उपदेश

विषय ९ : रोमियों (रोमियों की पत्री किताब पर टिप्पणी)

[अध्याय 6-1] रोमियों अध्याय ६ का परिचय

हमें यीशु के बपतिस्मा के रहस्य को समझना चाहिए

क्या आप यूहन्ना द्वारा यीशु ने लिए हुए बपतिस्मा के रहस्य को जानते और विश्वास करते है? मई आपको रोमियों ६:१-४ के द्वारा इसके बारेमें बताना चाहता हूँ। “तो हम क्या कहें? क्या हम पाप करते रहें कि अनुग्रह बहुत हो? कदापि नहीं! हम जब पाप के लिये मर गए तो फिर आगे को उसमें कैसे जीवन बिताएँ? क्या तुम नहीं जानते कि हम सब जिन्होंने मसीह यीशु का बपतिस्मा लिया, उसकी मृत्यु का बपतिस्मा लिया। अत: उस मृत्यु का बपतिस्मा पाने से हम उसके साथ गाड़े गए, ताकि जैसे मसीह पिता की महिमा के द्वारा मरे हुओं में से जिलाया गया, वैसे ही हम भी नए जीवन की सी चाल चलें।” 
इस पवित्रशास्त्र को समझने और सच्चाई की खोज करने के लिए, हमें सबसे पहले गलातियों ३:२७ में दिखाए गए पौलुस के विश्वास को समझना चाहिए और उसके जैसा ही विश्वास रखना चाहिए। वह कहता है, "और तुम में से जितनों ने मसीह में बपतिस्मा लिया है उन्होंने मसीह को पहिन लिया है।" इस शास्त्र का क्या अर्थ है? अब हम इन वचनों को मत्ती ३:१३-१७ के माध्यम से समझ सकते हैं। 
पौलुस पूछता है कि क्या हम पाप में बने रहेंगे क्योंकि हमने परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करने के द्वारा एक ही बार में हमेशा के लिए पापों की माफ़ी प्राप्त कर ली है। पौलुस का उत्तर था नहीं, और यह वह उत्तर भी है जो परमेश्वर की धार्मिकता में वास्तव में विश्वास करने वालों के पास होना चाहिए। इसका अर्थ यह नहीं है कि धर्मी कभी भी देह में पाप नहीं करते। यह सच नहीं है। 
इसका यह भी अर्थ नहीं है कि क्योंकि हमारे पापों को माफ़ कर दिया गया है, इसलिए हमें और भी अधिक पाप करने की योजना बनानी चाहिए। धर्मी पहले ही प्रभु की मृत्यु में बपतिस्मा ले चुके हैं। जो लोग उसकी धार्मिकता में विश्वास रखते हैं वे अभी भी पापों में कैसे बने रह सकते है? यह सच नहीं हो सकता। पौलुस गलातियों ३:२७ में इसका कारण बताते हुए कहता है, "और तुम में से जितनों ने मसीह में बपतिस्मा लिया है उन्होंने मसीह को पहिन लिया है।" 
दूसरे शब्दों में, यीशु ने अपने बपतिस्मे के साथ हमारे सभी पापों को अपने ऊपर ले लिया और क्रूस पर मर गया ताकि जो लोग उस पर विश्वास करते हैं वे विश्वास के द्वारा "मसीह में बपतिस्मा" ले सकें। इसलिए, हमें इस तरह का विश्वास रखना चाहिए। 
 

हमारे यीशु के बपतिस्मा के साथ जुड़ा हुआ विश्वास होना चाहिए

हमारे पास एक ऐसा विश्वास होना चाहिए जो यीशु के बपतिस्मा और उनकी मृत्यु के साथ जुड़ा हो। ऐसा कहा गया है, "और तुम में से जितनों ने मसीह में बपतिस्मा लिया है, उन्होंने मसीह को पहिन लिया है।" इस पवित्रशास्त्र का अर्थ है कि जब यीशु को यरदन में यूहन्ना द्वारा बपतिस्मा दिया गया था, तो उसने एक ही बार में हमारे सभी पापों को अपने ऊपर ले लिया। इसका अर्थ यह भी है कि क्रूस पर यीशु की मृत्यु हमारे सभी पापों का प्रायश्चित थी क्योंकि उसने अपने बपतिस्मा के द्वारा संसार के सभी पापों को अपने ऊपर ले लिया था। इस सत्य को समझना और उस पर विश्वास करना हमारे प्रभु के साथ विश्वास को मिलाना है। 
हम अपने अधर्म के कामों के कारण परमेश्वर की धार्मिकता से अलग हो गए थे। क्या आप जानते हैं कि जब यूहन्ना ने यीशु को बपतिस्मा दिया तो यीशु ने हमारे सभी पापों और अपराधों को अपने ऊपर ले लिया? यीशु ने अपने बपतिस्मा के द्वारा एक ही बार में हमारे सभी पापों को अपने ऊपर ले लिया और पापों की मजदूरी का भुगतान करने के लिए क्रूस पर मर गए। हम ऐसे प्राणी हैं जो जीवन भर परमेश्वर के सामने पाप करने के सिवा कुछ नहीं कर सकते। इसलिए, हमें यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू पर अपने विश्वास की नींव रखने के द्वारा विश्वासों को मसीह के साथ मिलाना चाहिए। हम मसीह के साथ तभी जुड़ेंगे जब हम यह विश्वास करेंगे कि यीशु ने अपने बपतिस्मा के द्वारा परमेश्वर की धार्मिकता को पूरा किया। 
पिता की इच्छा का पालन किसने किया, उसकी धार्मिकता की पूर्ति किसने की? यह स्वयं यीशु मसीह थे। यीशु ने परमेश्वर की धार्मिकता को एक ही बार में पूरा किया। यीशु ने यूहन्ना से लिए हुए बपतिस्मा के द्वारा हमारे सभी पापों को अपने ऊपर लेकर अपनी मृत्यु के द्वारा हमारे पाप की मजदूरी का भुगतान किया। यदि हम मसीह के साथ एक होना चाहते हैं, तो हमें उसके बपतिस्मा पर विश्वास होना चाहिए जिसने हमारे सभी पापों को हमेशा के लिए अपने ऊपर ले लिया। 
हमें अपने प्रभु के साथ एक होना चाहिए और उस पर विश्वास करना चाहिए क्योंकि वह अपने बपतिस्मा के माध्यम से हमारे अनन्त उद्धारकर्ता बने है। अब आपके पास एक ही विकल्प बचा है कि आप इस सच्चाई को स्वीकार करते हैं या नहीं। प्रभु के बपतिस्मा और क्रूस पर बहाए लहू पर विश्वास करके परमेश्वर की संतान बनना या सत्य को अस्वीकार करके नरक में अनन्त मृत्यु के लिए अभिशप्त होना बिल्कुल आप पर निर्भर है। यीशु ने बपतिस्मा लिया ताकि हमारे पाप दूर हो जाएँ (मत्ती ३:१३-१५)। 
यदि हम मत्ती ३:१५ को देखें, तो हम "इस प्रकार" को परमेश्वर की सभी धार्मिकता को पूरा करने के साधन के रूप में पा सकते हैं। वाक्यांश "इस प्रकार" ग्रीक में "हू-तोस गार" है, जिसका अर्थ है 'इस तरह से,' 'सबसे उपयुक्त,' या 'इसके अलावा कोई दूसरा रास्ता नहीं है,' यह बताते हुए कि उसका बपतिस्मा हमारे पापों को पारित करने के लिए सबसे उपयुक्त तरिका था। यह वचन स्पष्ट करता है कि यीशु ने यूहन्ना से लिए हुए बपतिस्मा के द्वारा मनुष्यजाति के पापों को अपरिवर्तनीय रूप से अपने ऊपर ले लिया। 
जब यीशु ने बपतिस्मा लिया, तो हमारे पाप उसे सौंप दिए गए। हमें रोमियों ६:५-११ की सच्चाई में विश्वास करना चाहिए, कि यीशु ने बपतिस्मा लिया था ताकि हमारे पापों को दूर किया जा सके और यह कि वह क्रूस पर मर गया ताकि परिणामस्वरूप मनुष्यजाति को बचाया जा सके। 
किसी को भुगतान करने के लिए, आपको अपने कर्ज के बराबर मजदूरी का भुगतान करना होगा। उसी तरह, हमें यह जानना चाहिए कि हमारे पापों को दूर करने के लिए हमारे प्रभु ने किस तरह और कितनी मजदूरी का भुगतान किया। 
जब यीशु ने बपतिस्मा लिया, तो उसने हमारे जन्म से लेकर १० वर्ष की आयु तक और फिर १० से २०, ३०, ४०, ५०, ६०, ७०, ८०, ९० की उम्र तक किए पाप और हमारी अंतिम सांस तक किए हुए सभी पापों को अपने ऊपर ले लिया। उसने अपने बपतिस्मा के द्वारा हमारे सारे पापों को अपने ऊपर ले लिया और उसकी कीमत चुकाई। यीशु ने हमारे सभी अधर्मों को जो हमने जानबूझकर या अनजाने में किए थे एक ही बार में अपने ऊपर ले लिया। यीशु ने हमारे पापों को धोने के लिए बपतिस्मा लिया और उन्होंने क्रूस पर पापों की मजदूरी के लिए भुगतान किया। यह पानी और आत्मा के सुसमाचार में निहित सत्य है, और जिसके बारे में पवित्रशास्त्र बात कर रहा है।
हम यहां देख सकते हैं कि अधिकांश मसीही पवित्रीकरण के सिद्धांत को स्थापित और समर्थन करके यीशु को अपने उद्धारकर्ता के रूप में स्वीकार करने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं क्योंकि वे "बपतिस्मा" के रहस्य को नहीं समझते हैं जिसके बारे में पौलुस ने बात की थी। यदि यीशु पृथ्वी पर नहीं आते और "बपतिस्मा" प्राप्त नहीं करते जो यूहन्ना ने उन्हें दिया था, तो मनुष्यजाति के पाप हमेशा के लिए बने रहते। इसलिए, हमें ऐसे झूठे सिद्धांत पर विश्वास नहीं करना चाहिए जो सिखाता है कि समय के साथ हमारे मन और शरीर पवित्र हो सकते हैं।
इस पृथ्वी पर एकमात्र और अनन्त सत्य यह है कि यीशु ने बपतिस्मा लिया और हमारे सभी पापों को अपने ऊपर ले लिया। पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास हमें सभी झूठे सिद्धांतों पर विजय प्राप्त करने में मदद करता है और विश्वास करने वालों के लिए विजय लाता है। इसलिए हमें इस सत्य पर विश्वास करना होगा। कुछ मसीही नया जन्म न लेते हुए नरक में चले जाते हैं क्योंकि वे यीशु के बपतिस्मा के साथ एक नहीं हुए हैं। 
क्या आपने कभी खंजर से छेदे गए ह्रदय की छवि देखी है? यह परमेश्वर के बलिदान प्रेम को दर्शाता है। परमेश्वर ने हम से इतना प्रेम किया कि पानी और आत्मा के सुसमाचार के द्वारा हमें हमारे सब पापों से बचाया। "क्योंकि परमेश्वर ने जगत से ऐसा प्रेम रखा कि उस ने अपना एकलौता पुत्र दे दिया, कि जो कोई उस पर विश्वास करे, वह नाश न हो, परन्तु अनन्त जीवन पाए" (यूहन्ना ३:१६)। 
आपको उस प्रेम को स्वीकार करना होगा जो यीशु ने हमें बपतिस्मा लेकर और क्रूस पर अपना सारा लहू बहाकर दिया था। हमारे हृदयों को परमेश्वर की धार्मिकता के साथ एक होना है। हमें यीशु के साथ एकता में रहना चाहिए। मसीह की धार्मिकता के साथ एक विश्वासयोग्य जीवन सुंदर है। रोमियों अध्याय ६ में पौलुस निर्णायक रूप से कहता है कि हमें परमेश्वर की धार्मिकता के साथ एकता में विश्वास से जीना है। 
क्या हम, जैसा पौलुस रोमियों ७:२५ में कहते हैं, अपने मन से परमेश्वर की व्यवस्था की सेवा करते हैं, या पाप की व्यवस्था को अपने शरीर से करते हैं? क्या हम करते है? हाँ हम करते हैं। इसलिए हमें, पौलुस की तरह, हमेशा ऐसे हृदयों का होना चाहिए जो परमेश्वर की धार्मिकता से जुड़े हों। यदि हम अपने हृदयों को अपने प्रभु की धार्मिकता के साथ नहीं जोड़ते हैं तो क्या होगा? सम्पूर्ण विनाश। 
जो लोग परमेश्वर की धार्मिकता के साथ एक हो जाते हैं, वे उसकी कलीसिया के साथ एक होकर अपना जीवन जीते हैं। यदि आप परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करते हैं, तो आपको उसकी कलीसिया और उसके सेवकों के साथ एक होना चाहिए। शरीर हमेशा पाप की व्यवस्था की सेवा करने की कोशिश करता है, इसलिए हमें विश्वास से जीना चाहिए, परमेश्वर के जीवन की व्यवस्था पर बार-बार विचार करना चाहिए। यदि हम प्रतिदिन परमेश्वर की धार्मिकता को ध्यान में रखें और उसके बारे में चिंतन करें, तो हम उसके साथ एक हो जाएंगे। इसलिए बाइबल कहती है कि पागुर करनेवाले पशु शुद्ध होते हैं (लैव्यव्यवस्था ११:२-३)। 
परमेश्वर की धार्मिकता के साथ एक हो जाओ। क्या आपको कोई नई सामर्थ बढ़ती हुई महसूस होती है या नहीं? परमेश्वर की धार्मिकता के साथ अभी एक होने का प्रयास करें! मान लीजिए कि आपने अपने हृदय को यीशु के बपतिस्मा के साथ जोड़ लिया है। फिर आप के हृदय में अब भी पाप है कि नहीं? नहीं है।─ अब यीशु मसीह क्रूस पर मर गया है। इसे अपने ह्रदय में विश्वास करो। क्या आपने भी इस सत्य से अपना मन जोड़ा है? तो क्या हम मर गए है या नहीं? हम मर चुके हैं।─ और क्या मसीह मरे हुओं में से जी उठा है? हाँ।─ फिर, हम भी मरे हुओं में से जी उठे हैं। जब हम अपने हृदयों को मसीह के साथ जोड़ते हैं, तो हमारे पाप धुल जाते हैं; हम उसके साथ क्रूस पर मरे हुए हैं और मसीह के साथ मरे हुओं में से जी उठे हैं। 
हालाँकि, जब हम मसीह के साथ एक नहीं होते हैं तो क्या होता है? "आप किस बारे में बात कर रहे है? अरे हाँ, आप यीशु के बपतिस्मा की बात कर रहे हैं। आपका मतलब है, पुराने नियम में यह बलीपशु पर हाथ रखना था, और नए नियम में यह वह बपतिस्मा है जिसे यीशु ने यूहन्ना से प्राप्त किया था। शायद यह सही है! लेकिन इसमें इतना अच्छा क्या है कि हर कोई इसका मजाक उड़ाता है?” 
जो लोग केवल प्रभु के बपतिस्मा के सिद्धांत में विश्वास करते हैं, उनके पास सच्चा विश्वास नहीं होता हैं, इसलिए वे अंत में मसीह को छोड़ देते हैं। सैद्धांतिक विश्वास, जैसे केवल जानकारी जो छात्र शिक्षकों से स्कूल में सीखते हैं, परमेश्वर की धार्मिकता अर्जित करने के लिए पर्याप्त नहीं है। लेकिन ऐसे छात्र हैं जो वास्तव में अपने शिक्षकों का सम्मान करते हैं और अपने शिक्षकों के चरित्र और नेतृत्व को सीखने की कोशिश करते हैं। हमें परमेश्वर के वचनों को केवल ज्ञान के रूप में स्वीकार नहीं करना चाहिए बल्कि उनके चरित्र, प्रेम, दया और धर्मी वचनों के साथ इसे अपने हृदय में समाहित करना चाहिए। जब हमें परमेश्वर का वचन सिखाया जाता है तो हमें केवल ज्ञान सीखने की अपनी इच्छाओं को त्याग देना चाहिए। 
उन लोगों के मन जो पहले से ही परमेश्वर के वचन के साथ गहराई से जुड़े हुए हैं, प्रभु की सेवा करने और उनके साथ अच्छी संगति रखने के लिए दृढ़ हैं, और परिस्थितियों से आसानी से प्रभावित नहीं होते हैं। वे केवल महान् आज्ञा को प्राप्त करने के लिए सावधानी से आगे बढ़ते हैं। लेकिन छोटी-छोटी बातें उन लोगों को आसानी से प्रभावित करती हैं जिन्होंने अभी तक अपने हृदयों को परमेश्वर साथ नहीं जोड़ा है। 
हमें अपने विश्वासों को अपने प्रभु की धार्मिकता के साथ जोड़ना चाहिए। हमें संसार की छोटी-छोटी बातों से अपने हृदय को विचलित नहीं होने देना चाहिए। जिन्होंने अपने हृदयों को मसीह के साथ जोड़ लिया, उन्होंने यीशु में बपतिस्मा लिया, उनके साथ क्रूस पर मरे और अपने सभी पापों से बचने के लिए उनके साथ फिर से जी उठे। हम इस धर्मनिरपेक्ष दुनिया के लोग नहीं हैं, इसलिए हमें विश्वास करना चाहिए कि हमें परमेश्वर खुश करने के लिए उसकी धार्मिकता के साथ एकजुट होना होगा, जिसने हमें उसकी धार्मिकता का सेवक कहा। 
यदि आप परमेश्वर की धार्मिकता के साथ एक हो जाते हैं, तो आपके हृदय हमेशा शांति और आनंद से भरे रहेंगे क्योंकि प्रभु की सामर्थ हमारी होगी। हम बहुत धन्य जीवन जी सकते हैं क्योंकि परमेश्वर हमें बहुतायत से अपनी आशीष और दिव्य सामर्थ प्रदान करता है।
अपने हृदय को परमेश्वर की धार्मिकता से जुड़ने दीजिए। तब आप मेरे जैसे परमेश्वर के सेवकों के साथ एक हो सकेंगे, परस्पर सहभागिता के माध्यम से उनके वचन में दृढ़ विश्वास रखेंगे और उनके कार्य की पुरजोर से सेवा करेंगे। प्रभु ने आप के पापों को धो डाला, भले ही आपका विश्वास राई के दाने जितना छोटा ही क्यों ना हो। उसके साथ जुड़े रहें, विशेष रूप से उसके बपतिस्मा के साथ, भले ही फिर आप अपर्याप्त हों।
हम यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उनके लहू के माध्यम से हमें प्रभु के साथ एकता में विश्वास देने के लिए परमेश्वर का धन्यवाद करते हैं। हमें अपने हृदयों को प्रभु के साथ अब से लेकर उस दिन तक एक करना है जब तक हम अपने प्रभु से नहीं मिलते। हम अपने आप में कमजोर हैं इसलिए हमें एकजुट होना होगा। क्या आपने अपने हृदय को उस धार्मिकता से जोड़ने का विश्वास सीखा है जिसे यीशु ने पूरा किया था? क्या आपने यीशु के बपतिस्मा के साथ एकता में विश्वास प्राप्त किया? अब आपके पास वह विश्वास होना चाहिए जो यीशु के बपतिस्मा और लहू बहाने के साथ जुड़ा हुआ है। जो लोग इस तरह के विश्वास नहीं रखते हैं वे उद्धार पाने में असफल होंगे और विश्वासघाती जीवन जीएंगे। इसलिए, परमेश्वर की धार्मिकता आपके जीवन के लिए आवश्यक है। 
प्रभु के साथ जुड़ने से पापों की माफ़ी का और परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास के माध्यम से परमेश्वर की संतान के रूप में जीने की आशीष मिलाती है। यह मेरी ह्रदय से इच्छा है कि परमेश्वर की धार्मिकता आपकी धार्मिकता बने। यीशु मसीह आपके विश्वास और परमेश्वर की धार्मिकता का प्रभु है। विश्वास करे! और परमेश्वर की धार्मिकता प्राप्त करें। फिर, परमेश्वर की आशीष आपके साथ रहेगी। 
 

हमें परमेश्वर को केवल हमारी भक्ति ही अर्पण नहीं करनी चाहिए

कुछ मसीही परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास नहीं करते हैं और केवल परमेश्वर की स्तुति करते हैं, "♫हे परमेश्वर जो मेरा है उसे ले लो और इसे अपना बना लो, ♪मेरी छोटी भक्ति, मेरा जीवन, मेरा बलिदान, ♫हालाँकि यह छोटा है, मैं अपना सब कुछ आपको देता हूँ, मेरे राजा। ♪मैं केवल आपके लिए जीवित रहूंगा मेरे प्रभु! ♫ओह, पवित्र आत्मा आग के समान आता है।" हमें ऐसे मसीहीयों की तरह नहीं बनना चाहिए। वे प्रतिदिन स्तुति करने आते हैं और परमेश्वर के सामने अपनी भक्ति करते रहते हैं, इसलिए परमेश्वर को उनके लिए कुछ भी करने का मौका नहीं मिलता है। 
मनुष्य बहुत अधिक समर्पित होकर परमेश्वर को परेशान कर रहे हैं। परमेश्वर हमारी अंधी भक्ति से थक चुके हैं। वे परमेश्वर से उनकी "मानवीय" धार्मिकता स्वीकार करने का आग्रह करते हैं। जब वे फर्श की सफाई कर रहे हों, द्वार की झाडू लगा रहे हों, प्रार्थना कर रहे हों, स्तुति कर रहे हों और यहाँ तक कि भोजन भी कर रहे हों वे लगातार प्रभु को पुकारते हैं, “हे परमेश्वर! हमारी भक्ति स्वीकार करो!" यह ललाचानेवाला है कि आज अधिकांश मसीही केवल यीशु से कहते हैं कि वे उनकी देह की भक्ति को स्वीकार करें, जबकि वे परमेश्वर की धार्मिकता को नहीं जानते या उसमें विश्वास नहीं करते हैं। हमें कुछ समय के लिए अपनी भक्ति को अलग रखना चाहिए और परमेश्वर की धार्मिकता को स्वीकार करना चाहिए, जिसमें यीशु का बपतिस्मा और क्रूस पर उनका लहू शामिल है। 
हमारी देह की भक्ति का परमेश्वर के सामने कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। लेकिन मनुष्य अभी भी परमेश्वर से उनकी भक्ति स्वीकार करने और बदले में उनके पापों को माफ़ करने के लिए कहते हैं। यह मूर्खता है जैसे एक गरीब भिखारी एक अरबपति को अपनी सारी संपत्ति दे रहा है और अपनी बेकार और गन्दी भेंट के बदले में भव्य हवेली में रहने के लिए कह रहा है। परमेश्वर नहीं चाहता कि हम अपनी धार्मिकता पर घमण्ड करें। परमेश्वर चाहता है कि हम यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू पर भरोषा करके विश्वास करें। 
मसीही धर्म इस तरह का धर्म नहीं है जिसे मनुष्य ने इस जगत में स्थापित है। मसीही धर्म बौद्ध धर्म जैसे अन्य सांसारिक धर्मों की तरह नहीं है, जिसमें व्यक्ति को लगातार प्रार्थना करने, झुकने और स्वयं को शुद्ध करने की आवश्यकता होती है। हमें ऐसा विश्वास नहीं रखना चाहिए; जैसे की आशीष के लिए सांसारिक धर्म के संस्थापक को नमन करना और प्रार्थना करना। हमें अपनी भक्ति को देकर बदले में परमेश्वर से आशीष का अनुरोध नहीं करना चाहिए, लेकिन इसके बजाएं, परमेश्वर की धार्मिकता को जानें और स्वीकार करें क्योंकि वह हमें देना चाहता है। 
जब हम यूहन्ना के द्वारा यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके बहाए हुए लहू पर विश्वास करते हैं, तब हमें पापों की माफ़ी प्राप्त होगी। यीशु ने जगत के पापों को लेने के लिए बपतिस्मा लिया और पापों को हमेशा के लिए मिटाने के लिए मर गया। इसलिए, उसे अपने बपतिस्मा और मृत्यु को दोहराने की आवश्यकता नहीं है। 
इब्रानियों १०:१८ में कहा गया है, "और जब इनकी क्षमा हो गई है, तो फिर पाप का बलिदान नहीं रहा।" यीशु ने बपतिस्मा लेने के द्वारा हमारे सभी पापों को ले लिया और एक बार मर गया, परमेश्वर की सब धार्मिकता को पूरा किया। अब मसीह के बपतिस्मा और लहू में हमारे विश्वास ने परमेश्वर के साथ हमारे संबंध को पुनः स्थापित कर दिया है।
पौलुस कहता है, “इसलिये पाप तुम्हारे नश्‍वर शरीर में राज्य न करे, कि तुम उसकी लालसाओं के अधीन रहो” (रोमियों ६:१२)। हम यीशु मसीह के साथ राज्य करेंगे, जो हमारा प्रभु और राजाओं का अनन्त राजा है। पाप का तुम पर अधिकार नहीं होगा। वह समय जब पाप ने हम पर राज्य किया, वह समाप्त हो गया है। हमें अपने शरीर के दुष्ट लालच या महत्वाकांक्षाओं का पालन नहीं करना चाहिए। हम इन सभी चीजों पर सम्पूर्णता से विजय प्राप्त कर सकते हैं क्योंकि परमेश्वर ने हमें अपनी पूर्ण धार्मिकता दी है। 
 

अपने ह्रदय और शरीर को परमेश्वर की धार्मिकता के पात्र के रूप में अर्पण करे

“और न अपने अंगों को अधर्म के हथियार होने के लिये पाप को सौंपो, पर अपने आपको मरे हुओं में से जी उठा हुआ जानकर परमेश्‍वर को सौंपो, और अपने अंगों को धार्मिकता के हथियार होने के लिये परमेश्‍वर को सौंपो” (रोमियों ६:१३)। 
पौलुस पाप का विरोध करने के लिए तीन महत्वपूर्ण सिद्धांतों के बारे में बताता है। सबसे पहले, हम अपने नश्वर शरीर की वासनाओं की पूर्ति नहीं करनी है। हमें हमारी पुरानी देह वासना में जो करती थी उसका नकार करना है। दूसरा, हमें अपने अंगों को पाप के उपकरण के रूप में प्रस्तुत नहीं करना चाहिए। हमें अपने अंगों को, जो हमारी क्षमताएं हैं, अधर्म के साधन के रूप में इस्तेमाल होने से रोकना चाहिए। तीसरा, हमें अपने अंगों को परमेश्वर की धार्मिकता के उपकरण के रूप में प्रस्तुत करना चाहिए। 
इससे पहले कि हम यीशु पर विश्वास करते, हमने अपने हाथ, पैर, मुँह और आंखें पाप के सामने प्रस्तुत कर दीं। हम पाप के उपकरण बन गए और जहाँ कहीं यह हमें ले गया हम उसके पीछे गए। परन्तु अब, हमें अपने अंगों को पाप के अधर्म के साधन के रूप में उपयोग करने से रोकने का निर्णय लेना चाहिए। हमें बिना किसी प्रतिरोध के पाप को अपने ऊपर हावी नहीं होने देना चाहिए। जब पाप की परीक्षा आती है, तो हमें घोषणा करनी चाहिए, "पाप, तुम मसीह में मर गए हो।" और हमें यह स्वीकार करना चाहिए कि परमेश्वर हमारे सभी अस्तित्वों का स्वामी है। 
विश्वास के जीवन में हमें इन दोनों बातों का ध्यान रखना चाहिए कि हमें क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए। हमें अपने अंगों को पाप के लिए प्रस्तुत नहीं करना चाहिए, बल्कि उन्हें परमेश्वर के सामने प्रस्तुत करना चाहिए। हमें जो करना है वह उतना ही महत्वपूर्ण है जितना कि हमें क्या नहीं करना चाहिए। यदि हम परमेश्वर को कुछ भी नहीं देते हैं, तो इसका मतलब है कि हम इसे पाप के सामने पेश कर रहे हैं। उदाहरण के लिए, यदि हम अपना समय परमेश्वर को प्रस्तुत करते हैं, तो हमारे पास इसे पाप के सामने प्रस्तुत करने का समय नहीं होगा। हमें पाप का शत्रु बनना चाहिए और परमेश्वर के साथ एक परिवार का होना चाहिए। 
हम संयोग से कह सकते हैं, "मेरे पास पाप पर जीतने का साहस नहीं है।" हालाँकि, रोमियों ६:१४ में पौलुस हमें बताता है कि हमें ऐसा नहीं सोचना चाहिए: “तब तुम पर पाप की प्रभुता न होगी, क्योंकि तुम व्यवस्था के अधीन नहीं वरन् अनुग्रह के अधीन हो।” यदि हम अभी भी पाप के वश में हैं, तो हम निश्चित रूप से फिर से पाप करेंगे। लेकिन यदि हम परमेश्वर के अनुग्रह के अधीन हैं, तो यह हमें थामे रहेगा और हमें जीत दिलाएगा। इसलिए भजन संहिता का लेखक प्रार्थना करता है, “मेरे पैरो को अपने वचन के मार्ग पर स्थिर कर, और किसी अनर्थ बात को मुझ पर प्रभुता न करने दे” (भजन संहिता ११९:१३३)। 
जब तक हम इस धरती पर जीवित रहेंगे, पाप हमारे पास आएगा। यहाँ तक कि जब हमने यह अंगीकार कर लिया है कि हम पहले ही मसीह में मर चुके हैं, तब भी पाप हमें गिराने और हम पर शासन करने का प्रयास करेगा। यदि हम व्यवस्था के अधीन अपने लिए धर्मी होने का प्रयास करते हैं, तो हम पाप के प्रभुत्व से मुक्त नहीं हो सकते। लेकिन हमें यह ध्यान रखना होगा कि हमें परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करना है। इसलिए पाप हम पर हावी नहीं हो सकता। हमें यह जानना है, और इसे बोलना है। 
आप सभी को परमेश्वर की धार्मिकता पर विश्वास करना चाहिए और इसे अपने मुँह से स्वीकार करना चाहिए। "क्योंकि धार्मिकता पर मन से विश्वास किया जाता है, और उद्धार के लिये मुँह से अंगीकार किया जाता है" (रोमियों १०:१०)। आपके लिए वास्तव में यह महत्वपूर्ण है कि आप अपने दिल से परमेश्वर की धार्मिकता पर विश्वास करें और अपने मुँह से उसका अंगीकार करे। 
इसलिए, जब भी पाप हम पर शासन करने की कोशिश करता है - हर बार क्रोध हमारे मन पर शासन करने की कोशिश करता है, हर बार व्यभिचार और अश्लीलता हमें भ्रष्ट करने की कोशिश करती है, अपना जीवन बहेतर बनाने के लिए लालच हमें दूसरों को धोखा देने के लिए लुभाता है, घृणा और संदेह बढ़ता है, और ईर्ष्या हमारे मन को पकड़ लेती है, ─ हमें चिल्लाना होगा: "यीशु ने इन सभी पापों को ले लिया है!" हमें विश्वास के साथ चिल्लाना चाहिए, "पाप! तुम मुझ पर शासन नहीं कर सकते। परमेश्वर ने अपनी धार्मिकता से मुझे मेरे सभी पाप, विनाश, श्राप और शैतान से पूरी तरह से बचाया है।" 
यह वाक्य, 'हम परमेश्वर के लिए जीते हैं' का अर्थ है कि हम उसकी धार्मिकता में अपने विश्वासों के कारण धर्मी रूप से जीते हैं। परमेश्वर की धार्मिकता ने उन्हें सम्पूर्ण बनाया है जो यीशु के बपतिस्मा और लहू में विश्वास करते थे। इसलिए हम पाप के लिए मर गए और परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास के द्वारा परमेश्वर के लिए जीवित रहे। यह जानने और स्वीकार करने जैसा महत्वपूर्ण कुछ भी नहीं है कि हम परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करने के द्वारा आत्मिक रूप से पुनरुत्थित हुए है। 
पौलुस ने कहा कि जहाँ पाप बहुत हुआ वहाँ अनुग्रह उससे भी कहीं अधिक हुआ (रोमियों ५:२०)। तब लोगों ने उसे गलत समझा और कहा कि अधिक अनुग्रह प्राप्त करने के लिए ज्यादा पाप करते रहना चाहिए। परन्तु पौलुस ने उनका खंडन किया। प्रभु के बपतिस्मा और लहू में विश्वास करने के बाद भी चीजें अभी बाकी हैं। सांसारिक पाप हमें घेर लेंगे और हमारे हृदयों पर कब्जा करने की कोशिश करेंगे। 
हालाँकि, जब भी ऐसा होता है, हम परमेश्वर की धार्मिकता पर विश्वास कर सकते हैं और अपनी कमजोरियों पर विजय प्राप्त कर सकते हैं या फिर विश्वास के साथ अविश्वास कर सकते हैं। हम परमेश्वर की संतान के रूप में जी सकते हैं, जिनसे वह बहुत ही प्रसन्न हैं। ऐसे विश्वास के साथ, हम पाप के लिए मरने और परमेश्वर के लिए जीने में सक्षम थे। हम अपना शेष जीवन परमेश्वर की धार्मिकता पर विश्वास करते हुए और उसका अनुसरण करते हुए जी सकते हैं, और वहाँ पहुंचने के बाद हम उसके राज्य में हमेशा के लिए रहेंगे। 
रोमियों ६:२३ कहता है, "क्योंकि पाप की मजदूरी तो मृत्यु है, परन्तु परमेश्वर का दान हमारे प्रभु मसीह यीशु में अनन्त जीवन है।" आमीन। जिन लोगों ने मसीह को अपने उद्धारकर्ता के रूप में स्वीकार किया है, वे उसके बपतिस्मा की सामर्थ और क्रूस पर के न्याय के प्रभाव में विश्वास करते हैं। आमीन।
हाल्लेलूयाह! प्रभु की स्तुति हो!