उपदेश

विषय ९ : रोमियों (रोमियों की पत्री किताब पर टिप्पणी)

[अध्याय 9-3] ( रोमियों ९:३०-३३ ) क्या याकूब को प्रेम करना परमेश्वर के लिए गलत है?

( रोमियों ९:३०-३३ )
“अत: हम क्या कहें? यह कि अन्यजातियों ने जो धार्मिकता की खोज नहीं करते थे, धार्मिकता प्राप्‍त की अर्थात् उस धार्मिकता को जो विश्‍वास से है; परन्तु इस्राएली, जो धर्म की व्यवस्था की खोज करते थे उस व्यवस्था तक नहीं पहुँचे। किस लिये? इसलिये कि वे विश्‍वास से नहीं, परन्तु मानो कर्मों से उसकी खोज करते थे। उन्होंने उस ठोकर के पत्थर पर ठोकर खाई, जैसा लिखा है, 
“देखो, मैं सिय्योन में एक ठेस लगने का पत्थर, और ठोकर खाने की चट्टान रखता हूँ, 
और जो उस पर विश्‍वास करेगा वह लज्जित न होगा।”
 

हम सब को बुलाते हुए, हमारे प्रभु ने कहा, "मैं धर्मियों को नहीं, परन्तु पापियों को मन फिराने के लिये बुलाने आया हूँ" (मत्ती ९:१३)। हमें यह समझना चाहिए कि जो लोग खुदकी धार्मिकता का अनुसरण करते हैं, उन्हें उद्धार के उपहार की अनुमति नहीं है, और इससे बचने के लिए, हमें इसके बजाय परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करना चाहिए।
रोमियों ९:१३ कहता है कि परमेश्वर याकूब से प्रेम करता था जबकि वह एसाव से घृणा करता था। जो लोग परमेश्वर की धार्मिकता को धन्यवाद के साथ प्राप्त करते हैं, परमेश्वर ने उन्हें पापों की क्षमा का उपहार दिया है, साथ ही वह आशीष भी दी है जो उन्हें परमेश्वर के लोग बनाती है। हम सभी को परमेश्वर की धार्मिकता के ज्ञान के साथ उस पर विश्वास करना चाहिए।
हमें परमेश्वर की धार्मिकता के वचन को सीखना और समझना चाहिए जो हम सभी को दिया गया है। जब कोई अपने पापों से छुटकारा पाना चाहता है, तो सबसे पहले उसे अपनी कमियों और कमजोरियों के साथ-साथ परमेश्वर की धार्मिकता को भी जानना चाहिए। हमें उसकी धार्मिकता को जानना और उसमें विश्वास करना चाहिए। परमेश्वर ने हमें बताया कि केवल उन लोगों को परमेश्वर की धार्मिकता की आवश्यकता है जो जानते है की वे नरक के लिए बाध्य हैं। यह महत्वपूर्ण है कि हम अपने स्वयं के पापों को पहचानें और महसूस करें कि हमारे पापों के कारण, हम परमेश्वर के क्रोध का सामना करते हैं जो नरक में हमारे दंड को अपरिहार्य बना देगा। 
लेकिन हम अपने प्रभु के बपतिस्मा, क्रूस पर उनकी मृत्यु और उनके पुनरुत्थान के माध्यम से हमारे ह्रदय में पानी और आत्मा का सुसमाचार प्राप्त कर सकते हैं, क्योंकि केवल वे ही जो परमेश्वर की धार्मिकता को जानते हैं, इस धार्मिकता में विश्वास कर सकते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि परमेश्वर की कृपा और प्रेम कोई ऐसी चीज नहीं है जिसे पश्चाताप की प्रार्थना या पवित्रता के जीवन से प्राप्त किया जा सकता है, जिसमें कई धार्मिक लोग संलग्न होते हैं। हालांकि, परमेश्वर द्वारा दी गई पापों की क्षमा उन सभी के लिए है जो परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करते है।
हम सभी को अपने ह्रदय में स्वेच्छा से पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करने के लिए तैयार रहना चाहिए। क्या आप परमेश्वर की धार्मिकता प्राप्त करना चाहते हैं? फिर परमेश्वर के सामने और उसकी व्यवस्था के द्वारा अपनी कमियों को स्वीकार करो। यह पहचाने कि आपके पापों के कारण, आप परमेश्वर के क्रोध के अधीन हो, और आपको उसकी धार्मिकता की आवश्यकता है! जब आप पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं और इसे अपने हृदय में स्वीकार करते हैं, तो परमेश्वर की धार्मिकता आपकी होगी। आपको यह सच्चाई पता होनी चाहिए।
 

जो लोग परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास नहीं करते उनके मन व्याकुल और खालीपन में बंद होते है।

परमेश्वर ने हमें बताया कि हमारे विचार आरम्भ से ही भ्रमित थे (उत्पत्ति १:२)। मनुष्य के विचार आरम्भ से ही भ्रमित क्यों थे? इसका कारण यह है कि पतित स्वर्गदूत ने, जो परमेश्वर के विरुद्ध हो गया, लोगों को उनके मन को भ्रमित और शून्य बनाकर परमेश्वर की धार्मिकता के वचन में विश्वास करने से रोका। यही कारण है कि पाप मनुष्य के मन में आया (उत्पत्ति ३:१-८)। 
पवित्रशास्त्र हमें बताता है कि परमेश्वर द्वारा बनाया गया एक स्वर्गदूत उसके विरुद्ध हो गया। इस स्वर्गदूत ने अपनी ताकत और योजना के साथ परमेश्वर के सिंहासन को लेने की कोशिश की, और विद्रोह में असफल होने के बाद, अपने विशेषाधिकार प्राप्त पद से बाहर कर दिया गया। इस पतित देवदूत ने फिर मनुष्यजाति को बहकाया और धोखा दिया, और उन्हें परमेश्वर के विरुद्ध कर दिया। इस दूत को शैतान कहा जाता है। यह अभिमानी दूत अभी भी विश्वासियों और अविश्वासियों दोनों में समान रूप से सभी प्रकार के घमंडी और विद्रोही व्यवहारों में काम करता है। मनुष्य को धोखा देकर, उसने परमेश्वर की धार्मिकता के वचन और उसके अधिकार को चुनौती दी।
शैतान हमेशा झूठ का सहारा लेता है ताकि लोग पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास न कर सकें। शैतान द्वारा धोखा दिए जाने के बाद, कई लोग अपनी धार्मिकता स्थापित करने के लिए व्यर्थ प्रयास करते हैं। उसने मनुष्यजाति को पाप में गिरने दिया, और परिणामस्वरूप, उन्हें भ्रमित और शून्य मन के साथ अपना जीवन जीने दिया।
 

परमेश्वर के द्वारा दी गई पापों की माफ़ी और धार्मिकता

मनुष्यजाति जो शैतान के बुरे प्रलोभन के द्वारा पाप में गिर गई है उनके लिए पाप से मुक्ति किसी की उत्सुकता या उसकी अपनी धार्मिकता पर निर्भर नहीं करती है। हालाँकि, बहुत से लोग अपनी स्वयं की दुर्बलताओं को समझे बिना परमेश्वर के विरुद्ध मुड़ते हुए व्यर्थ ही अपने पापों से पूरी तरह बचने की कोशिश करते हैं। परमेश्वर ने उन लोगों को फटकार लगाई जो खुदकी धार्मिकता चाहते हैं, जो अपने अच्छे कामों से परमेश्वर की धार्मिकता अर्जित करने की कोशिश करते हैं। छूटकारा ऐसे लोगों के लिए नहीं है; परमेश्वर ने केवल उन लोगों को अपनी धार्मिकता की अनुमति दी है जो जानते हैं कि वे पापी हैं, और जो पानी और आत्मा के सच्चे सुसमाचार में विश्वास करते हैं।
परमेश्वर की सर्वोच्च इच्छा मानवीय विचारों से भिन्न है। पौलुस ने हमें बताया कि व्यक्ति बाहरी रूप से कितना भी धार्मिक क्यों न हो – कलीसिया में जाना, देर रात की प्रार्थना, भोर की प्रार्थना, उपवास, भेंट, पश्चाताप की प्रार्थना, आदि – वह अपने पापों को मिटाने के लिए योग्य नहीं है।
परमेश्वर हमें बताता है कि व्यवस्था के कार्य हमें हमारे पापों से मुक्त नहीं कर सकते और परमेश्वर की धार्मिकता को अपना नहीं बना सकते। जैसा कि अध्याय ९ के ३२-३३ में कहा गया है, “किस लिये? इसलिये कि वे विश्‍वास से नहीं, परन्तु मानो कर्मों से उसकी खोज करते थे। उन्होंने उस ठोकर के पत्थर पर ठोकर खाई, जैसा लिखा है, “देखो, मैं सिय्योन में एक ठेस लगने का पत्थर, और ठोकर खाने की चट्टान रखता हूँ, और जो उस पर विश्‍वास करेगा वह लज्जित न होगा।”
इस प्रकार, परमेश्वर की धार्मिकता प्राप्त करने के लिए, हमें यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू पर विश्वास करना चाहिए, जिसके माध्यम से यीशु परमेश्वर और मनुष्यजाति के बीच बलिदान बन गया। इसलिए यह अत्यंत महत्वपूर्ण है कि आप यह समझें कि परमेश्वर की धार्मिकता प्राप्त करने के लिए आपको अपनी धार्मिकता को त्याग देना चाहिए। जब तक हम यीशु को अपने उद्धारकर्ता के रूप में स्वीकार करते हैं, हमें स्वतंत्र रूप से दी गई परमेश्वर की धार्मिकता को अस्वीकार नहीं करना चाहिए।
यहाँ तक की अभी भी, बहुत से लोग जो प्रभु यीशु को अपना उद्धारकर्ता स्वीकार करते हैं, वे पापी बने हुए हैं क्योंकि वे उस सुसमाचार में विश्वास नहीं करते हैं जो परमेश्वर की धार्मिकता को प्रकट करता है। लोग परमेश्वर की व्यवस्था का पालन करके उसकी धार्मिकता प्राप्त नहीं कर सकते। जो लोग परमेश्वर की धार्मिकता के वचन में विश्वास करते हैं, उन्हें अपनी धार्मिकता के कार्यों को त्याग देना चाहिए। आपको याद रखना चाहिए कि यीशु उन लोगों के लिए ठोकर का पत्थर बन गया, जिन्होंने व्यवस्था के अपने कार्यों के द्वारा खुदका छूटकारा और परमेश्वर की धार्मिकता को प्राप्त करने की कोशिश की।
पानी और आत्मा का सुसमाचार, जो हमें परमेश्वर के द्वारा दिया गया है, वह सत्य है जो उन लोगों को छुटकारा देता है जो यीशु मसीह को अपने उद्धारकर्ता के रूप में मानते हैं, और जो परमेश्वर की धार्मिकता का अनुसरण करने वालों के साथ होना चाहिए। छुटकारे और अनन्त जीवन के लिए जो परम आवश्यक है वह है परमेश्वर की धार्मिकता के वचन में विश्वास, जो यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उनके लहू के माध्यम से प्रकट हुआ। यह वचन हमें बताता है कि मसीहीयों में से कौन पापों की क्षमा प्राप्त नहीं कर सकता है, और साथ ही, यह हमें सच्चाई सिखाता है कि जो लोग पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं वे परमेश्वर की धार्मिकता प्राप्त करेंगे।
इसलिए, सही विश्वास के लिए इस समझ की आवश्यकता है कि परमेश्वर ने लोगों के एक निश्चित समूह को बिना शर्त चुनने और उन्हें नरक में भेजने का निर्णय नहीं लिया। यदि परमेश्वर वास्तव में कुछ लोगों से प्रेम करता था जबकि वह मनमाने ढंग से दूसरों से घृणा करता था, तो लोग उसकी धार्मिकता का सम्मान नहीं करेंगे। 
पानी और आत्मा के सुसमाचार के द्वारा, परमेश्वर ने छुटकारे की धार्मिकता की व्यवस्था को सभी पापियों को उनके पापों से छुड़ाने के लिए निर्धारित किया है, और हमें उनके प्रेम को प्राप्त करने का महान आशीर्वाद दिया है। प्रत्येक व्यक्ति को परमेश्वर की धार्मिकता के द्वारा पानी और आत्मा के सुसमाचार के सामने खुद की धार्मिकता को फेंक देना चाहिए। परमेश्वर ने अपनी धार्मिकता केवल उन्हीं को दी है जो उस पर विश्वास करते हैं।
परमेश्वर ने लोगों को खुद की धार्मिकता के द्वारा स्वयं को पाप से बचाने में समर्थ नहीं होने दिया। पानी और आत्मा के सुसमाचार को परमेश्वर की धार्मिकता के रूप में विश्वास किए बिना, कोई भी व्यक्ति इस धार्मिकता को प्राप्त नहीं करेगा, भले ही फिर वह यीशु में विश्वास को स्वीकार कर ले (यूहन्ना ३:१-८)।
यीशु ने जो बपतिस्मा लिया और जो लहू उसने क्रूस पर बहाया, वह परमेश्वर की धार्मिकता बन गया है। यही कारण है कि यीशु उन लोगों के लिए ठोकर का पत्थर बन गए हैं जो अपनी धार्मिकता का अनुसरण करते हैं। इसलिए, यीशु में विश्वासियों को यह मानना और समझना चाहिए कि जब वे अपनी धार्मिकता का अनुसरण करते हैं, तो वे परमेश्वर की धार्मिकता को रौंद रहे होते हैं। कोई भी पापी परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास किए बिना स्वर्ग के द्वार में प्रवेश नहीं कर सकता। हम जो यीशु पर विश्वास करते हैं, उन्हें परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करके अपने पापों की क्षमा प्राप्त करनी चाहिए।
यीशु मसीह, जो इस पृथ्वी पर आया, वह पापियों का उद्धारकर्ता और स्वयं परमेश्वर की धार्मिकता है। हमें वास्तव में परमेश्वर की इस धार्मिकता में विश्वास करना चाहिए, क्योंकि यीशु ने पानी और आत्मा से अपने वचन के द्वारा हमारे पापों को माफ़ किया है। यीशु में विश्वासियों को उस बपतिस्मा पर विश्वास करना चाहिए जो उसने यूहन्ना से प्राप्त किया था और क्रूस पर उसके लहू पर परमेश्वर की धार्मिकता के रूप में विश्वास करना चाहिए। केवल वे ही जो पानी और आत्मा के लिखित वचन में विश्वास करते हैं, स्वर्ग में प्रवेश कर सकते हैं।
 

हमें क्रोध के पात्र और दया के पात्र में विभाजित होने के लिए कहा गया है

प्रभु ने कहा, “यदि मनुष्य सारे जगत को प्राप्‍त करे, और अपने प्राण की हानि उठाए, तो उसे क्या लाभ होगा? या मनुष्य अपने प्राण के बदले क्या देगा?” (मत्ती १६:२६) यदि कोई अपना अनन्त जीवन खो देता है, तो इस संसार में उसकी उपलब्धियाँ बेकार हैं, चाहे वे कुछ भी हों। भले ही उसने दुनिया या पूरे ब्रह्मांड पर विजय प्राप्त कर ली हो, लेकिन यदि उसने यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू पर विश्वास करके परमेश्वर की धार्मिकता प्राप्त नहीं की है तो उसका कोई मतलब नहीं है। 
कोई फर्क नहीं पड़ता कि कितने ही उच्च धार्मिक सिद्धांत विकसित किए गए हैं, लेकिन केवल पानी और आत्मा के सुसमाचार जिसने परमेश्वर की धार्मिकता को परिपूर्ण किया उस पर विश्वास करने के द्वारा ही कोई व्यक्ति इस धार्मिकता को प्राप्त कर सकता है और उस पर विश्वास कर सकता है। यीशु में विश्वास करने वाले अपने पापों से तभी मुक्त हो सकते हैं जब वे उस पर विश्वास करके परमेश्वर की धार्मिकता को प्राप्त करते हैं।
आजकल, ऐसे विश्वासियों को देखना आम बात है, जो परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करने का दावा करते हुए, हर सुबह की प्रार्थना सभा में अपने पापों की पीड़ा का अनुभव करते हैं। वे वास्तव में, परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास नहीं करते हैं। हमें यह समझना चाहिए कि ऐसे विश्वास जो उन लोगों द्वारा स्वीकार किए जाते हैं जो परमेश्वर की धार्मिकता के भीतर छुटकारे में विश्वास नहीं करते हैं, वे परमेश्वर को प्रसन्न नहीं करते हैं, लेकिन केवल उन्हें क्रोधित करते हैं। क्योंकि वे परमेश्वर की धार्मिकता के विरुद्ध हो गए, वे केवल उसके शत्रु बनकर जी सकते हैं।
यूहन्ना ३:५ हमें बताता है कि "जब तक कोई पानी और आत्मा से न जन्मे, वह परमेश्वर के राज्य में प्रवेश नहीं कर सकता।" इसलिए आपको पानी और आत्मा के सुसमाचार, और परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करके पाप की अपनी सभी समस्याओं का समाधान करना चाहिए। पानी और आत्मा का सुसमाचार परमेश्वर की धार्मिकता बन गया है जो आपको पापों की क्षमा और परमेश्वर की धार्मिकता दे सकता है। 
यदि आप उस तरह का विश्वास करना चाहते हैं जो आपको परमेश्वर की धार्मिकता में न्यायी ठहराएगा, तो आपको पानी और आत्मा के वचन का अनुसरण करना चाहिए और विश्वास करना चाहिए जिसमे यह धार्मिकता समाहित है। आपको यह भी समझना चाहिए कि, परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास से भरे हुए हृदय के लिए, आपको अपनी धार्मिकता को त्यागने की आवश्यकता है। पौलुस इस्राएलियों और अन्यजातियों दोनों से जो कह रहा है, वह यह है कि यदि वे परमेश्वर की धार्मिकता को प्राप्त करना चाहते हैं, तो उन्हें अपनी धार्मिकता की खोज को छोड़ देना चाहिए।
परमेश्वर ने इब्राहीम को परमेश्वर की धार्मिकता में उसके विश्वास के फल के रूप में एक पुत्र दिया। परमेश्वर की धार्मिकता पानी और आत्मा के वचन में प्रकट होती है। जो कोई धार्मिकता के वचन में विश्वास करता है, वह धर्मी बन जाता है। इसहाक की पत्नी रेबेका ने इसहाक के द्वारा जुड़वा बच्चों का गर्भ धारण किया, और उनके पैदा होने से पहले, या कोई अच्छा या बुरा काम करने से, उसे बताया गया था कि "बड़ा बेटा छोटे के आधीन होगा।" इस भाग से, कुछ लोग यह निष्कर्ष निकालते हैं कि परमेश्वर न्यायी परमेश्वर नहीं है और यह एक गलत निष्कर्ष है।
 
ऐसा इसलिए है क्योंकि परमेश्वर पहले से ही याकूब और एसाव के भविष्य के विश्वासों को जानता था, यानी कि वे अभी भी जब रेबेका के गर्भ में थे तभी। परमेश्वर की धार्मिकता का रहस्य पानी और आत्मा के सुसमाचार में छिपा है। क्योंकि एसाव एक ऐसा व्यक्ति था जो अपने भले कामों पर घमण्ड करता था, परमेश्वर ने देखा की उसका परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास के साथ कुछ भी लेना देना नहीं है, और इस कारण परमेश्वर ने उससे घृणा की। दूसरी ओर, याकूब ऐसा व्यक्ति था जो परमेश्वर की धार्मिकता पर विश्वास करता था और सारी महिमा उसी को देता था; इस प्रकार, परमेश्वर उससे प्रेम करने के अलावा और कुछ नहीं कर सकता था। 
परमेश्वर याकूब से प्रेम रखता और एसाव से बैर रखता, यह सत्य के आधार पर है। परमेश्वर एसाव जैसे लोगों की सराहना नहीं करता है, जिन्होंने परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास किए बिना अपनी सामर्थ पर घमंड किया, लेकिन वह याकूब जैसे लोगों से प्रसन्न होता है और प्रेम करता है, जो उसकी दुर्बलताओं को जानते थे और केवल परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करते थे। 
लोग अक्सर यह पूछकर परमेश्वर की धार्मिकता को गलत समझते हैं कि परमेश्वर इसहाक के साथ इस तरह से कैसे कार्य कर सकता है। वे सोचते हैं कि यदि परमेश्वर ने कुछ लोगों से प्रेम किया जबकि दूसरों से घृणा की, तो अवश्य ही परमेश्वर गलत होगा, और वे यीशु पर विश्वास करने से इंकार भी कर सकते हैं क्योंकि वे उसे अन्यायी परमेश्वर के रूप में समझते हैं। 
लेकिन परमेश्वर अन्यायी कैसे हो सकते हैं? यदि कोई परमेश्वर को अन्यायी मानता है, तो यह केवल इस तथ्य का प्रतिबिंब है कि उसे परमेश्वर की धार्मिकता की सही समझ नहीं है। इससे भी बढ़कर, यह वही लोग हैं, जो परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास न करके, उसकी धार्मिकता को अपनी मानवीय धार्मिकता से ढक देते हैं, जो परमेश्वर के सामने घोर अन्याय करता है। प्रत्येक व्यक्ति को अपनी धार्मिकता को परमेश्वर की धार्मिकता के आगे फेंक देना चाहिए और पानी और आत्मा के सुसमाचार के वचन पर विश्वास करना चाहिए। 
छुटकारे के वचन में विश्वास करने का यही एकमात्र तरीका है जिसमें परमेश्वर की धार्मिकता समाहित है। यह कि परमेश्वर अन्यायी है, आपकी अपनी कल्पना का एक टुकड़ा है, जो परमेश्वर के गहन उद्देश्य के बारे में आपकी अज्ञानता से उत्पन्न हुआ है, जो उसकी योजना और पूर्वनियति में स्थापित है। परमेश्वर की धार्मिक योजना हमारे सामने उसकी धार्मिकता को प्रकट करने की थी। क्योंकि परमेश्वर जुड़वा बच्चों के भविष्य के बारे में पहले से ही जानता था, परमेश्वर ने अपनी धार्मिकता के अनुसार योजना बनाई और जो विश्वास करता है उससे प्रेम करने लगा।
हमें उसकी योजना में परमेश्वर की धार्मिकता को समझना और उसमें विश्वास करना चाहिए। याकूब और एसाव के बीच, परमेश्वर ने किसको बुलाया? हमारे प्रभु ने कहा कि वह "धर्मियों को नहीं, परन्तु पापियों को बुलाने आया है।" दुसरे शब्दों में, परमेश्वर की धार्मिकता याकूब जैसे लोगों को बुलाती है। एसाव ने न केवल परमेश्वर की धर्मी बुलाहट का उत्तर न दिया, वरन अपनी धार्मिकता पर भी घमण्ड किया। यही कारण है कि एसाव से घृणा की जानी थी, जबकि याकूब ऐसा व्यक्ति बन गया जिसने परमेश्वर की धार्मिकता की पुकार का उत्तर दिया। 
बाइबल की इन सभी सच्चाइयों को उस विश्वास के भीतर समझा जाना चाहिए जो परमेश्वर की धार्मिकता के प्रेम को जानता और मानता है। यदि कोई परमेश्वर के धर्मी प्रेम के सही ज्ञान के बिना परमेश्वर की पूर्वनियति की पहेली को हल करने का प्रयास करता है, तो वह उसी जाल में फंस जाएगा जिसे उसने स्थापित किया है, जिससे उसका स्वयं का विनाश हो जाएगा।
परमेश्वर ने अपनी धार्मिकता के प्रेम को प्रकट करने के लिए पूर्वनियति निर्धारित की। याकूब एक ऐसा व्यक्ति था जो अपनी कमियों को पहचानता था और परमेश्वर की धार्मिकता के वचन में विश्वास करता था। यह कि परमेश्वर याकूब से प्रेम रखता था, जबकि वह एसाव से बैर रखता था, वह न्यायी है। परमेश्वर की दृष्टि में, हर कोई उसके क्रोध का पात्र है, परन्तु उसने हमें जो परमेश्वर की धार्मिकता पर विश्वास करते है उन्हें छूटकारा प्रदान किया। जो परमेश्वर के साम्हने दया के वस्त्र पहिने हुए हैं, वे वो हैं जो अपनी धार्मिकता पर घमण्ड नहीं करते, परन्तु परमेश्वर की धार्मिकता को अपना छुटकारा मानते हैं। ये वे लोग हैं जो स्वीकार करते हैं, "मैं अपने पापों के लिए नरक में दण्डित होने के योग्य हूँ। हे प्रभु परमेश्वर, मुझ पर दया कर, और मुझे अपना धर्म सिखा।” 
परमेश्वर केवल उन लोगों को पापों की माफ़ी देता है जो उसके धर्मी प्रेम में विश्वास करते हैं, और यह परमेश्वर की योजना है कि हम उसकी सन्तान बनें जिसे उसने पहले ही हम पर प्रकट कर दिया है। आपको याकूब से प्रेम करने और एसाव से घृणा करने की परमेश्वर की योजना को गलत नहीं समझना चाहिए। यदि किसी भी तरह से, आपने परमेश्वर की धार्मिकता को सही रीती से नहीं समझा है, तो अब समय आ गया है कि आप परमेश्वर की धार्मिकता में उसके धर्मी प्रेम पर फिर से विश्वास करें। 
मैं परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करता हूँ। जो लोग परमेश्वर के धर्मी प्रेम को सही रीती से समझ सकते हैं, वे उसकी धार्मिकता के भीतर परमेश्वर के धर्मी उपाय पर भी सही रीती से विश्वास कर सकते हैं। लेकिन इस दुनिया में बहुत कम लोगों को परमेश्वर की धर्मी योजना की सही समझ है और वे उस पर विश्वास करते हैं, और बहुत से लोग परमेश्वर के बारे में अपनी गलतफहमी से ग्रस्त हैं। 
ये लोग ऐसा सोचते हैं, क्योंकि पवित्रशास्त्र हमें बताता है कि परमेश्वर एसाव से घृणा करता था, कुछ लोगों को परमेश्वर द्वारा मनमाने ढंग से घृणा प्राप्त करने के लिए निर्धारित किया जाता है, जैसे कि यह उनका भाग्य है कि वे परमेश्वर से घृणा प्राप्त करे। लेकिन हमारा परमेश्वर ऐसा निरंकुश परमेश्वर नहीं है। परमेश्वर एक न्यायी है, जो अपनी धार्मिकता में सही और न्यायोचित है। परमेश्वर हम में से प्रत्येक को अपनी धर्मी दया और प्रेम देना चाहता है।
परमेश्वर हमें यीशु मसीह के माध्यम से अपनी धार्मिकता देना चाहता था, और उसने उन लोगों को धार्मिकता दी जो उसकी दया में उसकी धार्मिकता में विश्वास करते है और उन्हें अपनी सन्तान बनाया है।
यह सच्चाई नए नियम के मत्ती ९:१२-१३ में प्रकट होती है जहाँ यीशु कहते हैं, “वैद्य भले चंगों के लिए नहीं परन्तु बीमारों के लिए आवश्यक है। इसलिये तुम जाकर इसका अर्थ सीख लो : ‘मैं बलिदान नहीं परन्तु दया चाहता हूँ।’ क्योंकि मैं धर्मियों को नहीं, परन्तु पापियों को बुलाने आया हूँ।” जो स्वस्थ हैं, उन्हें वैध की कोई आवश्यकता नहीं है और वे उन्हें परेशान करने वाले भी सोच सकते हैं। जैसे लोग स्वस्थ होने पर वैध के महत्व को नहीं समझते हैं, वैसे ही वे परमेश्वर की धार्मिकता को अपने हृदय में विश्वास करने के महत्व को नहीं समझते है। वे परमेश्वर की धार्मिकता को न जानते हुए अपनी धार्मिकता का अनुसरण करने में लगे हैं। 
परन्तु पापियों को अपनी धार्मिकता को त्याग देना चाहिए और परमेश्वर की धार्मिकता पर विश्वास करना चाहिए। आप परमेश्वर के सामने या तो याकूब या तो एसाव हो सकते हैं। आप क्या बनना चाहते है? परमेश्वर की भेंट और दंड आपके निर्णय पर निर्भर करेगा कि आप परमेश्वर की धार्मिकता के छुटकारे में विश्वास करते हैं या नहीं।
 

परमेश्वर के पास कुछ भी गलत नहीं है

प्रत्येक व्यक्ति स्वभाव से एक प्रतिस्पर्धी प्राणी है। उनमें से कुछ अत्यधिक बुद्धिमान और सफल लोग हो सकते हैं, और कुछ ने दूसरों के लिए कई अच्छे काम किए होंगे। परन्तु परमेश्वर की धार्मिकता की समझ और विश्वास के बिना, उन्हें परमेश्वर की स्वीकृति प्राप्त नहीं होगी। हर कोई - आप और मैं, यहाँ तक कि इस्राएलियों को भी - परमेश्वर के सामने नरक के लिए नियत किया जाना था। इसके बावजूद, हमें अपने स्वयं के प्रयासों, कार्यों, या सामर्थ से नहीं, लेकिन केवल परमेश्वर की धार्मिकता में हमारे विश्वास के द्वारा धर्मी ठहराया गया है।
क्योंकि परमेश्वर ने निष्पक्ष और सही रूप से सभी को अपना धर्मी प्रेम दिया है, वे सभी जो इसमें विश्वास करते हैं वे अपने सभी पापों से मुक्त हो सकते हैं। परमेश्वर अन्यायी परमेश्वर नहीं है, जैसा कि आपने शायद उसे समझा होगा।
कोई व्यक्ति छुटकारे की परमेश्वर की आशीष प्राप्त करता है या नहीं यह इस बात पर निर्भर करता है कि वह इसे प्राप्त करने या अस्वीकार करने का निर्णय लेता है या नहीं। इसलिए कुछ लोग क्रोध के पात्र बन गए हैं तो कोई दया के पात्र बन गए हैं। यदि अलग रीती से कहे तो, याकूब दया का पात्र बन गया, जबकि एसाव क्रोध के पात्र के रूप में समाप्त हो गया।
लेकिन कुछ धर्मशास्त्री और जिनके पास पवित्र आत्मा नहीं है वे अक्सर परमेश्वर की निन्दा करते हैं। वे कहते हैं, “देखो, क्या परमेश्वर ने फिरौन को क्रोध का पात्र नहीं बनाया? याकूब और एसाव को देखो! रेबेका को देखो! देखो कुम्हार ने क्या किया है! क्या परमेश्वर ने आरम्भ से ही किसी को आदर का पात्र नहीं बनाया? यह केवल भाग्य हो सकता है!" उनका तर्क इस प्रकार है: कुछ लोगों को उनके जन्म से पहले ही परमेश्वर की सन्तान बनने के लिए चुना गया था; और ऐसे लोग जो पूर्वनियत थे और परमेश्वर के प्रेम को धारण करने के लिए चुने गए थे वे सभी उसकी सन्तान बन जाते हैं, जबकि अन्य नरक के लिए बाध्य होते हैं। इस तरह परमेश्वर के चुनाव पर हमला किया जाता है। परन्तु परमेश्वर ने अपनी धार्मिकता सब को दी, और वह उन लोगों को निष्पक्ष रूप से चुनता है जो उस पर विश्वास करते हैं।
हम परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करके धर्मी बन गए, जबकि वास्तव में, हम इससे पहले परमेश्वर लोग नहीं थे। परमेश्वर हमारे विश्वासों को स्वीकार कर सकता है क्योंकि हम उसके वचन के द्वारा पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करने के द्वारा धर्मी ठहराए गए है। यह सुसमाचार का सत्य है जो परमेश्वर की अद्भुत सामर्थ को दर्शाता है।
मूल रूप से हमारे अंदर कोई परमेश्वर नहीं था, हम उसे नहीं जानते थे और हम सभी पापी थे। परन्तु परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करके हम उसके लोग बन गए हैं। पानी और आत्मा का सुसमाचार, जिसमें हम विश्वास करते हैं, एक अधूरा सुसमाचार नहीं है, बल्कि पूर्ण और सिद्ध सुसमाचार है। हमें वह सत्य देने के लिए परमेश्वर की स्तुति करनी चाहिए जिसके द्वारा हम उसकी धार्मिकता प्राप्त कर सकते हैं।
हमारा जीवन मुसीबतों से भरा हो सकता है, लेकिन हमें परमेश्वर की धार्मिकता को नहीं भूलना चाहिए क्योंकि परमेश्वर ने हमें अपनी सामर्थ की महानता सिखाई है। पूरे ब्रह्मांड में सबसे सुखी व्यक्ति वह है जो परमेश्वर की धार्मिकता को जानता है। हममें से जो परमेश्वर में विश्वास करते हैं, उनके लिए त्रिएक परमेश्वर दया का पिता है। वह हमारे पवित्र परमेश्वर हैं। उसने हममें से जो उस पर विश्वास करते हैं, उनके मन में परमेश्वर की धार्मिकता पर विश्वास रखा। हमें उसकी धार्मिकता को जानने और उसमें विश्वास करने के द्वारा परमेश्वर की सन्तान और उसके अनुग्रह और आशीष को प्राप्त करनेवाला बनाया गया। 
फिर भी बहुत से लोग अभी भी अपने स्वयं के अच्छे काम करने के प्रयासों में व्यस्त हैं। भेंट देना, कलीसिया के लिए स्वयंसेवा करना, दूसरों के साथ प्रतिस्पर्धा में उससे भी बड़ा दान देना- आप सोच सकते हैं कि ये सभी अच्छे काम हैं, लेकिन वे अकेले आपको नहीं बचा सकते हैं और न ही बचाएंगे। केवल इन कार्यों पर ध्यान केंद्रित करना परमेश्वर की धार्मिकता में आपके विश्वास का संकेत नहीं है, बल्कि यह एक संकेत है कि आप अपनी धार्मिकता का अनुसरण कर रहे हैं। जो लोग अपने शरीर के प्रयासों में व्यस्त हैं, वे परमेश्वर के विरुद्ध जा रहे हैं। यह वे हैं जो परमेश्वर की धार्मिकता को नहीं जानते हैं जो शरीर की ऐसी चीजों में व्यस्त हैं। 
पवित्रशास्त्र हमें बताता है कि परमेश्वर का उद्धार उनको नहीं दया जाता जो उसके लिए दौड़ते है लेकिन केवल उन्हें दिया जाता है जो परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करते हैं। यह धार्मिकता हमारे दयालु परमेश्वर पर विश्वास करने से ही प्राप्त की जा सकती है। यह हमारे कार्यों से नहीं है कि हम परमेश्वर से प्रेम प्राप्त करते है, लेकिन केवल उसकी धार्मिकता में विश्वास करने से हम उसका दयालु प्रेम प्राप्त करते हैं। यही कारण है कि सच्चा विश्वास पूरी तरह से इस बात पर निर्भर करता है कि हम परमेश्वर की धार्मिकता को जानते और उस पर विश्वास करते हैं या नहीं। 
क्या हम शुरू से ही निकम्मे प्राणी नहीं थे? और क्या हम परमेश्वर की धार्मिकता में अपने विश्वास के कारण इतने महान नहीं बन गए हैं? हम परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करके और इस तथ्य पर गर्व करके कि हम अब उसकी संतान बन गए हैं, अपने विश्वासों को अंत तक बनाए रख सकते हैं। 
दुनिया में बहुत से ऐसे हैं जो बुराई करते हैं और दावा करते हैं कि कोई परमेश्वर नहीं है, लेकिन परमेश्वर ने हम पर दया की क्योंकि हम उनकी धार्मिकता में विश्वास करते है। हम वास्तव में परमेश्वर के सामने महान हैं, और परमेश्वर पर हमारा गर्व अच्छी तरह से योग्य है। हम इस पृथ्वी पर रहते हुए परीक्षणों और क्लेशों का सामना कर सकते हैं, लेकिन हम सभी आत्मिक रूप से समृद्ध और खुश हैं। हम सभी को परमेश्वर की धार्मिकता का पालन करना चाहिए और यीशु को ऊंचा उठाना चाहिए।
परमेश्वर ने सभी पापियों को अपने सामने अपनी सन्तान, पापरहित, धर्मी और सिद्ध बनाया। हमें यह समझना चाहिए कि परमेश्वर की धार्मिकता किस पर आती है। परमेश्वर की इस धार्मिकता ने हमारी सभी कमियों को दूर कर दिया है और हमारे सभी दोषपूर्ण पापों को दूर कर दिया है। आप इस सत्य पर विश्वास करते हैं या नहीं, यह पूरी तरह आप पर निर्भर करता है। आप भी, परमेश्वर की धार्मिकता के द्वारा अपने पापों से पूरी तरह बचाए गए है। ऐसे में आप क्या करेंगे? क्या आप विश्वास करने के अपने निर्णय को कल के लिए स्थगित कर देंगे?
परमेश्वर की धार्मिकता आपके साथ बनी रहे।