उपदेश

विषय १० : प्रकाशितवाक्य (प्रकाशितवाक्य पर टिप्पणी)

[अध्याय 2-2] ऐसा विश्वास जो शहादत को गले लगा सकता है

ऐसा विश्वास जो शहादत को गले लगा सकता है

( प्रकाशितवाक्य २:१-७ )

हम में से अधिकांश लोगो के लिए, शहादत एक अपरिचित शब्द है, लेकिन जो एक गैर-मसीही संस्कृति में पले-बढ़े हैं, उनके लिए यह और भी अधिक अपरिचित है। निश्चित रूप से शब्द "शहादत" एक ऐसा शब्द नहीं है जिसका हम अक्सर अपने दैनिक जीवन में सामना करते हैं; हम शब्द से अलग और परे महसूस करते हैं, क्योंकि हमारे लिए अपनी वास्तविक शहादत की कल्पना करना काफी अवास्तविक है। फिर भी, प्रकाशितवाक्य की पुस्तक के अध्याय २ और ३ में इस शहादत की चर्चा है, और इसके वचन से हमें अपने हृदयों में शहादत का विश्वास स्थापित करना चाहिए—अर्थात वह विश्वास जिसके साथ हम शहीद हो सकते हैं।
रोमन सम्राट साम्राज्य के अपने लोगों के पूर्ण शासक थे। अपने अधिकार क्षेत्र पर पूर्ण अधिकार रखते हुए, वे अपने ह्रदय की इच्छा के अनुसार कुछ भी कर सकते थे। कई युद्ध लड़ने और जीतने के बाद, रोमन साम्राज्य ने अपने शासन के तहत अनगिनत राष्ट्रों को वश में कर लिया, जीते हुए राष्ट्रों द्वारा दिए गए उपहार के साथ खुद को समृद्ध किया। एक भी युद्ध नहीं हारे, छोटा राष्ट्र दुनिया के सबसे महान साम्राज्यों में से एक बन गया। केवल आकाश ही उस शक्ति की सीमा थी जिसे उसके सम्राट शासन करने के लिए आए थे। यह शक्ति इतनी महान थी कि अंततः लोगों द्वारा उन्हें जीवित देवताओं के रूप में पूजा जाने लगा।
उदाहरण के लिए, सम्राटों के लिए अपनी छवि में मूर्तियों का निर्माण करना और लोगों को उनके सामने झुकना असामान्य नहीं था। उन सम्राटों के लिए जिन्होंने स्वयं को देवता घोषित कर दिया था, यीशु में विश्वासियों की बढ़ोतरी उनकी पूर्ण सामर्थ के लिए एक गंभीर खतरे के अलावा और कुछ नहीं हो सकता था। मसीहीयों की सभा को गैरकानूनी घोषित करते हुए, उन्होंने विश्वासियों को सताने, गिरफ्तार करने, जेल भेजने और अंततः उन्हें उनके विश्वास के लिए निष्पादित करने के लिए दमनकारी नीतियों का सहारा लिया। यह इस ऐतिहासिक पृष्ठभूमि के खिलाफ है कि प्रारंभिक मसीही उत्पीड़न से बचने के लिए कैटाकॉम्ब्स जैसी जगहों पर भूमिगत हो गए थे, और यह वो उत्पीड़न है जिसने उनके धर्मी विश्वास की रक्षा के लिए शहादत को गले लगाने के लिए आधार तैयार किया।
इस प्रकार प्रारंभिक कलीसिया के युग में शहीद खड़े हुए। उस समय के संत, निश्चित रूप से, केवल सम्राटों के अधिकार को ठुकराने के लिए ही शहीद नहीं हुए थे। उन्होंने उनके सांसारिक अधिकार को पहचाना, लेकिन उन्होंने उस अधिकार को तब स्वीकार नहीं किया जब उन्हें मनुष्य को ईश्वर के रूप में आराधना करने और यीशु को अपने दिल से त्यागने के लिए मजबूर किया, यहां तक कि अपने खुद के जीवन की कीमत पर भी नहीं। रोमन सम्राटों ने मसीहीयों को यीशु को नकारने और उन्हें न केवल सम्राट बल्कि ईश्वरों के रूप में आराधना करने का आदेश दिया। जब तक कि ३१३ ईस्वी में मिलान के आदेश ने अंततः उन्हें धार्मिक स्वतंत्रता नहीं दी गई तब तक इस तरह की मांगों के सामने आत्मसमर्पण करने में असमर्थ और अनिच्छुक, प्रारंभिक मसीहीयों को उत्पीड़न का सामना करना पड़ा और अपने विश्वास की रक्षा के लिए शहीद होना पड़ा। हमारे सामने विश्वास के इन पूर्वजों की तरह, हम भी अपने विश्वास को त्यागने के बजाय धार्मिक मृत्यु का सामना करना पसंद करेंगे।
एशिया माइनर में सात कलीसियाओं के बारे में यह भाग न केवल उस समय की परिस्थितियों और स्थितियों का वर्णन है, बल्कि आने वाले संसार के बारे में भी प्रकाशन है। इसमें यह प्रकाशन मिलता है कि परमेश्वर के सेवक और उनके संत अपने विश्वास की रक्षा के लिए शहीद हो जाएंगे। जैसे रोमन साम्राज्य के समय में, एक समय आएगा जब एक पूर्ण शासक रोमन सम्राट के आधुनिक-दिन के संस्करण के रूप में उभरेगा, जो हर किसी को अपने अत्याचारी शासन के अधीन करेगा, उसकी छवि के अनुसार मूर्तियाँ बनाएगा और सभी को उनके सामने झुकना होगा, और वह मांग करेगा की उसे एक ईश्वर के रूप में आराधना की जाए। यह हमारे अपने समय से बहुत दूर नहीं है, और जब यह युग आएगा, तो कई संत अपनी शहादत के लिए प्रारंभिक कलीसिया के विश्वासियों के नक्शेकदम पर चलेंगे।
इसलिए हमें अपने हृदय में उस चेतावनी के वचन को रखना चाहिए जो हमारे प्रभु ने एशिया की सात कलीसियाओं को दिया था। एशिया की सात कलीसियाओं का अभिवादन, प्रोत्साहन और चेतावनी देते हुए, परमेश्वर ने उनसे वादा किया कि "जो जय पाए" वह "जीवन के वृक्ष में से खाएगा, जो परमेश्वर के स्वर्ग के बीच में है," और "जीवन का मुकुट" प्राप्त करेगा उसे "छिपा हुआ मान्ना खाने के लिए दिया जाएगा," "वह भोर का तारा होगा," और बहुत कुछ! यह परमेश्वर का विश्वासयोग्य वायदा है कि जो लोग अपनी शहादत के द्वारा विजय हांसिल करते है, उन्हें वह स्वर्ग के सभी अनन्त आशीष देंगे।
तो फिर, प्रारंभिक कलीसिया के संतों ने अपनी शहादत का सामना कैसे किया? पहली बात जो हमें याद रखनी चाहिए वह यह है कि जो शहीद हुए थे वे परमेश्वर के सेवक और उनके संत थे। हर कोई शहीद नहीं हो सकता। केवल वे जो यीशु को अपने उद्धारकर्ता के रूप में मानते हैं, उत्पीड़न के अधीन आत्मसमर्पण नहीं करते हैं, और प्रभु में अपने विश्वास और भरोशे को बनाए रखते हैं, वे शहादत का सामना कर सकते हैं।
प्रेरित यूहन्ना, जिसे हम यहाँ पतमुस टापू पर इफिसुस की कलीसिया को उसके निर्वासन में फटकार लगाते हुए देखते हैं, वह यीशु के बारह प्रेरितों में से अंतिम जीवित व्यक्ति था। अन्य सभी प्रेरित पहले ही शहीद हो चुके थे, साथ ही अन्य संत भी। ऐतिहासिक रूप से कहें तो एशिया की सात कलीसियाओं के संत उन अनगिनत मसीहीयों में से कुछ ही थे जो ३१३ ईस्वी तक शहीद हुए थे। रोमन अधिकारियों के उत्पीड़न से भागते हुए, वे सचमुच भूमिगत हो गए, उनकी पहुंच से बचने के लिए गुफाओं की खुदाई की और आराधना के लिए कैटाकॉम्ब्स के रूप में जानी जाने वाली भूमिगत कब्रिस्तानों में इकट्ठा हुए – इन इस के बिच में उन्होंने कभी भी अपने विश्वास का त्याग नहीं किया और स्वेच्छा से अपनी शहादत को गले लगा लिया। 
इफिसुस की कलीसिया सहित एशिया की सात कलीसियाओं के सेवक और संत परमेश्वर द्वारा डाँट खाने के बावजूद भी शहीद हो गए। जिस चीज ने उन्हें शहीद होने में सक्षम बनाया, वह था प्रभु में उनका विश्वास। वे सभी विश्वास करते थे कि प्रभु ही परमेश्वर थे, उन्होंने उनके सभी पापों को ले लिया, और वह चरवाहा था जो उन सभी को हजार साल के राज्य और नए स्वर्ग और पृथ्वी की ओर ले जाएंगे। यह विश्वास और आशा की निश्चितता ही है जिसने उन्हें अपनी शहादत के कारण अपने सभी भय और मृत्यु के दर्द को दूर करने में सक्षम बनाया।
अब हम अंत समय में जी रहे हैं। वह समय अब बहुत दूर नहीं है जब दुनिया एक अधिकार के तहत एकजुट हो जाएगी और एक पूर्ण शक्ति वाला शासक उभरेगा। प्रकाशितवाक्य १३ में दर्ज यह पूर्ण शासक, संतों के जीवन को खतरे में डालेगा और मांग करेगा कि वे अपने विश्वास को त्याग दें। लेकिन हम, अंत समय के संत, उसकी धमकियों और जबरदस्ती पर काबू पाने और अपनी शहादत के माध्यम से अपने विश्वास की रक्षा करने में सक्षम होंगे, क्योंकि हमारा वही विश्वास है जो प्रारंभिक कलीसिया के संतों का था।
वचन ४-५ में, परमेश्वर ने इफिसुस की कलीसिया को फटकार लगाते हुए कहा, “पर मुझे तेरे विरुद्ध यह कहना है कि तू ने अपना पहला–सा प्रेम छोड़ दिया है। इसलिये स्मरण कर कि तू कहाँ से गिरा है, और मन फिरा और पहले के समान काम कर। यदि तू मन न फिराएगा, तो मैं तेरे पास आकर तेरी दीवट को उसके स्थान से हटा दूँगा।” इसका क्या अर्थ है? इसका अर्थ है कि इफिसुस की कलीसिया ने पानी और आत्मा के सुसमाचार को छोड़ दिया था। इफिसुस की कलीसिया सहित प्रारंभिक कलीसिया के सभी संतों ने पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास किया था। ऐसा इसलिए था क्योंकि यीशु के सभी शिष्यों ने पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रसार और प्रचार किया था। इस प्रकार उस समय के संतों ने प्रेरितों से जो सुसमाचार प्राप्त किया, वह संपूर्ण सुसमाचार था, न कि झूठा और मानव निर्मित सुसमाचार जो केवल क्रूस पर लहू में विश्वास करता है।
लेकिन यहां कहा गया है कि इफिसुस की कलीसिया के सेवक ने अपना पहला सा प्रेम छोड़ दिया था। इसका अर्थ यह है कि इफिसुस की कलीसिया के सेवक ने कलीसिया की सेवकाई में पानी और आत्मा के सुसमाचार को त्याग दिया था। इस कारण प्रभु ने कहा कि जब तक वह मन फिराव न करे, वह दीवट को उसके स्थान से हटा देगा। उसके पास से दीवट को हटाने का मतलब कलीसिया को हटाना था, जिसका अर्थ था कि पवित्र आत्मा अब इफिसुस की कलीसिया में काम नहीं कर सकता था।
इफिसुस की कलीसिया के सेवक के लिए, पानी और आत्मा के सुसमाचार की ओर लौटना वास्तव में इतना कठिन काम नहीं था। लेकिन यह उनकी सबसे छोटी समस्या थी। जिस बात ने उसे संकट में डाला, वह यह थी कि वे पानी और आत्मा के सुसमाचार पर ह्रदय से विश्वास तो करते थे लेकिन स्पष्ट रूप से उस बात का प्रचार करने में असफल रहे। उन्होंने अपनी कलीसिया में उन सभी लोगों को स्वीकार किया जिन्होंने केवल यीशु को अपने उद्धारकर्ता के रूप में स्वीकार किया था, भले हीफिर  वे पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास नहीं करते थे, हालाँकि वास्तव में पानी और आत्मा के सुसमाचार में उनके विश्वास का अंगीकार विश्वासियों शहादत के लिए तैयार रहने के लिए था। 
इसलिए, दूसरे शब्दों में कहे तो उसने, उन सभी का स्वागत किया, जो उसकी कलीसिया में आए थे, भले ही उनका परमेश्वर और पानी और आत्मा के सुसमाचार में समान विश्वास था या नहीं। क्योंकि परमेश्वर की कलीसिया में प्रवेश करने के लिए बहुत अधिक बलिदान की आवश्यकता थी, और क्योंकि इफिसुस की कलीसिया के सेवक को डर था कि ये बलिदान कई लोगों को कलीसिया में शामिल होने से रोकेंगे इसलिए वह स्पष्ट शब्दों में पूर्ण सत्य का प्रचार करने में विफल रहा था।
परन्तु चूँकि पवित्र आत्मा वहाँ वास नहीं कर सकता जहाँ सत्य नहीं है, परमेश्वर ने कहा कि वह दीवट को हटा देगा। यह इफिसुस की कलीसिया के सेवकों और संतों के कामों की कमी के कारण नहीं है कि परमेश्वर ने कहा कि वह कलीसिया को हटा देगा; बल्कि, उसका मतलब था कि वह अब और कलीसिया में नहीं रह सकता क्योंकि कलीसिया में अब सच्चाई नहीं पाई जा सकती है।
यह एक बहुत ही जरुरी आवश्यकता है कि परमेश्वर की कलीसिया पानी और आत्मा के सुसमाचार का अनुसरण करे। परमेश्वर के सेवकों और संतों को न केवल इस सुसमाचार में विश्वास करना चाहिए, बल्कि स्पष्ट और पूर्ण शब्दों में इसका प्रचार और शिक्षा भी देनी चाहिए, क्योंकि केवल इस सुसमाचार में ही हम परमेश्वर का प्रेम, उसकी कृपा, और हमारे लिए उसके सभी आशीर्वाद को पा सकते हैं।
इस सुसमाचार का प्रचार करने के बजाय, इफिसुस की कलीसिया के सेवक ने अपनी मंडली में उन लोगों को स्वीकार किया जो केवल क्रूस पर लहू में विश्वास करते थे। लेकिन यहां तक कि एक नया जन्म पाए हुए सेवक, संत, या कलीसिया के लिए, पानी और आत्मा के सुसमाचार पर जिसने यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू से हमारे सारे पापों को ले लिया था विश्वास करना लेकिन प्रचार न करना हमारे प्रभु के सारे वचनों को बेकार बनाता है। 
भले ही हम प्रभु की आंखों के सामने पर्याप्त नहीं है, यदि हम इस सुसमाचार में विश्वास करते हैं और इसका प्रचार करते हैं, तो प्रभु पवित्र आत्मा के रूप में हम में निवास कर सकते हैं और कार्य कर सकते हैं। भले ही परमेश्वर के सेवक या संत कमियों से भरे हों, प्रभु उन्हें अपने वचन के माध्यम से सिखा सकते हैं और उनका नेतृत्व कर सकते हैं। पानी और आत्मा की कलीसिया में पवित्र आत्मा पाया जाता है, और इसमें पवित्र आत्मा की उपस्थिति का मतलब है कि कलीसिया पवित्र है।
यदि परमेश्वर के सेवक या संत पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार नहीं करते है तो उनके लिए कोई पवित्रता नहीं हैं। वे यह कहने में सक्षम हो सकते हैं कि उनके पास अब पाप नहीं है, लेकिन पवित्रता उनके पास नहीं मिल सकती जो पानीऔर आत्मा के सुसमाचार का प्रचार नहीं करता है।
पानी और आत्मा का यह सुसमाचार वह सुसमाचार है जिस पर प्रारंभिक कलीसिया के संत विश्वास करते थे, वह सुसमाचार जो यह घोषणा करता है कि प्रभु अपने बपतिस्मा के साथ जगत के सभी पापों को अपने ऊपर ले कर मनुष्यजाति को बचाने के लिए इस धरती पर आए थे और उन सब पापों को क्रूस पर अपनी मृत्यु के साथ दूर किया। उसने अपने बपतिस्मे से हमारी सभी कमजोरियों और कमियों को दूर किया। परमेश्वर ने हमारे सभी पापों को हमारी कमजोरी और कमियों से दूर कर दिया, और वह हमारा अनन्त चरवाहा बन गया है।
इतनी प्रचुर मात्रा में आशीषित होने के बाद, कोई व्यक्ति कैसे रोमन सम्राट के लिए प्रभु को बदल सकता है और अपने परमेश्वर के रूप में एक मात्र नश्वर मनुष्य की आराधना कर सकता है? क्योंकि परमेश्वर का अनुग्रह इतना महान और इतना प्रचुर था, न तो प्रलोभन और न ही रोमन सम्राट की धमकी संतों को उसके प्रेम को अस्वीकार करने के लिए मजबूर कर सकती थी, और उन्होंने स्वेच्छा से और खुशी से अपने विश्वास की रक्षा के लिए शहादत को गले लगा लिया। उन्होंने उन दोनों खतरों का विरोध किया जो उन्हें अपने विश्वास को त्यागने के लिए मजबूर करने की मांग करते थे और भौतिक लाभ के लिए अपने विश्वास को त्यागने के लिए उन्हें लुभाने के लिए उन्हें सार्वजनिक अधिकारियों के लिए नियुक्त करने का प्रयास करते थे। कोई भी चीज उन्हें अपने विश्वास को त्यागने और अपने परमेश्वर को त्यागने के लिए मजबूर नहीं कर सकती थी, और यह अमर विश्वास ही उन्हें शहीद होने में सक्षम बनाता है। 
शहीदों के हृदय परमेश्वर के उस अनुग्रह और प्रेम के लिए धन्यवाद से भरे हुए थे जिसने उन्हें पानी और आत्मा के सुसमाचार के द्वारा उनके पापों से छूटकारा दिलाया था। जिन लोगों का विश्वास परमेश्वर के उस प्रेम के साथ विश्वासघात नहीं कर सका, जिसने उन्हें उनके पापों से हमेशा के लिए छूटकारा दिलाया था, उन्होंने धर्मत्याग के बजाए शहादत को गले लगा लिया। जिस प्रकार रोमन सम्राटों ने प्रारंभिक कलीसिया के संतों से उनकी दिव्यता को पहचानने और उन्हें देवताओं के रूप में आराधना करने की मांग की थी उसी प्रकार वह समय भी जल्द आएगा जब हम भी अपने विश्वास को त्यागने के लिए मजबूर होंगे। जब ऐसा होता है, तो हमें विश्वास के पूर्वजों के नक्शेकदम पर चलना चाहिए और शहादत के साथ अपने विश्वास की रक्षा करनी चाहिए।
यद्यपि हम कमियों से भरे हुए हैं, परमेश्वर ने हम से इतना प्रेम किया है कि उसने हमारी सभी कमियों और पापों को अपने ऊपर ले लिया। भले ही हम उसकी महिमा के सामने कितने ही कमजोर क्यों न हो, उसने हमें अपनी बाहों में स्वीकार कर लिया है। उसने न केवल हमें गले लगाया है, बल्कि उसने पाप और विनाश की सभी समस्याओं को हल किया है और हमें हमेशा के लिए अपनी संतान और उसकी दुल्हन बना दिया है। यही कारण है कि हम कभी भी उस पर अपने विश्वास के साथ विश्वासघात नहीं कर सकते और यही कारण है की हम स्वेच्छा से और खुशी-खुशी उनके नाम के लिए शहादत को गले लगाएंगे। शहादत उस पहले प्रेम की रक्षा करना है जो परमेश्वर ने हमें दिया था। यह हमारी मानवीय भावनाओं का उत्पाद नहीं है, बल्कि इस विश्वास के कारण है कि परमेश्वर ने हमारी कमजोरियों और कमियों के बावजूद हमें अपनी सारी आशीषें दी हैं। यह हमारी इच्छा के बल पर नहीं है कि हम शहीद हो सकते हैं, बल्कि हमारे परमेश्वर की महानता में विश्वास के द्वारा है।
बेशक, ऐसे लोग हैं जो अपने देश या विचारधारा के लिए शहीद हो जाते हैं। इन लोगों का दृढ़ विश्वास है कि वे जिसे सही मानते हैं उसके लिए अपनी जान तक देने को तैयार हैं। लेकिन हमारा क्या? परमेश्वर की सन्तान जो पानी और आत्मा के द्वारा यीशु मसीह में अपने विश्वास के द्वारा नया जन्म प्राप्त किए हुए है वे शहीद कैसे हो सकते हैं? हम शहीद हो सकते हैं क्योंकि हम उस सुसमाचार के लिए बहुत आभारी हैं जिसके साथ हमारे प्रभु ने हमें प्रेम किया और बचाया। क्योंकि परमेश्वर ने हमारी असंख्य कमियों के बावजूद हमें स्वीकार किया है, क्योंकि उसने हमें पवित्र आत्मा दिया है, और क्योंकि उसने हमें अपने लोग बनाया है और हमें उसकी उपस्थिति में अनंत काल तक जीने का आशीर्वाद दिया है, हम उसे कभी नहीं छोड़ सकते। 
परमेश्वर ने हमें नए स्वर्ग और पृथ्वी का भी वादा किया है, और केवल इसी आशा के लिए हम अपने विश्वास को नहीं छोड़ सकते। चाहे कुछ भी हो जाए - भले ही अंत के समय में मसीह विरोधी हमें धमकाता है और हमें सताता है - हम कभी भी अपने प्रभु और पानी और आत्मा के उनके सुसमाचार को अस्वीकार नहीं कर सकते हैं। भले ही हमें मसीह विरोधी के चरणों में घसीटा जाए और मौत के घाट उतार दिया जाए, फिर भी हम परमेश्वर के उस अनुग्रह और प्रेम के साथ विश्वासघात नहीं कर सकते जिसने हमें बचाया है। जैसा कि कहा जाता है, "हमारे शवों पर" भी हम प्रभु को धोखा नहीं देंगे। हमें अन्य काम करने के लिए मजबूर किया जा सकता है, लेकिन एक चीज है जिसके आगे हम कभी नहीं झुकेंगे: हम मसीह के प्रेम को न तो छोड़ेंगे और न ही धोखा देंगे जिसने हमें बचाया है।
क्या आपको लगता है कि मसीह विरोधी हम पर दया करेंगे क्योंकि हमारे अन्दर कमियाँ हैं? बिलकूल नही! वह दया नहीं करेंगे! लेकिन हमारे प्रभु ने हम कितने कमजोर और अपूर्ण है इस बात की परवाह न करते हुए हमारी जगह सारी समस्याओं को अपने ऊपर लेकर और न्याय सहन कर हमें सम्पूर्ण बनाया है। यही कारण है कि हम पानी और आत्मा के सुसमाचार के माध्यम से हमें छूटकारा देनेवाले प्रभु के उद्धार के प्रेम को नहीं छोड़ सकते हैं, और हम इस पहले प्रेम में अपने विश्वास को नहीं छोड़ सकते हैं। किसी भी चीज को तब तक नहीं छोड़ा जा सकता जब तक हम उसे पहले अपने दिल में नहीं छोड़ देते। 
इसी तरह, यदि हम अपने विश्वास को अपने दिलों की गहराई में रखते हैं, तो हम अपने विश्वास की रक्षा अंत तक कर सकते हैं फिर चाहे हम पर कितना भी खतरा, प्रलोभन या दबाव क्यों न डाला जाए। यदि हम अपने हृदय में अपने लिए परमेश्वर के अनमोल प्रेम को जानते हैं, और यदि हम अंत तक इस प्रेम को थामे रहते हैं, तो हम अंतिम दिनों तक सुसमाचार की रक्षा कर सकते हैं। विश्वास से चलने वालों के लिए शहादत को गले लगाना कभी मुश्किल नहीं होता।
हम सब को अपनी शहादत की संभावना पर गंभीरता से विचार करना चाहिए। शहादत सिर्फ दर्द और पीड़ा सहना नहीं है। हमारी देह कुछ ऐसी है कि सुई का छोटा सा प्रहार भी असहनीय पीड़ा ला सकती है। शरीर के ऐसे दर्द को सहना शहादत के बारे में नहीं है। लेकिन शहादत का मतलब अपनी जान देना है। न केवल शारीरिक कष्ट सहना, बल्कि वास्तव में किसी की जान गंवाना ही शहादत है। जब मसीह-विरोधी माँग करता है कि हम उसे बुलाएँ और उसे ईश्वर के रूप में आराधना करे, तो हम अपनी मृत्यु तक उसका विरोध करेंगे। क्योंकि केवल परमेश्वर ही हमारे परमेश्वर हैं और केवल वही हमारी आराधना के पात्र हैं, यह उचित है कि हम उनके नाम की रक्षा के लिए शहीद हो जाएं। हम किसी भी चीज़ के लिए इस विश्वास को बदल नहीं कर सकते।
क्या मसीह विरोधी, जो परमेश्वर को नकारता है और परमेश्वर के रूप में आराधना किए जाने की मांग करता है, वास्तव में इस तरह की आराधना के योग्य है? बिलकूल नही! केवल परमेश्वर के पास दुनिया और ब्रह्मांड को बनाने की सामर्थ है। वह अकेले ही जीवन और मृत्यु पर अधिकार रखता है, वह अकेला ही निर्दोष, पापरहित, और पूरी सृष्टि के सामने पूरी तरह से धर्मी है, और वह अकेले ही दुनिया के सभी पापों को दूर करने की सामर्थ रखता है। फिर मसीह विरोधी के बारे में क्या? केवल एक चीज जो मसीह विरोधी के पास है वह है सांसारिक शक्ति। यही कारण है कि हम अपने प्रभु को उसके लिए बदल नहीं सकते, और यही कारण है कि हम सर्वसामर्थी परमेश्वर पर अपने विश्वास को कभी भी धोखा नहीं दे सकते।
परमेश्वर वह है जो निश्चित रूप से हमें अनंतकाल के लिए आनंदित करेगा। वह उन लोगों को महिमामय देह में पुनरुत्थित करेगा जिन्हें यीशु मसीह पर विश्वास करने के द्वारा पापरहित बनाया गया है और उनके लिए हजार साल के राज्य और नए स्वर्ग और पृथ्वी के द्वार खोलेगा। परन्तु जो लोग मसीह-विरोधी के सामने झुकेंगे, उन्हें अनन्त दंड का सामना करना पड़ेगा और उन्हें शैतान के साथ नरक में डाल दिया जाएगा। यदि हम केवल क्षणिक पीड़ा और दर्द के डर से मसीह विरोधी के साथ खड़े होकर अपने अनंत सुख को फेंक देते है तो ऐसा करना सबसे बड़ी मूर्खता होगी। इस सच्चाई को जानकर, जो लोग पानी और आत्मा के सुसमाचार पर अपने दिलों में विश्वास करते हैं, वे बहादुरी से मसीह विरोधी के खिलाफ खड़े होंगे, शहीद होंगे, और अपने बलिदान के प्रतिफल के रूप में अनन्त आनंद प्राप्त करेंगे।
आप और मैं, हम सब शहीद होने वाले हैं। सावधान रहे: जब काले घोड़े का युग समाप्त होगा, तो पीले घोड़े का युग आएगा, और फिर, मसीह विरोधी उठ खडा होगा और सात तुरहियों की विपत्तियाँ शुरू होंगी। मसीह-विरोधी निश्चित रूप से उठ खडा होगा, हम संत निश्चित रूप से शहीद होंगे, और हमारे पुनरुत्थान के साथ हम निश्चित रूप से स्वर्ग में उठा लिए जाएंगे। और हम निश्चित रूप से एक हजार वर्ष के राज्य में प्रवेश करेंगे। यही कारण है कि जब मसीह विरोधी हमें सताएगा और हमारी मृत्यु की मांग करेगा तब हम सभी स्वेच्छा से शहीद होंगे ।
क्वो वादीस, क्लासिक फिल्मों में से एक, कई मसीहीयों को चित्रित करता है जिन्होंने अपने विश्वास की रक्षा के लिए अपनी जान दे दी और उन्हें मौत के घाट उतार दिया गया। फिल्म अपने आप में एक कल्पना है, लेकिन इसकी ऐतिहासिक पृष्ठभूमि पूरी तरह सच है- यानी, कई मसीहीयों ने अपने विश्वास की रक्षा के लिए अपने प्राणों का बलिदान दे दिया। उन्होंने ऐसा क्यों किया? क्योंकि रोमी अधिकारियों ने उनसे जो मांग की थी—परमेश्वर को नकारना, उसके स्थान पर अन्य देवताओं की आराधना करना, और उनके विश्वास को त्याग देना—ऐसा कुछ नहीं था जिसे वे स्वीकार कर सकते थे। 
यदि उन्होंने रोमन सम्राटों की माँग के अनुसार अपने परमेश्वर को बदल दिया होता, तो वे सब कुछ बदल देते। सम्राट उनके देवता बन जाते, उन्हें अपने अत्याचार के अधीन कर लेते, और वे युद्ध में उनके मोहरे के रूप में मर जाते। न तो उन्हें पाप से बचाया जाता, न ही वे नए स्वर्ग और पृथ्वी में प्रवेश करने में सक्षम होते। यही कारण है कि वे अपने विश्वास के साथ विश्वासघात नहीं कर सके और इसके बजाय खुशी और प्रशंसा में अपनी निश्चित मृत्यु का सामना करना चुना। जब वे मर रहे थे तब भी वे प्रभु की स्तुति कर रहे थे क्योंकि उनकी आशा उनके मृत्यु के दर्द से कहीं अधिक थी।
पानी और आत्मा के सुसमाचार की रक्षा करना हमारे लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। हमारे लिए यह आशा में जीना भी अनिवार्य है कि विश्वास करते हुए कि हमारी मृत्यु से परे खुशी और महिमा से भरी एक नई दुनिया में अनंत जीवन की प्रतीक्षा है।
क्या आपने कभी प्रभु के लिए कष्ट सहे हैं? क्या आपने वास्तव में कभी अपनी कमियों या गलतियों के कारण नहीं, बल्कि प्रभु के लिए कष्ट उठाया है? यदि हमारा दुख प्रभु के लिए है, तो हमारे सभी दुख और भी बड़े आनंद में बदल जाएंगे। जैसा कि प्रेरित पौलुस ने इस आनन्द को व्यक्त किया, "क्योंकि मैं समझता हूँ कि इस समय के दु:ख और क्लेश उस महिमा के सामने, जो हम पर प्रगट होनेवाली है, कुछ भी नहीं हैं” (रोमियों ८:१८)। क्योंकि उस महिमा का आनंद जो हम में प्रकट होगा, प्रभु के लिए हमारे कष्टों के दर्द से बहुत अधिक है, हमारे सभी वर्तमान कष्ट हमारे विश्वास के महान आनंद और खुशी के नीचे दब जाएंगे। 
दूसरे शब्दों में, प्रारंभिक कलीसिया के संत और शहीद अपने दर्द को दूर कर सकते थे और प्रभु के लिए अपनी जान दे सकते थे क्योंकि वे जानते थे कि जो आनंद उनकी प्रतीक्षा कर रहा है वह उनके तत्काल दुख से कहीं अधिक है। उनकी शहादत उनके दर्द को सहने और दुख सहने की उनकी क्षमता का उत्पाद नहीं थी, बल्कि उस महिमा के लिए उनकी आशा थी जो उनका इंतजार कर रही थी।
सामान्य तौर पर, लोग यह सोचकर अपना दर्द सहते हैं कि उन्हें बस इसके साथ रहना है। यह एक कठिन और थका देने वाली लड़ाई है। जब उनका धीरज निराशाजनक परिणाम लाता है, तो उनकी हताशा और भी अधिक हो जाती है – बिना किसी कारण के दुःख सहना! लेकिन हम मसीहीयों के लिए, हमारी दृढ़ता का आनंद और खुशी अधिक हो जाती है, क्योंकि हम अपनी आशा और पुरस्कार की निश्चितता में सुरक्षित हैं। यदि हम अपने पूरे दिल से उसके वफादार सेवकों के रूप में प्रभु की सेवा करने के लिए अपना मन लगाते हैं, तो हम जानते हैं कि जो आनंद और आराम हमारी प्रतीक्षा कर रहा है, वह हमारे वर्तमान बलिदानों के दर्द से कहीं अधिक है। क्योंकि इस आनंद में सभी कठिनाइयाँ दबी हुई हैं, हम सभी प्रभु के लिए अपना जीवन जी सकते हैं और यहाँ तक कि उनकी खातिर अपनी शहादत को भी गले लगा सकते हैं।
लोगों में आत्माएं, भावनाएं, विचार और विश्वास होते हैं। नया जन्म प्राप्त की हुई आत्माओं के लिए, क्योंकि हमारे प्रभु की आत्मा उनमें वास कर रही है इसलिए उनकी धार्मिकता के लिए सताए जाने से उन्हें केवल उस महिमा के लिए अकथनीय आनंद और खुशी मिल सकती है जो उनकी प्रतीक्षा कर रही है। परन्तु यदि वे पहिले प्रेम को छोड़ दें, तो प्रभु दीवट को दूर करने से न झिझकेगा। 
यदि वे जो आनन्दपूर्वक पानी और आत्मा के सुसमाचार की सेवा अपने पूरे दिल और जीवन से कर रहे थे, ऐसा करना बंद कर देते हैं, तो इसका मतलब केवल यह हो सकता है कि उन्होंने धीरे-धीरे सुसमाचार की सेवा करने का आनंद, अपना पहला प्रेम छोड़ दिया था, भले ही फिर उन्होंने पूरे तौर से इस सुसमाचार को न छोड़ा हो। वे अभी भी अपने व्यक्तिगत विश्वास पर कायम हो सकते हैं, लेकिन यदि वे अब सुसमाचार का प्रचार करने में गर्व नहीं करते हैं और अब उन्हें यह स्पष्ट समझ नहीं है कि उद्धार प्राप्त करने के लिए क्या आवश्यक है—कि क्रूस पर लहू उद्धार के लिए पर्याप्त नहीं है—तो उनका विश्वास गलत हो जाएगा, और उनकी शहादत उनके लिए पहुंच से बाहर हो जाएगी। तब परमेश्वर उनकी दीवट को उसके स्थान से हटा देगा।
जो लोग खुशी और दृढ़ता के साथ सुसमाचार की सेवा करते हैं वे स्वेच्छा से शहादत को स्वीकार करने में सक्षम होंगे क्योंकि उन्होंने अपना पहला प्रेम कभी नहीं छोड़ा होगा। क्योंकि इन लोगों को मसीह के प्रेम पर विश्वास करने और प्रचार करने के लिए परमेश्वर द्वारा आशीषित किया गया है, वे शहीद हो सकते हैं। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कितने सक्षम या प्रतिभाशाली हैं; यदि आप पानी और आत्मा का सुसमाचार नहीं फैलाओगे, तो कलीसिया अपने स्थान से हटा दी जाएगी। यह एक महत्वपूर्ण संदेश है जिसे परमेश्वर चाहता है कि हम इसे समझें। यदि हम इस सत्य को महसूस करते हैं और उस पर विश्वास करते हैं, तो हम अंत के समय में अपने दिलों को नवीनीकृत कर सकते हैं और प्रभु के नाम के लिए शहीद होने में सक्षम हो सकते हैं।
वह मौलिक सार क्या है जो हमारे विश्वास को बनाए रखता है? यह पानी और आत्मा का सुसमाचार है। यदि यह पानी और आत्मा के सुसमाचार के लिए नहीं होता, तो हमारे विश्वास के कार्यों का क्या उपयोग होता? हमारे विश्वास को बनाए रखने का कारण यह है कि परमेश्वर ने हमसे प्रेम किया है और पानी और आत्मा के अपने सुसमाचार के साथ हमें अपनी बाहों में लिया है। क्योंकि यह प्रेम एक अपरिवर्तनीय प्रेम है जो हमें महिमा देता है, हम अपने विश्वास को बनाए रखने में सक्षम हैं और इसका प्रचार और प्रसार करना जारी रखते हैं।
हमारी कमजोरियों के बावजूद, हम अंत तक परमेश्वर की ओर दौड़ सकते हैं, क्योंकि पानी और आत्मा के सुसमाचार ने हमें बचाया है, और इस सुसमाचार में मसीह का प्रेम पाया जाता है। हम कमियों से भरे हुए हैं, लेकिन क्योंकि हम पानी और आत्मा के सुसमाचार के प्रेम से भरे हुए आत्मा को पहिने हुए हैं, हम अपने भाइयों और बहनों, परमेश्वर के सेवकों, और जगत की सभी आत्माओं से प्रेम कर सकते हैं। मूल रूप से, पूर्ण प्रेम मनुष्य की पहुँच से बाहर है। क्योंकि हमारे बीच कोई प्रेम नहीं है, हम किसी और से प्रेम करने में असमर्थ हैं, लेकिन केवल अपने आप से स्वार्थी की तरह प्रेम करते है। सतह पर जो कुछ दिखाई देता है, उससे बहुत से लोग धोखा खा जाते हैं, जो केवल चमकीले छिछरे सतह की ओर खींचा जाता है। वे लोगों का न्याय इस आधार पर करते हैं कि उनके पास कौन सी भौतिक और बाहरी संपत्ति है। परन्तु सच्चे विश्वासियों में परमेश्वर का प्रेम है। यह वही है जो हमें सुसमाचार, हमारे प्रभु के सिद्ध प्रेम का प्रसार करने में सक्षम बनाता है।
हमारे प्रभु इस धरती पर आए, हमारी सभी कमियों को स्वीकार करने के लिए बपतिस्मा लिया, और हमें बचाने के लिए हमारे सभी पापों से हमें शुद्ध किया। तो फिर, हम उसका पहला प्रेम कैसे छोड़ सकते हैं जिसने हमें परमेश्वर की सन्तान बना दिया है? हमारे पास कई पहलुओं में कमी हो सकती है, लेकिन हमें इस सच्चाई में अपने विश्वास में कभी कमी नहीं करनी चाहिए। हमें अपने पूर्ण विश्वास के साथ इस सुसमाचार का प्रचार करना चाहिए। क्लेश के समय में जिस चीज की सबसे ज्यादा जरूरत है, वह है पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास। जब हम परीक्षाओं और क्लेशों का सामना करते हैं, तो अपने विश्वास की रक्षा करने और कठिनाइयों पर विजय पाने की सामर्थ केवल पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास से ही आएगी। यह इस सुसमाचार की सामर्थ से है कि हमारे चेहरे खुशी से चमक सकते हैं, भले ही हम अनगिनत संघर्षों से थक जाते हैं जिनका हम अपने दैनिक जीवन में सामना करते हैं। यह हमारे प्रभु का प्रेम है।
कभी-कभी लोग कानूनी जाल में फंस जाते हैं। वे सोचते हैं कि उन्होंने जो किया है उसके लिए परमेश्वर ने उन्हें आशीर्वाद दिया है। मैं निश्चित रूप से यह सुझाव नहीं दूंगा कि यह पूरी तरह से झूठ है, क्योंकि प्रभु ने कहा था कि वह उनसे प्रेम करेगा जो उससे प्रेम करते हैं। लेकिन ऐसा नहीं है कि हमने जो किया है उसके कारण परमेश्वर ने हमें इतना प्रेम किया है कि हमें पाप रहित बना दिया है। क्योंकि परमेश्वर उन सभी वादों को जानता है जो उसने हमसे किए हैं, और क्योंकि वह हमारे सभी पापों को जानता है, उसने अपनी सिद्ध इच्छा और प्रेम में, हमें गले लगाया और हमें संपूर्ण बनाया। उनके आशीर्वाद से ही हम आनंद में जी सकते हैं। यह इसलिए है क्योंकि परमेश्वर ने हमें अपने लोग और अपने सेवक बनाए हैं ताकि हम प्रभु के लिए काम कर सकें, उनकी महिमा को पहन सकें, दूसरों को सुसमाचार का प्रचार कर सकें, और समय आने पर उनके नाम के लिए शहीद हो सकें। वह वो है जो हमें इन सभी चीजों को करने में सक्षम बनाता है।
कुओ वादी में शहीद होने वाली महिला शहीदों को मृत्यु के समय भी प्रभु की स्तुति गाने की सामर्थ कहाँ से मिली? उन्होंने हमारे प्रभु के प्रेम में सामर्थ पाई। क्योंकि मसीह का प्रेम इतना महान था, वे महिमा के साथ शहादत को गले लगा सके।
यही सिद्धांत हमारे अपने जीवन पर भी लागू होता है। हम अपना जीवन जीते हैं क्योंकि प्रभु ने हमें ऐसा करने के लिए सक्षम किया है; यह हमारे अपने कामों के कारण नहीं है कि हम परमेश्वर की संतान और सेवकों के रूप में जीते हैं। हमने इसके लायक कुछ नहीं किया है। यह हमारे लिए परमेश्वर के अपरिवर्तनीय और सिद्ध प्रेम और इस प्रेम में हमारे विश्वास के कारण है कि हम अंत तक उसका अनुसरण कर सकते हैं, फिर भले ही हम कभी-कभी ठोकर खाते हैं। यह सामर्थ परमेश्वर की सामर्थ है, हमारी नहीं। शहादत केवल परमेश्वर के प्रेम से ही संभव है जिसने हमें संपूर्ण बनाया है - केवल परमेश्वर की कृपा से ही हम शहादत को गले लगा सकते हैं। इस सत्य को याद रखें, कि यह परमेश्वर है जो आपको शहीद होने में सक्षम बनाता है, और खुद को शहादत के लिए तैयार करने की कोशिश में अपना समय बर्बाद न करें, जैसे कि आप इसके बारे में कुछ भी कर सकते हैं। केवल पानी और आत्मा के सुसमाचार में हमारा विश्वास ही हमें अंतिम सांस तक प्रभु की स्तुति करने में सक्षम बनाएगा।
प्रभु ने एशिया की सात कलीसियाओं से कहा: "जो जय पाए, मैं उसे उस जीवन के पेड़ में से जो परमेश्‍वर के स्वर्गलोक में है, फल खाने को दूँगा।" जीवन का वृक्ष नए स्वर्ग और पृथ्वी में पाया जाता है। उसमें परमेश्वर का सिंहासन, बहुमूल्य पत्थरों से बने घर, और जीवन का बहता हुआ जल है। जो लोग विजय प्राप्त करते हैं, उनके लिए परमेश्वर ने उनके इस स्वर्ग का वादा किया है, जहां वे हमेशा के लिए उनके साथ पूर्णता में रहेंगे।
जो विजय प्राप्त करते हैं वे पानी और आत्मा के सुसमाचार में अपने विश्वास के साथ ऐसा करते हैं। इस सुसमाचार के अलावा कुछ भी जय प्राप्त करने को असंभव बना देगा, जिसे केवल परमेश्वर की सामर्थ से प्राप्त किया जा सकता है, मनुष्य की शक्ति से नहीं। वह सामर्थ जो हमें जय प्राप्त करने में सक्षम बनाती है वह केवल परमेश्वर से आती है। हमें समझना चाहिए कि पानी और आत्मा का सुसमाचार कितना महान है और परमेश्वर का प्रेम और उसका उद्धार कितना महान है, क्योंकि यह सुसमाचार ही है जो हमें शहादत को गले लगाने का विश्वास देगा। हम सभी कमजोर, अप्रतिभाशाली, अकुशल, अक्षम, मूर्ख और अज्ञानी हो सकते हैं, लेकिन हमारे पास अभी भी सामर्थ है, क्योंकि हमारे ह्रदय में पानी और आत्मा का सुसमाचार है।
पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करने वालों के नाम जीवन की पुस्तक में लिखे गए हैं। हर कोई जिसका नाम जीवन की पुस्तक में दर्ज नहीं है वे शैतान के सामने गिर जाएगा और आत्मसमर्पण कर देगा। केवल वे ही जिनके नाम पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करके जीवन की पुस्तक में लिखे गए हैं वे शैतान के आगे नहीं झुकेंगे। आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि आपका नाम इस जीवन की पुस्तक में स्पष्ट और निश्चित रूप से लिखा गया है।
जब हम शहीद होंगे, तो यह हमारे विश्वास से होगा, मसीह का पहला प्रेम जो हमारे प्रभु ने हमें दिया है। हम बिना किसी चिंता या डर के अपनी शहादत की प्रतीक्षा कर सकते हैं क्योंकि हम विश्वास करते हैं कि पवित्र आत्मा जो हम में वास करता है वह हमें हमारी शहादत का सामना करने की सामर्थ देगा। क्योंकि शहादत की पीड़ा की तुलना उस स्वर्ग की महिमा से नहीं की जा सकती जो हमारा इंतजार कर रही है, हम अपनी मृत्यु से पहले नहीं झुकते हैं और इसके बजाय अनमोल सुसमाचार की रक्षा के लिए अपनी शहादत को साहसपूर्वक गले लगाते हैं। हमें अब कोई आश्चर्य नहीं छोड़ना चाहिए कि हम कैसे शहीद हो सकते हैं, क्योंकि यह हमारे प्रयास से नहीं बल्कि परमेश्वर द्वारा है कि हम शहीद हुए हैं।
मुझे यकीन है कि किसी दिन लाउड स्पीकर के माध्यम से निम्नलिखित घोषणा की जाएगी: “प्रिय नागरिकों, यह चिह्न प्राप्त करने का अंतिम दिन है। आज चंद नागरिकों को ही चिह्न मिलेगा। हम अब तक आपके सहयोग के लिए बहुत आभारी हैं। चिह्न प्राप्त करना आपके लिए बहुत अच्छा और अपरिहार्य है, क्योंकि यह हमारे देश की व्यवस्था स्थापित करना है। तो, कृपया सिटी हॉल में आएं और जल्द से जल्द चिह्न प्राप्त करें। मैं फिर आप से कहता हूँ कि आपके लिये यह चिन्ह प्राप्त करने का अन्तिम दिन है। जो लोग आज नियत समय तक चिह्न प्राप्त नहीं करते हैं उन्हें कड़ी सजा दी जाएगी। अब, इसे स्पष्ट करने के लिए, मैं उन लोगों के नाम बोलूँगा जिन्हें अभी तक चिह्न नहीं मिला है।” बेशक, यह एक कल्पना है, लेकिन निकट भविष्य में ऐसी चीजें जरूर होंगी।
प्रारम्भिक कलीसिया के विश्वासियों ने एक दूसरे को मछली के चिन्ह से पहचाना। उनके बिच यह एक पासवर्ड था। हम भी, एक ऐसा चिन्ह बनाना चाहेंगे जिससे हम अपने भाइयों और बहनों को पहचान सकें, ताकि हम एक-दूसरे के विश्वास को इतना प्रोत्साहित कर सकें कि हम शहादत को गले लगा सकें। 
क्योंकि शहादत कोई ऐसी चीज नहीं है जिसे हम अपने प्रयास से प्राप्त कर सकते हैं, हम अपनी चिंताओं को छोड़ कर साहस के साथ उसका सामना कर सकते हैं। हमारी धार्मिक मृत्यु से पहले डरने की कोई बात नहीं है। हमें केवल इतना करना है कि इस पृथ्वी पर रहते हुए प्रभु के लिए जीना है। हम अपने आप को प्रभु को दे सकते हैं क्योंकि हम जानते हैं कि हमारे भाग्य में हमारे परमेश्वर के नाम के लिए शहीद होना तय है। आपको यह महसूस करना चाहिए कि यदि आप अपनी संपत्ति खोने के डर से शहादत से बचने की कोशिश करते हैं, तो आपको और भी अधिक कष्टों और आपदाओं का सामना करना पड़ेगा। आपको विश्वास के लोग बनना चाहिए जो यह जानते हुए कि वे मसीह के लिए शहीद होंगे, प्रभु के लिए अपना जीवन अपने अंत तक जीते हैं।
जब हमें पता चलता है कि हम शहीद हो जाएंगे, तो हम अपने विश्वास, मन और अपने वास्तविक जीवन में समझदार हो जाएंगे। यह ज्ञान हमारी मूर्खता का इलाज है, जिससे हम सभी सांसारिक आसक्तियों को पीछे छोड़ सकते हैं। इसका मतलब यह नहीं है कि हमें अपना जीवन देना होगा, बल्कि यह कि हम प्रभु के लिए जीएंगे। जब तक परमेश्वर की सामर्थ शैतान को अथाह गड्ढे में नहीं फेंक देती, तब तक हम उस प्रभु के लिए जीते हैं जिसने हमें बचाया है, शैतान और मसीह विरोधी से लड़ें और उस पर विजय प्राप्त करें, और विजय की सारी महिमा केवल परमेश्वर को ही दें। परमेश्वर हमारे द्वारा महिमा पाना चाहता है। मैं प्रभु को धन्यवाद देता हूं कि उन्होंने हमें अपने विश्वास के साथ महिमा देने की अनुमति दी जिसने हमें इतना कुछ दिया है। 
हमें विश्वास है कि प्रभु जल्द ही हमें लेने के लिए वापस आएंगे। जब अंत के समय में कई आत्माएं परमेश्वर के पास लौटती हैं, तो परमेश्वर उन सभी को अपनी बाहों में ले लेंगे और उन्हें ले जाएंगे। जैसा कि प्रकाशितवाक्य ३:१० में परमेश्वर ने फिलदिल्फिया की कलीसिया से कहा, "तू ने मेरे धीरज के वचन को थामा है, इसलिये मैं भी तुझे परीक्षा के उस समय बचा रखूँगा जो पृथ्वी पर रहनेवालों के परखने के लिये सारे संसार पर आनेवाला है।" परमेश्वर निश्चित रूप से अपने वादे के वचन को पूरा करेगा।
"तूने मेरे धीरज के वचन को थामा है" के द्वारा, परमेश्वर संतों के विश्वासयोग्य जीवन की बात कर रहा है। इसका अर्थ है कि वे अपने विश्वास पर दृढ़ रहे, भले ही दूसरे लोग उनसे कुछ भी कह रहे हों या कर रहे हों। जब परमेश्वर कहता है कि वह "मैं तुझे परीक्षा के समय बचा रखूँगा," तो वह कह रहा है कि जिन्होंने दृढ़ रहने की उसकी आज्ञा का पालन किया है, वे विश्वास की परीक्षाओं से छूट जाएंगे। 
दुसरे शब्दों में, जब क्लेश और शहादत का समय आएगा, जब हम सेवा और प्रार्थना के अपने दैनिक जीवन में ईमानदारी से आगे बढ़ते हैं, तो परमेश्वर हमें दूर भगा देगा। जब हम अपने मन में ठान लेते हैं कि हमें शहीद होना है, तो हमारा ह्रदय सभी मलबे से साफ हो जाएगा, और इसके परिणामस्वरूप हमारा विश्वास और भी मजबूत हो जाएगा। हमें परमेश्वर के सामने विश्वास के अपने वर्तमान जीवन को परमेश्वर के उस वादे को याद करके जीना चाहिए कि हमारी शहादत के साथ, हम सभी को परीक्षा की घड़ी से दूर रखा जाएगा। संक्षेप में, हमें अपने विश्वास से जीना चाहिए।
आज का युग प्रकाशितवाक्य का युग है। कई मूर्ख मसीही हैं, जो परमेश्वर के वचन की उपेक्षा करते हुए, पूर्व-क्लेश के रेप्चर के सिद्धांत में अपने झूठे विश्वास पर हठपूर्वक चिपके रहते हैं। जब आखिरी दिन आएगा, तो उन्हें पता चल जाएगा कि वे कितने गलत थे। उनके प्रभाव और शक्ति के दिन गिने जाते हैं; हमें बस इतना करना है कि हम अपनी इस आशा की निश्चितता में जीएं कि परमेश्वर अपने वादे के वचन को पूरा करेगा।
जब हम महान क्लेश के मध्य समय पर पहुंचेंगे, तो हम अपने विश्वास की रक्षा के लिए शहीद हो जाएंगे, और सात कटोरों की विपत्तियों के शुरू होने से ठीक पहले, हम परमेश्वर द्वारा हवा में उठा लिए जाएंगे और हजार साल के राज्य में प्रवेश करेंगे। जब मसीह के साथ शासन करने की हमारी आशा को साकार किया जाता है, तो इस पृथ्वी पर हमारे सभी कष्टों की भरपाई उन पुरस्कारों से अधिक होगी जो हमारी प्रतीक्षा कर रहे हैं, और अनन्त नए स्वर्ग और पृथ्वी के लिए हमारा प्रवेश तब हमें अकथनीय खुशियों से भर देगा। आज, हम परमेश्वर के इस वादे की पूर्ति की आशा में, प्रभु के लिए, विश्वास से जीते हैं। अपने सभी वादों को पूरा करने के लिए अपने प्रभु पर भरोसा करते हुए, हम उस दिन की उत्सुकता से प्रतीक्षा कर रहे हैं जब हम अपने महिमामय शरीर में हमेशा के लिए उसके साथ रह सकेंगे। 
मैं प्रभु को धन्यवाद देता हूँ कि उन्होंने हमें पाप की पूर्ण माफ़ी का सुसमाचार दिया, हमें उनके प्रति अपने विश्वास की रक्षा करने के लिए शहादत को गले लगाने में सक्षम बनाया, और हमें उनके धन्य लोगों के बीच खड़ा किया।

 


इफिसुस की कलीसिया की पृष्टभूमि

 

इफिसुस, रोमन साम्राज्य के एशिया माइनर क्षेत्र का एक बड़ा बंदरगाह शहर, वाणिज्य और धार्मिक गतिविधियों का केंद्र था। प्रारंभिक कलीसिया के समय, यह एक फलता-फूलता अंतरराष्ट्रीय शहर था; उसके उत्तर में स्मुरना और दक्षिण में मिलेतुस था। मिथकों के अनुसार, युद्ध की बहादुर देवी, अमेज़ॅन ने पहली बार १२ वीं शताब्दी ईसा पूर्व में शहर का निर्माण किया था, जब उसने इसे एथेंस के एक राजकुमार एंड्रोक्लस को दिया था। 
इफिसुस, भौतिक रूप से, एक समृद्ध शहर था, जिसका अर्थ था कि यह एक बहुत ही सांसारिक शहर भी था। यही कारण है कि परमेश्वर ने इफिसुस की कलीसिया को अंत तक लड़ने और शैतान पर विजय पाने के लिए कहा ताकि वह पानी और आत्मा के अपने सुसमाचार को खो न दे। हमें यह समझना चाहिए कि परमेश्वर का सत्य का वचन कितना महत्वपूर्ण है, और हमें हर तरह से अपने विश्वास की रक्षा करनी चाहिए।
प्रेरित यूहन्ना के द्वारा परमेश्वर ने इफिसुस की कलीसिया को लिखा: “जो सातों तारे अपने दाहिने हाथ में लिये हुए है, और सोने की सातों दीवटों के बीच में फिरता है, वह यह कहता है कि मैं तेरे काम, और तेरे परिश्रम, और तेरे धीरज को जानता हूँ; और यह भी कि तू बुरे लोगों को देख नहीं सकता, और जो अपने आप को प्रेरित कहते हैं, और हैं नहीं, उन्हें तू ने परखकर झूठा पाया। तू धीरज धरता है, और मेरे नाम के लिये दु:ख उठाते उठाते थका नहीं।” इफिसुस की कलीसिया के काम, सब्र, बुराई को न सहने, और झूठे प्रेरितों की परीक्षा लेने और उनका पर्दाफाश करने और धीरज धरने और परमेश्वर के लिए दुःख उठाने के लिए परमेश्वर ने उसकी प्रशंसा की।
लेकिन अपने गलत कार्यों के लिए इफिसुस की कलीसिया को फटकार भी मिली। यह भाग आगे कहता है: “पर मुझे तेरे विरुद्ध यह कहना है कि तू ने अपना पहला–सा प्रेम छोड़ दिया है। इसलिये स्मरण कर कि तू कहाँ से गिरा है, और मन फिरा और पहले के समान काम कर। यदि तू मन न फिराएगा, तो मैं तेरे पास आकर तेरी दीवट को उसके स्थान से हटा दूँगा। पर हाँ, तुझ में यह बात तो है कि तू नीकुलइयों के कामों से घृणा करता है, जिनसे मैं भी घृणा करता हूँ। जिसके कान हों वह सुन ले कि आत्मा कलीसियाओं से क्या कहता है। जो जय पाए, मैं उसे उस जीवन के पेड़ में से जो परमेश्‍वर के स्वर्गलोक में है, फल खाने को दूँगा।”
उपरोक्त भाग में कहा गया है कि परमेश्वर निकुलईयों से घृणा करता है। निकुलई यहाँ विश्वासियों के एक निश्चित समूह का उल्लेख करते हैं जो परमेश्वर, उसकी कलीसिया और उसकी सच्चाई के विरुद्ध खड़े हुए थे। निकुलईयों ने जो किया था उसे बाद के भाग में पिरगमुन की कलीसिया को निर्देशित करते हुए और अधिक विस्तार से बताया गया है।

 


निकुलईयों के गलत कार्य

 

प्रकाशितवाक्य २:१४ कहता है, “पर मुझे तेरे विरुद्ध कुछ बातें कहनी हैं, क्योंकि तेरे यहाँ कुछ ऐसे हैं, जो बालाम की शिक्षा को मानते हैं, जिसने बालाक को इस्राएलियों के आगे ठोकर का कारण रखना सिखाया कि वे मूर्तियों पर चढ़ाई गई वस्तुएँ खाएँ और व्यभिचार करें।” इस भाग के लिए दूसरा सन्दर्भ गिनती की किताब अध्याय २२ में पाया जाता है, जहाँ मोआब के राजा बालाक की कहानी दर्ज है। 
मिस्र से निर्गमन के बाद जब इस्राएली कनान के मोआब के अराबा में पहुंचे, तब तक वे देश के सात गोत्रों को जीत चुके थे, “जैसे बैल मैदान की घास को खाता है।” इस विजय के बारे में सुनकर, बालाक अपने परमेश्वर से भयभीत हो गया, क्योंकि उसे डर था कि मोआबियों की हालत भी पहले से ही विजय प्राप्त गोत्रों के अनुसार होगा। बालाक ने इस्राएलियों को उन पर विजय प्राप्त करने से रोकने के लिए एक रास्ता निकालने की कोशिश में, बालाम, एक झूठे भविष्यद्वक्ता को बुलाया, ताकि वह इस्राएलियों को शाप दे।
बालाम झूठा भविष्यद्वक्ता था, परन्तु अन्यजातियों ने सोचा कि वह परमेश्वर का दास है। वह न तो महायाजक हारून का वंश था, और न लेवीय। परन्तु मोआबियों के राजा, बालाक ने विश्वास किया कि बालाम ने जिनको आशीर्वाद दिया है, वे आशीष पाएंगे, और जिन्हें शाप दिया है, वे शापित होंगे। उस समय, बालाम, हालांकि एक झूठा भविष्यद्वक्ता था, एक प्रसिद्ध जादूगर के रूप में पूरे देश में प्रसिद्ध था।
तौभी बालाम, राजा बालाक ने जो कुछ करने को कहा था, उसे वह नहीं मान सका। इसका कारण यह था कि क्योंकि इस्राएली परमेश्वर के लोग थे, न केवल बालाम को इस्राएलियों को शाप देने के लिए परमेश्वर की ओर से कोई अनुमति नहीं थी, बल्कि यह भी कि ऐसा करने का प्रयास केवल स्वयं के लिए एक शाप के रूप में समाप्त होगा। परमेश्वर की आत्मिक सामर्थ से अभिभूत, बालाम वास्तव में इस्राएलियों को आशीर्वाद देने के अलावा कुछ नहीं कर सकता था। इस से क्रोधित होकर बालाक ने बालाम से कहा कि वह इस्राएलियों को वहाँ से शाप दे जहां से वह उन्हें न देख सके।
बालाम ने बालाक से बहुत धन प्राप्त किया और बदले में उसे इस्राएलियों के लिए श्राप लाने का एक तरीका सिखाया। योजना यह थी कि उन्हें मोआबियों के पर्वों में आमंत्रित करके और उनकी स्त्रियों के साथ उन्हें प्रदान करके वेश्‍यावृत्ति करने के लिए प्रलोभित किया जाए, ताकि इस्राएलियों को उनके पापों के लिए परमेश्वर द्वारा दंडित किया जाए। इस प्रकार झूठे भविष्यद्वक्ता बालाम ने बालाक को इस्राएलियों का विनाश करने की शिक्षा दी।
परमेश्वर ने कहा कि वह बालाम से घृणा करता था क्योंकि बालाम एक ऐसा व्यक्ति था जिसे पैसे से प्यार था। आज के मसीही समुदाय में बहुत से ऐसे लोग हैं जो बिलकुल बालाम की तरह हैं। वे वास्तव में सभी झूठे भविष्यद्वक्ता हैं, लेकिन उनमें से कई अभी भी सम्मानित और आदरणीय हैं। लेकिन बालाम ने भौतिक संपत्ति का अनुसरण किया। जब उसे धन दिया गया, तो उसने आशीर्वाद दिया; जब धन नहीं मिला, तो उसने शाप दिया। आज के मसीही समुदाय में, दुख की बात है कि उनमें से बहुत से लोग जिन्हें परमेश्वर का सेवक माना जाता है, बालाम की तरह हैं। जब परमेश्वर पर विश्वास करने वाले केवल भौतिक लाभ के पीछे भागते हैं, तो वे झूठे भविष्यद्वक्ताओं के रूप में समाप्त हो जाते हैं। यही कारण है कि परमेश्वर नीकुलइयों से घृणा करता था।
क्या आप जानते हैं कि परमेश्वर की कलीसिया और उसके सेवकों का विनाश क्यों होता है? यह पैसो से प्रेम है। जो लोग अपनी आंखों के सामने केवल भौतिक लाभ का अनुसरण करते हैं, वे परमेश्वर के सामने अपने स्वयं के विनाश का सामना करेंगे।

 


वह कलीसिया जो बालाम का अनुसरण करती है

 

आज, प्रेरितों के समय की तरह, बालाम के मार्ग का अनुसरण करने वाले कई सांसारिक कलीसिया और झूठे सेवक हैं। वे अपने अनुयायियों से धन प्राप्त करने के लिए हर संभव प्रयास करते हैं। उदाहरण के लिए, मण्डली को अपनी आत्मिकता से नहीं बल्कि अपने भौतिक दान के द्वारा अपने विश्वास की गवाही देने के लिए आपस में प्रतिस्पर्धा करने के लिए कहना, जैसे कि एक विश्वासी का योगदान उसके विश्वास का मापदंड है। यह विश्वास करते हुए कि कलीसिया में अधिक योगदान देने वालों का विश्वास कम देने वालों के विश्वास से अधिक है, इस भ्रष्ट अभियान को बढ़ावा देने का एकमात्र उद्देश्य कलीसिया का संवर्धन है।
निःसंदेह, यह एक अद्भुत बात है यदि विश्वासी अपने सच्चे हृदय से परमेश्वर और उसके सुसमाचार की सेवा करने का निर्णय लेते हैं। परन्तु बालाम जैसे झूठे भविष्यद्वक्ता अपना पेट भरने के लिए विश्वासियों का शिकार करते हैं। वे अपने अनुयायियों को भौतिक साक्ष्यों की एक प्रतियोगिता के लिए उकसाते हैं, जैसे, "मैंने दशमांश ईमानदारी से अर्पित किया, और परमेश्वर ने मेरे व्यवसाय के माध्यम से दस गुना आशीर्वाद दिया है।" बालाम द्वारा धोखा खाने के द्वारा, विश्वासियों को लगता है कि यह सच्चे विश्वास का मार्ग है, जबकि वास्तव में यह उनके आत्मिक और भौतिक दरिद्रता, झूठे अभिमान और अंत में उनके खुद के विनाश का मार्ग है।
“नीकुलइयों के काम” बालाम के काम के अलावा और कुछ नहीं हैं। जिस तरह बालाम ने अपने लालच में बालाक को इस्राएलियों के सामने एक ठोकर रखना सिखाया, उसी तरह आज के मसीही समुदाय में कई लोग जो परमेश्वर के सेवक होने का दावा करते हैं, वे केवल अपनी कलीसियाओं की जेबों में रुचि रखते हैं। जो लोग इन झूठे भविष्यद्वक्ताओं के द्वारा गुमराह किए जाते हैं, वे अपनी सारी संपत्ति इन झूठे चरवाहों को देने के बाद खाली हाथ हो जाते हैं, और इससे भी बुरी बात यह है कि देर-सबेर वे अपने होश में आएंगे और महसूस करेंगे कि उन्होंने जो विश्वास किया था वह पूरी तरह से झूठ है। अंत में, वे झूठे कलीसिया को दोष देंगे और अंत में अपने विश्वास को त्याग देंगे। दुर्भाग्य से, दुखद वास्तविकता यह है कि यह खेदजनक स्थिति तथाकथित इवेंजलिकल कलीसियाओं में भी असामान्य नहीं है। बालाम द्वारा धोखा खाए हुए कई विश्वासी इस धोखाधड़ी से भटक जाते हैं और अंत में कलीसिया छोड़ देते हैं।
पवित्रशास्त्र हमें बताता है कि परमेश्वर निकुलई के कामों से घृणा करता है। यदि हम नीकुलइयों का अनुसरण करते हैं, तो हम परमेश्वर में अपना विश्वास खो देंगे। हमारे पास कई गवाही हैं जो परमेश्वर ने हमें दी हैं, और ये सभी आत्मिक रूप से समृद्ध खजाने हैं। लेकिन साक्षियों का उपयोग करके भौतिक लाभ का पीछा करना एक ऐसी चीज है जिससे हमें पूरी तरह से दूर रहना चाहिए, क्योंकि यह निकुलईयों का तरीका है जिससे स्वयं परमेश्वर घृणा करता है।

 


चरित्र के साथ विश्वास

 

परमेश्वर ने एशिया के सभी सात कलीसियाओं को नीकुलइयों के कामों के विरुद्ध चेतावनी दी। इसके अलावा, उसने उनसे यह भी वादा किया कि जो विजय प्राप्त करेंगे वे जीवन के वृक्ष का फल खाएंगे। जब हम प्रभु की सेवा करते हैं, तो हम विश्वास के द्वारा ऐसा करते हैं, उनके छुटकारे के लिए हमारी कृतज्ञता के कारण, और इस ज्ञान के कारण कि पानी और आत्मा का सुसमाचार फैलाना सही काम है। हम दूसरों को दिखाने के लिए या हमें किसी भी तरह से अच्छा दिखने के लिए परमेश्वर की सेवा नहीं करते हैं। ऐसा करना न तो सच्ची सेवा है और न ही सच्चा विश्वास। परमेश्वर की कलीसिया में, हमें नीकुलईयों के इन कार्यों के बारे में सबसे अधिक सावधान रहना चाहिए। यही कारण है कि प्रभु ने एशिया की सभी सात कलीसियाओं को नीकुलइयों के विषय में चेतावनी दी।
क्या आप जानते हैं कि कई कलीसिया जिसने नया जन्म प्राप्त नहीं किया है वह इतनी तेजी से क्यों बढ़ी हैं? वे इसलिए बढ़ी है क्योंकि इन कलीसियाओं ने झूठे विश्वास और झूठी गवाही का निर्माण किया था। परमेश्वर के सेवकों को अपना पेट भरने के लिए कभी भी अपने झुंड का फायदा नहीं उठाना चाहिए।
सच्चा विश्वास उस उद्धार में विश्वास करना है जो परमेश्वर ने हमें यीशु के बपतिस्मा, क्रूस पर उनके लहू और हमारे स्थान पर उनके न्याय के द्वारा दिया था। लेकिन कई कलीसिया, जिसने नया जन्म पाया है या नही पाया एक समान गवाही का उपयोग अपनी मंडलियों की जेब पर छापा मारने के लिए करते हैं। आपको यह पहचानने के लिए सावधान और बुद्धिमान होना चाहिए कि सच्ची गवाही आपके विश्वास के लिए उन्नति कर रही है और परमेश्वर की महिमा कर रही है जबकि झूठी गवाही आपके लिए एक जाल के सामान होगी।
आज की दुनिया की सभी सबसे धनी कलीसिया का नेतृत्व बालाम के समान सेवकों द्वारा किया जाता है। कलीसिया के अगुवे जो बालाम के मार्ग का अनुसरण करते हैं, केवल अपने भौतिक हितों के लिए अपने अनुयायियों का शोषण करने के लिए अपनी कलीसिया का उपयोग करते हैं। बालाम जैसे मसीही अगुवे अपने अनुयायियों को भौतिक साक्ष्यों की प्रतियोगिता के लिए उकसाकर उनसे पैसे छीन लेते हैं। मैं उनके कामों से अत्यधिक घृणा करता हूँ। 
विश्वास का सच्चा जीवन किसी और से नहीं बल्कि विश्वास से शुरू होता है। हमें इतना बुद्धिमान होना चाहिए कि हम उन नीकुलइयों के जालों से बच सकें जिन्हें शैतान ने खड़ा किया है। हर किसी को पता होना चाहिए कि निकुलईयों के काम क्या हैं, और शैतान के सेवकों द्वारा धोखा नहीं खाना जाना चाहिए जिनके लालच की कोई सीमा नहीं है। इस संबंध में विशेष रूप से परमेश्वर के सेवकों को बेहद सावधान रहना चाहिए। इसमें सेवक भी शामिल हैं। जब सेवक अपनी भौतिक संपत्ति से अत्यधिक चिंतित हो जाते हैं - वे कौन सी कार चलाते हैं, उनके घर कितने बड़े हैं, उनके पास कितनी अचल संपत्ति है, उनके बैंक खाते कितने बड़े हैं - वे अंत में अपनी कलीसिया को भ्रष्ट कर देंगे, उन्हें नीकुलईयों के मार्ग पर ले जाएंगे।
परमेश्वर ने एशिया की सात कलीसियाओं से कहा कि वे इस मुद्दे पर विशेष ध्यान दें। बालाम के विश्वास का व्यक्ति केवल भौतिक लाभ, आत्म-महिमा की तलाश करता है और अंततः एक पंथ का संस्थापक बनने का इरादा रखता है। परमेश्वर की कलीसिया को स्वयं भौतिक संपत्ति की तलाश नहीं करनी चाहिए। जैसा कि परमेश्वर ने हमसे वादा किया है कि वह उन लोगों को आशीष देगा जो पानी और आत्मा के सुसमाचार का अनुसरण करते हैं, हमें अपनी भौतिक संपत्ति का उपयोग सुसमाचार का प्रचार करने के लिए करना चाहिए, न कि उन्हें इस पृथ्वी पर संग्रहीत करने के लिए।

 

 

झूठें चरवाहों को ठुकरा दो

 

यहाँ तक कि यदि नया जन्म प्राप्त करनेवाले विश्वासी नीकुलईयों की जाल में फंस गए तो उन्हें भी बरबाद कर दिया जाएगा। शुरू में वे सोच सकते हैं कि ऐसे अगुवों का विश्वास अद्भुत और मजबूत है, लेकिन झूठे चरवाहों का धोखा उन्हें अंततः उनके विनाश की ओर ले जाएगा।
परमेश्वर ने इफिसुस की कलीसिया के दूत से कहा कि वह नीकुलइयों के कामों से घृणा करता है। हर कोई जो नीकुलईयों के द्वारा फँसा हुआ है, उसे निश्चित ही विनाश का सामना करना पड़ेगा। चाहे वह नया जन्म पाया हुआ विश्वासी हो, परमेश्वर का सेवक हो, या कोई और, नीकुलईयों द्वारा फँसे जाने पर विनाश निश्चित है। जैसे एक बुरा चरवाहा झुंड को मौत की ओर ले जाता है, वैसे ही झूठे भविष्यद्वक्ता शाप देते हैं। 
यही कारण है कि परमेश्वर ने अपने सेवकों से कहा कि "मेरे मेमनों को चराओ।" परमेश्वर के सेवकों को विश्वासियों का पालन-पोषण करना चाहिए क्योंकि चरवाहे उनके मेमने की देखभाल करते हैं, उन्हें खतरे से बचाते हैं और उनकी जरूरतों का ख्याल रखते हैं। चरवाहों के रूप में, उन्हें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उनके झुंड भटक न जाएं, पता करें कि उनके सामने कौन से खतरे छिपे हो सकते हैं, और उन्हें ऐसे खतरों के करीब आने से रोकना चाहिए। 
मैंने उन लोगों से सुना जो वास्तव में भेड़ें पालते हैं कि वे सबसे जिद्दी जानवरों में से एक हैं। क्या हम परमेश्वर के सामने इन हठीली भेड़ों की तरह नहीं हैं? हमें मेमनों के रूपक का इस्तेमाल करने के लिए परमेश्वर के पास एक अच्छा कारण था, क्योंकि वह अच्छी तरह जानता है कि हम अपने मूल स्वभाव में कितने जिद्दी हैं। 
क्यों परमेश्वर ने एशिया के सात कलीसियाओं से बार-बार नीकुलईयों, ईज़ेबेल और बालाम के कामों के बारे में बात की? उसने यह वादा क्यों किया कि जो विजय प्राप्त करेंगे, उन्हें वह जीवन का पेड़ खाने को देगा? उसने हमें झूठे भविष्यवक्ताओं के धोखे से सावधान रहने की शिक्षा देने के लिए ऐसा किया। हमें परमेश्वर के वचन पर मनन करना चाहिए और अपने आप से पूछना चाहिए की "पानी और आत्मा का सच्चा सुसमाचार क्या है?" परमेश्वर के वचन को कुछ मानवीय शिक्षाओं के साथ मिलाने और इसे उचित रूप से व्यवस्थित करने का अर्थ यह नहीं है कि यह सुसमाचार है। आज के मसीही धर्म में बहुत सारे खूबसूरती से गढ़े गए और दिए गए उपदेश हैं जिनका पानी और आत्मा के सुसमाचार से कोई लेना-देना नहीं है। कई प्रसिद्ध प्रचारकों के अपने पेशेवर भाषण लेखक भी होते हैं जो उनकी ओर से उपदेश लिखते हैं, और वे जो कुछ भी करते हैं वह किसी और के द्वारा तैयार किए गए इन ग्रंथों से पढ़ा जाता है।
हमें कभी भी नीकुलईयों के जाल में नहीं फँसना चाहिए। भौतिक लाभ का अनुसरण न करने के लिए नया जन्म पाई हुई कलीसिया को सबसे अधिक सावधान रहना चाहिए; विशेष रूप से सेवकों को लगातार चौकस रहना चाहिए, और यह कलीसिया के अन्य सभी लोगों को भी लागू होता है। कलीसिया के सदस्यों से पैसे निकालने की कोशिश करना, भौतिक रीती में कलीसिया को सजाना, और कलीसिया की इमारतों का निर्माण करना जो आराधना के मंदिर की तुलना में महलों की तरह अधिक दिखते हैं – यह सब करते हुए यह प्रचार करना कि प्रभु की वापसी बहुत ही जल्द है! – यह सबी झूठे विश्वास का कार्य है, ठीक नीकुलइयों के काम की तरह।
हमें विशेष रूप से झूठे चरवाहों पर ध्यान देना चाहिए, और यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हम उनके विश्वास का पालन करने के लिए कभी भी धोखा न खाएँ। संतों को केवल धन से प्रेम नहीं करना चाहिए। बल्कि, जिसे हमें प्रेम करना चाहिए और जिसका पालन करना चाहिए वह है पानी और लहू का सुसमाचार, परमेश्वर का पहला प्रेम। हमें अपने विश्वासयोग्य जीवन को इस सच्चाई को थामे हुए जीना चाहिए कि उसने हमें मसीह के पानी और लहू से उस दिन तक बचाया है जब तक हम उससे नहीं मिलते। हमें परमेश्वर के वचन में विश्वास करना चाहिए कि यीशु ने अपने बपतिस्मा और क्रूस पर अपनी मृत्यु के साथ हमारे सभी पापों को दूर कर दिया है।
जो लोग नीकुलईयों का अनुसरण करते हैं वे कभी भी पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार नहीं करते हैं। उन्हें पानी और आत्मा के सुसमाचार के कामों में दिलचस्पी नहीं है, बल्कि केवल पैसा कमाने में दिलचस्पी है। आज के बालाम ये ही हैं, जिस ने इस्राएलियों को ठोकर खिलाई, और उनका विनाश किया। आपको यह याद रखना चाहिए।
अंततः बालाम को यहोशू ने मार डाला। जैसा कि यहोशू की पुस्तक में लिखा है, यह झूठा भविष्यद्वक्ता यहोशू की तलवार से मारा गया जब इस्राएलियों ने कनान पर विजय प्राप्त की। बालाम इसलिए मारा गया क्योंकि वह परमेश्वर का सच्चा सेवक नहीं था। वे सभी जो मसीह के नाम का उपयोग निर्दोष विश्वासियों का शोषण करने और अपना पेट भरने के लिए करते हैं, वे आज के बालाम हैं। हमें यह याद रखना चाहिए कि बालाम ने अपने लालच को पूरा करने के लिए हर सुलभ साधन का इस्तेमाल किया। 
परमेश्वर ने इफिसुस की कलीसिया के सेवकों से कहा, "जो जय पाए, मैं उसे उस जीवन के पेड़ में से जो परमेश्‍वर के स्वर्गलोक में है, फल खाने को दूँगा।" दूसरे शब्दों में कहें तो इस भाग का अर्थ यह भी है कि जो लड़खड़ाते और हारते हैं वे मर जाएंगे। बालाम के मार्ग पर चलना हारना है, अपनी खुद की मृत्यु का मार्ग। परमेश्वर ने हमें चेतावनी का अपना वचन दिया ताकि हम नीकुलइयों के जाल में न फँसें, और मैं इसके लिए उनका धन्यवाद करता हूँ। यह मेरी सच्ची आशा और प्रार्थना है कि आप भौतिक प्रलोभनों के आगे नहीं झुकेंगे और अंत में अपने लालच के लिए परमेश्वर द्वारा त्यागे नहीं जाएंगे।