के सिर पर रखेगा" (लैव्यव्यवस्था १:४, ३:८, ४:२९) ताकि पापों को पारित कर सके। पुराने नियम में महायाजक को मेम्ने के सिर पर हाथ रखना था और उसके और सभी इस्राएलियों के पापों को पारित करना था (लैव्यव्यवस्था १६:२१)। तब उस ने उसके लहू में से कुछ लेकर होमबलि की वेदी के सींगोंपर लगाया, और उसका बचा हुआ लोहू वेदी के नीचे उंडेल दिया। उन्हें इस तरह पापों की माफ़ी मिली। 
इस तरह से, हमारे पापों की माफ़ी यूहन्ना से यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके रक्त के द्वारा संभव हुई। यह परमेश्वर की धार्मिकता और आत्मिक खतना था जो परमेश्वर हमें बाइबल के भीतर देना चाहता था। इसलिए, हम जो परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करते हैं, हमारे पापों को यूहन्ना द्वारा यीशु के बप्तिस्मा और क्रूस के लहू के द्वारा मिटा दिया गया था। जब हम पुराने नियम में खतना के संबंध में नए नियम में यीशु के बपतिस्मे के अर्थ को समझते हैं, तो हम परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करने लगते हैं, और हम वास्तव में अपने हृदयों में आत्मिक खतना प्राप्त करते है।
 

नए नियम में आत्मिक ख़तना

आइए हम मत्ती ३:१३-१५ देखे। “उस समय यीशु गलील से यरदन के किनारे यूहन्ना के पास उससे बपतिस्मा लेने आया। परन्तु यूहन्ना यह कह कर उसे रोकने लगा, “मुझे तो तेरे हाथ से बपतिस्मा लेने की आवश्यकता है, और तू मेरे पास आया है?” यीशु ने उसको यह उत्तर दिया, “अब तो ऐसा ही होने दे, क्योंकि हमें इसी रीति से सब धार्मिकता को पूरा करना उचित है।” तब उसने उसकी बात मान ली।” 
यूहन्ना बप्तिस्मादेनेवाले ने यर्दन में यीशु को बपतिस्मा दिया। उसने यीशु के सिर पर हाथ रखा और उसे बपतिस्मा दिया। (बपतिस्मा देने के लिए, ग्रीक में 'बैप्टीज़ो' का अर्थ है पानी में डुबाना।)
यीशु को हमारे पापों के लिए क्रूस पर मरने के लिए, उसे सबसे पहले हमारे पापों को बपतिस्मा के द्वारा अपने ऊपर उठाना था। इसलिए, उसने पहले यूहन्ना द्वारा बपतिस्मा लिया और फिर पानी में डूबकी लगाईं। उसका बपतिस्मा क्यों हुआ? ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि जब उसका बपतिस्मा हुआ तब परमेश्वर की सब धार्मिकता पूरी हो सकी थी। यह न्यायसंगत और उचित था कि उसने मनुष्यजाति के पापों को बपतिस्मा के द्वारा उठा लिया और वह हमारा परमेश्वर और उद्धारकर्ता बन गया। अपने बपतिस्मा के द्वारा हमारे सारे पापों को अपनी देह पर उठाते हुए क्रूस पर मरना बहुत उपयुक्त था। 
यीशु ने अपने सार्वजनिक जीवन में जो पहला काम किया, वह था बपतिस्मा लेना। बपतिस्मा, ग्रीक में 'बपतिस्मा' का अर्थ है "धोना, दफनाना, स्थानांतरित करना और पारित करना।" पुराने नियम में, सातवें महीने का दसवां दिन इस्राएलियों के प्रायश्चित का दिन था, और हारून ने इस्राएलियों के सब पाप दूर करने के लिए बलि के बकरों पर हाथ रखा। दो बकरों में से, एक को परमेश्वर को और दूसरे को इस्राएलियों के सामने प्रायश्चित के लिए अर्पण किया गया (लैव्यव्यवस्था १६)। नए नियम में, यीशु ने यूहन्ना द्वारा बपतिस्मा लेने के द्वारा हमारे सभी पापों को स्वीकार किया। 
उसके बप्तिस्मा के दुसरे दिन, यूहन्ना ने यीशु की ओर देखते हुए कहा, “देखो, यह परमेश्वर का मेम्ना है जो जगत का पाप उठा ले जाता है” (यूहन्ना १:२९)।
आपको यह अंगीकार करना होगा की केवल उसके लहू पर विश्वास के द्वारा आत्मिक ख़तना सम्भव नहीं है। 
आइये १ यूहन्ना ५:४ को शुरू से देखे। “क्योंकि जो कुछ परमेश्‍वर से उत्पन्न हुआ है, वह संसार पर जय प्राप्‍त करता है; और वह विजय जिस से संसार पर जय प्राप्‍त होती है हमारा विश्‍वास है। संसार पर जय पानेवाला कौन है? केवल वह जिसका यह विश्‍वास है कि यीशु, परमेश्‍वर का पुत्र है। यही है वह जो पानी और लहू के द्वारा आया था, अर्थात् यीशु मसीह : वह न केवल पानी के द्वारा वरन् पानी और लहू दोनों के द्वारा आया था। और जो गवाही देता है, वह आत्मा है; क्योंकि आत्मा सत्य है। गवाही देनेवाले तीन हैं, आत्मा, और पानी, और लहू; और तीनों एक ही बात पर सहमत हैं। जब हम मनुष्यों की गवाही मान लेते हैं, तो परमेश्‍वर की गवाही तो उससे बढ़कर है; और परमेश्‍वर की गवाही यह है कि उसने अपने पुत्र के विषय में गवाही दी है। जो परमेश्‍वर के पुत्र पर विश्‍वास करता है वह अपने ही में गवाही रखता है। जिसने परमेश्‍वर पर विश्‍वास नहीं किया उसने उसे झूठा ठहराया, क्योंकि उसने उस गवाही पर विश्‍वास नहीं किया जो परमेश्‍वर ने अपने पुत्र के विषय में दी है। और वह गवाही यह है कि परमेश्‍वर ने हमें अनन्त जीवन दिया है, और यह जीवन उसके पुत्र में है। जिसके पास पुत्र है, उसके पास जीवन है; और जिसके पास परमेश्‍वर का पुत्र नहीं, उसके पास जीवन भी नहीं है” (१ यूहन्ना ५:४-१२)। 
आध्यात्मिक खतना का प्रमाण क्या है? यह हमारे उद्धार के रूप में यीशु के बपतिस्मा और उसके लहू दोनों में विश्वास करना है। जिस विजय ने जगत को जीत लिया है वह है पानी और लहू। “यही है वह जो पानी और लहू के द्वारा आया था, अर्थात् यीशु मसीह : वह न केवल पानी के द्वारा वरन् पानी और लहू दोनों के द्वारा आया था। और जो गवाही देता है, वह आत्मा है; क्योंकि आत्मा सत्य है। गवाही देनेवाले तीन हैं, आत्मा, और पानी, और लहू; और तीनों एक ही बात पर सहमत हैं। ये गवाह जो दिखाते हैं कि परमेश्वर हमारा परमेश्वर और हमारा उद्धारकर्ता है, इस बात की गवाही देता है कि परमेश्वर मनुष्य देह में पृथ्वी पर आया, हमारे सभी पापों को अपने बपतिस्मा के द्वारा अपनी देह पर उठाए, हमारे लिए क्रूस पर लहू बहाया, और इस प्रकार हमें हमारे सभी पापों से स्वतंत्र किया। 
नए नियम में, आत्मिक खतने के सुसमाचार में पानी और लहू शामिल हैं। नए नियम में, पानी वह बपतिस्मा है जिसे यीशु ने यूहन्ना से प्राप्त किया था, और लहू का अर्थ है क्रूस पर उसकी मृत्यु। यीशु का बपतिस्मा पुराने नियम में खतने के समकक्ष है। यूहन्ना से यीशु का बपतिस्मा इस बात का प्रमाण है कि हमारे पाप यूहन्ना द्वारा यीशु पर पारित किए गए हैं। जो लोग सत्य में विश्वास करते हैं वे परमेश्वर के सामने खड़े हो सकेंगे और कह सकेंगे, "परमेश्वर, आप मेरे उद्धारकर्ता है। मैं आपकी धार्मिकता में विश्वास करता हूँ इसलिए मेरे अन्दर कोई पाप नहीं है, मैं आपकी निर्दोष संतान हूँ और आप मेरे परमेश्वर हैं। शास्त्रों में क्या आधार है जो आपको इस तरह से आत्मविश्वास से बोलने देता है? यह यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू में विश्वास है, जो परमेश्वर की धार्मिकता का गठन करता है। परमेश्वर की धार्मिकता को मेरी धार्मिकता के रूप में स्वीकार करना केवल मसीह के लहू से संभव नहीं हो सकता। उसका बपतिस्मा और लहू दोनों ही इसे बनाते हैं।
आइए हमारे उद्धार में यीशु के बप्तिस्मा के महत्त्व के बारे में जो भाग है उसे देखे। १ पतरस ३:२१ इस सत्य का प्रमाण है। “उसी पानी का दृष्‍टान्त भी, अर्थात् बपतिस्मा, यीशु मसीह के जी उठने के द्वारा, अब तुम्हें बचाता है; इससे शरीर के मैल को दूर करने का अर्थ नहीं है, परन्तु शुद्ध विवेक से परमेश्‍वर के वश में हो जाने का अर्थ है”। 
प्रेरित पतरस अब हमारे उद्धार के निस्संदेह प्रमाण के बारे में बात कर रहा है। पुराने नियम में यीशु का बपतिस्मा खतना है। क्या आप समझ रहे है? जैसा कि इस्राएलियों ने पुराने नियम में खतने के लिए अपनी चमड़ी को काट दिया, वैसे ही नए नियम में, यीशु ने यूहन्ना द्वारा बपतिस्मा लिया और जगत के सब पापों को ले लिया, जिससे हमें आत्मिक खतना प्राप्त करने में मदद मिली। बपतिस्मा और क्रूस पर के लहू ने परमेश्वर की धार्मिकता का निर्माण किया। आत्मिक खतना और बपतिस्मा का अर्थ एक ही है। आपको यह समझना होगा कि यीशु के बपतिस्मा का तात्पर्य हम सभी के लिए आत्मिक खतना से है।
“उसी पानी का द्रष्टांत भी, अर्थात बपतिस्मा अब तुम्हें बचाता है।” हम परमेश्वर की धार्मिकता कैसे प्राप्त करते हैं? यह विश्वास करने के द्वारा कि यीशु ने हमारे पापों के लिए बपतिस्मा लिया और क्रूस पर मर गए। मत्ती ३:१५ कहता है, “क्योंकि हमें इसी रीति से सब धार्मिकता पूरा करना उचित है।” क्योंकि मनुष्यजाति के सभी पाप यीशु के सिर पर डाले गए थे, इसलिए पापियों के पाप पूरी तरह से मिटा दिए जाते हैं। यीशु के बपतिस्मा और उसके लहू में विश्वास करने से प्रत्येक पापी धर्मी हो जाता है। यीशु मसीह ने जगत के सभी पापों को उठाने के बाद क्रूस पर न्याय का लहू बहाया; इस तरह मनुष्यजाति के सभी पापों का प्रायश्चित किया गया। यह विश्वास करना कि यीशु ने बपतिस्मा लेने के द्वारा जगत के पापों को अपने ऊपर ले लिया और उसने हमारी जगह न्याय प्राप्त किया यह उस सत्य में विश्वास करना है जो विश्वासियों के लिए परमेश्वर की धार्मिकता लाएगा। इस सत्य पर विश्वास करो।
यूहन्ना १:२९ कहता है, "देखो! परमेश्वर का मेम्ना जो जगत का पाप उठा ले जाता है!” यीशु परमेश्वर का पुत्र है। और हमारे सृष्टिकर्ता के रूप में, उसने सभी पापियों के पापों को लेने के द्वारा अपने ख़तने के वादे को पूरा किया। यह सच्चा विश्वास है जो हमारे हृदयों में आत्मिक खतना लाता है, जो कि परमेश्वर की धार्मिकता है। यीशु हमारी सच्ची धार्मिकता है। हमें यीशु को धन्यवाद देना चाहिए। हमें उसके बपतिस्मा और लहू के लिए उसका धन्यवाद करना चाहिए जो हमें आत्मिक खतना प्राप्त करने में सक्षम बनाता है। 
१ पतरस ३:२१ आगे कहता है, “इससे शरीर के मैल को दूर करने का अर्थ नहीं है, परन्तु शुद्ध विवेक से परमेश्‍वर के वश में हो जाने का अर्थ है”। एक व्यक्ति के शरीर की गंदगी सिर्फ इसलिए दूर नहीं होती क्योंकि वह यीशु को अपना उद्धारकर्ता मानता है। आप यह विश्वास करने के द्वारा पापों की माफ़ी प्राप्त कर सकते हैं कि यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर लहू बहाने के द्वारा आपके सारे पाप उस पर पारित किए गए। यीशु को अपने उद्धारकर्ता के रूप में स्वीकार करके पापों की माफ़ी प्राप्त करना, आपके हृदय में घटित होता है। यह आस्तिक के हृदय में घटित होता है। यदि आप अपने हृदय से उद्धारकर्ता पर विश्वास करते हैं, तो आप अपने पापों से स्वतंत्र हो जाएंगे, जबकि आपकी देह अभी भी गन्दी है और हर दिन अधर्म करती है; लेकिन कोई पाप नहीं है। आप इस विश्वास के द्वारा परमेश्वर की धार्मिकता प्राप्त करते हैं कि जब यीशु ने बपतिस्मा लिया था, तो सभी पाप यीशु को सौंप दिए गए थे और यह कि अब आपके हृदय में कोई पाप नहीं हैं। 
 

सच्चाई को अपना बनाने के लिए आपको उस पर विश्वास करना होगा

यूहन्ना १:१२ में लिखा है, “परन्तु जितनों ने उसे ग्रहण किया, उसने उन्हें परमेश्वर की सन्तान होने का अधिकार दिया, अर्थात् उन्हें जो उसके नाम पर विश्वास रखते है”। 
आपने कौन से वचन प्राप्त किए हैं और स्वीकार किए हैं? आपको उन चीजों को स्वीकार करना होगा जो परमेश्वर के पुत्र द्वारा की गई थीं। परमेश्वर का कार्य क्या था? परमेश्वर का पुत्र पापी देह की समानता में पृथ्वी पर आया, और जब वह तीस वर्ष का था, उसने मनुष्यजाति के सभी पापों को उठाने के लिए बपतिस्मा लिया और हमें आत्मिक खतना दिया ताकि हमारे पापों को मिटाया जा सके। तब वह परमेश्वर के मेमने के रूप में क्रूस पर मरा और हमारे लिए प्रायश्चित किया। प्रभु सभी पापियों के लिए अनन्त पापबलि बन गए और हमें हमेशा के लिए बचाया। यही सच्चा विश्वास है। इस सत्य पर विश्वास करने से हम धर्मी बनते हैं। 
क्या हम केवल मसीह के लहू से आत्मिक खतना प्राप्त कर सकते हैं? नहीं हम नहीं कर सकते। यीशु के बपतिस्मा ने हमारे पापों को मिटा दिया और पापियों के लिए लहू बहाकर क्रूस पर जो न्याय उसने प्राप्त किया, वह आपके और मेरे लिए न्याय था। हम पाप से बचाए गए हैं और न्याय से मुक्त हैं क्योंकि हम परमेश्वर की धार्मिकता के सुसमाचार में विश्वास करते हैं, अर्थात् यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर के लहू के सुसमाचार पर विश्वास करते हैं। यीशु को उद्धारकर्ता के रूप में ग्रहण करने से पापी के हृदय के सारे पाप धुल सकते हैं। अपने दिलों में आत्मिक खतना प्राप्त करें। तब, परमेश्वर की धार्मिकता आपकी हो जाएगी। 
 

सच्चा आत्मिक ख़तना हृदय के अन्दर होता है

रोमियों अध्याय २ में, प्रेरित पौलुस कहता है, "खतना वाही है जो हृदय का है।" आप अपने हृदय में खुद का खतना कैसे करते हैं? यह विश्वास करने के द्वारा संभव है कि यीशु मसीह मनुष्य देह में पृथ्वी पर आया था, कि उसने "जगत के सारे पापों" को उठाने के लिए बपतिस्मा लिया था, कि वह क्रूस पर लहू बहाते हुए मर गया, और वह फिर से हमारे अनन्त उद्धारकर्ता के रूप में पुनरुत्थित हुआ। प्रेरित पौलुस ने कहा कि खतना हृदय का करना चाहिए, और यीशु के बपतिस्मा में विश्वास करके आप अपने हृदय में खतना कर सकते हैं। यदि आप अपने हृदय में आत्मिक खतना प्राप्त करना चाहते हैं, तो यीशु के बपतिस्मा पर विश्वास करें। तब, आप सचमुच परमेश्वर की सन्तानों में से एक बन जाओगे। धर्मी वह व्यक्ति है जो यह मानता है कि यीशु के बपतिस्मा और लहू ने उसे उसके सभी पापों से छुड़ाया। आमीन। 
२९ वर्ष की आयु तक, यीशु ने अपने परिवार का समर्थन करते हुए एक निजी जीवन जिया, लेकिन जब वे ३० वर्ष के हो गए, तो उन्होंने अपना सार्वजनिक जीवन जीना शुरू कर दिया। अपने सार्वजनिक जीवन के दौरान, उन्होंने मनुष्यजाति के सभी पापों को मिटा दिया और सभी पापियों को उनके पापों से मुक्त कर दिया। पापियों को उनके पापों से छुड़ाने और उन्हें धर्मी बनाने के लिए उसने जो पहला काम किया, वह था बपतिस्मा लेना। "तब यीशु गलील से यूहन्ना के पास यरदन नदी में बपतिस्मा लेने आया" (मत्ती ३:१३)। यीशु ने बपतिस्मा लेने की कोशिश क्यों की? हमें यह जानना होगा कि उसने ऐसा पापियों के सभी पापों को उठाने के लिए किया था। हमें उसके बपतिस्मे के सही अर्थ को गलत नहीं समझना चाहिए। बपतिस्मा पापों को पारित करके धो देना है। इसलिए यीशु ने पापियों के पापों को लेने के लिए यूहन्ना से खुद को बपतिस्मा देने के लिए कहा। 
यह यूहन्ना कौन है जिसने यीशु को बपतिस्मा दिया था? यूहन्ना समग्र मनुष्यजाति का प्रतिनिधि था। यह मत्ती ११:११-१४ में अच्छी तरह से समझाया है। “मैं तुम से सच कहता हूँ कि जो स्त्रियों से जन्मे हैं, उनमें से यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले से कोई बड़ा नहीं हुआ; पर जो स्वर्ग के राज्य में छोटे से छोटा है वह उससे बड़ा है। यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले के दिनों से अब तक स्वर्ग के राज्य में बलपूर्वक प्रवेश होता रहा है, और बलवान उसे छीन लेते हैं। यूहन्ना तक सारे भविष्यद्वक्‍ता और व्यवस्था भविष्यद्वाणी करते रहे। 14और चाहो तो मानो कि एलिय्याह जो आनेवाला था, वह यही है”। 
यूहन्ना बपतिस्मा देने वाले के दिनों से शुरू होकर, परमेश्वर की वाचा का युग समाप्त हो गया। ऐसा इसलिए है क्योंकि यीशु, वह व्यक्ति जिसे अपनी प्रतिज्ञाओं को पूरा करना था, आया था। फिर, वे कौन व्यक्ति थे जिन्हें पुराने नियम की प्रतिज्ञाओं को पूरा करना था? वे यीशु और यूहन्ना बपतिस्मा देने वाले थे। यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले ने पापों को यीशु पर पारित कर दिया। यूहन्ना बपतिस्मा देनावाला पुराने नियम का अंतिम भविष्यवक्ता था जिसे सभी पापों को परमेश्वर के मेम्ने पर पारित करने के लिए भेजा गया था, जो नए नियम में आया था। यूहन्ना ने यह कार्य यीशु के सिर पर हाथ रखकर बलि-व्यवस्था में स्थापित विधिसम्मत तरीके से किया। जगत के सभी पापों को काट दिया गया और बपतिस्मा लेने पर यीशु पर स्थानांतरित कर दिया गया। "इस प्रकार," परमेश्वर ने मनुष्यजाति के हृदयों में आत्मिक खतना किया। 
अपने प्रायश्चित के रूप में यीशु के बपतिस्मा और उनके लहू को थामे रखें। यीशु ने पहले ही जगत के सभी पापों को ले लिया है और सभी न्याय को भी सहा है। परमेश्वर की धार्मिकता का सुसमाचार यह सत्य है कि यीशु ने बपतिस्मा लिया और हमारे सभी पापों का प्रायश्चित करने के लिए लहू बहाया। अब, हम अपने हृदयों में परमेश्वर की धार्मिकता को स्वीकार करने के द्वारा ही पापों की माफ़ी प्राप्त कर सकते हैं। यदि आप इसे प्राप्त करते हैं, तो आप "यीशु मसीह की वंशावली, दाऊद के पुत्र, इब्राहीम के पुत्र" में प्रवेश करने में सक्षम होंगे। ऐसे लोग हैं जो पहले से ही परमेश्वर की धार्मिकता के बारे में जानते हैं और जो नहीं जानते हैं और अभी भी यीशु मसीह से बाहर हैं। सूरज डूबने वाला है। यीशु के बपतिस्मा पर विश्वास करें और उसमें प्रवेश करें। बपतिस्मा पर विश्वास करने का आपका विश्वास विवाह भोज के लिए तैयार किया गया आपका तेल बन जाएगा। मुझे आशा है कि आप रहस्य को जानते हैं ताकि आप केवल यीशु के बपतिस्मा और उसके लहू पर विश्वास करने के द्वारा दूसरे आगमन में आने वाले प्रभु यीशु से मिलने के लिए दीपक के लिए तेल तैयार कर सकें। 
यीशु ने बपतिस्मा प्राप्त किया ताकि वह सभी के पापों को मिटा दे। यीशु परमेश्वर का पुत्र है और स्वयं परमेश्वर है। वह हमारा सृष्टिकर्ता हैं। वह हमें परमेश्वर की संतान के रूप में अपनाने के लिए अपने पिता की इच्छा के साथ पृथ्वी पर आया था। पुराने नियम की सभी भविष्यवाणियाँ किसके बारे में बात करती हैं? वे यीशु के बारे में भविष्यवाणी करते हैं। वे इस बारे में भविष्यवाणियाँ थीं कि वह कैसे पृथ्वी पर आएगा और हमारे पापों को अपने ऊपर ले लेगा और उन्हें समाप्त कर देगा। जैसा कि पुराने नियम की भविष्यवाणियों में कहा गया है, यीशु तक़रीबन २००० वर्ष पहले पृथ्वी पर आए और बपतिस्मा लेकर हमारे सभी पापों को अपने ऊपर ले लिया। उसने आदम और हव्वा से लेकर अंतिम व्यक्ति तक, मनुष्यजाति के सभी पापों को उठा लिया था। 
अपने हृदयों में आत्मिक खतना प्राप्त करें। "खतना वही है जो हृदय का है" (रोमियों २:२९)। जब आप यीशु के बपतिस्मा पर विश्वास करते हैं, तो आप खुद ही हृदय का खतना प्राप्त कर लेंगे। हृदय के खतने का अर्थ है हमारे हृदयों में पापों का त्याग जब हम स्वीकार करते हैं कि सभी पापों को यीशु के बपतिस्मा के द्वारा पारित किया गया है। क्या आपको हृदय का खतना प्राप्त हुआ है? हृदय में खतने पर विश्वास करने से, “विश्वास से सब पाप धुल जाएंगे।” 
 

क्या आप वास्तव में अपने हृदय में आत्मिक ख़तने के सत्य को स्वीकार करते है?

यीशु को पृथ्वी पर आए, बपतिस्मा लिए और क्रूस पर मरे हुए तक़रीबन २००० वर्ष हो चुके हैं। हमें केवल इस तथ्य को स्वीकार करना चाहिए और इसे आज ही अपने हृदय में ग्रहण करना चाहिए। "खतना वाही है जो हृदय का है।" सत्य में विश्वास के द्वारा हम अपने मन और हृदय में खतना प्राप्त कर सकते हैं। हम सभी ने परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करके छुटकारा पाया है। यदि पृथ्वी पर परमेश्वर का न्याय आ भी जाए, तो भी हम नहीं डरेंगे। जो लोग परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करते हैं उन्हें परमेश्वर का न्याय नहीं मिलता है। परमेश्वर का न्याय उन लोगों पर पड़ता है जिन्होंने अपने हृदय में परमेश्वर की धार्मिकता को स्वीकार नहीं किया है। 
क्यों मसीही आज यीशु पर विश्वास करते हैं, फिर भी भटक जाते हैं? वे पीड़ा में क्यों रहते हैं? ऐसा इसलिए है क्योंकि वे अपने उद्धार के लिए केवल यीशु के लहू में विश्वास करते हैं। अब आपको स्वीकार करना चाहिए की आपने अपनी हठ से परमेश्वर को प्रताड़ित किया और इस सच्चाई की ओर लौट आओ कि यीशु ने यरदन में बपतिस्मा लेने के द्वारा हमारे सभी पापों को ले लिया। तब, आपके हृदय में आत्मिक खतना होगा।
यदि आप यीशु के बपतिस्मा और उसके लहू दोनों में विश्वास करते हैं, तो आत्मिक खतना आपके हृदय में होगा और आप परमेश्वर का न्याय प्राप्त नहीं करेंगे, बल्कि उनकी संतान में से एक बन जाएँगे। परमेश्वर आपका परमेश्वर बन जाएगा और आप उसके लोगों में से एक बन जाएंगे। यदि आप में से ऐसे लोग हैं जो यीशु में विश्वास करते हैं लेकिन केवल यीशु के लहू पर निर्भर हैं, तो मैं आपसे एक प्रश्न पूछना चाहता हूं। क्या हमारा आत्मिक खतना और परमेश्वर की धार्मिकता केवल क्रूस के लहू से है? हमारा उद्धार केवल लहू से ही नहीं, बल्कि यीशु के बपतिस्मा, उसके लहू और आत्मा से परिपूर्ण हुआ है। 
 

मसीह के साथ जुड़कर परमेश्वर की धार्मिकता को प्राप्त किया जा सकता है

आइए हम रोमियों ६:३-८ का अध्ययन करे। “क्या तुम नहीं जानते कि हम सब जिन्होंने मसीह यीशु का बपतिस्मा लिया, उसकी मृत्यु का बपतिस्मा लिया। अत: उस मृत्यु का बपतिस्मा पाने से हम उसके साथ गाड़े गए, ताकि जैसे मसीह पिता की महिमा के द्वारा मरे हुओं में से जिलाया गया, वैसे ही हम भी नए जीवन की सी चाल चलें। क्योंकि यदि हम उसकी मृत्यु की समानता में उसके साथ जुट गए हैं, तो निश्‍चय उसके जी उठने की समानता में भी जुट जाएँगे। हम जानते हैं कि हमारा पुराना मनुष्यत्व उसके साथ क्रूस पर चढ़ाया गया ताकि पाप का शरीर व्यर्थ हो जाए, और हम आगे को पाप के दासत्व में न रहें। क्योंकि जो मर गया, वह पाप से छूटकर धर्मी ठहरा। इसलिये यदि हम मसीह के साथ मर गए, तो हमारा विश्‍वास यह है कि उसके साथ जीएँगे भी”।
वचन ५ कहता है, “क्योंकि यदि हम उसकी मृत्यु की समानता में उसके साथ जुट गए हैं, तो निश्‍चय उसके जी उठने की समानता में भी जुट जाएँगे”। बाइबल कहती है कि पाप की मजदूरी मृत्यु है, अर्थात जिसके पास पाप है वह नाश होकर नरक में जाएगा। क्या आप सभी ने यीशु मसीह की सच्चाई पर पूरी तरह से विश्वास करने से पहले पाप नहीं किया था? हाँ।─ यदि आपके पास थोड़ा सा भी पाप है, तो भी आप नरक में जाएंगे और "आग और गंधक की जलती हुई झील" का न्याय प्राप्त करेंगे (प्रकाशितवाक्य २१:८)। अगर हमें अपने पापों की मजदूरी का भुगतान करना है, जो कि मृत्यु है, तो हम कभी भी पाप से बिल्कुल भी नहीं बच पाएंगे। इसलिए, परमेश्वर ने यीशु मसीह को इस धरती पर भेजा और सभी पापों को उसके ऊपर डाल दिए और हमारे बजाय उसका न्याय किया।
परमेश्वर ने हम सभी को बचाया क्योंकि वह हम से बहुत प्रेम करता था। परमेश्वर पिता ने अपने इकलौते पुत्र को जगत में भेजा, जगत के सभी पापों को अपने बेटे पर बपतिस्मा के माध्यम से पारित किया, और उसे कीलों से सूली पर चढ़ा दिया ताकि वह सभी पापों का प्रायश्चित करने के लिए लहू बहाए। इस पर विश्वास करना यीशु के साथ एक होना है। पाप की मजदूरी मृत्यु है। हम सभी के हृदय में पाप थे और उन पापों के कारण हमें नरक में जाना था। लेकिन हमारे बजाय, जिन्हें नरक में जाना तय था, यीशु ने यर्दन में बपतिस्मा लेकर पापों को उठाया और क्रूस पर उसका दण्ड सहा। इस प्रकार, उनकी मृत्यु हमारी मृत्यु बन गई क्योंकि उनके बपतिस्मा ने हमारे सभी पापों को दूर कर दिया। यह मसीह के साथ एक होने का विश्वास है।
बहुत से लोग अभी भी यीशु में "धार्मिक" तरीके से विश्वास करते हैं। वे कलीसिया जाते हैं और माफ़ी मांगते हुए अपने पापों को स्वीकार करते हुए आंसू बहाते हैं। अभी से ऐसा करना बंद करो और परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करो, और आप अपने हृदय में परमेश्वर से शांति को प्राप्त करेंगे। यीशु ने हमें बचाने के लिए बपतिस्मा लिया और क्रूस पर मर गए, और मुझे आशा है कि आप इस सुसमाचार में विश्वास करेंगे। 
परमेश्वर ने हमें पापों की माफ़ी के बारे में मूसा के द्वारा सिखाया। मूसा ने परमेश्वर की इस आज्ञा को स्वीकार किया कि वह इस्राएलियों को, परमेश्वर के लोगों को छुड़ाने के लिए मिस्र जाए। सो वह अपनी पत्नी और बच्चे को लेकर गदहे पर सवार होकर मिस्र चला गया। उस रात, परमेश्वर का दूत प्रकट हुआ और उसने मूसा को मारने का प्रयास किया। तब उसकी पत्नी सिप्पोरा ने फुर्ती से एक चोखा पत्यर लिया, और अपने बेटे की चमड़ी को काट डाला, और मूसा के पांवों पर डाल दिया, और कहा, “निश्चय तू मेरे लिए लहूवाला मेरा पति है!” (निर्गमन ४:२५)
इस प्रसंग की सच्चाई इस प्रकार है। यहाँ तक कि मूसा के पुत्र को भी परमेश्वर के लोगों में से एक नहीं माना जाता यदि उसने अभी तक खतना नहीं करवाया होता; इसलिए, परमेश्वर उसे मारने जा रहा था। परमेश्वर ने कहा कि यदि इस्राएलियों का खतना नहीं हुआ होता तो वे उसके लोग नहीं माने जाते। पुराने नियम में खतना परमेश्वर के लोगों में से एक होने का संकेत था। परमेश्वर को मूसा को इसका एहसास कराना था। इसलिए, मूसा की पत्नी ने फुर्ती से अपने पुत्र की चमड़ी काट दी और यह कहते हुए फेंक दी, कि “निश्चय तू मेरे लिए लहूवाला मेरा पति है!” परमेश्वर ने मूसा को मारने की कोशिश की क्योंकि उसका बेटा खतनारहित था। 
यदि कोई व्यक्ति इब्राहीम का वंशज होता, तो भी यदि उसका खतना न होता तो वह इस्राएलियों में से नाश किया जाता। केवल खतना वाले ही फसह के मेमने का मांस खा सकते थे, और मेमने के लोहू से चौखट और दोनों बारसाखो पर लगा सकते थे। इस तरह, केवल आत्मिक रूप से खतना करने वाले ही पवित्र भोज में भाग ले सकते हैं। इस विश्वास के बिना वे कभी भी परमेश्वर की धार्मिकता में प्रवेश नहीं कर सकते हैं और इसलिए, वे परमेश्वर की महिमा में भाग नहीं ले पाएंगे।
प्रेरित पौलुस एक यहूदी था। जब वह आठ दिन का था, तब उसका खतना किया गया और गमलीएल के चरणों में वह बड़ा हुआ। वह पुराने नियम में कुशल था। इसलिए, पौलुस अच्छी तरह से समझ गया था कि यीशु मसीह ने यरदन नदी में बपतिस्मा क्यों लिया और उसे क्रूस पर क्यों मरना पड़ा। इसलिए वह बहुत आश्वासन के साथ पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार कर सकता था। इसलिए उसने कहा, “ख़तना वही है जो हृदय का है” (रोमियों २:२९)। 
निश्चय ही, प्रेरित पौलुस ने क्रूस पर यीशु की मृत्यु के बारे में अधिक बार बात की। क्यों? क्योंकि भले ही यीशु ने हमारे पापों को लेने के लिए हमारा आत्मिक खतना किया हो; यदि उसे क्रूस पर बलिदान नहीं किया गया होता, दूसरे शब्दों में, यदि उसे न्याय नहीं मिला होता, तो हम बचाए नहीं जा सकते थे। इसलिए पौलुस ने क्रूस के बारे में अधिक बार बात की। आपको यह ध्यान रखना होगा कि क्रूस हमारे आत्मिक खतने का निष्कर्ष और समापन है। हालाँकि, अधिकांश मसीहीयों को आज यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उनकी मृत्यु के बीच के कारणता का थोड़ा सा भी विचार नहीं है और इस तरह वे नरक में जाने के लिए नियोजित हैं। यदि आत्मिक खतने पर विश्वास की सामर्थ पीढ़ियों से चली आ रही होती, तो आज का मसीही धर्म ऐसा नहीं होता। 
कुछ लोग जब यीशु से पहलीबार मिलते है तब वे बहुत आभारी होते हैं, लेकिन वे अपनी अपरिवर्तनीय दुर्बलताओं से निराश हो जाते हैं और समय बीतने के साथ और भी अधिक पापी बन जाते हैं। यीशु पर पहली बार विश्वास करने के बाद दस साल बीत सकते हैं, लेकिन हो सकता है कि वे बदतर पापी बन गए हों। क्या वे यीशु में विश्वास करने के बाद भी पापी हो सकते हैं? वे केवल शब्दों में भजन गाते हैं।
"♪ररोने से मेरा उद्धार नहीं होगा! ♫ हालाँकि मेरा चेहरा आँसुओं से तरबतर था, ♫ जो मेरे डर को दूर नहीं कर सकता था, ♫ वर्षों के पाप को धो नहीं सकता था! ♫ रोने से मेरा उद्धार नहीं होगा! ... ♪मसीह में विश्वास मुझे बचाएगा! ♫ मुझे तेरे रोते हुए पुत्र पर विश्वास करने दे, ♪जो काम उस ने किया है उस पर विश्वास करने दे; ♪उसकी बाहों में, प्रभु मुझे दौड़ने में मदद करें: ♪मसीह में विश्वास मुझे बचाएगा।♫" 
वे गाते हैं, “रोने से मेरा उद्धार नहीं होगा। मसीह में विश्वास मुझे बचाएगा।” लेकिन, यह केवल शब्द में है। हरबार जब वे पाप करते है तब वे प्रार्थना करते हैं और आंसू बहाते हैं। "परमेश्वर, कृपया मुझे माफ कर दो। यदि आप इस बार मुझे माफ़ कर दें, तो मैं अब से अच्छा हो जाऊँगा।” जब एक मसीही पाप करता है, तो वह कबूल करता है, रोता है और माफ़ी मांगता है, और फिर अच्छा महसूस करता है। लेकिन एक व्यक्ति जो इसे वर्षों तक दोहराता है, वह दस साल पहले जब उसने यीशु पर विश्वास किया था उसकी तुलना में अपने हृदय में अधिक पापी बन जाता है। वह व्यक्ति खेद के साथ प्रश्न पूछता है, "मैंने यीशु पर इतनी जल्दी विश्वास क्यों किया? जब में ८० साल का होता तब मुझे उस पर विश्वास करना चाहिए था, या फिर मरने से ठीक पहले। मैंने बहुत जल्दी विश्वास कर लिया।" ऐसा इसलिए है क्योंकि उसे परमेश्वर की इच्छा के अनुसार जीना चाहिए था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। 
प्रत्येक व्यक्ति के पाप के लिए, न्याय निश्चित है। यही कारण है कि यीशु को बपतिस्मा दिया गया और क्रूस पर उनका न्याय किया गया, उन्होंने अपना बहुमूल्य लहू बहाया ताकि वे हमें हमारे पापों से बचा सकें। वह तीन दिन में मृतकों में से जी उठा। परमेश्वर पिता ने यीशु को फिर से जीवित किया। एक व्यक्ति जो आत्मिक खतना में विश्वास करता है, उसे सुसमाचार फैलाने का जीवन जीना चाहिए। आत्मिक खतना इस बात का प्रमाण है कि हम परमेश्वर की संतान बन गए हैं और यह परमेश्वर की धार्मिकता है। यीशु का बपतिस्मा इस बात का प्रमाण है कि हमारे पाप उस पर पारित हो गए हैं, और क्रूस पर उसका बहुमूल्य लहू इस बात का प्रमाण है कि उसने न्याय को प्राप्त करके हमारे पापों की सारी कीमत चुका दी है। 
क्या आप यीशु में विश्वास करते हैं, फिर भी अपने हृदय में पापी हैं? यह एक विधर्मी का विश्वास है। तीतुस ३:१०-११ कहता है, “किसी पाखंडी को एक दो बार समझा-बुझाकर उससे अलग रह, यह जानकर कि ऐसा मनुष्य भटक गया है, और अपने आप को दोषी ठहराकर पाप करता रहता है।" जो लोग पाखंडी विश्वास रखते हैं वे स्वयं की निंदा करने वाले पापी हैं। वे जोर देकर कहते हैं कि जब उन्हें जान से मारने की धमकी दी जाती है तब भी वे पापी होते हैं। वे अपनी गलतफहमी को बदलने के लिए बहुत जिद्दी हैं। परमेश्वर इन पापियों से कहता है, “तुम पाखंडी हो। तुम पापी हो; तुम मेरी संतान नहीं हो और तुम अनन्त नरक की आग में प्रवेश करोगे।" 
जो लोग यीशु में विश्वास करते हैं, फिर भी अभी तक परमेश्वर की धार्मिकता को स्वीकार नहीं किया है, या यीशु के बपतिस्मा और लहू के आत्मिक खतने को स्वीकार नहीं किया है, वे पाखंडी मसीही और महान पापी हैं जो परमेश्वर के सामने अपने पापों को स्वीकार नहीं कर सकते हैं। पापी जो यीशु की धार्मिकता में विश्वास नहीं करते वे उसके राज्य में प्रवेश नहीं कर सकते।
जो लोग यीशु पर विश्वास करने के बाद धर्मी हो गए हैं, उनके दिलों में आत्मिक खतना प्राप्त करने का प्रमाण है। निम्नलिखित प्रमाण हैं: यीशु परमेश्वर है जो मनुष्य के शरीर में आया था, और उसने बपतिस्मा लिया और क्रूस पर लहू बहाया। यीशु पृथ्वी पर आया और जगत के पापों को लेने के लिए यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले के द्वारा बपतिस्मा लिया; जो लोग आत्मिक खतने में विश्वास करते हैं उनके विश्वासों को सिद्ध करने के लिए उसने क्रूस पर न्याय को स्वीकार किया। वह तीन दिनों में मरे हुओं में से जी उठा और हमारा जीवित उद्धारकर्ता बन गया। यह परमेश्वर की धार्मिकता का बहुत ही सही उद्धार है जो न केवल लहू के द्वारा, बल्कि पानी, लहू और पवित्र आत्मा के द्वारा है। ये आत्मिक खतने के निर्णायक प्रमाण हैं जो हमारे लिए उसके पूर्ण उद्धार की गवाही देते हैं।
मेरे प्रिय मसीहीयों, अपने दिलों में स्वीकार करें कि हमारा उद्धार केवल यीशु के लहू से नहीं, बल्कि पानी, लहू और पवित्र आत्मा से संभव हुआ है। परमेश्वर ने जगत के पापों को मिटा दिया और हमारी निंदा को पूरी तरह से मिटा दिया। उसने न केवल मेरे पापों को, बल्कि जगत के पापों को भी, आदम से लेकर पृथ्वी पर अंतिम व्यक्ति के पापों तक, मिटा दिए। उसने अपने बपतिस्मा और लहू से सारे पापों को ले लिया। आत्मिक खतना प्राप्त करने से जो कोई भी परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करता है, जो यीशु द्वारा पूरा किया गया था, जो पानी और लहू के द्वारा आया था वह आत्मिक ख़तना प्राप्त करने के द्वारा उद्धार पाएगा। 
यूहन्ना से यीशु के बपतिस्मा के द्वारा जगत के सारे पाप दूर हुए हैं। अब जो लोग आत्मिक खतने में विश्वास करते हैं, उनके हृदय में पाप नहीं हो सकता। यीशु फिर से मरे हुओं में से जी उठा और अपनी धार्मिकता से उसने पाप से मरी हुई हमारी आत्माओं को भी जिलाया। परमेश्वर हमें यीशु के बपतिस्मा, उसके लहू और आत्मा के सुसमाचार के साथ ढूंढ़ रहा है, और अब हम आत्मिक खतने के द्वारा उद्धार पा सकते हैं। जो लोग विश्वास करते हैं उनके लिए आत्मिक खतना सृष्टि से पहले यीशु में परमेश्वर की योजना थी। अब, आप जो परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करते है उन्होंने भी आत्मिक खतना प्राप्त किया है।