उपदेश

विषय १० : प्रकाशितवाक्य (प्रकाशितवाक्य पर टिप्पणी)

[अध्याय 2-6] पिरगमुन की कलीसिया को पत्री ( प्रकाशितवाक्य २:१२-१७ )

पिरगमुन की कलीसिया को पत्री

( प्रकाशितवाक्य २:१२-१७ )
“पिरगमुन की कलीसिया के दूत को यह लिख : “जिसके पास दोधारी और तेज तलवार है, वह यह कहता है कि मैं यह जानता हूँ कि तू वहाँ रहता है जहाँ शैतान का सिंहासन है; तू मेरे नाम पर स्थिर रहता है, और मुझ पर विश्‍वास करने से उन दिनों में भी पीछे नहीं हटा जिनमें मेरा विश्‍वासयोग्य साक्षी अन्तिपास, तुम्हारे बीच उस स्थान पर घात किया गया जहाँ शैतान रहता है। पर मुझे तेरे विरुद्ध कुछ बातें कहनी हैं, क्योंकि तेरे यहाँ कुछ ऐसे हैं, जो बिलाम की शिक्षा को मानते हैं, जिसने बालाक को इस्राएलियों के आगे ठोकर का कारण रखना सिखाया कि वे मूर्तियों पर चढ़ाई गई वस्तुएँ खाएँ और व्यभिचार करें। वैसे ही तेरे यहाँ कुछ ऐसे हैं, जो नीकुलइयों की शिक्षा को मानते हैं। अत: मन फिरा, नहीं तो मैं तेरे पास शीघ्र ही आकर अपने मुख की तलवार से उनके साथ लड़ूँगा। जिसके कान हों वह सुन ले कि आत्मा कलीसियाओं से क्या कहता है। जो जय पाए, उस को मैं गुप्‍त मन्ना में से दूँगा, और उसे एक श्‍वेत पत्थर भी दूँगा; और उस पत्थर पर एक नाम लिखा हुआ होगा, जिसे उसके पानेवाले के सिवाय और कोई न जानेगा।”

 


विवरण


वचन १२: “पिरगमुन की कलीसिया के दूत को यह लिख : “जिसके पास दोधारी और तेज तलवार है, वह यह कहता है कि”
पिरगमुन एशिया माइनर का एक प्रशासनिक राजधानी शहर था, जिसके निवासी कई मूर्तिपूजक देवताओं की पूजा करते थे। विशेष रूप से, यह सम्राट की पूजा का केंद्र था। "जिसके पास दोधारी और तेज तलवार है," से इसका अर्थ है कि प्रभु परमेश्वर के शत्रुओं से लड़ता है।


वचन १३: “मैं यह जानता हूँ कि तू वहाँ रहता है जहाँ शैतान का सिंहासन है; तू मेरे नाम पर स्थिर रहता है, और मुझ पर विश्‍वास करने से उन दिनों में भी पीछे नहीं हटा जिनमें मेरा विश्‍वासयोग्य साक्षी अन्तिपास, तुम्हारे बीच उस स्थान पर घात किया गया जहाँ शैतान रहता है।”
जबकि पिरगमुन सम्राट की पूजा का गढ़ था, यह वह स्थान भी था जहां अंतिपास नामक प्रभु का एक सेवक सम्राट की मूर्तिपूजा को प्रभु में अपने विश्वास की रक्षा करने से इनकार करने के लिए शहीद हो गया था। एक बार फिर समय आएगा जब लोगों को मसीह विरोधी की पूजा करने के लिए मजबूर किया जाएगा, लेकिन परमेश्वर के संत और सेवक अंत तक अपने विश्वास की रक्षा करेंगे, जैसे अंतिपास ने अपने जीवन के साथ अपने विश्वास की रक्षा की थी। इस तरह के एक साहसिक विश्वास के लिए, हमें अपने विश्वास को अपने कार्यों में अभी से लगाना शुरू कर देना चाहिए फिर भले ही हम छोटे कदमों से शुरू करें। जब सताव का समय आता है, तो परमेश्वर के संतों और सेवकों को विशेष रूप से पवित्र आत्मा पर भरोसा करना चाहिए। उन्हें परमेश्वर पर भरोसा करना चाहिए और स्वेच्छा से अपनी शहादत को आशा से गले लगाना चाहिए, ताकि वे परमेश्वर को महिमा दे सकें और उससे नया स्वर्ग और पृथ्वी प्राप्त कर सकें।


वचन १४: “पर मुझे तेरे विरुद्ध कुछ बातें कहनी हैं, क्योंकि तेरे यहाँ कुछ ऐसे हैं, जो बिलाम की शिक्षा को मानते हैं, जिसने बालाक को इस्राएलियों के आगे ठोकर का कारण रखना सिखाया कि वे मूर्तियों पर चढ़ाई गई वस्तुएँ खाएँ और व्यभिचार करें।”
परमेश्वर ने पिरगमुन की कलीसिया को फटकार लगाई क्योंकि इसके कुछ सदस्यों ने बिलाम के सिद्धांत का पालन किया था। बिलाम एक झूठा भविष्यद्वक्ता था जो इस्राएलियों को परमेश्वर से दूर ले गया और उन्हें उन अन्यजातियों के साथ संबंध बनाने के लिए लुभाने के द्वारा मूर्तिपूजा करने के लिए प्रेरित किया जो मूर्तियों की पूजा करते थे। प्रभु ने उन लोगों को डांटा जिनका विश्वास परमेश्वर को छोड़ चुका था। लोगों के दिलों ने परमेश्वर को छोड़ दिया था और इसके बजाय झूठी मूर्तियों की पूजा की। और मूर्तिपूजा का पाप परमेश्वर के सामने सबसे बड़ा पाप है।


वचन १५: “वैसे ही तेरे यहाँ कुछ ऐसे हैं, जो नीकुलइयों की शिक्षा को मानते हैं।”
बाइबल में "नीकुलइयों" और "बिलाम" शब्द मूल रूप से पर्यायवाची हैं, जिसका अर्थ है "वे जो लोगों पर प्रबल होते हैं।" जब परमेश्वर ने कहा कि " नीकुलइयों के सिद्धांत को मानने वाले" लोग हैं, तो यह कहने का एक और तरीका था कि परमेश्वर की कलीसिया को "बिलाम के सिद्धांत को मानने वालों" को अस्वीकार कर देना चाहिए। जो लोग नीकुलइयों और बिलाम के इन सिद्धांतों का पालन करते थे, वे भौतिक लाभ और मूर्तिपूजा का अनुसरण करते थे। ऐसे लोगों को अवश्य ही परमेश्वर की कलीसिया से बाहर निकाल देना चाहिए।
 

वचन १६: “अत: मन फिरा, नहीं तो मैं तेरे पास शीघ्र ही आकर अपने मुख की तलवार से उनके साथ लड़ूँगा।”
इसलिए परमेश्वर ने पिरगमुन की कलीसिया से कहा कि वे झूठे देवताओं की पूजा और सांसारिक लाभ की उनकी खोज को छोड़ दें और सही विश्वास पर लौट आएं, उन्हें चेतावनी दी कि जब तक वे पश्चाताप नहीं करेंगे तब तक परमेश्वर उनके खिलाफ अपने मुंह की तलवार से लडेगा। दूसरे शब्दों में, यह एक गंभीर सख्ती है जिसमें परमेश्वर ने चेतावनी दी थी कि वह उन लोगों को दंडित करेगा जो बिलाम के सिद्धांत का पालन करने से पश्चाताप नहीं करते हैं फिर भले ही वे विश्वासी हों। जिन लोगों ने परमेश्वर की इस चेतावनी को सुना और उनके पास लौट आए, वे शारीरिक और आत्मिक दोनों तरह से जिन्दा रहे, लेकिन जो लोग वापस नहीं लौटे उन्हें अपने शारीरिक और आत्मिक विनाश के लिए खुद को तैयार करना था। परमेश्वर के संतों और सेवकों को इस पृथ्वी पर और उसके परे आशीष पाने के लिए, उन्हें परमेश्वर का वचन सुनना चाहिए और अपने विश्वास के साथ प्रभु का अनुसरण करना चाहिए।


वचन १७: “जिसके कान हों वह सुन ले कि आत्मा कलीसियाओं से क्या कहता है। जो जय पाए, उस को मैं गुप्‍त मन्ना में से दूँगा, और उसे एक श्‍वेत पत्थर भी दूँगा; और उस पत्थर पर एक नाम लिखा हुआ होगा, जिसे उसके पानेवाले के सिवाय और कोई न जानेगा।”
सच्चे संत अपनी शहादत को भी गले लगा लेंगे। परमेश्वर हमें बताता है कि जो लोग उसके नाम पर शहीद हुए हैं, उन्हें वे स्वर्ग स्वर्ग का भोजन देगा और उनके नाम अपने राज्य में दर्ज करेगा। हमारे लिए शारीरिक और आत्मिक रूप से जीने के लिए, हमें यह सुनना चाहिए कि पवित्र आत्मा ने परमेश्वर की कलीसिया से क्या कहा है। जो विजय प्राप्त करते हैं—अर्थात्, वे जो शैतान के अनुयायियों के विरुद्ध अपनी लड़ाई जीतते हैं—परमेश्वर उन्हें विश्वास की धार्मिकता देंगे जो उन्हें पाप से बचाती हैं, और उनके विश्वास के लिए वह उनके नाम जीवन की पुस्तक में लिखेगा। 
बाइबल हमें कई अलग-अलग अंशों में बार-बार बताती है कि जो लोग अंत तक बने रहेंगे वे उद्धार प्राप्त करेंगे। दूसरे शब्दों में, संतों को अंत के समय में धैर्य रखने की आवश्यकता है, ताकि वे पानी और आत्मा के सुसमाचार में अपने विश्वास की रक्षा कर सकें। नया जीवन प्राप्त करने वालों के नाम जीवन की पुस्तक में लिखे गए हैं। इसलिए, विश्वासियों को जब तक वे अंत में परमेश्वर के सामने खड़े नहीं होते तब तक भौतिक और सांसारिक लाभों का अनुसरण न करके, विश्वास के द्वारा उन पर विजय प्राप्त करके परमेश्वर के राज्य में प्रवेश करना चाहिए।