उपदेश

विषय ९ : रोमियों (रोमियों की पत्री किताब पर टिप्पणी)

[अध्याय 8-6] ( रोमियों ८:१६-२७ ) वे जो परमेश्वर के राज्य के वारिस है

( रोमियों ८:१६-२७ )
“आत्मा आप ही हमारी आत्मा के साथ गवाही देता है, कि हम परमेश्‍वर की सन्तान हैं; और यदि सन्तान हैं तो वारिस भी, वरन् परमेश्‍वर के वारिस और मसीह के संगी वारिस हैं, कि जब हम उसके साथ दु:ख उठाएँ तो उसके साथ महिमा भी पाएँ। क्योंकि मैं समझता हूँ कि इस समय के दु:ख और क्लेश उस महिमा के सामने, जो हम पर प्रगट होनेवाली है, कुछ भी नहीं हैं। क्योंकि सृष्‍टि बड़ी आशाभरी दृष्‍टि से परमेश्‍वर के पुत्रों के प्रगट होने की बाट जोह रही है। क्योंकि सृष्‍टि अपनी इच्छा से नहीं पर अधीन करनेवाले की ओर से, व्यर्थता के अधीन इस आशा से की गई कि सृष्‍टि भी आप ही विनाश के दासत्व से छुटकारा पाकर, परमेश्‍वर की सन्तानों की महिमा की स्वतंत्रता प्राप्‍त करेगी। क्योंकि हम जानते हैं कि सारी सृष्‍टि अब तक मिलकर कराहती और पीड़ाओं में पड़ी तड़पती है; और केवल वही नहीं पर हम भी जिनके पास आत्मा का पहला फल है, आप ही अपने में कराहते हैं; और लेपालक होने की, अर्थात् अपनी देह के छुटकारे की बाट जोहते हैं। इस आशा के द्वारा हमारा उद्धार हुआ है; परन्तु जिस वस्तु की आशा की जाती है, जब वह देखने में आए तो फिर आशा कहाँ रही? क्योंकि जिस वस्तु को कोई देख रहा है उसकी आशा क्या करेगा? परन्तु जिस वस्तु को हम नहीं देखते, यदि उसकी आशा रखते हैं, तो धीरज से उसकी बाट जोहते भी हैं। इसी रीति से आत्मा भी हमारी दुर्बलता में सहायता करता है : क्योंकि हम नहीं जानते कि प्रार्थना किस रीति से करना चाहिए, परन्तु आत्मा आप ही ऐसी आहें भर भरकर, जो बयान से बाहर हैं, हमारे लिये विनती करता है; और मनों का जाँचनेवाला जानता है कि आत्मा की मनसा क्या है? क्योंकि वह पवित्र लोगों के लिये परमेश्‍वर की इच्छा के अनुसार विनती करता है।”
 

वे सभी लोग जिन्हें उनके पापों के लिए माफ़ किया गया है, वे पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं और उनके हृदयों में पवित्र आत्मा है। यह १ यूहन्ना ५:१० में कहता है, "जो परमेश्वर के पुत्र पर विश्वास करता है वह अपने ही में गवाही रखता है।" जिसके हृदय में परमेश्वर की धार्मिकता है, उसमें पवित्र आत्मा वास करता है, और यह पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास है जो पवित्र आत्मा के लिए उनके हृदय में सदा के लिए वास करना संभव बनाता है।
पानी और आत्मा के सुसमाचार में हमारे विश्वास के द्वारा हमारे पापों की माफ़ी प्राप्त करके हम परमेश्वर की सन्तान बने है। पवित्र आत्मा हमारे हृदयों में वास कर चुका है और यह कहते हुए हमारा गवाह बना है, "तुम परमेश्वर की सन्तान और उसकी प्रजा हो।" दूसरी और, उनके लिए जिनके हृदय में पवित्र आत्मा नहीं है, व्यवस्था गवाही देती है, "तू परमेश्वर की सन्तान नहीं, परन्तु पापी है।"
जो लोग पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं, उनके लिए पवित्र आत्मा गवाही देता है, "तुम परमेश्वर की सन्तान हो। तुम परमेश्वर के पापरहित लोग हो।" परमेश्वर ने इसे पर्याप्त रूप से स्पष्ट किया ताकि हम जान सकें कि, परमेश्वर की सन्तान बनने के लिए, हमें पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करना चाहिए। 
आप पूछ सकते हैं, "मुझे कुछ महसूस नहीं होता, तो क्या इसका मतलब यह है कि मैं परमेश्वर की सन्तान नहीं हूँ?" कुछ लोग अपने विश्वास में इतने छोटे होते हैं और शायद यह नहीं जानते कि उनके ह्रदय में पवित्र आत्मा है। लेकिन पवित्र आत्मा हमें इस बात की पुष्टि करता है कि भले ही हम अपने संदेह में हैं, आत्मा हमें यह कहकर उत्साहित करती है, "अरे! तुम परमेश्वर की सन्तान हो! क्या तुम पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास नहीं करते? क्योंकि तुम विश्वास करते हो, तुम परमेश्वर की प्रजा हो।" यहाँ तक कि जब हमें संदेह होता है तब भी, इसलिए, यदि हम पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं, तो हम परमेश्वर की सन्तान हैं। पवित्र आत्मा गवाह है कि हम परमेश्वर की सन्तान हैं। पवित्र आत्मा कोई ऐसी चीज नहीं है जो हमारी भावनाओं और इंद्रियों के माध्यम से हमारे ह्रिदय में बसती है। जो लोग पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं, उनके मन में कोई पाप नहीं है, और क्योंकि उनमें कोई पाप नहीं है, पवित्र आत्मा उनमें निवास करता है। वे निश्चित रूप से परमेश्वर की सन्तान हैं।
पवित्र आत्मा हमें हमारे ह्रदय में बताता है, "आप यीशु के बपतिस्मा, उसके क्रूस में विश्वास करते हैं, और आपको माफ़ कर दिया गया है; इसलिए आप में कोई पाप नहीं, और आप परमेश्वर की सन्तान हो।”
हालाँकि, उसका प्रमाण मनुष्य की तरह वाणी में नहीं आता। इसलिए, एक धमाकेदार आवाज सुनने की उम्मीद न करें! यदि आप एक आवाज सुनना चाहते हैं, तो शैतान अपनी आवाज को एक इंसान के रूप में छिपा सकता है और आपको लुभाने की कोशिश कर सकता है। शैतान लोगों के विचारों में झांक कर कार्य करता है जबकि पवित्र आत्मा परमेश्वर के वचन के अनुसार कार्य करता है। 
 

जिनके पास परमेश्वर की धार्मिकता है वे परमेश्वर की सन्तान और वारिस है

आइए हम एकसाथ मिलकर वचन १७ पढ़ें। “और यदि सन्तान हैं तो वारिस भी, वरन् परमेश्‍वर के वारिस और मसीह के संगी वारिस हैं, कि जब हम उसके साथ दु:ख उठाएँ तो उसके साथ महिमा भी पाएँ।”
यदि हम परमेश्वर की सन्तान हैं, तो हम भी उसके वारिस हैं। वारिस वह होता है जो अपने माता-पिता से सब कुछ प्राप्त करता है। दूसरे शब्दों में, हमें वह सब कुछ साझा करने का अधिकार है जो परमेश्वर पिता के पास है। यदि पूछा जाए, "परमेश्वर पिता का वारिस कौन है?" हम उत्तर दे सकते हैं, "जो लोग पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं और जिनके पाप क्षमा किए गए हैं, वे उसके वारिस हैं।" 
इस तरह के विश्वास वाले लोग धन्य हैं और मसीह के साथ उसके राज्य में परमेश्वर की महिमा को प्राप्त करेंगे। यहाँ यह कहा गया है कि चूँकि हम मसीह के साथ संयुक्त वारिस हैं इसलिए एक साथ महिमा पाने के लिए, हमें भी उसके साथ दुख उठाना होगा। मसीह के साथ संयुक्त वारिस होने का अर्थ है हमारे पिता के राज्य में अनंत काल तक रहना। यदि आप पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं, तो आप मसीह के साथ संयुक्त वारिस हैं। हम वारिस हैं क्योंकि हमें वह सब कुछ मिलेगा जो हमारे पिता के पास है। 
समय-समय पर, मैं महसूस कर सकता हूँ कि परमेश्वर का राज्य हमारे निकट आ रहा है। सब कुछ अपने अच्छे समय में होता है। बाइबल में परमेश्वर के वादे भी एक-एक करके पूरे हो रहे हैं। अब जो कुछ बचा है वह इस्त्राएलियों के लिये है, कि वे मन फिराएं, यीशु को अपने उद्धारकर्ता के रूप में अंगीकार करें, और कुछ अन्य बातों के साथ अपने पापों से छुटकारा पाएं। सात साल के क्लेश के दौरान इज़राइल को यीशु को अपने उद्धारकर्ता के रूप में प्राप्त करना चाहिए था। 
पृथ्वी और स्वर्ग में परमेश्वर के राज्य की समझ इस्राएलियों के पश्चाताप के साथ जुड़ी हुई है। मुझे विश्वास है कि अंत का दिन जल्द ही आएगा। मेरा विश्वास है कि वह दिन निकट है जब वे जो पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं, वे अनन्तकाल तक परमेश्वर के साथ निवास करेंगे। पूरी दुनिया ने वर्ष २००० का इंतजार किया और सोचा कि यह वो दिन होगा, लेकिन वर्ष २००० पहले ही बीत चुका था। मिलेनियम बग के बारे में उग्र चिंताएं बीत चुकी हैं, और हम पहले से ही वर्ष २००२ के आधे रास्ते में हैं, जब की वास्तव में, दुनिया के कई लोगों ने सोचा था कि पृथ्वी पर सभी परिवर्तन वर्ष २००० में होंगे। 
फिर भी, हमारा लंबे समय से प्रतीक्षित मसीह का राज्य अभी भी हम में से प्रत्येक के पास आ रहा है। पवित्र आत्मा हममें से उन लोगों की भी अगुवाई करता है जिन्हें परमेश्वर के राज्य के निकट आने का अहसास कराने के लिए पापों को माफ़ किया गया था। अब, पहले की तरह, जैसा परमेश्वर ने कहा था, सब कुछ पूरा होगा। आइए हम विश्वास के साथ उस दिन की प्रतीक्षा करें। 
भविष्य में, इज़राइल विश्व शांति के लिए एक बाधा और अवरोध बन जाएगा, और इसके लिए, यह कई राष्ट्रों की शत्रुता को जन्म देगा। यह वही है जो बाइबल हमें बताती है - कि इस्राएल बहुतों का शत्रु बन जाएगा और तब कुछ इस्राएलियों को यह एहसास होगा कि जिस मसीहा का उन्होंने इतने लंबे समय से इंतजार किया है, वह वास्तव में यीशु था। पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करने के द्वारा उनके पाप माफ़ किए जाएंगे। परमेश्वर ने जो योजना बनाई है वह पूरी होने वाली है। हालाँकि, ये सभी चीजें नियत समय पर होंगी, इसलिए हमें किसी निश्चित तारीख और समय तक उनके घटित होने की प्रतीक्षा नहीं करनी चाहिए, जैसा कि कुछ गुमराह युगांत-विज्ञानी भविष्यवाणी करते हैं। जो लोग पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं, वे परमेश्वर की भविष्यवाणियों को सच होते हुए देखेंगे। विश्वासियों को आशा है कि पृथ्वी पर परमेश्वर का वादा किया हुआ राज्य और स्वर्ग का राज्य आ रहा है। मेरा मानना है कि ऐसा दिन हमारे करीब है। 
जल्द ही वह समय आएगा जब यहोवा ने जिन बातों का वादा किया था वे एक-एक करके पूरी होंगी। मुझे विश्वास है कि वह दिन जब हज़ार साल का राज्य और परमेश्वर का राज्य जिसका वादा परमेश्वर ने किया था, साकार होगा, और हमारे बहुत निकट है। क्या आप भी पवित्र आत्मा से प्रेरित होकर ऐसा ही सोचते है, जैसा मैं सोचता हूँ? क्या आप विश्वास करते हैं कि परमेश्वर की हर भविष्यवाणी पवित्र आत्मा के द्वारा पूरी होगी? पवित्र आत्मा हमें सच्चे ह्रदय से परमेश्वर के वादों पर विश्वास करने में मदद करता है। 
पवित्र आत्मा के माध्यम से, हम अपने ह्रदय में सुनिश्चित हैं कि अंत के दिनों में परमेश्वर के वायदे जल्द ही सच होंगे। हम पवित्र आत्मा के माध्यम से विश्वास करते हैं कि जो कुछ हमारे मन में गुजरता है और हमारी आशाएं परमेश्वर की सभी भविष्यवाणियों के साथ पूरी होंगी। यही सच्चा विश्वास है।
 आप और मैं परमेश्वर की प्रतिज्ञा की हुई सभी आशीषों के वारिस हैं; इसलिए, हमें पवित्र आत्मा के भीतर प्रतीक्षा करने की आवश्यकता है। जल्द ही परमेश्वर का राज्य हमारे पास आएगा। इस्राएली शीघ्र ही विश्वास करेंगे और यीशु मसीह को अपने मसीहा के रूप में स्वीकार करेंगे। 
बहुत से लोग अभी उसकी प्रतीक्षा कर रहे हैं, कह रहे हैं, "कृपया प्रभु यीशु आओ।" पौलुस ने कहा कि चूँकि वह परमेश्वर का वारिस था, इसलिए जिस कष्ट से वह गुज़रा, उसकी तुलना उस महिमा से नहीं की जा सकती जो उसे जल्द ही मिलेगी। इसका अर्थ था कि मसीह के साथ महिमा प्राप्त करने के लिए, हमें उसके साथ भी दुख उठाना होगा। ऐसा इसलिए है क्योंकि हम विश्वास करते हैं और परमेश्वर के राज्य के आने की प्रतीक्षा करते हैं। मसीह के साथ महिमा प्राप्त करने के लिए, हमें भी उसके साथ दुख उठाना होगा।
पौलुस की आशा थी कि सारी सृष्टि, जिसमें सभी जानवर और पौधे शामिल हैं, उनकी मृत्यु से मुक्त हो जाएं। इसलिए सारी सृष्टि परमेश्वर के पुत्रों के आने का बेसब्री से इंतजार कर रही है। परमेश्वर के पुत्रों के लिए यह आशा है कि वह दिन आएगा जब सभी प्राणी अनंत काल तक जीवित रह सकेंगे। 
इसलिए, हमें यह समझना चाहिए कि हम विश्वासियों को अनन्त जीवन की आशीष मिली है। चाहे हम अपने जीवन में हमारे परमेश्वर के आने का दिन देखें, या हमारे परमेश्वर हमें लेजाने के लिए नींद से उठाए, हमें उनकी प्रतीक्षा करनी होगी।
 

परमेश्वर की महिमा जो हमारे अन्दर प्रगट हुई है, क्या वास्तव में महान है?

वह महिमा जो शीघ्र ही धर्मियों पर प्रगट की जाएगी, वह एक अनन्त महिमा है—अनन्त राज्य को विरासत में प्राप्त करना और परमेश्वर की महिमा में सर्वदा जीवित रहना। फिर न मृत्यु होगी, न शोक होगा, न रोना होगा। राज्य में और दर्द नहीं होगा, और राज्य को सूर्य या चंद्रमा के चमकने की कोई आवश्यकता नहीं है, क्योंकि परमेश्वर की महिमा इसे प्रकाशित करती है। मेमना इसका प्रकाश है। यह एक ऐसा स्थान है जहाँ केवल यीशु और नया जन्म पाए हुए, पापरहित विश्वासी पाए जाते हैं, और यह परमेश्वर की महिमा से भरा हुआ है। राज्य सुनहरी किरणों से भरा है। जिस राज्य में हम हमेशा के लिए रहेंगे, उसकी महिमा इतनी महान है कि शब्दों में उसका वर्णन नहीं किया जा सकता। क्योंकि जिस महिमा की हम आशा कर रहे हैं वह इतनी महान है, पौलुस हमें बताता है कि हमारे वर्तमान कष्ट उस महिमा के मुकाबले कुछ भी नहीं हैं जो हम पर प्रकट की जाएगी। 
जब हम इस संसार में परमेश्वर के लिए कार्य करते हैं तो कभी-कभी हम प्रकृति में परमेश्वर की महिमा देख सकते हैं। जब हम बहुरंगी फूलों को देखते हैं, बिछी हुई घास, चमकते पत्तों में दिखाई देने वाली प्रकृति, गर्म पानी के झरने का वातावरण, जंगलों की ताजगी, साफ हवाएं, ठंडी रातों में चमकते सितारे; जब हम चार मौसमों के बारे में सोचते हैं, तो हम स्वर्ग के बारे में सोचने के अलावा ओर कुछ नहीं कर सकते। परमेश्वर की सृष्टि के इन चमत्कारों को देखकर, हम आशा करते हैं कि परमेश्वर का राज्य और भी जल्दी आएगा। 
जब परमेश्वर का राज्य आएगा, तब मृत्यु न होगी, और हम महिमा से जीएंगे। कोई कमी नहीं होगी इसलिए हम बहुतायत और समृद्धि में रहेंगे। बस यह विचार कि मैं एक ऐसी जगह पर महिमा के साथ रहूँगा जहाँ सब कुछ परिपूर्ण और तैयार है, मेरे हृदय को परमेश्वर की महिमा से भर देता है। यह तथ्य कि वे सभी चीजें हमारी यानी की विश्वासियों की हो जाएंगी एक सपने की तरह है, और यह हमें एक बार फिर से धन्यवादित करता है की हमने नया जन्म प्राप्त किया है। मैं प्रभु का धन्यवाद करता हूँ जिसने मेरे हृदय को इस आशा से पूरी तरह भर दिया है। 
अभी, हम केवल अपनी कल्पनाओं के माध्यम से स्वर्ग की आशा कर सकते हैं, लेकिन हम जानते हैं कि भविष्य में, परमेश्वर के सभी वादे सच होंगे। इस प्रकार हमारी आशा और अधिक तीव्र होती जाती है, और जैसे-जैसे दिन बीतते हैं, परमेश्वर की निकट की महिमा की हमारी भावना और भी मजबूत होती जाती है। 
यही कारण है कि विश्वासियों को भविष्य की आशा है। परमेश्वर में विश्वास और भविष्य की आशा उन लोगों की महिमा और विश्वास है जो परमेश्वर के राज्य के वारिस होंगे। तो क्या यह महिमामय विश्वास केवल उन्हीं को दिया जाता है जो पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं? जवाब है हाँ! परमेश्वर की महिमा धर्मी लोगों को जो पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करते है उन्हें दिए जाने से पहले केवल समय बीतने की जरूरत है। नियत समय में, परमेश्वर की महिमा के उसके सभी वादे हमारे लिए सच होंगे। ये सभी महिमामयी बातें विश्वासियों के साथ सचमुच घटित होंगी। वह महिमा जो हमारी प्रतीक्षा कर रही है वह अत्यधिक शानदार और सुंदर है। 
आप और मैं, जो पानी और आत्मा के सुसमाचार में समान विश्वास रखते हैं, वे लोग हैं जो परमेश्वर के महिमा के राज्य में प्रवेश करेंगे। भ्रमित और दुष्ट दुनिया कभी-कभी हमारे हृदयों को अंधकारमय कर सकती है, और हम निराश और विचलित हो सकते हैं। लेकिन जिनका नया जन्म हुआ है, वे यह विश्वास करके इन कठिनाइयों को दूर कर सकते हैं कि वे परमेश्वर के वारिस बन गए हैं। भले ही पापरहित विश्वासियों के ह्रदय में सभी प्रकार की परेशानियाँ हों, फिर भी वे परमेश्वर के वादों को याद दिलाने के द्वारा सामर्थ प्राप्त करने और जीवित रहने में सक्षम होंगे। मैं आभारी हूँ कि पवित्र आत्मा हमारे हृदयों में रहता है, हमें आराम देता है, और हमारी आत्माओं को गवाही देता है कि हम परमेश्वर की सन्तान हैं।
जिन्हें हाल ही में उनके पापों से छुटकारा मिला है, उन्हें भी स्वर्ग की महिमा की ओर देखना चाहिए और आशा में जीवन जीना चाहिए। हम समान रूप से परमेश्वर के लोग बने है। यदि आपने लंबे समय तक कलीसिया में विश्वास का जीवन जिया है, तो आप अपनी आत्मा के अंदर पवित्र आत्मा को अपने महिमावंत विरासत के धन में आनन्दित होते हुए देख सकते हैं।
 

यहाँ तक की धर्मी जन का ह्रदय भी इस पृथ्वी पर कराहता है

आइए हम वचन २३ को एक साथ पढ़ें। “और केवल वही नहीं पर हम भी जिनके पास आत्मा का पहला फल है, आप ही अपने में कराहते हैं; और लेपालक होने की, अर्थात् अपनी देह के छुटकारे की बाट जोहते हैं।” आइए हम खुद से पूछें, "हम जीवन में क्या उम्मीद करते हैं?" हम, विश्वासी, अपने शरीर के छुटकारे की आशा में जीते हैं। जब हम कहते हैं कि हम परमेश्वर की सन्तान हैं, तो इसका मतलब है कि केवल हमारी आत्माएं ही परमेश्वर की सन्तान हैं। हमारे शरीरों को अभी तक महिमा नहीं मिली है, इसलिए सभी विश्वासियों को उम्मीद है कि उनके शरीर भी बदल जाएंगे। 
जब विश्वासियों के शरीर परमेश्वर की महिमा धारण करते हैं, तो वे आग से गुजरेंगे लेकिन जलेंगे नहीं, और वे किसी भी प्रकार की बाधाओं या समस्याओं से गुजरने में सक्षम होंगे। हमारे बदले हुए शरीर समय और स्थान की सीमाओं से मुक्त होंगे। 
लेकिन हमारे शरीर अभी तक नहीं बदले हैं, इसलिए हम जिनके पास आत्मा का पहला फल है, वे अंदर ही अंदर कराहते हैं। इसलिए, धर्मी लोग जिन्होंने पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करके नया जन्म प्राप्त किया है वे शरीर के छुटकारे की प्रतीक्षा करते हैं। 
कराहने के लिए! लिखा गया है कि हम भी जिन्होंने आत्मा का पहला फल प्राप्त किया हैं वे भी कराहते हैं। क्या आपने महसूस किया है कि पवित्र आत्मा आपके भीतर कराह रहा है? वह कब कराह उठा? जब हम शारीरिक इच्छाओं का अनुसरण करने की कोशिश करते हैं तो पवित्र आत्मा कराहता है।
जब हम दुनिया को देखते हैं और जो देखते हैं उससे प्रेम करते हैं, तो पवित्र आत्मा हम में कराहता है। हमारे शरीर नहीं बदले हैं, इसलिए वे आनंद लेते हैं और सांसारिक चीजों का अनुसरण करने की कोशिश करते हैं, लेकिन क्योंकि हमारी आत्माएं पहले ही बदल चुकी हैं, हमारे अंदर का पवित्र आत्मा कराहता है। इस प्रकार हमें अपने ह्रदय को वापस मोड़ना चाहिए जो सांसारिक सुखों का अनुसरण करने का प्रयास करता हैं और पवित्र आत्मा का मार्गदर्शन प्राप्त करना चाहिए। 
पवित्र आत्मा हमारे भीतर जो परमेश्वर के वारिस है उनके अन्दर कराहता है, क्योंकि पवित्र आत्मा हमारे भीतर है। इस दुनिया में रहकर हम देख सकते हैं कि भविष्य कितना अंधकारमय है और हमारा शरीर कितना कमजोर है। इस तरह के समय के दौरान, हमें परमेश्वर की और देखना चाहिए और वारिस की आशीष की प्रतीक्षा करनी चाहिए क्योंकि हम जानते हैं कि उनके शरीरों को भी छुड़ाया जाएगा। विश्वासी उस दिन की प्रतीक्षा करते हैं जब उनके पास सम्पूर्ण शरीर होंगे जो पूरी तरह से छुटकारा पा चुके हैं।
    

महिमावंत आशा के साथ जीवन जीना

आइए हम एक आवाज में वचन २४ और २५ पढ़े। “इस आशा के द्वारा हमारा उद्धार हुआ है; परन्तु जिस वस्तु की आशा की जाती है, जब वह देखने में आए तो फिर आशा कहाँ रही? क्योंकि जिस वस्तु को कोई देख रहा है उसकी आशा क्या करेगा? परन्तु जिस वस्तु को हम नहीं देखते, यदि उसकी आशा रखते हैं, तो धीरज से उसकी बाट जोहते भी हैं।” 
"क्या हमें परमेश्वर के राज्य की आशा में अपने सभी पापों की माफ़ी प्राप्त हुई है?" आइए हम यह प्रश्न पूछें। हमने कहा कि पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करने के द्वारा हमें अपने पापों की माफ़ी प्राप्त हुई है। इसलिए परमेश्वर कहता है, “परन्तु जिस वस्तु को हम नहीं देखते, यदि उसकी आशा रखते हैं, तो धीरज से उसकी बाट जोहते भी हैं।”
स्वर्ग जाने और हमारे पापों से मुक्त होने के लिए, हमें पानी और आत्मा के वचन पर विश्वास करने के द्वारा उद्धार प्राप्त करना चाहिए। अपने सभी पापों से बच जाने के बाद, यदि हम संसार की ओर अपनी आंखें फेरते हैं और जो देखा जा सकता है उसकी आशा करते हैं, तो इसका अर्थ है कि हम न तो परमेश्वर की महिमा को जानते हैं और न ही उसकी प्रतीक्षा कर रहे हैं। यदि हम जो देखते हैं उसकी आशा करते हैं, तो वह आशा नहीं हो सकती। इसलिए पौलुस ने पूछा, "जिस वास्तु को कोई देख रहा है उसकी आशा क्या करेगा?" हम जो अब धर्मी हो गए हैं, जो कुछ पृथ्वी पर है उसकी आशा न करें, परन्तु हमें परमेश्वर की प्रतिज्ञा के अनुसार नए आकाश और नई पृथ्वी की खोज करनी चाहिए, जिसमें परमेश्वर की धार्मिकता निवास करती है (२ पतरस ३:१३)। 
इस प्रकार के विश्वास की आशा धर्मी जन करता है। धर्मी लोग नए स्वर्ग और पृथ्वी की आशा में जीते हैं। हम अपनी शारीरिक आँखों से जो देख सकते हैं वह वो नहीं है जिसकी हम वास्तव में आशा करते हैं। हम अपनी मानवीय आँखों से नहीं देख सकते, इसलिए हम अपनी आत्मिक आँखों से परमेश्वर के वायदा किए हुए महिमा के राज्य की प्रतीक्षा करते हैं। इसलिए जो वास्तव में धर्मी हैं, वे स्वर्ग के राज्य में अपनी आशा रखते हैं। आशा यह विश्वास करना है कि जो परमेश्वर ने हमें जो बताया है वह वास्तव में सच होगा।
परमेश्वर ने कहा, "और अब विश्वास, आशा, प्रेम, ये तीनों स्थायी है" (१ कुरिन्थियों १३:१३)। हमने स्वर्ग के राज्य के लिए अपने विश्वास और आशा के माध्यम से अपने पापों की माफ़ी प्राप्त की है। परमेश्वर का राज्य पृथ्वी पर आएगा और स्वर्ग में उपस्थित होगा, और हम आशा करते हैं कि हम उसके राज्य में अनन्तकाल तक जीवित रहेंगे। यही कारण है कि हम परमेश्वर के वचन में विश्वास करते हैं और अपने वर्तमान कष्टों को सहन करते हैं। 
यहाँ लिखा है, “परन्तु जिस वस्तु को हम नहीं देखते, यदि उसकी आशा रखते हैं, तो धीरज से उसकी बाट जोहते भी हैं।” हम जिस चीज की धीरज से बात जोहते है वह ऐसी चीज नहीं है जिसे हम अपनी आंखों से देख सकते हैं। हम परमेश्वर के उन वादों की प्रतीक्षा करते हैं जिन्हें हम शारीरिक रूप से नहीं देख सकते हैं। परमेश्वर के वादे हम विश्वासियों के लिए सच होंगे क्योंकि हमें बताया गया था कि परमेश्वर की महिमा जल्द ही प्रकट होगी, और हम इस वादे में विश्वास करते हैं। चूंकि हम विश्वास करते हैं कि हमारा प्रभु फिर से इस पृथ्वी पर आ रहा हैं, हम अपने वर्तमान कष्टों को सहन कर सकते हैं। 
परमेश्वर का राज्य, बिना किसी संदेह के, इस पृथ्वी पर आएगा। जब सभी राष्ट्रों में सुसमाचार फैलाया जाएगा, तो निश्चित रूप से परमेश्वर का राज्य आएगा। धर्मी धैर्य से उस दिन की प्रतीक्षा करते हैं। हमारा प्रभु तब आएगा जब हम प्रतीक्षा कर रहे होंगे। यह आपके और मेरे लिए सच है जो इस युग में जी रहे हैं।
एक यूक्रेनी महिला सहकर्मी है जो हमारी पुस्तकों का यूक्रेनी में अनुवाद करती है। उसने हाल ही में वर्ल्ड ट्रेड सेंटर की इमारतों को आतंकवादी हमले से गिरते हुए देखा और कहा कि वह भ्रमित और डरी हुई है। उसने पूछा कि क्या यह प्रकाशितवाक्य में "पीले घोड़े के युग" की घोषणा कर रहा है और उसने पवित्रशास्त्र के इस भाग से संबंधित किसी भी पुस्तक को माँगा।
हम निश्चित रूप से यह नहीं कह सकते कि यह घटना पीले घोड़े के युग का चिह्न है, लेकिन हम इस बात से इनकार नहीं कर सकते कि यह संबंधित हो भी सकता है। यदि ऐसी बातें बार-बार होती हैं, तो युद्ध होंगे, और राष्ट्र आपस में लड़ेंगे। जब युद्ध होगा, तो दुनिया अकाल से पीड़ित होगी और 'पीले घोड़े का युग' अचानक सच हो सकता है। 
इसलिए, जब मैं इन घटनाओं को देखता हूँ जो दुनिया के विनाश की भविष्यवाणी करती हैं, तो मैं अपनी इच्छा को दोहराता हूँ कि हम दुनिया के छोर तक सुसमाचार का प्रसार करें। यह सच है कि हम इस दुनिया के लिए उम्मीद खो रहे हैं और जब दुःख हम पर आता है तो हमारा ह्रदय कराह उठता है। फिर भी, जब तक हम जीवित हैं, हमें परमेश्वर के राज्य की प्रतीक्षा करनी होगी, जिसे हम अपनी भौतिक आँखों से नहीं देख सकते, केवल अपनी आत्मिक आँखों से देख सकते हैं।
क्योंकि हम पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं, हम स्वर्ग के राज्य की आशा करते हैं और धीरज के साथ उसकी प्रतीक्षा करते हैं। क्योंकि हम विश्वास करते हैं कि परमेश्वर का राज्य हमारे करीब आ रहा है इसलिए हम अपनी सारी मुश्किलें सह सकते हैं। यह इसलिए संभव है क्योंकि पवित्र आत्मा हमारे हृदयों में वास करता है।
क्या आप पीड़ित हैं? अच्छी तरह से सहन करें और धैर्य रखें। यह केवल आप ही नहीं हैं जो पीड़ित हैं बल्कि हम सब भी हैं। हमारी यह आशा होगी की जब यह खत्म हो जाएगा, तो सब कुछ ठीक हो जाएगा। क्या आप नहीं जानते हैं कि जब आप शारीरिक रूप से कठिनाइयों का सामना नहीं कर रहे हैं तो आप आत्मिक रूप से आशा को प्राप्त नहीं कर सकते हैं? जब शरीर बहुत आरामदायक होता है, तो हम परमेश्वर की तलाश नहीं करते और उनसे आशीष नहीं मांगते है। इस प्रकार हम परमेश्वर से दूर हो जाते हैं। हम जिन्होंने नया जन्म प्राप्त किया है, उन्हें आने वाली महिमा की आशा रखनी चाहिए और अपनी वर्तमान कठिनाइयों को सहना चाहिए।
परमेश्वर ने कहा कि जो लोग परमेश्वर के लिए धीरज से कष्ट सहते हैं, वे धन्य हैं। वह दिन जब परमेश्वर का राज्य पृथ्वी पर आएगा वह नजदीक है, और हम उसके राज्य में प्रवेश करेंगे। हमें सहन करना है, धैर्य रखना है, और उस दिन के लिए आशा नहीं खोनी है। हमें सहना चाहिए और उस दिन का इंतजार करना चाहिए। इस समय चाहे वह कितना भी दुखद और कठिन क्यों न हो, हमें तब तक प्रतीक्षा करनी चाहिए और धीरज धरनी चाहिए जब तक कि परमेश्वर का राज्य एक नए स्वर्ग और पृथ्वी के रूप में नहीं आ जाता।
    
 
पवित्र आत्मा उन लोगों की मदद करता है जिनके पास परमेश्वर की धार्मिकता है

आइए हम वचन २६ पढ़े। “इसी रीति से आत्मा भी हमारी दुर्बलता में सहायता करता है : क्योंकि हम नहीं जानते कि प्रार्थना किस रीति से करना चाहिए, परन्तु आत्मा आप ही ऐसी आहें भर भरकर, जो बयान से बाहर हैं, हमारे लिये विनती करता है।”
क्या पवित्र आत्मा हमारे लिए प्रार्थना करता है? हाँ, वह करता है! पवित्र आत्मा हमारी कमजोरियों को जानता है और हमारे लिए प्रार्थना करता है।
मैंने पवित्र आत्मा के कराहने के बारे में थोड़ी बात की। उस पर फिर से बात करे तो, पवित्र आत्मा तब कराहता है जब हम उस दिशा की ओर बढ़ते हैं जिस दिशा में परमेश्वर नहीं चाहता कि हम जाएं। जब हम संसार की परिस्थितियों को देखते हैं और उसके साथ कराहते हैं, जब हम उस दिशा में जाते हैं जिस दिशा में हमारा पिता परमेश्वर नहीं चाहता कि हम जाएं, या जब हम अपने पिता की इच्छा की अवहेलना करते हैं और उसकी इच्छा के प्रति उदासीन रहते हैं, तब पवित्र आत्मा कराहता है।
जब नया जन्म पाए हुए विश्वासी के अंदर निवास करनेवाला पवित्र आत्मा कराहता है जिसके बारे में अभिव्यक्ति नहीं की जा सकती, तब हम अपने ह्रदय में सामर्थ खो देते हैं और कमजोर हो जाते हैं। वह तब होता है जब पवित्र आत्मा हमसे प्रार्थना करवाता है। पवित्र आत्मा कभी-कभी हमारे लिए विनती करता है या हमें इस तथ्य से अवगत कराता है कि हमें प्रार्थना करने की आवश्यकता है।
पवित्र आत्मा हमारे ह्रदय में कराहता है और हमें अपने पिता के सामने उसकी इच्छा के अनुसार प्रार्थना करवाता है। "प्रभु परमेश्वर, आपने अपने बपतिस्मा और क्रूस पर अपने लहू के माध्यम से हमारे पापों को मिटा दिया है, और इसके द्वारा, हम आपकी संतान बन गए हैं। हम आशा करते हैं कि आपका दूसरा आगमन जल्द ही पृथ्वी पर सच होगा। हम प्रार्थना करते हैं कि आपकी इच्छा पूरी हो।" हम इस तरह से प्रार्थना करते हैं। 
हम आत्मिक विश्वास माँगते हैं। "परमेश्वर, हम गरीब हैं और आपकी दृष्टि में बेकार हैं, इसलिए कृपया हमें वह विश्वास दें जो आपकी इच्छा को पूरा करने के लिए आवश्यक है।" तब परमेश्वर हमारी सहायता करता है क्योंकि वह हमारी कमजोरियों को जानता है। पवित्र आत्मा हमें अकेला नहीं छोड़ता है लेकिन हमें परमेश्वर की इच्छा के अनुसार प्रार्थना करवाता है और हमारे लिए भी प्रार्थना करता है, हमारे ह्रदय को मजबूत करता है। 
पवित्र आत्मा हमें परमेश्वर की इच्छा के अनुसार प्रार्थना करवाता है, और जब हम मदद मांगते हैं, तो वह हमें बताता है कि हमारे लिए परमेश्वर की इच्छा क्या है, और हमें नई सामर्थ देता है।
“इसी रीति से आत्मा भी हमारी दुर्बलता में सहायता करता है : क्योंकि हम नहीं जानते कि प्रार्थना किस रीति से करना चाहिए, परन्तु आत्मा आप ही ऐसी आहें भर भरकर, जो बयान से बाहर हैं, हमारे लिये विनती करता है।”
क्या आप इन चीजों को महसूस करते हैं? जब आप परमेश्वर हमसे जो करवाना चाहता है उससे विपरीत सोचते हैं और कार्य करते हैं तब क्या आप महसूस करते हैं कि पवित्र आत्मा हमें, धर्मी लोगों को बता रहा है कि कुछ गलत है? पवित्र आत्मा कहता है, "अरे, तुम गलत हो!" और हमारा ह्रदय कराहने लगता है। क्या आप जानते हैं कि यह पवित्र आत्मा कराह रहा है? आपने शायद अनुभव किया होगा कि जब एक धर्मी व्यक्ति का हृदय आनन्द में होता है, तो ऐसा इसलिए होता है क्योंकि पवित्र आत्मा उसके भीतर आनन्दित होता है। तब आप जानेंगे कि जब आपका हृदय कराहता है, तो पवित्र आत्मा कराहता है। 
जब हम कमजोर होते हैं और गलत कार्य करते हैं, तो पवित्र आत्मा कराहता है और हमारे लिए विनती करता है, और परमेश्वर हमारा पिता हमें सामर्थ देता है। पवित्र आत्मा ने हमें नई आत्मिक सामर्थ प्रदान करते हुए सभी चीजों के लिए प्रार्थना करवाई है। इसलिए जिनके हृदय में पवित्र आत्मा है वे बहुत प्रसन्न होते हैं। पवित्र आत्मा हमें परमेश्वर के वचन के द्वारा सामर्थ देता है। दूसरे शब्दों में, पवित्र आत्मा हमें नई आत्मिक सामर्थ देने के लिए हमारे हृदयों में अपने वचन के साथ कार्य करता है। 
पवित्र आत्मा अन्य माध्यमों से बात नहीं करना चाहता। वह हमें पवित्रशास्त्र, परमेश्वर की कलीसिया, और हमारे भाइयों और बहनों के साथ हमारी सहभागिता के माध्यम से सामर्थ प्रदान करता है। इसलिए परमेश्वर की कलीसिया बहुत महत्वपूर्ण है, और पवित्र आत्मा के कार्यों में कलीसिया की बहुत महत्वपूर्ण भूमिका है।
कलीसिया में विश्वासी, उनकी संगति, स्तुति और उपदेश हैं। प्रचारक चाहे जो भी हों, पवित्र आत्मा मौजूद है और उनमें कार्य करता है ताकि वे उचित समय पर आवश्यक उपदेश दे सकें। पवित्र आत्मा उन दोनों के बीच काम करता है जो संदेश देते हैं और जो इसे प्राप्त करते हैं, उनके दिमाग को जागृत करता हैं और उनमें से प्रत्येक को वह आशीष देता हैं जिसकी उन्हें आवश्यकता होती है। पवित्र आत्मा यह कार्य परमेश्वर की कलीसिया में करता है जहां धर्मी लोग एकत्रित होते हैं। इसलिए विश्वासियों के लिए कलीसिया बहुत महत्वपूर्ण है। जब एक विश्वासी अपने ह्रदय में कठिन समय से गुजर रहा होता है और फिर भी अपने दर्द को दूसरों के साथ साझा नहीं कर पाता है, तब भी परमेश्वर के सेवक पवित्र आत्मा के माध्यम से इसे जान पाते है। यदि विश्वासी परमेश्वर कलिसीया की सभा में हैं, तो पवित्र आत्मा उनके हृदयों को छूने और उन्हें सांत्वना देने में सक्षम होगा। पवित्र आत्मा उन्हें पवित्रशास्त्र को थामे रहने में मदद करता है और उन्हें ठीक होने की सामर्थ देता है।
अपने विश्वास के जीवन को जीते हुए, हम पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं, अपने पापों के लिए माफ़ी प्राप्त करते हैं, परमेश्वर की सन्तान बनते हैं, और प्रमाण के रूप में, हम पवित्र आत्मा को एक उपहार के रूप में प्राप्त करते हैं। फिर, परमेश्वर हमें अपनी कलीसिया देता है। कलीसिया देने के बाद, परमेश्वर कलीसिया के माध्यम से अपने सेवकों से बात करते हैं और अपने सेवकों को अपना संदेश सुनाते हैं। वह पवित्रशास्त्र के साथ हमारे घावों को ठीक करता है, कमजोरों को सामर्थ देता है, ह्रदय से नम्र व्यक्ति को आशीष देता है, और उन्हें अपना कार्य करने की क्षमता देता है। वह हमारे द्वारा अपनी इच्छा पूरी करता है। इसलिए, विश्वासी कभी भी स्वयं को कलीसिया से अलग नहीं कर सकते। 
विश्वासियों को न तो कभी अन्य धर्मी लोगों के साथ उनकी बातचीत से, न ही परमेश्वर के पवित्रशास्त्र में उनके विकास से अलग किया जा सकता है। पूर्ण सत्य केवल परमेश्वर की कलीसिया के भीतर ही पाया जाता है। इसलिए, विश्वासियों को कलीसिया में एक दूसरे के साथ एकजुट होने की जरूरत है। एकता के बिना विश्वास झूठा विश्वास है।
क्या आप विश्वास करते हैं कि पवित्र आत्मा आपके हृदय में निवास करता है? जब हम परमेश्वर की कलीसिया के साथ एक हो जाते हैं, जैसा कि पवित्रशास्त्र में कहा गया है और जैसा कि कलीसिया हमें अपने संदेश में बताता है तब पवित्र आत्मा हमारी मदद करेगा और हमें आशीष देते हुए सत्य के लिए हमारी आंखें खोलेगा। तो, इस तरह के विश्वास के साथ कलीसिया के साथ जुड़ें। तब पवित्र आत्मा आनन्दित होगा। 
हम पवित्र आत्मा की सहायता से इस घड़ी तक जीवित रहे हैं। हम भविष्य में भी उसकी मदद से ही जीएंगे। इसलिए पवित्र आत्मा हमारे लिए यानी की जिन्होंने अपने पापों की माफ़ी प्राप्त की है उनके लिए बहुत महत्वपूर्ण है। हमें यह जानना और विश्वास करना है कि पवित्र आत्मा का अस्तित्व है। हमें यह जानना चाहिए कि हमें पवित्र आत्मा के द्वारा जीना है और अपने हृदयों में उसका मार्गदर्शन प्राप्त करना है। जिनके हृदय में पवित्र आत्मा है, उन्हें उसकी इच्छा का अनुसरण करना चाहिए। यदि आप एक धर्मी व्यक्ति हैं, तो पवित्र आत्मा आप में निवास करता है, और इस प्रकार आपको जीवन की व्यवस्था का पालन करना चाहिए क्योंकि पवित्र आत्मा आपका मार्गदर्शन करता है।
आइए हम वचन २७ को एक साथ पढ़ें। “और मनों का जाँचनेवाला जानता है कि आत्मा की मनसा क्या है? क्योंकि वह पवित्र लोगों के लिये परमेश्‍वर की इच्छा के अनुसार विनती करता है।” हमारा परमेश्वर पिता हमारे अन्दर निवास करनेवाले आत्मा के मन को जानता है। पवित्र आत्मा हमारे मन में सब कुछ जानता है; इसलिए, परमेश्वर पिता वह सब कुछ जानता है जो हमारे मन में है। जैसे, वह, पवित्र आत्मा "परमेश्वर की इच्छा के अनुसार संतों के लिए विनती करता है।" 
इसका अर्थ यह है कि हमारे पिता जानते हैं कि पवित्र आत्मा के मन में क्या है, और पवित्र आत्मा हमारे पिता की इच्छा के अनुसार प्रार्थना करता है। इस प्रकार विश्वासियों को परमेश्वर की इच्छा के अनुसार जीवन जीने को मिलता है। यही कारण है कि जिन लोगों को उनके पापों के लिए माफ़ किया जाता है, वे पवित्र आत्मा के माध्यम से अपने विश्वास के जीवन का लाभ पाते हैं। धर्मी लोगों के मन पवित्र आत्मा के प्रबोधन के द्वारा संचालित होते हैं। 
कलीसिया में समस्याएँ तब उत्पन्न होती हैं जब वे लोग जिनके हृदय में पवित्र आत्मा नहीं है वे परमेश्वर परमेश्वर की कलीसिया में पाए जाते हैं। जो लोग पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास नहीं करते हैं, उनके अंदर पवित्र आत्मा नहीं है, और इसलिए वे सच्चे विश्वासियों के साथ बातचीत नहीं कर सकते हैं जिनके पास पवित्र आत्मा है। वे कलीसिया में कई समस्याएं लाते हैं। इसके विपरीत, जब पवित्र आत्मा वाले लोग पवित्र आत्मा से भरे हुए परमेश्वर के एक सेवक का उपदेश सुनते हैं, तो उनके दिलों को शांति मिलती है क्योंकि वे समझ सकते हैं कि परमेश्वर अपने सेवक के माध्यम से उन्हें क्या बताने की कोशिश कर रहा है। 
जिस किसी के पापों को माफ़ किया गया है, उसमें निश्चित रूप से पवित्र आत्मा वास करता है। हमारे पास पवित्र आत्मा है और हम परमेश्वर की इच्छा के अनुसार और पवित्र आत्मा के मार्गदर्शन के अनुसार जीते हैं।
पवित्र आत्मा इन तरीकों से हमारा मार्गदर्शन करता है: कभी-कभी कलीसिया के माध्यम से, कभी-कभी विश्वासियों के साथ सहभागिता के माध्यम से, और कभी-कभी परमेश्वर के वचनों के माध्यम से। वह हमें परमेश्वर की इच्छा खोजने के लिए प्रेरित करता है और हमें उसके धर्मी मार्ग का अनुसरण करने की अनुमति देता है। जब तक हम उसके राज्य तक नहीं पहुँच जाते, तब तक पवित्र आत्मा हमें परमेश्वर के पक्ष में रहने के लिए नई सामर्थ देता है।
इसलिए, आपको और मुझे यह समझना चाहिए कि हमारे विश्वास के जीवन में पवित्र आत्मा कितना महत्वपूर्ण है। जब हम पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं, तो हम पवित्र आत्मा को एक उपहार के रूप में प्राप्त करते हैं, जैसा कि पवित्रशास्त्र में कहा गया है, “मन फिराओ, और तुम में से हर एक अपने अपने पापों की क्षमा के लिये यीशु मसीह के नाम से बपतिस्मा ले; तो तुम पवित्र आत्मा का दान पाओगे” (प्रेरितों २:३८)। 
परमेश्वर ने हमें पवित्र आत्मा एक उपहार के रूप में दिया है ताकि वह हमें अपनी इच्छा के अनुसार जीने के लिए मार्गदर्शन कर सके। यह हमारे पिता परमेश्वर की इच्छा है। वह हमें बताता है कि उसके राज्य में प्रवेश करने के लिए हमें उसकी इच्छा के अनुसार जीना चाहिए। परमेश्वर की इच्छा के अनुसार जीने के लिए हमारे पास पवित्र आत्मा होना चाहिए, और केवल वे जो पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं वे पवित्र आत्मा प्राप्त करते हैं। इस प्रकार हमें पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करना चाहिए ताकि हम पवित्र आत्मा को उपहार के रूप में प्राप्त कर सकें और परमेश्वर की इच्छा के अनुसार जी सकें और उसके राज्य में प्रवेश कर सकें।
हम पवित्र आत्मा और छुटकारे को अलग-अलग से प्राप्त नहीं करते हैं। लोग आज सोचते हैं कि ये दोनों आशीषे अलग-अलग चीजें हैं। वे सोचते हैं कि पवित्र आत्मा उन पर उतरेगा यदि वे जाते हैं और पर्वतो की गुफा में उत्साहपूर्वक प्रार्थना करते है, अन्य भाषा में प्रार्थना करते है। वे सोचते हैं कि तब पवित्र आत्मा उन पर उतरेगा और सीधे उन्हें अपना संदेश देगा और उनके साथ बातचीत करेगा। लेकिन दुर्भाग्य से यह सच नहीं है। 
पवित्र आत्मा और पवित्रशास्त्र को अलग नहीं किया जा सकता है, और पवित्र आत्मा और विश्वासी को भी अलग नहीं किया जा सकता है। यही कारण है कि विश्वासियों और पवित्र आत्मा, कलीसिया और त्रिएक परमेश्वर-पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा के बीच संबंध एक दूसरे के इतने करीब हैं।
हम जो इस अंतिम युग में रहते हैं, पवित्र आत्मा के द्वारा जीवन जीते हैं। हम अपने पिता की इच्छा और पवित्र आत्मा के अनुसार जीवन को जीते हैं। पवित्र आत्मा परमेश्वर की सभी इच्छा को जानता है। हमारा पिता वह सब कुछ जानता है जो पवित्र आत्मा के मन में है। पवित्र आत्मा हमारे विचारों का मार्गदर्शन करता है और परमेश्वर के साथ संचार करता है। इस तरह, पवित्र आत्मा परमेश्वर की इच्छा के अनुसार प्रार्थना करता है, और हमारे पिता हमें उसकी इच्छा के अनुसार जीवन जिलाकर उन प्रार्थनाओं का उत्तर देते हैं। 
इसलिए पौलुस ने रोमियों अध्याय ८ वचन १६ से २७ में पवित्र आत्मा के कार्यों के बारे में बात की है। 
हम पवित्र आत्मा के द्वारा परमेश्वर के राज्य की प्रतीक्षा करने में सक्षम हैं। हम हमारे ह्रदय में पवित्र आत्मा की सामर्थ के साथ परमेश्वर राज्य की आशा करते हुए अपने वर्तमान कष्टों को सहन कर सकते हैं और अपने प्रभु की इच्छा के अनुसार जी सकते हैं। हम पवित्र आत्मा के द्वारा सहन कर सकते हैं, पवित्र आत्मा के द्वारा अपने प्रभु की आज्ञा का पालन कर सकते हैं, और पवित्र आत्मा के द्वारा अपने प्रभु की सेवा करने की क्षमता रखते हैं। ये सब चीजें हमें पवित्र आत्मा के द्वारा दी गई हैं। हमें यह समझना चाहिए कि हम वे लोग हैं जो पवित्र आत्मा के साथ चलते हैं, हमेशा परमेश्वर के वचन का अध्ययन करते हैं, वचन के साथ अपने ह्रदयों को जोड़ते हैं, और वचन को सुनते और उसका पालन करते हैं। हमें अपना जीवन जीना चाहिए ताकि हमारे पिता और पवित्र आत्मा हम में आनन्दित हो सकें, न कि दैहिक जीवन जो केवल हमारे शरीर को प्रसन्न करते हैं। इस भाग में पौलुस यही कहता है। 
परमेश्वर हमारे जीवन में हमेशा हमारे साथ हैं। वह हमारे ह्रदय को संभालता है, और हमारी मदद करना चाहता है। प्रभु हमें निरंतर आशीष देने पाए। जब हमारा प्रभु फिर आएगा, तो सब कुछ महिमा में बदल जाएगा। हम, जिनके पास अब परमेश्वर की धार्मिकता है, परमेश्वर के सारे राज्य और महिमा के वारिस होंगे। जो कोई परमेश्वर के राज्य का वारिस होना चाहता है, उसे पानी और आत्मा के सुसमाचार को ध्यान से सुनना चाहिए और विश्वास करना चाहिए। 
हाल्लेलूयाह! मैं प्रार्थना करता हूँ कि परमेश्वर की धार्मिकता आपके साथ रहे और आपको आशीष दे।