उपदेश

विषय १० : प्रकाशितवाक्य (प्रकाशितवाक्य पर टिप्पणी)

[अध्याय 2-3] स्मुरना की कलीसिया को पत्री ( प्रकाशितवाक्य २:८-११ )

स्मुरना की कलीसिया को पत्री

( प्रकाशितवाक्य २:८-११ )
“स्मुरना की कलीसिया के दूत को यह लिख : “जो प्रथम और अन्तिम है, जो मर गया था और अब जीवित हो गया है, वह यह कहता है कि मैं तेरे क्लेश और दरिद्रता को जानता हूँ (परन्तु तू धनी है), और जो लोग अपने आप को यहूदी कहते हैं और हैं नहीं, पर शैतान की सभा हैं, उनकी निन्दा को भी जानता हूँ। जो दु:ख तुझ को झेलने होंगे, उन से मत डर। क्योंकि देखो, शैतान तुम में से कुछ को जेलखाने में डालने पर है ताकि तुम परखे जाओ; और तुम्हें दस दिन तक क्लेश उठाना होगा। प्राण देने तक विश्‍वासी रह, तो मैं तुझे जीवन का मुकुट दूँगा। जिसके कान हों वह सुन ले कि आत्मा कलीसियाओं से क्या कहता है। जो जय पाए, उस को दूसरी मृत्यु से हानि न पहुँचेगी।”


विवरण 

वचन ८: “स्मुरना की कलीसिया के दूत को यह लिख : “जो प्रथम और अन्तिम है, जो मर गया था और अब जीवित हो गया है, वह यह कहता है कि।”
स्मुरना की कलीसिया की स्थापना तब हुई जब पौलुस इफिसुस की कलीसिया की सेवा कर रहा था। उपरोक्त परिच्छेद के अनुसार, इस कलीसिया के सदस्य अपेक्षाकृत गरीब थे, जो अपने विश्वास के कारण, अपने समुदाय में यहूदियों द्वारा विरोध का सामना कर रहे थे। यहूदियों द्वारा इस कलीसिया को कितना सताया गया था, यह कलीसिया के फादर्स के युग में एक पर्यवेक्षक पॉलीकार्प की शहादत से देखा जा सकता है। प्रारंभिक कलीसिया के संतों को यहूदी विश्वासियों द्वारा निरंतर उत्पीड़न का सामना करना पड़ा जिन्होंने मसीह को अपने मसीहा के रूप में अस्वीकार कर दिया।
स्मुरना की कलीसिया की स्थापना प्रेरित पौलुस ने की थी। “जो प्रथम और अन्तिम है, जो मर गया था और अब जीवित हो गया है” इसके द्वारा, यूहन्ना परमेश्वर का उल्लेख कर रहा है, जिसने ब्रह्मांड का निर्माण किया। हमारे प्रभु, कुँवारी मरियम से पैदा हुए, यूहन्ना द्वारा अपने बपतिस्मा के माध्यम से जगत के पापों को अपने ऊपर ले लिया और इन पापों के लिए क्रूस पर लहू बहाकर न्याय किया गया। फिर वह तीन दिन में मरे हुओं में से जी उठा और परमेश्वर के दाहिने हाथ विराजमान है। यीशु न केवल हमारे उद्धारकर्ता के रूप में बल्कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर के रूप में भी परमेश्वर की कलीसिया के दूत से बात करता हैं।

वचन ९: “मैं तेरे क्लेश और दरिद्रता को जानता हूँ (परन्तु तू धनी है), और जो लोग अपने आप को यहूदी कहते हैं और हैं नहीं, पर शैतान की सभा हैं, उनकी निन्दा को भी जानता हूँ।”
प्रभु उन सभी कठिनाइयों और क्लेशों के बारे में जानते थे जिनका सामना स्मुरना की कलीसिया कर रही थी। यद्यपि यह भौतिक दृष्टि से एक गरीब कलीसिया थी लेकिन स्मुरना की कलीसिया आत्मिक रूप से समृद्ध थी। स्मुरना में बहुत से यहूदी रहते थे, जिनका वर्णन परमेश्वर ने “जो लोग अपने आप को यहूदी कहते हैं और हैं नहीं, पर शैतान की सभा हैं” इस प्रकार किया। इन यहूदियों ने शैतान के उद्देश्यों को पूरा करने के लिए उपयोग किए जाने वाले औजार के रूप में खुद को सोंप दिया, और इस प्रकार परमेश्वर की कलीसिया को सताते हुए पानी और आत्मा के सुसमाचार के प्रचार में बाधा बन गए। उनका मानना था कि वे अकेले रूढ़िवादी यहूदी थे, और वे अकेले इब्राहीम की संतान थे। लेकिन वास्तव में वे न केवल इब्राहीम के विश्वास का पालन करने में विफल रहे, बल्कि इससे भी बदतर, उन्होंने अपने पूर्वजों के परमेश्वर को अस्वीकार कर दिया। इन यहूदियों द्वारा अत्यधिक सताए गए, स्मुरना की कलीसिया गरीब थी, लेकिन फिर भी यह एक ऐसी कलीसिया थी जो अपनी आत्मिकता में समृद्ध थी।

वचन १०: “जो दु:ख तुझ को झेलने होंगे, उन से मत डर। क्योंकि देखो, शैतान तुम में से कुछ को जेलखाने में डालने पर है ताकि तुम परखे जाओ; और तुम्हें दस दिन तक क्लेश उठाना होगा। प्राण देने तक विश्‍वासी रह, तो मैं तुझे जीवन का मुकुट दूँगा।”
परमेश्वर ने स्मुरना की कलीसिया से कहा कि “जो दु:ख तुझ को झेलने होंगे, उन से मत डर।” उसने उन्हें “मृत्यु तक विश्वासयोग्य” रहने के लिए भी कहा, और वादा किया कि वह उन्हें “जीवन का मुकुट” देगा। प्रभु को पहले से पता था कि शैतान स्मुरना की कलीसिया के कुछ संतों को धमकाएगा और उनके विश्वास को तोड़ने की कोशिश करेगा। यही कारण है कि उसने वादा किया था कि यदि वे मृत्यु तक उसके प्रति वफादार रहे, तो वह उन्हें जीवन का मुकुट देगा।
इस भाग के माध्यम से प्रभु हमें जो बता रहे हैं वह यह है कि परमेश्वर के सेवक और उनके संत जो अंत के समय में जीवन जी रहे है, उन्हें भी शैतान और उसके अनुयायियों द्वारा सताया जाएगा। लेकिन हमारे पास मृत्यु तक परमेश्वर के प्रति विश्वासयोग्य रहने की सामर्थ होगी, क्योंकि यह सामर्थ हमारे पास पानी और आत्मा के सुसमाचार में हमारे विश्वास और नए स्वर्ग और पृथ्वी के लिए हमारी आशा से प्रचुर मात्रा में आती है जिसका परमेश्वर ने हमसे वादा किया है।

वचन ११: “जिसके कान हों वह सुन ले कि आत्मा कलीसियाओं से क्या कहता है। जो जय पाए, उस को दूसरी मृत्यु से हानि न पहुँचेगी।”
अंत समय के विश्वासी मसीह विरोधी और परमेश्वर के विरुद्ध उठ खड़े हुए लोगों के विरुद्ध युद्ध में शामिल होंगे। परमेश्वर हमें बताता है कि जिनके पास सच्चे सुसमाचार और स्वर्ग की आशा है, वे अपने विश्वास से विजयी होंगे। हमें अपना सत्य और विश्वास का वचन देकर, परमेश्वर ने प्रत्येक विश्वासी को अपने शत्रुओं पर विजय प्राप्त करने में सक्षम बनाया है। एकमात्र प्रश्न शेष है कि क्या हम परमेश्वर और उसके सेवकों के पक्ष में होंगे या नहीं।
रोमियों ८:१८ हमें बताता है कि “क्योंकि मैं समझता हूँ कि इस समय के दु:ख और क्लेश उस महिमा के सामने, जो हम पर प्रगट होनेवाली है, कुछ भी नहीं हैं।” मसीह-विरोधी और उसके अनुयायियों द्वारा हमारा उत्पीड़न केवल कुछ समय के लिए ही रहेगा, शायद केवल १० दिन तक। परमेश्वर पर भरोसा करते हुए, आप दुख की इस छोटी अवधि का सामना कर सकते हैं, मसीह विरोधी पर विजय प्राप्त कर सकते हैं, और परमेश्वर की महिमा कर सकते हैं और अपने पुरस्कार के रूप में उसके अनन्त राज्य को प्राप्त कर सकते हैं। परमेश्वर ने संतों को मसीह विरोधी के खिलाफ अपनी लड़ाई जीतने की सामर्थ दी है। 
आइए हम सभी पानी और आत्मा के सुसमाचार में अपने विश्वास के साथ मसीह विरोधी पर विजय प्राप्त करें, और हम सब हजार साल के राज्य और नए स्वर्ग और पृथ्वी में हमेशा के लिए एक साथ रहने के लिए फिर से मिलें। यहाँ पहली मृत्यु हमारी शारीरिक मृत्यु को संदर्भित करती है, जबकि दूसरी मृत्यु नरक की अनन्त सजा द्वारा आत्मिक मृत्यु को संदर्भित करती है। संतों के लिए शहादत है, उनकी शारीरिक मृत्यु है, लेकिन आत्मिक मृत्यु नहीं है।
मैं परमेश्वर को धन्यवाद देता हूँ कि उन्होंने हमें, इस अंतिम समय में विश्वासियों को शहादत की महिमा और सम्मान दिया, जैसा कि उन्होंने प्रारंभिक कलीसिया के शहीदों को दिया था।