उपदेश

विषय १० : प्रकाशितवाक्य (प्रकाशितवाक्य पर टिप्पणी)

[अध्याय 4-2] यीशु परमेश्वर है ( प्रकाशितवाक्य ४:१-११ )

यीशु परमेश्वर है
( प्रकाशितवाक्य ४:१-११ )

प्रकाशितवाक्य 4 के वचन के द्वारा, हम यह पता लगा सकते हैं कि हमारा यीशु किस प्रकार का परमेश्वर है, और इस ज्ञान से हमारा विश्वास मजबूत होता है। जब वचन के माध्यम से प्राप्त ज्ञान विश्वास में बदल जाता है और हमारे दिलों में स्थापित हो जाता है, तो जब प्रभु की वापसी का समय निकट आता है और मसीह विरोधी उठ खडा होकर हमें धमकाता है हम प्रभु में दृढ़ विश्वास के साथ शैतान से लड़ सकते हैं और उस पर जय प्राप्त कर सकते हैं।
हम अब अपने विश्वास का पोषण कर रहे हैं ताकि हम बड़े क्लेश के पहले साढ़े तीन वर्षों की परीक्षाओं के लिए तैयारी कर सकें। यदि हम उस दिन इस पोषण के बिना सामना हैं, तो हम निश्चित रूप से अपना विश्वास खो देंगे। लेकिन यदि हम दृढ़ विश्वास तैयार करते हैं, तो हम साहसपूर्वक यह घोषणा कर सकते हैं किजिसने हमें बचाया वह परमेश्वर है, और हम उस सर्वशक्तिमान परमेश्वर की संतान है जो शैतान से ऊपर है जिसका परमेश्वर के सामने कोई मुकाबला नहीं है। 
लेकिन ऐसा करने के लिए, हमें पहले अपने दिलों में गहराई से विश्वास करना चाहिए कि प्रभु सर्वशक्तिमान हैं, और हम उनकी संतान हैं। हमारे प्रभु, जो पिता परमेश्वर के तुल्य हैं, जब वे इस पृथ्वी पर हमारे सभी पापों से हमें बचाने के लिए आए, तो वह कितना नम्र हो गए? वह इस धरती पर मनुष्य के शरीर में, एक सेवक के रूप में, हमसे भी कम, अपनी रचना के रूप में आया था। क्या होता यदि प्रभु इतनी नम्रता से नहीं बल्कि शक्ति और अधिकार के साथ दुनिया के शासकों के समान आते? शक्तिशाली के लिए केवल शक्तिशाली से मित्रता करना और अपनी शक्ति को नीच, दोषरहित और कमजोरों के लिए उपयोग करना स्वाभाविक है। परन्तु प्रभु इस पृथ्वी पर हम से भी नम्र रूप में आया, दीन और निर्बलों से मित्रता की, और पापों से छुड़ाकर उन्हें अपनी प्रजा बना लिया। 
यही कारण है कि परमेश्वर अच्छा चरवाहा और दयालु प्रभु है। और यही कारण है कि, इस दयालु अच्छे चरवाहे के लिए, हम उसकी संतान बनाने की महिमा के लिए उसकी प्रशंसा करने के अलावा और कुछ नहीं कर सकते। इस प्रकार हम इस पृथ्वी पर रहते हुए उनके अनुग्रह और आशीर्वाद के लिए अपने हृदय से प्रभु की स्तुति करते हैं, और जब हम उनके राज्य में प्रवेश करते हैं तो हम उनकी सामर्थ और महिमा के लिए उनकी स्तुति करते रहेंगे। अपनी आवाज से प्रभु की स्तुति में शामिल होना एक महान आशीर्वाद है, क्योंकि केवल वे लोग ही जो पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं, प्रभु की स्तुति कर सकते हैं। हमें यह महान आशीष केवल उन्हें दी गई है जो पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं। हमें यह कभी नहीं भूलना चाहिए कि हम ऐसे प्रतापी परमेश्वर और उनके सेवकों के लोग बन गए हैं।
कुछ लोग कहते हैं कि यीशु परमेश्वर का पुत्र है, परन्तु वह स्वयं परमेश्वर नहीं है। लेकिन जैसे मनुष्य मनुष्य को जन्म देते हैं और जानवर जानवरों को जन्म देते हैं, परमेश्वर का पुत्र परमेश्वर है। जिस प्रकार मनुष्य कुत्ते को जन्म नहीं दे सकता, उसी प्रकार सर्वशक्तिमान परमेश्वर का पुत्र मनुष्य नहीं हो सकता, केवल उसका प्राणी नहीं हो सकता। जो यह नहीं पहचानते कि यीशु ही परमेश्वर हैं, वे वो हैं जो यह नहीं जानते कि उसने अपने पानी और आत्मा से हमें बचाया है। 
हमें विश्वास करना चाहिए कि यीशु ही परमेश्वर है (यूहन्ना १:१)। जब परमेश्वर पिता ने यीशु मसीह के लिए एक सिंहासन तैयार किया और अपनी सारी सामर्थ उसे सौंप दी, यीशु - जो था, जो है, और जो न्याय के दिन आनेवाला है, और हमेशा के लिए रहेगा - अपने सिंहासन पर परमेश्वर की सामर्थ के साथ सभी पर शासन करने और सृष्टि, उद्धार और न्याय के परमेश्वर की महिमा के साथ। क्योंकि हम प्रभु में विश्वास करके उसके लोग बन गए हैं, हम उसके राज्य में प्रवेश करेंगे और हमेशा जीवित रहेंगे। यीशु, जिस पर हम विश्वास करते हैं, वही परमेश्वर है, और हम वही हैं जो परमेश्वर से अपना उद्धार पाकर उसकी सन्तान बने हैं। 
परमेश्वर के संतों, कार्यकर्ताओं और सेवकों को, जिन्होंने नया जन्म प्राप्त किया है, उन्हें गर्व होना चाहिए। यद्यपि इस संसार में हमारे पास बहुत कम अधिकार है, हमें परमेश्वर की संतान के रूप में राजा का गौरव होना चाहिए जो पूरे ब्रह्मांड पर राज्य करेगा। मुझे दुनिया के पापों से छुड़ाने और हमें उसकी संतान बनाने के लिए मैं सर्वशक्तिमान परमेश्वर का धन्यवाद करता हूँ!
स्वर्ग के २४ प्राचीनों ने परमेश्वर को जो स्तुति दी, वह इस पृथ्वी पर उसके द्वारा किए गए कार्यों के लिए थी। उनकी स्तुति यह थी कि परमेश्वर सभी महिमा, सम्मान और सामर्थ प्राप्त करने के योग्य है, क्योंकि सभी चीजें उसके द्वारा बनाई गई थीं और वे उसकी इच्छा से अस्तित्व में हैं।
हमें यहां वास्तव में यह समझना चाहिए कि जो सिंहासन पर बैठा है वह यीशु मसीह है, और वह परमेश्वर है। यह यीशु मसीह, जिस पर हम विश्वास करते हैं, वही वास्तविक परमेश्वर है जिसने हमें बचाया है। स्वर्ग के राज्य में, सारा अधिकार हमारे परमेश्वर यीशु मसीह के पास है। अंतिम न्याय भी हमारे उद्धारकर्ता परमेश्वर यीशु मसीह के द्वारा दिया गया है। जब मसीह अपने सिंहासन से हमारा न्याय करेगा, तो वे लोग जिनके नाम जीवन की पुस्तक में लिखे हुए हैं, नए स्वर्ग और पृथ्वी में प्रवेश करेंगे, और जिनके नाम इस पुस्तक में नहीं पाए जाएंगे, उन्हें आग में फेंक दिया जाएगा। 
इसलिए, यीशु पर विश्वास न करना परमेश्वर में विश्वास न करने के समान है, और परमेश्वर पर विश्वास न करना परमेश्वर के विरुद्ध खड़े होने के समान है। यही कारण है कि जो लोग यह नहीं मानते कि यीशु ही परमेश्वर है, वह उद्धारकर्ता है, और वह स्वर्ग का राजा है, उन्हें परमेश्वर के सामने भयानक न्याय का सामना करना पड़ेगा।
परमेश्वर में विश्वास करने वालों में, एक ऐसा समूह है जिसे यहोवा के साक्षी कहा जाता है, जो गलती से यह मानते हैं कि यीशु, हालाँकि वह परमेश्वर का पुत्र है, स्वयं परमेश्वर नहीं है। परन्तु यदि यीशु परमेश्वर नहीं होता, तो वह हमें हमारे पापों से नहीं छुड़ा सकता था, क्योंकि केवल वही जो सिद्ध है वह हमें पूर्ण उद्धार भी दे सकता है।
हम इतने कमजोर हैं कि बदलती परिस्थितियों के साथ हमारा दिल आसानी से बदल जाता है। अपनी दुर्बलताओं के बावजूद, हम अपने परमेश्वर यीशु मसीह की स्तुति हमेशा के लिए कर सकते हैं, इसका कारण यह है कि यीशु, जो हमेशा के लिए जीवित है और हमेशा के लिए सिद्ध है, पापियों का उद्धारकर्ता बन गया है। केवल वे जो यीशु मसीह के द्वारा बचाए गए हैं, पूर्ण परमेश्वर जिसने सभी पापों को दूर कर दिया है वे ही प्रभु की स्तुति कर सकते हैं। यीशु मसीह में हमारा विश्वास, हमारे विचारों और दिमागों में, सांसारिक धर्मों की तरह कभी नहीं होना चाहिए। जब हम यीशु को परमेश्वर के रूप में जानते और सोचते हैं और उस पर हमारा विश्वास उचित होता है, तो हम वास्तविक परमेश्वर का अनुभव कर सकते हैं।
हमें अपने उस विश्वास में जीना चाहिए जो यीशु मसीह को हमारे उद्धारकर्ता परमेश्वर के रूप में मानता है, और इस विश्वास के साथ हम अपने शत्रुओं से लड़ सकते हैं और उन पर जय प्राप्त कर सकते हैं। दुसरे शब्दों में, जब हम अपने परमेश्वर यीशु पर विश्वास करते हैं, यह विश्वास शैतान को भयभीत करेगा, और इस प्रकार हमें दृढ़ रहने और अंत समय की परीक्षाओं और क्लेशों को दूर करने में सक्षम करेगा। दूसरी ओर, यदि हम यीशु को अपना परमेश्वर नहीं मानते हैं, तो शैतान हम पर हँसेगा और हमें हमारे विश्वास से दूर कर देगा। 
परमेश्वर पिता से अपना सिंहासन प्राप्त करने के बाद, यीशु इस सिंहासन पर हमारे परमेश्वर के रूप में विराजमान हैं। प्रकाशितवाक्य के वचन के माध्यम से, हम समझते हैं कि यीशु सर्वशक्तिमान परमेश्वर है जो पूरे ब्रह्मांड में सारी चीजो पर शासन करता है, क्योंकि उसने पिता से परमेश्वर का सारा अधिकार और सामर्थ प्राप्त की है। 
इस सच्चाई में आपका विश्वास आपको शैतान पर साहसपूर्वक जय प्राप्त करने में सक्षम करेगा। क्योंकि परमेश्वर की संतान के रूप में हमारे पास परमेश्वर की सर्वशक्तिमान सामर्थ है इसलिए कोई भी हमें दबा नहीं सकता, और हम सभी अंत समय पर आत्मविश्वास और अटल रूप से जय प्राप्त कर सकते है। जो कुछ उसने हमारे लिए किया है उसके लिए मैं परमेश्वर का धन्यवाद और स्तुति करता हूँ!