उपदेश

विषय ९ : रोमियों (रोमियों की पत्री किताब पर टिप्पणी)

[अध्याय 7-3] ( रोमियों ७:५-१३ ) हम प्रभु की स्तुति क्यों कर सकते है उसका कारण

( रोमियों ७:५-१३ )
“क्योंकि जब हम शारीरिक थे, तो पापों की अभिलाषाएँ जो व्यवस्था के द्वारा थीं, मृत्यु का फल उत्पन्न करने के लिये हमारे अंगों में काम करती थीं। परन्तु जिस के बन्धन में हम थे उसके लिये मर कर, अब व्यवस्था से ऐसे छूट गए, कि लेख की पुरानी रीति पर नहीं, वरन् आत्मा की नई रीति पर सेवा करते हैं। तो हम क्या कहें? क्या व्यवस्था पाप है? कदापि नहीं! वरन् बिना व्यवस्था के मैं पाप को नहीं पहिचानता : व्यवस्था यदि न कहती, कि लालच मत कर तो मैं लालच को न जानता। परन्तु पाप ने अवसर पाकर आज्ञा के द्वारा मुझ में सब प्रकार का लालच उत्पन्न किया, क्योंकि बिना व्यवस्था पाप मुर्दा है। मैं तो व्यवस्था बिना पहले जीवित था, परन्तु जब आज्ञा आई, तो पाप जी गया, और मैं मर गया। और वही आज्ञा जो जीवन के लिये थी, मेरे लिये मृत्यु का कारण ठहरी। क्योंकि पाप ने अवसर पाकर आज्ञा के द्वारा मुझे बहकाया, और उसी के द्वारा मुझे मार भी डाला। इसलिये व्यवस्था पवित्र है, और आज्ञा भी ठीक और अच्छी है। तो क्या वह जो अच्छी थी, मेरे लिये मृत्यु ठहरी? कदापि नहीं! परन्तु पाप उस अच्छी वस्तु के द्वारा मेरे लिये मृत्यु का उत्पन्न करनेवाला हुआ कि उसका पाप होना प्रगट हो, और आज्ञा के द्वारा पाप बहुत ही पापमय ठहरे।”
 

मैं उस प्रभु की स्तुति करता हूँ जिसने अब तक मेरी अगुवाई की है

मैं उस प्रभु की स्तुति करता हूँ जिसने मुझे फिर से परमेश्वर के अनमोल लोगों से मिलने के लिए प्रेरित किया है। मुझे आज तक एक खुशहाल जीवन जीने की आशीष देने के लिए मैं उनका तहे दिल से शुक्रिया अदा करता हूँ। परमेश्वर हमेशा मेरे साथ रहे हैं और मुझ पर दया की है, फिर भले ही कई बार मैंने निराश को महसूस किया, कई अलग-अलग अवसरों पर अपने भीतर कठिनाइयों, पीड़ा और कमजोरियों का अनुभव किया। वह जीवित रहा है और मेरे जीवन भर मेरे साथ रहा, मेरी परेशानियों और खुशियों दोनों में। ऐसा कोई अवसर नहीं था जब उसने मुझे अकेला छोड़ दिया, एक पल के लिए भी नहीं।
परमेश्वर ने हमें कितनी आशीष दी है! यदि परमेश्वर हमारे जैसे होते, तो शायद दो या तीन बार हम पर दया करते, लेकिन अंत में वे अपना धैर्य खो देते। लेकिन परमेश्वर मनुष्य नहीं है, और उसके धैर्य की कोई सीमा नहीं है। चाहे हम भले काम करें या न करें, चाहे हम उसके वचन का पालन करें या न करें, वह हम पर अपनी निरंतर दया करना जारी रखता है। ऐसे प्रेममय परमेश्वर के साथ, हम उसकी स्तुति, आराधना और सेवा करने के सिवा कुछ नहीं कर सकते। राजा दाऊद ने अपने पूरे जीवन में यहोवा की स्तुति की, उसे उसके जीवन की हर कठिनाई में हर बार उसकी देखभाल करने के लिए परमेश्वर को धन्यवाद दिया। उसने अंगीकार किया, "क्योंकि तेरी सहायता से मैं सेना पर धावा करता हूँ; और अपने परमेश्वर की सहायता से शहरपनाह को लाँघ जाता हूँ" (भजन संहिता १८:२९)।
परमेश्वर ने हमें कितनी आशीष दी है! हम उसकी पर्याप्त प्रशंसा नहीं कर सकते। यदि हम संसार के जीतनी बड़ी कलीसिया का निर्माण करे तो क्या हम संतुष्ट होंगे? यदि हम एक ऐसी कलीसिया का निर्माण करे जो आसमान तक पहुँचती है तो क्या हम संतुष्ट होंगे? बिलकूल नही! हम सबसे बड़े और सबसे सुंदर कलीसिया का निर्माण कर सकते हैं जिसकी हमने कभी भी कल्पना नहीं की है, लेकिन यह कलीसिया का आकार या सुंदरता नहीं है जो मायने रखता है, लेकिन यह तथ्य मायने रखता है कि परमेश्वर आत्माओं को बुलाता है, उन्हें अपना वचन सुनने और अपने वचन पर विश्वास करने के द्वारा नया जन्म प्राप्त करने के लिए अनुमति देता है। और हम केवल इन सभी आशीषों के लिए केवल अपने प्रभु की स्तुति कर सकते हैं। हम परमेश्वर को धन्यवाद देते हैं कि उसने हमें उसकी सेवा करने की अनुमति दी, उसके कार्यों का फल उत्पन्न किया, अन्यथा जीवन केवल व्यर्थ होता।
क्या आप धन्यवादी नहीं हैं कि परमेश्वर आपको इस नए रिट्रीट सेंटर में बैठने देता है? हमारे परमेश्वर ने हमें अपनी असीम कृपा से आशीष दिया है और हमें अपनी आंखों की पुतली के रूप में रखा है। हम कौन हैं और हमने उसके सब प्रेम के योग्य होने के लिए क्या किया है? हम कोई नहीं हैं, और हमने कुछ नहीं किया है। और फिर भी परमेश्वर ने हमें उसके सामने अनमोल बनाया है, इसलिए नहीं कि हमारे पास दिखाने के लिए कुछ है, बल्कि इसलिए कि हमने नया जन्म प्राप्त किया है। हम यीशु मसीह से मिलने से पहले कुछ भी नहीं थे। परमेश्वर ने हमें यानी की जो पागलपन में घूम रहे थे और जंगल में भटग गए थे, जो मरने के लिए नियत थे और धुल और राख में नाश होने वाले थे उन्हें अपनी संतान के रूप में बनाया।
वह प्रेम कितना सुंदर और महान है जो परमेश्वर ने हमें दिया है! प्रभु की स्तुति हो! इस दुनिया में कई आत्माओं में से, परमेश्वर ने अपनी धार्मिकता में अपने बिना शर्त प्रेम से हमें बचाया है। उद्धार छुटकारे से कई अधिक है। इसका मतलब है कि हमारी आत्मा अब परमेश्वर के साथ एकता में है। इसका मतलब है कि उसका प्यार अब हमारा है। इसका मतलब है कि उनकी आशीष भी हमारा है। 
यह परमेश्वर के अद्भुत मार्गदर्शन और प्रोत्साहन के कारण है कि हम अभी भी अपने आप को उसकी कलीसिया में पाते हैं। यदि परमेश्वर ने हमें यहाँ नहीं रखा होता तो हम यहाँ कैसे होते? यदि उसने हम से प्रेम नहीं किया होता और हमें आशीष नहीं दी होती, तो हम कैसे सुसमाचार का प्रचार करने और उसकी सेवा करने में समर्थ होते? हम परमेश्वर की सेवा कर सकते हैं क्योंकि वह जीवित है, हमारे साथ है, और उसने हमें आशीष दी है।
यदि प्रभु ने हमें न तो संभाला होता और न ही आशीष दी होती, तो हम पहले या अब भी उसकी स्तुति नहीं कर सकते थे। परमेश्वर ने हमें प्रेम किया है, आशीषदी है, प्रोत्साहित किया है और अपने दयालु हाथों से हमें संभाला है ताकि हम उनकी सेवा, अनुसरण, स्तुति और आराधना कर सकें। क्या यह सच नहीं है? हम उनके अद्भुत कार्य और हमारे लिए उनके अनंत प्रेम के लिए अपने पूरे ह्रदय से प्रभु की स्तुति करते हैं।
परमेश्वर ने उनके लिए बहुत कुछ किया है जिनको उन्होंने बचाया है। कि उसने हमें छुड़ाया है, और यह कि वह नया जन्म प्राप्त करनेवाले संतों के विश्वास को मजबूत करना जारी रखता है, यह इस बात का प्रमाण है कि परमेश्वर हमें थामे रहता है, और वह हमारी रक्षा कर रहा है। परमेश्वर हमारे द्वारा कार्य करता है और अपनी इच्छा पूरी करता है।
मुझे विश्वास है कि परमेश्वर ने अपनी सभी कलीसिया, दुनिया भर में नया जन्म लेने वालों की मंडलियों को आशीष दी है और उन्हें हमेशा के लिए आशीष देगा। हमने कई कठिनाइयों का अनुभव किया है, फिर भी परमेश्वर हमेशा हमारे साथ रहा है, हमें सहन करने और अपने कार्यों को जारी रखने के लिए, हमारी आत्माओं को मजबूत किया और अधिक आशीष प्राप्त करने के लिए आवश्यक विश्वास के लिए हमारे दिलों को तैयार किया। उनकी कृपा कितनी महान है! मैं एक बार फिर प्रभु को धन्यवाद देता हूँ।
 

हम अपने सम्पूर्ण ह्रदय से प्रभु की स्तुति कर सकते है

“क्योंकि जब हम शारीरिक थे, तो पापों की अभिलाषाएँ जो व्यवस्था के द्वारा थीं, मृत्यु का फल उत्पन्न करने के लिये हमारे अंगों में काम करती थीं। परन्तु जिस के बन्धन में हम थे उसके लिये मर कर, अब व्यवस्था से ऐसे छूट गए, कि लेख की पुरानी रीति पर नहीं, वरन् आत्मा की नई रीति पर सेवा करते हैं” (रोमियों ७:५-६)। बाइबल कहती है की जब हम शारीरिक थे, तो पापों की अभिलाषाएँ जो व्यवस्था के द्वारा थी, मृत्यु का फल उत्पन्न करने के लिये हमारे अंगों में काम करती थी। हालाँकि, बाइबल यह भी कहती है, “परन्तु जिस के बन्धन में हम थे उसके लिये मर कर, अब व्यवस्था से ऐसे छूट गए, कि लेख की पुरानी रीति पर नहीं, वरन् आत्मा की नई रीति पर सेवा करते हैं।”
क्या देह पापी वासनाओं से छुड़ाई जा सकती है? मनुष्य के अस्तित्व के दो पहलू हैं। एक देह है और दूसरा हृदय है। देह परमेश्वर की धार्मिकता तक नहीं पहुँच सकता, चाहे वह कितनी भी कोशिश कर ले। न ही यह परमेश्वर की व्यवस्था का पालन कर सकता है। हमारा शरीर नया जन्म लेने के बाद भी कभी भी परमेश्वर की व्यवस्था का पालन नहीं कर सकता, चाहे हम कितनी भी कोशिश कर लें। इसलिए प्रेरित पौलुस कहता है, “क्योंकि जब हम शारीरिक थे, तो पापों की अभिलाषाएँ जो व्यवस्था के द्वारा थीं, मृत्यु का फल उत्पन्न करने के लिये हमारे अंगों में काम करती थीं। परन्तु जिस के बन्धन में हम थे उसके लिये मर कर, अब व्यवस्था से ऐसे छूट गए।”
रोमियों ४:१५ कहता है, "व्यवस्था तो क्रोध उपजाती है, और जहाँ व्यवस्था नहीं वहाँ उसका उल्लंघन भी नहीं।” हमें अपने ह्रदय से परमेश्वर की स्तुति करनी चाहिए। परमेश्वर ने हमें उसकी स्तुति आत्मा के नएपन में करने के लिए योग्य बनाया, न कि पत्र के पुरानेपन में, क्योंकि हम जो व्यवस्था द्वारा पकड़े गए थे, पहले से ही व्यवस्था के प्रकोप से शापित थे।
देह ह्रदय से अलग है। देह सीमित है, परन्तु हृदय परमेश्वर के वचन को ग्रहण कर सकता है और विश्वास के द्वारा उसकी स्तुति कर सकता है। ह्रदय को पाप से भी छुड़ाया जा सकता है।
हम व्यवस्था के लिए मर चुके हैं। मैं मरा हुआ हूँ क्योंकि मैं उस चीज के लिए मर गया हूँ जिसने मुझे पकड़ रखा था। हमारी देह पहले ही परमेश्वर के लिए मर चुकी है। देह के साथ, हम न तो उसकी धार्मिकता तक पहुँच सकते हैं और न ही परमेश्वर की व्यवस्था के सामने धर्मी बन सकते हैं। देह न्याय किए जाने से बच नहीं सकता। तौभी परमेश्वर पिताने अपना एकलौता पुत्र, यीशु मसीह हमारे पास भेजा, और व्यवस्था का सारा प्रकोप उस पर पारित कर दिया, जो उस समय हमारे स्थान पर क्रूस पर चढ़ाया गया था। इस प्रकार परमेश्वर ने हमें आत्मा के नएपन में विश्वास के द्वारा प्रभु की सेवा करने के लिए सक्षम किया है, न कि उस पत्र की पुरानेपन में, जिसने हमें व्यवस्था द्वारा अपने क्रोध के अधीन रखा था। 
अब हम विश्वास के द्वारा प्रभु की स्तुति कर सकते हैं। हृदय प्रभु की स्तुति कर सकता है, हालाँकि हमारे पास अभी भी देह है। हमारा ह्रदय विश्वास कर सकता है कि प्रभु हमसे प्यार करता है। हम अपने प्रभु की स्तुति कर सकते हैं क्योंकि हम विश्वास करते हैं कि हम मसीह में मर गए हैं। परमेश्वर ने हमें व्यवस्था के प्रकोप से बचाया है। परमेश्वर पिता ने हमारे लिए अपने एकलौते पुत्र को भेजा, जो व्यवस्था के श्राप और परमेश्वर के न्याय के द्वारा जकडे हुए थे, और जब समय की परिपूर्णता आई, तो उन्होंने हमारे सभी पापों और व्यवस्था के क्रोध को अपने पुत्र पर पारित कर दिया। इस प्रकार परमेश्वर ने उन लोगों को उनके पापों से, परमेश्वर के न्याय से और व्यवस्था के प्रकोप से बचाया है जो उसके प्रेम को स्वीकार करते हैं और उस पर विश्वास करते हैं। हमें हमारे सभी पापों से पूरी तरह से बचाने के लिए हम प्रभु की स्तुति करते हैं।
हम तहे दिल से विश्वास करते हैं कि परमेश्वर ने हमें उसकी धार्मिकता के लिए बचाया है। हम परमेश्वर को उसके प्रेम के लिए अपने पूरे मन से धन्यवाद, स्तुति और महिमा देते हैं। लेकिन क्या हम ये काम देह के साथ कर सकते हैं? नहीं। जब हम देह में थे, तो पापमय वासनाएं, जो व्यवस्था के अनुसार थीं, हमारे अंगों में मृत्यु तक फल देने के लिए कार्य करती थीं। देह केवल परमेश्वर के क्रोध के अधीन रहती है।
अब हम विश्वास के द्वारा व्यवस्था के इस प्रकोप से छुटकारा पा चुके हैं। परमेश्वर ने हमें उसके प्रेम और उद्धार में विश्वास के द्वारा उसकी सेवा करने के लिए बनाया, न कि पत्र के पुरानेपन से और न ही परमेश्वर के क्रोध की व्यवस्था के द्वारा, भले ही व्यवस्था के द्वारा हमारा न्याय किया जाना अथा।
हम में से कोई भी अपने कर्मों से प्रभु की सेवा नहीं कर सकता। यद्यपि हमारा नया जन्म हुआ है, हम अपनी देह से उसकी सेवा नहीं कर सकते। क्या हम में से कोई ऐसा है जो देह के साथ प्रभु की सेवा करने की कोशिश करते हुए निराश हुआ हो? हम कभी भी देह के साथ प्रभु की सेवा नहीं कर सकते। पापी वासनाएं हमेशा देह पर राज करती हैं। नया जन्म लेने के बाद भी हम अपनी देह से प्रभु की सेवा नहीं कर सकते। हम परमेश्वर की स्तुति कर सकते हैं और विश्वास के द्वारा ही अपने हृदय से उसकी सेवा कर सकते हैं। इसलिए, जब आप परमेश्वर की स्तुति करते हैं, तो अपने ह्रदय से विश्वास करें और उसके प्रेम के लिए धन्यवाद दें। तब, देह विश्वास का अनुसरण करने वाला एक उपकरण बन सकता है।
मैं यहोवा की स्तुति करता हूँ, जिसने हमें व्यवस्था के सभी क्रोध से बचाया है, क्योंकि मैं अपने ह्रदय से उस पर विश्वास करता हूँ। मैं यहोवा को धन्यवाद देता हूँ। उसने मुझे पूरी तरह से बचा लिया है। उसने मुझे मेरे प्रतिदिन के पापों और व्यवस्था के श्राप से छुड़ाया है। कोई संदेह न हो: हमारे परमेश्वर ने हमें बचाया है। हमारी सभी कमजोरियों और कमियों के बावजूद, परमेश्वर ने हमें बचाया है क्योंकि वह हमसे प्रेम करता है। यह कितना अद्भुत है कि परमेश्वर हमें धर्मी बना देगा, भले ही हम कमियों से भरे हों? यह कितना आश्चर्य की बात है कि परमेश्वर हमें अपना सेवक बनाएगा?
हम परमेश्वर की स्तुति कर सकते हैं क्योंकि उसने हमें व्यवस्था के प्रकोप से बचाया है। हम आत्मा से और अपने हृदय से प्रभु की सेवा कर सकते हैं। हम प्रभु का अनुसरण कर सकते हैं। हम प्रभु का धन्यवाद करते हैं, जिसने हमें हमारे पापों और अपने क्रोध से छुड़ाया है। क्या आप उसे धन्यवाद देते हैं? क्या हमारे उद्धार ने यह प्रकट नहीं किया कि हम कितने कमजोर हैं? कितनी बार हम उसकी इच्छा से जीने में असफल रहे हैं, भले ही हमने ऐसा करने की पूरी कोशिश की हो? हम कितनी बार घमण्डी हुए हैं? हममें कितनी कमजोरियाँ हैं? हम अपनी देह और कर्मों से कभी भी प्रभु की स्तुति नहीं कर सकते, न अभी और न ही भविष्य में। जो कुछ भी उसने हमारे ह्रदय में किया है उसके लिए हम परमेश्वर की स्तुति करते हैं। केवल अपने हृदय और अपने विश्वास से ही हम प्रभु की स्तुति कर सकते हैं।
 

हम देह से प्रभु की स्तुति नहीं कर सकते

जब हम प्रभु का अनुसरण करते हैं तो हमारी अपनी धार्मिकता टुकड़े-टुकड़े हो जाती है। मन की दुनिया और देह की दुनिया को अलग किया जाना चाहिए। यह देह से आत्मा का अलगाव है।
क्या आप इस पर विश्वास करते हैं? देह के साथ प्रयास करना हमारे लिए बेकार है। जब हम गाते हैं, आनन्दित होते हैं, स्तुति करते हैं, विश्वास करते हैं, अनुसरण करते हैं और अपने ह्रदय से धन्यवाद देते हैं, तब हमारी देह हमारे ह्रदय के सामने झुककर प्रभु की सेवा कर सकता है। हम प्रभु की स्तुति करते हैं और हमारे उद्धार के लिए उनका धन्यवाद करते हैं, और गाते हैं, "कलवरी के कारण मेरे सारे पाप दूर हो गए हैं; जीवन गीत से भर गया है, सब कलवारी के कारण; मसीह मेरा उद्धारकर्ता मुझे पाप से मुक्त करने के लिए जीवित है; किसी दिन, वह आ रहा है हे चमत्कारिक धन्य दिन! सब, हाँ, सब कलवारी के कारण।♬” लेकिन हम कभी-कभी देह के कारण ठोकर खाते हैं। हम अपने मन में सोचते हैं, "मैं इतना निर्बल क्यों हूँ, यद्यपि मुझमें कोई पाप नहीं है?" तब हम अपने आप से आश्चर्य करते हैं, "''मेरे सारे पाप दूर हो गए''- यह भी सही है-'जीवन गीत से भर गया है''- यह भी सही है- 'कलवारी की वजह से'- यह सब ठीक है, लेकिन मैं इतना कमजोर क्यों हूँ? मुझे धन्यवाद देना चाहिए और समय के साथ और अधिक आनंदपूर्वक प्रभु का अनुसरण करना चाहिए, लेकिन मैं इतनी कमियों से क्यों भरा हूँ? आह, मेरी दयनीय देह!"
जब हम उदास होते हैं, तो परमेश्वर हमसे कहते हैं, "हे मेरे प्राण, तू क्यों उदास है? क्या तुम नहीं जानते कि मैं तुम्हारा उद्धारकर्ता हूँ? मैंने तुझे धर्मी बनाया है।” हम देह के साथ न तो सेवा कर सकते हैं और न ही परमेश्वर का अनुसरण कर सकते हैं। परमेश्वर ने हमें बचाने के लिए जो किया उस पर विश्वास करके, उससे प्रेम करके, उसे धन्यवाद देकर और अपने ह्रदय से उसे धन्यवाद देकर हम परमेश्वर की सेवा कर सकते है। 
मैं चाहता हूँ कि आप अपने दिल से परमेश्वर की स्तुति करें। मैं यह भी चाहता हूँ कि आप विश्वास करें और अपने दिल से उसका धन्यवाद करें। ये बातें हमारे दिलों से ही संभव हैं। वे देह के साथ असंभव हैं। हमारा उद्धार प्राप्त करने के बाद भी देह हमेशा अपरिवर्तित रहता है। प्रेरित पौलुस ने उपरोक्त भाग में जो कहा है वह उद्धार पाने से पहले और बाद में दोनों पर लागू होता है। परमेश्वर का वचन उनके लिए समान है जो बचाए गए हैं और जो नहीं बचाए गए हैं।
 

क्या आपने उद्धार प्राप्त करने के बाद भी अपनी देह से परमेश्वर को प्रसन्न करना जारी रखा?

क्या आपने उद्धार पाने के बाद भी देह से परमेश्वर को प्रसन्न करना जारी रखा है? क्या आपको लगता है कि आप परमेश्वर को खुश कर सकते हैं क्योंकि आप दूसरों से अलग हैं और आप उनसे ज्यादा परमेश्वर की सेवा करते हैं? जो अपनी धार्मिकता से भरे हुए हैं वे किसी दिन खाई में गिरेंगे। कुछ लोग ऐसे भी हैं जो पहले ही खाई और खाद के टब में गिरने का अनुभव कर चुके हैं। 
इस समर बाइबल सभा में एक बहन है जो खाद के टब में गिर गई। मेरा मतलब है कि यह एक वास्तविक शौचालय था, लेकिन सौभाग्य से इसका अभी तक उपयोग नहीं किया गया था। यदि पहले किसी ने इसका इस्तेमाल किया होता, तो वह असली मुसीबत में फंस जाती। जब हमने यह बाइबल सभा तैयार की तो हमने कुछ गहरे गड्ढे खोदे और उस हरी-भरी पहाड़ी पर कुछ घर बनाए। फिर, हमने प्रत्येक शौचालय पर एक फुटरेस्ट लगाया, लेकिन हमने अभी तक प्रत्येक शौचालय के लिए फुटरेस्ट नहीं लगाया था। तो, यह बहन फिसल गई और छेद में गिर गई। परमेश्वर ने उनके लिए ऐसा गड्ढा खोदा है जो अपनी धार्मिकता से भरे हुए हैं। परमेश्वर चाहता है कि हम केवल उसकी महिमा करें।
जब मैं उद्धार पाने के बाद सही रास्ते से भटकता हूँ तो मेरी आत्मा असहज और असंतुष्ट महसूस करती है। जब मैं इस पर विचार करता हूँ कि मुझे ऐसा क्यों लगता है, तो मुझे पता चलता है कि मेरे कपड़े गंदगी से सने हैं। मुझे पता चल गया है कि मुझे उस रास्ते पर नहीं जाना है, लेकिन मैं जल्द ही भूल जाता हूँ। जैसे ही मुझे इसका एहसास होता है, मैं यह कहते हुए पछताता हूँ, "मुझे ऐसा नहीं करना चाहिए। मैं क्या सोच रहा था? हे प्रभु। मेरे सभी पापों को धोने के लिए मैं आपकी स्तुति करता हूँ।" लेकिन मैं कुछ ही समय में फिर से पाप करता हूँ। कभी-कभी मैं परमेश्वर की कृपा में रहता हूँ और अचानक पाप में पड़ जाता हूँ। तब, मैं अपने आप को परमेश्वर की कृपा के द्वारा पाप से बचता हुआ पाता हूँ। आगे-पीछे मैं डगमगाता हूँ। इसलिए मैं अपने अस्तित्व पर दुःख और निराशा में आह भरता हूँ। 
मेरे सभी पापों को माफ़ कर दिए जाने के बाद मुझे पता चला कि मैं कितना गंदा था। मुझे गहराई से समझ में आया और मैंने सोचा, "यह भयानक है। मैं इतना दुर्बल और कमजोर क्यों हूँ, हालाँकि मैं आप पर विश्वास करता हूँ, परमेश्वर?” पापमय वासनाएं, जो व्यवस्था से उत्पन्न होती हैं, हमारे अंगों में कार्य करती हैं। मुझे एहसास हुआ कि जितना अधिक मैंने व्यवस्था के अनुसार जीने की कोशिश की, उतना ही अधिक मेरा शरीर पापी जुनून में गिर गया। मुझे पता चला कि देह कभी भी परमेश्वर का अनुसरण नहीं कर सकती। मैं अपनी देह को धार्मिकता के एक साधन के रूप में परमेश्वर के सामने पेश करके प्रभु की सेवा करने आया और अपने ह्रदय से उस पर विश्वास करने के बाद परमेश्वर ने जो आशीष दी उसकी प्रशंसा की।
 

देह केवल पापी वासनाओं से भरा एक ढेर है

जो लोग यह नहीं जानते हैं कि वे पापी वासनाओं के ढेर हैं, वे आश्चर्यचकित हैं कि जब वे थोड़ी देर के लिए प्रभु की सेवा करना छोड़ देते हैं तो वे कितनी जल्दी पाप में फिसल जाते हैं। हमें प्रभु में विश्वास करना चाहिए, उसकी स्तुति करनी चाहिए, उसकी महिमा करनी चाहिए और अपने हृदय से उसका अनुसरण करना चाहिए। हृदय से उसका अनुसरण करना प्रभु के अनुग्रह की आशीष है। केवल जब हम उस पर अपने ह्रदय से विश्वास करते हैं तभी हम उसका अनुसरण कर सकते हैं। जब हम देह में होते हैं, तो पापमय वासनाएं, जो व्यवस्था के द्वारा उत्प्रेरित होती हैं, हमारे अंगों में मृत्यु तक फल देने का कार्य करती हैं। जब हम अपने हृदय से प्रभु की स्तुति या उसका अनुसरण नहीं करते हैं, तो हमारी देह शीघ्र ही पापी वासनाओं में पड़ जाती है। हम सभी की यह प्रवृत्ति होती है; जैसी प्रेरित पौलुस की थी।
पौलुस जीवन भर अविवाहित रहा, सुसमाचार का प्रचार करता रहा। लेकिन उसे पता चला कि पाप शरीर की पापी वासनाओं के माध्यम से पुनर्जीवित हो गया था। उसने सोचा होगा, "मुझे डर है। मैं कुछ समय पहले खुशी से भर गया था, लेकिन अब मैं इतना उदास क्यों हूँ? मेरे साथ क्या गलत है? मैं थोड़ी देर पहले बहुत आत्मिक था लेकिन अब मुझे कचरा जैसा महसूस हो रहा है।" इस पर विचार करने के बाद, उसे समझ में आया कि वह देह को हृदय से अलग किए बिना प्रभु की सेवा नहीं कर सकता। "मैं कितना अभागा मनुष्य हूँ! मैं देह के साथ भलाई नहीं कर सकता।" 
जब हम अपने हृदय से परमेश्वर की स्तुति और अनुसरण करते हैं, तो देह हृदय को दबाती है। पौलुस को इस सच्चाई का एहसास हुआ। हम केवल पाप कर सकते है। क्या आप इस बात को समझ सकते हो? जब वे जो पापरहित है स्तुति करते हैं, विश्वास करते हैं और अपने हृदय से प्रभु का अनुसरण करते हैं, तो देह हृदय का अनुसरण करता है। एक व्यक्ति पहले सोच सकता है, "मैं अपने सभी पापों से बचा लिया गया हूँ। हाल्लेलूयाह। मैं बहुत खुश हूँ।" लेकिन समय के साथ व्यक्ति से अधिक से अधिक पापी जुनून प्रकट होते हैं। जो लोग अपनी धार्मिकता से भरे हुए हैं, वे अपने आप पर अधिक आसानी से निराश हो जाते हैं क्योंकि उनमें से पापी जुनून धीरे-धीरे बाहर आता है। हालाँकि वे ऐसा नहीं सोच सकते हैं, वे वास्तव में अपने बारे में जो सोचते हैं उससे भी बदतर हैं।
हमें पता होना चाहिए कि हमारी देह पापी जुनून का एक ढेर है। हमें देह पर भरोसा नहीं है; आपको उस पर निर्भर नहीं रहना चाहिए। इसके बजाय, परमेश्वर के अनुग्रह में विश्वास करें, प्रभु की महिमा करें, और पूरे मन से उसका अनुसरण करें। ये ह्रदय से ही संभव हैं। प्रभु की स्तुति करो, क्योंकि यह परमेश्वर की कृपा से है जो मुझे, जो बोलने में भयानक था और मेरी अपनी धार्मिकता से भरा था, सुसमाचार का प्रचार करने की अनुमति देता है! मैं प्रभु की कृपा के बिना ऐसा कैसे कर सकता हूँ? मैं केवल अपने प्रभु की स्तुति कर सकता हूँ।
 

मैं उस प्रभु को धन्यवाद देता हूँ जिसने मुझे उसकी स्तुति करने के योग्य बनाया

मैं उस प्रभु का धन्यवाद करता हूँ जिसने हमारे सब पापों को धो डाला और हमें पवित्र आत्मा दिया कि हम उसकी स्तुति अपने हृदय से करें, न कि हमारी देह से। हम उसकी स्तुति और महिमा कर सकते हैं क्योंकि हम उस पर अपने हृदय से विश्वास करते हैं।
"अत: हम सदा ढाढस बांधें रहते है और यह जानते है की जब तक हम देह में रहते है, तब तक प्रभु से अलग है" (२ कुरिन्थियों ५:६)। मैं प्रभु की स्तुति करता हूँ जिसने हमें हमारे सभी पापों से बचाया। मैं प्रभु की स्तुति और धन्यवाद करता हूँ। मैं उसकी महिमा करता हूँ और उस पर विश्वास करता हूँ। प्रभु ने हमें हमारे सभी पापों से बचाया, ठीक वैसे ही जैसे पापी वासनाओं के लिए जीने के बाद हमें मरने के लिए नियत किया गया था। उसने हमारे ह्रदय से परमेश्वर पर विश्वास करने के द्वारा हमें बचाए जाने की अनुमति दी। उसने हमें उसकी स्तुति करने दी और हमें खुशी दी।
देह के द्वारा परमेश्वर की सेवा करने का प्रयास न करें—यह असंभव है। देह के साथ भक्ति करने का प्रयास मत करो—यह प्राप्त नहीं किया जा सकता। देह के ऐसे सब प्रयत्नों को त्याग दो। तो फिर, हम परमेश्वर का अनुसरण कैसे कर सकते हैं? जवाब है, हमारे ह्रदय से। हम आत्मा की नवीनता में, हृदय से उसकी सेवा कर सकते हैं। हमारे परमेश्वर ने हमें बचाया है, इसलिए अपने ह्रदय से उसका अनुसरण करें, जिसने आपको उद्धार प्राप्त करने में सक्षम बनाया। 
मैं परमेश्वर की स्तुति करता हूँ। कितने लोग अपने आप पर विलाप करते हैं? वे दु:ख से आहें भरते और तड़पते हुए कहते हैं, “मैं ऐसा व्यवहार क्यों करता हूँ?” उनके जैसा मत बनो। आपके लिए यह असंभव है कि आप अपनी देह के साथ पाप न करें। असंभव को संभव बनाने की कोशिश मत करो। मैं चाहता हूँ कि आप परमेश्वर पर विश्वास करें और अपने हृदय से उसकी स्तुति करें। देह तब हृदय का अनुसरण करेगी। क्या आपने अपने उद्धार के बाद लंबे समय तक अपनी देह के साथ प्रभु का अनुसरण करने की कोशिश की है? क्या आपको वह करने में समस्या है जो आपको करना चाहिए? यदि ऐसा है, तो समस्या यह है कि आप हृदय से नहीं, देह से प्रभु की सेवा करने का प्रयास कर रहे हैं। क्या आप जानते हैं कि जो लोग मेरा अपमान करते हैं और मुझे बदनाम करते हैं, वे क्या कहते हैं? वे मुझ पर हंसते हैं, मेरा तिरस्कार करते हैं। लेकिन मैं सिर्फ उन पर मुस्कुराता हूँ, क्योंकि मैं जानता हूँ कि वे नहीं जानते कि मेरे अंदर क्या चल रहा है।
मैं सुसमाचार का प्रचार कर सकता हूँ क्योंकि प्रभु ने पहले ही मेरे सभी पापों को धो डाला है। यदि प्रभु ने मेरे सारे पापों को नहीं धोया होता, तो मेरा न्याय पहले ही हो चुका होता और मैं परमेश्वर के लिए मर चुका होता। परमेश्वर ने हमें आत्मा के साथ एक करके पूर्ण बनाया। उसने हमें वह बनाया जो उसकी स्तुति करते हैं। उसने हमें आभारी मन से जीवित किया। उसने हमें अपनी आशीष में आनन्दित किया। परमेश्वर की स्तुति हो! प्रभु की स्तुति करो जिसने हमें अपनी सन्तान बनाया है! सारी महिमा उसी की हो और केवल उसी की!
अभी भी देरी नहीं हुई है। अपनी देह पर कोई भरोसा न रखें। पापी वासनाएं हममें से थोड़ी सी भी संभावना से बाहर आ जाती हैं। देह हमेशा परमेश्वर की इच्छा के आगे स्वयं को प्राथमिकता देना चाहता है। इसलिए परमेश्वर की इच्छा का पालन केवल विश्वास से ही संभव है। देह के साथ यह संभव नहीं है। उद्धार पाने के बाद भी अपने आप को धोखा मत दो। हमारे उद्धार के बावजूद, देह के प्रभुत्व के अधीन रहना हमारे लिए अभी भी संभव है, क्योंकि हम अच्छी तरह जानते हैं कि देह हमेशा अपूर्ण और कमजोर होती है। 
हम आत्मा के लोग, विश्वास के लोग हैं। अपनी देह पर कोई भरोसा न रखें। मेरे पीछे दोहराएं: "मेरी देह कचरे के डिब्बे की तरह है।" मैं चाहता हूँ कि आप इसे याद रखें। अपने आप पर भरोसा मत करो। हमें अपने ह्रदय से परमेश्वर पर विश्वास करना चाहिए और उनका पालन करना चाहिए। मैं प्रभु को धन्यवाद देता हूँ और उसकी स्तुति करता हूँ कि उसने हमें परमेश्वर की व्यवस्था के सभी प्रकोप से बचाया। हाल्लेलूयाह!