उपदेश

विषय ९ : रोमियों (रोमियों की पत्री किताब पर टिप्पणी)

[अध्याय 9-1] अध्याय ९ का परिचय

इस्राएली और अन्यजाती दोनों के लिए पानी और आत्मा का सुसमाचार!

पौलुस ने क्यों कहा कि उसके मन में अपने ही भाइयों के लिए बड़ा शोक है और उसका मन बड़ा दुखता रहता है? यह इसलिए है क्योंकि वह यहाँ तक चाहता था कि अपने भाइयों के लिये जो शरीर के भाव से उसके कुटुम्बी हैं, स्वयं ही मसीह से शापित हो जाता। अपने स्वयं की देह के अनुसार, वह वास्तव में अपने ही भाईयों को बचाना चाहता था।
इस अंतिम युग में, हम पुरे संसार में पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करने में बहुत रुचि रखते हैं। सत्य के इस सुसमाचार को फैलाना परमेश्वर की सबसे बड़ी चिंता का विषय है और साथ ही, नया जन्म प्राप्त करने वाले विश्वासियों के लिए सबसे महत्वपूर्ण लक्ष्य है। इस्राएली अंत के दिनों में पानी और आत्मा के सुसमाचार को स्वीकार करेंगे या नहीं, यह एक और मुद्दा है जो हमारा ध्यान आकर्षित करता है। हमें इस्राएलियों की ओर से प्रार्थना करना जारी रखना चाहिए ताकि वे बचाए जा सकें, क्योंकि जब वे सुसमाचार को स्वीकार करते हैं, तो हम जानते हैं कि हमारे प्रभु का दूसरा आगमन निकट है।
इस वर्ष के लिए मेरी प्रार्थना का विषय विश्व सुसमाचार प्रचार और इस्राएलियों द्वारा सच्चे सुसमाचार की स्वीकृति के लिए प्रार्थना करना है। मैं यह भी प्रार्थना कर रहा हूँ कि इस्राएली अपने ही लोगों में से परमेश्वर के सेवकों को जन्म दें। परमेश्वर ने एक बार इस्राएलियों को अपनी व्यवस्था दी, और उसने उन्हें अपनी आंखों के सामने याजकों का राज्य भी बनाया। मसीह स्वयं, देह के अनुसार, इस्राएलियों में से आया, फिर भी उन्होंने उस पर विश्वास करने से इनकार कर दिया, और अभी भी परमेश्वर इच्छा के विरुद्ध होने के द्वारा परमेश्वर के विरुद्ध हैं।
 

प्रभु ने हमसे कहा है की जब वह वापिस आयेगा तब उसके लिए विश्वास को पाना मुश्किल होगा

यह परमेश्वर की इच्छा है कि पानी और आत्मा का सुसमाचार, यरूशलेम से उत्पन्न होकर, पूरी दुनिया में फैले। हालांकि आजकल लोगों के दिल सख्त हो गए हैं। बहुत से लोग सत्य की खोज से भटक गए हैं। 
हाल ही में, "द लास्ट टेम्पटेशन ऑफ क्राइस्ट" नामक एक फिल्म कोरिया में जारी की गई थी जिसमें यीशु को एक नाजायज बच्चे के रूप में दर्शाया गया था। यह परमेश्वर की निंदा से भरा था, और इसका केंद्रीय संदेश यह था कि यीशु कभी परमेश्वर नहीं थे, लेकिन केवल एक सामान्य व्यक्ति थे, जैसा कि भारत के राजकुमार सिद्धार्थ, जिन्हें बुद्ध के नाम से जाना जाता था, वैसे ही। यह फिल्म इस सच्चाई को रौंदती है कि यीशु परमेश्वर और हमारा उद्धारकर्ता है। इसलिए परमेश्वर ने कहा, "जब मनुष्य का पुत्र आएगा, तो क्या वह पृथ्वी पर विश्वास पाएगा?" (लूका १८:८) 
यीशु मसीह, जिस पर हम विश्वास करते हैं, परमेश्वर है, जो उसकी किसी भी सृष्टि से ऊंचा है, और अनंत काल के लिए प्रशंसा के योग्य है। इस्राएलियों में जन्मे, उन्होंने यूहन्ना द्वारा बपतिस्मा लेकर मनुष्यजाति के सभी पापों को अपने ऊपर ले लिया, लहू बहाया और क्रूस पर मर गया, तीसरे दिन मृत्यु से फिर से जी उठे, और उन सभी के लिए उद्धारकर्ता बन गए जो उस पर विश्वास करते हैं। प्रभु, जो परमेश्वर की धार्मिकता बन गया, उसने हमें हमारे पापों से छुड़ाया, जो उस पर विश्वास करने वालों को धर्मी ठहराते हैं।
पौलुस ने हमें बताया कि इब्राहीम के वंशज चाहे जितने भी इस्राएली हों, जो परमेश्वर की सन्तान बन सकते हैं, वे केवल वही हैं जो यीशु पर विश्वास करते हैं।
इस्राइलियों को भविष्य में कई परीक्षणों और क्लेशों का सामना करना पड़ेगा। परमेश्वर की इच्छा है कि उनमें से कुछ, अंत में, हमारे प्रभु को अपना उद्धारकर्ता मानने के लिए आएंगे। भले ही हमारे प्रभु ने इस्राएलियों सहित दुनिया के सभी पापों को दूर कर दिया है, फिर भी वे यीशु को अपना उद्धारकर्ता मानने से इनकार करते हैं।
क्या आप कमजोर हैं? हम में से कुछ दूसरों की तुलना में कमजोर या मजबूत हो सकते हैं। लेकिन परमेश्वर के सामने, हम सभी कमजोरियों से भरे हुए हैं। हम केवल यह विश्वास करने के द्वारा परमेश्वर की सन्तान बन सकते हैं जो पाप से मुक्त हैं कि हमारे प्रभु इस पृथ्वी पर आए, हमारे पापों को अपने कंधों पर ले लिया, और क्रूस पर मरकर हमारे बदले न्याय और दण्ड सहा। हमें परमेश्वर की उस सामर्थ की स्तुति और विश्वास करना चाहिए जिसने हमें उसके लोगों को पाप से मुक्त किया है। हमारे प्रभु वास्तव में महान हैं।
कुछ लोग सोचते हैं कि सब कुछ पुरुषों के कारण मौजूद है। उदाहरण के लिए, वे सोचते हैं कि व्यवस्था पुरुषों द्वारा बनाई गई हैं, और उनके लिए मौजूद हैं। हालाँकि, हमें यह समझना चाहिए कि सब कुछ पुरुषों से उत्पन्न नहीं होता है; चीजें केवल परमेश्वर की इच्छा से ही संभव होती हैं। परमेश्वर ने इस दुनिया और पूरे ब्रह्मांड को बनाया है। यहां तक कि मनुष्य निर्मित व्यवस्था जो हमें नियंत्रित करती हैं मूल रूप से वह भी परमेश्वर की इच्छा पर आधारित हैं। 
क्योंकि परमेश्वर हर चीज में कार्य करता है और सब कुछ उसकी इच्छा के अनुसार प्रकट होता है, हमें सभी चीजों में उसकी धार्मिकता का पता लगाना चाहिए। जब हम निर्बल थे, जब हम ने परमेश्वर के विरुद्ध पाप किया, और जब हम अपने पापों के कारण उससे अलग हो गए, तो परमेश्वर ने हमें यीशु मसीह को भेजने का वचन दिया। उसने यीशु के देहधारण और उसके बपतिस्मा के द्वारा अपना वादा पूरा किया, जिसके द्वारा उसने हमें जगत के पापों से छुड़ाया।
अब, जब पानी और आत्मा का सुसमाचार संसार के कोने-कोने में फैल जाएगा, तो परमेश्वर की मूल योजना पूरी हो जाएगी। जब हम देखते हैं कि दुनिया में घटनाएं कैसे सामने आ रही हैं, तो हम देख सकते हैं कि संयुक्त राज्य अमेरिका और इज़राइल केंद्र में हैं। मेरा मानना है कि परमेश्वर के हस्तक्षेप के बिना, एक और विश्व युद्ध की बहुत संभावना है। 
जब विश्व व्यापार केंद्र ढह गए, तो इसका जबरदस्त प्रभाव पूरी दुनिया में महसूस किया गया। यदि दुनिया फिर से इस समय और युग में युद्ध में घिर गई तो हमारा क्या होगा? हम निश्चित रूप से एक और विश्व युद्ध से उबर नहीं पाएंगे। यहां तक कि प्रकृति भी हमारे द्वारा किए गए कुल विनाश के सभी नुकसानों से उबर नहीं सकती है। मुझे आशा है कि आप सभी प्रार्थना करेंगे कि आप पानी और आत्मा के सुसमाचार को सारे संसार में शांति से प्रचार करने में सक्षम हों। हमारी चिंता यह है कि दुनिया में शांति के बिना हम शायद ऐसा नहीं कर पाएंगे। हम सभी को शांति के लिए प्रार्थना करनी चाहिए और युद्ध और आतंकवाद को खत्म करने का प्रयास करना चाहिए।
कोई भी मानव निर्मित धर्म मनुष्य के पापों को समाप्त नहीं कर सकता। केवल यीशु मसीह, और केवल वही, हमें हमारे पापों से छुड़ा सकते हैं। केवल यूहन्ना द्वारा उसके बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू के द्वारा ही हमारे पापों को मिटाया और न्याय किया जा सकता है। यह आशीष उन्हें दिया जाता है जो परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करते हैं। मसीह के बपतिस्मा और उसके लहू में विश्वास करने के द्वारा ही हम अपने पापों से छुटकारा पा सकते हैं। और कोई रास्ता नहीं है। हम पश्चाताप की विधिवादी प्रार्थनाओं से प्रायश्चित नहीं प्राप्त कर सकते, जैसा कि कई धार्मिक लोग करना पसंद करते हैं। इसके बजाय, हमारे पापों के प्रायश्चित का एकमात्र तरीका यह है कि हम परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करें जिसने हमें यीशु के देहधारण के माध्यम से, जिसने हमारे सारे पापों को अपने बपतिस्मा और क्रूस पर अपनी मृत्यु के द्वारा पूरी तरह से मुक्त किया है।
 

पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करने के द्वारा हमने हमारे पापों से उद्धार पाया है

दुनिया के कोने-कोने में इस सच्चाई का प्रचार किया जाना चाहिए। हमें यह स्वीकार करना चाहिए कि इस सत्य पर विश्वास न करना इस्राएलियों के साथ-साथ अन्यजातियों का भी पाप है। प्रत्येक व्यक्ति को पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करना चाहिए। 
दोनों जातियाँ, इस्राएली और अन्यजाति, इस संसार में रहते हुए पाप करना जारी रखते है। लेकिन हमारे प्रभु ने अपने बपतिस्मा के द्वारा इन सभी पापों को एक ही बार में हमेशा के लिए समाप्त कर दिया। क्या यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू के सत्य से सरल और स्पष्ट सत्य कोई हो सकता है? यूहन्ना ने यीशु को बपतिस्मा क्यों दिया? उसे यूहन्ना द्वारा बपतिस्मा दिया गया और क्रूस पर चढ़ाया गया ताकि वह एक ही बार में हमारे सभी पापों को दूर कर सके। इस सत्य पर विश्वास न करने या इसे अपने हृदय में स्वीकार न करने के द्वारा, लोग अपने पापों के कारण अपने ही विनाश की ओर बढ़ रहे हैं। 
वह बपतिस्मा जो यीशु ने प्राप्त किया वह “इस रीति से” (मत्ती ३:१५) सब धार्मिकता को पूरा करता है। ग्रीक में 'इसी रीति से' शब्द 'हू'-तोस गार' है, जिसका अर्थ है 'इस तरह से,' 'सबसे उपयुक्त' या 'इसके अलावा कोई दूसरा रास्ता नहीं है।' यह शब्द दर्शाता है कि यीशु ने यूहन्ना से लिए हुए बपतिस्मा के द्वारा अपरिवर्तनीय रूप से मनुष्यजाति के पापों को ले लिया। क्योंकि यीशु ने यूहन्ना द्वारा बपतिस्मा लेने के द्वारा जगत के सभी पापों को अपने ऊपर ले लिया, वह क्रूस को उठाने में सक्षम था और हमारी ओर से उस पर लहू बहाया। हमें यह समझना चाहिए कि यही प्रायश्चित का सत्य है जिसके द्वारा पूरी मनुष्यजाति को उसके पापों से मुक्त किया जा सकता है। 
हमारे प्रभु ने हमसे कहा, “यदि तुम मेरे वचन में बने रहोगे, तो निश्चय ही तुम मेरे चेले हो। और तुम सत्य को जानोगे, और सत्य तुम्हें स्वतंत्र करेगा।” (यूहन्ना ८:३१-३२)। यीशु का बपतिस्मा और उसका लहू परमेश्वर का सत्य है, जो हमें हमारे पापों से बचाता है; यह पूरी तरह से परमेश्वर के लिखित वचन पर आधारित है। प्रायश्चित का सत्य, पानी और आत्मा के सुसमाचार के साथ, अनंत काल तक बना रहना है। पिता परमेश्वर ने अपनी इच्छा में यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू के द्वारा पापियों को प्रायश्चित करने का निर्णय लिया। जब हम अपने छुटकारे के लिए उसके बपतिस्मा और लहू में विश्वास करते हैं, तो हम उस पर विश्वास करते हैं जो परमेश्वर ने हमारे लिए निर्धारित किया है। हमारे पापों का प्रायश्चित तभी होता है जब हम पानी और आत्मा की सच्चाई में विश्वास करते हैं। 
यदि आप इसी क्षण, मसीह के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू में, प्रायश्चित के सत्य को, अपने छुटकारे के रूप में, विश्वास करते हैं, तो अब आप धर्मी हैं। दूसरी ओर, यदि आप विश्वास नहीं करते हैं, तो आप अभी भी पापी हैं। "क्योंकि सब ने पाप किया है और परमेश्वर की महिमा से रहित हैं" (रोमियों ३:२३)। हम केवल यीशु मसीब पर उद्धारकर्ता के रूप में विश्वास करने के द्वारा ही अपने सभी पापों की माफ़ी पा सकते है और परमेश्वर की सन्तान बन सकते है। किसी भी व्यक्ति के लिए पानी और आत्मा के इस सुसमाचार की सच्चाई पर विश्वास नहीं करने का कोई कारण नहीं है। ऐसा कोई नहीं है जिसे छुटकारे के इस सुसमाचार की आवश्यकता नहीं है। सभी को इसकी जरूरत है। क्यों कोई भी व्यक्ति उस पर विश्वास करना नहीं चाहेगा, जब की पानी और आत्मा के सुसमाचार की सच्चाई उसके सामने इतनी स्पष्ट रूप से रखी गई है, क्या यह उसके पापों से शुद्ध होने की उसकी अनिच्छा की वजह से नहीं था?
दुनिया भर में कई लोगों ने पानी और आत्मा के सुसमाचार को स्वीकार कर लिया है और इसे और भी फैलाने के लिए प्रचार कर रहे हैं। उनमें से कुछ लोगों ने हमारी पुस्तकों के स्वयंसेवी वितरक बनने के लिए कहा है। यदि आप केवल क्रूस के लहू में विश्वास करके अपने पापों से छूटकारा पा सकते थे, तो इस संसार में प्रत्येक व्यक्ति पाप से मुक्त और धर्मी हो गया होता। यदि कोई केवल क्रूस के लहू में विश्वास करता है, तो वह प्रतिदिन पश्चाताप की बार-बार की जाने वाली प्रार्थनाओं के बावजूद पाप में बना रहेगा, क्योंकि ऐसी प्रार्थनाएं नियमित होती हैं, और यह केवल एक धार्मिक विधि है। 
यदि आप पश्चाताप की प्रार्थना करके अपने पापों को धोने की कोशिश कर रहे हैं, तो आप वास्तव में परमेश्वर के खिलाफ एक गंभीर पाप कर रहे हैं, क्योंकि आपका कार्य परमेश्वर की धार्मिकता को कम करता है, जिसे आपके अपने प्रयास से नहीं, बल्कि केवल यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू के द्वारा पूरा किया जा सकता है, जिसके माध्यम से यीशु ने आपके सभी पापों को दूर किया और आपके स्थान पर उसने दण्ड सहा। 
यदि आप यीशु को अपने उद्धारकर्ता के रूप में स्वीकार करते हैं, तो विश्वास करें कि आपका प्रायश्चित यीशु के बपतिस्मा और उसके क्रूस पर चढ़ाने के माध्यम से है। यीशु ने पापियों को उनके पापों से छुड़ाने का वादा किया था, और वह यरदन नदी में यूहन्ना द्वारा बपतिस्मा लेने और परमेश्वर की धार्मिकता को पूरा करने के लिए क्रूस पर लहू बहने के द्वारा अपने वादे पर खरा उतरा। हमारे पास इस सत्य पर विश्वास न करने का क्या कारण है? आपको अपने छुटकारे के रूप में यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू बहाने में विश्वास करना चाहिए। 
यह सत्य कि यीशु ने बपतिस्मा लेते समय संसार के सभी पापों को अपने ऊपर ले लिया, मत्ती ३:१३-१७ में पाया जाता है। केवल वे जो अपने सभी पापों के लिए माफ़ी पाने के लिए तैयार नहीं हैं, वे ही इस सत्य पर विश्वास करने से इंकार करेंगे। आप केवल पानी आर आत्मा के सुसमाचार की सच्चाई पर विश्वास करने के द्वारा ही परमेश्वर की सन्तान बन सकते हैं और अनन्त जीवन प्राप्त कर सकते हैं - और कुछ भी आपको आपके पापों से नहीं छुड़ाएगा। इस सत्य में विश्वास करने से बढ़कर अदभुत ओर कुछ भी नहीं है; और कुछ भी ऐसा नहीं है जो परमेश्वर की ओर से उसकी क्षमा से बेहतर उपहार है। परमेश्वर ने हमें जो कई उपहार दिए हैं, उनमें सबसे अच्छा उपहार है हमारे पापों का प्रायश्चित। 
दूसरा सबसे अच्छा उपहार जो परमेश्वर ने हमें दिया है वह आने वाला हजार साल का राज्य है जिस पर हम राज्य करेंगे, और तीसरा उपहार यह है कि हम उसके बाद स्वर्ग के राज्य में रहेंगे और परमेश्वर के साथ अनंत काल तक राज्य करेंगे। परमेश्वर ने इस अंतिम युग तक, छुटकारे के इस सत्य को इस्राएलियों और अन्यजातियों दोनों पर प्रकट करने की अनुमति दी है। 
जैसा कि पवित्रशास्त्र में भविष्यवाणी की गई है, परमेश्वर के दो सेवक इस्राएलियों में से उठेंगे, और परमेश्वर उनके द्वारा सुसमाचार के अदभुत चमत्कार करेंगे। तब इस्राएली पानी और आत्मा का सुसमाचार उन दो सेवकों के द्वारा सुनेंगे, जिन्हें परमेश्वर अपने ही लोगों में से जिलाएगा, और बहुत से लोग यीशु को अपना मसीहा मानेंगे। हम उस दिन की प्रतीक्षा करते हैं, जैसा कि यूहन्ना ने यह कहकर प्रतीक्षा की थी, "आओ, प्रभु यीशु!" (प्रकाशितवाक्य २२:२०) 
जब प्रभु के फिर से आने का समय आएगा, तो आप महसूस करेंगे कि इस सच्चाई में विश्वास करने के लिए आप कितने आभारी हैं, जिसके द्वारा आपको क्षमा किया गया और बचाया गया। यह मेरे दिल की हार्दिक इच्छा है कि पानी और आत्मा के सुसमाचार की सच्चाई पर विश्वास करने के द्वारा आप अपने सभी पापों से छूटकारा पाए। दुनिया बदल सकती है, लेकिन पानी और आत्मा का सुसमाचार, जिसके द्वारा परमेश्वर ने हमें हमारे पापों से बचाया है, कभी न बदलने वाला और शाश्वत सत्य है। प्रायश्चित के अपरिवर्तनीय उद्धार को प्राप्त करने के लिए हमें इस सत्य में विश्वास करना चाहिए। परमेश्वर के छुटकारे का सत्य आपका हो।
 

परमेश्वर ने हमें दया का पात्र बनाने के द्वारा हमारा छूटकारा किया

रोमियों अध्याय 9 में लिखा है कि परमेश्वर ने याकूब को बचाया क्योंकि वह उसे एसाव से अधिक प्रेम करता था। इस प्रकार, याकूब को दया का पात्र बनाया गया, जबकि एसाव को क्रोध का पात्र बनाया गया। यह सवाल लाता है कि क्यों? अर्थात्, क्या परमेश्वर ने एसाव से ज्यादा याकूब पर अनुग्रह किया? निस्संदेह, ऐसे बहुत से लोग होंगे जो तर्क देंगे, "चूंकि परमेश्वर ने एकतरफा और पूर्वाग्रह से एक व्यक्ति से बिना शर्त नफरत करते हुए एक व्यक्ति से प्रेम करना चुना, परमेश्वर की पूर्वनियति और चुनाव गलत था।" 
जब हम परमेश्वर द्वारा बनाई गई दुनिया को देखते हैं, तो हम देख सकते हैं कि उसकी सृष्टि कितनी सुंदर और शुद्ध हैं। पौधे, जानवर, और अन्य सभी चीजें जो परमेश्वर द्वारा बनाई गई हैं, बहुत ही परिपूर्ण लगती हैं। तो फिर, परमेश्वर एक व्यक्ति से कैसे प्रेम कर सकता है जबकि दूसरे से पक्षपात के साथ घृणा करता है? लेकिन ऐसा नहीं है ।
आदम और हव्वा की अवज्ञा के कारण, पाप ने जगत में प्रवेश किया और इस पाप के कारण, उनके बाद आने वाले सभी लोग पाप में बने रहने के लिए नियत थे, और नरक में दण्डित होने से बच नहीं सकते थे। सिर्फ इसलिए कि परमेश्वर ने याकूब को पाप से बचाया और एसाव को नहीं बचाया, यह उसे किसी भी गलत काम में नहीं फंसाता है। परमेश्वर के सामने ऐसा करने के कई कारण थे।
हम मसीही समुदाय के भीतर एसाव की तरह व्यवहार करने वाले कई लोगों को पा सकते हैं। आमतौर पर, ऐसा व्यक्ति सुबह की सेवा से लेकर देर रात की आराधना तक किसी भी आराधना सभा की सेवा को नहीं चुकता। हम उन्हें 'धार्मिक धावक' कह सकते हैं। हालांकि, उनमें से कई ऐसे भी हैं जो परमेश्वर की धार्मिकता को गंभीरता से नहीं लेते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि वे अपनी धार्मिकता का निर्माण करने का प्रयास कर रहे हैं, और ऐसा करने में, वे परमेश्वर की धार्मिकता की उपेक्षा कर रहे हैं।
यहाँ तक कि जो लोग परमेश्वर की धार्मिकता की उपेक्षा करते हैं, वे अभी भी स्वर्ग जाना चाहते हैं और अपने पापों की माफ़ी प्राप्त करना चाहते है। लेकिन उनके प्रयास परमेश्वर और अन्य लोगों के सामने अपनी धार्मिकता स्थापित करने के प्रयास में हैं, न कि उनके पापों से बचने की कोशिश में। परमेश्वर ने उन लोगों से कहा जो उसकी धार्मिकता में विश्वास नहीं करते हैं कि परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास सभी के लिए नहीं है। 
तो फिर, किस तरह के लोग परमेश्वर की धार्मिकता पर विश्वास कर सकते हैं? ये वे लोग हैं जो अपने पापी स्वाभाव को पहचानते हैं, जो अपने मन में यह महसूस करते हैं कि वे किसी भी चीज़ के योग्य नहीं हैं। वे उस तरह के लोग हैं, जब वे पानी और आत्मा के सुसमाचार में प्रकट हुए प्रायश्चित के माध्यम से परमेश्वर की धार्मिकता की खोज करते हैं, तो तुरंत उस पर विश्वास करते हैं और महिमा को परमेश्वर की ओर मोड़ देते हैं। हम परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करते हैं और इस प्रकार बच जाते हैं, इसका अर्थ है कि हम दयनीय लोग हैं जिन्हें परमेश्वर की धार्मिकता की आवश्यकता है। अन्यथा, हम अपने बाकी बचे जीवन में पापी जीवन जीने के लिए अभिशप्त होंगे।
परन्तु जो परमेश्वर के साम्हने अपनी खुदकी धार्मिकता को ढूंढ़ते हैं, वे घमण्डी होते हैं। ऐसा व्यक्ति शायद कहेगा, "प्रभु, मैंने आपको दशमांश दिया, पूरी रात जागकर आपसे प्रार्थना की, पिछले दस वर्षों से मैं कभी भी भोर की दैनिक सेवाओं को नहीं भुला, और आपके लिए अच्छे कर्म किए हैं।" 
हालाँकि, परमेश्वर अधिक प्रसन्न होगा यदि व्यक्ति पहचान ले कि उसके पास कोई धार्मिकता नहीं है, और इस प्रकार उसे पानी और आत्मा के प्रायश्चित के माध्यम से परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करने की आवश्यकता है नाकि बजाए उसके अपने प्रयासों से कुछ ऐसा साबित करने की जरुरत है जो उसके पास है ही नहीं। 
अब भी, मसीही समुदाय में, बहुत से ऐसे लोग हैं जो अपनी धार्मिकता दिखाने के लिए हर तरह की चीजें कर रहे हैं। कुछ तो ईमानदारी से अपनी बातों पर अमल भी करते हैं। परन्तु क्योंकि वे पानी और आत्मा के सुसमाचार के द्वारा प्रकट हुई परमेश्वर की धार्मिकता पर विश्वास नहीं करते हैं, उनके पाप पूरी तरह से नहीं धोए जाते हैं। परमेश्वर उनके अंत का निर्धारण करेगा। हम सभी आशा करते हैं कि वे हमारे प्रभु के बपतिस्मा और लहू के प्रायश्चित के सत्य के रूप में अपने विश्वास के द्वारा पापों की माफ़ी के द्वारा परमेश्वर की सच्ची सन्तान बनेंगे।
उद्धार के पात्र के बारे में, प्रेरित पौलुस ने कहा कि परमेश्वर जिस पर दया करना चाहता है, उस पर दया करता है, और जिस पर तरस खाना चाहता है उस पर तरस खाता है। तो फिर, वे लोग कौन हैं जो परमेश्वर की दया प्राप्त करते हैं? सभी मनुष्य परमेश्वर के वचन के अनुसार नहीं जी सकते, भले ही वे वास्तव में ऐसा करना चाहते हों। वे उसके वचन में विश्वास करने और उसके अनुसार जीने की सच्ची इच्छा के बावजूद बार-बार ठोकर खाते हैं। वे अंत में परमेश्वर के सामने खेद महसूस करते हैं, अपराध-बोध से ग्रस्त हैं, और सोचते हैं कि वे नरक के दण्ड के योग्य हैं। इस प्रकार, वे परमेश्वर से उन पर दया करने के लिए कहते हैं, यह समझते हुए कि वे इस सांसारिक दुनिया और परमेश्वर के राज्य दोनों में दयनीय हैं। क्योंकि वे जानते हैं कि जब तक परमेश्वर उन पर दया नहीं करता, तब तक उन्हें बचाया नहीं जा सकता, वे परमेश्वर इसके लिए सख्त माँग करते हैं। 
दुसरे शब्दों में, पाप से छूटकारा उन लोगों के लिए है जिन पर परमेश्वर दया तरस खाता है, और जिन पर वह दया करता है। इन लोगों के लिए, परमेश्वर ने अपने एकलौते पुत्र को अपने बपतिस्मा के द्वारा उनके सारे पापों को उठाने, क्रूस पर मरने, और मृत्यु से पुनरुत्थित होने के द्वारा सब को पानी और आत्मा का सुसमाचार दिया – ताकि सब लोगों को उनके विनाश से बचाया जा सकते। हमारे पिता की दया उन पर है जो दयनीय हैं।
लेकिन ऐसा लगता है कि इस दुनिया में परमेश्वर जिन पर दया करता है उनकी तुलना में ऐसे लोग बहुत ज्यादा है जिन पर वह क्रोध करता है। परमेश्वर ने हमें बताया कि आज के मसीही समुदाय में दया के पात्र और क्रोध के पात्र दोनों हैं। दूसरे शब्दों में, ऐसे लोग हैं जिन्हें परमेश्वर प्रेम करते हैं और ऐसे लोग भी हैं जिन्हें परमेश्वर प्रेम नहीं करते।
रोमियों ९:१७ हमें बताता है, “क्योंकि पवित्रशास्त्र में फ़िरौन से कहा गया, “मैं ने तुझे इसी लिये खड़ा किया है कि तुझ में अपनी सामर्थ्य दिखाऊँ, और मेरे नाम का प्रचार सारी पृथ्वी पर हो।” परमेश्वर ने फिरौन जैसे लोगों को उठने दिया ताकि परमेश्वर की सामर्थ का पता चल सके। हालाँकि, उसने दया के पात्रों पर अपना प्रेम दिखाया है, ताकि दुनिया भर में उसका नाम घोषित किया जा सके। हमारे पापों और परमेश्वर के क्रोध के कारण, हम सब नरक के लिए नियत थे। लेकिन हम अपने सभी पापों से बच गए क्योंकि परमेश्वर ने हमें अपना धर्मी प्रेम दिया है, क्योंकि उसने हम में से उन पर दया की थी जो उस पर विश्वास करते थे।
जो लोग परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास नहीं करते हैं और केवल अपनी धार्मिकता का अनुसरण करने में रुचि रखते हैं, वे परमेश्वर के विरुद्ध हो रहे हैं। ये वे लोग हैं जिन्हें परमेश्वर ने अपने क्रोध के लिए छोड़ दिया है; उसके सामर्थी क्रोध के प्रदर्शन के लिए, उसके खिलाफ खड़े होने वाले लोग होने चाहिए, और इसके माध्यम से, परमेश्वर के दण्ड का न्याय दिखाया गया है।
फिरौन जैसे लोग वे हैं जिन्होंने परमेश्वर की धार्मिकता के प्रेम को ठुकरा दिया है। परमेश्वर ने फिरौन को दस विपत्तियां दीं; और अंतिम मृत्यु थी। जिन लोगों ने परमेश्वर को अस्वीकार कर दिया है, उनके लिए केवल आग की अनन्त झील ही उनकी प्रतीक्षा कर रही है। यह परमेश्वर की सामर्थ का प्रकोप है। इस दुनिया में बहुत से सामर्थी लोग हैं और बहुत से लोग जो परमेश्वर को नकारते हैं, लेकिन परमेश्वर अंततः अपने सामर्थ की घोषणा करने के लिए उन्हें नीचे गिरा देगा। यही कारण है कि वह उन लोगों के कठोर हृदयों को छोड़ देता है जो उसका इन्कार करते हैं। 
तो, हमारे लिए महत्वपूर्ण यह है कि हम दया के पात्र कैसे बने क्योंकि ऐसा बनकर हम परमेश्वर की धार्मिकता के प्रेम में विश्वास कर सकते हैं। हमारे पास परमेश्वर के सामने दिखाने के लिए कुछ नहीं है; बल्कि, हम उसके धर्मी प्रेम में विश्वास करने के लिए पैदा हुए हैं। बाइबल हमें एक चुंगी लेने वाले और एक फरीसी के बारे में एक कहानी बताती है जो परमेश्वर के सामने प्रार्थना कर रहा है। परमेश्वर ने पहले पर दया की, जबकि दुसरे के लिए उसके पास कुछ नहीं था। जो लोग चुंगी लेनेवाले की तरह होते हैं वे वो हैं जो परमेश्वर के सामने समझते हैं कि उन्होंने कुछ भी अच्छा नहीं किया है और वे केवल परमेश्वर महिमा से रहित हो गए हैं; इसलिए परमेश्वर से उसकी दया दया मांग रहे हैं। 
ये उस प्रकार के लोग हैं जो धार्मिकता के लिए परमेश्वर के प्रेम को धारण करेंगे। लेकिन जो लोग फरीसी की तरह हैं वे लगातार इस बारे में डींग मारते हैं कि उन्होंने परमेश्वर के लिए कितना कुछ किया है—कि उन्होंने दशमांश दिया, सप्ताह में दो बार उपवास किया, प्रार्थना की, और धार्मिक रूप से वे भक्त थे। हम परमेश्वर के सामने कहा खड़े है इस पर निर्भर करते हुए, हम या तो परमेश्वर की धार्मिकता के प्रेम को पहिने हुए लोग होंगे या उसके दंड के क्रोध के अधीन होंगे। यदि हम परमेश्वर के सामने अपने हृदयों को कठोर करते हैं, तो हमारे पाप हमेशा के लिए माफ़ नहीं किए जायेंगे। माफ़ी के बिना, हमारा गंतव्य नरक होगा।
पानी और आत्मा का सुसमाचार सारे संसार में प्रचारित किया गया है। जिन लोगों को अभी तक बचाया नहीं गया वे लोग इसलिए बचाए नहीं जाते क्योंकि उनके हृदय कठोर हो जाते हैं। मनुष्यों में कुछ भी धर्मी नहीं है, और केवल विश्वास से ही हम परमेश्वर के धर्मी प्रेम को धारण कर सकते हैं। परमेश्वर उन लोगों से घृणा करता है जो उसकी धार्मिकता को पहचानने से इनकार करते है फिर भले ही परमेश्वर ने खुद उन्हें बनाया हो। परन्तु जो लोग पानी और आत्मा के सुसमाचार, अर्थात् परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करते हैं, वे सब परमेश्वर से प्रेम करेंगे और अनन्त जीवन प्राप्त करेंगे।
आज इस संसार में बहुत से मसीही परमेश्वर के सामने क्रोध के पात्र के रूप में जी रहे हैं। इसलिए हमें रोमियों की पुस्तक से सीखने की जरूरत है कि परमेश्वर की धार्मिकता क्या है। परमेश्वर कुछ लोगों से प्रेम करता है, दूसरों से नहीं, इसका कारण यह है कि कुछ लोग उसकी धार्मिकता में विश्वास करते हैं जबकि अन्य इसमें विश्वास नहीं करते हैं। यही वह सच्चाई है जिसके बारे में मैं बात करना चाहता हूँ। परमेश्वर ने याकूब और एसाव के साथ जो किया वह सही था। जो लोग यीशु में विश्वास करते हैं, उनमें से कई ऐसे हैं जो पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास किए बिना परमेश्वर से प्रेम पाना चाहते हैं। ये लोग एसाव के समान हैं, और परमेश्वर उनके पापों के अनुसार उनका न्याय करेगा। 
परमेश्वर ने अपने पुत्र को यूहन्ना द्वारा बपतिस्मा लेने के लिए भेजा है ताकि दुनिया के सभी पापों को तुरंत दूर कर सकें। क्या आप इस सच्चाई में विश्वास करते हैं? क्या आप वाकई इसे अपने दिल की गहराई में मानते हैं? जब हम पानी और आत्मा के सुसमाचार की सच्चाई पर विश्वास करते हैं, जिसके द्वारा परमेश्वर की धार्मिकता दिखाई जाती है, तो हम तुरंत अपने सभी पापों से मुक्त हो जाएंगे। यीशु ने इस दुनिया के सभी पापों को उठा लिया और उन्हें अपने कंधों पर रख लिया, क्रूस पर मर गए, और एक ही बार में मृत्यु से पुनरुत्थित हो गए, ताकि हम भी तुरंत अपने पापों से मुक्त हो सकें। 
परन्तु यदि हम परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास किए बिना प्रायश्चित करने का प्रयास करते हैं, तो हम उसके विरुद्ध पाप करते है। यदि हम उसकी धार्मिकता में विश्वास नहीं करते हैं, तो इसका अर्थ यह होगा कि प्रतिदिन यीशु मसीह को बपतिस्मा लेना होगा और हमारे पापों के लिए मरना होगा। क्या परमेश्वर, अपने अनंत ज्ञान में, ऐसा कोई रास्ता चुनेंगे? हमें हमारे पापों से छुड़ाने के लिए, परमेश्वर ने अपने पुत्र को केवल एक बार, बपतिस्मा लेने, क्रूस पर चढ़ने, और हमारे सभी पापों के लिए पुनरुत्थित होने के लिए केवल एक बार भेजा, ताकि वह हमें पूरी तरह से, एक ही बार में बचा सके।
हमारा परमेश्वर एक धर्मी परमेश्वर है। परमेश्वर ने अपनी धार्मिकता के भीतर हमारे पापों के निवारण की योजना बनाई। परमेश्वर हमारे पापों को केवल इसलिए नहीं मिटाता क्योंकि हम हर बार पाप करने पर उसकी क्षमा के लिए प्रार्थना करते हैं। इसके बजाय, उसने उन लोगों के सभी पापों को मिटा दिया, जिन्हें परमेश्वर की धार्मिकता में एक बार और हमेशा के लिए विश्वास करने के द्वारा तुरंत छुड़ाया गया था। 
तो फिर, उन दैनिक पापों का क्या होता है जो हम बाद में करते हैं? इन का ध्यान तब रखा जाता है जब हम परमेश्वर की धार्मिकता के लिए उसकी कृतज्ञतापूर्वक आराधना करते हैं और सारी महिमा उसी को देते है। परमेश्वर के दृष्टिकोण से, यीशु ने तुरंत अपने बपतिस्मा के साथ जगत के सभी पापों को अपने ऊपर ले लिया, क्रूस पर लहूलुहान हो गया और हमारे स्थान पर दण्ड सहा, और इस तरह हमारे पूर्ण उद्धार के लिए हमारे सभी पापों को तुरंत दूर कर दिया। जगत के सभी पापों को एक ही बार में खत्म करने की उनकी योजना से परमेश्वर की धार्मिकता का प्रेम पूरा हो गया था।
रोमियों ९:२५ कहता है, “जैसा वह होशे की पुस्तक में भी कहता है, “जो मेरी प्रजा न थी, उन्हें मैं अपनी प्रजा कहूँगा; और जो प्रिया न थी, उसे प्रिया कहूँगा।” हाँ, परमेश्वर ने कहा कि वह उन्हें अपनी प्रजा कहेगा, जो उसके लोग नहीं थे। क्योंकि परमेश्वर की धार्मिकता जिसमें हम विश्वास करते हैं, एक सिद्धांत नहीं है, बल्कि वास्तविकता है, हम उसकी धार्मिकता में विश्वास करके अपने सभी पापों से मुक्त हो जाते हैं। चूँकि यह एक सच्चाई है, जो उसकी धार्मिकता को नज़रअंदाज़ करते हैं, उनसे एसाव की तरह घृणा और न्याय किया जाएगा। ऐसा कोई नहीं है जो परमेश्वर के सामने अपनी धार्मिकता का घमण्ड कर सके। 
हमें हमारे सभी पापों से छुड़ाने के लिए, परमेश्वर ने हमें अपनी धार्मिकता से बचाया। तो फिर, हम उसका धन्यवाद और स्तुति कैसे नहीं कर सकते? हम धन्यवाद के साथ और विश्वास से परमेश्वर की धार्मिकता के सुसमाचार को फैलाने में मदद करते है।