उपदेश

विषय १० : प्रकाशितवाक्य (प्रकाशितवाक्य पर टिप्पणी)

[अध्याय 1-2] हमें सात युगों को जानना ही चाहिए ( प्रकाशितवाक्य १:१-२० )

 
हमें सात युगों को जानना ही चाहिए( प्रकाशितवाक्य १:१-२० )
 
मैं उस प्रभु का धन्यवाद करता हूँ जो हमें इस अंधकारमय युग में आशा देता है। हमारी आशा यह है कि प्रकाशितवाक्य की पुस्तक में जो लिखा है उसके अनुसार सब कुछ प्रकट होगा, और हमें विश्वास में प्रतीक्षा करनी होगी कि भविष्यवाणी के सभी वचन पूरे होंगे। 
प्रकाशितवाक्य की पुस्तक पर बहुत कुछ लिखा गया है। जबकि विद्वानों द्वारा सिद्धांत और व्याख्याएं प्रचुर मात्रा में हैं, फिर भी एक ऐसे कार्य को पाना मुश्किल है जो वास्तव में अपने दृष्टिकोण में बाइबल पर आधारित है। परमेश्वर की कृपा से ही मैं प्रकाशितवाक्य के वचन का अध्ययन और शोध करने में अनगिनत घंटे बिताकर इस पुस्तक को लिखने में सक्षम हूँ। यहाँ तक कि जब मैं अभी बोल रहा हूँ, मेरा हृदय प्रकाशितवाक्य के सत्य से भर गया है। जबकि मैंने इस पुस्तक के लिए अपनी टिप्पणियां और उपदेश तैयार किए हैं तब पवित्र आत्मा ने भी मुझे भर दिया है । 
तो यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि मेरा हृदय स्वर्ग की आशा और हजार साल के राज्य की महिमा की बहुतायत से भर जाएगा। मुझे यह भी पता चला है कि संतों की शहादत हमारे प्रभु के लिए कितनी महिमामय है। अब, मैं आप के साथ ज्ञान के वचन को साझा करने के लिए और इसे समझने में आपकी मदद करने के लिए तैयार हूँ जो परमेश्वर ने मुझे दिखाए है।
जब मैं प्रकाशितवाक्य पर यह पुस्तक लिखता हूँ, तो परमेश्वर की महिमा मेरे हृदय को सदा के लिए भर देती है। पूरी ईमानदारी से, मैं वास्तव में यह समझ नहीं पाया था कि प्रकाशितवाक्य का वचन कितना महान है।
परमेश्वर ने यूहन्ना को यीशु मसीह की दुनिया दिखाई। "यीशु मसीह का प्रकाशितवाक्य" इस आरंभिक वचन का क्या अर्थ है? प्रकाशितवाक्य शब्द की शब्दकोश परिभाषा दैवीय सत्य को प्रकट करने या संप्रेषित करने का एक कार्य है। तब, यीशु मसीह के प्रकाशितवाक्य का अर्थ है कि भविष्य में यीशु मसीह में क्या होगा, इसका खुलासा करना। दूसरे शब्दों में कहें, तो परमेश्वर ने यीशु मसीह के सेवक यूहन्ना को वह सब कुछ दिखाया जो अंत के समय में पूरा होगा।
इससे पहले कि हम प्रकाशितवाक्य के वचन में तल्लीन हों, एक बात है जिसके बारे में हमें पहले से सुनिश्चित होना चाहिए-अर्थात, हमें यह पता लगाना चाहिए कि प्रकाशितवाक्य की भविष्यवाणी का लिखित वचन प्रतीकात्मक है या तथ्यात्मक। प्रकाशितवाक्य की पुस्तक में जो कुछ भी लिखा गया है वह निश्चित रूप से तथ्यात्मक है, क्योंकि उन दर्शनों के माध्यम से जिन्हें यूहन्ना ने देखा था, परमेश्वर ने हमें विस्तार से बताया है कि इस संसार में क्या होने वाला है। 
यह सच है कि कई विद्वानों ने प्रकाशितवाक्य की भविष्यवाणियों पर विभिन्न धर्मवैज्ञानिक सिद्धांतों और व्याख्याओं को सामने रखा है। यह भी सत्य है कि इन विद्वानों का प्रयास प्रकाशितवाक्य के सत्य को अपनी सर्वोत्तम क्षमता से प्रकट करने का रहा है। लेकिन इस तरह के काल्पनिक प्रस्तावों ने मसीही जगत को और अधिक नुकसान पहुंचाया है, क्योंकि वे बाइबल की सच्चाई के अनुरूप नहीं थे और केवल भ्रम पैदा करते थे। उदाहरण के लिए, कई रूढ़िवादी विद्वानों ने तथाकथित 'सहस्राब्दीवाद' का समर्थन किया है - यानी, उनका दावा है कि कोई हजार साल का साम्राज्य नहीं होगा। परन्तु ऐसी राय बाइबल की सच्चाई से बहुत दूर हैं।
हज़ार साल का राज्य वास्तव में प्रकाशितवाक्य के अध्याय २० में दर्ज है, जहाँ लिखा है कि संत न केवल इस राज्य पर शासन करेंगे, बल्कि एक हज़ार साल तक मसीह के साथ भी रहेंगे। दूसरी ओर, अध्याय २१ हमें बताता है कि हजार साल के राज्य के बाद, संत नए स्वर्ग और पृथ्वी के वारिस होंगे और अनंत काल तक मसीह के साथ रहेंगे और शासन करेंगे। ये सब तथ्य हैं। बाइबल हमें बताती है कि इन सभी सत्यों को विश्वासियों के दिलों में एक प्रतीकात्मक पूर्ति के रूप में नहीं, बल्कि इतिहास में एक वास्तविक पूर्ति के रूप में समझा जाएगा।
परन्तु आज के मसीहियों को देखने पर, हम पाते हैं कि उनमें से बहुत से लोग हजार साल के राज्य के लिए बहुत थोड़ी आशा रखते हैं। क्या उनके इनकार के दावे सच थे, क्या इसका यह मतलब नहीं होगा कि विश्वासियों के लिए परमेश्वर की प्रतिज्ञा केवल खोखले शब्द होंगे? यदि विश्वासियों की प्रतीक्षा करने वाला कोई हजार साल का राज्य नहीं होता, न ही नया स्वर्ग और नई पृथ्वी होती, तो उनका विश्वास जो यीशु को अपने उद्धारकर्ता के रूप में विश्वास करने के द्वारा उन्हें बचाता है, बेकार हो जाएगा। 
इस संबंधित बात पर, कई धर्मशास्त्री और सेवक आज दावा करते हैं कि प्रकाशितवाक्य में भविष्यवाणी की गई ६६६ का चिह्न केवल प्रतीकात्मक है। लेकिन कोई गलती न करें: जब इस भविष्यवाणी की पूर्ति का दिन आता है, तो उन दुर्भाग्यपूर्ण आत्माओं का विश्वास, जो इस तरह के झूठे दावों में विश्वास करते हैं, रेत पर बने घर की तरह मिट जाएंगे।
जो लोग यीशु पर विश्वास करते हैं लेकिन बाइबल में उनके सामने प्रकट किए गए सत्य के वचन पर विश्वास नहीं करते हैं, उनके साथ परमेश्वर द्वारा अविश्वासियों के समान व्यवहार किया जाएगा। इसका केवल यह अर्थ हो सकता है कि वे न केवल परमेश्वर के द्वारा दिए गए पानी और आत्मा के सुसमाचार को नहीं जानते हैं, बल्कि यह कि पवित्र आत्मा उनके हृदयों में वास भी नहीं करता है। यही कारण है कि उनके दिलों में हजार साल के राज्य या नए स्वर्ग और पृथ्वी के लिए कोई आशा नहीं है जिसकी परमेश्वर ने हमसे प्रतिज्ञा की है। यदि उन्होंने यीशु पर विश्वास किया होता, तो भी परमेश्वर के वचन की लिखित सच्चाई के अनुसार उस पर विश्वास नहीं करते थे। प्रकाशितवाक्य में जो लिखा गया है वह परमेश्वर का वचन है जो हमें दिखाता है कि इस दुनिया में पूरी तरह से और जल्द ही क्या होगा।
प्रकाशितवाक्य के अध्याय २ और ३ में एशिया की सात कलीसियाओं के लिए चेतावनी के वचन को दर्ज किया गया है। उनमें सात कलीसियाओं के लिए परमेश्वर की प्रशंसा और फटकार दोनों पाए जाते हैं। विशेष रूप से, परमेश्वर ने वादा किया था कि जीवन का मुगट उन्हें दिया जाएगा जो अपनी विश्वासयोग्यता में बने रहते हैं और अपने क्लेशों को दूर करते हैं। इसका मतलब है कि अंत समय के सभी विश्वासियों की प्रतीक्षा में निश्चित रूप से शहादत होगी।
प्रकाशितवाक्य का वचन संतों की शहादत, उनके पुनरुत्थान और रेप्चर, और हजार साल के राज्य और नए स्वर्ग और पृथ्वी के वादे के बारे में है जो परमेश्वर ने उनसे किया था। प्रकाशितवाक्य का वचन उन लोगों के लिए एक बड़ा आराम और आशीर्वाद हो सकता है जो अपनी शहादत की निश्चितता में विश्वास करते हैं, लेकिन जो लोग इसमें विश्वास नहीं करते उनके लिए इसके पास बहुत कम आशा है। इसलिए हम प्रकाशितवाक्य में लिखे गए वायदे के वचन और अंत के समय में उसके सत्य के वचन में अपने अटल विश्वास का पालन करके दृढ़ता से रह सकते हैं।
प्रकाशितवाक्य के वचन का सबसे महत्वपूर्ण व्यवहार संतों की शहादत, पुनरुत्थान और रेप्चर, और एक हजार साल का राज्य और नया स्वर्ग और नई पृथ्वी है। यही कारण है कि प्रारंभिक कलीसिया के लिए परमेश्वर का उद्देश्य और इच्छा संतों को उनकी शहादत के साथ अंत तक अपने विश्वास की रक्षा करना था। ऐसा इसलिए है क्योंकि परमेश्वर ने इन सभी चीजों की योजना बनाई है कि उन्होंने सभी संतों को शहादत की बात कही। दूसरे शब्दों में, परमेश्वर ने हमें बताया है कि अंत के समय में सभी संत अपनी शहादत के माध्यम से मसीह विरोधी पर विजय प्राप्त करेंगे। 
प्रकाशितवाक्य की पूरी किताब को समझने के लिए अध्याय १-६ की पूरी समझ महत्वपूर्ण है। अध्याय १ को परिचय के रूप में वर्णित किया जा सकता है, जबकि अध्याय २ और ३ प्रारंभिक कलीसिया के संतों की शहादत की बात करते हैं। अध्याय ४ हमें परमेश्वर के सिंहासन पर मसीह के बैठने के बारे में बताता है। अध्याय ५ हमें यीशु मसीह के द्वारा पिता की योजना की पुस्तक को खोलने और उसकी पूर्ति के बारे में बताता है, और अध्याय ६ उन सात युगों की चर्चा करता है जिन्हें परमेश्वर ने मनुष्यजाति के लिए निर्धारित किया है। अध्याय ६ को समझना विशेष रूप से महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह आपके लिए संपूर्ण प्रकाशितवाक्य की समझ का द्वार खोलेगा।
अध्याय ६ को उन सात युगों के रूपरेखा के रूप में वर्णित किया जा सकता है जिन्हें पिता ने यीशु मसीह में मनुष्यजाति के लिए योजना बनाई है। परमेश्वर की इस रूपरेखा में सात युगों के लिए दैवीय विधान पाया जाता है जिसे परमेश्वर मनुष्यजाति के लिए लाएगा। जब हम इन सात युगों को जानेंगे और समझेंगे, तो हम यह समझ पाएंगे कि हम अब इनमें से किस युग में जी रहे हैं। हम यह भी समझ पायेंगे कि पीले घोड़े के युग यानी आने वाले मसीह विरोधी के युग के विरुद्ध प्रयास करने और उस पर विजय पाने के लिए हमें किस प्रकार के विश्वास की आवश्यकता है।
जैसा प्रकाशितवाक्य ६ में वर्णित है, जब पहली मुहर खोली गई, तो एक सफेद घोड़ा निकला। उसके सवार ने एक धनुष धारण किया, उसे एक मुकुट दिया गया, और वह विजय प्राप्त करने और जीतने के लिए निकला। यहां सफेद घोड़े पर सवार यीशु मसीह को संदर्भित करता है, जबकि तथ्य यह है कि उसके पास धनुष था इसका मतलब है कि वह शैतान के खिलाफ लड़ना और जीतना जारी रखेगा। दूसरे शब्दों में कहें तो सफेद घोड़े का युग पानी और आत्मा के सुसमाचार के विजय को संदर्भित करता है जिसे परमेश्वर ने पृथ्वी पर अनुमति दी है, और यह युग तब तक जारी रहेगा जब तक कि परमेश्वर के सभी उद्देश्य पूरे नहीं हो जाते।
दूसरा युग लाल घोड़े का युग है। यह शैतान के युग के आगमन को सन्दर्भित करता है, जिसमें शैतान लोगों के हृदयों को युद्ध करने, पृथ्वी से शांति छीनने और संतों को सताने के लिए धोखा देगा।
लाल घोड़े के युग के बाद काले घोड़े का युग आता है, जब अकाल लोगों की आत्मा और शरीर दोनों पर प्रहार करेगा। आप और मैं अब आत्मिक और भौतिक अकाल के इस युग में जी रहे हैं। जब इसके बाद निकट भविष्य में पीले घोड़े का युग आएगा, तो मसीह विरोधी उठ खड़ा होगा, और उसके प्रकट होने से दुनिया घातक आपदाओं में गिर जाएगी। 
पीले घोड़े का युग चौथा युग है। इस युग में संसार सात तुरहियों की विपत्तियों से ग्रसित होगा, जहां एक तिहाई जंगल जल जाएंगे, एक तिहाई समुद्र लहू में बदल जाएगा, एक तिहाई शुध्ध पानी भी लहू में बदल जाएगा, और सूर्य और चन्द्रमा का एक तिहाई भाग अन्धकारमय हो जाएगा। 
पाँचवा युग संतों के पुनरुत्थान और रेप्चर का युग है। जैसे की प्रकाशित्त्वाक्य ६:९-१० में लिखा गया है, “जब उसने पाँचवीं मुहर खोली, तो मैं ने वेदी के नीचे उनके प्राणों को देखा जो परमेश्‍वर के वचन के कारण और उस गवाही के कारण जो उन्होंने दी थी वध किए गए थे। उन्होंने बड़े शब्द से पुकारकर कहा, “हे स्वामी, हे पवित्र और सत्य; तू कब तक न्याय न करेगा? और पृथ्वी के रहनेवालों से हमारे लहू का बदला कब तक न लेगा?”
छठवा युग पहली दुनिया के विनाश का युग है। प्रकाशितवाक्य ६:१२-१७ के मुताबिक, “जब उसने छठवीं मुहर खोली, तो मैं ने देखा कि एक बड़ा भूकम्प हुआ, और सूर्य कम्बल के समान काला और पूरा चंद्रमा लहू के समान हो गया। आकाश के तारे पृथ्वी पर ऐसे गिर पड़े जैसे बड़ी आँधी से हिलकर अंजीर के पेड़ में से कच्‍चे फल झड़ते हैं। आकाश ऐसा सरक गया जैसा पत्र लपेटने से सरक जाता है; और हर एक पहाड़, और टापू,अपने अपने स्थान से टल गया। तब पृथ्वी के राजा, और प्रधान, और सरदार, और धनवान और सामर्थी लोग, और हर एक दास और हर एक स्वतंत्र पहाड़ों की खोहों में और चट्टानों में जा छिपे, और पहाड़ों और चट्टानों से कहने लगे, “हम पर गिर पड़ो; और हमें उसके मुँह से जो सिंहासन पर बैठा है, और मेम्ने के प्रकोप से छिपा लो। क्योंकि उन के प्रकोप का भयानक दिन आ पहुँचा है, अब कौन ठहर सकता है?”
तो, सातवें युग में क्या होगा जो परमेश्वर ने हमारे लिए निर्धारित किया है? इस अंतिम युग में, परमेश्वर संतों को अपना हजार साल का राज्य और नया स्वर्ग और नई पृथ्वी देगा।
तो फिर हम इन सात युगों में से किस युग में जी रहे हैं? लाल घोड़े का युग बीतने के बाद, जिसके दौरान दुनिया कई युद्धों से तबाह हो गई थी, हम काले घोड़े के युग में रह रहे हैं। 
प्रकाशितवाक्य के सभी वचन नकारात्मक नहीं, बल्कि विश्वासियों के लिए सकारात्मक भावना में लिखे गए हैं। परमेश्वर ने कहा कि वह न केवल अंत समय के विश्वासियों को अपने हज़ार साल के राज्य के लिए आशा देना चाहता है, बल्कि यह भी लिखा है कि वह उन्हें दुनिया में अनाथों के रूप में नहीं छोड़ेगा। 
प्रकाशितवाक्य में प्रकट किए गए सत्य को समझने के लिए, हमें पहले ऐसी झूठी शिक्षाओं को त्यागना होगा जैसे कि महा क्लेश से पहले रेप्चर, हजार साल के राज्य का न होना, और महा क्लेश के बाद रेप्चर के सिध्धांत और पवित्रशास्त्र की ओर लौटना चाहिए।
परमेश्वर ने यीशु मसीह में हमारे लिए सात युग निर्धारित किए हैं। इन सात युगों की योजना परमेश्वर ने यीशु मसीह के संतों के लिए अपनी सृष्टि के आरंभ में ही बनाई थी। फिर भी क्योंकि कई विद्वानों ने, परमेश्वर द्वारा निर्धारित इन सात युगों से अनजान रहते हुए, प्रकाशितवाक्य के वचन पर केवल अपनी व्याख्या और निराधार परिकल्पना की पेशकश की है इसलिए लोग और भी अधिक भ्रमित हो गए हैं। लेकिन हम सभी को परमेश्वर द्वारा निर्धारित सात युगों को पहचानना चाहिए, और इस सत्य में ज्ञान और विश्वास के साथ, उसने हमारे लिए जो कुछ किया है, उसके लिए उसे धन्यवाद और महिमा दें। संतों के लिए परमेश्वर की सभी योजनाएं इन सात युगों के भीतर निर्धारित और पूरी होती हैं।
मुझे आशा है कि मेरी अब तक की चर्चा ने आपको प्रकाशितवाक्य के परिचयात्मक मार्ग की कुछ बुनियादी समझ प्रदान की है। प्रकाशितवाक्य की पुस्तक के माध्यम से, हम पाते हैं कि परमेश्वर की सृष्टि ने उन सात युगों की शुरुआत को चिह्नित किया जिन्हें परमेश्वर ने यीशु मसीह में पानी और आत्मा के सुसमाचार के साथ स्थापित किया था। इन सात युगों को जानने से हमारी आस्था और मजबूत होगी। और उन्हें जानने से हमें पता चलेगा कि काले घोड़े के युग में रहते हुए हम किस तरह की परीक्षाओं का इंतजार कर रहे हैं और इस अहसास के साथ हम विश्वास से जी सकेंगे।
विश्वासी - जिसमें आप और मैं दोनों शामिल हैं - शहीद हो जाते हैं जब पीले घोड़े का युग परमेश्वर द्वारा नियोजित सात युगों में से एक के रूप में आता है। जब विश्वासी को इस बात का एहसास होगा, तो उनके ह्रदय आशा से भर जाएंगे और उनकी आँखें वह देख लेंगी जो वे पहले नहीं देख सकते थे। जब परमेश्वर के सेवकों और संतों को शहादत के युग के करीब आने का एहसास होगा, तो उनका जीवन सभी गंदकी से साफ हो जाएगा, क्योंकि जैसे ही उन्हें पता चलता है कि वे पीले घोड़े के युग में शहीद होने के लिए तैयार हैं, उनके ह्रदय तब भी तैयार हो जाएंगे जब उन्हें इस समय इसका एहसास नहीं होगा।
हम सब उसी तरह शहीद होंगे जैसे प्रारंभिक कलीसिया के संत शहीद हुए थे। आपको यह समझना चाहिए कि जब पीले घोड़े का युग आता है, तो सच्चे विश्वासियों के लिए शहादत अपरिहार्य वास्तविकता बन जाती है, क्योंकि उनकी शहादत के तुरंत बाद उनका पुनरुत्थान होगा।
शहादत के बाद पुनरुत्थान आएगा, और पुनरुत्थान के साथ रेप्चर, और स्वर्ग में प्रभु के साथ हमारी मुलाकात रेप्चर के साथ होगी। संतों की शहादत के बाद, हमारे परमेश्वर संतों को मृत्यु से उठाएंगे और उन्हें स्वर्ग में विवाह भोज में ले आएंगे।
जब तक संतों का रेप्चर नहीं होगा, तब तक पृथ्वी इतनी पूरी तरह नष्ट हो चुकी होगी कि वह लगभग निर्जन हो जाएगी। एक तिहाई जंगल जल जाते है; समुद्र, नदियाँ और यहाँ तक कि झरने भी लहू में बदल जाते है। क्या आप ऐसी दुनिया में अब और अधिक समय तक जीना चाहेंगे? संतों के पास शहादत में शामिल होने का और भी कारण होगा, क्योंकि अब दुनिया के लिए कोई उम्मीद नहीं बची है।
क्या आप डर से कांपते हुए ऐसी वीरान दुनिया में रहना चाहते हैं? बिलकूल नही! अंत में संतों की शहादत है, और उसके बाद उनका पुनरुत्थान और रेप्चर, और उनके पुनरुत्थान और रेप्चर के साथ हजार साल का राज्य और नए स्वर्ग और नई पृथ्वी में परमेश्वर के साथ अनंत काल तक रहने की महिमा है।
बाइबल हमें स्पष्ट रूप से बताती है कि महान क्लेश के मध्य भाग के बाद – यानी सात साल के समय की अवधि में साढ़े तीन साल में - संत अपने विश्वास के साथ मसीह विरोधी के खिलाफ खड़े होने के लिए शहीद हो जाएंगे, और इसके बाद उनका पुनरुत्थान और रेप्चर और मसीह का दूसरा आगमन होगा। दूसरे शब्दों में, महान क्लेश के दौरान उनकी शहादत के बाद मसीह की वापसी और संतों का पुनरुत्थान और रेप्चर होना है। अब समय आ गया है कि आप ऐसे विषयों पर अधिक सावधानी से विचार करें।
क्या हम तब भी शहीद हो सकते हैं जब परमेश्वर द्वारा निर्धारित पीले घोड़े का युग अभी तक नहीं आया है? बिलकूल नही। लेकिन "क्लेश-पूर्व रेप्चर का सिद्धांत" सिखाता है कि महान क्लेश की शुरुआत से पहले सभी संतों को परमेश्वर द्वारा रेप्चर किया जाएगा, और इस तरह वे सात साल के क्लेश में से नहीं गुजरेंगे। यह दृष्टिकोण दावा करता है कि कोई शहादत नहीं है, और यह विश्वास नहीं करता है कि संतों के लिए पीले घोड़े का युग आएगा। 
यदि यह "क्लेश-पूर्व रेप्चर का सिद्धांत" सत्य है, तो प्रकाशितवाक्य के अध्याय १३ में कहे गए संतों की शहादत का क्या अर्थ है? यहाँ स्पष्ट रूप से कहा गया है कि संत शहीद होंगे क्योंकि वे, जिनके नाम परमेश्वर की जीवन की पुस्तक में लिखे गए हैं वे शैतान के सामने आत्मसमर्पण नहीं करेंगे।
जो लोग "क्लेश के बाद के रेप्चर के सिद्धांत" को सिखाते हैं, उनमें भी पीले घोड़े के युग, और संतों की शहादत, पुनरुत्थान और रेप्चर की उचित समझ का अभाव है। इस परिकल्पना के अनुसार, सभी विपत्तियाँ (सात तुरहियाँ और सात कटोरे) समाप्त होने तक संत इस पृथ्वी पर रहेंगे। लेकिन प्रकाशितवाक्य हमें स्पष्ट रूप से बताता है कि संतों का पुनरुत्थान और रेप्चर तब होगा जब अंतिम स्वर्गदूत तुरही बजाएगा—दूसरे शब्दों में, परमेश्वर के क्रोध के सात कटोरे उंडेल ने से पहले। यही कारण है कि प्रकाशितवाक्य उन लोगों के लिए बड़ी सांत्वना और आशीष का वचन है जो पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं।
"सहस्त्राब्दिवाद" लोगों के लिए केवल निराशा और भ्रम लेकर आया है, और यह सत्य नहीं है। हमारे प्रभु ने अपने शिष्यों से जो वादा किया था - कि संतों को पांच या दस शहरों पर शासन करने का अधिकार दिया जाएगा - वही वास्तव में हजार साल के राज्य में होगा।
आपको याद रखना चाहिए कि क्लेश के पहले रेप्चर, क्लेश के बाद पश्चात रेप्चर, और हजार साल के राज्य के सिद्धांत जैसी काल्पनिक धारणाएं निराधार दावे हैं जो विश्वासियों के लिए केवल अविश्वास और भ्रम लाते हैं।
तो फिर, परमेश्वर ने हमें प्रकाशितवाक्य की पुस्तक क्यों दी? उसने हमें सात युगों के माध्यम से अपनी भविष्यवाणी दिखाने के लिए और जो यीशु के शिष्य बन गए हैं उन्हें स्वर्ग की सच्ची आशा देने के लिए हमें प्रकाशितवाक्य का वचन दिया।
यहाँ तक की अभी भी, चीजें परमेश्वर की योजना के अनुसार हो रही हैं। अब हम जिस युग में जी रहे हैं, वह काले घोड़े का युग है। निकट भविष्य में, काले घोड़े का यह युग जल्द ही बीत जाएगा और पीले घोड़े का युग आ जाएगा। और पीले घोड़े के युग के साथ, मसीह विरोधी के उदय के साथ संतों की शहादत शुरू होगी। यह युग वह युग है जिसमें पूरी दुनिया मसीह विरोधी के अधिकार के तहत एकीकृत और एकजुट हो जाएगी। यीशु के शिष्यों को अभी से तैयारी करनी चाहिए और अपने विश्वास के साथ पीले घोड़े के युग के आगमन का सामना करने के लिए तैयार रहना चाहिए।