Bài giảng

विषय ९ : रोमियों (रोमियों की पत्री किताब पर टिप्पणी)

[अध्याय 12] परमेश्वर के सामने अपने मन को नया करे

“इसलिये हे भाइयो, मैं तुम से परमेश्‍वर की दया स्मरण दिला कर विनती करता हूँ कि अपने शरीरों को जीवित, और पवित्र, और परमेश्‍वर को भावता हुआ बलिदान करके चढ़ाओ। यही तुम्हारी आत्मिक सेवा है” (रोमियों १२:१)”
यह "उचित सेवा" क्या है, जिसका अनुवाद न्यू इंटरनेशनल वर्जन (NIV) में "आत्मिक सेवा के कार्य" के रूप में किया गया है, जिसे हमें परमेश्वर को देना चाहिए? परमेश्वर को उचित सेवा देने का अर्थ है अपने शरीर को उसके धर्मी कार्य करने के लिए समर्पित करना। चूँकि हम बचाए गए हैं, इसलिए हमें अपने शरीरों को अर्पण करने और धर्मी सुसमाचार के प्रसार के लिए परमेश्वर को स्वीकार्य होने की आवश्यकता है। हमें परमेश्वर को जो उचित सेवा देनी चाहिए, वह यह है कि हम अपने शरीरों को पवित्रता में अलग करके उन्हें सोंपना चाहिए। 
अध्याय 12 में, पौलुस इस बारे में बात करता है कि हमारी आत्मिक सेवा क्या है। यह इस संसार के अनुरूप नहीं होना चाहिए, लेकिन हमारे मनो के नवीनीकरण से रूपांतरित होना है, ताकि हम यह साबित कर सकें कि परमेश्वर की अच्छी, प्रसन्न और सिद्ध इच्छा क्या है।
उचित सेवा यह है कि हम अपना सारा शरीर और हृदय परमेश्वर को समर्पित कर दें। तो फिर, धर्मी लोग परमेश्वर के सामने ऐसा जीवन कैसे जी सकते हैं? पौलुस कहता है कि हमें इस दुनिया के अनुरूप नहीं होना चाहिए, लेकिन हमारे मन के नवीनीकरण से बदल जाना चाहिए, और हमें अपने शरीर को परमेश्वर के धार्मिक कार्यों के लिए समर्पित करना चाहिए। अपने हृदय और शरीर को अर्पण करते हुए, परमेश्वर की धार्मिकता पर विश्वास करना भी उचित सेवा है। 
यह भाग बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह हमें बताता है कि हमें इस दुनिया के अनुरूप नहीं होना चाहिए और इसके बजाय, हमें परमेश्वर के कार्यों की सेवा करनी चाहिए और अपने मन के नवीनीकरण के द्वारा रूपांतरित होना चाहिए। 
हम पहले अपने हृदयों को नवीनीकृत किए बिना आत्मिक आराधना नहीं दे सकते। यदि धर्मी जन परमेश्वर की धार्मिकता पर विश्वास करना बंद कर देते है तो वे भी अपने शरीर या हृदय परमेश्वर को नहीं दे सकते।
हम इस पीढ़ी से प्रभावित हो सकते हैं, जैसा कि पौलुस की पीढ़ी में हुआ था। क्योंकि हम इस पापी पीढ़ी के बहते प्रवाह के बीच में रहते हैं, यदि हम परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास नहीं करते तो हम अनिवार्य रूप से इस युग की धारा का अनुसरण कर रहे होते। यहां तक कि धर्मी लोग भी जो परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करते हैं, वे पूरी तरह से धर्मनिरपेक्ष प्रवाह से प्रभावित होने से बच नहीं सकते हैं, क्योंकि वे अपना जीवन सांसारिक लोगों के साथ जीते हैं। यही कारण है कि बाइबल हमें इस दुनिया के अनुरूप नहीं होने के लिए कहती है। 
तो फिर, धर्मी कैसे इस संसार के संपर्क में रहते हुए अपने पूरे ह्रदय और शरीर के साथ परमेश्वर को एक उचित आराधना, एक पवित्र बलिदान चढ़ा सकते हैं? यह केवल पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करने के द्वारा ही संभव है जो हमारे मनो को निरंतर नवीनीकृत करता है। धर्मी लोग जब अपने मन को नवीनीकृत करते हैं और परमेश्वर की धार्मिकता से परिवर्तित होते हैं तब वे परमेश्वर की अच्छी और सिद्ध इच्छा को जान सकते हैं और उनका पालन कर सकते हैं।
पौलुस सांसारिक मामलों की अपनी अज्ञानता के कारण ऐसा नहीं कह रहा है। न ही वह विश्वासियों को उनकी परिस्थितियों और क्षमताओं से अनजान रहते हुए, "चलो अच्छे बनें" कहकर धार्मिक शिक्षा दे रहे हैं। पौलुस हमें परमेश्वर की सेवा करने के लिए अपने ह्रदय को नवीनीकृत करने के लिए प्रोत्साहित कर रहा है क्योंकि वह अच्छी तरह से जानता है कि विश्वासियों को भी इस दुनिया के तरीकों से दूर किया जा सकता है। 
नया जन्म प्राप्त किया हो या न हो, भौतिक शरीर एक दूसरे से बहुत अलग नहीं हैं। लेकिन जो नया जन्म प्राप्त करते हैं और जो नहीं करते हैं, उनके बीच एक बड़ा अंतर है - यह परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास है। केवल धर्मी ही पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हुए अपने मन को निरंतर नवीनीकृत करके प्रभु का अनुसरण कर सकते हैं। 
तो फिर, कौनसी चीज हमारे ह्रदय को नवीनीकृत कर सकती है? सुसमाचार के वचन में विश्वास जो पाप से हमारे पूर्ण उद्धार की घोषणा करता है, वही हमारे हृदयों को नवीकृत करता है। प्रभु ने उन सभी पापों को क्षमा कर दिया है जो हमने अपनी कमजोरियों और शरीर की दुर्बलताओं में अपने शरीर और मन से किए हैं। धर्मी लोगों के मन को नवीनीकृत किया जा सकता है क्योंकि हमारे प्रभु ने अपने बपतिस्मा और क्रूस पर अपने लहू के साथ जगत के सभी पापों को क्षमा कर दिया है। दूसरे शब्दों में, हमारे मनो का नवीनीकरण किया गया है क्योंकि हम परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करते थे।
अब, हमें इस बात की सही समझ होनी चाहिए कि हम परमेश्वर के सामने क्या करते हैं। हमें यह समझना चाहिए कि उसकी सिद्ध इच्छा क्या है, वह हमसे क्या चाहता है, उसने हमें कौन से मिशन दिए हैं, और नया जन्म पाए हुए धर्मी जन को क्या करना चाहिए। हमें इन क्षेत्रों में अपने हृदयों को नवीनीकृत करना चाहिए और उसकी सेवा करनी चाहिए। परमेश्वर की इच्छा है कि हम अपने शरीर और मन को उसके लिए पवित्र बलिदान के रूप में समर्पित करते हुए सोंप दे। जब हम अपने मन को नवीनीकृत करते हैं तो हम स्वयं को उसके लिए बलिदान के रूप में दे सकते हैं। हमारे मनो को नवीनीकृत करने से यह विश्वास होता है कि परमेश्वर ने हमारे सभी पापों को दूर कर दिया है।
जिन्होंने नया जन्म प्राप्त किया है और जिन्होंने नहीं किया उनके बिच अंतर होता है। केवल धर्मी ही परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करके अपने मन को नवीनीकृत कर सकते हैं। हम, धर्मी, अपने हृदयों को शुद्ध करके और नवीनीकृत होकर देह की सांसारिक अभिलाषाओं का इन्कार करके, हमेशा विश्वास से परमेश्वर को प्रसन्न करने वाले कार्य कर सकते हैं। धर्मी पापियों से अलग हैं क्योंकि वे अपने दिलों को नवीनीकृत कर सकते हैं और हमेशा सेवा कर सकते हैं और प्रभु के साथ चल सकते हैं। 
 

आपको अपने ह्रदय को विश्वास से नवीनीकृत करना चाहिए

टीवी पर कई सेलिब्रिटीज हैं। इस दुनिया के लोग इन सेलेब्रिटीज के स्टाइल और फैशन की नकल करने की कोशिश में लगे हैं। हम टीवी देखकर आसानी से नए दौर को जान सकते है। हम रिमोट कंट्रोल से दुनिया को खोल सकते हैं। क्या आपका जीवन इस संसार के अनुरूप नहीं है?
मुझे लगता है कि यह दुनिया तेजी से बदल रही है। यद्यपि हम अभी पैसे साथ में लेकर चलते है, हम अंततः इलेक्ट्रॉनिक धन और इलेक्ट्रॉनिक कार्ड ले जाएंगे। यदि इन इलेक्ट्रॉनिक कार्डों को खोना एक उपद्रव बन जाता है, तो हमें बेहतर सुविधा के लिए हमारे हाथों या माथे में बार कोड प्राप्त करने के लिए कहा जाएगा। मुझे यह भी लगता है कि उस समय कई प्राकृतिक आपदाएँ होंगी। आइए हम ऐसे समय के आने से पहले अपने दिमाग को नवीनीकृत करने और परमेश्वर के सुसमाचार को फैलाने में अपना मन लगाएं ताकि हम, धर्मी, इस दुनिया के अनुरूप न हों। 
मैं हर जागृत अवस्था में परमेश्वर की सेवा करने के बारे में सोचता हूँ। मैं अब उस सुसमाचार को परिश्रम से फैलाना चाहता हूँ जिसमें परमेश्वर धार्मिकता समाहित है क्योंकि जब हमारे हाथों और माथे पर बार कोड डालने का समय आएगा तो परमेश्वर के वचन का प्रसार करना संभव नहीं होगा। मैं परमेश्वर की इच्छा का पालन करने के लिए अथक प्रयास कर रहा हूँ। शायद मैं तभी आराम कर पाऊंगा जब वह दिन आएगा जब मैं काम नहीं कर पाउँगा। वह क्षण आने पर मैं अपनी सारी संपत्ति जरूरतमंदों को भी दे सकता हूँ। 
लेकिन अभी के लिए, मैं केवल परमेश्वर की इच्छा का पालन कर सकता हूँ, दुनिया से अलग और उसके अनुरूप नहीं हूँ। रोम में बहुत से धर्मी जो पौलुस द्वारा प्रचारित सुसमाचार द्वारा बचाए गए थे, बीतते समय के साथ, दुनिया के अनुरूप हो गए और हमारे प्रभु से दूर चले गए। हमें इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि हम उनके पदचिन्हों पर न चलें।
जब रोम के विश्वासी इस संसार के अनुरूप हो रहे थे तब पौलुस ने इस भाग को चिंता के कारण लिखा। "आपके शरीर इस दुनिया के अनुरूप हैं, लेकिन एक बहुमूल्य चीज है जो आप कर सकते हैं। अपने दिमाग को नवीनीकृत करें। क्या प्रभु ने आपके सारे पापों को नहीं छुड़ाया है? परमेश्वर के धर्मी सुसमाचार को याद रखें और सोचें कि उसे क्या भाता है। अपने दिमाग को नवीनीकृत करें और शारीरिक रूप से नहीं लेकिन आत्मिक रूप से विचार करके संपूर्ण और स्वीकार्य कार्य करें।" यह वही है जिसके बारे में पौलुस ने रोम के विश्वासियों को और साथ ही आज हमें भी चिताया है।
हालाँकि हम बाहरी रूप से इस दुनिया के अनुरूप नहीं होने का दिखावा करते हैं, लेकिन सच्चाई यह है कि हम जगत के सदृश है। फिर भी, हम अभी भी अपने मन को नवीनीकृत करके प्रभु की सेवा कर सकते हैं। हालाँकि हमारी कमजोरी में हमें इस दुनिया के अनुरूप नहीं होना मुश्किल लगता है, फिर भी हम मानते हैं कि हमारे परमेश्वर ने हमारे सभी पापों को परमेश्वर की धार्मिकता से दूर कर दिया है। इस तरह हम हमेशा परमेश्वर की धार्मिकता में अपने विश्वास के साथ उसके धार्मिक कार्यों की सेवा कर सकते हैं। हम उस पर विश्वास करके परमेश्वर की अच्छी और सिद्ध इच्छा का पूरी तरह से पालन कर सकते हैं। 
हमें हर पल अपने दिमाग को नवीनीकृत करना चाहिए। क्योंकि धर्मी, जो इस दुनिया के लिए मर चुके हैं, सांसारिक लोगों की तुलना में अधिक शुद्ध हैं, उन्हें धर्मनिरपेक्ष लोगों की तुलना में गलत विचारों, दिमागों और शरीरों में पतित होने का अधिक जोखिम है। इसलिए हमें हमेशा परमेश्वर की धार्मिकता में अपने विश्वास के साथ अपने दिलों की रक्षा करनी चाहिए। 
चूँकि मसीह ने हमारे सभी पापों को उठा लिया है, इसलिए हमें केवल विश्वास में दृढ़ रहने की आवश्यकता है और इस तथ्य के प्रति आश्वस्त होना चाहिए कि हमारा विश्वास सिद्ध हो गया है। क्या आप विश्वास करते हैं कि हमारे परमेश्वर ने अपनी धार्मिकता से आपके सभी पापों को दूर कर दिया है? यदि आप विश्वास करते हैं, तो आप अपने अतीत की सभी अधर्म की परवाह किए बिना विश्वास से हमारे परमेश्वर के कार्य कर सकते हैं, क्योंकि प्रभु ने आपके पापों के सभी न्याय और दंड को आपसे दूर कर दिया है। 
हमें पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करके अपने मन को नवीनीकृत करना चाहिए। यह बहुत महत्वपूर्ण है। यदि हम इस अंतिम युग में पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करके अपने मन को नवीनीकृत नहीं करते हैं, तो हम सभी अंत में कलीसिया को छोड़ देंगे और मर जाएंगे। 
निरंतर नवीनीकरण के विश्वास का जीवन जीना साइकिल पर सवार होकर ढलान चढ़ने के समान है। मन का नवीनीकरण न करना चढ़ाई के रास्ते में रुकने और पैडल पर दबाव न डालने के समान है। यदि आप पैडल नहीं दबाते हैं, तो आप न केवल रुकेंगे, बल्कि आप वास्तव में पीछे खिसकेंगे और नीचे की ओर दुर्घटनाग्रस्त हो जाएंगे।
यही सिद्धांत परमेश्वर की धार्मिकता में हमारे विश्वास पर लागू होता है। हम साइकिल पर चढ़ाई चढ़ रहे हैं। केवल हमारी ताकत और इच्छाशक्ति से छोटी पर पहुंचना मुश्किल है। हमें परमेश्वर की धार्मिकता को थामे रहने की जरूरत है, क्योंकि हम अभी भी अपनी देह में हैं। एक क्षण भी बिना दैहिक विचारों के नहीं गुजरता। 
जब भी हमारी सामर्थ ख़तम हो जाती हैं, तो देह में हमारी इच्छा आसानी से हार मान लेने के लिए उपयुक्त होती है। "मैं यह नहीं कर सकता। मैं इसके अनुकूल नहीं हो सकता। मेरी इच्छा शक्ति कितनी कमजोर है, लेकिन उस भाई की इच्छा शक्ति वास्तव में प्रबल है। मेरे पास सामर्थ नहीं है, लेकिन उस बहन के पास बहुत सामर्थ है। मैं उन भाइयों और बहनों की तुलना में बहुत कमजोर हूँ। वे परमेश्वर की सेवा करने के लिए उपयुक्त प्रतीत होते हैं, लेकिन मैं नहीं।” जो कोई भी परमेश्वर की धार्मिकता पर विश्वास नहीं करता और उसे थामे नहीं रहता, वह अंत में पैडल पर दबाव डालना बंद कर देगा और नीचे की ओर दुर्घटनाग्रस्त हो जाएगा। 
क्या यह बात कुछ गिने-चुने लोगों पर ही लागू होती है? बिलकूल नही। यह सभी पर लागू होता है। एक अच्छी तरह से प्रशिक्षित साइकिल चालक आसानी से चढ़ाई कर सकता है, लेकिन एक कमजोर व्यक्ति के लिए ऐसा करना कठिन होगा। हालाँकि, धर्मी लोगों के लिए समस्या उनकी शारीरिक सामर्थ में नहीं है - यह पानी और आत्मा के सुसमाचार में उनके विश्वास को बनाए रखने में है। केवल शारीरिक सामर्थ से आत्मिक शिखर तक पहुंचना असंभव है। शारीरिक रूप से कमजोर या मजबूत होने का इससे कोई लेना-देना नहीं है। 
याद रखें कि कोई भी व्यक्ति विश्वास का जीवन सिर्फ इसलिए नहीं जी सकता क्योंकि उसके पास दृढ़ इच्छाशक्ति है। आपको अपनी तुलना दूसरों से नहीं करनी चाहिए और निराश नहीं होना चाहिए। केवल परमेश्वर की धार्मिकता को थामे रहो। यदि हम परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास के साथ अपने मनों को निरंतर नवीकृत करते हैं, तो प्रभु हमें खींच लेंगे। उद्धार का सुसमाचार जो हमने प्राप्त किया, वह हमारे हृदयों में बोया जाएगा और यदि हम प्रतिदिन अपने हृदयों की जाँच करें तो प्रभु हमें थामे रहेंगे। हमें परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करके और परमेश्वर का कार्य करने के द्वारा अपने अशुद्ध मन को शुद्ध करना चाहिए। 
मैं अपने परमेश्वर को उनकी कृपा के लिए धन्यवाद देता हूँ जिसने हमें अपने दिमाग को नवीनीकृत करके उनकी सेवा करने की अनुमति दी है। हमारे मन को नवीनीकृत करने के द्वारा, हमारे परमेश्वर ने हमें अपने विश्वास के साथ हमेशा उसके सामने दौड़ने की अनुमति दी है। 
 

क्योंकि मैं जानता हूँ की मुझ में कोई अच्छी वस्तु वास नहीं करती

पौलुस रोमियों ७:१८ में कहता है, “क्योंकि मैं जानता हूँ कि मुझ में अर्थात् मेरे शरीर में कोई अच्छी वस्तु वास नहीं करती। इच्छा तो मुझ में है, परन्तु भले काम मुझ से बन नहीं पड़ते।” पौलुस अच्छी तरह से जानता था की उसकी देह कोई अच्छी वस्तु नहीं थी। देह में कोई अच्छी वस्तु वास नहीं करती यही नियम है। 
पौलुस ने स्वीकार किया कि उसके शरीर में कुछ भी अच्छा वास नहींकरता था। वह जानता था कि वह व्यवस्था से कितना भी प्यार करता हो और उसके अनुसार जीने की कितनी भी कोशिश कर ले, वह इसे नहीं कर सकता। हृदय स्वयं को प्रभु का अनुसरण करने के लिए नवीनीकृत करना चाहता है, लेकिन शरीर निरंतर आत्मिक युद्धक्षेत्रों से पीछे हटना चाहता है। 
इसी लिए पौलुस रोमियों ७:२१-२४ में विलाप करता है, “इस प्रकार मैं यह व्यवस्था पाता हूँ कि जब भलाई करने की इच्छा करता हूँ, तो बुराई मेरे पास आती है। क्योंकि मैं भीतरी मनुष्यत्व से तो परमेश्‍वर की व्यवस्था से बहुत प्रसन्न रहता हूँ। परन्तु मुझे अपने अंगों में दूसरे प्रकार की व्यवस्था दिखाई पड़ती है, जो मेरी बुद्धि की व्यवस्था से लड़ती है और मुझे पाप की व्यवस्था के बन्धन में डालती है जो मेरे अंगों में है। मैं कैसा अभागा मनुष्य हूँ! मुझे इस मृत्यु की देह से कौन छुड़ाएगा?” 
पौलुस ने अपने शरीर को कैसे परिभाषित किया? उसने इसे "मृत्यु के शरीर" के रूप में परिभाषित किया। आपके शरीर के बारे में क्या? क्या यह भी मृत्यु का शरीर नहीं है? निश्चित रूप से यह है! शरीर आप ही मृत्यु का शरीर है। यह केवल पाप करना चाहता है और जहां पापों की अधिकता है वहां जाना चाहता है। “मैं कैसा अभागा मनुष्य हूँ! मुझे इस मृत्यु की देह से कौन छुड़ाएगा?” और इसी लिए पौलुस कहता है, “हमारे प्रभु यीशु मसीह के द्वारा परमेश्‍वर का धन्यवाद हो। इसलिये मैं आप बुद्धि से तो परमेश्‍वर की व्यवस्था का, परन्तु शरीर से पाप की व्यवस्था का सेवन करता हूँ” (रोमियों ७:२५)।
पौलुस बताते हैं कि दो प्रकार की व्यवस्था हैं। पहली देह की व्यवस्था है। यह केवल देह की इच्छाओं का पालन करना चाहता है और देह के उन विचारों में वास करता है जो परमेश्वर को प्रसन्न करने वाले के बिल्कुल विपरीत हैं। 
दूसरा जीवन की आत्मा की व्यवस्था है। आत्मा की व्यवस्था हमें उस सही मार्ग पर ले जाना चाहता है जिस पर परमेश्वर चाहता है कि हम उसका अनुसरण करें। आत्मा की व्यवस्था वह चाहती है जो शरीर की व्यवस्था के विपरीत हो। हम मसीही दोनों के बीच में फंस गए हैं, यह तय करने की कोशिश कर रहे हैं कि कहां जाना है। 
हम कभी-कभी उसका अनुसरण करते रहते हैं जो हमारा शरीर चाहता है, लेकिन जब हम अपने मन को नवीनीकृत करते हैं तब हम आत्मा द्वारा इच्छित परमेश्वर के कार्य का अनुसरण करते हैं। हम ऐसा क्यों करते हैं—अर्थात, अपने शरीरों को परमेश्वर के बलिदान के रूप में अर्पित करना और फिर तुरंत देह के कार्यों को करना—यह इसलिए है क्योंकि हम सभी के पास देह है। इस प्रकार, हमें हमेशा पवित्र आत्मा के द्वारा अपने मनों को नवीनीकृत करना चाहिए।
हालाँकि हम बचाए गए है फिर भी हम आसानी से इस दुनिया के अनुरूप हो जाते हैं क्योंकि हम अभी भी देह में हैं। क्योंकि इस दुनिया में हर कोई अपना जीवन दुनिया के अनुरूप जीता है, हम आसानी से उनसे प्रभावित होते हैं। ऐसे में, केवल एक ही तरीका है जिससे हम परमेश्वर का अनुसरण कर सकते हैं, और वह है अपने मन को नवीनीकृत करना। हम हमेशा अपने मन को विश्वास में नवीनीकृत करके जी सकते हैं। इस तरह जब तक प्रभु फिर से नहीं आता तब तक हम हमेशा अपने प्रभु का अनुसरण कर सकते हैं। 
केवल अपने शरीर को देखते हुए, हम में से कोई भी प्रभु के धर्मी कार्यों का अनुसरण नहीं कर सकता है, और हम सभी विनाश के लिए अभिशप्त हैं। लेकिन हम अपने दिमाग को नवीनीकृत करके और अपने पूरे दिल से उसकी धार्मिकता को धारण करके प्रभु का अनुसरण कर सकते हैं। हमें अपने मन को नवीनीकृत करना चाहिए और उसका अनुसरण करना चाहिए। इसलिए रोमियों ८:२ में पौलुस ने कहा, “क्योंकि जीवन की आत्मा की व्यवस्था ने मसीह यीशु में मुझे पाप की और मृत्यु की व्यवस्था से स्वतंत्र कर दिया।”
क्योंकि जो काम व्यवस्थाशारीर के कारण दुर्बल होकर न कर सकी उसे मसीह ने परमेश्वर की धार्मिकता के द्वारा किया। जैसा कि रोमियों ८:३ में कहा गया है, “क्योंकि जो काम व्यवस्था शरीर के कारण दुर्बल होकर न कर सकी, उस को परमेश्‍वर ने किया, अर्थात् अपने ही पुत्र को पापमय शरीर की समानता में और पापबलि होने के लिये भेजकर, शरीर में पाप पर दण्ड की आज्ञा दी।”
परमेश्वर ने अपने इकलौते पुत्र यीशु मसीह को इस संसार में भेजा और उनके शरीर में हमारे पापों का दण्ड दिया। कि "उसने शरीर में पाप पर दण्ड की आज्ञा दी" का अर्थ है कि हमारे सभी पापों को दूर कर दिया गया और इस प्रकार हम पाप रहित हो गए। परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करने के द्वारा हम अपने पापों से मुक्त हुए। व्यवस्था के न्याय की मांगों को पूरा करने के लिए, परमेश्वर ने अपने पुत्र को हमारे सभी पापों को अपने बपतिस्मा और क्रूस पर लहू के माध्यम से दूर करने और हमें दुनिया के सभी पापों से बचाने के लिए भेजा। 
इस उद्धार को प्राप्त करने के बाद, दो प्रकार के लोग प्रकट होते हैं: वे जो शरीर के अनुसार जीते हैं और शरीर की बातों पर अपना मन लगाते हैं, और वे जो आत्मा के अनुसार जीते हैं और आत्मा की बातों पर अपना मन लगाते हैं। आपको समझना चाहिए कि शरीर के विचार आपको मृत्यु की ओर ले जाते हैं, लेकिन आत्मा के विचार आपको जीवन और शांति की ओर ले जाते हैं। दैहिक मन परमेश्वर के खिलाफ द्वेष कर रहे हैं। 
क्योंकि हम न तो परमेश्वर की व्यवस्था के अधीन हैं, और न हो सकते है (रोमियों ८:७)। यहाँ तक कि नया जन्म पाए हुए धर्मी जन भी यदि अपने मन का नवीनीकरण नहीं करते तो वे भी शरीर के विचारों में गिरेंगे। यदि हम विश्वास नहीं करते हैं कि परमेश्वर ने हमारे सभी पापों को दूर कर दिया है, और इस प्रकार हमारे मन को नवीनीकृत नहीं करते हैं, तो हम आसानी से देह के कार्यों में पड़ सकते हैं और प्रभु का अनुसरण नहीं कर सकते। इसलिए हमें हमेशा अपने मन को नवीनीकृत करना चाहिए। 
पौलुस ने कहा कि हम, नया जन्म पाए हुए धर्मी, या तो शरीर के विचारों का अनुसरण करके शरीर में गिर सकते हैं या अपने मनों को नवीनीकृत करके आत्मा के विचारों का अनुसरण कर सकते हैं। हम दोनों के बीच झूल रहे हैं। लेकिन पौलुस फिर भी कहता है, परन्तु जब कि परमेश्‍वर का आत्मा तुम में बसता है, तो तुम शारीरिक दशा में नहीं परन्तु आत्मिक दशा में हो। यदि किसी में मसीह का आत्मा नहीं तो वह उसका जन नहीं। “परन्तु तुम शरीर में नहीं परन्तु आत्मा में हो, यदि सचमुच परमेश्वर का आत्मा तुम में वास करता है। अब यदि किसी में मसीह का आत्मा नहीं है, तो वह उसका नहीं" (रोमियों 8:9)। 
हम परमेश्वर के आत्मिक लोग हैं। दुसरे शब्दों में, हम परमेश्वर के लोग हैं। भले ही हम दुनिया की वासनाओं का अनुसरण करते हैं और अपनी कमजोरी में उनके अनुरूप होते हैं, फिर भी हम फिर भी नया जन्म पाए हुए लोग है। जब हम शरीर की बातों पर मन लगाते हैं, तो हम शरीर में गिर जाते हैं, परन्तु क्योंकि पवित्र आत्मा हम में वास करता है, इसलिए हम मसीह के लोग हैं। दूसरे शब्दों में कहें तो हम धर्मी बने है, परमेश्वर के लोग बने है। 
पौलुस ने कहा, हमारे शरीर मसीह के द्वारा मर चुके हैं। और उसने आगे कहा, "और यदि मसीह तुम में है, तो देह पाप के कारण मरी हुई है, परन्तु आत्मा धर्म के कारण जीवित है" (रोमियों ८:१०)। हमारे आत्मिक विचार जागृत होने चाहिए। हम अभी भी कमजोर हैं, और हमारी मृत्यु के समय तक हमारे शरीर आसानी से भटक जाएंगे। लेकिन हमारे दिमाग और विचारों को हमेशा परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करने के द्वारा नवीनीकृत किया जाना चाहिए।
जब भी हमें अपने अंदर पाप की इच्छा का एहसास होता है, तो आइए हम अपनी आँखें परमेश्वर की धार्मिकता पर लगाएं। तब हम जान सकते हैं कि प्रभु की धार्मिकता ने हमारे सभी पापों को दूर कर दिया है। परमेश्वर की धार्मिकता को देखो और विश्वास करो। हमारे सभी पापों को दूर करने और परमेश्वर के कार्यों के बारे में सोचने के लिए उसे धन्यवाद दें। इस बारे में सोचें कि परमेश्वर की सिध्ध और उसे प्रसन्न करनेवाली इच्छा क्या है। तब आपका मन हमेशा के लिए नया हो जाएगा। 
हमें विश्वास के द्वारा अपने मनों को नवीकृत करना चाहिए और अपने मन को उन बातों में लगाना चाहिए जो परमेश्वर को प्रसन्न करती हैं। धर्मी जन को ऐसे ही जीना चाहिए। केवल ऐसा करने से ही हम प्रभु की वापसी तक उनका अनुसरण कर सकते हैं। मुझे पता है कि हम सभी अपने दैनिक जीवन से थक चुके हैं। काम करना कठिन है, और कलीसिया में आना कठिन है। सभी को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। कभी-कभी, मैं यीशु से ईर्ष्या भी करता हूँ जब उसने अपनी मृत्यु के समय कहा, "पूरा हुआ।" मुझे विश्वास है कि हम भी, "पूरा हुआ" ऐसा कह सकेंगे और इन सभी कठिनाइयों से मुक्त हो पायेंगे।
हमारे प्रभु का दूसरा आगमन निकट है। तब तक, आइए हम इस दुनिया के अनुरूप हुए बिना अपने मन को नवीनीकृत करें। क्योंकि प्रभु का अनुसरण करने के लिए हमारे दिलों को परमेश्वर की धार्मिकता को थामे रहने की जरूरत है, हमारे दिमागों को लगातार नवीनीकृत किया जाना चाहिए। इस तरह हम प्रभु की वापसी तक उनका अनुसरण कर सकते हैं। समय निकट है।
 
मैंने हाल ही में एक अखबार के लेख को पढ़ा जिसमें बताया गया था कि अंटार्कटिक ओजोन छिद्र महाद्वीपीय संयुक्त राज्य अमेरिका के आकार से तीन गुना बड़ा था। मैंने मिसाइल रक्षा पहल के बारे में एक और लेख भी पढ़ा। इस प्रणाली का उद्देश्य मध्य हवा में बैलिस्टिक मिसाइलों को मार गिराना है, और प्रारंभिक प्रयोग सफल रहे हैं। इन घटनाओं के निहितार्थ स्पष्ट हैं: जैसे-जैसे सैन्य शक्ति की विनाशकारी क्षमता कई गुना बढ़ जाती है, पर्यावरण तेजी से नष्ट हो जाएगा।
यदि कोई देश अपनी सैन्य शक्ति बढ़ाता है, तो क्या उसके प्रतिद्वंद्वी भी इस वृद्धि की बराबरी करने के लिए अपनी सैन्य शक्ति नहीं बढ़ाएंगे? जब एक देश अपनी शक्ति में बढ़ोतरी करता है तब दुनिया के सभी राष्ट्र सिर्फ बेकार खड़े रहकर उसे देखेंगे नहीं। अगर इन महान शक्तियों के बीच युद्ध छिड़ जाए तो क्या होगा? 
जब कुछ राष्ट्रों ने परमाणु हथियार विकसित करने की कोशिश की, तो महान शक्तियों ने उन्हें परमाणु क्षमता हासिल करने से रोकने की बहुत कोशिश की। लेकिन बता दें कि इस तरह के निवारक प्रयास विफल हो गए थे और यह कि देश सामूहिक विनाश के हथियार हासिल करने में सक्षम था और उनका इस्तेमाल करने की धमकी दी थी। फिर, बाकी दुनिया ने निश्चित रूप से इस स्थिति से निपटने के लिए नए हथियार विकसित करने की कोशिश की।
इस तरह के नए हथियार इस दुनिया को परमाणु हथियारों से कहीं अधिक ताकत से तबाह कर देंगे। युद्ध अब पहले की तरह बंदूकों से नहीं लड़ा जाता। मनुष्यों को मारने से कुछ नहीं होगा; पूरे शहर या पूरे देश एक पल में मिटा दिए जाएंगे। परमाणु युद्ध स्थानीय नहीं होगा लेकिन विश्व युद्ध की ओर ले जाएगा। पहले से ही इस तरह के युद्ध से तबाह, प्राकृतिक आपदाओं के रूप में और भी अधिक विनाश दुनिया का इंतजार करेगा। ओजोन परत अधिक तेजी से नष्ट हो जाएगी, और वनों की कटाई से आग की लहरें और तूफान लगातार उठेंगे। तब मसीह-विरोधी बड़ी शक्ति के साथ प्रकट होंगे और इस संसार पर विजय प्राप्त करेंगे।
आप कह सकते हैं कि मैं इस परिदृश्य को चरम पर ले जा रहा हूँ, लेकिन मानव स्वभाव अपने मूल सिद्धांतों में बुरा है। राष्ट्र सेनाओं का निर्माण करते हैं और नए हथियार विकसित करते हैं, जिनका उपयोग कभी भी अच्छे उद्देश्यों के लिए नहीं किया जा सकता है। परमाणु हथियारों का मिलन सामूहिक विनाश के हथियारों की एक ही नस्ल से ही किया जा सकता है। देश एक दूसरे पर वार करेंगे ताकि वे खुद बच सकें। अन्य राष्ट्र विश्व प्रभुत्व की तलाश करने वाले किसी एक देश के खिलाफ संतुलन बनाने का प्रयास करेंगे। कोई फर्क नहीं पड़ता कि इरादे क्या होंगे, एक बार किए गए परमाणु हथियारों और सैन्य क्षमताओं का उपयोग केवल बुरे उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है।
बहुत पहले, पौलुस ने रोम के विश्वासियों से कहा था कि वे इस संसार के अनुरूप न हों, परन्तु अपने हृदयों को नया करके प्रभु का अनुसरण करें। यह हमारे लिए जो वर्त्तमान युग में जीवन जी रहे है उनके लिए बहुत उपयुक्त भाग है। इन अंतिम दिनों में, हमें यह समझना चाहिए कि परमेश्वर की भली, मनभावन और सिद्ध इच्छा क्या है, और अपने विश्वास के साथ प्रभु का अनुसरण करें।
हालाँकि हमारे पास बहुत सी कमियाँ हैं, हमारे प्रभु सर्वशक्तिमान परमेश्वर हैं। सर्वशक्तिमान हम में पवित्र आत्मा के रूप में वास करता है। यद्यपि हमारे भौतिक शरीर कमजोर हो सकते हैं, हम में पवित्र आत्मा बहुत मजबूत है। यह पवित्र आत्मा वचन में विश्वास के द्वारा हमारे मनों को नवीनीकृत करता है ताकि हम प्रभु का अनुसरण करने में सक्षम हो सकें। 
आइए हम सभी पवित्र आत्मा की सामर्थ पर निर्भर हों, अपने मन को नवीनीकृत करें, और प्रभु की सेवा करें। यदि हम परमेश्वर की सेवा करते है उसी समय प्रभु हमारे पास लौटते हैं, तो आइए हम उसके साथ चलें। मसीह की वापसी के इस दिन तक, हम परमेश्वर की धार्मिकता को फैलाने के लिए जीवित रहेंगे। परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करके अपने मन को नवीनीकृत करें।