ስብከቶች፤

विषय १० : प्रकाशितवाक्य (प्रकाशितवाक्य पर टिप्पणी)

[अध्याय 3-4] परमेश्वर के सेवक और संत जो परमेश्वर के ह्रदय को प्रसन्न करते है ( प्रकाशितवाक्य ३:७-१३ )

परमेश्वर के सेवक और संत जो परमेश्वर के ह्रदय को प्रसन्न करते है
( प्रकाशितवाक्य ३:७-१३ )
 

इस संसार में फिलदिलफिया जैसी कलीसिया आज भी है

परमेश्वर हमें यहाँ बताता है कि एशिया की सात कलीसियाओं में से, जिस कलीसिया को प्रभु ने सबसे अधिक सराहा और जो सबसे प्रिय थी, वह फिलदिलफिया की कलीसिया थी। 
आज के युग में भी, हम देख सकते हैं कि परमेश्वर, जिसने एशिया की सात कलीसियाओं से बात की थी, चाहता है कि उसकी कलीसियाएँ फिलदिलफिया की कलीसिया के समान हों, उनके माध्यम से कार्य करें और उनसे प्रसन्न हों। आज के समय में भी, कलीसियाएँ जिनकी परमेश्वर द्वारा प्रशंसा की जाती है, वे पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार कर रही हैं।
अब तो, जो संत परमेश्वर के प्रति विश्वासयोग्य हैं, भले ही उनकी क्षमता सीमित हो, वे उन कलीसियाओं के हैं जो पानी और आत्मा का सुसमाचार फैलाते हैं। ऐसे कार्यकर्ताओं से परमेश्वर प्रसन्न होते हैं। हो सकता है कि उनमें से कोई भी सिर पर हाथ रखने के द्वारा दुष्टात्मा को बहार निकालने या भविष्यवाणी करने में सक्षम न हो। न तो उनमें से किसी को विशेष रूप से बोलने का उपहार दिया जा सकता है, और न ही दृढ निश्चय की सामर्थ के साथ संपन्न किया जा सकता है। केवल एक चीज जो वे करते हैं वह यह है कि वे विश्वास करते हैं और प्रचार कर रहे हैं कि केवल यीशु ने यूहन्ना से बपतिस्मा लेने के द्वारा हमारे सभी पापों को एक ही बार और हमेशा के लिए, और यह कि क्रूस पर मसीह के लहू के द्वारा हमारे सारे पाप और न्याय मसीह पर पारित किया गया था। 
ये कार्यकर्ता उन विश्वासियों से अधिक नहीं हैं जो प्रभु का अनुसरण करते हैं, उसकी आराधना करते हैं, और पानी और आत्मा के सुसमाचार में अपने विश्वास के साथ परमेश्वर की इच्छा का पालन करते हैं। जो लोग पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करते हैं, वे भौतिक रूप से धनी नहीं हैं। और न ही उनके पास कोई अन्य उपहार है। उनके पास पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करने के लिए उनका विश्वास और जुनून है। उनका मानना है कि सुसमाचार फैलाने के इस कार्य को करने से प्रभु का हृदय प्रसन्न होता है, क्योंकि हमारे सारे पापों को दूर करने के लिए प्रभु को वास्तव में यूहन्ना द्वारा बपतिस्मा दिया गया था, क्रूस पर चढ़ाया गया था, और मृतकों में से फिर से जी उठे थे। जो लोग पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं, वे केवल प्रभु का धन्यवाद करते हैं और केवल उन्हीं का अनुसरण करते हैं।
हम केवल यही चाहते हैं कि पानी और आत्मा यह सुसमाचार सब लोगों में फैलाया जाए, और सभी को उनके सब पापों से छुड़ाया जाए। परमेश्वर ने चमत्कारिक रूप से हमें पूरे संसार में पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करने की अनुमति दी है, और उसने हमें आशीष दी है ताकि बहुत से फल पैदा हो। और उसने हमें वह विश्वास भी दिया है जिसके साथ हम अंत के समय में अपनी शहादत को गले लगा सकते हैं, और हजार साल के राज्य में हमारे रेप्चर और जीवन की आशीष दी है। परमेश्वर ने हमें प्रभु के लिए शहीद होने की अनुमति दी है, और उसने हमें पहले पुनरुत्थान में भाग लेने और स्वर्ग की महिमा को धारण करने की अनुमति दी है।
हम में से जो लोग अब पानी और आत्मा के सुसमाचार के प्रचार के लिए समर्पित हैं, वे परमेश्वर की प्रिय कलीसिया के हैं।
आइए हम इस बारे में सोचें कि हम पानी और आत्मा के सुसमाचार को पूरी दुनिया में कैसे फैला सकते हैं। परमेश्वर ने अपनी कलीसियाओं से कहा कि सुसमाचार के प्रचार का द्वार पहले ही खोला जा चुका है। क्योंकि परमेश्वर ने जो निर्धारित किया है उसे कोई नहीं रोक सकता, वह निश्चित रूप से सब कुछ पूरा करेगा।
परमेश्वर ने हममें से उन लोगों को अनुमति दी है जो पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं ताकि वे अपने बपतिस्मा के इस सुसमाचार को पूरी दुनिया में प्रचारित कर सकें। आज भी, उसकी कलीसियाओं को इस पृथ्वी पर पानी और आत्मा के सुसमाचार के प्रसार के लिए कार्य करने के लिए आशीषित किया गया है। उनकी व्यक्तिगत क्षमता को देखते हुए, वे कमियों से भरे हुए हो सकते हैं। परन्तु क्योंकि उनके हृदय में पानी और आत्मा के सुसमाचार के प्रति उनका प्रेम पाया जाता है, परमेश्वर उन्हें स्थिर रखता है और उनके द्वारा कार्य करता है। 
इस दुनिया में अभी भी ऐसी कलीसिया हैं जो दुनिया के लिए एक बड़ी आशा है। उन्हें परमेश्वर ने पानी और आत्मा के सुसमाचार को फैलाने का काम सौंपा है, और उन्होंने यह भी सुनिश्चित किया है कि कोई भी उनके काम को रोक न सके। वे दुनिया में हर जगह पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार कर रहे हैं, और इस तरह यह सुसमाचार पूरी दुनिया में फैल रहा है। परमेश्वर उन्हें बल देता है, उनकी रक्षा करता है और उनके साथ कार्य करता है। अब हम देखेंगे कि परमेश्वर उन लोगों को आशीष देता है जो स्वयं को इस कार्य के लिए एकजुट करते हैं और पानी और आत्मा के सुसमाचार को दुनिया के सभी राष्ट्रों में, आत्मिक और शारीरिक दोनों रूप से फैलाते हैं।
हम अपने कागज़ी और इलेक्ट्रॉनिक पुस्तकों के साथ इस दुनिया के हर कोने में पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार कर रहे हैं। हम इसे इस संसार के अंत तक करते हैं, और प्रभु भी हमारे द्वारा तब तक कार्य करता रहेगा जब तक कि इस पृथ्वी पर मसीह का राज्य पूरा नहीं हो जाता। परमेश्वर हमें अपने साहित्य के साथ दुनिया के ६.५ अरब लोगों को पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करने में सक्षम करेगा। परमेश्वरर हम सभी को आशीष दे!
परमेश्वर को प्रसन्न करने वाले कार्य करने के लिए हमें हमेशा आत्मिक युद्ध के लिए तैयार रहना चाहिए। जैसे, मैं परमेश्वर से पूछता हूं कि वह अपने सेवकों को मजबूती से थामे रहता है और उन्ह्र आशीष देता है। हमारे प्रभु के समान विश्वासयोग्य कोई नहीं है। मेरा मानना है कि इस दुनिया में कोई और सच्चाई नहीं है, एक भी नहीं, जो हमारे लिए स्पष्ट और पूर्ण उद्धार ला सके, जिस प्रकार पानी और आत्मा का सच्चा सुसमाचार हमारे लिए लाया है जिस पर हम विश्वास करते है। 
 

प्रकाशितवाक्य की किताब आशीषित वचन है जो परमेश्वर ने उन्हें दिया है जो जय पाते है

परमेश्वर ने हमसे कहा, "जो जय पाए, उसे मैं जीवन के वृक्ष का फल खाने को दूंगा।" इस सच्चाई का अर्थ है कि परमेश्वर ऐसे लोगों को अपने हजार साल के राज्य में रहने की अनुमति देगा। "जो जय पाए" यहाँ उन लोगों को संदर्भित करता है जो अंत के समय में सच्चाई के साथ मसीह विरोधी के खिलाफ लड़कर अपने विश्वास की रक्षा करते हैं, और आज के समय के लिए, जो झूठे सुसमाचार के अनुयायियों के खिलाफ लड़ते हैं और सत्य के वचन में अपने विश्वास के साथ उन पर जय प्राप्त करते हैं। हमें सारे संसार को पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करके भलाई से बुराई पर जय प्राप्त करनी चाहिए। हमें पानी और आत्मा के वचन में अपने विश्वास के द्वारा सभी झूठे और गलत सिद्धांतों के खिलाफ युध्ध करना चाहिए और उन पर जय प्राप्त करनी चाहिए।
झूठे लोगों से लड़ने और उन पर जय पाने के लिए, हमें हमेशा पानी और आत्मा के सुसमाचार के वचन पर चिंतन करना चाहिए। यदि हम पानी और आत्मा के सुसमाचार में अभी विश्वास करते है और अपने सभी पापों से शुद्ध होते है, तो झूठों के खिलाफ हमारा संघर्ष इसी क्षण से शुरू हो जाता है। जो लोग सच्चे सुसमाचार में विश्वास करते हैं, वे उनके खिलाफ लड़ते हैं और उन पर जय प्राप्त करते हैं जिनके पास झूठे सुसमाचार हैं।
झूठे सुसमाचार के ऐसे अनुयायियों को हमें हमेशा पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करना चाहिए। क्यों? क्योंकि पानी और आत्मा के सुसमाचार की सामर्थ उनके झूठे विश्वास को नष्ट कर सकती है और उनके लिए नया जीवन ला सकती है। बाइबल हमें अच्छाई से बुराई पर जय पाने के लिए कहती है। उसी प्रकार, हमें आत्मिकता की अपनी अच्छी लड़ाई को कभी नहीं छोड़ना चाहिए जो इन आत्माओं को उनके पापों से बचाती है।
हमारी आत्मिक लड़ाई में आत्माओं के उद्धार का आशीष मिलता है। पानी और आत्मा के सुसमाचार में अपने विश्वास के साथ हमेशा झूठों के खिलाफ लड़ने और उन पर जय पाने के द्वारा, हम अनन्त जीवन के सभी फल परमेश्वर को दे सकते हैं।
 

प्रभु ने हमसे अंजीर के पेड़ के दृष्टांत से सीखने के लिए कहा

अंजीर का पेड़ इस्राएल राष्ट्र का प्रतीक है। जैसा कि प्रत्येक राष्ट्र का अपना राष्ट्रीय फूल या पेड़ होता है, इज़राइल के लिए यह अंजीर का पेड़ है जो इसका प्रतीक है। आपको यह समझना चाहिए कि जब इज़राइल पत्तियों में मोटा हो जाता है, तो अंत का समय दुनिया के बहुत करीब आ जाता है। बाइबल हमें बताती है कि जब इस्राएल राष्ट्र इस पृथ्वी पर फिर से बनेगा और शक्तिशाली होगा तब प्रभु वापस आएगा।
इन दिनों अखबारों में इजरायलियों और फिलिस्तीनियों के बीच संघर्ष को कवर करने वाली कहानियों की भरमार है। इज़राइल अब अपने ऐतिहासिक क्षेत्र के कब्जे में है और एक महान शक्ति बन गया है। इस्राएल का भविष्य अब परमेश्वर पर निर्भर है। भविष्य में इस्राएल चाहे उठे या गिरे, सब परमेश्वर के वचन के अनुसार पूरा होगा। और जब इस्राएल इस पृय्वी पर से मिट जाए, तब तुम जान लो कि यह वो समय है जब इस पृथ्वी पर प्रभु का दूसरा आगमन पूरा हुआ है। जैसा कि बाइबल कहती है कि जब अंजीर के पेड़ की पत्तियाँ मोटी हो जाएँगी तब प्रभु वापस आएगा, वह इस्राएल की पुन:स्थापना और समृद्धि के द्वारा इस संसार के अंत की भविष्यवाणी करता है। साथ ही अंत समय की भविष्यवाणी करना वे आपदाएँ होंगी जो दुनिया के प्राकृतिक पर्यावरण को प्रभावित करती हैं।
परमेश्वर ने सभी को पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास रखने के लिए कहा। परमेश्वर के सभी उद्देश्य पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास पर केंद्रित हैं। जैसे, जो लोग पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं, वे अपने सभी पापों से बच जाते हैं। प्रभु ने हमसे कहा, “इसलिये जागते रहो और हर समय प्रार्थना करते रहो कि तुम इन सब आनेवाली घटनाओं से बचने और मनुष्य के पुत्र के सामने खड़े होने के योग्य बनो।” (लूका २१:३६)। अपनी सामर्थ से हम आने वाले क्लेश से बच नहीं सकते। लेकिन परमेश्वर के वचन पर विश्वास करके हम इसे दूर कर सकते हैं। अब हम अपने आप को एक ऐसी स्थिति में पाते हैं जहां हमें अपने निकट आने वाले क्लेश के समय के लिए शहादत के अपने विश्वास को तैयार करना चाहिए।
यदि मसीही सोचते हैं कि अंत समय आने पर वे स्वयं महान क्लेश में नहीं होंगे, तो उनका विश्वास बहुत गलत है। हमें पूर्व-क्लेश रेप्चर के सिद्धांत में विश्वास नहीं करना चाहिए। यह सिद्धांत बाइबल की सच्चाई से अलग है, क्योंकि पवित्रशास्त्र, विशेष रूप से प्रकाशितवाक्य की पुस्तक से, हमें बताता है कि संतों की शहादत तब आएगी जब क्लेश के सात साल की अवधि के पहले साढ़े तीन साल बीत चुके होंगे। संतों के लिए, यह सोचना कि वे महान क्लेश के सात साल की अवधि में प्रवेश नहीं करेंगे, उन्हें एक बहुत ही खतरनाक और गलत विश्वास की ओर ले जाएगा। आपको यह अवश्य समझना चाहिए कि जो लोग यीशु पर विश्वास करते हैं, वे बड़े क्लेश के मध्य में होंगे।
परमेश्वर के समग्र वचन को ध्यान में रखते हुए, इस संसार में धर्मी कब तक रहेंगे? वे इस पृथ्वी पर तब तक रहेंगे जब तक कि शैतान पापियों पर अपनी छाप लगवाने की मांग नहीं करता और संत मसीह विरोधी की सेना द्वारा शहीद नहीं हो जाते। यह परमेश्वर द्वारा प्रकट किया गया सत्य है, और उचित विश्वास है।
 


अंत के समय में बहुत बड़ा आत्मिक युध्ध होगा


धर्मी के विश्वास का परिणाम परमेश्वर द्वारा नियत महान क्लेश में स्पष्ट रूप से प्रदर्शित होता है। आपको यह समझना चाहिए कि पानी और आत्मा के सुसमाचार में आपके विश्वास के बिना, आप अंत के समय में शैतान के खिलाफ अपनी लड़ाई में सच्ची जीत हासिल नहीं कर पाएंगे। लेकिन साथ ही, आपको यह भी स्पष्ट रूप से समझना चाहिए कि अंतिम जीत धर्मी लोगों की होगी, जैसे कि पानी और आत्मा के सुसमाचार में उनके विश्वास के साथ वे दुनिया के अंत के समय में भी सच्चे विजेता बन जाएंगे। इस प्रकार, हमें अंत समय के आने से पहले पूरे संसार में पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करने का कार्य पूरा करना चाहिए।
हमें पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करके अपने प्रभु को प्रसन्न करना चाहिए। हमारे पास पानी और आत्मा का सुसमाचार है, विश्वास का वचन जो हमें अंतिम विजय दे सकता है। परमेश्वर स्पष्ट रूप से दुनिया को इसके विनाश की भविष्यवाणी कर रहा है। हमें यह भी समझना चाहिए कि प्रभु उस समय वापस आएंगे, संतों को स्वर्ग में उठाएंगे, और वह उन लोगों के लिए बड़ी विपत्तियां लाएंगे जो इस दुनिया में बच जाएंगे। इस प्रकार, हमें पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करके और सच्चे विश्वास को धारण करके अंत समय को प्राप्त करना चाहिए। परमेश्वर ने उन लोगों से कहा है जो पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं कि वे लोग विश्वास में हजार साल के राज्य की प्रतीक्षा करें, ठीक वैसे ही जैसे कि उसने नूह के समय में कहा था कि दुनिया का अंत तब आएगा जब लोग खा और पी रहे होंगे।
पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास किए बिना, लोग दुनिया के अंत समय की सभी समस्याओं का समाधान नहीं कर सकते हैं। हर तरह से, हमें पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करना चाहिए। जो लोग पानी और आत्मा के इस सुसमाचार में विश्वास नहीं करते हैं, वे परमेश्वर के द्वारा बिल्कुल भी स्वीकार नहीं हो सकते हैं। परमेश्वर अंत समय के अंतिम चरण में इस दुनिया में सबसे भयानक विपत्तियों को लाएगा। क्योंकि जो लोग पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास नहीं करते, वे परमेश्वर के धर्मी न्याय से बच नहीं सकते, उन्हें अब इस सुसमाचार में विश्वास करना चाहिए। 
इसलिए, परमेश्वर के न्याय से बचने के लिए, हर किसी के लिए पानी और आत्मा के सुसमाचार के बारे में सीखना और अपने पूरे दिल से उस पर विश्वास करना बहुत ही आवश्यक है। उद्धार का सत्य जो सभी के लिए अनिवार्य है, वह है पानी और आत्मा का सुसमाचार। परमेश्वर के सामने पानी और आत्मा के इस सुसमाचार के अलावा कोई दूसरा सच्चा सुसमाचार नहीं है। पहले से कहीं अधिक, इस संसार को अब पानी और आत्मा के सुसमाचार की अनिवार्य आवश्यकता है, क्योंकि यह पाप के अपने स्वभाव के साथ पाप की गहराई में रहता है।
चूंकि इस अंतिम युग में भविष्य के लिए अब कोई निश्चितता नहीं है इसलिए लोग प्रतिदिन पाप करते हुए और केवल अपने सुख का पीछा करते हुए जीते हैं। मनुष्यजाति के लिए सच्ची आशा पानी और आत्मा के सुसमाचार के वचन में पाई जाती है, और केवल यह वचन ही हमें हमारी सच्ची आशा दे सकता है। फिर भी यह दुनिया एक ऐसी दुनिया बन गई है जो परमेश्वर की तलाश नहीं करती है। जैसा कि आप पापी हैं और जल्द ही आपके पापों के लिए परमेश्वर द्वारा न्याय किया जाएगा, आपको अपने पूरे दिल से यीशु द्वारा दी गए पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास करना चाहिए। तब आप परमेश्वर के भयानक न्याय से छुटकारा पाने में सक्षम होंगे। बाइबल सभी को अपने पापों का पश्चाताप करने, परमेश्वर के पास लौटने और पानी और आत्मा का सुसमाचार प्राप्त करने की सलाह दे रही है।
दुनिया का अंत एक ऐसा समय है जब लोग पाप में खा पीकर सोए हुए, आग और गंधक की झील में प्रवेश करेंगे, यहां तक कि इसे समझे बिना ही। 
लोगों को परमेश्वर द्वारा दिए गए पाप से अपना उद्धार प्राप्त करना चाहिए, लेकिन पानी और आत्मा के सुसमाचार को जाने बिना, उन्हें उनके पापों से कैसे बचाया जा सकता है? प्रत्येक व्यक्ति को पता होना चाहिए कि उसे अपने पापों के कारण परमेश्वर का भयानक न्याय प्राप्त करना है, और यह समझना है कि पानी और आत्मा का सुसमाचार छुटकारे का सत्य और आशीर्वाद का वचन है।
बाइबल हमें यह नहीं बताती कि दुनिया का अंत किस दिन और किस घड़ी में आएगा। संसार की मृत्यु की घड़ी को छिपाना परमेश्वर की बुद्धि है। यदि परमेश्वर अंत की इस घड़ी को प्रकट करते, तो यह बहुत बड़ा दुर्भाग्य लेकर आता। इसलिए परमेश्वर ने न्याय के दिन को लोगों से छिपाया। लेकिन जब परमेश्वर द्वारा निर्धारित समय आएगा, तो सब कुछ उसके द्वारा पूरा किया जाएगा, और एक पूरी नई दुनिया शुरू होगी।
परमेश्वर ने मुख्य भाग में कहा, “तू ने मेरे धीरज के वचन को थामा है, इसलिये मैं भी तुझे परीक्षा के उस समय बचा रखूँगा जो पृथ्वी पर रहनेवालों के परखने के लिये सारे संसार पर आनेवाला है।” यह वचन परमेश्वर की प्रतिज्ञा है कि वह संतों को उनकी शहादत के बाद इस संसार में आने वाली सात विपत्तियों से मुक्ति दिलाएगा। हालांकि, इसका मतलब यह नहीं है कि वह अंत के समय में संतों को शहीद होने या मसीह विरोधी द्वारा सताए जाने से बचाएगा। पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास न करने और अपने पापों की क्षमा प्राप्त न करने के कारण बड़ी संख्या में लोग परमेश्वर के भयानक न्याय का सामना करेंगे। परिणामस्वरूप, उनकी पापी आत्माएं नरक में गिरेंगी। लेकिन परमेश्वर संतों को पहले शहादत देंगे, क्योंकि यही शहादत उन्हें भयानक विपत्तियों से मुक्ति दिलाएगी।
 

महा क्लेश के अंत के समय में लोग किस प्रकार का चिह्न प्राप्त करेंगे?

बाइबल हमें बताती है कि लोग मसीह विरोधी के नाम का चिन्ह प्राप्त करेंगे। लेकिन प्रकाशितवाक्य का वचन हमें यह भी बताता है कि जो लोग अपने माथे या दाहिने हाथों पर मसीह विरोधी के नाम का चिह्न प्राप्त करते हैं, उन्हें आग और गंधक की झील में फेंक दिया जाएगा। मसीह-विरोधी के नाम का यह चिन्ह प्राप्त करके, वे हमेशा के लिए शैतान के सेवक बन जाएंगे। अग्नि और गंधक की झील पाप करने वालों के लिए आरक्षित है।
अनुग्रह का युग, जब लोगों को विश्वास के द्वारा उनके पापों से बचाया जा सकता है, अब बीत रहा है। बाइबल में लिखा है कि अंत के समय में अनगिनत शहीदों की संख्या में वृद्धि होगी। क्योंकि इन शहीदों के नाम जीवन की पुस्तक में लिखे गए हैं, वे स्वतः ही मसीह विरोधी के नाम के चिन्ह को अस्वीकार कर देंगे।
परमेश्वर हमें बताता है कि जो लोग पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं वे सभी इस समय शहीद हो जाएंगे। वे शैतान के चिह्न को प्राप्त करने से इनकार करने पर शहीद हो जाएंगे। जो लोग धर्मी हो गए हैं, उन्हें अंत समय की शहादत से नहीं डरना चाहिए, बल्कि उन्हें हजार साल के राज्य के लिए परमेश्वर का धन्यवाद करना चाहिए जो उनकी शहादत के बाद उनका इंतजार कर रहा है।
चूँकि मसीह विरोधी के नाम का चिन्ह प्राप्त करना एक देशद्रोही कार्य है जो हमारे प्रभु को धोखा देता है, हमें इसे अस्वीकार करना चाहिए। हम सब अपनी शहादत के लिए उठ सकते हैं, क्योंकि इस समय में परमेश्वर पर विश्वास रखना ही परमेश्वर की महिमा करना है। हमारे परमेश्वर ने हमें बताया है कि वह संतों को सभी कठिनाइयों को दूर करने की सामर्थ देंगे।
 


परमेश्वर की कलीसिया कैसे और कब तक पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करेगी?


कब तक हमारे प्रभु ने हमें पानी और आत्मा के सुसमाचार को फैलाने की अनुमति दी है? उत्तर महान क्लेश में हमारी शहादत के समय तक है। परमेश्वर ने सुसमाचार के प्रचार के द्वार को धर्मियों के लिए खोल दिया है, ताकि वे तब तक पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार कर सकें। अपनी शहादत के इस समय तक, धर्मी लोग पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करते रहेंगे। इसके बाद इस पृथ्वी पर भयानक विपत्तियां आएंगी।
अभी, धर्मी और पापी समान रूप से प्रभु द्वारा दिए गए सुंदर प्रकृति से घिरे रहते हैं। क्लेश के समय के आने तक, धर्मियों को अपने विश्वास को शुद्ध रखना चाहिए और पानी और आत्मा के सभी सुसमाचार का प्रचार करते हुए, प्रभु की प्रतीक्षा करनी चाहिए। धर्मी लोगों को सुसमाचार की खेती करने की आवश्यकता है।
अंत के समय में, जब जानवर की छाप हम पर थोपी गई है, हमें प्रभु के द्वारा दिए गए पानी और आत्मा के सुसमाचार में अपने विश्वास के साथ सांसारिक लोगों के खिलाफ लड़ना चाहिए और उन पर जय प्राप्त करनी चाहिए। जब हम अंत के समय में मसीह विरोधी द्वारा शहीद होते हैं, तो हमारे विश्वास की जीत होती है। धर्मी का सारा जीवन प्रभु पर निर्भर है। यदि वे प्रभु के वचन में विश्वास करते हैं, तो वह उन्हें परीक्षा के समय से दूर रखेगा, और दुनिया के अंत तक सुसमाचार का प्रचार करेगा, परमेश्वर उन्हें विजयी जीवन देगा। धर्मी लोगों को आज और कल हर जगह सच्चे उद्धार के सुसमाचार का प्रचार करना चाहिए। 
हम सभी को अपने प्रभु की वापसी की प्रतीक्षा करनी चाहिए और हजार साल के राज्य के आने तक उन प्रतिफलों के लिए उनके प्रति वफादार रहना चाहिए जो हमारे सामने लाए जाने हैं। जब प्रभु इस पृथ्वी पर लौटेंगे, तो हजार साल का राज्य धर्मी लोगों को दिया जाएगा। तब धर्मी लोग प्रभु के साथ परमेश्वर की महिमा के वस्त्र पहिनेंगे। 
लेकिन अभी के लिए, हमें इस पृथ्वी पर रहते हुए पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करना जारी रखना चाहिए, जब तक कि हम अंतिम क्षण तक ऐसा करने में सक्षम न हों। वह सुसमाचार जो पापियों को उनके पापों से बचाता है, पानी और आत्मा का सुसमाचार, पाप के सच्चे छुटकारे का सुसमाचार है। 
इस पृथ्वी पर पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार करते हुए संसार के अंत तक जीवित रहने के बाद, धर्मी लोग प्रभु से मिलेंगे, एक हजार साल तक राज्य करेंगे, और जब हजार साल का राज्य समाप्त हो जाएगा, तो परमेश्वर के अनंत राज्य में प्रवेश करेंगे। और सदा प्रभु के साथ रहो। मैं विश्वास में प्रभु का धन्यवाद करता हूं। हमें यह आशा देने के लिए हमें प्रभु का और भी अधिक धन्यवाद करना चाहिए।
 

फिलदिलफिया की कलीसिया प्रभु की प्रिय कलीसिया थी क्योंकि उसके पास थोड़ी सी ही सामर्थ होने के बावजूद भी उसने यीशु के नाम का इनकार नहीं किया और परमेश्वर की इच्छा का पालन किया

परमेश्वर ने इस फिलदिलफिया की कलीसिया को परिक्षण की घड़ी से बचने का विशेष आशीष दिया। यह आशीष पाप की क्षमा, हजार साल के राज्य में रहने, और परमेश्वर के अनन्त राज्य के स्वामी बनने की आशीष है। मसीही जो अभी भी पापी के रूप में है, उन्हें परमेश्वर के आशीष से दूर रखा जाएगा। परन्तु धर्मी हजार साल तक राज्य करेगा।
प्रभु संतों को उनकी शहादत के द्वारा इस पृथ्वी से ऊपर उठायेगा, और फिर इस संसार पर अत्यधिक विपत्तियाँ डालेगा। परमेश्वर अच्छाई को बुराई में से परखेगा, और पापियों का न्याय और नाश करें। परमेश्वर धर्मी लोगों से प्रेम करता है, विशेष रूप से उनसे जो केवल थोड़ी सी सामर्थ के साथ, उनके वचन का पालन करते हैं और दुनिया के अंत तक सुसमाचार का प्रचार करते हैं। जिन संतों में ऐसा विश्वास था और जो ऐसी कलीसिया के थे, वे वास्तव में धन्य है। इन धर्मी संतों से परमेश्वर प्रसन्न हुए।
परमेश्वर कहता है कि वह उन लोगों को पुरस्कृत करेगा जो पानी और आत्मा के सुसमाचार में अपने पूरे दिल से विश्वास करके शैतान के खिलाफ लड़ते हैं और उस पर जय प्राप्त करते हैं। 
इस धरती पर कई मसीही हैं जो यीशु में विश्वास करने का दावा करते हैं और फिर भी शैतान द्वारा धोखा खाते है। उद्धार का कार्य, जिसने यीशु के इस पृथ्वी पर आने के साथ सभी पापियों को उनके पापों से छुड़ाया, उनके दो धर्मी कार्यों द्वारा प्राप्त किया गया। उद्धार के इन कार्यों में विश्वास यह मानता है कि उसने यरदन नदी में अपने बपतिस्मा के द्वारा दुनिया के सभी पापों को अपने ऊपर ले लिया, और उसने दुनिया के इन पापों को क्रूस पर ले जाकर अपने लहू के द्वारा न्याय प्राप्त करके उद्धार के इस कार्य को पूरा किया। यह उद्धार का सुसमाचार है, पापों के निवारण का सुसमाचार जिसने पापियों को बचाया है।
लेकिन जिन लोगों में विश्‍वास की कमी है, वे “यीशु के बपतिस्मा पर विश्वास किए बिना निष्पाप होने का दावा करनेवाले”बन गए हैं। ऐसा विश्वास झूठा है। दूसरी ओर, कुछ लोग दावा करते हैं कि कोई और यीशु से उतना प्यार नहीं करता जितना वे करते हैं, लेकिन साथ ही वे खुद को पापी बताते हैं। लेकिन हमारे प्रभु कभी भी किसी और को पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करने वालों के अलावा स्वर्ग में जाने की अनुमति नहीं देते हैं। वह अपने जीवन की पुस्तक में पापियों के नाम नहीं लिखता है। केवल वे जो पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं, वे ही प्रभु के जीवन की पुस्तक में लिखे गए हैं।
परमेश्वर द्वारा दिया गया पाप से उद्धार "व्यक्ति के कार्य" के द्वारा प्राप्त नहीं किया जाता है, बल्कि इसे केवल "व्यक्ति क्या विश्वास करता है" उसके द्वारा प्राप्त किया जा सकता है। इस विश्वास में, पहला विचार यह विश्वास करना है कि यीशु परमेश्वर का पुत्र और हमारा उद्धारकर्ता है, और दूसरा, यीशु के बपतिस्मा और क्रूस पर उसके लहू को संपूर्ण और अपरिहार्य कार्यों के रूप में हमारे उद्धार के लिए विश्वास करना है। और हमें मसीह के पुनरुत्थान और उसके दूसरे आगमन में भी विश्वास करना चाहिए।
मत्ती ७:२१-२३ कहता है, “जो मुझ से, ‘हे प्रभु! हे प्रभु!’ कहता है, उनमें से हर एक स्वर्ग के राज्य में प्रवेश न करेगा, परन्तु वही जो मेरे स्वर्गीय पिता की इच्छा पर चलता है। उस दिन बहुत से लोग मुझ से कहेंगे, ‘हे प्रभु, हे प्रभु, क्या हम ने तेरे नाम से भविष्यद्वाणी नहीं की, और तेरे नाम से दुष्‍टात्माओं को नहीं निकाला, और तेरे नाम से बहुत से आश्‍चर्यकर्म नहीं किए?’ तब मैं उनसे खुलकर कह दूँगा, ‘मैं ने तुम को कभी नहीं जाना। हे कुकर्म करनेवालो, मेरे पास से चले जाओ।” यीशु इन लोगों का इन्कार क्यों करेगा? क्योंकि पापी लोगों को प्रभु के जीवन की पुस्तक में नहीं लिखा जा सकता। आजकल ऐसे कई लोग हैं जो यीशु को अपना उद्धारकर्ता मानने का दावा करते हैं, लेकिन उनमें से बहुत से लोग उस बपतिस्मा में विश्वास नहीं करते हैं जो यीशु ने यूहन्ना से प्राप्त किया था। 
उसी प्रकार, उनके नाम जीवन की पुस्तक में नहीं लिखे गए हैं। फिर भी ये पापी अपने सारे पापों के साथ प्रभु के राज्य में प्रवेश करने का प्रयास करते हैं। हालांकि, वे इसमें प्रवेश नहीं कर सकते। कुछ लोग इतने बहादुर होते हैं कि वे मानते हैं कि वे स्वर्ग में प्रवेश कर सकते हैं फिर भले ही उनके अन्दर अभी भी पाप हो। ऐसे लोग परमेश्वर द्वारा दिए गए उद्धार में नहीं, बल्कि अपने अभिमान में बने अपने स्वयं के संस्करण में विश्वास करते हैं। जिनका विश्वास झूठा है, वे यह विश्वास नहीं करते कि यीशु ही परमेश्वर है, न ही इस तथ्य में कि यीशु ने अपने बपतिस्मा के द्वारा संसार के पापों को अपने ऊपर ले लिया, और न ही यह कि उसने इन सभी पापों को क्रूस पर चढ़ा दिया। ये लोग केवल यीशु को दुनिया के चार महान संतों में से एक मानते हैं और उस विश्वास हैं। ऐसे लोग पापी होते हैं भले ही वे यीशु को अपना उद्धारकर्ता मानते हों। हालाँकि, प्रभु के पास इन पापियों को देने के लिए कुछ है। आप पूछ सकते है "लेकिन क्या?"। खैर, नर्क के अलावा और कोई उनका इंतजार नहीं कर रहा है!
हम धर्मी, जिनके पाप क्षमा किए गए हैं, उन्हें पानी और आत्मा के सुसमाचार में अपने विश्वास के साथ संसार के अंत तक झूठों से लड़ना और उन पर जय पाना आवश्यक है। धर्मी जिस पर विश्वास करते हैं वह भ्रष्ट सत्य नहीं है। प्रभु की वापसी के दिन तक, हम उस सच्चे सुसमाचार में अपना विश्वास कभी नहीं छोड़ सकते जिसके साथ हम अपने प्रभु में विश्वास करते हैं, चाहे कोई कुछ भी कहे। सच्चा वचन जिसमें धर्मी विश्वास करते है वह व्यक्तिगत रूप से परमेश्वर से प्राप्त होता है। यह परमेश्वर के वचन से प्रमाणित होता है। परमेश्वर ने स्वयं इसे व्यक्तिगत रूप से कहा था। परमेश्वर ने व्यक्तिगत रूप से हमारे पापों की क्षमा का वादा किया था। धर्मी लोग यीशु के बपतिस्मा और उसके क्रूस पर विश्वास करने के द्वारा उनके सभी पापों से बचाया गया और वे संपूर्ण हो गए। पापी हमारे बारे में जो कह रहे हैं, क्या उसमें कुछ महत्वपूर्ण या योग्य है? बिल्कुल भी नहीं! धर्मी लोगों को परमेश्वर के वचन पर विश्वास करके पानी और आत्मा के सुसमाचार में अपना विश्वास बनाए रखना चाहिए।
अब प्राकृतिक आपदाओं का समय है, और बहुत जल्द ही भविष्य में इस धरती पर परमाणु युद्ध भी होगा। और प्राकृतिक आपदाएँ कहीं अधिक भयावह पैमाने पर फैलने के लिए तैयार हैं। परमेश्वर के सेवकों को स्पष्ट रूप से देखना चाहिए कि इस दुनिया में क्या आ रहा है और इसका प्रचार करें। आपको एहसास होना चाहिए कि दुनिया का अंत अचानक आ सकता है। जब दुनिया में परमाणु युद्ध छिड़ जाता है, तो प्राकृतिक आपदाएं एक अभूतपूर्व ऊंचाई तक पहुंच जाती हैं, और जानवर की छाप हम पर पड़ती है - यानी, जब हमारी शहादत और पुनरुत्थान का समय आता है, और हजार साल के राज्य के निर्माण का समय आता है - यह इस पृथ्वी पर मसीह की वापसी का समय है। सभी चीजें होती हैं और प्रभु द्वारा पूरी की जाती हैं।
कोई कुछ भी कहे, हमें दुनिया के अंत तक परमेश्वर के वचन पर विश्वास करना चाहिए और इस विश्वास को बनाए रखना चाहिए। प्रभु का अनुसरण करते हुए, कठिनाइयों की परवाह किए बिना, हमें निश्चित रूप से पानी और आत्मा के सुसमाचार में अपने विश्वास को बनाए रखना चाहिए और फैलाना चाहिए। 
आइए हम प्रभु के दिन की आशा करते हुए अपना जीवन व्यतीत करें। आइए हम पापियों को पानी और आत्मा के सुसमाचार के द्वारा उनके पापों की क्षमा के लिए तैयार करें! मुझे विश्वास है कि हमारे परमेश्वर ने पहले से ही धर्मियों के लिए आरक्षित स्वर्ग के सभी आशिषे तैयार कर दी हैं और हमारी प्रतीक्षा कर रहे हैं। वास्तव में मृतकों के पुनरुत्थान और संतों के परिवर्तन से पहले हमें उस दिन के लिए तैयार होना चाहिए। इस बारे में शिकायत करना बंद करें कि आपका जीवन कितना खाली है, और इसके बजाय पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करें। 
जब आप पहले से ही सत्य के सुसमाचार को जानते हैं, तो आप उस पर विश्वास करने से इनकार करके नरक में जाने का चुनाव कैसे कर सकते हैं? जीवन की शून्यता पर निराशा में गिरने के बजाय, हमें पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास के द्वारा अपने सभी पापों से छूटकारा पाने के द्वारा हजार साल के राज्य की तैयारी करनी चाहिए। फिलदिलफिया की कलीसिया के विश्वास की तरह अपने जीवन को जीने के बाद, परमेश्वर द्वारा सराहना की जाती है, हम निश्चित रूप से हवा में अपने परमेश्वर से मिलेंगे! हाल्लेलूयाह!