उपदेश

विषय ९ : रोमियों (रोमियों की पत्री किताब पर टिप्पणी)

[अध्याय 8-13] ( रोमियों ८:३५-३९ ) कौन धर्मी को मसीह के प्रेम से अलग करेगा?

( रोमियों ८:३५-३९ )
“कौन हम को मसीह के प्रेम से अलग करेगा? क्या क्लेश, या संकट, या उपद्रव, या अकाल, या नंगाई, या जोखिम, या तलवार? जैसा लिखा है,
“तेरे लिये हम दिन भर घात किए जाते हैं;
हम वध होनेवाली भेड़ों के समान गिने
गए हैं।”
परन्तु इन सब बातों में हम उसके द्वारा जिसने हम से प्रेम किया है, जयवन्त से भी बढ़कर हैं। क्योंकि मैं निश्‍चय जानता हूँ कि न मृत्यु, न जीवन, न स्वर्गदूत, न प्रधानताएँ, न वर्तमान, न भविष्य, न सामर्थ्य, न ऊँचाई, न गहराई, और न कोई और सृष्‍टि हमें परमेश्‍वर के प्रेम से जो हमारे प्रभु मसीह यीशु में है, अलग कर सकेगी।” 
 

वचन ३५ कहता है, “कौन हम को मसीह के प्रेम से अलग करेगा? क्या क्लेश, या संकट, या उपद्रव, या अकाल, या नंगाई, या जोखिम, या तलवार?” कौन हमें यानि की उन लोगों को जो पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करते है जिसमें परमेश्वर की धार्मिकता है उन्हें मसीह के प्रेम से अलग कर सकता है? क्या उपद्रव और मुसीबतें उस प्रेम से अलग कर सकती हैं? क्या सात साल का महा-संकट हमें उस प्रेम से अलग कर सकता है? बिलकूल नही!
इस संसार में कोई भी क्लेश या संकट हमें हमारे प्रभु के प्रेम से अलग नहीं कर सकता जिसने हमें हमारे पापों से बचाया है। यहाँ तक कि जब हम चाहते हैं, हमारी थकान में, अकेला छोड़ दिया जाए, और कोई हमसे पूछे कि क्या यीशु ने हमें हमारे पापों से बचाया है या नहीं, तो हम सभी का जवाब होगा कि यीशु ने वास्तव में हमें बचाया है और हम पापरहित हैं। भले ही हमारा हृदय कितना भी थका हुआ और परेशान क्यों न हो, उसने अभी भी हमें बचाया है और अभी भी हमारा अनन्त उद्धारकर्ता है। यहाँ तक कि यदि हम अपने शरीर को स्थिर रखने के लिए बहुत थके हुए या बीमार थे, तब भी हम परमेश्वर की धार्मिकता के लिए अपना धन्यवाद देंगे। कोई भी थकान हमें उस परमेश्वर की धार्मिकता से अलग नहीं कर सकती जिसने हमें हमारे पापों से छुड़ाया है।
न उपद्रव, न अकाल, न नंगाई, न संकट, न तलवार हमें परमेश्वर की धार्मिकता से दूर कर सकते हैं। हमें कभी-कभी धार्मिक लोगों द्वारा त्याग दिया जाता है और निंदा की जाती है, यही वह उत्पीड़न है जिसका हम सामना करते हैं। हमारे उत्पीड़न में हमारे दोस्त, पड़ोसी, रिश्तेदार, और यहां तक कि हमारे अपने परिवार के सदस्य भी शामिल हैं, जो हमें विधर्मी होने के आरोपों के कारण छोड़ देते हैं। क्या ये सताव हमें यीशु मसीह के उद्धार से अलग कर सकते हैं? वे निश्चित रूप से नहीं कर सकते!
भले ही हमें कितनी ही बुरी तरह से सताया गया हो, यह हमें परमेश्वर की उस धार्मिकता से दूर नहीं कर सकता जिसने हमें बचाया है। क्योंकि परमेश्वर की धार्मिकता ने हमें पापरहित बना दिया है, और क्योंकि यह अपरिवर्तनीय सत्य है, कोई भी और कुछ भी हमें परमेश्वर के प्रेम से अलग नहीं कर सकता है।
अकाल चाहे आत्मिक हो या भौतिक, हमें अलग नहीं कर सका। क्योंकि हम पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं, जो हमारे दिलों में हमेशा रहता है वह है परमेश्वर की धार्मिकता—अर्थात, हमारे प्रभु में विश्वास कि उसने पानी और आत्मा के सुसमाचार के द्वारा हमें पापरहित बनाया है। यह विश्वास परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करने का विश्वास और आशीष है। "क्योंकि यहोवा ने मेरे सब पापों को मिटा दिया है, मुझ में कोई पाप नहीं है! परमेश्वर ने मुझे धर्मी और पापरहित बनाया है, मुझे अपनी धार्मिकता के पूर्ण वस्त्र पहिनाए है!” यही कारण है कि परमेश्वर की धार्मिकता में हमारा विश्वास नहीं मिटेगा, चाहे अकाल कितना भी भयंकर क्यों न हो।
 

पानी और आत्मा के सुसमाचार के द्वारा परमेश्वर की धार्मिकता

जब तक कोई पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास नहीं करता, उसके हृदय में अभी भी पाप है। परन्तु जो परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करता है, उसके पास कोई पाप नहीं है। इसलिए हमारे परमेश्वर ने कहा कि हम एक पेड़ को उसके फलों से जान सकते हैं। जो लोग परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास नहीं करते हैं, वे जब थोड़ी सी भी कठिनाई, अकाल, उत्पीड़न, या क्लेश का सामना करते हैं तब वे यीशु पर अपना विश्वास छोड़ देते हैं, । 
ऐसे लोग हैं जो सोचते हैं, "यद्यपि यीशु को मेरे पापों के लिए क्रूस पर दण्डित किया गया था, इसलिए केवल मूल पाप को हटा दिया गया था, और मुझे प्रतिदिन अन्य पापों की क्षमा माँगनी चाहिए जो मैं प्रतिदिन करता हूँ।" जिनके पास इस प्रकार का विश्वास है, वे वास्तव में यह विश्वास न करके परमेश्वर के विरुद्ध पाप कर रहे हैं कि यीशु ने उनके सभी पापों को उठा लिया है, और इस प्रक्रिया में, वे स्वयं की निंदा करते है और खुद को भ्रष्ट करते हैं। ये वही लोग हैं जो यीशु का इन्कार करते हैं और जो परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास नहीं करते हैं।
परन्तु जो पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं, वे परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करते हैं, और चाहे वे किसी भी परिस्थिति का सामना करें, वे यह कहते हुए दृढ़ता से अपने विश्वास को थामे रहेंगे की, "परमेश्वर ने मुझे जगत के सभी पापों से निश्चित रूप से बचाया है। मैं पापरहित हूँ!" भले ही हमें अपने आत्मिक अकाल के अंतिम दिनों में मृत्यु का सामना करना पड़े, हम इस बात से कभी इनकार नहीं करेंगे कि परमेश्वर ने हमें पापरहित बनाया है और हम उसके लोग बन गए हैं। परमेश्वर की वह धार्मिकता जिसने हमारे सभी पापों को दूर कर दिया है, अब भी हमारे दिलों में हमारे विश्वास के रूप में बनी रहेगी। पानी और आत्मा का सुसमाचार शक्तिशाली और महान है। कोई फर्क नहीं पड़ता कि हम अपने जीवन में किस प्रकार की क्लेशों का सामना करते हैं, क्योंकि परमेश्वर की धार्मिकता मसीह में है, हम कभी भी मसीह के प्रेम से अलग नहीं होंगे।
उपरोक्त परिच्छेद में "नंगाई" का क्या अर्थ है? "नंगाई" का अर्थ है हमारी सारी संपत्ति को खोना। मध्यकालीन युग तक, जब यूरोपीय देशों में एक गांव या एक राष्ट्र में परेशानी होती थी तब लोग अक्सर सभी परेशानियों के लिए बलि के बकरे का उपयोग करते हुए काले-जादू में लगे रहते थे; लोगों ने उनसे सब कुछ छीन लिया और उन पर विधर्मी होने का आरोप लगाया। यही कारण है कि पौलुस ने यहाँ "नंगाई" शब्द का प्रयोग किया है।
उन युगों में, किसी पर विधर्म का आरोप लगाना, और केवल एक या दो गवाहों के साथ, दोषी को जलाए जाने का दण्ड करना, उसकी सारी संपत्ति को जब्त करना और उसकी प्रतिष्ठा को मिटा देना संभव था। 
यहां तक कि यदि हम इस तरह से अपनी नग्नता के लिए प्रेरित होते हैं, तो अपना सब कुछ खो देते हैं और मौत के घाट उतार दिए जाते हैं, परमेश्वर की धार्मिकता, हमारे लिए उनके प्रेम में, हमारे सभी पापों को दूर कर देती है वह कभी भी हमसे दूर नहीं होगी—यह पानी और आत्मा का सुसमाचार कितना पूर्ण है।
न तो जोखिम और न ही तलवार हमें मसीह के प्रेम से अलग कर सकते हैं। चाहे हम तलवार के तले रखे जाएं, और उस से मारे जाएं, तौभी हम जो विश्वास करते हैं, उन में कोई पाप नहीं। प्रारम्भिक कलीसिया के कई मसीहीयों पर रोम में आग लगाने का झूठा आरोप लगाया गया था और उन्हें सार्वजनिक रूप से कोलिज़ीयम में शेरों को खिलाकर मार डाला गया था। जब वे मर रहे थे, तब उन्होंने यहोवा की स्तुति की, जिसने उन्हें उद्धार दिया था। वे स्तुति करने में सक्षम थे क्योंकि वे पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वासी थे। जिन लोगों को इस सच्चाई पर विश्वास करने के द्वारा छुड़ाया गया है कि परमेश्वर ने उनसे प्रेम किया है और उनके सभी पापों को दूर कर दिया है, वे प्रभु की स्तुति कर सकते हैं फिर भले ही वे शेरों द्वारा मारे और खाए जा रहे हों। 
यह सामर्थ परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास से आती है जिसने हमारे सभी पापों को दूर किया है और उसके प्रेम से आती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि परमेश्वर हम में है, हमसे बात करता है, हमें मजबूत रखता है, हमारी रक्षा करता है और हमें दिलासा देता है कि ऐसी सामर्थ हम पा सकते है। न जोखिम, न तलवार, न धमकी, न शहादत हमें परमेश्वर के प्रेम से अलग कर सकती है।
जो लोग पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते है वे वो लोग है जो परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करते है और मसीह के लोग है। जो लोग परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करते है वे वो लोग है जिन्हें परमेश्वर प्रेम करता है। लेकिन कुछ लोग मसीह के प्रेम को भावनात्मक प्रेम में बदल देते है, केवल क्रूस पर उसकी मृत्यु की ओर देखते है, और उसके दुःख में रोते है। लेकिन मनुष्य की भावनाए तुरंत बदल जाती है। 
हालाँकि हमारी भावनाएँ हर सुबह और हर रात बदलती हैं, लेकिन जिस प्रेम से हमारे परमेश्वर ने हमें बचाया है, उसे किसी भी चीज़ से बदला नहीं जा सकता है। उनका प्रेम हमेशा के लिए अपरिवर्तनीय है। पानी और आत्मा का सुसमाचार कितना सामर्थी है, और परमेश्वर की धार्मिकता कितनी महान है। कोई भी हमें हमारे प्रभु से अलग नहीं कर सकता, जिसने हमें चंगा किया है और हमें अपना पूर्ण प्रेम दिया है। यह पानी और आत्मा के सुसमाचार की सामर्थ है, और यह परमेश्वर की धार्मिकता में हमारे विश्वास की सामर्थ भी है।
"सुसमाचार" के लिए ग्रीक शब्द "यूएगेलियन" है, और इसे "डूनामिस" कहा गया है - इस ग्रीक शब्द का अर्थ सामर्थ, शक्ति या क्षमता है, जिससे हमें परमेश्वर का "डायनामाइट" शब्द मिलता है। एक मुट्ठी डायनामाइट एक घर को उसकी नींव तक गिराने और उसे धूल में मिलाने के लिए पर्याप्त है। एक युद्धक्षेत्र से लॉन्च की गई टॉमहॉक मिसाइल एक बड़ी कंक्रीट की इमारत को नष्ट कर सकती है और उसे गुमनामी में बदल सकती है। इमारत कितनी भी मजबूत क्यों न हो, यह मिसाइल की विनाशकारी शक्ति का कोई मुकाबला नहीं है।
न्यूयॉर्क में वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के ट्विन टावर्स को दो असैन्य विमानों ने गिरा दिया। क्या हुआ जब विमान इमारतों से टकराए? विमानों के विस्फोट से प्रज्वलित, जेट ईंधन द्वारा उमटी हुई आग इतनी तीव्र थी कि इसने फर्शों तक सब कुछ पिघला दिया जो विमानों टकराया गया था। क्योंकि फर्श की स्टील संरचनाएं और स्तंभ जो इमारतों को संभाले हुए थी, सभी पिघल गई थी, फर्श अचानक गिर गए, और इमारतें इन ढहने वाले फर्शों का भार सहन नहीं कर सकीं, इसलिए अंत में, वे पूरी तरह से गिर गई। अगर फर्श धीरे-धीरे नीचे आते, तो इमारतें नहीं गिरतीं। लेकिन क्योंकि फर्श अचानक और तेजी से गिरे, स्तंभ और अन्य सहायक संरचनाएं ढह गईं, और पूरी इमारतें, जैसा कि हम सभी ने देखा, कुछ ही सेकंड में नीचे आ गईं।
परमेश्वर के सुसमाचार की सामर्थ पानी और आत्मा के सुसमाचार की सामर्थ है। यह वह सामर्थ भी है जिसमें परमेश्वर की धार्मिकता है। शायद परमेश्वर की धार्मिकता को दर्शाने के लिए इस त्रासदी का उपयोग करना उचित नहीं है, लेकिन परमेश्वर की धार्मिकता द्वारा दिया गया पानी और आत्मा के सुसमाचार की सामर्थ डायनामाइट की तरह है जो सभी पापों को पूरी तरह से मिटा सकती है। परमेश्वर की धार्मिकता यह है कि हमारे प्रभु ने इस पृथ्वी पर आकर, बपतिस्मा लेकर, क्रूस पर मरकर, और मृत्यु से पुनरुत्थित होकर हमारे सभी पापों को दूर करके हमें बचाया है। 
पानी और आत्मा का सुसमाचार परमेश्वर की धार्मिकता है जिसके साथ यीशु ने ब्रह्मांड की शुरुआत से लेकर अंत तक सभी पापों को दूर किया है जो मनुष्यजाति ने किए हैं। यही कारण है कि परमेश्वर की धार्मिकता के सुसमाचार में अपने विश्वासों के द्वारा छुटकारा पाए हुए लोगों को जिन्हें परमेश्वर प्रेम करता है कोई भी चीज अलग नहीं कर सकती है। पौलुस का विश्वास भी वही था जो परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करता था।
तो क्या हम क्रूस के लहू के सुसमाचार के द्वारा परमेश्वर की धार्मिकता को प्राप्त कर सकते हैं? हम नहीं कर सकते। केवल क्रूस के लहू के सुसमाचार में विश्वास करना ही हमें परमेश्वर की धार्मिकता नहीं दे सकता। जो लोग अन्यथा सोचते हैं वे थोड़ी सी भी उत्तेजना पर आसानी से यीशु पर अपना विश्वास छोड़ देंगे। 
उदाहरण के लिए, जब उनकी सांसारिक संपत्ति छीन ली जाती है, या जब वे अपने धार्मिक झुकाव के कारण काम में कठिनाइयों का सामना करते हैं, तो वे आसानी से अपने विश्वास को त्यागने के लिए झुक जाते हैं। यह एक अपरिहार्य परिणाम है और कई मसीहीयों पर लागू होता है। जो लोग पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास नहीं करते हैं, उनके हृदयों में पवित्र आत्मा नहीं है और उन्हें उनके पापों से छुटकारा नहीं मिला है, वे छोटे से छोटे खतरे में आत्मसमर्पण करने के लिए बाध्य हैं।
आज का मसीही धर्म इस दुनिया में इतना कमजोर होने का कारण यह विश्वास है जो केवल क्रूस के लहू तक सीमित है। इस प्रकार का विश्वास वह है जिसने पानी और आत्मा के सुसमाचार के द्वारा परमेश्वर की धार्मिकता प्राप्त नहीं की है।
एक धर्मी विश्वासी जो परमेश्वर की धार्मिकता को प्राप्त करके अपने सभी पापों से मुक्त हो गया है, कई आत्माओं के लिए काम कर सकता है। चूँकि वह पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करता है और उसके पास पवित्र आत्मा है, और क्योंकि परमेश्वर अपने वचन में उसके साथ है, वह व्यक्ति कई आत्मिक कार्य कर सकता है और कई खोई हुई आत्माओं को वापस परमेश्वर की ओर मोड़ सकता है। यह परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास है, पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास है। पानी और आत्मा का सुसमाचार परमेश्वर द्वारा दिया गया है, हमारे अपने कार्यों से नहीं, और इस प्रकार यह परमेश्वर के द्वारा भी है कि हम उसके कार्य कर सकते हैं।
वचन ३६ कहता है, "जैसा लिखा है, तेरे लिये हम दिन भर घात किए जाते हैं;व् हम वध होनेवाली भेड़ों के समान गिने गए हैं।” पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करने वालों में वे भी हैं जिनके साथ इस पृथ्वी पर रहते हुए वास्तव में इस प्रकार से व्यवहार किया जाता है। वास्तव में, पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करने वाले अक्सर दूसरों से घृणा प्राप्त करते हैं, विशेष रूप से गलत विश्वास वालों से, जो स्वयं मसीही होने का दावा करते हैं। 
दूसरे शब्दों में, नया जन्म प्राप्त करनेवाले मसीही, बौद्धों की तुलना में नाममात्र के मसीहीयों से अधिक घृणा प्राप्त करते हैं। यह भाग, कि "तेरे लिये हम दिन भर घात किए जाते हैं;व् हम वध होनेवाली भेड़ों के समान गिने गए हैं।” परमेश्वर का वचन पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वासियों से बोला गया है। यहाँ तक कि हमारे प्रभु भी, पिता की इच्छा का पालन करते हुए उनके बपतिस्मा और क्रूस पर मृत्यु के द्वारा, "वध होनेवाली भेड़ों के सामान गिना गया।" प्रभु ने इस पृथ्वी पर आकर और ऐसा जीवन जीने के द्वारा हमें बचाया।
 

परमेश्वर की धार्मिकता ने जगत के सारे पापों पर जित हाँसिल की है

वचन ३७ कहता है, “परन्तु इन सब बातों में हम उसके द्वारा जिसने हम से प्रेम किया है, जयवन्त से भी बढ़कर हैं।” हम इन सब बातों पर कैसे विजय प्राप्त कर सकते हैं? हम परमेश्वर के प्रेम में अपने विश्वास की सामर्थ से अपनी जीत का दावा करते हैं।
जो पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करता है, उसके पास परमेश्वर की सामर्थ है। परन्तु जो पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास नहीं करता, उसके हृदय में केवल पाप है। जो लोग पाप के साथ हैं उनका विश्वास और उद्धार उनकी भावनाओं के कारण उतार-चढ़ाव करता है, और इस प्रकार, उनके पास कोई सामर्थ नहीं है। परन्तु जो पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं, उनके पास सामर्थ है। उनके पास स्वयं की सामर्थ नहीं है, लेकिन उनके पास परमेश्वर द्वारा दिए गए सुसमाचार की सामर्थ है, और इस सामर्थ के साथ, वे सभी उत्पीड़नों और क्लेशों का सामना कर सकते हैं और उन पर विजय प्राप्त कर सकते हैं। धर्मी लोगों को पापियों के विरुद्ध आत्मिक युद्ध करना चाहिए और उन्हें पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करना चाहिए। धर्मी लोगों को भी सुसमाचार के लिए जीने और सताए जाने को स्वाभाविक रूप से सहन करना चाहिए। एक जीवन जो प्रभु के लिए जीता है वह हमारा हिस्सा है।
एक पूर्वी कहावत कहती है, "यदि कोई एक दिन के लिए पढ़ने से चूक जाता है तो वह चुभने वाले शब्द बोलेगा।" फिर हमारा क्या? यदि हम परमेश्वर और उसके सुसमाचार के लिए जीये बिना एक दिन व्यतीत करते हैं, तो हम भी भ्रष्ट होने की ओर प्रवृत्त होते हैं। इस तरह हम अपनी मृत्यु तक अपना जीवन व्यतीत करेंगे। परन्तु यदि हम मसीह के लिए जीते हैं, अपने आप को बलिदान करते हैं और परमेश्वर के लिए सताए जाते हैं, और यदि हम दुष्टता की आत्मिक शक्तियों के विरुद्ध एक आत्मिक युद्ध लड़ते हैं, तो हमारा हृदय आत्मिक भोजन से भर जाएगा, जिससे हमें आगे बढ़ने के लिए नई सामर्थ मिलेगी।
जब मसीही गिरते हैं, तो ऐसा इसलिए होता है क्योंकि वे प्रभु के लिए जीवन नहीं जीते है। लेकिन जब हम प्रभु के लिए जीवन जीते हैं, तो हमारी आत्मिक सामर्थ और भी बढ़ जाती है, और हमारा शारीरिक स्वास्थ्य और शक्तियाँ भी मजबूत हो जाती हैं।
वचन ३८-३९ कहता है, “क्योंकि मैं निश्‍चय जानता हूँ कि न मृत्यु, न जीवन, न स्वर्गदूत, न प्रधानताएँ, न वर्तमान, न भविष्य, न सामर्थ्य, न ऊँचाई, न गहराई, और न कोई और सृष्‍टि हमें परमेश्‍वर के प्रेम से जो हमारे प्रभु मसीह यीशु में है, अलग कर सकेगी।” पानी और आत्मा के सुसमाचार में एक विश्वासी के रूप में, पौलुस इस बात से आश्वस्त था। वही सत्य हम पर लागू होता है: न तो मृत्यु और न ही जीवन हमें मसीह से अलग कर सकता है।
पुराने युग में, सांसारिक सामर्थ रखने वाले, जैसे कि रोमन सम्राटों ने, मसीहीयों को अपने विश्वास को त्यागने के लिए मनाने की कोशिश की और अपने साथी विश्वासियों को अपना विश्वास त्यागने के बदले में उच्च पदों, पत्निया और संपत्तियों जैसे सभी प्रकार के प्रलोभनों की पेशकश करके अधिकारियों को रिपोर्ट करने की कोशिश की। लेकिन सुसमाचार में सच्चे विश्वासी कभी भी सामर्थ, संपत्ति या सम्मान के प्रलोभन के सामने नहीं झुके।
विश्वास कोई ऐसी चीज नहीं है जिसे दुनिया की पेशकश के बदले बदला जा सकता है। यदि कोई व्यक्ति हमें एक खाली चेक दिखाता है और हमसे कहता है, "यदि आप सुसमाचार फैलाना बंद कर देते हैं, तो मैं आपको यह चेक दूंगा," तब हम भविष्य के लिए हमारी आशा और परमेश्वर में हमारे मजबूत विश्वास के कारण जवाब देने में सक्षम होंगे, “आपको स्वयं इसकी आवश्यकता होगी, इसलिए इसे खर्च करें; मेरे लिए यह एक कागज के टुकड़े के अलावा और कुछ नहीं है।"
 

केवल पानी और आत्मा का सुसमाचार ही वह सुसमाचार है जिसमे परमेश्वर की धार्मिकता है

ऐसे बहुत से लोग हैं जिन्होंने मुझसे कहा है, "यदि आप केवल यह स्वीकार करते हैं कि क्रूस के लहू में हमारा विश्वास भी एक सही विश्वास है, तो हम भी, आपके विश्वास को स्वीकार करेंगे। हम न केवल आप पर विधर्म का आरोप लगाना बंद कर देंगे, बल्कि वास्तव में आपकी मदद भी करेंगे।" इन तथाकथित धर्मगुरुओं ने विशेष रूप से मुझसे इस तरह के समझौते की मांग की है। परन्तु परमेश्वर की धार्मिकता जब उसके वचन से नापी जाती है तो वह सटीक और निश्चित होती है। जो गलत है वो गलत है और जो सच है वो सच है। एक गलत विश्वास को मान्यता देना अपने आप में परमेश्वर के खिलाफ विद्रोह का कार्य है, और इसलिए मैं न केवल उनके विश्वास को स्वीकार करने में असमर्थ हूँ, बल्कि मुझे लगातार इसकी भ्रांतियों को भी इंगित करना चाहिए।
"आप केवल क्रूस के लहू में विश्वास करते हैं? तब आपके मन में पाप होना चाहिए। आप नरक में बंधे है। मैं आपकी मदद नहीं कर सकता, भले ही आपको लगता है कि मैं बहुत गंभीर और अडिग हूँ; जो सच है वह सव्ह है।" ऐसे शब्दों की वजह से लोग मुझसे दूरी बनाए रखते हैं—अधिक सटीक रूप से, वे मेरे करीब नहीं आ सकते। बहुत से लोग मेरे पास आते थे, यह सोचकर कि मैं उनके जैसा हूँ। लेकिन हर बार, मैंने उनसे कहा है, "आप झूठे चरवाहे और ठग हैं जो परमेश्वर के नाम पर व्यापार करते हैं, केवल साधारण चोर हैं।" जब मैं ऐसी बातें कहता तो मुझे कौन पसंद करता? लेकिन जो नहीं है वह नहीं है, और यही कारण है कि मैं अपने बात पर इतना दृढ़ और अडिग रहा हूँ।
मुझे उन लोगों ने भी लुभाया है जो कहते हैं कि यदि मैं केवल क्रूस के लहू में विश्वास करता हूँ, तो वे मुझे ऐसा और ऐसा अधिकार देंगे। लेकिन जैसा कि उपरोक्त भाग कहता है, "न वर्तमान न भविष्य, न ऊंचाई, न गहराई, न ही कोई सृष्टि," हमें किसी अधिकार, ऊंचाई या गहराई की कोई आवश्यकता नहीं है। हमें उस चंगाई की सामर्थ की आवश्यकता नहीं है जिसके बारे में कुछ ठग दावा करते हैं। हममें से जिनका नया जन्म हुआ है, उन्हें ऐसी चीजों की कोई आवश्यकता नहीं है, और हम उन्हें पसंद भी नहीं करते हैं।
यह भाग हमें यह भी बताता है कि कोई अन्य सृष्टि हमें हमारे प्रभु यीशु मसीह में परमेश्वर के प्रेम से अलग नहीं कर सकती है। भले ही इस ब्रह्मांड में एलियंस हों, वे हमें परमेश्वर के प्रेम से अलग नहीं कर पाएंगे जिसने हमें बचाया है।
कुछ ऐसे मसीही हैं जो अलौकिक प्राणियों के अस्तित्व में विश्वास करते हैं। पादरियों के बीच भी, कई लोग इस प्रकार के अस्तित्व में विश्वास करते हैं। लेकिन एलियन जैसी कोई चीज नहीं होती है। जब मैं सेमिनरी में था, मेरे एक प्रोफेसर, जो ग्रीक पढ़ाते थे, एलियंस के अस्तित्व में विश्वास करते थे। इसलिए मैंने उससे पूछा, "क्या आप पवित्रशास्त्र के किसी प्रमाण के साथ अपने विश्वास का समर्थन कर सकते हैं?" बेशक, वह मेरे इस प्रश्न का कोई उत्तर नहीं दे सके। बिल्कुल कोई एलियंस नहीं हैं। परमेश्वर ने संसार से इतना प्रेम किया कि उसने हमें अपना एकलौता पुत्र दे दिया। यदि वास्तव में एलियंस होते, तो यीशु को केवल इस पृथ्वी पर जन्म लेने की कोई आवश्यकता नहीं होती। 
बड़े पैमाने पर निवेश और शोध के बाद, हम पहले से ही चंद्रमा तक पहुंचने में सक्षम हैं, और हमारी जांच मंगल ग्रह पर भी उतरी है, लेकिन हमें एक भी सबूत का एक टुकड़ा नहीं मिला है जो पृथ्वी के बाहर जीवन के अस्तित्व का समर्थन करता है। पवित्रशास्त्र के आधार पर, मैं विश्वास के साथ दावा कर सकता हूँ कि मनुष्यजाति की वैज्ञानिक और तकनीकी क्षमताएं कितनी भी विकसित क्यों न हों, और इस बात की परवाह किए बिना कि हम ब्रह्मांड की कितनी व्यापक खोज करते हैं, हम कभी भी एलियंस को नहीं पाएंगे। बाइबल हमें बताती है कि कोई अन्य निर्मित वस्तु हमें हमारे प्रभु यीशु मसीह में परमेश्वर के प्रेम से अलग नहीं कर सकती है। तो फिर, यह परमेश्वर का प्रेम क्या है? यह पानी और आत्मा के सुसमाचार के अलावा और कुछ नहीं है। यह परमेश्वर का प्रेम है। वह उद्धार जिसने हमें बचाया है और पानी और आत्मा के सुसमाचार के द्वारा हमें पापरहित बनाया है, वह परमेश्वर का प्रेम है, और कुछ भी हमें इस प्रेम से अलग नहीं कर सकता।
पौलुस फिर से अध्याय ९ में विश्वास की बात करता है, लेकिन यह उसके अध्याय ८ के निष्कर्ष में है जहाँ वह विश्वास के शिखर पर पहुँचा जाता है। रोमियों की पुस्तक के अध्याय १ से ८ तक एक विषयवस्तु बनती है, और अध्याय ८ के साथ इसके समापन अध्याय के रूप में, यह विश्वास की ऊँचाई तक पहुँचती है। जैसा कि अध्याय 8 में परमेश्वर का वचन हमें दिखाता है, केवल वे ही जो पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं, वह परमेश्वर के प्रेम से अलग नहीं हो सकते हैं। 
हालांकि, जो ऐसा विश्वास नहीं करते हैं, वे कभी ऐसे नहीं बन पायेंगे। वे शायद अस्थायी रूप से प्रभु के लिए जीने में सक्षम हो सकते हैं, लेकिन वे अपने विश्वास की रक्षा नहीं कर सकते हैं और अपनी मृत्यु तक उसके लिए नहीं जी सकते हैं। वे धार्मिक रूप से १०, २० वर्षों तक जीवित रह सकते हैं, लेकिन उनका विश्वास अंततः नष्ट हो जाएगा और मर जाएगा, जिससे वे पूरी तरह परमेश्वर से अलग हो जाएंगे और उनका परमेश्वर से कोई लेना-देना नहीं होगा। ऐसा नहीं है कि उनके कामों में कमी है, लेकिन उनके हृदयों में से मसीह के लिए प्रेम गायब हो जाएगा। चूँकि उनके मन में पवित्र आत्मा नहीं है, इसलिए उनके हृदय में प्रभु के लिए प्रेम नहीं है। इसके बजाय, संक्षेप में, उनके हृदय में पाप है।
जैसे-जैसे दिन बीतते हैं, मैं और भी अधिक महसूस करता हूँ कि उद्धार का प्रेम कितना गहरा और कितना परिपूर्ण है, जिसके साथ हमारे प्रभु ने हमें पानी और आत्मा के सुसमाचार के माध्यम से बचाया है। जब मैं पहली बार प्रभु से मिला, तो मसीह के प्रेम के लिए मेरी प्रशंसा की गहराई शांत थी, जैसे झील में फेंका गया पत्थर छोटी छोटी लहरों का कारण बनता है। मेरी प्रतिक्रिया केवल इस तथ्य का एक शांत अहसास था कि यीशु ने मेरे सभी पापों को ले लिया, और मैं इस प्रकार पाप रहित हो गया था। लेकिन तब से सुसमाचार का प्रचार करने का जीवन जीते हुए, मेरे हृदय में लहरें अकल्पनीय रूप से बड़ी और गहरी हो गई हैं, मानो मेरे हृदय के भीतर कोई बम फट गया हो। 
कौन कहता है कि हमें केवल क्रूस के लहू में विश्वास करना चाहिए? क्या पौलुस ने यह कहा? रोमियों की पुस्तक में, पौलुस ने स्पष्ट और सुस्पष्ट रूप से पानी और आत्मा के सुसमाचार के बारे में बात की: “क्या तुम नहीं जानते कि हम सब जिन्होंने मसीह यीशु का बपतिस्मा लिया, उसकी मृत्यु का बपतिस्मा लिया। अत: उस मृत्यु का बपतिस्मा पाने से हम उसके साथ गाड़े गए, ताकि जैसे मसीह पिता की महिमा के द्वारा मरे हुओं में से जिलाया गया, वैसे ही हम भी नए जीवन की सी चाल चलें” (रोमियों ६:३-४)।
क्या पानी और आत्मा का यह सुसमाचार पूर्णतया महान और पूर्ण रूप से सिद्ध नहीं है? भले ही किसी का विश्वास कितना भी छोटा क्यों न हो, यदि व्यक्ति पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करता है, तो वह पाप से बच जाता है। चाहे आप में कितनी ही कमियां क्यों न हों, आपका विश्वास पानी और आत्मा के सुसमाचार के द्वारा पूर्ण होता है। चाहे आप कितने ही कमजोर क्यों न हों, पानी और आत्मा के सुसमाचार में अपने विश्वास के द्वारा आप बच जाते हैं। यद्यपि हमारे पास अपनी कोई सामर्थ नहीं है, यदि हम परमेश्वर के लिए और परमेश्वर के साथ जीते हैं, तो हमारे दिलों से सारी गंदगी दूर हो जाएगी। 
परन्तु जो आरम्भ से विश्वास नहीं करते, वे अन्त में परमेश्वर का विरोध करेंगे और उसे छोड़ देंगे, भले ही फिर वे इस सुसमाचार के बारे में सुनकर दस वर्ष तक उसके साथ रहे। जिन लोगों ने अपनी आँखें बंद करके और अपने कान बंद करके परमेश्वर के सत्य को न तो देखने और न सुनने का फैसला किया है, वे अपने हाथों से परमेश्वर की आशीष को अस्वीकार करने और अपनी मृत्यु की ओर बढ़ने के लिए इतने मूर्ख हैं। वे हर दिन अपने पापों के साथ मसीह को क्रूस पर चढ़ाते हैं, भले ही फिर क्रूस पर कोई मृत्यु नहीं होती यदि यीशु ने बपतिस्मा नहीं लिया होता।
मैं हर गुजरते दिन के साथ यह महसूस करता हूँ कि यह सुसमाचार कितना महान और परिपूर्ण है - मैं जितना कमजोर होता जाता हूँ, उतना ही मुझे एहसास होता है कि हमारे प्रभु का प्रेम कितना अदभुत और संपूर्ण है, जो इस सुसमाचार द्वारा दिखाया गया है, और मैं इसके लिए और भी अधिक धन्यवाद देता हूँ। जितना अधिक मैं इस सुसमाचार का प्रचार करता हूँ, मैं उतना ही ऊँचा होता जाता हूँ; जितना अधिक मैं इस सुसमाचार का प्रचार करता हूँ, मैं उतना ही मजबूत होता जाता हूँ; और जितना अधिक मैं इस सच्चे सुसमाचार का प्रचार करता हूँ, उतना ही अधिक आश्वस्त हो जाता हूँ।
भले ही आपने नया जन्म प्राप्त किया है, लेकिन यदि आप परमेश्वर के वचन को नहीं सुनते हैं और उसकी सेवा नहीं करते हैं, तो आपके मन में जंगली पौधे उगने लगेंगे और इन जंगली पौधों के कारण आपका मन उजड़ जाएगा। जब ऐसा हो, तब फिर से स्तुति के गीत गाओ और यहोवा के बारे में सोचो। परमेश्वर की स्तुति गाने से आपका मन साफ हो जाएगा और आप अपनी आत्मा को फिर से जगा पाएंगे। 
जो कुछ अशुद्ध है, उसे निकालने के लिए आपको अपने मन को हिलाना चाहिए, और अपने हृदय को परमेश्वर के वचन से भरकर फिर से नवीनीकृत करना चाहिए। हमारे दिल पहले से ही साफ हो चुके हैं, लेकिन जब दुनिया की अशुद्धियां हमारे मन में प्रवेश करती हैं और हमें भ्रमित करने और भटकाने की कोशिश करती हैं, तब हम परमेश्वर की आराधना कर सकते हैं और फिर से परमेश्वर की स्तुति गाकर, अपने दिलों को नवीनीकृत और पुनर्जीवित करके प्रार्थना कर सकते हैं।
भले ही हम खुद को कहीं भी पाएं, परमेश्वर की स्तुति करना एक आनंददायक और उत्साहजनक अनुभव है। छूटकारा पाए हुए लोगों के मन में कोई पाप नहीं है, इसलिए स्तुति और आनन्द उनके मन से स्वाभाविक रूप से आता है। हमारे हर्षित हृदयों के स्तुति के गीत हमारे मन में उगने वाले जंगली घास को दूर कर सकते हैं।
कई बार हमारी कमजोरियां सामने आती हैं। क्योंकि हमारे विचार और भावनाएँ अलग-अलग परिस्थितियों में आसानी से बदल सकते हैं, हालाँकि जब हम मसीह में अपने भाइयों के साथ होते है तब हम खुश और अच्छे मूड में हो सकते हैं, तो हो सकता है कि जब हम अकेले हों तो हमारे पास गंदे और अशुद्ध विचार हो सकते हैं। इस कारण पौलुस ने अपने शरीर को देखकर पुकारा, “मैं कैसा अभागा मनुष्य हूँ! मुझे इस मृत्यु की देह से कौन छुड़ाएगा? हमारे प्रभु यीशु मसीह के द्वारा परमेश्‍वर का धन्यवाद हो” (रोमियों ७:२४-२५)।
पौलुस पानी और आत्मा के सुसमाचार के द्वारा बचाए जाने के द्वारा परिपूर्ण हो गया था, भले ही वह शरीर में अभी भी कमजोर था। क्या केवल पौलुस ही ऐसा व्यक्ति था? मैं भी पौलुस के समान हूँ। क्या आप भी उसके जैसे नहीं हो?
जब सांसारिक लोग एक साथ इकट्ठे होते हैं, तो पुरुष आमतौर पर शराब पीना पसंद करते हैं, अक्सर अपनी नौकरी के बारे में और किसको बढ़ोतरी मिली और किसे नहीं इस प्रकार की बात करते हैं और जबकि महिलाएं अपने पति, बच्चों, घरों आदि पर गर्व करती हैं। लेकिन धर्मी लोगों के बीच बातचीत सांसारिक लोगों से भिन्न होती है। यहाँ तक कि जब हम अपनी रोटी एक साथ बाँटते हैं, हम उन आत्माओं के बारे में बात करते हैं जिन्हें दुनिया भर में बचाया गया था: भारत, जापान, यूरोप, अफ्रीका, संयुक्त राज्य अमेरिका, और इसी तरह, परमेश्वर की स्तुति करते है और हमारे मन के साथ संगति साझा करना।
रोमियों की पुस्तक को पढ़ते समय, हम अनुभव कर सकते हैं और अपने हृदय में पौलुस के विश्वास को साझा कर सकते हैं। हम यह भी पता लगा सकते हैं कि परमेश्वर द्वारा दिया गया उद्धार कितना महान है। हम सुसमाचार की अद्भुतता को महसूस कर सकते हैं। हम गद्यांशों को समझ सकते हैं और पाठ में छिपे अर्थों को खोज सकते हैं। क्योंकि हम समझंते हैं कि हमारे प्रभु का उद्धार कितना पूर्ण और सिध्ध है, हम उनकी धार्मिकता की प्रशंसा करते है।
यहां तक कि यदि पूरी दुनिया अभी बदल जाए, फिर भी पानी और आत्मा का सुसमाचार जिसने हमें हमारे पापों से बचाया है, अपरिवर्तित रहेगा। क्योंकि मसीह के प्रेम ने हमें बचाया है, और क्योंकि इस प्रेम ने हमें कभी नहीं छोड़ा और अभी भी हम में बना हुआ है, हमें बस इतना करना है कि हम अपने दिलों को दुनिया से हटा दें और फिर से परमेश्वर पर ध्यान केंद्रित करें। हम कमजोर हैं, और इस कमजोरी के कारण, हम कभी-कभी दुनिया के तरीकों में पड़ जाते हैं, लेकिन हर बार ऐसा होने पर, हमें केवल अपना मन परमेश्वर की ओर मोड़ना होता है और इस सच्चाई पर विश्वास करना होता है कि हमारे परमेश्वर ने हमें बचाया है। हमारे शरीर को अभी भी बदलना है और यह अभी भी पाप की व्यवस्था के अधीन रहता है। इस प्रकार हमें लगातार अपने शरीर को नकारना चाहिए और अपने आत्मिक विचारों से अपना जीवन जीना चाहिए। अपने दिलों में जंगली पौधों को उगने से रोकने के लिए, हमें हमेशा परमेश्वर के पास लौटना चाहिए और उसकी धार्मिकता की स्तुति करनी चाहिए।
क्या अब आप जानते हैं कि पानी और आत्मा का यह सुसमाचार कितना सामर्थी है? चूँकि रोमियों की पूरी पुस्तक पानी और आत्मा के सुसमाचार पर आधारित है, हम इस सुसमाचार में पहले विश्वास किए बिना परमेश्वर के वचन को नहीं खोल सकते। 
मुझे इस वचन के रहस्यों को खोलने और देखने की अनुमति देने के लिए मैं प्रभु का धन्यवाद करता हूँ। कोई हमें परमेश्वर की धार्मिकता से अलग नहीं कर सकता, जो कि मसीह का प्रेम है। यदि आप परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करना चाहते हैं, तो अपने छुटकारे और उद्धार के रूप में यूहन्ना द्वारा यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू पर विश्वास करें। तब आप भी परमेश्वर की धार्मिकता को प्राप्त करोगे। 
हमारे परमेश्वर की धार्मिकता की आशीष आप पर बनी रहे।