उपदेश

विषय ९ : रोमियों (रोमियों की पत्री किताब पर टिप्पणी)

[अध्याय 7-4] ( रोमियों ७:१४-२५ ) हमारी देह जो केवल देह की सेवा करती है

( रोमियों ७:१४-२५ )
“हम जानते हैं कि व्यवस्था तो आत्मिक है, परन्तु मैं शारीरिक और पाप के हाथ बिका हुआ हूँ। जो मैं करता हूँ उस को नहीं जानता; क्योंकि जो मैं चाहता हूँ वह नहीं किया करता, परन्तु जिस से मुझे घृणा आती है वही करता हूँ। यदि जो मैं नहीं चाहता वही करता हूँ, तो मैं मान लेता हूँ कि व्यवस्था भली है। तो ऐसी दशा में उसका करनेवाला मैं नहीं, वरन् पाप है जो मुझ में बसा हुआ है। क्योंकि मैं जानता हूँ कि मुझ में अर्थात् मेरे शरीर में कोई अच्छी वस्तु वास नहीं करती। इच्छा तो मुझ में है, परन्तु भले काम मुझ से बन नहीं पड़ते। क्योंकि जिस अच्छे काम की मैं इच्छा करता हूँ, वह तो नहीं करता, परन्तु जिस बुराई की इच्छा नहीं करता, वही किया करता हूँ। अत: यदि मैं वही करता हूँ जिस की इच्छा नहीं करता, तो उसका करनेवाला मैं न रहा, परन्तु पाप जो मुझ में बसा हुआ है। इस प्रकार मैं यह व्यवस्था पाता हूँ कि जब भलाई करने की इच्छा करता हूँ, तो बुराई मेरे पास आती है। क्योंकि मैं भीतरी मनुष्यत्व से तो परमेश्‍वर की व्यवस्था से बहुत प्रसन्न रहता हूँ। परन्तु मुझे अपने अंगों में दूसरे प्रकार की व्यवस्था दिखाई पड़ती है, जो मेरी बुद्धि की व्यवस्था से लड़ती है और मुझे पाप की व्यवस्था के बन्धन में डालती है जो मेरे अंगों में है। मैं कैसा अभागा मनुष्य हूँ! मुझे इस मृत्यु की देह से कौन छुड़ाएगा? हमारे प्रभु यीशु मसीह के द्वारा परमेश्‍वर का धन्यवाद हो। इसलिये मैं आप बुद्धि से तो परमेश्‍वर की व्यवस्था का, परन्तु शरीर से पाप की व्यवस्था का सेवन करता हूँ।” 
 

परमेश्वर का अनुग्रह क्या ही अदभुत है!

हम अपने परमेश्वर को धन्यवाद देते हैं जिन्होंने हमें इस समर बाइबिल सभा की अनुमति दी है और मौसम पर नियंत्रण किया है, जिससे हमें ये खूबसूरत दिन देने के लिए आंधी को रोक सके। उसने आत्माओं को भेजा है और अपने लोगों को हमें अपना वचन देने के लिए इकट्ठा किया है और हमें एक दूसरे और पवित्र आत्मा के साथ संगति में आनन्दित करे।
परमेश्वर जीवित है! उनकी कृपा कितनी अद्भुत है! लोग अब सोचते हैं कि "डौग" तूफान निश्चित रूप से हमारे देश में आएगा, इसलिए अधिकारी इन-जे घाटी क्षेत्र में सभी पर्यटकों को वापस लेने के लिए गश्त करते हैं। मैं आज दोपहर इन-जे शहर गया था। मैंने सुना कि लोग आपस में बात कर रहे हैं, तूफान की चिंता कर रहे हैं, यह अनुमान लगा रहे हैं कि यह तूफान कितना शक्तिशाली और विनाशकारी होगा। 
लेकिन क्या सब कुछ वैसा ही होगा जैसा वे उम्मीद करते हैं, यहाँ तक कि हम, परमेश्वर की सन्तान, यहाँ गर्मियों में एकांतवास के लिए एकत्रित हुए हैं? यदि हम प्रार्थना करते हैं, तो परमेश्वर की दया से बारिश नहीं होगी। क्या परमेश्वर अपने लोगों को उड़ा देगा? परमेश्वर मौसम पर शासन करता है, लेकिन वह हमारे विश्वास के कारण ऐसा करता है। वह बुद्धिमानी से काम करता है, और इसका मतलब यह है कि वह हममें से उन लोगों की परीक्षा नहीं लेगा जिनका विश्वास अभी-अभी आरम्भ हुआ है, उन्हें आश्चर्यचकित करके, "जब हम इस गर्मी में वापस आते हैं तो परमेश्वर हमें आंधी क्यों देता हैं?"
जब मैंने समाचारों में इसके बारे में सुना तो मेरे पास "डौग" तूफान को रोकने की कोई शक्ति नहीं थी। मैं केवल प्रार्थना ही कर सकता था। यह समर बाइबल सभा पहले से ही निर्धारित की गई थी, हम पहले ही इकट्ठे हो चुके थे, और इसके बारे में मैं कुछ नहीं कर सकता था। और मैं चिंतित था कि यह चैपल आंधी का सामना करने के लिए पर्याप्त मजबूत नहीं हो सकता है, इस तथ्य को देखते हुए कि इसे पूर्वनिर्मित सामग्री के साथ बनाया गया था। तो मैं केवल परमेश्वर पर भरोसा कर सकता था। मैंने प्रार्थना की, "परमेश्वर हमारी मदद करें। हमारी रक्षा कीजिए। यीशु के नाम से मैं मांगता हूँ, आमीन।” और निश्चित रूप से, परमेश्वर ने तूफान डौग को रोका! मेरा मानना है कि परमेश्वर सब कुछ जानता है। वह हमारी सुरक्षा करता है क्योंकि वह हमारी स्थितियों को हमसे बेहतर समझता है।
मौसम हमें इतनी बारीकी से दिखाता है कि परमेश्वर जीवित है। मैंने अपने तंबू में बंदूकों की गड़गड़ाहट की तरह गरज की गड़गड़ाहट सुनी। सो मैं अपने डेरे से बाहर आया और आसमान की ओर देखा। आसमान में काले बादल छाए हुए थे और घाटी पर घने बादल छाए हुए थे। तो मैंने पूछा, "हे प्रभु, क्या बादल आ रहे हैं?" मेरा विश्वास कमजोर पड़ने लगा, “हे प्रभु, क्या हो रहा है? क्या तूफ़ान यहाँ पहुँच गया है? क्या यह वास्तव में यहाँ है?" लेकिन मैंने प्रार्थना की थी और परमेश्वर में विश्वास किया था, और इस विश्वास पर कायम रहा, और परमेश्वर से कहा, "मुझे विश्वास है कि आप हमारी देखभाल करेंगे, परमेश्वर। मुझे आप पर विश्वास है। मुझे पहले से ही विश्वास था कि आप हमारे लिए कार्य करेंगे।" परमेश्वर ने वास्तव में हमें आशीष दी, जैसा कि हमने विश्वास किया था। हम उसका हृदय से धन्यवाद करते हैं।
 

देह स्वार्थी और दुष्ट है

यदि परमेश्वर हमारे लिए कार्य नहीं करते हैं तो हम कुछ नहीं कर सकते। हमारा परमेश्वर हमें संभालता है और हमारी मदद करता है। आइए परमेश्वर के वचन पर एक नजर डालते हैं। रोमियों ७:१४-२५ हमें बताता है कि प्रेरित पौलुस ने स्वयं को देह में बंधे हुए और पाप के अधीन बेचे हुए के रूप में देखा। उसने यह भी पाया कि यह एक व्यवस्था था कि जब तक वह जीवित था तब तक देह पाप करती है। 
हम जो नया जन्म पाए हुए है वे भी पाप करते है, भले ही हम देह से भलाई करना चाहते हो। रोमियों ७:१९ कहता है, “क्योंकि जिस अच्छे काम की मैं इच्छा करता हूँ, वह तो नहीं करता, परन्तु जिस बुराई की इच्छा नहीं करता, वही किया करता हूँ।” हम देख सकते है की हमारे अन्दर कुछ भी अच्छाई नहीं है। उसके कारण, हम निराश होते है, और सोचते है, “क्या मैं अपने विश्वास का पालन कर पाउँगा?” क्या आप जानते है की देह कितनी स्वार्थी है? रोमियों ७:१८ कहता है, “क्योंकि मैं जानता हूँ कि मुझ में अर्थात् मेरे शरीर में कोई अच्छी वस्तु वास नहीं करती। इच्छा तो मुझ में है, परन्तु भले काम मुझ से बन नहीं पड़ते।”
हम हमेशा खुदका पक्ष लेते हैं, और हम हम कुकर्म करनेवालों के बीज हैं। क्या आप जानते हैं कि हम सभी मनुष्य कितने स्वार्थी हैं? हम निश्चित जानते हैं कि हम बुरे हैं, परन्तु प्रभु का पक्ष नहीं लेते; हम अपना पक्ष लेते हैं। प्रभु निश्चय ही भला है और उसकी इच्छा भी भली है। हम जानते हैं कि हम बुरे हैं, फिर भी हम खुद से बहुत ज्यादा प्रेम करते हैं। परमेश्वर ने हमें आज्ञा दी है कि उसके सामने हमारे अन्य देवता न हो। परमेश्वर ने हमें पाप का ज्ञान देने के लिए यह कहा था। 
हम खुद से प्रेम करते हैं और अपने लिए सब कुछ करते हैं, हालाँकि हम जानते हैं कि हम कितने स्वार्थी और आत्म-धर्मी हैं। जब हमारे लिए कुछ फायदेमंद होता है तो हम झल्लाहट करते हैं, लेकिन हम प्रभु के लिए कितने कंजूस और तुच्छ हैं! ऐसा इसलिए है क्योंकि हमें कोई समझ नहीं है। बच्चे कभी भी अपने बिस्कुट को छोड़ते नहीं। जो उनके हाथ में है, वे तब तक पकड़ लेते हैं जब तक कि वह टूट न जाए, और वे इसे कभी साझा नहीं करते क्योंकि वे बच्चे हैं और उनके पास कोई समझ नहीं है। वे नहीं जानते कि दुनिया में बिस्कुट से भी ज्यादा कीमती चीजें हैं। बच्चे ऐसे ही होते हैं; हम ऐसे हैं।
हमारे पाप धुल गए, लेकिन हम अभी भी स्वार्थी हैं। हमें पापरहित बनाने और अपनी सामर्थ से हमें पवित्र आत्मा देने के लिए हम प्रभु को धन्यवाद देते हैं। लेकिन पापों की माफ़ी प्राप्त करने और नया जन्म लेने के बाद हमारे भीतर एक युद्ध शुरू हो जाता है। यह युद्ध देह और आत्मा के बीच है। हम नया जन्म लेने के बाद खुश हैं, लेकिन हम जल्द ही इस युद्ध से पीड़ित होते हैं। लेकिन अब प्रभु चाहता है कि हम परमेश्वर के राज्य के लिए काम करें।
हमारे परमेश्वर ने हमारे लिए अपनी महिमा छोड़ दी। उसे देह की समानता में भेजा गया था। उन्हें एक सुंदर व्यक्ति के रूप में दुनिया में नहीं भेजा गया था। वह दुनिया में एक विनम्र मनुष्य के रूप में आया, शायद एक छोटे पैर वाले और बदसूरत मनुष्य के रूप में। दरअसल, ऐसा कहा जाता है कि यीशु बिल्कुल भी खुबसूरत नहीं थे। यशायाह ने कहा, “क्योंकि वह उसके सामने अँकुर के समान, और ऐसी जड़ के समान उगा जो निर्जल भूमि में फूट निकले; उसकी न तो कुछ सुन्दरता थी कि हम उसको देखते, और न उसका रूप ही हमें ऐसा दिखाई पड़ा कि हम उसको चाहते” (यशायाह ५३:२)। फिर भी, प्रभु ने हमारे सभी पापों को ले लिया है।
हमारी देह केवल पाप करती है। पौलुस जानता था कि उसकी देह पाप का एक ढेर है, इसलिए उसने कहा, “जो मैं करता हूँ उस को नहीं जानता; क्योंकि जो मैं चाहता हूँ वह नहीं किया करता, परन्तु जिस से मुझे घृणा आती है वही करता हूँ।” फिर भी उसने विस्तार से नहीं बताया, क्योंकि वह अपने पापों से लज्जित था।
हम कचरे के डिब्बे की तरह हैं। हम पाप के ढेर हैं। हमें अपने पीछे कचरे का एक निशान छोड़ते है यह देखने के लिए कितना खेद होगा? फिर भी अपने विवेक से डगमगाते हुए, हम परमेश्वर से कहते हैं, "हे प्रभु, मुझे यह नहीं करना चाहिए, और मैं तेरी इच्छा के अनुसार जीना चाहता हूँ, परन्तु मैंने इसे फिर से किया। मैं इसे कैसे रोक सकता हूँ, प्रभु?”
 

जब हम अपनी दुष्टता जान लेते है तब हम परमेश्वर को धन्यवाद देते है

हमें उस अनुग्रह के बारे में सोचना चाहिए जो यीशु मसीह, हमारे परमेश्वर ने हमें दिया है। हमें सोचना चाहिए कि परमेश्वर ने हमारे ह्रदय से क्या किया। केवल तभी हम जान सकते हैं कि क्या सही है, और उसके बाद ही हम प्रभु की सेवा करना शुरू कर सकते हैं। यह परमेश्वर का अनुग्रह और उस पर हमारे विश्वास के कारण है कि हम परमेश्वर को खोजते हैं, अपने आप को उसे समर्पित करते हैं और जब हम परमेश्वर को अपने ह्रदय से अनुसरण करते है और उसके साथ चलते है तब किसी भी चुनौती को दूर करते हैं जो हमें इंतजार कराती है।
जब हमें पता चलता है कि हम परमेश्वर के सामने बुरे और बेकार हैं तो हम खुद को नकारना शुरू कर देते हैं। हम महसूस करते हैं कि हमारी देह के कारण प्रभु की सेवा किए बिना पाप से बचना असंभव है और यह कि हम कुछ भी नहीं कर सकते, हालाँकि हम अपनी कमजोरियों के कारण बहुत धन्य हैं। मैं परमेश्वर को धन्यवाद देता हूँ जिसने मुझे उसकी सेवा करने का आशीष दिया। यदि परमेश्वर ने मुझे सुसमाचार की सेवा करने के लिए सेवकाई में नहीं रखा होता, तो मैं केवल पाप का एक ढेर रह जाता जो अभी भी देह में होता और उसके सामने कभी भी कुछ भी धर्मी नहीं होता। 
मैं परमेश्वर को धन्यवाद देता हूँ कि उसने मुझे उसकी सेवा करने के योग्य बनाया। इसलिए मैं इस तरह की प्रार्थना करता हूँ। "धन्यवाद प्रभु। हे प्रभु, मुझे धन की आवश्यकता है, परन्तु मेरे पास कुछ नहीं है। मैं ये सब काम आपके लिए करना चाहता हूँ, हालाँकि मेरे पास कुछ भी नहीं है। कृपया मेरि सहायता करे। मैं अपने लिए पैसा नहीं खर्च करूंगा, लेकिन परमेश्वर के लिए करूंगा। यदि मैं खुद पर पैसा खर्च करूं, तो देह आराम से रहेगा। लेकिन मैं इसे प्रभु के लिए और धर्म के काम के लिए खर्च करना चाहता हूँ। यह पैसा मेरे लिए कीमती है क्योंकि मैंने इसके लिए बहुत मेहनत की है। और क्योंकि यह मेरे लिए अनमोल है, मैं इसे आपको अर्पित करता हूँ। कृपया इसे अपने नेक कामों में खर्च करें।”
 जो व्यक्ति अपनी बुराई को जानते हैं, वे जानते हैं कि उनमें कोई भी अच्छी वस्तु वास नहीं करती। क्या इन शब्दों से मेरा तात्पर्य है की, 'उनमें कोई अच्छी वस्तु वास नहीं करती'? इसका मतलब है कि उनकी देह में केवल बुरी चीजें हैं। केवल अपने लिए जीना बुराई है।
 

हम अपने प्रभु यीशु मसीह के द्वारा परमेश्वर को धन्यवाद देते है

पौलुस ने अंगीकार किया की, “मैं कैसा अभागा मनुष्य हूँ! मुझे इस मृत्यु की देह से कौन छुड़ाएगा? हमारे प्रभु यीशु मसीह के द्वारा परमेश्‍वर का धन्यवाद हो। इसलिये मैं आप बुद्धि से तो परमेश्‍वर की व्यवस्था का, परन्तु शरीर से पाप की व्यवस्था का सेवन करता हूँ” (रोमियों ७:२४-२५)। शरीर किसका सेवन करता है? शरीर हमेशा पाप का सेवन करता है। हालाँकि, हम अपने ह्रदय से परमेश्वर की सेवा करते है। हम किसके द्वारा परमेश्वर का धन्यवाद करते है? हम हमारे प्रभु यीशु मसीह के द्वारा परमेश्वर का धन्यवाद करते है।
पौलुस ने कहा, “हमारे प्रभु यीशु मसीह के द्वारा परमेश्‍वर का धन्यवाद हो।” मैं भी ऐसा ही करता हूँ। यदि प्रभु ने मेरे सभी पापों को दूर नहीं किया होता, तो मैं उद्धार प्राप्त नहीं कर सकता था क्योंकि देह अब भी पाप का कार्य करता है।
“हमारे प्रभु यीशु मसीह के द्वारा परमेश्‍वर का धन्यवाद हो।” हम प्रभु का धन्यवाद करते हैं क्योंकि उसने सब मनुष्यों के सारे पापों को उठा लिया। हमारे पापों की माफ़ी प्राप्त करने के बाद भी हमारा देह केवल पाप का कार्य करता है। लेकिन ह्रदय परमेश्वर की सेवा करना चाहता है। हम परमेश्वर का धन्यवाद क्यों करते हैं और हृदय को धर्मी क्यों बनाया जाता है, इसका कारण यीशु मसीह है। क्या आप इस पर विश्वास करते हैं? हम परमेश्वर का धन्यवाद करते हैं और उसकी सेवा करते हैं क्योंकि उसने हमारे पापों को उठा लिया। यदि प्रभु ने हमें देह के पापों से दूर नहीं किया होता, तो हम हमेशा के लिए नष्ट हो जाते। क्या आप इस पर विश्वास करते हैं?
यदि प्रभु ने हमारे सभी पापों को दूर नहीं किया होता, तो हमें शांति कैसे मिलती, हम प्रभु का धन्यवाद कैसे करते, और हम उनकी सेवा कैसे करते? एक व्यक्ति जो पाप के अधीन है, दूसरे लोगों की सहायता कैसे कर सकता है? जेल में बंद व्यक्ति अन्य लोगों को जेल में कैसे छुड़ा सकता है? “हमारे प्रभु यीशु मसीह के द्वारा परमेश्‍वर का धन्यवाद हो।” प्रभु ने हमारे सभी पापों को शुद्ध किया ताकि हम उसकी सेवा कर सके, और उसने हमें हमारे ह्रदय में शांति दी।
 

हम पहले ही जगत के लिए मर चुके है

हम अपने प्रभु के बिना कैसे सुसमाचार का प्रचार कर सकते हैं, परमेश्वर की सेवा कर सकते हैं, उसके लिए काम कर सकते हैं और उसकी सेवकाई में योगदान कर सकते हैं? हम ये सब काम अपने प्रभु के ज़रिए करते हैं। हम आज, कल, और परसों - कभी न बदलने वाले प्रभु का अनुसरण करना जारी रखते हैं। यह सही विश्वास है। जो लोग प्रभु की सेवा करते हैं वे एक गुणी और बुद्धिमान महिला की तरह हैं जो अपने घर को अच्छी तरह से संभालती है। एक कड़ाई की तरह एक चंचल धार्मिक जीवन का अनुसरण न करें जो आसानी से ठंडा हो जाता है और उतनी ही आसानी से गरम भी हो जाता है। आपको हर समय प्रभु का अनुसरण करना चाहिए, जब तक कि वह फिर से न आ जाए। नया जन्म लेने के बाद अपने आप को दुनिया से अलग हुआ और जगत के लिए नाश हुआ समझो। मैं चाहता हूँ कि आप याद रखें कि अब आप दुनिया के व्यक्ति नहीं हैं। हम पहले ही जगत के लिए मर चुके हैं।
संसार के वंशवृक्ष से हमारा नाम हटा दिया गया है। क्या आप समझ रहे है? इसमें हमारा नाम नहीं है। 
दुनिया आपसे कह सकती है, "लंबे समय से नहीं देखा। क्या हो रहा है? मैंने सुना है कि आप कलीसिया जाते हैं। मैंने यह भी सुना है कि आपके सारे पाप माफ़ हुए है। इसलिए, आपके पास कोई पाप नहीं है, हुह?" 
“नहीं, मेरे अन्दर कोई पाप न अहि है।” 
“यह अनोखा है। मुझे लगता है की आप किसी गलत कलीसिया में जा रहे है।” 
“नहीं, इसे इस रीती से न देखे। मेरी कलीसिया में आओ। आप देखेंगे की यह कितना अच्छा है।” 
“मुझे अभी भी लगता है की यह बहुत ही विचित्र है।” 
तब हम सोचते हैं, "वे मुझे क्यों नहीं समझते? काश वे मुझे समझ पाते।" लेकिन क्या वे लोग जिनका नया जन्म नहीं हुआ है, हमें समझ सकते हैं? जो लोग यह नहीं जानते कि लोग पापरहित हो सकते हैं, वे हमें कैसे समझ सकते हैं? वे कैसे समझ सकते हैं कि यीशु ने दुनिया के सभी पापों को उठा लिया? वे नहीं समझ सकते। इसलिए यह उम्मीद न करें कि वे आपको समझेंगे। प्रभु ने हमारे लिए दुनिया को अलविदा कहा। उन्होंने क्रूस पर पीला रुमाल लहराया। उन्होंने कहा, "सम्पूर्ण हुआ!" (यूहन्ना १९:३०), इस डर से कि हम दुनिया को अलविदा नहीं कह पाएंगे क्योंकि हम आसानी से दया से प्रभावित होते हैं। उसने यह भी कहा, “मैंने संसार के कुल-वृक्ष से तेरे नाम मिटा दिए हैं।”
 

प्रभु ने हमारे पापों को लेकर हमें, जो कभी भी उनकी सेवा नहीं कर सकते थे उन्हें उनकी सेवा करने के लिए योग्य बनाया

हम, जो कभी भी प्रभु की सेवा नहीं कर सकते थे, उन्हें ऐसा योग्य बनाया गया जो यीशु मसीह के द्वारा उसकी सेवा कर सकते थे। स्वभाव से, हम वही थे जो कभी भी प्रभु की सेवा नहीं कर सकते थे। हमें उसकी कलीसिया में लाने और उसकी सेवा करने के योग्य बनाने के लिए हमें प्रभु की स्तुति करनी चाहिए। प्रभु हमारा उपयोग करता है। यह सच नहीं है कि हम उसका कार्य करते हैं। क्या आप समझ रहे है? दुसरे शब्दों में, धर्मी प्रभु, हमें अपने धर्मी कार्यों में उपयोग करता है।
सुसमाचार प्रचारक ली ने एक बार अपने उपदेश में खाद-श्रृंखला का उल्लेख किया और कहा कि वह बदबूदार खाद के ढेर के समान गंदी और घृणित थी। लेकिन यह भी एक कोमल अभिव्यक्ति है। और कुछ भी जिसकी आपने कभी कल्पना नहीं की हैं, हम अभी भी गंदे हैं। यिर्मयाह १७:९ कहता है, "मन तो सब वस्तुओं से अधिक धोखा देनेवाला होता है।" परमेश्वर ने उन लोगों को सक्षम किया जिनके हृदय सब वस्तुओं से अधिक धोखेबाज हैं, ताकि वे परमेश्वर, प्रभु और सब से अधिक सर्वोच्च की महिमा के लिए जीने पाए। उसने हमें अपना धर्मी कार्य करने के लिए चुना है।
हम प्रभु का अनुसरण कर सकते हैं और उनके अनुग्रह में रह सकते हैं क्योंकि प्रभु ने हमारे सभी पापों को धो दिया है। हम उसके साथ दु:ख उठा सकते हैं और उसके साथ महिमा पा सकते हैं। हम तो प्रभु के लिए पहले ही मर चुके है। यदि प्रभु ने हमारे सभी पापों को दूर नहीं किया होता, तो हम उद्धार से वंचित रह जाते। यदि हम देह के अनुसार जीते होते तो हम अभी भी सांसारिक लोग बने रहते।
प्रभु ने एक ही बार में अनंतकाल के लिए हमें बचाया है। उसने हमें बचाया और हमें अपनी अनंत सेवकाई का उपकरण बनाया। हम कितने बुरे और गंदे हैं! प्रभु से मिलने के बाद, हम अधिकाधिक यह जान पाते हैं कि समय के साथ हम कितने बुरे और गंदे हैं। यही कारण है कि जब हम प्रकाश को देखते हैं तो हम आनन्दित होते हैं। लेकिन जब हम अपने आप को देखते हैं, तो हम शोक में आहें भरते हैं, जैसे पौलुस ने स्वीकार किया, "मैं कितना अभागा मनुष्य हूँ! मुझे इस मृत्यु की देह से कौन छुड़ाएगा?” (रोमियों ७:२४)
परन्तु पौलुस ने तुरन्त प्रभु की स्तुति की, "हमारे प्रभु यीशु मसीह के द्वारा परमेश्वर का धन्यवाद हो!" प्रभु ने हमारे सभी पापों को धो दिया है। उसने देह के सब पापों को मिटा दिया। हमारी देह प्रतिदिन कितने पाप करती है? ऐसा ढोंग न करें जैसे कि आपकी देह पाप नहीं करती है।
 

क्या आप प्रभु का धन्यवाद करते है?

प्रभु ने उन सभी पापों को मिटा दिया जो हम देह से करते हैं। क्या आप विश्वास करते हैं? प्रभु ने जगत के पापों को उठा लिया है यह हो सकता है की आपको अधिक न लगे, लेकिन जब आपको पता चलेगा कि उसने आपकी देह के सभी पापों को ले लिया है, तो आप चिल्लाएंगे, "हमारे प्रभु यीशु मसीह के द्वारा परमेश्वर का धन्यवाद हो! धन्यवाद प्रभु! मैं आपकी स्तुति करता हूँ!"
पाप का अपना भार होता है। प्रभु ने हमारे सारे पापों को दूर कर दिया है जो हम अपने पूरे जीवनकाल में करते हैं, हमारे अंतिम दिन तक। हम कितने धन्यवादित हैं! यदि हमने थोड़ा सा भी पाप किया होता, तो हम अपनी पश्चाताप की प्रार्थनाओं के साथ प्रभु से उनकी माफ़ी के लिए प्रार्थना कर सकते हैं। लेकिन हमारे जीवन के अंत तक हमारे पाप अनगिनत और अंतहीन हैं। जब हम इसे महसूस करते हैं, तो हम परमेश्वर की स्तुति करने के अलावा और कुछ नहीं कर सकते, "धन्यवाद, प्रभु। आपने मेरे सारे पाप मिटा दिए! मैं आपकी स्तुति करता हूँ!" दुसरे शब्दोँ में, “हमारे प्रभु यीशु मसीह के द्वारा” परमेश्वर का धन्यवाद हो! क्या आप परमेश्वर का धन्यवाद करते हैं और इस तरह अंगीकार करते हैं? "धन्यवाद प्रभु। आपकी धार्मिकता की सेवा करने के लिए मुझे चुना और मुझे उद्धार दिया इसलिए मैं आपको धन्यवाद देता हूँ। मैं प्रभु का धन्यवाद करता हूँ, जिसने मुझे शरीर के सब पापों से बचाया।” क्या आप प्रभु का धन्यवाद करते हैं? पापों का सच्चा प्रायश्चित इतना आसान लगता है, लेकिन साथ ही, यह कुछ ऐसा नहीं है जिसे हल्के में लिया जाए। यह बहुत गहरा, महान, चौड़ा, कीमती और शाश्वत है।
 

हमें प्रभु का अनुसरण करना ही चाहिए क्योंकि हमारे अन्दर कुछ भी लाभदायी नहीं है

हम पाप के ढेर हैं। हमें पता होना चाहिए कि हम स्वयं अंधकार हैं। "मैं अँधेरा हूँ, लेकिन आप प्रकाश है। आप ही सच्चे प्रकाश हो, जबकि मैं पूर्ण अंधकार हूँ। आप सूरज हो। मैं चंद्र हूँ।" चंद्र सूर्य से प्रकाश प्राप्त करके ही पृथ्वी को प्रकाशित कर सकता है।
चंद्र स्वयं प्रकाश नहीं कर सकता। यह सूर्य से प्राप्त होने वाले प्रकाश को परावर्तित करके प्रकाशित करता है। सब कुछ अँधेरा है। आप प्रकाश हो या अंधकार? हम प्रभु के बिना अंधेरे में हैं। हम यीशु मसीह के कारण परमेश्वर का धन्यवाद कर सकते हैं, सेवा कर सकते हैं और उनका अनुसरण कर सकते हैं, क्योंकि उनमें कोई दोष नहीं है। दूसरी ओर, केवल हमारे देह की सेवा करना, केवल अंधकार की सेवा करना है। इसे जितनी जल्दी हो सके छोड़ दें। हम कितनी भी कोशिश कर लें, हमारी देह बदलती नहीं है। हम में कोई ख़ास बात नहीं है। हमारी देह अमर नहीं है, और इसलिए हमें अनन्त वस्तुओं के लिए जीना चाहिए। जो अनंत चीजों के लिए जीता है वह एक बुद्धिमान व्यक्ति है। हमें खुद को जल्दी जानना चाहिए और स्वयं को छोड़ देना चाहिए। हमें पता होना चाहिए कि खुद से कुछ भी उम्मीद नहीं है, और यह कि हम में कुछ भी अच्छा नहीं है। हम पाप के एक ढेर हैं जो हमेशा और केवल हमारे देह की सेवा करते हैं। देह कहती है, "जो कुछ मैं चाहता हूँ मुझे दे दो," और जोंक की तरह काम करो जो खुद को देह से चिपका कर खून चूसता है (नीतिवचन ३०:१५)। 
कुछ खाकर शौचालय जाते ही हमें भूख लगती है। हम देह से संतुष्ट नहीं हैं, चाहे हम उसकी सेवा करने के लिए कितना भी कठिन प्रयास करें। हमें कुछ ही घंटों में भूख लगती है, भले ही हमारे पास कितना भी स्वादिष्ट भोजन क्यों न हो। लेकिन यदि हम प्रभु को धन्यवाद देते हैं और उनका अनुसरण करते हैं, तो हमारा आनंद और भी बढ़ जाता है।
जब हम अपने प्रभु का अनुसरण करते हैं तो हम खालीपन महसूस नहीं करते हैं। क्या आप अपने छुटकारे के बाद हमेशा के लिए खुशी पाना चाहते हैं? तो फिर प्रभु का अनुसरण करें। क्या आप प्रकाशमय जीवन जीना चाहते हैं? तो प्रभु का अनुसरण करें। क्या आप अनुग्रह का जीवन जीना चाहते हैं? तो प्रभु का अनुसरण करें। क्या आप एक फलदायी जीवन जीना चाहते हैं? तो जानलो कि आप अंधेरे में हो और केवल प्रकाश का अनुसरण करो।
प्रभु जहां भी जाते हैं हम उसका अनुसरण करते हैं और जहां वे रुकते हैं हम वहीं रुक जाते हैं। हम वही करते हैं जो प्रभु हमसे चाहता है, और वह नहीं करते जो प्रभु हमसे नहीं चाहता। हमें उसके साथ चलना चाहिए और उसका अनुसरण करना चाहिए। क्या आपको खुद से कुछ उम्मीद है? बिलकूल नही! हमें उसका अनुसरण करना चाहिए क्योंकि हमसे कोई अपेक्षा नहीं की जा सकती है। क्या आपकी देह शाश्वत है? बिलकूल नही! तो फिर आप उस चीज़ का अनुसरण क्यों कर रहे हो जो न तो कुछ दे सकती है और न ही शाश्वत है?
बहुत समय पहले, मैं एक गाना गाता था जो इस तरह है। "मुझे मेरी जवानी वापस दो" लेकिन अब, मैं ठीक हूँ, भले ही परमेश्वर मुझे मेरी जवानी वापस न दें। दूसरे विचार पर, मुझे एहसास हुआ कि यदि मैं अपनी युवावस्था में लौट आया तो मुझे उतनी खुशी नहीं होगी। यदि हम प्रभु का अनुसरण करें, जो हमारे जीवन का प्रकाश है, तो महिमा का मुकुट हमारे लिए रखा गया है। आपको फिर से अपने बचपन में लौटने की जरूरत नहीं है। इसके बजाय हम गाते हैं, "मैं प्रभु का इनकार नहीं करूंगा, और मैं अपने शेष दिनों में हर दिन उसका अनुसरण करूंगा" यह उस सच्चे विश्वास को दर्शाता है जिसके साथ हम अपने जीवन में प्रभु को अस्वीकार नहीं करते हैं और जिसके साथ हम हमेशा परमेश्वर को धन्यवाद करते हैं। आइए इस सुसमाचार गीत को गाएं!
“मैं परमेश्वर प्रभु से प्रेम करता हूँ, जिस ने मनुष्य को भूमि की मिट्टी से रचा है; जिसने मनुष्य के नथुनों में जीवन की सांस फूंकी; और जिसने हमारे लिए अपने बेटे को भेजा। मैं उनके स्वरुप और समानता के अनुसार बनाया गया हूँ, इसलिए मैं अपना शरीर प्रभु को समर्पित करूंगा। "मैं प्रभु का इन्कार नहीं करूँगा और अपने शेष दिनों में प्रतिदिन उसका अनुसरण करूंगा।"
 

मैं प्रभु को वास्तव में धन्यवाद देता हूँ

मैं प्रभु को सच्चा धन्यवाद देता हूँ। प्रभु ने हमारे पापों को उठा लिया और हमें उसकी सेवा करने, उसका अनुसरण करने और अपना धर्मी कार्य करने में सक्षम बनाया। यदि प्रभु ने उन सभी पापों को मिटाया नहीं होता जो हम अपनी देह से करते हैं और उन सभी को दूर नहीं किया होता, तो हम उनका धर्मी कार्य कैसे कर सकते हैं? हम ०.१% भी नहीं कर सकते थे! एक पापी अभी भी दुष्ट है चाहे वह कितना भी अच्छा स्वभाव का क्यों न हो। यह कितना अद्भुत है कि प्रभु हमारे पापों को धो देगा और हमें उसकी सेवा करने में सक्षम करेगा? यह कितना अद्भुत है कि प्रभु हमारे जो जीवनभर गन्दगी में डूबे रहे, कंजूस की तरह रहते है, नरक में बंधे थे, और प्रभु के बिना व्यर्थ जीवन जीते थे उनके सभी पापों को मिटा देगा और हमें आशीष देगा?
यह कि प्रभु ने हमारे सभी पापों को दूर करके हमें उसकी सेवा करने के लिए चुना है और हमें विश्वास द्वारा हमारे छुटकारे के साथ आशीष दी है, यह दर्शाता है कि परमेश्वर का अनुग्रह कितना महान है। हम अपने हृदय में पाप के साथ धर्मी कैसे हो सकते हैं? यह तथ्य कि हमारे पास कोई पाप नहीं है, निश्चित रूप से एक असाधारण अनुग्रह है। परमेश्वर की स्तुति हो! देह निश्चित रूप से फिर से पाप करेगा। भले ही हम अभी परमेश्वर का वचन सुनते हैं, लेकिन हम जैसे ही इस कलीसिया से बहार निकालेंगे तब हम फिर से पाप करेंगे। उसके कारण, मैं, हमारे सभी पापों को धोने के लिए प्रभु की स्तुति करता हूँ। निःसंदेह हमारे प्रभु यीशु मसीह ने यरदन नदी में अपने बपतिस्मा के द्वारा हमारे सभी पापों को उठा लिया और क्रूस पर पाप के न्याय को समाप्त कर दिया! मैं विश्वास करता हूँ और परमेश्वर की स्तुति करता हूँ! तो फिर, हम परमेश्वर की स्तुति कैसे कर सकते हैं? हम यीशु मसीह के द्वारा परमेश्वर की स्तुति कर सकते हैं!
प्रिय संतों! हम परमेश्वर के अनुग्रह का बदला नहीं दे सकते, चाहे हम जीवन भर कितनी भी कोशिश कर लें। यह पर्याप्त नहीं है, भले ही हम अनंतकाल के लिए प्रभु को धन्यवाद दें, जिन्होंने हमें हमारे सभी पापों को दूर करके अपना धर्मी और फलदायी कार्य करने में सक्षम बनाया, चाहे हम कितने ही कमजोर क्यों न हों। यदि हम जीवन भर उसकी स्तुति करते हैं तो भी हम उसकी पर्याप्त स्तुति नहीं कर सकते।
हम अपने मन में गहराई से जानते हैं कि हमारे भीतर कुछ भी अच्छा नहीं रहता है। इस पर विचार करे। क्या आप जब तक जीवित रहोगे तब तक पाप करोगे? आप निश्चय पाप करोगे, परन्तु प्रभु ने आपके पापों को पहले ही दूर कर दिया है। प्रभु ने हमें परमेश्वर का काम करने की आशीष दी है। प्रभु ने हमें उसकी सेवा करने के योग्य बनाया। हम अपने परमेश्वर को धन्यवाद देते हैं। मैं चाहता हूँ कि आप प्रभु की स्तुति करें और अपने पूरे जीवन के लिए यीशु मसीह के माध्यम से उनके प्रति कृतज्ञता का जीवन जिएं। हमारे परमेश्वर ने हमें परमेश्वर के लिए एक आभारी जीवन जीने में सक्षम बनाया। परमेश्वर ने हमें उन सभी पापों से बचाया जो हम देह से करते हैं। उसने हमें हमारे सभी पापों से बचाया ताकि हम अपने ह्रदय से उसकी सेवा करें। क्योंकि हमारे प्रभु की कृपा इतनी महान है, हम उसका अनुसरण करना और उसकी सेवा करना चाहते हैं। आइए हम अपने पूरे ह्रदय से उसे धन्यवाद दें।
यीशु मसीह के द्वारा हमें दिया गया परमेश्वर का अनुग्रह कितना अद्भुत है! मैं वास्तव में चाहता हूँ कि आप जानें कि आपका शरीर कितना दुष्ट और कमजोर है, ताकि आप देखे कि आप क्या कर रहे हैं, यह सोचे कि क्या प्रभु ने वास्तव में आपके पापों को दूर किया है या नहीं, प्रभु को धन्यवाद दे सके, और विश्वास से जीवन जी सके। मैं उस प्रभु को धन्यवाद देता हूँ जिसने हमें बहुमूल्य जीवन जीने में सक्षम बनाया। “हमारे प्रभु यीशु मसीह के द्वारा परमेश्‍वर का धन्यवाद हो। इसलिये मैं आप बुद्धि से तो परमेश्‍वर की व्यवस्था का, परन्तु शरीर से पाप की व्यवस्था का सेवन करता हूँ” (रोमियों ७:२५)। हम अपने हृदय से परमेश्वर से प्रेम करते हैं, परन्तु अपनी देह से हम पाप से प्रेम करते हैं। लेकिन हमारा प्रभु प्यारा है। यह तब तक पाप नहीं होगा जब तक हम अपनी देह से अधर्म का काम नहीं करते, लेकिन प्रभु ने पहले से ही उन पापों को मिटा दिया है जो हम भविष्य में करेंगे। यही कारण है कि हमारा प्रभु प्यारा है, और उसे धन्यवाद देना चाहिए। 
धन्यवाद प्रभु। आपने हमें आपकी सेवा करने के लिए हमें ह्रदय दिया, और हमें हमारे देह के सभी पापों से पूरी तरह से बचाया, जो हमारे पूरे जीवन में किए गए थे इसलिए मैं आपकी स्तुति करता हूँ।