उपदेश

विषय ९ : रोमियों (रोमियों की पत्री किताब पर टिप्पणी)

[अध्याय 5-1] रोमियों अध्याय ५ का परिचय

न्यायीकरण का सिध्धांत सच नहीं है

पौलुस इस अध्याय में विश्वास के द्वारा घोषणा करता है कि केवल वे ही जो परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करते हैं "परमेश्वर के साथ मेल रखते हैं।" इसका कारण यह है कि पिता परमेश्वर ने हमारे लिए मसीह को बपतिस्मा दिया और यहाँ तक कि क्रूस पर उसका लहू बहाया।
हालाँकि, हम अक्सर देखते हैं कि अधिकांश मसीही आज परमेश्वर के साथ शांति प्राप्त करने में असमर्थ हैं क्योंकि उन्हें परमेश्वर की धार्मिकता का ज़रा भी ज्ञान नहीं है। यह उन लोगों की सच्चाई है जो आज के मसीही धर्म को मानते हैं। इसलिए, न्यायीकरण का सिद्धांत परमेश्वर के सामने ठीक नहीं है।
न्यायीकरण के सिद्धांत में विश्वास करने की तुलना में परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करके उसे प्राप्त करना अधिक उचित है। पिता परमेश्वर ने यह नहीं कहा कि वह यीशु में विश्वासियों को अपने लोग कहेंगे, भले ही उनके हृदयों में पाप था। परमेश्वर पापियों को अपनी सन्तान के रूप में स्वीकार नहीं करता। परमेश्वर ऐसा व्यक्ति नहीं है। वह उद्धारकर्ता है जो अपने हृदय में पाप करने वाले व्यक्ति को कभी भी अपने लोगों में से एक नहीं मानता है। हम जिस परमेश्वर में विश्वास करते हैं वह सर्वशक्तिमान है। क्या सर्वशक्तिमान और सर्वज्ञानी परमेश्वर किसी के झूठे विश्वास के बारे में ठीक से नहीं जान पाएंगे? तब हमें यह जानना और विश्वास करना चाहिए कि वह एक मसीही-पापी को, जो एक झूठा विश्वास करता है, उसे अपने लोगों में से एक के रूप में नहीं मानता है।
परमेश्वर के सामने सभी को सच्चा होना चाहिए। न्यायीकरण का सिद्धांत, जिसे लोग गलत रूप से जानते और विश्वास करते हैं, कुछ ऐसा है जो परमेश्वर का उपहास करता है। इसलिए, हमें परमेश्वर की धार्मिकता के बारे में सच्चाई को सही ढंग से समझने के बाद यीशु पर अपने उद्धारकर्ता के रूप में विश्वास करना चाहिए। पिता परमेश्वर यह नहीं कहते कि किसी के पास पाप होना ठीक है, भले ही कोई यीशु में विश्वास करता हो या नहीं। वह एक ऐसा व्यक्ति है जो निश्चित रूप से एक पापी को उसके पाप के लिए न्याय करता है।
इसलिए, पाप की अपनी समस्याओं को हल करने के लिए, आपको परमेश्वर की धार्मिकता को जानने और उस पर विश्वास करने की आवश्यकता है। परमेश्वर यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू में हमारे विश्वासों को देखेगा और हमारे पापों को माफ़ करेगा। क्योंकि हम परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करते हैं, परमेश्वर हमें अपने लोग कहते हैं, हमें गले लगाते हैं और यहाँ तक कि हमें आशीष भी देते हैं। पिता परमेश्वर स्वीकार करते हैं कि उनकी धार्मिकता में हमारा विश्वास सही है।
 

परमेश्वर पृथ्वी के न्यायाधीश नहीं है

परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करने वाला विश्वास अब्राहम के विश्वास पर आधारित है, जो विशुद्ध रूप से परमेश्वर के वचनों में विश्वास करता था। अधिकांश मसीही न्यायीकरण के सिद्धांत के बारे में गलत समझते हैं, और इस प्रकार हमें इस बिंदु पर इसे स्पष्ट रूप से समझने की आवश्यकता है। आप निश्चित रूप से जानते हैं कि इस दुनिया में किसी भी अदालत में पूरी तरह से सही न्याय जैसी कोई चीज नहीं होती है। आपको यह ध्यान रखने की जरूरत है कि इस दुनिया का एक न्यायाधीश अपने फैसलों में हमेशा गलतियां कर सकता है। 
इसका कारण यह है कि सभी मानवीय न्यायाधीश अपर्याप्त हैं और यहां तक कि परमेश्वर की धार्मिकता से भी अनजान हैं, जो अच्छे और बुरे की पूर्ण कसौटी है। अधिकांश मसीही परमेश्वर की धार्मिकता को गलत समझने के लिए उपयुक्त हैं जो हमें "हमारे विश्वासों के अनुसार धर्मी" (रोमियों अध्याय 5) का न्याय करते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि उनका न्याय उसी तर्क का उपयोग करता है जैसे एक न्यायाधीश द्वारा एक पापी को सजा दी जाती है। 
न्यायीकरण का सिद्धांत गलत न्याय का सिद्धांत है। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह सिद्धांत मानव विचार के आधार पर बनाया गया था। लोग गलत निर्णय लेने में अच्छे हैं क्योंकि वे सर्वशक्तिमान नहीं हैं। इसलिए, वे परमेश्वर में झूठा विश्वास करते हैं, जिन्होंने वास्तव में उन्हें धर्मी बनाया है, उनके विचार धर्मी ठहराने के सिद्धांत पर आधारित हैं। इससे उन्हें यह विश्वास हो जाता है कि परमेश्वर कहते हैं, "मैं तुम्हें पापरहित मानता हूँ क्योंकि तुम किसी तरह मुझ पर विश्वास करते हो।" 
हालांकि, परमेश्वर ऐसा कुछ कभी नहीं कर सकते। लोग अक्सर मानते हैं कि भले ही उनके पास पाप है, फिर भी परमेश्वर उन्हें अपने लोगों के रूप में स्वीकार करता है क्योंकि वे किसी तरह यीशु में विश्वास करते हैं। यह उनके अपने विचारों पर आधारित है और एक झूठे विश्वास से ज्यादा कुछ नहीं है, जो एक शेतान द्वारा धोखा दिए जाने का परिणाम है।
इसलिए, उन्हें परमेश्वर की धार्मिकता में अपने विश्वासों के आधार पर अपने विश्वास के घरों का पुन:र्निर्माण करना चाहिए। पवित्र और सर्वशक्तिमान परमेश्वर उस व्यक्ति का न्याय पापरहित के रूप में कैसे कर सकता है जिसके हृदय में पाप है? क्या परमेश्वर निर्णय करता है कि जिनके हृदय में पाप है वे पापरहित हैं? यह सोचना और विश्वास करना कि ऐसा कुछ सच हो सकता है, किसी के अपने मानवीय विचार से ज्यादा कुछ नहीं है। परमेश्वर सत्य का परमेश्वर हैं और कभी भी गलत निर्णय नहीं लेते हैं। परमेश्वर, जो स्वयं सत्य है, मनुष्य की तरह अपने निर्णयों में गलतियाँ कैसे कर सकता है? ऐसा कभी नहीं हो सकता। परमेश्वर धर्मी परमेश्वर है जो अपनी धार्मिकता के आधार पर उसकी धार्मिकता में विश्वास करने वालों को पापरहित के रूप में न्याय करता है।
क्या आप परमेश्वर की धार्मिकता के बारे में जानते हैं? क्या आप उसकी धार्मिकता को जानते हैं और उसमें विश्वास करते हैं? यह धार्मिकता पानी और आत्मा के सुसमाचार के वचनों में पूरी तरह पाई जा सकती है। रोमियों में वर्णित परमेश्वर की धार्मिकता को समझने के लिए, आपको पानी और आत्मा के सुसमाचार को समझना और उसमें विश्वास करना चाहिए। ऐसा किए बिना आप कभी भी परमेश्वर की धार्मिकता को नहीं समझ सकते हैं। इस सच्चाई को सभी को समझना चाहिए। जो परमेश्वर की धार्मिकता को समझता है, वह उस सत्य को सही ढंग से समझता है जिसने उसे धर्मी बनाया है।
हम सभी को परमेश्वर की धार्मिकता पर विश्वास करना चाहिए जो बाइबल में प्रकट हुई है, अन्यथा, झूठे मानवीय निर्णयों और विचारों के आधार पर आपके विश्वास भटक जाएंगे। यदि आप लोगों ने अब तक इस प्रकार का झूठा विश्वास किया है, तो आपको अब से परमेश्वर की धार्मिकता के वचनों के अनुसार विश्वास करना चाहिए। 
अधिकांश मसीहीयों ने धर्मशास्त्र से न्यायीकरण के सिद्धांत को सीखा है और इसे अब तक सच माना है। हालाँकि, अब आपको परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करके सच्चे विश्वास की ओर लौटना चाहिए। यूहन्ना से यीशु को प्राप्त बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू में विश्वास के द्वारा परमेश्वर की धार्मिकता स्पष्ट रूप से प्रकट होती है।
    
 
कहा गया है की कलेश दृढ़ता पैदा करता है

रोमियों ५:३-४ में लिखा है कि, "केवल यही नहीं, वरन हम क्लेशों में भी घमण्ड करे, यह जानकर की क्लेश से धीरज, और धीरज से खरा निकलना, और खरे निकालने से आशा उत्पन्न होती है।” सभी नया जन्म पाए हुए मसीहीयों को यह आशा है कि परमेश्वर उन्हें निश्चित रूप से सभी प्रकार के क्लेशों से बचाएगा। यह आशा दृढ़ता उत्पन्न करती है और दृढ़ता चरित्र उत्पन्न करती है। इसलिए, धर्मी, जो परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करते हैं, क्लेश के समय में भी आनन्दित होते हैं।
पौलुस ने कहा कि परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास परमेश्वर के राज्य की आशा करता है और यह आशा को निराश नहीं करता है। धर्मी लोगों के पास किस तरह की आशा है? उनके पास वह आशा है जिसके द्वारा वे परमेश्वर के राज्य में प्रवेश कर सकते हैं और वहाँ रह सकते हैं। इस तरह का विश्वास कहां से आता है? यह पिता परमेश्वर के प्रेम के द्वारा यीशु मसीह की धार्मिकता में विश्वास करने से आता है।
 

प्रभु कहते है की हम अधर्मी थे

“क्योंकि जब हम निर्बल ही थे, तो मसीह ठीक समय पर भक्तिहीनों के लिए मरा” (रोमियों ५:६)।
हमारे गर्भ धारण करने से पहले, या जब हम अपनी माँ के गर्भ में थे, या जब हम पैदा हुए थे लेकिन प्रभु को नहीं जानते थे, हमारे पास जीवन भर पाप करने और अंत में नरक में जाने के अलावा और कोई विकल्प नहीं था।
जब हमारे पूर्वज आदम और हव्वा ने पाप किया था, तो परमेश्वर ने उद्धारकर्ता भेजने का वादा किया था और कहा था, "वह तेरे सिर को कुचल डालेगा, और तू (सर्प) उसकी एड़ी को डसेगा" (उत्पत्ति ३:१५)। इस प्रतिज्ञा के अनुसार, हमारे पाप करने से पहले ही यीशु मसीह इस संसार में आए, और हमें हमारे सभी पापों से बचाया। उसने दुनिया के पापों को लेने के लिए यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले से बपतिस्मा लिया और क्रूस पर अपना लहू बहाकर उन्हें मिटा दिया। उसने मृत्यु से अपने पुनरुत्थान के द्वारा हमारे पापों को मिटा दिया। प्रभु ने अपने बपतिस्मा के द्वारा मनुष्यजाति के पापों और आपके और मेरे जैसे अधर्मियों के पापों को अपने ऊपर ले लिया, और क्रूस पर मरकर विश्वासियों को उनके सभी पापों से बचाया।
क्या हम धर्मी हैं? एक धर्मी व्यक्ति वह होता है जो परमेश्वर के प्रति भय में खड़ा होता है और स्वयं को पाप से दूर रखता है। यह परमेश्वर की सिद्ध धार्मिकता थी जिसने यीशु को आपके और मेरे लिए, अधर्मी लोगों के लिए बपतिस्मा लेने की अनुमति दी, और उन्हें क्रूस पर चढ़ाया गया और फिर पुनर्जीवित किया गया। यह परमेश्वर का प्रेम भी था जिसने हमें तब बचाया जब हम शक्तिहीन थे। 
पुराने नियम में महायाजक के हाथों को रखने के द्वारा इस्राएलियों के वर्ष के पापों को पापबली के ऊपर पारित करने की तरह (लैव्यव्यवस्था १६:२०-२१), यीशु मसीह ने यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले से बपतिस्मा लेने के द्वारा न केवल मनुष्यजाति के सभी पापों को अपने ऊपर ले लिया, लेकिन वह क्रूस पर भी चढ़ा क्योंकि वह नए नियम में जगत के पापों को ढो रहा था। परमेश्वर की धार्मिकता इस तथ्य को संदर्भित करती है कि यीशु मसीह ने बपतिस्मा लेकर और अपना लहू बहाकर पापियों के सभी पापों को धो दिया।
क्या आप और मैं धर्मी हैं? क्या प्रभु हम पापियों को बचाने नहीं आया क्योंकि हम अधर्मी हैं? परमेश्वर अच्छी तरह जानता है कि हम सब अधर्मी हैं। हम अधर्मी हैं क्योंकि हम जन्म के दिन से लेकर मरने तक पाप करते रहते हैं। हालाँकि, जब हम पापी थे तब भी यूहन्ना द्वारा बपतिस्मा लेने और क्रूस पर अपना लहू बहाने के द्वारा, मसीह ने हमारे लिए अपने प्रेम का प्रदर्शन किया। 
 

यीशु ने हमारा गंतव्य बदल दिया है

हमें यह सोचना चाहिए कि जन्म के दिन से ही मनुष्य के रूप में हम किस प्रकार के भाग्य का सामना करते हैं। जिस दिन हम पैदा हुए थे उस दिन से हमारा भाग्य क्या था? हमारा नर्क में जाना तय था। फिर आपके और मेरे लिए नरक में जाने के इस भाग्य से बचना कैसे संभव था? हमारे भाग्य बदल गए क्योंकि हमने परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास किया। जिस सच्चाई जिसने हमारे भाग्य को बदल दिया वह है पानी और आत्मा का सुसमाचार। हमारा भाग्य धन्य हो गया क्योंकि हमने यीशु मसीह पर विश्वास किया, जिसने परमेश्वर की धार्मिकता को परिपूर्ण किया था।
आप निम्न गीत के प्रसिद्ध वचनों को जानते होंगे, "♪अद्भुत कृपा! कितनी मीठी आवाज है, ♫उसने मेरे जैसे दुष्ट को बचाया! "♫मैं एक बार खो गया था, लेकिन अब मिल गया हूँ, "♫अंधा था, लेकिन अब मैं देखता हूं♪।" परमेश्वर की दया और धार्मिकता वह सच्चाई है जो हमारे उद्धार की गवाही देती है। जब कोई व्यक्ति परमेश्वर की धार्मिकता को जानता और विश्वास करता है तब वह व्यक्ति अपने ह्रदय के सारे पापों की माफ़ी प्राप्त कर सकता है और स्वर्गीय शांति का आनंद ले सकता है। अब इस जगत में हर कोई जो अभी भी अपने ह्रदय में पाप रखता है, भले ही फिर वो यीशु में विश्वास करते हो उन्हें परमेश्वर की धार्मिकता को जानने के लिए पानी और आत्मा के सुसमाचार की ओर लौटना चाहिए।
वास्तव में, मसीही जो पानी और आत्मा के सुसमाचार को नहीं जानते हैं, वे भी इस बात से अनजान हैं कि उनके पाप यीशु को सौंप दिए गए हैं। इसलिए, वे परमेश्वर की धार्मिकता प्राप्त करने में असमर्थ हैं। भले ही वे विश्वास करते हैं कि यीशु इस जगत में आए और क्रूस पर मरकर उन्हें उनके पापों से बचाया फिर भी वे अपने उद्धार के बारे में सुनिश्चित नहीं हैं। इस प्रकार, वे केवल इस अस्पष्ट अनुमान से राहत महसूस करते हैं कि शायद परमेश्वर ने उन्हें जगत के निर्माण से पहले चुना है। दूसरे शब्दों में, वे केवल मसीही धर्म में दुनिया के एक ओर धर्म के रूप में विश्वास करते हैं।
वचन ११ कहता है, "केवल यही नहीं, परन्तु हम अपने प्रभु यीशु मसीह के द्वारा, जिसके द्वारा हमारा मेल हुआ, परमेश्वर में आनन्दित होते है।" किसने हमारा यानी की पापियों का, परमेश्वर के साथ मेल कराया? यीशु मसीह ने हमें पिता के साथ मिला दिया। कैसे? स्वयं इस जगत में आए, ३० वर्ष की आयु में यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले के द्वारा बपतिस्मा लिया, क्रूस पर चढ़ाया गया, फिर मृत्यु से पुनरुत्थित हुआ, इस प्रकार उस कार्य को परिपूर्ण किया जिसने परमेश्वर की सब धार्मिकता को पूरा किया है। स्वर्गीय महायाजक के रूप में इस जगत में आने और मनुष्यजाति के पापों को लेने के द्वारा, यीशु परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करने वालों के लिए हमारा उद्धारकर्ता बन गया। सांसारिक महायाजक, यूहन्ना बपतिस्मा देनेवाले से बपतिस्मा लेकर, क्रूस पर अपना लहू बहाकर और फिर मृत्यु से पुनरुत्थित होकर, मसीह हमारा उद्धारकर्ता बना।
चूँकि यीशु मसीह ने पहले ही हमारे सभी पापों को समाप्त कर दिया है, हम अपने विश्वासों के माध्यम से परमेश्वर की धार्मिकता प्राप्त करने में सक्षम बने। जो कोई यह मानता है कि यीशु ने हमें हमारे सभी पापों से पूरी तरह से बचाया है, वह परमेश्वर में आनन्दित होगा। जिस किसी के मन में जरा सा भी पाप है, वह परमेश्वर की संतान नहीं है।
आप भाइयो शायद पहले से ही जानते हैं कि इस संसार के लोग न्यायीकरण के सिद्धांत और पवित्रता के सिद्धांत को सत्य मानते हैं। यदि परमेश्वर शासन करता है तो क्या यह सही है कि यदि केवल हम कहते है की हम यीशु पर विश्वास करते है तो हम पापरहित है, फिर चाहे भले ही हमारे ह्रदय में पाप हो? या क्या यह और भी सही है कि हमें परमेश्वर के लोगों के रूप में संदर्भित किया जाना चाहिए क्योंकि हम सिर्फ खुद को मसीही के रूप में पहचानते हैं? 
हम प्रभु की प्रार्थना में कहते हैं, "हे हमारे पिता, तू जो स्वर्ग में हैं, आपका नाम पवित्र माना जाए"। इस वाक्यांश का अर्थ है कि जिनके हृदय में पाप हैं, वे संभवतः परमेश्वर को 'हमारा पिता' नहीं कह सकते। क्या हमें अब भी न्यायीकरण के सिद्धांत में विश्वास करना चाहिए? क्या कोई व्यक्ति जो वर्तमान में पापी है, क्या वह प्रभु को अपना उद्धारकर्ता कह सकता है? वह कुछ वर्षों के लिए प्रभु को पुकार सकता है, लेकिन अंततः वह प्रभु को छोड़ देगा क्योंकि वह ईमानदारी से एक मसीही होने में शर्म महसूस करता है। इसलिए, आपको पता होना चाहिए कि न्यायीकरण का सिद्धांत आपको परमेश्वर की धार्मिकता से अलग कर देगा।
पवित्रीकरण का सिद्धांत भी गलत है। यह सिद्धांत कहता है कि हम मरने से पहले जब तक पवित्र नहीं हो जाते तब तक हम धीरे-धीरे परिवर्तनों से गुजरते है और इस प्रकार, हम एक पवित्र व्यक्ति के रूप में परमेश्वर से मिल सकते हैं। क्या आपको लगता है कि आप अपने पापों के बिना परमेश्वर से मिलने के लिए धीरे-धीरे खुद पवित्र बन सकते हैं? बिलकुल नहीं। सच्चाई हमें बताती है कि परमेश्वर की धार्मिकता को जानने और उस पर विश्वास करने से ही कोई व्यक्ति परमेश्वर के राज्य में प्रवेश कर सकता है। 
 

यद्यपि एक मनुष्य के द्वारा पाप जगत में आया!

आइए अब वचन १२ पढ़ते है। “इसलिए जैसा एक मनुष्य के द्वारा पाप जगत में आया, और पाप के द्वारा मृत्यु आई, और इसी रीति से मृत्यु सब मनुष्यों में फ़ैल गई, क्योंकि सब ने पाप किया।” किसके द्वारा पाप सब मनुष्यों के ह्रदय में प्रवेश हुआ और कितने व्यक्ति के द्वारा पाप इस जगत में आया? वचन कहता है, “एक मनुष्य के द्वारा पाप जगत में आया।”
दूसरे शब्दों में, ऐसा कहा जाता है कि पाप एक मनुष्य, आदम के कारण अस्तित्व में आया, और हम सब उसके वंशज हैं। फिर किसके द्वारा संसार के पाप मिट गए? यह कहा जा सकता है कि यह उसी तरह हुआ जिस तरह से पाप पहले दुनिया में आया था।
मनुष्यजाति के पाप अस्तित्व में आए क्योंकि एक व्यक्ति उस व्यवस्था में विश्वास नहीं करता था जिसे परमेश्वर ने स्थापित किया था। अब भी, जो परमेश्वर के वचनों में विश्वास नहीं करता है, वह पापी रहेगा और नरक में अंत होगा।
इसलिए, हमें निम्नलिखित बाते जानना चाहिए। हम अपने पापों के कारण पापी नहीं हैं, बल्कि अपने पूर्वजों के कारण हैं जिन्होंने पाप किया था। आपको पता होना चाहिए कि लोगों के पाप करने का कारण यह है कि वे कमजोर हैं और उनके दिलों में पाप है। लोगों द्वारा किए गए पाप को अधर्म कहा जाता है। उनके पाप करने का कारण यह है कि वे इस संसार में पाप करने के लिए पैदा हुए हैं। क्योंकि हर कोई अपर्याप्त है और इस दुनिया में पाप को लेकर पैदा हुआ है, इसलिए वह पाप करता है। 
हम मूल रूप से पापी यानी की पाप के बीज बन गए क्योंकि हमें अपने पूर्वजों से सभी पाप विरासत में मिले हैं। हालाँकि, आपको पता होना चाहिए कि कोई भी व्यक्ति परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करके एक ही बार में पवित्र और धर्मी बन सकता है।
 

मनुष्य में सबसे पहले पाप कब अस्तित्व में आया?

"व्यवस्था के दी जाने तक पाप जगत में था, परन्तु जहाँ व्यवस्था नहीं वहाँ पाप गिना नहीं जाता" (रोमियों ५:१३)। क्या परमेश्वर की व्यवस्था को जानने से पहले पाप था? इससे पहले कि हम परमेश्वर की व्यवस्था को जानते, हम यह नहीं समझते थे कि परमेश्वर के सामने एक पापपूर्ण कार्य के रूप में क्या है। परमेश्वर ने हम से कहा, "तू मुझे छोड़ दूसरों को ईश्वर करके न मानना, तू अपने लिये कोई मूर्ति खोदकर न बनाना, जो आकाश में, या पृथ्वी पर, या पृथ्वी के जल में है; तू उनको दण्डवत् न करना, और न उनकी उपासना करना, तू अपने परमेश्वर का नाम व्यर्थ न लेना, और तू विश्रामदिन को पवित्र मानने के लिए स्मरण रखना।" परमेश्वर के ऐसे नियमों और आज्ञाओं के 613 खंडों को जानने से पहले जो हमें बताते हैं कि हमें क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए, हम वास्तव में अपने पापों के बारे में नहीं जानते थे। 
इसलिए, "व्यवस्था के दी जाने तक पाप जगत में तो था, परन्तु जहाँ व्यवस्था नहीं वहाँ पाप गिना नहीं जाता।" क्योंकि हम अन्यजातियों के पास व्यवस्था नहीं थी और इस प्रकार हम इसे नहीं जानते थे, हमने इसे जाने बिना पाप किया। अधिकांश कोरियाई लोग एक चट्टान से प्रार्थना करते रहे हैं, यह सोचकर कि यह बुद्ध है, फिर भी उन्हें अभी भी यह एहसास नहीं है कि वे एक नक्काशीदार छवि की सेवा कर रहे हैं। वे नहीं जानते थे कि दूसरे देवताओं को प्रणाम करना परमेश्वर के सामने पाप है।
हालाँकि, व्यवस्था के आने से पहले, संसार में पाप पहले से मौजूद था। आदम को बनाने के लगभग २,५०० साल बाद परमेश्वर ने हमें व्यवस्था दी। यद्यपि परमेश्वर ने इस्राएलियों को मूसा के द्वारा लगभग १,४५० ई.पू. में व्यवस्था दी थी, पाप पहले से ही एक मनुष्य, आदम के द्वारा संसार में प्रवेश कर चुका था, और व्यवस्था के आने से पहले ही सभी लोगों के हृदयों में अस्तित्व में आ गया था। 
    
 
यीशु अपने लोगों का उद्धारकर्ता है

क्या यीशु मसीह ने अकेले ही दुनिया के सभी पापों को खत्म कर दिया था? हाँ। यहाँ वचन १४ में कहा गया है कि मृत्यु ने उन लोगों पर शासन किया जिन्होंने आदम के अपराध की समानता के अनुसार पाप नहीं किया था या अपराध नहीं किया था। इसलिए, आदम उसका एक प्रकार था जो आने वाला था। एक मनुष्य के द्वारा मनुष्यजाति पापी बन गई। इसी तरह, यीशु मसीह इस दुनिया में आए और पानी और आत्मा के सुसमाचार के द्वारा हमें हमारे सभी पापों से बचाया।
यीशु उद्धारकर्ता बन गया जिसने अपने लोगों को उनके पापों से बचाया। केवल एक ही उद्धारकर्ता है जिसने हमें, आदम के वंशजों को पाप से बचाया। "किसी दूसरे के द्वारा उद्धार नहीं; क्योंकि स्वर्ग के नीचे मनुष्यों में और कोई दूसरा नाम नहीं दिया गया, जिसके द्वारा हम उद्धार पा सकें" (प्रेरित ४:१२)। उसका नाम यीशु मसीह है, हमारा अनन्त उद्धारकर्ता।
हमें यह समझना चाहिए कि हम स्वतः ही एक मनुष्य, आदम के द्वारा पापी बन गए। क्या आप जानते हैं कि यीशु मसीह ही वह उद्धारकर्ता है जिसने एक ही बार में संसार के पापों का नाश कर दिया? क्या आप विश्वास करते हैं कि यीशु मसीह ही वह उद्धारकर्ता है जिसने अपने बपतिस्मा और क्रूस पर लहू बहाने के द्वारा जगत के सभी पापों को एक ही बार में मिटा दिया? क्या आप विश्वास करते हैं कि यीशु इस संसार के पापों का नाश करके सारी मनुष्यजाति का सच्चा उद्धारकर्ता बन गया, जैसे आदम एक अपराध करके सभी पापों का स्रोत बना था? 
यीशु इस दुनिया में उन सभी को बचाने के लिए आया था जो एक मनुष्य, आदम के कारण पापी बन गए थे, और यूहन्ना द्वारा बपतिस्मा लेने के द्वारा मनुष्यजाति के सभी पापों को अपने ऊपर ले लिया, क्रूस पर अपना लहू बहाने के द्वारा पापों का दण्ड सहा, और परमेश्वर की सारी धार्मिकता, जिसने हमारे सब पापों को मिटा दिया परिपूर्ण किया। इस प्रकार वह हमारा सम्पूर्ण उद्धारकर्ता बन गया। 
हमें यीशु पर विश्वास करने के बाद न्यायीकरण के सिद्धांत या पवित्रीकरण के सिद्धांत पर विश्वास करके उद्धार प्राप्त नहीं हुआ। यीशु ने हमें एक ही बार में अनन्त उद्धार दिया। यीशु ने कहा कि केवल वे ही परमेश्वर के राज्य में प्रवेश कर सकते है और उसे देख सकते है जिन्होंने पानी और आत्मा से नया जन्म लिया है। 
वह कौन सा निश्चित विचार है जो मानव विवेक के तल पर मौजूद है? यह कार्य-कारण का सिद्धांत है। वे अपने विचारों में गहराई से सोचते हैं कि उनके प्रयास और प्रयत्न किसी न किसी तरह से उद्धार के लिए कार्य करेंगे। हालाँकि, प्रत्येक व्यक्ति को पाप से सच्चा उद्धार केवल एक ही बार में विश्वास करने के द्वारा प्राप्त होता है, जब वह पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करता है। इसके अलावा, यीशु इस दुनिया में आया और हमें पाप से बचाने के लिए क्रूस पर चढ़ाया गया। वह उन सभी का उद्धारकर्ता बन गया जो सच्चे सुसमाचार में विश्वास करते हैं।    
अपने आप को इस अनुचित विचार से मुक्त करें कि कोई व्यक्ति पश्चाताप की प्रार्थना के द्वारा पवित्रीकरण तक पहुँच सकता है और धर्मी बन सकता है। बाइबिल में, एक मनुष्य, यीशु मसीह, इस दुनिया में आया, हमारे सभी पापों को लेने के लिए बपतिस्मा लिया और क्रूस पर उन पापों के प्रायश्चित के माध्यम से हमारे उद्धार को परिपूर्ण किया।
 
 
यीशु ने हमें पापों की अनंत माफ़ी दी है जो हमारे अपराधो की तरह नहीं है

वचन १५ कहता है, “पर जैसी अपराध की दशा है, वैसी अनुग्रह के वरदान की नहीं, क्योंकि जब एक मनुष्य के अपराध से बहुत लोग मरे, तो परमेश्वर का अनुग्रह और उसका जो दान एक मनुष्य के, अर्थात् यीशु मसीह के अनुग्रह से हुआ बहुत से लोगों पर अवश्य ही अधिकाई से हुआ”।
जब यीशु ने बपतिस्मा लिया तब क्या आपके और मेरे पापों को यीशु पर पारित किया गया था? हाँ किया गया था। यीशु दुनिया के पापों को लेकर क्रूस पर गए और हमारे स्थान पर उन पापों के लिए न्याय प्राप्त किया।
परमेश्वर का उद्धार एक मुफ्त उपहार है, और इसे अपराध से अलग कहा जाता है।
यीशु ने अपने ३३ साल के जीवन में अपने बपतिस्मा और क्रूस के लहू से हमें यानी जिन्होंने जीवनभर पाप किया उन्हें बचाया है। एक बार में परिपूर्ण हुई पाप की माफ़ी में विश्वास करके उद्धार प्राप्त करने के बाद भी, हमारा शरीर पाप करना जारी रख सकता है क्योंकि यह अपर्याप्त और नाजुक है। यद्यपि हमारा शरीर अभी भी पाप करना जारी रखता है, फिर भी हम पाप की अनन्त माफ़ी प्राप्त कर सकते हैं यदि हम इस तथ्य में विश्वास करते हैं कि यीशु ने बपतिस्मा लेने के द्वारा एक ही बार में हमारे सभी पापों को अपने ऊपर ले लिया और उसने अपना लहू बहाकर परमेश्वर की सब धार्मिकता को पूरा किया।
पाप की माफ़ी के उद्धार का उपहार आदम के अपराध के समान नहीं है। पाप की माफ़ी का परमेश्वर का उपहार प्रतिदिन नहीं दिया जाता है, जैसे कि लोग दैनिक पाप करते हैं। पाप की माफ़ी का सत्य कहता है कि प्रभु ने लगभग २००० वर्ष पहले बपतिस्मा लेकर और अपना लहू बहाकर हमें एक ही बार में हमारे सभी पापों से बचा लिया है।
परमेश्वर का उद्धार का उपहार जिसने हमें हमारे सभी पापों से बचाया, वह धार्मिकता है जो यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर लहू के द्वारा एक ही बार में पूरी हो गई थी। पापों की अनन्त माफ़ी दैनिक पश्चाताप की प्रार्थनाओं के माध्यम से माफ़ी की तरह नहीं है, जिसे आजकल अधिकांश मसीही चाहते हैं। यह सत्य कहता है कि प्रभु ने पहले ही देख लिया था कि हम हर दिन पाप करेंगे और इसलिए जब उन्होंने बपतिस्मा लिया तो इस दुनिया के सभी पापों को एक ही बार में ले लिया। इसलिए, पिता परमेश्वर ने पुत्र के बपतिस्मा और क्रूस पर चढ़ाए जाने के द्वारा अपनी सब धार्मिकता को पूरा किया। परमेश्वर की सारी धार्मिकता पूरी हो चुकी है क्योंकि यीशु ने बपतिस्मा लिया, क्रूस पर लहू बहाया और फिर से जी उठे।
आजकल अधिकांश मसीही मानते हैं कि जब वे पश्चाताप की प्रार्थना करते हैं तो उनके पाप दूर हो जाते हैं। क्या ये वास्तव में सच है? हरगिज नहीं। जो व्यक्ति यह सोचता है कि वह हत्या करने बाद पश्चाताप की प्रार्थना करके वह अपने पापों का प्रायश्चित कर सकता है, वह गलत है। यह सोचने का तरीका मानव विचार से ज्यादा कुछ नहीं है। परमेश्वर की तरफ से पापों को खत्म करने के लिए, हमेशा पाप की मजदूरी का भुगतान करने की आवश्यकता होती है। ऐसा करने के लिए, परमेश्वर ने अपने पुत्र यीशु को यूहन्ना द्वारा बपतिस्मा दिया और उन्होंने क्रूस पर लहू बहाकर सभी पापों को मिटा दिया। यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर के लहू में विश्वास करके मनुष्यजाति के पापों को धोया और मिटाया जा सकता है; पश्चाताप की प्रार्थना करने से नहीं।
इसलिए, बाइबल कहती है, "पर जैसी अपराध की दशा है, वैसी अनुग्रह के वरदान की नहीं, क्योंकि जब एक मनुष्य के अपराध से बहुत लग मरे, तो परमेश्वर का अनुग्रह और उसका जो दान एक मनुष्य के, अर्थात् यीशु मसीह के, अनुग्रह से हुआ बहुत से लोगो पर अवश्य ही अधिकाई से हुआ।” जिस तरह रात भर नल के चलने पर पानी भर जाता है, चाहे हमने कितने भी पाप किए हों, उसका उद्धार हमें हमारे सभी पापों से बचाने के लिए पर्याप्त रूप से बहता है। 
यीशु ने बपतिस्मा लेकर संसार के सारे पापों को अपने ऊपर ले लिया है। साथ ही, क्योंकि परमेश्वर का उद्धार हमारे द्वारा किए गए अधर्मों से कहीं अधिक है, हमारे बचाए जाने के बाद भी उसका उद्धार बहुतायत में है। क्या यह स्पष्ट है?
 

एक मनुष्य, यीशु मसीह के द्वारा

वचन १६ और १७ कहते है, “जैसा एक मनुष्य के पाप करने का फल हुआ, वैसा ही दान की दशा नहीं, क्योंकि एक ही के कारण दण्ड की आज्ञा का फैसला हुआ, परन्तु बहुत से अपराधों के कारण ऐसा वरदान उत्पन्न हुआ कि लोग धर्मी ठहरे। क्योंकि जब एक मनुष्य के अपराध के कारण मृत्यु ने उस एक ही के द्वारा राज्य किया, तो जो लोग अनुग्रह और धर्मरूपी वरदान बहुतायत से पाते हैं वे एक मनुष्य के, अर्थात् यीशु मसीह के द्वारा अवश्य ही अनन्त जीवन में राज्य करेंगे।”
मौत ने एक आदमी के अपराध से सारी मानवता पर राज किया है। यह दर्शाता है कि एक मनुष्य, आदम के पाप ने सभी को पापी बना दिया और उस पाप के कारण, सभी को परमेश्वर के श्राप का सामना करना पड़ा। जिसने भी पाप किया है उसे मरना और नरक में जाना था। उसी तरह, परमेश्वर की धार्मिकता जीवन में एक, यीशु मसीह के कारण राज करती है। जिन लोगों ने अनुग्रह और धार्मिकता का प्रचुर उपहार प्राप्त किया है, वे वो हैं जिन्हें पानी और आत्मा के सुसमाचार में उनके विश्वासों के लिए उद्धार का उपहार दिया गया है। वे परमेश्वर से बहुत अधिक अनुग्रह प्राप्त करते हैं, और जीवन में राज्य करेंगे।
वचन १८ कहता है, “इसलिये जैसा एक अपराध सब मनुष्यों के लिये दण्ड की आज्ञा का कारण हुआ, वैसा ही एक धर्म का काम भी सब मनुष्यों के लिये जीवन के निमित्त धर्मी ठहराए जाने का कारण हुआ।”
यहाँ, हमें एक प्रश्न पूछने और उसका उत्तर देने की आवश्यकता है: "क्या यह सोचना सही है कि एक व्यक्ति के पाप से, हम सभी पापी हो गए हैं?" क्या आप अपने पापों के कारण पापी बन गए हैं, या अपने पूर्वज आदम के परमेश्वर के विरुद्ध अपराध के कारण? यदि हम सब आदम के अपराध के कारण पापी हो गए हैं, तो जो लोग यीशु मसीह ने हमें हमारे पापों से बचाने के लिए किए गए धर्मी कार्य में विश्वास करते हैं, वे धर्मी बन जाते हैं। यदि कोई परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करता है, तो क्या उसका पाप वास्तव में समाप्त हो जाता है? हाँ।─ वह पापरहित हो जाता है।
“एक धर्म का काम भी सब मनुष्यों के लिये जीवन के निमित्त धर्मी ठहराए जाने का कारण हुआ।” परमेश्वर की धार्मिकता का मुफ्त उपहार प्राप्त करने का मतलब यह नहीं है कि किसी को यीशु में विश्वास करके किसी तरह से बचाए जाने के बाद, पवित्रता तक पहुंचने के लिए हर दिन पश्चाताप की प्रार्थना करनी होगी। कभी नहीँ! जब प्रेरित पौलुस ने 'विश्वास से धर्मी ठहराए जाने' के बारे में बात की, तो इसका मतलब 'विश्वास से धर्मी ठहराना' के तथाकथित मसीही सिद्धांत से भी नहीं है। 
अधिकांश मसीहीयों के हृदय में पाप है क्योंकि वे केवल क्रूस पर यीशु के लहू में विश्वास करते हैं। इसलिए, वे अपने दिलों में पापों को छिपाने के लिए न्यायीकरण के सिद्धांत को स्वीकार और समर्थन करते हैं, जबकि खुद को यह कहते हुए दिलासा देते हैं, "भले ही हमारे हृदयों में पाप हैं फिर भी वह हमें पाप रहित मानता हैं।" हालांकि, यह सिद्धांत बेतुका है और शापित हो जाएगा। 
वचन १९ कहता है, “क्योंकि जैसा एक मनुष्य के आज्ञा न मानने से बहुत लोग पापी ठहरे, वैसे ही एक मनुष्य के आज्ञा मानने से बहुत लोग धर्मी ठहरे।” 
यहाँ एक ऐसा व्यक्ति प्रकट होता है जिसने अवज्ञा की और दूसरा जिसने आज्ञा का पालन किया। एक था आदम, और दूसरा था मनुष्यजाति का उद्धारकर्ता, यीशु मसीह। आदम की अवज्ञा ने सभी मनुष्यजाति को पापी बना दिया, और इसलिए यीशु ने हमें हमारे पापों से बचाने के लिए यूहन्ना से बपतिस्मा लेकर, जगत के पापों के लिए क्रूस पर मरकर और पुनरुत्थित होकर अपने पिता की इच्छा का पालन करते हुए लोगों को परमेश्वर के साथ मिलाया। परमेश्वर पिता ने अपनी धार्मिकता के द्वारा यीशु में सभी विश्वासियों को पूर्ण रूप से धर्मी बनाया।    
वचन २० कहता है, “व्यवस्था बिच में आ गई कि अपराध बहुत हो, परन्तु जहाँ पाप बहुत हुआ वहाँ अनुग्रह उससे भी कहीं अधिक हुआ।”
ऐसा कहा जाता है कि व्यवस्था ने हमारे अधर्म को बढाने के लिए प्रवेश किया। आदम के वंशज के रूप में, लोग मूल रूप से पाप के साथ पैदा हुए हैं, फिर भी वे पाप करते हुए भी पाप के बारे में नहीं जानते हैं। व्यवस्था के बिना, कोई पाप को पाप के रूप में महसूस नहीं करता है, और केवल परमेश्वर की व्यवस्था के द्वारा ही व्यक्ति अपने पाप को देख पाता है। हालाँकि, जब हमें व्यवस्था का पता चला, तो हमें अपने पापों का अधिकाधिक एहसास होने लगा। भले ही लोग मूल रूप से पापों से भरे हुए थे, फिर भी वे अपनी पापों के बारे में तब तक नहीं जानते थे जब तक कि उन्हें व्यवस्था प्राप्त करने के बाद धीरे-धीरे अपने पापपूर्ण कार्यों का एहसास नहीं हुआ। इसलिए बाइबल कहती है, “व्यवस्था बिच में आ गई कि अपराध बहुत हो।” 
“परन्तु जहाँ पाप बहुत हुआ वहाँ अनुग्रह उससे भी कहीं अधिक हुआ।” इसका अर्थ यह है कि परमेश्वर की व्यवस्था के माध्यम से, व्यक्ति अपने पापों को महसूस करता है और उसकी धार्मिकता में विश्वास उसकी संतान बन जाता है। मनुष्यजाति केवल तभी परमेश्वर के अनुग्रह को सच्चे सुसमाचार के माध्यम से महसूस कर सकती है जिसमें परमेश्वर की धार्मिकता शामिल है, जब वे व्यवस्था के माध्यम से अपनी कमियों और पापपूर्णता से अवगत हो जाते हैं। जो लोग व्यवस्था के सामने अपने पापों से अच्छी तरह वाकिफ हैं, वे स्वीकार करते हैं कि उनका अन्त नरक में होगा, और इसलिए, अधिक कृतज्ञता के साथ, यीशु पर विश्वास करते हैं, जिन्होंने उन्हें अपने बपतिस्मा और क्रूस पर मृत्यु के माध्यम से बचाया है। जितना अधिक हम व्यवस्था के माध्यम से अपनी पापपूर्णता का एहसास करते हैं, उतना ही अधिक हम परमेश्वर की धार्मिकता द्वारा इस तरह के महान उद्धार की स्थापना के लिए आभारी होते हैं। 
वचन २१ कहता है, “कि जैसा पाप ने मृत्यु फैलाते हुए राज्य किया, वैसा ही हमारे प्रभु यीशु के द्वारा अनुग्रह भी अनन्त जीवन के लिए धर्मी ठहराते हुए राज्य करे।”
बाइबल में कहा गया है कि पाप ने मृत्यु फैलाते हुए राज्य किया। हालाँकि, परमेश्वर का अनुग्रह जिसमें यीशु का पानी और लहू शामिल है, वह उसकी धार्मिकता का है। क्योंकि उसकी धार्मिकता ने हमें हमारे सभी पापों से पूरी तरह से बचा लिया है, हम परमेश्वर की संतान बन गए हैं।
पवित्रता का सिद्धांत और न्यायीकरण का सिद्धांत निरर्थक परिकल्पनाएं हैं जो मानवीय तर्क से बनी हैं और उन लोगों द्वारा बनाई गई हैं जो परमेश्वर के वचनों की उपेक्षा करते हैं। यह कहना बहुत ज्यादा नहीं है कि ऐसे सिद्धांत दार्शनिक-धर्मशास्त्रियों के परिष्कार से ज्यादा कुछ नहीं हैं, जिन्हें कभी सुलझाया नहीं जा सकता। परमेश्वर के सत्य स्पष्ट और ठोस हैं।
हम इस तथ्य पर विश्वास करके जगत के पापों से बच गए हैं कि यीशु, जो मानव शरीर की समानता में परमेश्वर हैं, उसने हमें हमारे सभी पापों से बचाया है। जो उस पर विश्वास करते हैं वे बच जाते हैं। क्या आप इस पर विश्वास करते हैं? हाँ
यदि आप परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करते हैं, तो आप बच गए हैं। आप निश्चित रूप से अपने सभी पापों से मुक्ति और उद्धार प्राप्त करते हैं। यदि आप इस बात पर जोर देते हैं कि अंतहीन पश्चाताप की प्रार्थना करना और पवित्रता तक पहुँचने के लिए एक निर्दोष जीवन जीना आपको बचा सकता है, तो आप जिद्द कर रहे हैं कि आप यीशु के बिना बाख सकते हैं। यीशु ही उद्धार का एकमात्र प्रवेश द्वार है, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि पवित्रता का सिद्धांत सच्चाई की परवाह किए बिना, अपने स्वयं के कर्मों और प्रयासों से बचाए जाने में सक्षम होने के बारे में सिखाता है। 
व्यवस्था का ०.१% भी पालन करने में असमर्थ होना १००% पालन करने में असमर्थ होने के समान है। परमेश्वर हमें बताता है कि हम उसके ०.१% व्यवस्था का भी पालन करने में असमर्थ हैं। जो लोग सोचते हैं कि वे लगभग ५% व्यवस्था का पालन कर रहे हैं और समय के साथ इसे १०% तक बढ़ाने की योजना बना रहे हैं, वे अपनी क्षमताओं से पूरी तरह से अनजान हैं, और परमेश्वर की धार्मिकता के खिलाफ खड़े हैं। अपनी स्वयं की धारणा और तर्क से परमेश्वर की धार्मिकता को समझने की कोशिश न करें। उसकी धार्मिकता ने हमें हमारे पापों से बचाया है, और यह हमारी प्रतीक्षा करता है कि हम उस पर विश्वास करें ताकि हम उसकी संतान बन सकें।
परमेश्वर सर्वशक्तिमान और दयालु है, इसलिए उसने हमें अपनी धार्मिकता से एक ही बार में बचाया है। हम यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर लहू के लिए परमेश्वर को धन्यवाद देते हैं, जिसने हमें हमारे सभी पापों से पूरी तरह से बचाया है।