उपदेश

विषय ९ : रोमियों (रोमियों की पत्री किताब पर टिप्पणी)

[अध्याय 15] आइये हम पूरी दुनिया में सुसमाचार का प्रसार करे

“अत: हम बलवानों को चाहिए कि निर्बलों की निर्बलताओं को सहें, न कि अपने आप को प्रसन्न करें। हम में से हर एक अपने पड़ोसी को उसकी भलाई के लिये प्रसन्न करे कि उसकी उन्नति हो” (रोमियों १५:१-२)। 
जो लोग परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करते हैं, उन्हें अपनी धार्मिकता की खोज नहीं करनी चाहिए क्योंकि यीशु मसीह ने भी अपनी धार्मिकता की खोज नहीं की थी। धर्मी लोग परमेश्वर के राज्य के लिए जीते हैं और दूसरों की भलाई के लिए सुसमाचार फैलाते हैं। पौलुस ने कहा कि बलवानों को चाहिए कि निर्बलों की निर्बलताओं को सहे, न की अपने आप को प्रसन्न करे। 
परमेश्वर की धार्मिकता के विश्वासियों को सुसमाचार का प्रचार करना चाहिए ताकि वे यीशु मसीह के बपतिस्मा और लहू से दूसरों के पापों को शुद्ध कर सकें। यही कारण है कि परमेश्वर उन लोगों से घृणा करता है जो आलसी हैं और पापियों को बचाने के लिए सुसमाचार नहीं फैलाते हैं। इसलिए हमें अपनी धार्मिकता की खोज नहीं करनी चाहिए, बल्कि परमेश्वर की धार्मिकता को दूसरों तक फैलाना चाहिए। हमें पानी और आत्मा का सुसमाचार सुनाना चाहिए ताकि पापियों को विश्वास के द्वारा बचाया जा सके। हमें एक दूसरे को सुधारना भी चाहिए। 
 

दुसरे व्यक्ति की नींव पर विश्वास का घर मत बनाओ

वचन २० कहता है, “पर मेरे मन की उमंग यह है कि जहाँ जहाँ मसीह का नाम नहीं लिया गया, वहीं सुसमाचार सुनाऊँ ऐसा न हो कि दूसरे की नींव पर घर बनाऊँ।”
पौलुस ने जिस सुसमाचार का प्रचार किया, उसमें कुछ खास बात थी। ऐसा इसलिए है कि उसने केवल पानी और आत्मा के सुसमाचार को फैलाने का प्रयास किया। परमेश्वर की धार्मिकता के विश्वासियों को पौलुस की तरह पानी और आत्मा के सुसमाचार को फैलाने का प्रयास करना चाहिए। ऐसा करने के लिए, हमें अपने बजाय दूसरों की भलाई की खोज करनी चाहिए। जो लोग दूसरों की भलाई चाहते हैं वे ऐसा इसलिए करते हैं क्योंकि उन्हें मसीह के साथ क्रूस पर चढ़ाया गया और उनके साथ पुनरुत्थित किया गया है। जो मसीह में विश्वास करते हैं वे मरे नहीं हैं, बल्कि जीवित हैं।
“इसी लिये मैं तुम्हारे पास आने से बार बार रुका रहा। परन्तु अब इन देशों में मेरे कार्य के लिये और जगह नहीं रही, और बहुत वर्षों से मुझे तुम्हारे पास आने की लालसा है। इसलिये जब मैं स्पेन को जाऊँगा तो तुम्हारे पास होता हुआ जाऊँगा, क्योंकि मुझे आशा है कि उस यात्रा में तुम से भेंट होगी, और जब तुम्हारी संगति से मेरा जी कुछ भर जाए तो तुम मुझे कुछ दूर आगे पहुँचा देना। परन्तु अभी तो मैं पवित्र लोगों की सेवा करने के लिये यरूशलेम को जाता हूँ। क्योंकि मकिदुनिया और अखया के लोगों को यह अच्छा लगा कि यरूशलेम के पवित्र लोगों में निर्धनों के लिये कुछ चन्दा करें। उन्हें अच्छा तो लगा, परन्तु वे उनके कर्जदार भी हैं, क्योंकि यदि अन्यजातीय उनकी आत्मिक बातों में भागी हुए, तो उन्हें भी उचित है कि शारीरिक बातों में उनकी सेवा करें। इसलिये मैं यह काम पूरा करके और उनको यह चन्दा सौंपकर तुम्हारे पास होता हुआ स्पेन को जाऊँगा। और मैं जानता हूँ कि जब मैं तुम्हारे पास आऊँगा, तो मसीह की पूरी आशीष के साथ आऊँगा” (रोमियों १५:२२-२९)। 
 

पौलुस एक यात्रा करनेवाला प्रचारक और परमेश्वर की कलीसिया का अध्यक्ष था

जब पौलुस मसीहीयों की सेवा करने के लिए यरूशलेम की कलीसिया के रास्ते में था तब उसने मकुदोनिया और अखिया से योगदान दिया। पौलुस ने आगे कहा कि यदि अन्यजातियों को उनकी आत्मिक बातों में भागी बनाया गया है, तो उनका कर्तव्य भी भौतिक वस्तुओं में उनकी सेवा करना है। यरूशलेम कलिसीया के संत उस समय उत्पीड़न का सामना कर रहे थे, और अपनी भौतिक कमियों से खुद को मुक्त नहीं कर पाए। यरूशलेम कलीसिया, जो यीशु मसीह में विश्वास करने के लिए बड़े उत्पीड़न का सामना कर रही थी, उसे अन्यजातियों के भाइयों और बहनों ने बहुत सांत्वना दी। 
अतीत की तरह वर्तमान में, परमेश्वर की कलीसियाओं के लिए यह एक परंपरा बन गई है कि वे अपने धन का आनंद लेने के बजाय अपने धन को जरूरतमंदों के साथ साझा करें। आत्मा से भरे हुए विश्वासी विशेष रूप से अकेले खुद के लिए नहीं जी सकते। क्यों? क्योंकि उनमें पवित्र आत्मा वास करता है! वे नया जन्म पाए हुए लोग हैं जो पवित्र आत्मा के नेतृत्व में हैं जो उनमें वास करता है। 
यह आश्चर्यजनक है कि अन्यजातियों की कलीसियाओं ने यारूशालेम कलीसिया का समर्थन किया और उसे सहायता दी। यह पवित्र आत्मा का कार्य था। पवित्र आत्मा ने किसी व्यक्ति के लिए नहीं लेकिन पानी और आत्मा के सुसमाचार के लिए यरूशलेम कलीसिया का समर्थन किया, और इसे भौतिक सहायता भी प्रदान की। उस समय इस्राएल में, बहुतों को पीटा गया, जेल में डाल दिया गया, यहाँ तक कि मसीह पर उनके उद्धारकर्ता के रूप में अपने विश्वास के लिए उन्हें मार डाला गया। 
टीवी वृत्तचित्रों पर, हम अक्सर कैटाकॉम्ब शहीदों के अवशेष और पहाड़ की गुफाओं में उनके ठिकाने देख सकते हैं। उस समय यरूशलेम कलीसिया को इसी से गुजरना पड़ा था। हमें भी, परमेश्वर की कलीसियाओं की मदद करनी चाहिए जब वे कठिनाइयों का सामना कर रहे हों।
हम आपसी मदद के महत्व को खारिज कर सकते हैं जो प्रारंभिक कलीसियाओं ने एक-दूसरे को दिया था, लेकिन यह एक ऐसा समय था जब विश्वासियों को उत्पीड़न से बचने के लिए छिपकर रहना पड़ता था। केवल पवित्र आत्मा ही इन परिस्थितियों में साझा करना संभव बना सकता है। क्योंकि यरुशलम कलीसिया उत्पीड़न के अधीन थी, अन्य कलीसियाओं के लिए उसकी मदद करना स्वाभाविक था। क्योंकि यह पवित्र आत्मा का कार्य था, यह उचित और सुन्दर था।
आप, परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास रखने वाले, ऐसे कार्यों में भी भाग लें। द न्यू लाइफ मिशन कलीसिया के सदस्य धन जुटाते हैं और इसे पूरी दुनिया में सुसमाचार फैलाने में निवेश करते हैं। उन सभी को किसी न किसी प्रकार की आर्थिक कठिनाई का सामना करना पड़ता है, लेकिन वे अभी भी आत्माओं को बचाने के लिए सुसमाचार फैलाने के लिए उत्सुक हैं।
पौलुस ने पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करने के लिए तम्बू बनाने का काम किया। जब ऐसा कोई व्यक्ति होता जो उस कलीसिया की देखभाल कर सकता जिसे पौलुस स्थापित किया था, तो वह कलीसिया कलीसिया को उसे सौंप देता और सुसमाचार का प्रचार करने के लिए दूसरे क्षेत्र में चला जाता - पूरे समय वह तम्बू बनाने के माध्यम से अपनी जीविका अर्जित करते हुए। 
जैसे आप अकेले अपने ही लिए जीवन नहीं जीते, वैसे ही हमारे सेवक अपने खुद के लिए नहीं जीते। जिनके अन्दर पवित्र आत्मा वास करता है, वे स्वयं को परमेश्वर के कार्यों में समर्पित कर देते हैं—अर्थात, खोए हुओं को उनके सभी पापों से बचाते हैं। हमारे मिशन के सेवक और साधारण सदस्य दोनों "तम्बू बनाने वाली सेवकाई" के माध्यम से सुसमाचार की सेवा करते हैं, जहाँ वे स्वयं को मदद करने के लिए अपनी नौकरी करते हैं और साथ ही आर्थिक रूप से और स्वेच्छा से सुसमाचार के प्रसार में योगदान करते हैं। 
इस तरह, हम पौलुस की सेवकाई और आज परमेश्वर की कलीसिया की सेवकाई के बीच कई समानताएँ पा सकते हैं। हमारे पास एक सा मन है और हम ऐसा जीवन जीते हैं जो पवित्र आत्मा को प्रसन्न करता हैं। कड़ाके की ठंड होने पर हमारे दिमाग में क्या होता है? हम निश्चित रूप से अपने साथी मसीहीयों और परमेश्वर के सेवकों के बारे में सोचते हैं और आश्चर्य करते हैं कि क्या वे ठंड से पीड़ित हैं। हम, नया जन्म पानेवाले मसीही, एक दूसरे की परवाह करते हैं और देखते हैं। बाइबल के सभी धर्मी लोगों को एक दूसरे की ज़रूरत थी और उन्होंने मिलकर परमेश्वर की धार्मिकता की सेवा की। विश्वास का यह जीवन धर्मियों का वास्तविक जीवन है। 
हम ऐसी मानसिकता के साथ जीवन जीते हैं। जब हमने पहली बार पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करना शुरू किया, तो हमें शुरुआत से ही आरम्भ करना पड़ा, क्योंकि हमारे पास कुछ भी नहीं था। हम आर्थिक रूप से इतने तंग थे कि कलीसिया की इमारत के लिए किराया और बिलों का भुगतान करने के लिए कुछ सौ डॉलर के लिए भी अक्सर मुश्किल होती थी। लेकिन फिर भी हम इस पूरे देश में अपने साहित्य सेवा के लिए खुद को समर्पित कर चुके हैं। 
जब हम वित्तीय कठिनाइयों का सामना कर रहे थे, तो यह परमेश्वर थे जिन्होंने हमारे लिए रास्ता खोला और हमें अपनी सेवकाई के फल देखने की अनुमति दी। क्योंकि पवित्र आत्मा हमारे हृदयों में वास करता है, सुसमाचार फैलाने की हमारी इच्छा हमारे हृदयों में जल रही है फिर चाहे हमारे सामने कितनी भी कठिनाइयाँ क्यों न हों। हम पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करके सभी खोई हुई आत्माओं के साथ परमेश्वर के प्रेम को बाँटना चाहते हैं, ठीक वैसे ही जैसे परमेश्वर की कलीसियाओं और बाइबल में लिखे धर्मी लोगों ने किया था। 
हम देख सकते हैं कि प्रारंभिक कलीसिया के पाने वालेवाले मसीही एक दूसरे की देखभाल करते थे और हम भी ऐसा ही करते हैं। यह पवित्र आत्मा के मार्गदर्शन के बिना संभव नहीं है। पवित्र आत्मा नया जन्म पाए हुए व्यक्तिओं की भक्ति के माध्यम से पूरी पृथ्वी पर परमेश्वर की धार्मिकता को फैला रहा है और आगे भी ऐसा ही करता रहेगा।
 

भले ही हम अंत के दिनों का सामना कर रहे हो!

लोग कहते हैं कि हम अब अंतिम युग में जी रहे हैं जब बाइबल में भविष्यवाणी की गई सभी कठिनाइयाँ पूरी होंगी।
अंत के दिनों में पूरी दुनिया में तबाही और विपत्ति आएगी। विश्वासियों के रूप में, हमें परमेश्वर की धार्मिकता में अपने विश्वास में और अधिक मजबूती से खड़ा होना चाहिए और पानी और आत्मा के सुसमाचार का और भी अधिक परिश्रम से प्रचार करना चाहिए। जो लोग परमेश्वर की धार्मिकता में विश्वास करते हैं उनके पास इस अंतिम युग में देखभाल करने और एक दूसरे से प्रेम करने का हृदय होना चाहिए। हमारे अपने हृदय कठोर हो सकते हैं जैसे संसार के हृदय कठोर होते हैं, लेकिन हम अंत में इस संसार पर विजय प्राप्त कर सकते हैं, क्योंकि हमारे पास पवित्र आत्मा है। परिस्थितियां कैसी भी हों, हमें परमेश्वर की कलीसियाओं और आत्माओं की देखभाल करने की आवश्यकता है। हमें उन लोगों की देखभाल करनी चाहिए जिन्हें हमारी सहायता की आवश्यकता है, उनसे प्रेम करना चाहिए, अपने साथी भाइयों और बहनों के बारे में सोचना चाहिए और अंत तक सुसमाचार का प्रसार करना चाहिए। 
हमें अपनी धार्मिकता की तलाश करने के बजाय दूसरों के उद्धार के लिए खुद को समर्पित करना चाहिए। दुनिया भर में अभी भी बहुत सी आत्माएं हैं जिन्होंने पानी और आत्मा का सुसमाचार नहीं सुना है। कई देशों में लोगों ने कभी भी पानी और आत्मा का सुसमाचार नहीं सुना है, न ही उन्हें परमेश्वर की धार्मिकता को जानने का मौका मिला है। हमें अपना दिमाग उन सैनिकों की तरह लगाना चाहिए जो पानी और आत्मा के सुसमाचार के साथ खोई हुई आत्माओं और राष्ट्रों को जीतने के लिए लड़ रहे हैं। यह मिशन ज़बरदस्ती से नहीं आता है, जैसे कि हम बल के आगे मजबूर होते हैं, लेकिन यह स्वाभाविक रूप से हममें से उन लोगों के दिलों में उठता है जिनमें पवित्र आत्मा रहता है। 
पानी और आत्मा के सुसमाचार को पृथ्वी की छोर तक फैलाने का महान आदेश आज हमारे हृदयों में सक्रिय है। जो मैं आपको बताना चाहता हूँ वह यह है कि यह संसार जितना कठिन होता जाता है, परमेश्वर उतनी ही पर्याप्त रूप से अपनी पवित्र आत्मा हम पर उँडेलता है। हम अपनी मुद्रित और इलेक्ट्रॉनिक पुस्तकों के माध्यम से सुसमाचार का प्रसार कर रहे हैं जो सत्य के प्यासे लोगों को निःशुल्क प्रदान की जाती हैं। हम इंटरनेट के माध्यम से दुनिया भर में अपनी सेवकाई को लगातार जारी रखेंगे।
यद्यपि हम अमेरिकियों या यूरोपीय लोगों से अधिक धनी नहीं हैं, फिर भी हम उन्हें वह सुसमाचार दे सकते हैं जिसमें परमेश्वर की धार्मिकता है। हमारे पास पतरस के समान मानसिकता है जिसने कहा, “चाँदी और सोना तो मेरे पास है नहीं, परन्तु जो मेरे पास है वह तुझे देता हूँ; यीशु मसीह नासरी के नाम से चल फिर” (प्रेरितों ३:६)। 
हम उन्हें स्वतंत्र रूप से वह सुसमाचार दे सकते हैं जिसने परमेश्वर की धार्मिकता को पूरा किया है, जिसे वे नहीं जानते थे। भले ही हम सांसारिक तराजू से नापने पर किसी और से बेहतर नहीं हैं, हम परमेश्वर के सेवक हैं जो उस सुसमाचार को दे सकते हैं जिसमें परमेश्वर की धार्मिकता है। जो लोग इस सुसमाचार को हमारी सेवकाई के माध्यम से प्राप्त कर चुके हैं, वे इस सुसमाचार को जानते हैं और इसमें विश्वास करते हैं, वे बहुत आशीषित होंगे।
यह इंटरनेट का जमाना है और इसके साथ ही परमेश्वर ने हमें पूरी दुनिया को खोलने का रास्ता मुहैया कराया है। हमने देखा है कि लोग कितने आभारी और आनंदित होते हैं जब हम उन्हें वह सुसमाचार देते हैं जिसने परमेश्वर की धार्मिकता को पूरा किया है। दुनिया जितनी उदास होगी, खोए हुए लोगों को परमेश्वर की धार्मिकता के सुसमाचार का प्रचार करते हुए हम उतने ही आभारी और सामर्थी बनेंगे। क्या दुनिया इस तरह खत्म हो जाएगी, या क्या परमेश्वर हमें अपने सुसमाचार को फैलाने के लिए और मौके देगा? हमें यह सोचना चाहिए और प्रार्थना करनी चाहिए। सब कुछ पवित्र आत्मा के द्वारा सम्पुर्ण रूप से परिपूर्ण होगा। 
मैं भी स्वार्थी हुआ करता था, और नया जन्म प्राप्त करने से पहले केवल अपने देह की परवाह करता था। मैं ही नहीं, हम सब ऐसे ही थे। जो लोग केवल देह के सुख के लिए जीते हैं वे दावा कर सकते हैं कि उनके पास प्रेम है, लेकिन वास्तव में, वे दूसरों से प्रेम नहीं कर सकते। यह उनके बीच का अंतर है जिनके पास पवित्र आत्मा है और जिनके पास नहीं है। पापी केवल अपने लिए जी सकते हैं, लेकिन पवित्र आत्मा वाले लोगों के पास दूसरों के लिए जीने की सामर्थ है, और वास्तव में वे दूसरों के लिए जीते हैं। त्रिएक परमेश्वर अपने विश्वासियों को दूसरी आत्माओं के लिए जीने की सामर्थ देता है। क्योंकि परमेश्वर उनके हृदयों में वास करता है और उनकी अगुवाई करता है इसलिए वे परमेश्वर के धार्मिक कार्य कर सकते हैं।
इस दुनिया में चाहे जीतनी भी कलीसिया हों, उनमें से लगभग सभी कलीसिया अब केवल धर्मनिरपेक्ष उद्योग बन गई हैं। वे अपनी असाधारण कलीसिया बनाने के लिए कोई भी पैसा नहीं छोड़ते हैं और उनके पास लाखों डॉलर में बहुत बड़ा बजट है और फिर भी उनकी संपत्ति का केवल एक छोटा सा हिस्सा धर्मार्थ के कार्यों के लिए दिया जाता है। वे इस पृथ्वी से अधिक धन प्राप्त करने के लिए पागल हो गए हैं, आत्माओं को पाप से बचाने के अपने वास्तविक मिशन को गौण और महत्वहीन मानकर छोड़ रहे हैं। वे परमेश्वर की कलीसिया का हिस्सा नहीं हो सकते, क्योंकि परमेश्वर की कलीसिया परमेश्वर के हितों के ऊपर अपने स्वयं के हितों का अनुसरण नहीं करती है।
परमेश्वर की सच्ची कलीसिया अपने संसाधनों का उपयोग खोई हुई आत्माओं को पारदर्शिता और ईमानदारी से बचाने के लिए करता है। जैसा कि बाइबल कहती है, "धन्य हैं वे, जो दयावन्त हैं, क्योंकि उन पर दया की जायेगी (मत्ती ५:७)," परमेश्वर ने हमें इस संसार के आत्माओं की देखभाल करने और उन्हें छुटकारे की ओर ले जाने के लिए हृदय दिया है, और उसने इन सभी चीजो को संभव किया है। पानी और आत्मा के सुसमाचार को अब प्रकाशनों में एक साथ रखा गया है जिनका लगभग 40 भाषाओं और 60 से अधिक शीर्षकों में अनुवाद किया गया है, उनमें से प्रत्येक उन लोगों के लिए परमेश्वर की धार्मिकता की गवाही दे रहा है जो अपनी आत्मिक मृत्यु का सामना कर रहे हैं। 
परमेश्वर कितना प्रसन्न होगा यदि हम और अधिक गंभीरता से प्रार्थना करें और पानी और आत्मा के सुसमाचार को और भी अधिक पापियों तक फैलाएं ताकि इस दुनिया के बड़े क्लेश में फंसने और उसके अंत से पहले उन्हें बचाया जा सके? आइए हम निराश न हों, लेकिन अंत तक विश्वासयोग्य रहें।
अतीत में, गरीब एक दूसरे की मदद करके जीवित रह सकते थे। लेकिन अब हम असीमित प्रतिस्पर्धा के युग में प्रवेश कर चुके हैं जिसमें केवल मजबूत ही जीवित रह सकता है। जब भी हम इस पीढ़ी को देखते हैं, हम अपने कर्तव्य के प्रति आश्वस्त होते हैं कि हमें पानी और आत्मा का सुसमाचार उन लोगों तक पहुँचाना चाहिए जिन्होंने अभी तक इसे नहीं सुना है। हम सभी के पास सुसमाचार देने के लिए ह्रदय है जो इस कठोर दुनिया में अपने अंतहीन संघर्ष से थके हुए लोगों के लिए शांति लाएगा। आइए हम उन्हें पानी और आत्मा के सुसमाचार की आत्मिक आशीषें दें। हम परमेश्वर की धार्मिकता में अपने विश्वासों के साथ मसीह के लिए जी सकते हैं, क्योंकि उसने हमारे सभी पापों को उठा लिया है।
जिस सुसमाचार में परमेश्वर की धार्मिकता है वह अब दस गुना, सौ गुना, हजार गुना और लाखों गुना तेजी से फैलेगा। हमारे पास करने के लिए बहुत काम होगा, इसलिए आइए हम विश्वासयोग्य रहें। जो प्रतिभाशाली हैं उन्हें अपनी प्रतिभा प्रभु को देनी चाहिए और प्रत्येक आत्मा को सुसमाचार फैलाना चाहिए। हम सभी को अपनी परमेश्वर प्रदत्त प्रतिभा के अनुसार सुसमाचार का प्रसार करने के लिए कार्य करना चाहिए। हमारे पास अपनी कोई सामर्थ नहीं है, लेकिन मेरा मानना है कि यदि हम पवित्र आत्मा के अनुसार परमेश्वर से प्रार्थना करते हैं जो हमारे अन्दर हलचल करता है, तो परमेश्वर हमारी सभी इच्छाओं को पूरा करेगा।
मसीह ने हमें अपना सच्चा प्रेम दिया है जो पापियों से प्रेम करता है। परमेश्वर की धार्मिकता में हमारे विश्वास के द्वारा हम इस संसार के पापों से बचाए गए हैं। यही कारण है कि हमें सुसमाचार को फैलाने के लिए और अधिक मेहनत करनी चाहिए, भले ही फिर इस दुनिया में रहना और भी मुश्किल क्यों न हो जाए। हमारा कर्तव्य है कि हम उन लोगों को सुसमाचार दें जिन्होंने इसे अभी तक नहीं सुना है।
परमेश्वर ने कहा, “मैं ने अपने लिये सात हज़ार पुरुषों को रख छोड़ा है, जिन्होंने बाल के आगे घुटने नहीं टेके हैं” (रोमियों ११:४)। इस संसार में अभी भी बहुत से ऐसे लोग हैं जिन्हें पानी और आत्मा का सुसमाचार प्राप्त करने की आवश्यकता है। इतनी सारी आत्माएं, चाहे पादरियों की हों, धर्मशास्त्रियों की हों, या आम लोगों की हों, उठ रही हैं। 
हम सुसमाचार के लिए कार्य करने में समर्थ हैं, यह मसीह के प्रेम के कारण है। हमें अभी भी बहुत काम करना है, और कभी-कभी हम उनसे अभिभूत महसूस करते हैं। लेकिन हमें और अधिक विश्वासयोग्य होना चाहिए ओर और भी अधिक परिश्रम से सुसमाचार का प्रसार करना चाहिए क्योंकि हम और भी अधिक कठिनाइयों का सामना करते हैं। यह मसीह का हृदय है। मैं प्रार्थना करता हूँ कि आप, एक धर्मी, केवल अपने बारे में न सोचें। यदि आप केवल अपने बारे में सोचते हैं, तो विश्वास या प्रार्थना की कोई आवश्यकता नहीं है क्योंकि आप केवल अपने लिए जीने की कोशिश कर रहे हैं और खोई हुई आत्माओं से आपका कोई लेना-देना नहीं है। लेकिन यदि आपको अपनी और अन्य आत्माओं को भी सहायता देने के लिए कार्य करना पड़े, तो क्या होगा? आप मदद के लिए परमेश्वर से प्रार्थना करेंगे क्योंकि आप कमजोर हैं। 
इस तरह हमारा विश्वास और प्रार्थना बढ़ती है। इसलिए परमेश्वर कहते हैं, 
“ऐसे हैं, जो छितरा देते हैं, तौभी उनकी बढ़ती ही होती है;
और ऐसे भी हैं जो यथार्थ से कम देते हैं,
और इस से उनकी घटती ही होती है” (नीतिवचन ११:२४)।
पानी और आत्मा के सुसमाचार को दूसरों के साथ साझा करना मसीहीयों का सबसे धर्मी जीवन है। एक आत्मिक जीवन वह है जो सच्चे सुसमाचार को फैलाता है जो लोगों को मसीह की ओर ले जाता है। आइए हम अपने पड़ोसियों और उनकी आत्माओं की देखभाल करें, और पूरी दुनिया में सुसमाचार फैलाएं। परमेश्वर की धार्मिकता की आशीष हमेशा आप पर बना रहे। 
हाल्लेलूयाह! आइए हम अपने प्रभु की स्तुति करें! मैं परमेश्वर को धन्यवाद देता हूँ कि उसने हमें परमेश्वर के धर्मी और भले काम करने दिए, और हमें अंधकार की शक्ति से छुड़ाया और हमें पुत्र के राज्य में ले गया।