Sermons

विषय ९ : रोमियों (रोमियों की पत्री किताब पर टिप्पणी)

[अध्याय 5-2] ( रोमियों ५:१४ ) एक मनुष्य के द्वारा

( रोमियों ५:१४ )
“तौभी आदम से लेकर मूसा तक मृत्यु ने उन लोगों पर भी राज्य किया, जिन्होंने उस आदम, जो उस आनेवाले का चिह्न है, के अपराध के समान पाप न किया।” 
 

सबसे पहले पापियों को पाप का ज्ञान होना चाहिए

आज मैं पाप की उत्पत्ति के बारे में बात करना चाहता हूँ। आप ऐसा मत सोचिए की, “आप हर दिन एक ही तरह की बातें करते हो। मुझे अन्य चीजों के बारे में बताइए।" मैं चाहता हूँ कि आप ध्यान से सुनें। सुसमाचार सबसे कीमती चीज है। यदि कोई संत जिसके पापों को मिटा दिया गया है, वह हर दिन उसे याद दिलाने के लिए बार-बार सुसमाचार नहीं सुनता है, तो वह मर जाएगा। वह पानी और आत्मा के सुसमाचार को सुने बिना कैसे जीवित रह सकता है? उसके जीने का एकमात्र तरीका सुसमाचार को सुनना है। आइए बाइबल खोलें और इसके वास्तविक अर्थों को साझा करें।
मैंने सोचा, "पापियों को किस चीज़ की सबसे ज़्यादा ज़रूरत है, जिनके पाप अभी तक माफ़ नहीं हुए हैं?" तब मुझे पता चला कि उन्हें परमेश्वर के वचन के अनुसार पाप के सही ज्ञान की आवश्यकता है क्योंकि वे पापों की माफ़ी तभी प्राप्त कर सकते हैं जब वे पाप के बारे में जानेंगे। मेरा मानना है कि पापियों को पाप के ज्ञान की सबसे अधिक आवश्यकता होती है।
एक इंसान अपने जन्म के समय से ही कई बार पाप करता है, चाहे उसकी इच्छा हो या ना हो। वह उस पाप के बारे में गहराई से नहीं सोचता जो उसके भीतर रहता है फिर चाहे भले ही वह परमेश्वर के सामने पापी है क्योंकि वह बड़ा होने पर कई बार पाप करता है। पाप करना उतना ही स्वाभाविक है जितना कि एक सेब का पेड़ समय के साथ बढ़ता, फूलता है और फिर नए सेब देता है। हालाँकि, हमें यह जानना चाहिए कि पाप की मजदूरी परमेश्वर की व्यवस्था के अनुसार मृत्यु है।
यदि व्यक्ति पाप के परिणाम के बारे में सोचता है और वास्तव में जानता है, तो उसे पाप और परमेश्वर के न्याय से बचाया जा सकता है, और वह अपनी सभी आत्मिक आशीषे प्राप्त कर सकता है। इसलिए एक पापी के लिए सबसे अधिक आवश्यकता पाप और उसके परिणाम के बारे में जानना है, और पापों की माफ़ी के सत्य को सीखना है, जो परमेश्वर ने दिया है।
 

पाप ने जगत में कैसे प्रवेश किया?

इंसान पाप क्यों करता है? मैं पाप क्यों करता हूँ? बाइबल इस बारे में रोमियों ५:१२ में कहती है, "इसलिये जैसा एक मनुष्य के द्वारा पाप जगत में आया, और पाप के द्वारा मृत्यु आई, और इस रीति से मृत्यु सब मनुष्यों में फैल गई, इसलिये कि सब ने पाप किया।" पाप के द्वारा संसार में क्या आया? मृत्यु। लोग सोचते हैं कि मृत्यु का अर्थ केवल शरीर का मृत्यु है। हालाँकि, यहाँ मृत्यु आत्मिक रूप से परमेश्वर से अलग होने के अर्थ को दर्शाती है। इसका तात्पर्य नरक और परमेश्वर के न्याय के साथ-साथ देह की मृत्यु से भी है। रोमियों ५:१२ हमें दिखाता है कि कैसे मनुष्य पापी बन गए।
बाइबल कहती है, "इसलिये जैसा एक मनुष्य के द्वारा पाप जगत में आया, और पाप के द्वारा मृत्यु आई, और इस रीति से मृत्यु सब मनुष्यों में फैल गई, क्योंकि सब ने पाप किया।" परमेश्वर का वचन सत्य है। एक मनुष्य के द्वारा पाप जगत में आया, और पाप के द्वारा मृत्यु आई।
हम आदम के वंशज के रूप में पैदा हुए थे। तो क्या आदम के वंशज के रूप में हमारे पास पाप है या नहीं? हाँ, हमारे पास पाप है।─ क्या हम पापी पैदा हुए हैं? हाँ, क्योंकि हम आदम के वंशज हैं, जो हमारा पूर्वज है।
आदम ने सारी मनुष्यजाति को जन्म दिया। हालाँकि, आदम और हव्वा ने जब वे अदन की वाटिका में थे तब शैतान के धोखे के तहत परमेश्वर के वचन के विरुद्ध पाप किया था। परमेश्वर ने उनसे कहा कि भले और बुरे के ज्ञान के वृक्ष का फल न खाओ, बल्कि जीवन के वृक्ष के फल खाकर अनन्त जीवन पाओ। 
परन्तु वे शैतान के बहकावे में आ गए और परमेश्वर के वचन को त्याग दिया और भले और बुरे के ज्ञान के वृक्ष का फल खा लिया। आदम और हव्वा ने परमेश्वर के वचन को त्याग कर पाप किया, जो कि अनन्त जीवन का वचन है। आदम और हव्वा के पाप करने के बाद, आदम हव्वा के साथ सो गया, और सभी मनुष्य आदम और हव्वा के द्वारा पैदा हुए। हम उनके वंशज हैं। हमें न केवल उनके बाहरी रूप, बल्कि उनके पापी स्वभाव भी विरासत में मिला है।
इसलिए, बाइबल कहती है कि मनुष्य पाप का बीज है। संसार के सभी लोगों को आदम और हव्वा से विरासत में पाप मिला है। बाइबल कहती है, "इसलिये जैसा एक मनुष्य के द्वारा पाप जगत में आया, और पाप के द्वारा मृत्यु आई, और इस रीति से मृत्यु सब मनुष्यों में फैल गई, क्योंकि सब ने पाप किया।" इसलिए सभी मनुष्य पापी पैदा होते हैं।
हालाँकि, लोग नहीं जानते कि वे जन्मजात पापी हैं। पापी पैदा होते हुए भी उन्हें पाप का ज्ञान नहीं है। एक पेड़ अपने बीज से ही फूलता है और फल लाता है, लेकिन लोग सोचते हैं कि उनके लिए पाप करना अजीब है क्योंकि वे नहीं जानते कि वे पाप के बीज के रूप में पैदा हुए हैं। एक सेब के पेड़ के सोचने का भी यही सिद्धांत है, 'यह अजीब है। मुझे सेब के फल ही क्यों देने पड़ते हैं?'
इस प्रकार मनुष्य का पाप करना स्वाभाविक है। मनुष्य पाप करने से बच सकता है यह विचार, पूरी तरह से झूठ है। जिस मनुष्य को विरासत में पाप मिला है, उसके लिए जीवन भर पाप करना और पाप का फल भुगतना स्वाभाविक है, लेकिन वह पापी होने के बारे में गहराई से नहीं सोचता। परमेश्वर क्या कहते हैं? "इसलिये जैसे एक मनुष्य के द्वारा पाप जगत में आया, और पाप के द्वारा मृत्यु आई, और इस रीति से मृत्यु सब मनुष्यों में फैल गई, क्योंकि सब ने पाप किया।" 
हम जीवन भर पाप करते हैं क्योंकि हम पापियों के रूप में पैदा हुए थे। इसलिए, हम परमेश्वर द्वारा न्याय किए जाने के योग्य हैं। आप सोच सकते हैं, 'जब हमारे पास पाप करने के अलावा कोई विकल्प नहीं है, तो क्या परमेश्वर का न्याय करना अनुचित नहीं है?' हालाँकि, पापों की माफ़ी प्राप्त करने के बाद, आपको पता चल जाएगा कि परमेश्वर ने हमें अपनी संतान बनाने के लिए ऐसी योजना बनाई थी।
 

हम सब एक मनुष्य आदम के वंशज है

तो फिर, मनुष्य, जो आदम के वंशज हैं, उनकी त्वचा के रंग अलग-अलग कैसे होते हैं? क्या उनके बीज अलग हैं? गोरे, पीले और काले लोग क्यों होते हैं? कुछ लोग सोचते हैं कि जब परमेश्वर ने मनुष्य को जमीन की धूल से बनाया और उसे जलाया, तब परमेश्वर ने उसे भट्ठे से बहुत जल्दी निकालकर एक सफेद मनुष्य बनाया, सही समय पर उसे बहार निकालकर एक पिला मनुष्य बनाया और बहुत देर बाद बहार निकालकर एक काला मनुष्य बनाया।
आपको यह भी आश्चर्य हो सकता है कि काली, सफेद और पीली जातियाँ क्यों हैं, हालाँकि सभी मनुष्यों को एक मनुष्य के द्वारा पाप मिला था। बाइबल स्पष्ट रूप से कहती है कि परमेश्वर आदि में आदम को बनाया, जब उसने आकाश और पृथ्वी की रचना की। "आदम" का अर्थ है मनुष्य। परमेश्वर ने एक मनुष्य बनाया। यदि परमेश्वर ने एक मनुष्य आदम को बनाया था, और जगत के सारे लोग उसके द्वारा पैदा हुए है तो जगत में अलग-अलग नस्लें क्यों हैं? हम पूछ सकते हैं क्यों, इसका उत्तर यहाँ है।
वैज्ञानिकों का कहना है कि त्वचा को धूप से बचाने के लिए मेलेनिन नामक वर्णक त्वचा से निकलता है। जब पृथ्वी सूर्य के चारों ओर घूमती है, तो बहुत अधिक धूप वाले क्षेत्रों में रहने वाले लोग काले हो जाते हैं, जो कम से कम धूप वाले क्षेत्रों में रहते हैं वे सफेद हो जाते हैं, और जो पर्याप्त धूप वाले क्षेत्रों में रहते हैं वे पीले हो जाते हैं। हालाँकि, हमारा पूर्वज आज भी एक ही है, आदम।
वैज्ञानिकों ने घोषणा की कि मेलेनिन स्वचालित रूप से त्वचा से बाहर आता है और त्वचा को जलने से बचाता है। तब, मुझे यह उसी समय से समझ में आया। मैं जानता था कि मनुष्य आदम के वंशज हैं, लेकिन मैं मेलेनिन के बारे में नहीं जानता था। हमें न केवल शरीर विरासत में मिला है, बल्कि पाप भी मिला है क्योंकि हम एक मनुष्य, आदम के वंशज हैं। 
क्या आप पाप को जानते हैं? आइए हम जाँच करें कि जब से मनुष्य इस जगत में पैदा हुआ है तब से वह पापी हैं या नहीं। “इसी प्रकार हर एक अच्छा पेड़ अच्छा फल लाता है और निकम्मा पेड़ बुरा फल लाता है। अच्छा पेड़ बुरा फल नहीं ला सकता, और न निकम्मा पेड़ अच्छा फल ला सकता है" (मत्ती ७:१७-१८)। परमेश्वर कहता है कि झूठे भविष्यद्वक्ता केवल झूठे फल लाते हैं और कभी भी अच्छे फल नहीं ला सकते। हम मूल रूप से बुरे पेड़ हैं क्योंकि हम पापी पैदा हुए थे, इसलिए हम बुरे फल लाते है क्योंकि हम बुरे पेड़ों के रूप में पैदा हुए थे।
हमें एक मनुष्य के द्वारा पाप विरासत में मिला है। पेड़ों की तुलना में हम बुरे पेड़ हैं। एक इंसान, जो एक पापी पैदा हुआ था, वह पाप ही करता है, फिर भले ही वह एक अच्छा जीवन जीना चाहता हो और पाप न करने की कोशिश करता हो ठीक वैसे जैसे एक बुरा पेड़ अच्छा फल नहीं दे सकता। क्या आप समझ रहे हो? मनुष्य वास्तव में कोमल, नम्र और सदाचारी जीवन जीना चाहता है। हालाँकि, एक व्यक्ति जिसके पास पाप की माफ़ी नहीं है और एक पापी पैदा हुआ था, वह एक धर्मी जीवन नहीं जी सकता। अंतहीन प्रयासों के बाद भी वह अच्छा नहीं हो सकता। कुछ शराबी इतनी अधिक मात्रा में शराब न पिने की कोशिश करते हैं, लेकिन अंत में, वे शराब से पीड़ित होते हैं और उनके परिवार उन्हें अस्पतालों में छोड़ देते हैं।
एक दिन, मैंने टीवी पर "मैं इसे जानना चाहता हूँ" शीर्षक वाला एक कार्यक्रम देखा। एक आदमी १३ साल से मानसिक अस्पताल में बंद था। जब एक रिपोर्टर ने उनसे उनके परिवार के बारे में पूछा, तो उन्होंने कहा कि उसने शराब के नशे से सम्पूर्ण छूटकारा पाया है और इसकी पुख्ती डॉक्टर ने भी की है फिर भी उसका परिवार उसे वापिस लेने के लिए नहीं आया। उसे रिपोर्टर से पता चला कि उसके परिवार ने उसे डॉक्टर को रिश्वत देकर अस्पताल छोड़ने से रोका था। वह नाराज था। उसके परिवार ने उसे छोड़ दिया क्योंकि वे उससे बहुत थक गए थे। रिपोर्टर ने कहा कि अस्पताल में मरीज अपनी मर्जी की परवाह किए बिना शराब पिटे थे और उन्होंने कई बार इतना पी लिया कि कोई भी उनका सामना नहीं कर सका।
एक आदमी अपने पीने पर नियंत्रण क्यों नहीं कर सकता? वह जानता है कि यह उसके स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं है और छोड़ने की कोशिश करता है; फिर भी वह बार-बार पीता है। इसका कारण यह है कि वह पहले से ही शराबी है, लेकिन इसका मूल कारण यह है कि उसका दिमाग हमेशा खाली रहता है। वह पीता है क्योंकि वह अपने ह्रदय में खालीपन महसूस करता है। व्यक्ति हमेशा दर्द महसूस करता है और अच्छा होने में असमर्थ है क्योंकि वह पाप के साथ है। फिर, वह निराशावादी हो जाता है और फिर से पीता है। वह सोच सकता है, 'मुझे नहीं पता कि मैं ऐसा क्यों कर रहा हूँ। मुझे ऐसा नहीं करना चाहिए।' और जितना अधिक वह अपने आप से विश्वासघात महसूस करता है, उतना ही वह आत्म-त्याग में भारी मात्रा में पीता है।
व्यक्ति चाहे कितनी भी कोशिश करे लेकिन वह शराब पीना नहीं छोड़ सकता। इसलिए, व्यक्ति मोहभंग महसूस करता है और अधिक पीता है और अंततः, वह एक अस्पताल में अकेला होता है। मनुष्य की वाणी और व्यवहार उसके आंतरिक स्वभाव की अभिव्यक्ति मात्र है। मनुष्य जन्म से ही पापी होता है और इस प्रकार वह खुद की इच्छा हो या न हो लेकीन अपने पूरे जीवन में पाप करता है ठीक वैसे जैसे एक सेब के पेड़ को सेब के जिन विरासत में मिलते है इसलिए उसमे सेब की कलियाँ, फूल लगते है और सेब आते है। लोग अच्छा बनना चाहते हैं, लेकिन जिनके पास पापों की माफ़ी नहीं है, वे अच्छे नहीं हो सकते क्योंकि उनमें अच्छा बनने की क्षमता नहीं है। वे सोचते हैं कि उनके पाप गंभीर नहीं हैं, इसलिए वे स्वयं को छिपा लेते हैं, और यह तब गंभीर हो जाता है जब उनके पाप प्रकट हो जाते हैं।
पापी के लिए पाप करना स्वाभाविक, सहज और उचित है क्योंकि वह पाप के एक ढेर के रूप में पैदा हुआ है और इसे प्रकृति से विरासत में मिला है। मनुष्य के लिए पाप करना बिल्कुल स्वाभाविक है क्योंकि वह पाप के आनुवंश के साथ पैदा हुआ है, जैसे लाल मिर्च के पौधे के लिए लाल मिर्च और बेर के पेड़ के लिए बेर होना स्वाभाविक है। मनुष्य पाप करने से नहीं बच सकता क्योंकि वह पापी के रूप में पैदा हुआ है। जब मनुष्य पाप के साथ जन्म लेता है तो वह बिना पाप किये कैसे जी सकता है?
 

मनुष्य बारह प्रकार के बुरे विचार के साथ पैदा हुआ है

यीशु ने मरकुस अध्याय ७ में कहा कि मनुष्य १२ प्रकार की बुराइयों के साथ जन्म लेता है, अर्थात् परस्त्रीगमन, व्यभिचार, हत्या, चोरी, लोभ, दुष्टता, छल, लुचपन, कुदृष्टि, निन्दा, अभिमान और मूर्खता। हम चोरी करने की इच्छा के साथ पैदा हुए हैं। चोरी का विचार पाप की आनुवंशिकता में शामिल है। क्या आप चोरी करते हो? हर कोई चोरी करता है। अगर वह चोरी नहीं करता है, तो ऐसा इसलिए है क्योंकि लोग उसे देख रहे हैं। हालाँकि, जब उसके आसपास कोई नहीं होता है और उसके आसपास कोई आकर्षक वस्तु होती है, तो चोरी का पाप सामने आता है और उसे चोरी करके वह पाप करता है। 
तो मनुष्य ने नैतिकता और नियम बनाए हैं जिसका पालन होना चाहिए। मनुष्य ने अपने स्वयं के नियम बनाए हैं जो इस बात की ओर इशारा करते हैं कि दूसरों को नुकसान पहुंचाना सही नहीं है। नियमों की जरूरत तब पड़ती है जब एक समाज में कई लोग एक साथ रहते हैं। हमें सामाजिक मानदंडों के अनुसार जीना चाहिए। हालाँकि, हम तब चोरी करते हैं जब हम अकेले होते हैं, दूसरे की नज़र से बच जाते हैं।
ऐसा कोई नहीं है जो चोरी न करता हो। हर कोई चोरी करता है। बहुत समय पहले, मैंने एक जागृति की सभा में कलीसिया से कहा की यदि उन्होंने कभी पाप नहीं किया हो तो वे अपने हाथ उठाए। एक दादी ने हाथ उठाकर कहा, "मैंने कभी कुछ नहीं चुराया है।" तो मैंने उससे पूछा कि शायद वह घर के रास्ते में कभी कुछ ले गई है। फिर वह अप्रत्याशित प्रश्न पर घबरा गई और उसने उत्तर दिया, "मैंने एक बार घर के रास्ते में एक पका हुआ कद्दू देखा। मैंने सोचा कि यह स्वादिष्ट होगा इसलिए मैंने चारों ओर देखा और पाया कि वहाँ कोई नहीं था। मैंने उसे तोड़ा, और उसे अपने अंडरस्कर्ट में छुपाया, उसे बीन के सूप में डाल दिया और इसे खा लिया। वह नहीं जानती थी कि उसने चोरी का पाप किया है।
हालाँकि, परमेश्वर कहते हैं कि बिना अनुमति के दूसरे की संपत्ति लेना पाप है। मूसा की व्यवस्था में परमेश्वर ने आज्ञा दी, "तू चोरी न करना"। हर किसी को कुछ न कुछ चोरी करने का अनुभव होता है। इंसान जब भी मौका मिलता है हत्या और चोरी में माहिर होता है। वह अन्य लोगों के घरों से खरगोश और मुर्गियां जैसे पशुधन चुराता है। इसे चोरी कहा गया है। हत्या और चोरी करने पर भी उसे पाप का भान नहीं होता। उसके लिए ऐसा करना स्वाभाविक है क्योंकि उसे जन्म के समय से ही पाप विरासत में मिला है।
 

मनुष्य को पाप विरासत में मिला है

एक मनुष्य को अपने माता-पिता से व्यभिचार का पाप भी विरासत में मिला है। वह व्यभिचार करने की वासना के साथ पैदा हुआ है। जब आसपास कोई लोग न हों तो उसका व्यभिचार करना निश्चित है। लोग कैफे और सैलून जैसी अंधेरी जगहों को पसंद करते हैं। वे स्थान पापियों के लिए बहुत लोकप्रिय हैं। क्यों? पाप की आनुवंशिकता दिखाने के लिए वे अच्छे स्थान हैं। 
सज्जन भी उन जगहों को पसंद करते हैं। वे घर में अच्छे पिता और उच्च सामाजिक प्रतिष्ठा के पुरुष हैं, लेकिन वे अंधेरे स्थानों में जाते हैं जो पाप से भरे होते हैं। वे उन स्थानों पर जाते हैं जहाँ वे अपने पापी स्वभाव दिखा सकते हैं और पाप का फल भोग सकते हैं। वे उन जगहों पर एक साथ मिलते हैं और जल्द ही एक गिलास शराब पीकर पुराने दोस्तों की तरह बन जाते हैं। मिलते ही वे बहुत करीब हो जाते हैं क्योंकि उनमें एक-दूसरे के समान पापी गुण होते हैं। "क्या आपके पास यह भी है? हाँ मेरे पास है।" "मेरे पास भी है। तुम मेरे दोस्त हो।" "आपकी उम्र क्या है?" "आयु महत्व नहीं रखती।" "आप से मिलकर अच्छा लगा।"
जब भी वे दूसरे पापियों से मिलते हैं तो मनुष्य अपने स्वाभाविक पापों को एक दूसरे को दिखाते हैं क्योंकि वे दुनिया में पापी गुणों के साथ पैदा हुए थे। उनके लिए पाप करना स्वाभाविक है। क्यों? क्योंकि उनके दिलों में पाप है और वे स्वभाव से ऐसे ही बनने के लिए बनाए गए थे। उनके लिए पाप न करना असामान्य है। हालाँकि, जब वे एक समाज में रहते हैं तो वे खुद को पापी जीवन जीने से दूर रखते हैं क्योंकि प्रत्येक समाज के अपने सामाजिक मानदंड होते हैं। इसलिए, वे पाखंडी की भूमिका निभाते हैं और अपने समाज द्वारा स्थापित सामाजिक मानदंडों के अनुसार कार्य करते हुए, अन्य पहलुओं पर काम करते हैं। लोग ऐसे ही जीते हैं और जो ऐसे नहीं जीता उन्हें मूर्ख और दुष्ट मानते हैं। एक मनुष्य अनिवार्य रूप से एक पापी के रूप में जन्म लेता है, जैसा कि बाइबल कहती है, "एक मनुष्य के द्वारा पाप जगत में आया" (रोमियों ५:१२)।
यह सही है। एक मनुष्य कह सकता है, "मैं भद्दा नहीं हूं। मैं उस महिला के प्रति बेरूख हूँ जो मिनीस्कर्ट पहनती है।" क्या वह वाकई में बेरूख है? जब उसके आस-पास इतने सारे लोग हों तो वह बेरूख होने का दिखावा कर सकता है, लेकिन जब उसके आस-पास कोई न हो तो वह अश्लीलता का पाप करने से नहीं बच सकता।
एक निकम्मा पेड़ बुरा फल देता है ठीक वैसे जैसे एक अच्छा पेड़ बुरा फल नहीं दे सकता, और इसके विपरीत। मनुष्य को पता होना चाहिए कि वह पापी है। यदि कोई अपने पापों को जानता है, तो उसे यीशु के द्वारा पाप से बचाया जा सकता है। हालाँकि, यदि वह पाप न करने का दिखावा करता है तो परमेश्वर के द्वारा उसका न्याय होगा और वह नरक में जाएगा। मनुष्य पापी के रूप में जन्म लेता है। इसलिए, वे भ्रष्ट पेड़ हैं जो अपने जन्म के समय से ही पापी फल देते हैं।
इसलिए, जो लोग बचपन से ही अपने स्वयं के पापी स्वभाव का विकास करते हैं, वे जीवन भर पाप करने में अच्छे होते हैं। जो लोग अपने पापी स्वभाव को विकसित करने में देर करते हैं, वे अपने जीवन के आखिरी वर्षों में भी बुरे फल भोगने लगते हैं। कोरिया के ताएगू शहर में एक महिला सेविका थीं। जब उसने अपनी युवावस्था में मसीही धर्म अपना लिया, तो उसने एक महिला सेविका के रूप में प्रभु की सेवा करने के लिए जीवन भर अविवाहित रहने का संकल्प लिया। हालाँकि, उसने अपनी प्रतिज्ञा तोड़ दी और 60 वर्ष की होने के बाद एक विधुर से शादी कर ली। उसने अपना पापी स्वभाव बहुत देर से विकसित किया। उसने व्यभिचार की आनुवंशिकता देर से विकसित की। 
अधिकांश लोग आमतौर पर बचपन से ही अपने पापी स्वभाव को विकसित कर लेते हैं। इन दिनों, युवा लोगों में बचपन से ही अपने पापी स्वभाव विकसित करने की प्रवृत्ति होती है। वे अपने और पुरानी पीढ़ी के बीच एक पीढ़ी का अंतर महसूस करते हैं। उन्हें एक्स-जेनरेशन कहा जाता है। वैसे, हमने परमेश्वर के वचन से सीखा है कि हम जन्म से पापी हैं और हम ऐसे प्राणी हैं जो जीवन भर पाप करते रहते हैं। क्या आप इसे मानते हैं?
 

कोढ़ की व्यवस्था

दूसरा, परमेश्वर कहता है, "इसलिये जैसा एक मनुष्य के द्वारा पाप जगत में आया, और पाप के द्वारा मृत्यु आई, और इस रीति से मृत्यु सब मनुष्यों में फैल गई, क्योंकि सब ने पाप किया" (रोमियों ५:१२)। पाप के कारण मनुष्य का न्याय परमेश्वर द्वारा किया जाता है। इसलिए एक पापी को स्वयं को जानना चाहिए और पापों की माफ़ी प्राप्त करनी चाहिए। वह स्वयं को कैसे जान सकता है? परमेश्वर के सामने उसके सभी पाप कैसे माफ़ हो सकते है? 
लैव्यव्यवस्था अध्याय १३ में परमेश्वर ने मूसा और हारून को कोढ़ की जाँच करना सिखाया। पुराने नियम के युग में, बहुत से कोढ़ी थे। मैं कोढ़ काम रोग के बारे में ज्यादा नहीं जानता, लेकिन जब मैं छोटा था तो मैंने कई कोढ़ियों को देखा। मेरा एक मित्र भी कोढ़ के रोग से पीड़ित था। 
परमेश्वर ने मूसा और हारून को कोढ़ की जाँच करने और इस्राएल की छावनी से कोढ़ियों को अलग करने के लिए कहा। परमेश्वर ने उन्हें सिखाया कि प्रत्येक कोढ़ियों की जाँच कैसे करें। "जब किसी मनुष्य के शारीर के चर्म में सूजन या पपड़ी या दाग हो, और इससे इसके चर्म में कोढ़ की व्याधि सा कुछ दिखाई पड़े, तो उसे हारून याजक के पास या उसके पुत्र जो याजक है उनमे से किसी के पास ले जाएँ" (लैव्यव्यवस्था १३:२)। जाँच के बाद जब याजक को लगा कि उसे चर्म रोग हो गया है, तो याजक ने उसे सात दिनों के लिए अलग कर दिया। तब याजक ने सात दिन के बाद फिर से चर्म की जांच की। जब चर्म पर घाव न फैला, तो याजक ने उसे शुद्ध ठहराते हुए कहा, “तू शुद्ध है। तू इस छावनी में रह सकते हैं।”
यदि त्वचा पर सूजन सफेद होती, और बाल सफेद हो जाते, और सूजन में कच्चे मांस का एक धब्बा होता, तो यह कोढ़ था, और याजक उसे अशुद्ध ठहराता। लैव्यव्यवस्था १३:९-११ कहता है, “यदि कोढ़ की सी व्याधि किसी मनुष्य के हो, तो वह याजक के पास पहुँचाया जाए; और याजक उसको देखे, और यदि वह सूजन उसके चर्म में उजली हो, और उसके कारण रोएँ भी उजले हो गए हों, और उस सूजन में बिना चर्म का मांस हो, तो याजक जाने कि उसके चर्म में पुराना कोढ़ है, इसलिये वह उसको अशुद्ध ठहराए; और बन्द न रखे, क्योंकि वह अशुद्ध है।” याजक ने उसे इस्राएल की छावनी से अलग न किया। 
हमारे देश में ऐसा ही है। कोरिया में कुष्ठ रोगियों के लिए अलग-अलग गांव हैं जैसे फ्लावर विलेज या सोरोक द्वीप। बहुत समय पहले, कार में सवार होकर घर जाते समय, मेरी पत्नी ने मुझे 'फ्लावर विलेज' के चारों ओर देखने के लिए कहा जब उसे एक सुपरहाइवे पर इसके लिए संकेत दिखाई दिया। फिर मैंने सोचा, 'तुम्हें नहीं पता कि 'फूलो का गाँव' क्या है। मैंने उससे कहा, "प्रिय, क्या आपका मतलब है कि आप 'शहर' की मुलाक़ात लेना चाहते हैं?" उसने कहा, "हाँ।" हालाँकि, वह यह सुनकर चकित रह गई कि 'फूलों का गाँव' एक ऐसी जगह थी जहाँ कोढ़ी रहते थे और उसने मुझे फिर कभी फूलो के गाँव गाँव जाने के लिए नहीं छेड़ा। कुष्ठरोगियों को समाज से अलग करके इन दूर गाँवों में रखा जाता था। 
यहाँ, हमें जिस बात पर ध्यान देना है, वह यह है कि जब कोढ़ फैल गया और उसकी पूरी त्वचा को ढक दिया तो याजक ने कहा कि व्यक्ति शुद्ध है। क्या आपको लगता है कि यह सही है? जब कोढ़ थोड़ा सा ही फैला था, तब याजक ने उस मनुष्य को अलग कर दिया, और याजक ने उस से इस्राएल की छावनी में रहने को कहा, जब कोढ़ की व्याधि सिर से पांव तक उसकी सारी त्वचा पर छा गई। 
परमेश्वर ने याजक से कहा की कैसे कोढ़ की जांच करनी है, “और यदि कोढ़ किसी के चर्म से फूटकर यहाँ तक फैल जाए, कि जहाँ कहीं याजक देखे रोगी के सिर से पैर के तलवे तक कोढ़ ने सारे चर्म को छा लिया हो” (लैव्यव्यवस्था १३:१२)। इस रीति से परमेश्वर ने याजक को कोढ़ की जांच करने के लिए कहा था। 
 

कोढ़ की व्यवस्था हमें क्या कहती है....

यह हमें बताता है। लोग जन्म से ही पापी गुणों के साथ पापी होते हैं और जीवन भर पाप करते हैं, लेकिन कुछ लोग अपने कुछ पापों को ही प्रकट करते हैं। वे अपने हाथों से एक बार पाप करते हैं और फिर अपने पैरों से और फिर लम्बे समय के बाद अपने दिमाग से पाप करते हैं, इसलिए वे अपने पापों को बाहरी रूप से प्रकट नहीं करते हैं। जब कोढ़ एक जगह पर बहुत ही थोडा और दूसरी जगह पर थोडा फैला हो तो कौन कह सकता है की यह बहुत ही गंभीर है? उसके कुष्ठ रोग के बारे में कोई नहीं जानता। 
पाप की विरासत के कारण मनुष्य जन्म से ही पापी होता है। लेकिन जब तक तक वह अनगिनत बार पाप नहीं करता तब तक वह नहीं जानता कि वह एक पापी है, हालाँकि परमेश्वर ने उसे पापी घोषित किया। उसे अंत में पता चलता है कि वह इस जगत में पापी है।
हालाँकि, जो व्यक्ति अपने आप को बहुत गुणी समझता है और थोड़ा सा ही पाप करता है, वह नहीं जानता कि वह पापी है। परमेश्वर ने याजक से कहा कि जिस व्यक्ति का कोढ़ थोड़ा ही फैला हो उसे अशुद्ध घोषित कर उसे अलग कर दें। पापियों को परमेश्वर से अलग कर दिया जाता है। क्या आप समझ रहे है? परमेश्वर पवित्र है। एक व्यक्ति जो सोचता है कि उसके पास तिनके जितना छोटा पाप है, वह स्वर्ग के राज्य में प्रवेश नहीं कर सकता है।
स्वर्ग के राज्य में कौन रह सकता है? केवल वे लोग जिनके पाप पूरे शरीर में फैल गए हैं और यह महसूस करते हैं कि वे अपरिहार्य पापी हैं, वे ही स्वर्ग के राज्य में प्रवेश कर सकते हैं। उनके सभी पाप यीशु में विश्वास के द्वारा माफ़ कर दिए गए हैं, और वे परमेश्वर के साथ राज्य करने के लिए स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करेंगे।
बाइबल कहती है कि परमेश्वर उस व्यक्ति को अशुद्ध घोषित करता है जिसका पाप थोड़ा सा फैल जाता है। परमेश्वर उस व्यक्ति को बुलाता है जो पाप करने की इच्छा न होने के बावजूद भी बार-बार पाप करता है और स्वीकार करता है कि वह एक संपूर्ण पापी है। यीशु ने कहा, "मैं धर्मियों को नहीं, परन्तु पापियों को बुलाने आया हूँ" (मत्ती ९:१३)। परमेश्वर पापियों को बुलाता है और उनके सारे पाप धो देता है। परमेश्वर ने उनके सभी पापों को माफ़ कर दिया है। परमेश्वर ने पहले ही उनके पापों को हमेशा के लिए धो दिया है। यीशु ने अपने बपतिस्मा के माध्यम से उनके सभी पापों को ले लिया, उनके लिए क्रूस पर न्याय सहा और उन्हें स्वर्ग के राज्य में ले जाने के लिए अपने पुनरुत्थान के माध्यम से उन्हें धर्मी बना दिया।
 

हमें खुद को जानना चाहिए

हमें पता होना चाहिए कि हम पूर्ण पापी हैं या आंशिक पापी। जब कोढ़ पूरे शरीर में फैल जाता है तब परमेश्वर व्यक्ति को शुद्ध होने की घोषणा करते हैं। परमेश्वर ने कोढ़ के रोग का नियम ऐसा ही बनाया। एक व्यक्ति जो जानता है कि वह पाप से भरा है, वह पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करता है और पापों की माफ़ी प्राप्त करता है जब यीशु उसके पास आता है और कहता है की उसने अपने बपतिस्मा और क्रूस के द्वारा उनके सारे पापों को धो दिया है। हालाँकि, एक आंशिक पापी जो सोचता है कि वह पापों से भरा नहीं है वह सुसमाचार का मज़ाक उड़ाता है। 
यदि यीशु ने सारे पापों को साफ़ किया है तो क्या कोई पाप बचा है? नहीं। हम एक की बार हमेशा के लिए पापों की माफ़ी प्राप्त कर सकते हैं। इसलिए पापी को स्वयं को जानना चाहिए। जब वह स्वयं को जानता है तो उसके सभी पापों का नाश हो सकता है। लोग अपने छोटे-छोटे पापों को ही परमेश्वर के पास ले जाते है। “हे प्रभु, मैंने पाप किया है। मैं नहीं चाहता था, लेकिन उसने मुझसे ऐसा करवाया। कृपया मुझे इस बात के लिए माफ़ करें, और मैं अब और पाप नहीं करूंगा।" वे छोटे-छोटे पापों को परमेश्वर के पास ले जाते हैं। तब परमेश्वर कहता है, “तू अशुद्ध है।” 
परमेश्वर के सामने मनुष्य की कोई धार्मिकता नहीं है। "होना या न होना पूरी तरह से आप पर निर्भर करता है, परमेश्वर। मैं एक पापी हूँ और नरक में जाना मेरी नियति है। कृपया जैसा आप चाहते हैं वैसा ही करें, लेकिन परमेश्वर, मुझ पर दया करो और कृपया मुझे बचाओ। यदि आप परमेश्वर है तो कृपया मुझे बचाइये। तब मैं तुझ पर विश्वास करूंगा और तेरी इच्छा के अनुसार जीऊंगा।” परमेश्वर उस व्यक्ति को बचाता है जो स्वीकार करता है कि वह पाप से भरा है।
 

मनुष्य को पाप विरासत में मिला है जो १२ प्रकार के बुरे विचार है

आइए हम मरकुस ७:२०-२३ पर एक नज़र डालें। “जो मनुष्य में से निकलता है, वही मनुष्य को अशुद्ध करता है। क्योंकि भीतर से, अर्थात् मनुष्य के मन से, बुरे बुरे विचार, व्यभिचार, चोरी, हत्या, परस्त्रीगमन, लोभ, दुष्‍टता, छल, लुचपन, कुदृष्‍टि, निन्दा, अभिमान, और मूर्खता निकलती हैं। ये सब बुरी बातें भीतर ही से निकलती हैं और मनुष्य को अशुद्ध करती हैं।” भीतर से, अर्थात् मनुष्य के मन से, बुरे विचार निकलते हैं। मनुष्य को मूल रूप से विरासत में पाप मिला है। क्या आप समझ रहे है? व्यक्ति को जीवन भर बुरे विचार आते हैं। यदि उसके सभी पापों को एक बार और हमेशा के लिए माफ़ नहीं किया जाता है, तो उसके उद्धार का कोई रास्ता नहीं है। 
एक मनुष्य इन १२ प्रकार के बुरे विचारों के साथ पैदा होता है: व्यभिचार, परस्त्रीगमन, हत्या, चोरी, लोभ, दुष्टता, छल, लुचपन, कुदृष्टि, निन्दा, अभिमान और मूर्खता। इसलिए, वह जीवन भर पाप करना जारी रखता है। एक व्यक्ति जिसके पापों को माफ़ नहीं किया गया है, वह पापमय जीवन जीता है फिर भले ही वह उस तरह जीना नहीं चाहता। मनुष्य की सभी चीजें, जैसे विचार और व्यवहार, परमेश्वर के सामने पापपूर्ण हैं। 
पापी का अच्छा होना पाखंड है। वह केवल धर्मी होने का दिखावा करता है। यह परमेश्वर को धोखा देना है। एक मनुष्य जो पापी पैदा हुआ है, उसे उद्धार प्राप्त करने के लिए खुद को जानना चाहिए। हालाँकि यदि कोई व्यक्ति स्वयं को पापी होना नहीं जानता है, तो जब भी वह पाप करता है तो वह व्यथित होता है और कहता है, "आह, मैं ये काम क्यों करता हूँ?" वह खुद को ही धोखा देता है।
मनुष्य के मन में बुरे विचार होते हैं। एक मनुष्य सोच सकता है, 'मैं बुरे विचार क्यों करता हूँ? नहीं, मेरे पास ये विचार नहीं होने चाहिए। मैं अशुद्ध बातें क्यों सोचता हूँ? मेरे शिक्षक ने मुझे अच्छा करने के लिए कहा है।' वह ऐसा सोचता है क्योंकि वह नहीं जानता कि वह कुछ चीजें क्यों करता है। वह अपनी चोरी और व्यभिचार करने के कारण व्यथित महसूस करता है क्योंकि वह नहीं जानता कि उसे विरासत में पाप मिला है। हत्या, परस्त्रीगमन, व्यभिचार, दुष्टता, छल, लुचपन, कुदृष्टि, निन्दा, अभिमान और मूर्खता उसमें से लगातार निकलते है। इसलिए, वह खुद से नफरत करता है और बिना जाने ही शर्मिंदा हो जाता है। 
हम पापों के ढेर हैं और अपने पूरे जीवन में १२ प्रकार के बुरे फल भोगते हैं क्योंकि हम जन्म से पापी हैं, जिन्हें हमारे पूर्वज आदम से पाप विरासत में मिला है। धन्य हैं वे जो जानते हैं कि वे पापी हैं।
मनुष्य जब जानता है की वह एक अविश्वसनीय पापी है तब वह यीशु की तलाश करता है, जो उद्धारकर्ता है, जो उसे उसके सभी पापों से बचाता है। परमेश्वर का अनुग्रह पाने का यही एकमात्र तरीका है। हालाँकि, यदि मनुष्य खुद को नहीं जानता है तो वह उद्धारकर्ता की तलाश नहीं करता है। एक व्यक्ति जो खुद को अच्छी तरह से जानता है, वह खुद का नकार करता है, अपने प्रयासों को छोड़ देता है, मनुष्यों पर निर्भर रहना छोड़ देता है और यीशु मसीह की तलाश करता है जो परमेश्वर, उद्धारकर्ता और भविष्यवक्ता है और यीशु मसीह के अनुग्रह से माफ़ी प्राप्त करता है। 
पापियों को स्वयं को जानने की आवश्यकता है क्योंकि जो स्वयं को जानते हैं वे परमेश्वर के सामने आशीषित हो सकते हैं। जो स्वयं को नहीं जानता वह धन्य नहीं हो सकता। इसलिए, पापियों को स्वयं को वैसे ही जानना होगा जैसे वे हैं। क्या आप समझ रहे है? क्या आपने पापों की माफ़ी प्राप्त करने से पहले कभी बुरे काम किए हैं? यदि आपने किए है, तो क्या आप जानते हैं क्यों? आपने अपनी इच्छा के विरुद्ध बुरे काम किए क्योंकि आपको विरासत में पाप मिला है।
 

जैसा एक मनुष्य के द्वारा पाप जगत में आया, और पाप के द्वारा मृत्यु आई

मनुष्य के लिए मृत्यु निश्चित है क्योंकि उनमें पाप है। मनुष्य को यीशु को खोजना चाहिए और पापों से छूटकारा पाने के लिए उससे मिलना चाहिए ताकि उसके पापों को मिटाया जा सके। तब उसे अनंत जीवन मिल सकता है। क्या आप अपने सभी पापों से छूटकारा पाना चाहते हैं?
“तौभी आदम से लेकर मूसा तक मृत्यु ने उन लोगों पर भी राज्य किया, जिन्होंने उस आदम, जो उस आनेवाले का चिह्न है, के अपराध के समान पाप न किया। पर जैसी अपराध की दशा है, वैसी अनुग्रह के वरदान की नहीं, क्योंकि जब एक मनुष्य के अपराध से बहुत लोग मरे, तो परमेश्‍वर का अनुग्रह और उसका जो दान एक मनुष्य के, अर्थात् यीशु मसीह के, अनुग्रह से हुआ बहुत से लोगों पर अवश्य ही अधिकाई से हुआ। जैसा एक मनुष्य के पाप करने का फल हुआ, वैसा ही दान की दशा नहीं, क्योंकि एक ही के कारण दण्ड की आज्ञा का फैसला हुआ, परन्तु बहुत से अपराधों के कारण ऐसा वरदान उत्पन्न हुआ कि लोग धर्मी ठहरे। क्योंकि जब एक मनुष्य के अपराध के कारण मृत्यु ने उस एक ही के द्वारा राज्य किया, तो जो लोग अनुग्रह और धर्मरूपी वरदान बहुतायत से पाते हैं वे एक मनुष्य के, अर्थात् यीशु मसीह के द्वारा अवश्य ही अनन्त जीवन में राज्य करेंगे। इसलिये जैसा एक अपराध सब मनुष्यों के लिये दण्ड की आज्ञा का कारण हुआ, वैसा ही एक धर्म का काम भी सब मनुष्यों के लिये जीवन के निमित्त धर्मी ठहराए जाने का कारण हुआ। क्योंकि जैसा एक मनुष्य के आज्ञा न मानने से बहुत लोग पापी ठहरे, वैसे ही एक मनुष्य के आज्ञा मानने से बहुत लोग धर्मी ठहरेंगे। व्यवस्था बीच में आ गई कि अपराध बहुत हो, परन्तु जहाँ पाप बहुत हुआ वहाँ अनुग्रह उससे भी कहीं अधिक हुआ, कि जैसा पाप ने मृत्यु फैलाते हुए राज्य किया, वैसा ही हमारे प्रभु यीशु मसीह के द्वारा अनुग्रह भी अनन्त जीवन के लिये धर्मी ठहराते हुए राज्य करे” (रोमियों ५:१४-२१)।
“इसलिये जैसा एक मनुष्य के द्वारा पाप जगत में आया, और पाप के द्वारा मृत्यु आई, और इस रीति से मृत्यु सब मनुष्यों में फैल गई, क्योंकि सब ने पाप किया” (रोमियों ५:१२)। यहाँ, एक मनुष्य कौन है? आदम। हव्वा भी एक मनुष्य, आदम से निकली। इसलिए बाइबल कहती है, 'एक मनुष्य के द्वारा।' परमेश्वर ने आदि में एक मनुष्य को बनाया और एक मनुष्य के द्वारा पाप जगत में आया। अदन की वाटिका में हमारी दृष्टि में दो व्यक्ति थे, परन्तु वास्तव में, परमेश्वर की दृष्टि में एक व्यक्ति था। सारी मनुष्य जातियाँ एक मनुष्य, आदम के द्वारा फैली हैं।
वचन, "एक मनुष्य के द्वारा पाप जगत में आया," का अर्थ है कि आदम के सभी वंशज पापी बन गए क्योंकि आदम ने पाप किया था। मृत्यु सारी मनुष्यजाति में फैल गई, क्योंकि सबने पाप किया है। पाप के कारण सभी मनुष्यों को मौत की सजा दी गई थी। परमेश्वर उस व्यक्ति को सहन नहीं कर सकता जो पाप के साथ है।
परमेश्वर सर्वशक्तिमान है लेकिन वह दो काम नहीं कर सकता: वह न तो झूठ बोल सकता है और न ही पाप वाले व्यक्ति को स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करने दे सकता है। वह अपने वादे के मुताबिक़ अपनी व्यवस्था को पूरा करता है। परमेश्वर निश्चित रूप से उस व्यक्ति का न्याय करता है जिसने पाप किया है क्योंकि परमेश्वर झूठ नहीं बोल सकता और न ही उस व्यवस्था की उपेक्षा कर सकता है जिसे उसने स्वयं स्थापित किया है। एक मनुष्य, आदम, जो गिर गया और परमेश्वर के सामने पाप किया, उसके द्वारा सभी मनुष्य पापी बन गए हैं। परमेश्वर का न्याय और मृत्यु पूरी मनुष्यजाति में फैल गई क्योंकि वे पापी बन गए थे और वे एक मनुष्य, आदम के वंशज के रूप में पैदा हुए थे। इस प्रकार मृत्यु उन सभी में फैल गई। 
जब आदि में परमेश्वर ने मनुष्य को बनाया, तब कोई मृत्यु नहीं थी। तब केवल भले और बुरे के ज्ञान का ही पेड़ नहीं था, लेकिन जीवन का पेड़ भी था। परमेश्वर ने आदम को जीवन के वृक्ष का फल खाने और अनन्त जीवन जीने की आज्ञा दी। हालाँकि, आदम को शैतान ने धोखा दिया और अच्छे और बुरे के ज्ञान के पेड़ का फल खा लिया, जिसे परमेश्वर ने न खाने की आज्ञा दी थी और उसने परमेश्वर के वचन का त्याग कर परमेश्वर को चुनौती दी, इसलिए पाप के कारण मृत्यु दुनिया के सभी लोगों में फैल गई। एक मनुष्य, आदम के द्वारा मृत्यु जगत में आई। 
 

परमेश्वर ने मनुष्य को व्यवस्था क्यों दी?

यदि पाप आदम के द्वारा संसार में नहीं आया होता, तो मृत्यु सभी मनुष्यों में नहीं फैलती। इंसान क्यों मरता है? वह पाप के कारण मर जाता है। पाप एक मनुष्य के द्वारा संसार में आया, और इस प्रकार मृत्यु सब मनुष्यों में फैल गई। व्यवस्था तक पाप संसार में था, परन्तु मनुष्यों को पाप का ज्ञान तब तक नहीं था जब तक व्यवस्था नहीं थी। 
परमेश्वर की व्यवस्था मूसा के द्वारा सब लोगों पर उतरी। आदम और नूह के समय में भी पाप था, परन्तु परमेश्वर ने मूसा के युग तक व्यवस्था की स्थापना नहीं की थी। हालाँकि, बाइबल कहती है कि उस समय जितने भी लोग जीवित थे, उनके हृदयों में पाप था। 
आइए हम रोमियों ५:१३ को देखें। “व्यवस्था के दिए जाने तक पाप जगत में तो था, परन्तु जहाँ व्यवस्था नहीं वहाँ पाप गिना नहीं जाता।” जब दुनिया में व्यवस्था नहीं थी तब भी पाप था। इसलिए, सभी लोगों को मरना पड़ा क्योंकि उन्होंने परमेश्वर के सामने पाप किया था। परमेश्वर ने उन्हें वह व्यवस्था दी जिसमें ६१३ प्रकार की आज्ञाएँ हैं, जिन्हें परमेश्वर और लोगों के सामने पालन करना था, ताकि उन्हें पाप का ज्ञान दिया जा सके। परमेश्वर की व्यवस्था के द्वारा लोगों को क्या पता चला? उन्होंने महसूस किया कि वे परमेश्वर की दृष्टि में पापी थे और उन्हें पता चला कि उन्होंने पाप किया है। लोगों ने महसूस किया कि वे परमेश्वर की व्यवस्था का पालन नहीं कर सकते।
इसलिए, उन्हें अपने पापों का पता चला। आदम और हव्वा के वंशज जानते थे कि वे पापी हैं और केवल परमेश्वर ही उनके पापों को माफ़ कर सकता है। लेकिन वे समय के साथ भूल गए कि वे पापी बन गए थे और उन्हें अपने पूर्वज आदम से पाप विरासत में मिला था। उस समय, उन्हें पता चला कि जब उन्होंने पाप किया तब वे पापी थे, लेकिन वे नहीं जानते थे कि जब उन्होंने पाप नहीं किया था तब भी वे पापी थे। लेकिन वे गलत थे। इन दिनों, बहुत से लोग अभी भी सोचते हैं कि यदि वे पाप करते हैं तो वे पापी हो जाते हैं, और यदि वे पाप नहीं करते हैं तो वे पापी नहीं बनते। वास्तव में, सभी लोग पापी हैं चाहे वे पाप करें या न करें क्योंकि उन्हें अपने जन्म से ही पाप विरासत में मिला है।
पापों से छूटकारा पाने से पहले मनुष्य अपरिहार्य पापी हैं। इसलिए परमेश्वर ने उन्हें पाप के ज्ञान के लिए अपनी व्यवस्था दी। एक व्यक्ति जो परमेश्वर को उसकी व्यवस्था के माध्यम से जानता है और व्यवस्था को स्वीकार करता है, वह जानता है कि वह एक गंभीर पापी है। एक मनुष्य जैसे ही परमेश्वर की व्यवस्था को पूरी तरह से जान लेता है, वह एक गंभीर पापी बन जाता है।
 

एक मनुष्य के कारण मृत्यु सब मनुष्यों में फ़ैल गई

रोमियों ५:१३-१४ कहता है, “व्यवस्था के दिए जाने तक पाप जगत में तो था, परन्तु जहाँ व्यवस्था नहीं वहाँ पाप गिना नहीं जाता। तौभी आदम से लेकर मूसा तक मृत्यु ने उन लोगों पर भी राज्य किया, जिन्होंने उस आदम, जो उस आनेवाले का चिह्न है, के अपराध के समान पाप न किया।”
परमेश्वर कहता है कि एक मनुष्य के द्वारा सब लोग पापी बने और एक मनुष्य के द्वारा मृत्यु उन में फैल गई। पाप के द्वारा मृत्यु उन सब में फैल गई। यह एक मनुष्य की वजह से हुआ। यह एक मनुष्य कौन है? आदम। हम आमतौर पर यह जानते हैं। लेकिन, बहुत से लोग इसे नहीं जानते हैं। यहां तक कि कई मसीही भी इसे नहीं जानते हैं। वे पाप को मूल पाप और वास्तविक पापों में अलग करते हैं और वे सोचते हैं कि उनके वास्तविक पापों को प्रतिदिन पश्चाताप की प्रार्थनाओं के माध्यम से माफ़ किया जा सकता है। वे नहीं जानते कि उनके न्याय और नरक में जाने का कारण आदम है।
आदम के वंशजों का अपने पापों के कारण परमेश्वर के साथ कोई संबंध नहीं है, भले ही वे अच्छा बनने की कितनी भी कोशिश कर लें। परमेश्वर उन सभी का न्याय करता है क्योंकि वे आदम के वंशज हैं फिर चाहे वे अच्छा जीवन जीने की कितनी भी कोशिश कर लें। उन्हें उनके पूर्वज आदम के कारण नरक की अनन्त आग में डाल दिया जाएगा। 
 

आदम जो उस आनेवाले का चिह्न है

लिखा है कि आदम उसका एक चिह्न है जो आने वाला था। सब लोग पापी हो गए, और एक ही मनुष्य के द्वारा उन पर मृत्यु आई। हालाँकि सभी मनुष्यजाति को एक मनुष्य, यीशु मसीह के द्वारा धर्मी बनाया गया है ठीक जैसे सभी लोग एक मनुष्य, आदम के द्वारा पापी बन गए थे। यह परमेश्वर की व्यवस्था है। 
लोगों ने धर्म बनाए क्योंकि वे परमेश्वर की व्यवस्था को नहीं जानते थे। वे कहते हैं कि जब तक वे यीशु पर विश्वास करते हैं, उन्हें बचने के लिए अच्छे कर्म करने चाहिए। यह दुनिया में कितनी व्यापक रूप से फैलता है और कितनी बार वे झूठ बोलते हैं! वे लोगों को यह कहते हुए सिखाते हैं, "आपको मसीहीयों के रूप में अच्छा होना चाहिए।" कर्मों से हमारे पाप कभी नहीं मिटते। 
"आदम उसका एक चिह्न है जो आने वाला था।" वह मनुष्य कौन है जो पापों से हमारे उद्धार के लिए आने वाला था? वह यीशु मसीह है। यीशु को जगत में भेजा गया था और हमें धर्मी बनाने के लिए एक ही बार में हमेशा के लिए अपने बपतिस्मा द्वारा जगत के पापों को व्यवस्था की रीति से दूर कर लिया और हमें न्याय से बचाने के लिए क्रूस पर चढ़ाया गया। 
पाप ने संसार में प्रवेश किया क्योंकि शैतान ने एक मनुष्य आदम को धोखा दिया था। आदम के द्वारा पाप संसार में आया। हालाँकि, यीशु मसीह, उद्धारकर्ता, सृष्टिकर्ता और राजाओं के राजा, जो सर्वशक्तिमान हैं, उसने मनुष्यजाति को एक ही बार हमेशा के लिए उनके पापों से बचाने के लिए मनुष्यों की समानता में भेजा गया था। उन्होंने जगत के पापों को हमेशा के लिए मिटा दिया। उन्होंने एक ही बार में हमेशा के लिए अपने बपतिस्मा के द्वारा जगत के पापों को अपने ऊपर ले लिया और क्रूस पर चढ़ाकर पापों की मजदूरी का भुगतान किया।
यदि व्यक्ति विश्वास करता है की यीशु को सारे पाप मिटाने के लिए भेजा गया था तो उस व्यक्ति को नया जीवन और छूटकारा प्राप्त होता है फिर चाहे उसके पाप कितने भी गंभीर क्यों न हों। परमेश्वर ने योजना बनाई और हमें अपनी सन्तान बनाने के लिए आकाश और पृथ्वी की रचना करने का निर्णय लिया। वह दुनिया में आया और उसने अपना वादा पूरी तरह से परिपूर्ण किया। इसलिए निश्चय ही हमारे कोई पाप नहीं है। परमेश्वर ने कभी गलती नहीं की है। आदम उसका एक चिह्न था जो आने वाला था। मुझे समझ नहीं आता कि लोग अपने कामों पर भरोसा क्यों करते हैं। हमारा उद्धार पूरी तरह से यीशु पर निर्भर है। सारे मनुष्य एक मनुष्य, आदम के द्वारा पापी बन गए, और एक मनुष्य, यीशु के द्वारा छुटकारा पाया।
केवल एक चीज जो हमें करनी चाहिए वह है पापों की माफ़ी के उद्धार पर विश्वास करना। केवल यही एक चीज है जो हमें करनी चाहिए। हमारे पास करने के लिए कुछ नहीं है, लेकिन इस तथ्य में आनन्दित हैं कि यीशु ने हमारे सभी पापों को मिटा दिया। वैसे आप दूसरे लोगों को जोश से अच्छे काम करने के लिए क्यों मजबूर करते हैं? क्या लोगों को उनके कामों के द्वारा उनके पापों से छूटकारा मिल सकता है? नहीं, उद्धार केवल पापों की माफ़ी के विश्वास पर निर्भर करता है।
 

जैसी अपराध की दशा है वैसी अनुग्रह के वरदान की नहीं

रोमियों ५:१४-१६ कहता है, “तौभी आदम से लेकर मूसा तक मृत्यु ने उन लोगों पर भी राज्य किया, जिन्होंने उस आदम, जो उस आनेवाले का चिह्न है, के अपराध के समान पाप न किया। पर जैसी अपराध की दशा है, वैसी अनुग्रह के वरदान की नहीं, क्योंकि जब एक मनुष्य के अपराध से बहुत लोग मरे, तो परमेश्‍वर का अनुग्रह और उसका जो दान एक मनुष्य के, अर्थात् यीशु मसीह के, अनुग्रह से हुआ बहुत से लोगों पर अवश्य ही अधिकाई से हुआ। जैसा एक मनुष्य के पाप करने का फल हुआ, वैसा ही दान की दशा नहीं, क्योंकि एक ही के कारण दण्ड की आज्ञा का फैसला हुआ, परन्तु बहुत से अपराधों के कारण ऐसा वरदान उत्पन्न हुआ कि लोग धर्मी ठहरे।” 
इन भागो का क्या अर्थ है? बाइबल कहती है, "पर जैसी अपराध की दशा है, वैसी अनुग्रह के वरदान की नहीं।" मुफ्त उपहार परमेश्वर के उद्धार को दर्शाता है। इसका अर्थ यह है कि जिन लोगों को आदम के द्वारा पाप विरासत में मिला था, वे नरक में जाने के लिए नियत थे, लेकिन उनके पापों को यीशु में विश्वास के माध्यम से माफ़ किया जा सका जिसने उनके सभी पापों को मिटा दिया। इसका यह भी अर्थ है कि यीशु ने हमारे भविष्य के सभी पापों को पहले ही मिटा दिया है।
जो मनुष्य आदम के वंशज के रूप में पैदा हुआ है, वह पापी है, फिर भले ही वह पाप न करे। इसलिए, वह पाप न करने पर भी नरक में जाने से नहीं बच सकता। यीशु जगत में आया और हमारा उद्धारकर्ता बन गया। मुफ्त उपहार यह है कि यीशु ने हमें उन पापों को माफ़ करने के लिए अत्यधिक छूटकारा दिया जो लोग दुनिया के अंत तक करते रहते हैं। 
इसलिए, एक मनुष्य का मुफ्त उपहार एक मनुष्य के अपराध से बड़ा है। यदि कोई परमेश्वर के विरुद्ध होने का पाप करता है, तो केवल पाप ही इतना गंभीर है कि उसका न्याय परमेश्वर द्वारा हो सकता है और वह नरक में जाएगा। हालाँकि, प्रभु का उपहार, जिसने पहले ही हमारे सभी पापों और अपराधों को मिटा दिया है, एक मनुष्य के अपराध से बड़ा है।
इसका अर्थ है कि यीशु का प्रेम और पापों की माफ़ी का उपहार सभी मनुष्यों के अपराधों से बड़ा है। प्रभु ने जगत के सभी पापों को सम्पूर्ण रीती से मिटा दिया। यीशु का प्रेम, जिसने हमें बचाया, और उद्धार का उपहार इतना प्रचुर और एक मनुष्य द्वारा किए गए अपराध से बड़ा है। भले ही हम अपनी देह से उसके विरुद्ध हों, फिर भी प्रभु ने परमेश्वर के विरुद्ध लड़ने के पापों को पहले ही मिटा दिया है। अब प्रभु चाहता है कि हम विश्वास करें कि उसने पहले ही जगत के पापों को एक ही बार में मिटा दिया है। यही कारण है कि उसने परमेश्वर के मेमने के रूप में पापियों को उनके सभी पापों से बचाया, जिसने जगत के पापों को उठा लिया।
यह सिद्धांत, जो कहता है कि जब हम परमेश्वर पर विश्वास करते हैं तो हमारे पाप मिट जाते हैं, और जब हम परमेश्वर पर विश्वास नहीं करते हैं, तब नहीं मिटाए जाते हैं, यह झूठ है। परमेश्वर ने अविश्वासियों के पापों को भी मिटा दिया क्योंकि वह संसार के सभी लोगों से प्रेम करता है, फिर भी लोग परमेश्वर के प्रेम को प्राप्त नहीं करना चाहते हैं। कोई भी व्यक्ति परमेश्वर के प्रेम और उद्धार से अलग नहीं है। परमेश्वर का उद्धार उन लोगों के लिए है जो सुसमाचार की सच्चाई में विश्वास करते हैं, जिसमें कहा गया है कि यीशु ने हमारे सभी पापों को मिटा दिया है।
हम बहुत ही कमजोर प्राणी हैं। परमेश्वर उन लोगों की गिनती करता है जो विश्वास करते हैं कि यीशु ने सभी लोगों को पापरहित बनाने के लिए पापों को मिटा दिया। हमारे सभी पापों को माफ़ कर दिए जाने के बाद भी हमारे शरीर में अभी भी कई कमजोरियां हैं। कई बार, हम परमेश्वर के विरुद्ध लड़ते हैं और यहाँ तक कि जब हम उसकी इच्छा से सहमत नहीं होते हैं तो उसकी धार्मिकता को दूर करने का प्रयास करते हैं। लेकिन परमेश्वर कहता हैं, "मैं तुमसे प्यार करता हूँ और मैंने तुम्हें बचाया है। जो पाप तू ने अब तक किए हैं, उन्हें मैं ने मिटा दिया है।” "ओह! क्या यह सच है प्रभु?" "हाँ, मैंने सभी पापों को मिटा दिया है।" "धन्यवाद प्रभु। मैं आपकी स्तुति करता हूँ। मैं आपकी स्तुति करता हूँ क्योंकि आपने मुझसे इतना प्रेम किया कि आपने नकार करने का पाप भी मिटा दिया। ”
जो पापी बन गए थे, वे धर्मी बन गए और प्रेम के दास बन गए। उन्होंने खुद को परमेश्वर के प्रेम के हवाले कर दिया। वे यीशु पर विश्वास करते है क्योंकि प्रभु ने उन्हें परमेश्वर का नकार करने के पाप को मिटा दिया है फिर भले ही वे अपनी कमजोरियों के कारण परमेश्वर का इनकार करते हैं, जैसे पतरस ने किया था। इससे वे प्रभु की स्तुति करते हैं। अतः प्रेरित पौलुस कहता है कि परमेश्वर का उद्धार एक मनुष्य के अपराध से बड़ा है। 
यीशु ने सभी पापों को उठा लिया; मूल पाप जो विरासत में मिला था और वास्तविक पाप जो हमारे कर्मों द्वारा जगत के अंत तक किए गए हैं। इसलिए, परमेश्वर का प्रेम कितना महान है! इसलिए, बाइबल अप्रत्यक्ष रूप से कहती है, "देखो! परमेश्वर का मेम्ना जो जगत का पाप उठा ले जाता है!” (यूहन्ना १:२९)। 
 

धर्मी एक मनुष्य अर्थात् यीशु मसीह के द्वारा अनन्त जीवन में राज्य करेंगे

पश्चाताप की प्रार्थनाओं से जगत के पापों को माफ़ नहीं किया जा सकता। विश्वासियों के पास कोई पाप नहीं है और उन्होंने सभी पापों से उद्धार प्राप्त किया हैं क्योंकि प्रभु ने भविष्य में किए जाने वाले पापों को भी पहले ही समाप्त कर दिया था। रोमियों ५:१७ कहता है, "क्योंकि यदि एक मनुष्य के अपराध के कारण मृत्यु ने उस एक ही के द्वारा राज्य किया, तो जो लोग अनुग्रह और धर्मरूपी वरदान बहुतायत से पाते है वे एक मनुष्य के, अर्थात् यीशु मसीह के द्वारा अवश्य ही अनन्त जीवन में राज्य करेंगे।"
हम अनुग्रह के साथ धन्य हैं। वे कौन हैं जो बहुतायत के अनुग्रह और धार्मिकता के वरदान को प्राप्त करते हैं? वे वो हैं जो प्रभु में विश्वास करते हैं और जिनके पापों को उस पर विश्वास करने से माफ़ किया जाता है। हम प्रभु की स्तुति करते हैं क्योंकि हमें पापों की माफ़ी की प्रचुरता प्राप्त हुई है। “जो लोग अनुग्रह और धर्मरूपी वरदान बहुतायत से पाते है वे एक मनुष्य के, अर्थात् यीशु मसीह के द्वारा अवश्य ही अनन्त जीवन में राज्य करेंगे।" हम राजा हैं जो जीवन में राज्य करते हैं।
केवल राजा राज्य करते हैं। हम अब राज्य करते हैं। राजाओं से कौन लड़ सकता है? हम, जिन्होंने अनुग्रह की बहुतायत और धार्मिकता के उपहार को प्राप्त किया हैं, हर दिन राज्य करते हैं। हम आज राज्य करते हैं और हम कल भी राज्य करेंगे। जो हम राजाओं पर कृपा करता है वह धन्य हैं और हमारे साथ राजा बन सकता हैं। हालाँकि, जो कोई भी सत्य के सुसमाचार में विश्वास नहीं करता जिनका राजा प्रचार करते हैं, वह नरक में जाएगा। 
दुनिया में बहुत से राजा हुए हैं जो बचाए गए थे और कई लोग ऐसे भी हुए हैं जो नरक में गए थे क्योंकि वे राजाओं के खिलाफ थे। उन्हें राजाओं के प्रति दयालु होना चाहिए था, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। यदि उनके पास सत्य ढूँढने वालों की आंखें और हृदय होते तो वे राजा बन सकते थे।
क्या आप राज करते हैं? हम दुनिया को अपने राजा होने के विश्वास के साथ डींग मारते हैं। हम घोषणा करते हैं कि यदि वे हमारे खिलाफ लड़ेंगे तो अविश्वासी नरक में जाएंगे। ऐसा तो राजा ही कर सकते हैं। हम असली राजा हैं। क्या कोई ऐसा है जो धर्मियों के बीच राज्य नहीं करता? राजाओं के रूप में शासन न करना उनके लिए अभिमानी है। एक राजा को राजा के रूप में शासन करना होता है। "आपके विचार गलत हैं। यदि आप सत्य को स्वीकार नहीं करोगे तो आप नरक में जाओगे।" राजा को राजा की तरह व्यवहार करना पड़ता है। एक राजा को गरिमापूर्ण होना चाहिए और पापियों को सत्य पर विश्वास करने की आज्ञा देनी चाहिए।
एक राजा अविश्‍वासियों का न्याय कर सकता है, आदेश दे सकता है और नरक का दण्ड दे सकता है, जो परमेश्वर की धार्मिकता के विरुद्ध हैं, चाहे राजा कितना ही छोटा क्यों न हो। उसके पास परमेश्वर के सामने अविश्वासियों को नरक की सजा देने की सामर्थ है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि राजा अपनी इच्छा के अनुसार अपनी सामर्थ का दुरुपयोग कर सकता है। प्रभु हमें जगत में शासन करने के लिए कहते हैं। इसलिए, आइए हम राज्य करें और स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करें। 
हालाँकि, कुछ धर्मी अपनी सामर्थ का उपयोग करने के लिए बहुत नम्र हैं। जब प्रभु वापिस आयेगा तब वह उन्हें डांटेगा। "आपने अपना विश्वास छोड़ दिया। आपने गुलाम जैसा व्यवहार क्यों किया? मैंने तुम्हें राजा बनाया है।" कुछ लोग हैं जो दुनिया के गुलामों की तरह काम करते हैं। क्या किसी राजा के लिए अपनी प्रजा के लिए इस तरह "श्रीमान" कहने का कोई अर्थ है? हालाँकि, कुछ धर्मी ऐसा बोलते हैं, भले ही इसका कोई मतलब नहीं है। परमेश्वर के पापों से छुड़ाने के बाद भी वे घुटनों के बल दुनिया से माफ़ी माँगते हैं। राजा को राजसी होना चाहिए।
राजा बनते ही मैंने संसार के विरुद्ध स्वतंत्र राजत्व की घोषणा कर दी। मुझे विश्वास था कि मैं एक राजा बन गया और राजा के रूप में व्यवहार किया, हालाँकि मैं छोटा था।
 

एक मनुष्य अर्थात् यीशु मसीह के आज्ञा मानने के द्वारा

रोमियों ५:१८-१९ कहता है, “इसलिये जैसा एक अपराध सब मनुष्यों के लिये दण्ड की आज्ञा का कारण हुआ, वैसा ही एक धर्म का काम भी सब मनुष्यों के लिये जीवन के निमित्त धर्मी ठहराए जाने का कारण हुआ। क्योंकि जैसा एक मनुष्य के आज्ञा न मानने से बहुत लोग पापी ठहरे, वैसे ही एक मनुष्य के आज्ञा मानने से बहुत लोग धर्मी ठहरेंगे।”
“इसलिये जैसा एक अपराध सब मनुष्यों के लिये दण्ड की आज्ञा का कारण हुआ।” यहाँ, दण्ड का मतलब है न्याय। एक मनुष्य जो आदम के वंशज के रूप में पैदा होता है और जो पानी और आत्मा से नया जन्म नहीं पाया, फिर चाहे भले ही वह यीशु पर विश्वास करता हो, उसका न्याय होगा। “वैसा ही एक धर्म का काम भी सब मनुष्यों के लिये जीवन के निमित्त धर्मी ठहराए जाने का कारण हुआ।” 
सभी लोगों को यीशु के एक धर्मी कार्य से धर्मी बनाया जाता है, जो कुँवारी मरियम से पैदा हुआ था और जगत के सभी पापों को उठाने के लिए यरदन नदी में बपतिस्मा लिया था। उसने उन सभी लोगों को धर्मी बनाने के लिए उनके स्थान पर क्रूस पर चढ़कर अपना जीवन बलिदान कर दिया। पिता परमेश्वर की इच्छा के प्रति एक व्यक्ति की आज्ञाकारिता के द्वारा, बहुतों को धर्मी बनाया गया। 
सच कहूँ तो, यदि हम विश्वास की द्रष्टि से देखे तो क्या दुनिया के सभी लोग पापी हैं, या वे धर्मी हैं? वे सब धर्मी हैं। मेरे विश्वास के द्वारा ऐसा कहने पर कुछ लोग क्रोधित हो जाते हैं और मेरे विरुद्ध लड़ाई करते हैं। वास्तव में, ऐसा कोई नहीं है जिसने परमेश्वर के दृष्टिकोण से पाप किया हो। परमेश्वर ने अपने एकलौते पुत्र को जगत में भेजा और जगत के सभी पापों को उस पर पारित कर दिया और उसे सभी लोगों के प्रतिनिधि के रूप में न्याय करने सहने दिया।
 

व्यक्ति अपने विश्वास के अनुसार स्वर्ग के राज्य या नरक में प्रवेश करते है

परमेश्वर अब जगत का न्याय नहीं करता क्योंकि उसने सभी लोगों के स्थान पर यीशु का न्याय किया। हालाँकि, भले ही परमेश्वर के पुत्र ने सभी पापों को उठा लिया और परमेश्वर की इच्छा के प्रति आज्ञाकारिता के द्वारा उन्हें मिटा दिया फिर भी कुछ लोग इस पर विश्वास करते हैं और अन्य नहीं करते। विश्वासी परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करके स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करते हैं। परमेश्वर उन्हें धर्मी ठहराता है और कहता है, “तू धर्मी है। तूम विश्वास करते हो कि मैंने वास्तव में तुम्हारे सभी पापों को मिटा दिया है। कहना मानो। मैंने तुम्हारे लिए स्वर्ग का राज्य तैयार किया है।” वे स्वर्ग के राज्य में पर्याप्त रूप से प्रवेश करते हैं।
लेकिन कुछ लोग उस पर विश्वास नहीं करते हैं और यह कहते हुए सुसमाचार को अस्वीकार करते हैं, "परमेश्वर, क्या यह सच है? मैं इसपर विश्वास नहीं कर सकता। क्या यह सच है? मैं बिलकुल समझ नहीं पा रहा हूँ।" परमेश्वर कहेगा, “तुम मुझे क्रोधित क्यों करते हो? यदि आप विश्वास करना चाहते हैं तो मुझ पर विश्वास करें, लेकिन यदि आप विश्वास करना नहीं चाहते तो विश्वास न करें।" "प्रभु, क्या पानी और आत्मा का सुसमाचार सत्य है?" "मैंने आपको बचाया है।" "मैं इस पर विश्वास नहीं कर सकता। मैं ९०% तक विश्वास कर सकता हूं, लेकिन मुझे बाकी के १०% पर संदेह है।" 
तब परमेश्वर उनसे कहेगा, “तुम विश्वास नहीं करते, यद्यपि मैं पहले ही तुम्हें बचा चुका हूँ। अपने विश्वास के अनुसार करें। मैंने आदम के वंशज के रूप में पाप करने वालों को नरक में भेजने का मन बना लिया है। मैंने स्वर्ग का राज्य भी बनाया। यदि तुम चाहो तो स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करो और यदि तुम नरक की आग में जाना चाहते हो तो नरक में जाओ।" यह उनके विश्वासों पर निर्भर करता है कि वे स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करते हैं या नरक में।
क्या आप विश्वास करते हैं कि यीशु ने अपने बपतिस्मा और क्रूस पर बहाए गए लहू से आपको आपके सभी पापों से बचाया है? यह आपके विश्वास पर निर्भर करता है। स्वर्ग और नरक के राज्य के बीच कोई मध्य बिंदु नहीं है। परमेश्वर के सामने "नहीं" जैसी कोई चीज नहीं है। केवल "हाँ" है। परमेश्वर भी हमें “नहीं” कभी नहीं कहते हैं। परमेश्वर ने सभी चीजों का वादा किया और उन सभी को पूरा किया। उसने पापियों के सारे पाप मिटा दिए। 
 

जहाँ पाप बहुत हुआ वहाँ अनुग्रह उससे भी कहीं अधिक हुआ

आये हम रोमियों ५:२०-२१ को देखे, “व्यवस्था बीच में आ गई कि अपराध बहुत हो, परन्तु जहाँ पाप बहुत हुआ वहाँ अनुग्रह उससे भी कहीं अधिक हुआ, कि जैसा पाप ने मृत्यु फैलाते हुए राज्य किया, वैसा ही हमारे प्रभु यीशु मसीह के द्वारा अनुग्रह भी अनन्त जीवन के लिये धर्मी ठहराते हुए राज्य करे।” व्यवस्था क्यों आई? ताकि अपराध बहुत हो। मनुष्य आदम के वंशज के रूप में स्वाभाविक रूप से पाप करता है। परन्तु वे अपने पापी स्वभाव को नहीं जानते, और इसलिए परमेश्वर ने मनुष्यों को व्यवस्था दी ताकि उन्हें पाप का ज्ञान हो क्योंकि व्यवस्था उन्हें बताती है की उन्हें क्या करना है और क्या नहीं करना है, और उनके विचार और कर्मो से व्यवस्था का पालन न करना पाप है।
व्यवस्था बिच में आ गई की अपराध बहुत हो। परमेश्वर ने हमें यह बताने के लिए व्यवस्था दी है कि हम गंभीर पापी हैं और पाप के ढेर हैं। हालाँकि, जहाँ पाप अधिक हुआ, वहाँ अनुग्रह बहुत अधिक हुआ। इसका मतलब यह है कि एक व्यक्ति जो आदम के वंशज के रूप में पाप के साथ पैदा हुआ है, लेकिन खुद को एक छोटा पापी मानता है, उसका इस तथ्य से कोई लेना-देना नहीं है कि यीशु ने उसे बचाया है।
हालाँकि, जो यह सोचता है कि उसके पास कई कमजोरियां हैं और वह शरीर के साथ परमेश्वर के वचन के अनुसार नहीं जी सकता है, वह प्रभु को धन्यवाद देता है जिसने उसे बचाया है। वह सुसमाचार जो कहता है कि प्रभु ने एक ही बार में संसार के पापों को ले लिया यह ऐसे व्यक्ति के लिए एक महान उपहार है। "परन्तु जहां पाप बहुत हुआ वहां अनुग्रह उससे भी बहुत अधिक हुआ।" उपहार बहुत हुआ ताकि गंभीर पापी पूरी तरह से धर्मी बन जाए। छोटे पापी जो सोचते हैं कि वे पाप से भरे नहीं हैं, वे नरक में जाएंगे। केवल गंभीर पापियों को ही पूर्ण रूप से धर्मी बन जाते है।
इसलिए एक व्यक्ति जो जानता है कि वह एक गंभीर पापी है, वह यीशु के उद्धार की बहुत प्रशंसा करता है। संसार में सुसमाचार प्रचारकों में से कुछ अच्छे स्वभाव के प्रचारक हैं। "जहाँ पाप बहुत हुआ, वहाँ अनुग्रह उससे भी बहुत अधिक हुआ।" इसका मतलब यह नहीं है कि हम जानबूझकर पाप कर सकते हैं ताकि अनुग्रह बहुत अधिक हो। 
प्रेरित पौलुस रोमियों ६:१ में कहता है, "फिर हम क्या कहें? क्या हम पाप करते रहे कि अनुग्रह बहुत हो?" पौलुस का अर्थ है, "यदि हम केवल परमेश्वर की धार्मिकता पर विश्वास करते है तो हम बचाए जाते है। प्रभु ने पहले ही हमारे सभी पापों को मिटा दिया और पापियों को उनके सभी पापों से बहुतायत से बचाया। हम अपने ह्रदय से विश्वास करने के द्वारा धर्मी बनाए गए है। यदि हम प्रभु ने जो किया उस पर विश्वास करे तो हम बच सकते है। चाहे हम कितने ही दुष्ट क्यों न हों या कितनी ही बार पाप क्यों ना किया हो, सत्य पर विश्वास करने के द्वारा हम कर्मों के बिना धर्मी बनते हैं।”
हम विश्वास से धर्मी बनते हैं। हमारे कर्म कितने बुरे हैं? हम कितनी बार पाप करते हैं? यदि पापरहित परमेश्वर हमारे कर्मों को देखता है तो हममें कितनी कमियाँ हैं? मैं केवल प्रभु की स्तुति करता हूँ। रोमियों ५:२०-२१ में कहा गया है, "जहां पाप बहुत हुआ, वहां अनुग्रह उससे भी कही अधिक हुआ, कि जैसा पाप ने मृत्यु फैलाते हुए राज्य किया, वैसा ही हमारे प्रभु यीशु मसीह के द्वारा अनुग्रह भी अनन्त जीवन के लिए धर्मी ठहराते हुए राज्य करे।"
परमेश्वर ने हमें यीशु मसीह के द्वारा अनन्त जीवन दिया है। प्रभु की धार्मिकता ने हमें परमेश्वर के साथ राज्य करने के योग्य बनाया। मैं प्रभु की स्तुति करता हूँ, जिसने पापियों को उनके सभी पापों से बहुतायत से बचाया। धन्यवाद प्रभु।