उपदेश

विषय १० : प्रकाशितवाक्य (प्रकाशितवाक्य पर टिप्पणी)

[अध्याय 6-2] सात मुहरों के युग ( प्रकाशितवाक्य ६:१-१७ )

सात मुहरों के युग
( प्रकाशितवाक्य ६:१-१७ )

प्रकाशितवाक्य के प्रत्येक अध्याय के विषय को संक्षेप में निम्नलिखित रूप में प्रस्तुत किया जा सकता है:
अध्याय १ – प्रकाशितवाक्य के वचन की प्रस्तावना
अध्याय २-३ – एशिया की सात कलीसियाओं को पत्री
अध्याय ४ – यीशु जो परमेश्वर के सिंहासन पर बैठा है
अध्याय ५ – यीशु जो पिता परमेश्वर के प्रतिनिधि के रूप में बिराजमान है
अध्याय ६ – परमेश्वर द्वारा निर्धारित सात युग
अध्याय ७ – वे जो महान क्लेश के दौरान बचाए जाएंगे
अध्याय ८ – सात विपत्तियों को सुनाने वाली तुरही
अध्याय ९ – अथाह गढ्ढे की विपत्तियाँ
अध्याय १० – रेप्चर कब होगा?
अध्याय ११ – जैतून के दो पेड़ और दो भविष्यवक्ता कौन है?
अध्याय १२ – परमेश्वर की कलीसिया जो बड़ी पीड़ा का सामना करेगी
अध्याय १३ – मसीह विरोधी का उदय और संन्तो की शहादत
अध्याय १४ - संतों का पुनरुत्थान और रेप्चर, और हवा में उनके द्वारा परमेश्वर की स्तुति
अध्याय १५-१६ - सात कटोरे की विपत्तियों की शुरुआत
अध्याय १७ - बड़ी वेश्‍या का न्याय जो बहुत जल पर बैठी है
अध्याय १८ – बाबुल का पतन
अध्याय १९ – सर्वशक्तिमान द्वारा शासित एक राज्य
अध्याय २० – हजार साल का राज्य
अध्याय २१ – स्वर्ग से पवित्र शहर
अध्याय २२ – नया स्वर्ग और पृथ्वी, जहाँ जीवन का जल बहता है
 

पहले अध्याय से शुरू होकर, प्रकाशितवाक्य के वचन के प्रत्येक अध्याय का एक विषय है, और जब वे प्रकट होते हैं तो वे सभी एक दूसरे के साथ अंतिम अध्याय से जुड़ते हैं। जैसे रोमियों में, जहाँ अध्याय १ परिचय है, अध्याय २ यहूदियों के लिए परमेश्वर का वचन है, और अध्याय ३ अन्यजातियों के लिए परमेश्वर वचन है, प्रकाशितवाक्य की पुस्तक भी प्रत्येक अध्याय के लिए एक विषय के साथ आगे बढ़ती है।
पूरे वचन के आधार पर मैं प्रकाशितवाक्य की व्याख्या इसलिए कर रहा हूँ क्योंकि बहुत से लोगों ने सभी प्रकार की परिकल्पनाओं के साथ प्रकाशितवाक्य पर चर्चा की है, और यदि आप प्रकाशितवाक्य को इन धारणाओं के माध्यम से पढ़ते हैं, तो आप गंभीर गलतियाँ करने से नहीं बचेंगे।
क्योंकि बाइबल पवित्र आत्मा से प्रेरित परमेश्वर के लोगों के माध्यम से लिखी गई थी, इसमें कुछ भी ऐसा नहीं है जिसमें सुधार की आवश्यकता हो। इसके विपरीत, धर्मनिरपेक्ष पुस्तकों में त्रुटियां हैं और उनमें कई सुधारों की आवश्यकता है, चाहे लेखक का लेखन कितना भी अच्छा और ज्ञानवर्धक क्यों न हो। लेकिन परमेश्वर का वचन बिल्कुल भी नहीं बदला है भले ही फिर हजारों साल बिट क्यों नहीं गए। कई सालो के बिताने के बावजूद, परमेश्वर का वचन निर्दोष बना हुआ है, क्योंकि यह परमेश्वर के उन सेवकों के द्वारा लिखा गया था जिनके हृदय पवित्र आत्मा से प्रेरित थे।
क्योंकि जो परमेश्वर हमें बताना चाहता है वह बाइबल में छिपा है, हम में से बहुत से लोग पवित्रशास्त्र से अनभिज्ञ रहे हैं। परन्तु सृष्टि के आरम्भ से ही, बाइबल कभी नहीं बदली, एक बार भी नहीं। फिर भी क्योंकि बहुत से लोगों को परमेश्वर के वचन और उसकी योजना की बुरी समझ थी, उन्होंने अपने विचारों के साथ पवित्रशास्त्र की व्याख्या करना शुरू कर दिया। 
चूँकि परमेश्वर अपने रहस्यों को किसी के सामने प्रकट नहीं करता है, जो परमेश्वर की आराधना नहीं करते हैं और वचन के अनुसार विश्वास नहीं करते हैं, जो केवल परमेश्वर का नाम लेकर अपने लालच को भरने की कोशिश करते हैं, वे कभी भी सत्य को नहीं देख सकते हैं। दूसरे शब्दों में, जिन लोगों में पाप है, वे प्रकाशितवाक्य के वचन को कभी भी नहीं समझ सकते, चाहे वे कितनी भी कोशिश कर लें। यह वचन को समझने में उनकी असमर्थता के कारण है कि सभी प्रकार की गलतियाँ की जाती हैं - कुछ अंत समय के बारे में बेकार भ्रम में विश्वास करते हैं, उनका अध्ययन करते हैं, और यहाँ तक कि यीशु के दूसरे आगमन के समय की घोषणा भी करते हैं, जबकि अन्य लोग अपनी मर्जी से बाइबल की व्याख्या करते हैं, इस प्रक्रिया में सभी प्रकार की शास्त्रीय गलतियाँ करते हैं।
उनके प्रतिनिधि, उन धर्मशास्त्रियों में से जिन्हें हम जानते हैं, अब्राहम कुयपर और लुई बर्खोफ हैं, जिन्होंने हजार साल के राज्य की तरफदारी की, साथ ही सी. आई. स्कोफिल्ड जिन्होंने पूर्व-क्लेश रेप्चर का समर्थन किया। लेकिन इन विद्वानों द्वारा प्रतिपादित परिकल्पनाएं सभी गलत शिक्षाएं हैं जो केवल उनके अपने विचारों पर आधारित हैं। 
सबसे पहले, रूढ़िवादियों द्वारा समर्थित हजार साल के राज्य के सिद्धांत का तर्क है कि कोई अलग हजार साल का राज्य नहीं है, और यह राज्य अब इस पृथ्वी पर रहने वाले संतों के दिलों में पूरा हो गया है। सहस्त्राब्दिवाद भविष्य में हजार साल के राज्य की वास्तविक स्थापना को नकारता है। यह 'परिकल्पना' हजार साल के राज्य की प्रतीकात्मक शब्दों में व्याख्या करती है, उस अवधि को बयान करती है जिसके दौरान संत यीशु मसीह की वापसी तक हजार साल के राज्य के शासन की अवधि के रूप में रहते हैं। लेकिन सहस्त्राब्दिवाद द्वारा दी गई व्याख्या, कि हजार साल का राज्य पहले से ही महान क्लेश के बिना अब संतों के हृदयों में साकार हो चुका है, बहुत गलत है।
हालांकि स्कोफिल्ड द्वारा प्रतिपादित पूर्व-क्लेश रेप्चर का सिद्धांत सहस्त्राब्दीवाद की तुलना में दुनिया भर में और भी अधिक व्यापक है। लेकिन इस "युगवाद" ने अंत में परमेश्वर की योजना को ही बदल दिया है। परमेश्वर ने ब्रह्मांड के निर्माण से पहले भी सात युगों की योजना बनाई थी, और समय बीतने के साथ उन्होंने अपनी योजना के अनुसार सब कुछ पूरा किया है। लेकिन जो लोग प्रकाशितवाक्य ६ में प्रकट की गई परमेश्वर की योजना से अनभिज्ञ हैं, उन्होंने क्लेश-पूर्व रेप्चर के इस दोषपूर्ण सिद्धांत को उत्पन्न किया है। उनका तर्क है कि महान क्लेश की शुरुआत से पहले अन्यजातियों के बीच से नया जन्म पाए हुए लोगों का रेप्चर होगा, और इस्राएल के कुछ लोग क्लेश की सात साल की अवधि के दौरान बचाए जाएंगे। 
यह सिद्धांत एक ऐसे सिद्धांत के रूप में बना हुआ है जिसने कई लोगों को बड़ी उलझन में डाल दिया है। यदि महाक्लेश से पहले संतों का रेप्चर होता, जैसा कि पूर्व-क्लेश रेप्चर के सिद्धांत द्वारा दावा किया गया था, तो न तो संतों का उत्पीड़न होगा और न ही उनकी शहादत होगी जैसा कि प्रकाशितवाक्य १३ में दर्ज है। इसलिए यीशु में विश्वासियों को पूर्व-क्लेश रेप्चर के इस सिद्धांत से बाहर निकलना चाहिए और इस तथ्य पर विश्वास करके उनके विश्वास को तैयार करना चाहिए की उनका रेप्चर महान क्लेश के बीच में होगा।
प्रकाशितवाक्य का वचन हमें प्रकट करता है कि कैसे परमेश्वर अपने सात युगों की व्यवस्था के अनुसार दुनिया का नेतृत्व करेगा। जैसा कि प्रकाशितवाक्य ६ में चर्चा की गई है, हमें परमेश्वर द्वारा निर्धारित सात युगों की योजना के माध्यम से देखना चाहिए। लोग भ्रमित हैं और उनका विश्वास अस्थिर है क्योंकि वे पवित्रशास्त्र के इन सात युगों की सच्चाई को नहीं जानते हैं। इसलिए, हमें प्रकाशितवाक्य ६ में जो लिखा है, उस पर विश्वास करना चाहिए जैसा कि यह प्रतीत होता है। ऐसा करने के लिए, हमें पवित्रशास्त्र के केवल छोटे, असंबद्ध भागों को देखकर आंशिक रूप से सोचने के बजाय, संपूर्ण बाइबल द्वारा प्रमाणित सात युगों के गुप्त वचन में विश्वास करना चाहिए।
जैसे पानी और आत्मा का सुसमाचार लोगों से छिपा हुआ था, वैसे ही परमेश्वर के सात युग भी छिपे हुए हैं। हालाँकि बाइबल के विद्वानों ने प्रकाशितवाक्य के वचन को समझने की कोशिश की है और अपने स्वयं के विचारों पर ध्यान केंद्रित करके कई सिद्धांतों को प्रस्तावित किया है, फिर भी प्रकाशितवाक्य के वचन को समझना अभी भी बहुत मुश्किल है। यह इस तथ्य के समान है कि पानी और आत्मा का सुसमाचार अब तक छिपा हुआ था। लेकिन विद्वानों ने अब तक मसीह की वापसी, संत के रेप्चर, या हजार साल के राज्य के बारे में जिन सिद्धांतों को सामने रखा है, उनसे यीशु में विश्वास करने वालों को कोई लाभ नहीं हुआ है।
हमारे लिए प्रकाशितवाक्य के वचन को समझने के लिए, यह अत्यंत महत्वपूर्ण है कि हम अध्याय ६ को समझें। यह अध्याय प्रकाशितवाक्य के सभी वचनों को हल करने और समझने की कुंजी है। लेकिन इससे पहले कि हम प्रकाशितवाक्य के पूरे वचन को समझने की कोशिश करें, हमें एक बात याद रखनी चाहिए: पानी और आत्मा के सुसमाचार को समझे और उसमें विश्वास किए बिना प्रकाशितवाक्य को समझना असंभव है। आपको यह समझना चाहिए कि परमेश्वर के सत्य को तभी समझा जा सकता है जब आप पहले पानी और आत्मा के सुसमाचार को जानते हैं और उसमें विश्वास करते हैं।
जैसा प्रकाशितवाक्य ८ में दर्ज है, “जब उस ने सातवीं मुहर खोली,” तब सात तुरहियों की विपत्तियां संसार पर उतरेंगी। यह उन घटनाओं की व्याख्या करता है जो प्रकाशितवाक्य ६ में दर्ज चौथे युग यानी पीले घोड़े के युग के दौरान प्रकट होंगी। पहले परमेश्वर द्वारा निर्धारित सात युगों को समझे बिना, आप सात तुरहियों की विपत्तियों को भी नहीं समझ सकते हैं। प्रकाशितवाक्य के वचन को उसकी संपूर्णता में समझने के लिए, हमें सबसे पहले पानी और आत्मा के सुसमाचार को समझना और उसमें विश्वास करना चाहिए जो परमेश्वर ने हमें दिया है।
प्रकाशितवाक्य ६ में परमेश्वर का वचन उस समग्र रूपरेखा को प्रदान करता है जिसे परमेश्वर ने मनुष्यजाति की रचना करते समय बनाया था। परमेश्वर ने मनुष्यजाति के आदि और अंत को सात अलग-अलग युगों में विभाजित किया है। 
ये हैं: पहला, सफेद घोड़े का युग; दूसरा, लाल घोड़े का युग; तीसरे काले घोड़े का युग; चौथा, पीले घोड़े का युग; पांचवां, संतों की शहादत और उत्साह का युग; छठा, विश्व के विनाश का युग; और सातवां, हजार साल के राज्य और नया स्वर्ग और पृथ्वी का युग। हम विश्वास करते हैं और मानते हैं कि इस प्रकार परमेश्वर ने मनुष्यजाति के लिए अपनी योजना को इन सात युगों में विभाजित किया है। वर्तमान में विश्व काले घोड़े के युग में है, जो सफेद और लाल घोड़ों के युग से गुजरा है।
पवित्रशास्त्र हमें बताता है कि जिस युग में हम अब जी रहे हैं वह अकाल का युग है। लेकिन पीले घोड़े का युग भी हमारे निकट है। पीले घोड़े के युग के आगमन के साथ, महान क्लेश के सात साल की अवधि में प्रवेश करते हुए, संतों की शहादत का युग शुरू होगा। क्लेशों और शहादत का यह युग पीले घोड़े का युग है।
“जब उसने चौथी मुहर खोली, तो मैं ने चौथे प्राणी का शब्द यह कहते सुना, “आ!” मैं ने दृष्‍टि की, और देखो, एक पीला–सा घोड़ा है; और उसके सवार का नाम मृत्यु है, और अधोलोक उसके पीछे पीछे है; और उन्हें पृथ्वी की एक चौथाई पर यह अधिकार दिया गया कि तलवार, और अकाल, और मरी, और पृथ्वी के वनपशुओं के द्वारा लोगों को मार डालें।” यहाँ यह पद्यांश कहता है, “और उन्हें पृथ्वी की एक चौथाई पर यह अधिकार दिया गया कि तलवार… लोगों को मार डालें” यह दर्शाता है की पीले घोड़े के युग के दौरान मसीह विरोधी उठ खड़ा होगा और संतो को शहीद बनाएगा।
पीले घोड़े के युग के दौरान होनेवाली घटनाओं को प्रकाशितवाक्य ८:१-७ में दर्ज किया गया है। जैसा की लिखा है: “जब उसने सातवीं मुहर खोली, तो स्वर्ग में आधे घण्टे तक सन्नाटा छा गया। तब मैं ने उन सातों स्वर्गदूतों को देखा जो परमेश्‍वर के सामने खड़े रहते हैं, और उन्हें सात तुरहियाँ दी गईं। फिर एक और स्वर्गदूत सोने का धूपदान लिये हुए आया, और वेदी के निकट खड़ा हुआ; और उसको बहुत धूप दिया गया कि सब पवित्र लोगों की प्रार्थनाओं के साथ सोने की उस वेदी पर, जो सिंहासन के सामने है चढ़ाए। उस धूप का धुआँ पवित्र लोगों की प्रार्थनाओं सहित स्वर्गदूत के हाथ से परमेश्‍वर के सामने पहुँच गया। तब स्वर्गदूत ने धूपदान लेकर उसमें वेदी की आग भरी और पृथ्वी पर डाल दी; और गर्जन और शब्द और बिजलियाँ और भूकम्प होने लगे। तब वे सातों स्वर्गदूत जिनके पास सात तुरहियाँ थीं उन्हें फूँकने को तैयार हुए। पहले स्वर्गदूत ने तुरही फूँकी, और लहू से मिले हुए ओले और आग उत्पन्न हुई, और पृथ्वी पर डाली गई; और पृथ्वी की एक तिहाई जल गई, और पेड़ों की एक तिहाई जल गई, और सब हरी घास भी जल गई।”
प्रकाशितवाक्य ८ में सात तुरहियों की विपत्तियों की उपरोक्त चर्चा प्रकाशितवाक्य ६ में दर्ज पीले घोड़े के युग की सच्चाई का एक विस्तृत पुनरावृत्ति प्रदान करती है। यह वचन मसीह विरोधी के उद्भव और सात तुरहियों की विपत्तियों को और सात कटोरे जो पीले घोड़े के युग के दौरान सामने आएंगे विस्तार से दर्ज करता है।
दूसरी ओर, अध्याय ४ और ५, हमें बताते है कि यीशु मसीह इस दुनिया पर और आने वाले सभी लोगों पर परमेश्वर के रूप में राज्य करेगा, और पिता की पूरी योजना यीशु मसीह के द्वारा परमेश्वर के रूप में पूरी होगी। इस प्रकार, हम प्रकाशितवाक्य ४ और ५ के माध्यम से हम देख सकते है कि वास्तव में यीशु मसीह कितना सामर्थी और सर्वशक्तिमान परमेश्वर है। 
प्रकाशितवाक्य ८ हमें बताता है: “तब वे सातों स्वर्गदूत जिनके पास सात तुरहियाँ थीं उन्हें फूँकने को तैयार हुए। पहले स्वर्गदूत ने तुरही फूँकी, और लहू से मिले हुए ओले और आग उत्पन्न हुई, और पृथ्वी पर डाली गई; और पृथ्वी की एक तिहाई जल गई, और पेड़ों की एक तिहाई जल गई, और सब हरी घास भी जल गई।” जब पीले घोड़े का युग आता है, तब पृथ्वी का एक तिहाई जंगल जल गया, और इसके बाद उससे भी ज्यादा विपत्तियाँ आई।
पहली तुरही की विपत्ति एक ऐसी विपत्ति है जो एक तिहाई पेड़ों और सारी घास को जला देगी। जब यह आपदा दुनिया पर प्रहार करेगी, तो शेष जंगल भी दुनिया के एक तिहाई हिस्से में फैली भीषण आग के धुंध के प्रभाव से तबाह हो जाएंगे, जिसका धुआं पृथ्वी से सूर्य को अवरुद्ध कर देगा। फसलें नष्ट हो जाएँगी, और सारा संसार बड़े अकाल और भुखमरी में डाल दिया जाएगा।
अकाल के इस युग में एक दिन की मेहनत से एक चौथाई गेहूँ या तीन चौथाई जौ ही ख़रीदा जा सकता है। दुनिया अब इस असाधारण अकाल और भुखमरी के आसन्न आगमन का सामना कर रही है। इस संसार का अकाल भौतिक और आत्मिक दोनों तरीकों से आएगा। आज की दुनिया में आत्मिक अकाल पहले से मौजूद है। 
आज की कलिसियाए केवल नाममात्र के मसीहीयों से भरी हुई हैं, जो आत्मिक रोटी और पानी और आत्मा के सुसमाचार के जीवन को दुनिया के साथ साझा करने में असमर्थ हैं। दुनिया भर के लोग, यूरोप से लेकर एशिया से लेकर अमेरिकी महाद्वीप तक, सभी अब अपने विनाश के दौर में जी रहे हैं। आज के मसीही धर्म में कुछ लोग भूखे आत्माओं को खिलाने के लिए आत्मिक रोटी प्रदान करते हैं।
हम पीले घोड़े के युग का वर्णन मसीह विरोधी के उद्भव के युग के रूप में करते हैं। इस अवधि के दौरान, प्राकृतिक आपदाएँ रोटी और पानी को दुर्लभ वस्तुओं में बदल देंगी, जहाँ हर कोई बड़े अकाल के प्रभाव से मुश्किल से बच पाएगा। यद्यपि दुनिया अपनी वैज्ञानिक प्रगति के साथ जारी रहेगी, फिर भी जीवन स्तर अत्यधिक गरीबी में गिर जाएगा, जैसा कि उसने पहले कभी नहीं देखा था। क्या ऐसी दुनिया में रहने वाले लोगों में अपने जीवन को जारी रखने की कोई इच्छा बची होगी? 
क्लेश के इस समय में, हम सभी को अपनी शहादत को गले लगाना चाहिए और पानी और आत्मा के सुसमाचार के वचन में विश्वास करके परमेश्वर की महिमा करनी चाहिए। जो संत इस प्रकार पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं, वे अपनी शहादत के साथ परमेश्वर की महिमा करेंगे। बदले में, परमेश्वर अपने विश्वास की रक्षा के लिए शहीद हुए लोगों को स्वर्ग में उठाएंगे और उन्हें मेम्ने के विवाह भोज में आमंत्रित करेंगे।
प्रेरित पौलुस ने कहा कि वह परमेश्वर के राज्य के लिए उसका सेवक बना। प्रेरितों ने पानी और आत्मा के सुसमाचार का प्रचार किया ताकि बहुत से लोग हजार साल के राज्य में प्रवेश कर सकें।
महान क्लेश के समय, इस्राएलियों में ऐसे लोग होंगे जो यीशु में विश्वास करने के लिए शहीद होंगे और रेप्चर भी होंगे। इस प्रकार संत पीले घोड़े के युग के दौरान महान क्लेश की अवधि के होंगे। जब महान क्लेश आएगा, तो इस दुनिया में हर कोई किसी ऐसे व्यक्ति की तलाश में होगा जो आपदा से त्रस्त दुनिया में व्यवस्था ला सके। वे किसी ऐसे व्यक्ति के लिए तरसेंगे जो विनाशकारी प्राकृतिक आपदाओं द्वारा आई समस्याओं को हल कर सकता हो, और जो कई राजनीतिक, आर्थिक और धार्मिक समस्याओं का समाधान कर सकता हो, जिनका वे सामना करते हैं। यह तब होगा जब मसीह विरोधी उठ खड़ा होगा।
हाल ही में एक जापानी लेखक ने द स्टोरी ऑफ द रोमन्स नामक पुस्तकों की एक श्रृंखला लिखी, जिसमें रोमन सम्राटों की प्रशंसा के अलावा कुछ नहीं था। लेखक का मुख्य तर्क यह था कि दुनिया को जल्द ही एक ऐसे नेता की आवश्यकता होगी जो सम्पूर्ण सामर्थ प्राप्त कर सके। कई लोग उनकी बात से सहमत भी थे। महान क्लेश के दौरान, लोग एक शक्तिशाली शासक चाहते हैं जो लोहे की मुट्ठी के साथ दुनिया पर शासन कर सके-अपने राज्य के साथ बहुत सारे शासक नहीं, लेकिन पूरी दुनिया का एक अकेला शक्तिशाली शासक। 
वर्तमान में, दुनिया कई राष्ट्र-राज्यों में विभाजित है, और प्रत्येक का अपना नेता है। लेकिन अंत के समय में लोग एक ऐसा करिश्माई विश्व नेता चाहेंगे जो उनकी सभी समस्याओं का पूरी तरह समाधान कर सके। दुनिया अब इस नेता यानी मसीह विरोधी की प्रतीक्षा कर रही है, जो कि पूरी दुनिया पर राज करेगा।
बाइबल हमें बताती है कि जब पीले घोड़े का युग आएगा, तो मसीह विरोधी बड़ी शक्ति के साथ उभरेगा और दुनिया में सभी को अपने अधीन कर लेगा। बाइबल हमें यह भी बताती है कि जब पीले घोड़े का यह युग आएगा, आग पृथ्वी पर बरसेगी और दुनिया के एक तिहाई जंगलों को जला देगी। और जब यह युग आएगा, तो दुनिया पर मसीह विरोधी का शासन होगा, और कोई भी उसके चिह्न के बिना कुछ भी खरीद या बेच नहीं पाएगा। इस समय, चिह्न प्राप्त करने और मूर्ति की पूजा करने से इनकार करने पर संतों को शहीद कर दिया जाएगा, और फिर उन्हें पुनरुत्थित और रेप्चर किया जाएगा। जब इस प्रकार पीले घोड़े का युग समाप्त होगा, तो हजार साल के राज्य का युग खुल जाएगा।
प्रभु ने हमें बताया कि इस संसार का विनाश और महान क्लेश एक चोर के रूप में आएगा। इसलिए, अब हमें उस विश्वास को तैयार करना चाहिए जो महान क्लेश और विनाश के सभी परीक्षणों को दूर कर सकता है। यह तैयारी केवल पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करने के द्वारा ही संभव है। परन्तु जो लोग इस प्रकार तैयारी नहीं करते हैं, उनके लिए सभी विपत्तियां और विनाश उन पर पड़ेंगे जो पानी और आत्मा के सुसमाचार पर विश्वास नहीं करते हैं। 
ऐसे में हमें स्पष्ट रूप से समझना और विश्वास करना चाहिए कि आज का युग काले घोड़े का युग है। उस अंतिम दिन के आने से पहले, हमें पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करना चाहिए और भविष्य के लिए तैयारी करनी चाहिए।
जो लोग अब पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं, उन्हें उनकी शहादत के साथ रेप्चर किया जाएगा। जो अमीर हैं वे आराम से नहीं रहेंगे, न ही जो गरीब हैं वे अपनी गरीबी में जीते रहेंगे। इसलिए, हमें अब जो कुछ भी हो रहा है, उस पर हमें न तो दुखी होना चाहिए और न ही घमंड करना चाहिए, क्योंकि हम मानते हैं कि पीले घोड़े का युग निकट है, और सभी संत संभवतः शहीद हो जाएंगे।
समय-समय पर, हम अपने आस-पास कुछ ऐसे लोगों को देखते हैं जो स्वयं मसीह की वापसी के समय का विश्लेषण करके, प्रभु के दूसरे आगमन के लिए अपने स्वयं के दिन और समय की घोषणा करके, और कई अन्य लोगों को ऐसे दावों के साथ गुमराह करके बहुत भ्रम पैदा करते हैं। लेकिन बाइबल के अनुसार, मसीह की वापसी तब तक नहीं होगी जब तक कि सातवीं तुरही नहीं बजती। इसलिए, हमें कभी भी बाइबल के वचन की गणना करने और प्रभु की वापसी के लिए कोई तिथि निर्धारित करने की गलती नहीं करनी चाहिए।
हमें उन लोगों से भी सावधान रहना चाहिए जो दावा करते हैं कि उन्होंने अपने सपनों या दर्शनों में मसीह की वापसी की तारीख देखी है। उनके सपने सिर्फ सपनों से ज्यादा कुछ भी नहीं हैं। परन्तु क्योंकि परमेश्वर हमें बताता है कि वास्तव में रेप्चर का समय उसके वचन के माध्यम से कब आता है, हमें वचन में विश्वास करना चाहिए।
जब प्रकाशितवाक्य ६ में चौथा युग, पीला घोड़े का युग आएगा तब शहीद सात तुरहियों की विपत्तियों के साथ उठेंगे, और संतों का पुनरुत्थान और रेप्चार होगा। 
हमारे लिए यह जानना महत्वपूर्ण है कि हम अब परमेश्वर द्वारा निर्धारित सात युगों के तीसरे युग में जी रहे हैं। हमें समझना चाहिए कि आज का युग काले घोड़े का युग है। जब हम ऐसा करते हैं, तो हम अभी पानी और आत्मा के सुसमाचार के बीज बो सकते हैं, और जब हम अभी बीज बोते है तो जब पीले घोड़े का युग आयेगा तब हम फसल काटने में सक्षम बनेंगे।
परमेश्वर द्वारा बनाई गई प्रकृति की दुनिया में, कुछ पौधे ऐसे हैं जो सिर्फ एक हफ्ते में अंकुरित हो सकते है, फूल और फल दे सकते हैं। रेगिस्तान के इन पौधों की तरह, जब पीले घोड़े का युग आता है तब जो लोग पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करके बचाए जाते हैं जिसका हम अभी प्रचार कर रहे हैं वे भी शहीद हो जाएंगे और हमारे पुनरुत्थान और रेप्चर में शामिल होंगे जिसकी प्रभु ने हमारे लिए अनुमति दी है। क्लेश के युग में, पानी और आत्मा के सुसमाचार में अब से अधिक विश्वास करने वाले लोग होंगे। दुसरे शब्दों में, और भी लोग होंगे जो पानी और आत्मा के सुसमाचार में अपने विश्वास के लिए शहीद होंगे।
प्रकाशितवाक्य का वचन अपनी चर्चा को इस्राएल के लोगों के उद्धार तक सीमित नहीं करता है। यदि कोई यह मानता है कि प्रकाशितवाक्य का युग केवल इस्राएलियों के लिए आरक्षित है, तो वह एक गंभीर गलती कर रहा है। क्यों? क्योंकि जब प्रकाशितवाक्य का समय आएगा, तो पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करने से बहुत से अन्यजाति बच जाएंगे और अपने विश्वास की रक्षा के लिए शहीद हो जाएंगे। प्रकाशितवाक्य के वचन के बारे में आपका ज्ञान सही है या नहीं, यह आपके विश्वास में बहुत बड़ा अंतर ला सकता है। 
इसलिए, आपको यह समझना चाहिए कि आज के मसीहीयों के लिए पूर्व-क्लेश रेप्चर के सिद्धांत में विश्वास करना गलत है। बाइबल हमें बताती है कि संतों की शहादत महान क्लेश की सात साल की अवधि के मध्य बिंदु से थोड़ी देर बाद आएगी, और उनका रेप्चर इसके तुरंत बाद होगा। हमें प्रकाशितवाक्य के वचन को वैसे ही हल करना चाहिए जैसा लिखा है, अध्याय दर अध्याय और वचन दर वचन, और पानी और आत्मा के सुसमाचार के भीतर। ऐसा करने से हम प्रकाशितवाक्य के वचन का सही ज्ञान प्राप्त कर सकते हैं।
प्रकाशितवाक्य ७ हमें बताता है कि अन्यजातियों में से अनगिनत लोग भी अपने विश्वास के द्वारा उद्धार प्राप्त करेंगे और अपने विश्वास के लिए शहीद होंगे। हमें बाइबल पर विश्वास करना चाहिए जैसा कि लिखा गया है - न तो पूर्व-क्लेश रेप्चर के सिद्धांत में, न ही क्लेश के बाद के रेप्चर में, न ही हजार साल के राज्य में, लेकिन परमेश्वर द्वारा निर्धारित सात युगों में।
प्रकाशितवाक्य के वचन का अध्याय १ परिचय है, अध्याय २ और ३ में संतों की शहादत की चर्चा है, और अध्याय ४ हमें बताता है कि यीशु मसीह परमेश्वर है और वह परमेश्वर के सिंहासन पर बिराजमान है। अध्याय ५ हमें दिखाता है कि कैसे यीशु परमेश्वर पिता की सारी योजना को पूरा करेगा, और अध्याय ६ परमेश्वर द्वारा नियोजित सात युगों की योजना प्रदान करता है। इन सभी योजनाओं को प्रकाशितवाक्य के वचन के भीतर हल किया गया है।
जिस प्रकार प्रकाशितवाक्य का वचन हमें बताता है, “जो मृतक प्रभु में मरते हैं, वे अब से धन्य हैं,” अब से संत पुनरुत्थान और हजार साल के राज्य की आशा में जीते है।
प्रकाशितवाक्य ८:१०-११ दूसरी विपत्ति का वर्णन करता है: “तीसरे स्वर्गदूत ने तुरही फूँकी, और एक बड़ा तारा जो मशाल के समान जलता था स्वर्ग से टूटा, और नदियों की एक तिहाई पर और पानी के सोतों पर आ पड़ा। उस तारे का नाम नागदौना है; और एक तिहाई पानी नागदौना–सा कड़वा हो गया, और बहुत से मनुष्य उस पानी के कड़वे हो जाने से मर गए।” यह यहाँ कहता है कि एक बड़ा तारा जो मशाल के सामान जलता था वह नदियां और पानी के सोते पर आ पडा। यह बड़ा तारा जो मशाल के सामान जलता है वह उल्का को दर्शाता है। दुसरे शब्दों में, जैसा की स्वर्ग हिलता है तब तारे आपस में टकराते है और उनके टूटे हुए टुकडे पृथ्वी पर गिरते है।
प्रकाशितवाक्य ८:१२-१३ दूसरी विपत्ति के बारे में बताता है: “जब उसने सातवीं मुहर खोली, तो स्वर्ग में आधे घण्टे तक सन्नाटा छा गया। तब मैं ने उन सातों स्वर्गदूतों को देखा जो परमेश्‍वर के सामने खड़े रहते हैं, और उन्हें सात तुरहियाँ दी गईं। फिर एक और स्वर्गदूत सोने का चौथे स्वर्गदूत ने तुरही फूँकी, और सूर्य की एक तिहाई, और चाँद की एक तिहाई और तारों की एक तिहाई पर आपत्ति आई, यहाँ तक कि उनका एक तिहाई अंग अन्धेरा हो गया और दिन की एक तिहाई में उजाला न रहा, और वैसे ही रात में भी। जब मैं ने फिर देखा, तो आकाश के बीच में एक उकाब को उड़ते और ऊँचे शब्द से यह कहते सुना, “उन तीन स्वर्गदूतों की तुरही के शब्दों के कारण, जिनका फूँकना अभी बाकी है, पृथ्वी के रहनेवालों पर हाय, हाय, हाय!” यह हमें बताता है कि दुनिया के एक तिहाई हिस्से में अन्धेरा छ जाएगा और दिन रात में बदल जाएगा।
जब सात तुरहियों की विपत्तियाँ इस प्रकार आरम्भ होंगी, तो निश्चय ही आप और मैं उनमें जिएंगे। लेकिन जीवित संत जल्द ही शहीद हो जाएंगे, और वे अपने विश्वास से शैतान पर जय प्राप्त करेंगे।
यदि आप प्रकाशितवाक्य ६ में प्रकट किए गए सात युगों को स्पष्ट रूप से जानते हैं, तो आपको यह भी स्पष्ट ज्ञान होगा कि आपको वर्त्तमान युग में क्या करना चाहिए और आपको किस तरह के विश्वास की आवश्यकता है। क्योंकि जो लोग पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं, उन्हें प्रकाशितवाक्य के युग में शहीद होना है, उन्हें परमेश्वर के राज्य की अपनी आशा के साथ इस युग का सामना करना होगा। इस संसार में रहते हुए संतों को अपने विश्वास के साथ अंत समय में अपनी शहादत की तैयारी करनी चाहिए, और इस विश्वास को फैलाकर परमेश्वर के राज्य का विस्तार करने के लिए उन्हें कड़ी मेहनत करनी चाहिए। 
क्या आप परमेश्वर द्वारा निर्धारित सात युगों को जानते है और उस पर विश्वास करते है? क्या आप समझ सकते हैं कि हम अब काले घोड़े के युग में जी रहे हैं? यदि आप अब पानी और आत्मा के सुसमाचार को नहीं जानते और न उस पर विश्वास करते हो, तो आप उन क्लेशों से बच नहीं पाओगे जो पृथ्वी पर आएगी। इसलिए आपको अभी से तैयारी कर लेनी चाहिए। उस विश्वास को प्राप्त करने के लिए जो क्लेशों को दूर कर सकता है, आपको सबसे पहले पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करके अपने सभी पापों का प्रायश्चित करना चाहिए और पवित्र आत्मा को अपने उपहार के रूप में प्राप्त करके हजार साल के राज्य में प्रवेश करने और रहने के लिए तैयार होना चाहिए। 
अभी तैयारी करो। यदि आप पानी और आत्मा के सुसमाचार पर अभी विश्वास नहीं करते लेकिन जब सात तुरहियों की विपत्तियाँ आएँगी तब विश्वास करेंगे तो आप कई क्लेशों का सामना करेंगे। यह मेरी आशा और प्रार्थना है कि आप इसी क्षण पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करे, आप नया जन्म प्राप्त करे और परमेश्वर के लोगों के रूप में अपना भविष्य तैयार करें।
परमेश्वर के द्वारा निर्धारित सात युग:
१. सफ़ेद घोड़ा: पानी और आत्मा के सुसमाचार के आरम्भ और निरंतरता का युग।
२. लाल घोड़ा: शैतान के युग के आगमन के साथ शान्ति भंग का युग।
३. काला घोड़ा: भौतिक और आत्मिक अकाल का युग। वर्त्तमान युग। 
४. पिला घोड़ा: मसीह विरोधी के उदभव के साथ संतो के शहीद होने का युग।
५. संतो के पुनरुत्थान और रेप्चर, और मेमने के विवाह भोज का युग।
६. पहली दुनिया के विनाश का युग।
७. हजार साल के राज्य और नए स्वर्ग और पृथ्वी का युग जिस पर प्रभु और उनके संत राज्य करेंगे।
ये परमेश्वर द्वारा निर्धारित सात युग हैं। जो लोग इन युगों को स्पष्ट रूप से जानते हैं और पानी और आत्मा के सुसमाचार में विश्वास करते हैं, उन्होंने अंत के समय में जीने के लिए अपना विश्वास तैयार किया है। मैं आशा और प्रार्थना करता हूं कि आप भी परमेश्वर द्वारा निर्धारित सच्चे विश्वास के इन युगों को समझने में सक्षम होंगे।